खास खबर- अगर आप स्कूटर या मोटरसाइकिल चलाते हैं तो जान लीजिये पेट्रोल पाने के अपने ये अधिकार !

यूटिलिटी: पेट्रोल पंप से पेट्रोल तो सभी भरवाते हैं लेकिन अपने अधिकारों को नहीं जानते। क्या आप जानते हैं कि इमरजेंसी होने पर आप एक फोन पेट्रोल पंप से कर सकते हैं। पंप संचालक इसका कोई चार्ज भी आप से नहीं वसूल सकता। ऐसे ही कई अधिकार हैं, जो आम लोगों को मिले हुए हैं लेकिन अधिकतर लोग इनसे अवेयर नहीं। आज हम आपको ऐसे ही अधिकारों के बारे में बता रहे हैं, जो आपको पता होना ही चाहिए।

Utility: Gasoline from petrol pumps but they do not know their rights. Do you know that if you have an emergency then you can do a phone with a gas station? The pump operator cannot charge any of its charges to you. There are many such rights which are received by ordinary people, but most people do not have any invoices from them. Today we are telling you about the same rights which you must know.

 

एक रिपोर्ट के मुताबिक देशभर में 58 हजार से भी ज्यादा पेट्रोल पंप हैं। इसमें 90 परसेंट से ज्यादा को गवर्नमेंट ऑइल कंम्पनियां चला रही हैं। इनमें इंडियन ऑइल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम, हिंदुस्तान पेट्रोलियम बड़े नाम हैं। जानिए आपको पेट्रोल पंप पर क्या अधिकार मिले हुए हैं। यदि आपको कोई ये सुविधाएं देने से मना करता है तो आप उसके खिलाफ शिकायत कर सकते हैं।

According to a report, there are more than 58 thousand petrol pumps across the country. In this, more than 90 percent of government oil companies are running. Among them, Indian Oil Corporation, Bharat Petroleum, Hindustan Petroleum are big names. Know what you have got on the petrol pump. If someone refuses to give you these facilities then you can complain about him.

 

किसी भी ग्राहक को यदि पेट्रोल पंप इन सुविधाओं को देने से मना करता है तो वो इसकी शिकायत असिस्टेंट सेल्स मैनेजर या डिविजनल मैनेजर को कर सकते हैं। इनके नंबर सभी पेट्रोल पंप पर लिखे होते हैं। फेडरेशन ऑफ पेट्रोल डीलर एसोसिएशन, मप्र के वाइस प्रेसीडेंट पारस जैन ने बताया कि सभी पेट्रोल पंप संचालकों को ग्राहकों को ये अधिकार देना जरूरी है।

If any petrol pump refuses to give these facilities to any customer, then they can complain to the Assistant Sales Manager or the Divisional Manager. Their numbers are all written on petrol pumps. Federation of Petrol Dealers Association, MP Vice President Paras Jain told that all petrol pump operators have to give these rights to the customers.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

VIDEO : भारत ने किया अमेरिका को तलवे चाटने को मजबूर , और हमें कोई पूछता तक नही – पाकिस्तानी मीडिया !

पाकितान एक ऐसा देश है जो अपनी खुशहाली से ज्यादा भारत की बर्बादी में खुश रहना चाहता है , वहाँ अबतक जितनी भी सरकार आई लगभग सब ने भारत के खिलाफ जहर उगलने का ही काम किया है!और अगर किसी ने भी भारत के साथ दोस्ती की हाथ बढ़ाने की कोशिश की उन नेताओं को इसका खामयाजा वहां की सेना द्वारा किये जाने वाके तख्ता पलट से भुगतना पड़ा!

Pakitan is a country which wants to be happy in the ruin of India more than its prosperity, almost every government that has come here has done almost all the work of spreading venom against India! And if anybody has a friendship with India Those leaders tried to increase their vendetta with the result of the army’s overthrow!

और यह भी सच है कि पाकिस्तान ने जब जब भारत से भिड़ने की कोशिश की है तब तब उसे मुहकी कहानी पड़ी है! भारतीय शुक्रगुजार है अपने सैनिकों के जिन्होंने अपनी जान की परवाह किये बिना पाकिस्तान के नपाक इरादों को नेस्तोनाबूत कर दिया! चाहे वो 1971 का युद्ध हो या करगिल! लेकिन एक पाकिस्तान है जो अभी तक भी उसी हालत में है जैसे 1947 में था।

And it is also true that whenever Pakistan has tried to confront India, then she has a fascination story! Thanking the Indians, who sold their soldiers to Pakistan, without nurturing their life! Whether it is 1971 war or Kargil! But there is a Pakistan which is still in the same condition as it was in 1947.

इन्होंने तो देश की तरक्की पर कभी जोर दिया ही नही बस जोर दिया तो भारत की तरक्की पर रोड़ा बनने का, भारत की तकक्की पर जलने का। ये लोग आये दिन बस भारत को बर्बाद करने के झूठे ख्वाब देखते हैं। दुनिया के कई मुल्क चाँद और मंगल ग्रह और पहुँच गये लेकिन पाकिस्तानी अभी भी भारत में घुसपैठ की ही कोसिश करता है।

He never emphasized on the progress of the country, not just stressed, India’s progress on the progress of India, burning on India’s fortunes These people see the false sorrow of destroying India simply on the day of coming. Many countries of the world reached the moon and Mars, but the Pakistani still intends to infiltrate into India.

देश की जनता भुखी मर रही होती है लेकिन इनको कश्मीर के ख्वाब देखने हैं। आतंक को पनाह देना है। पाकिस्तान की सबसे बड़ी मूर्खता ये है कि ये लोग पाक के विकास के बजाए आतंक को पनाह देने में खर्च करते हैं। पाकिस्तान की आवाम खुद पाक से नफरत करती है। और यह सब वहाँ की घटिया सोच वाले नेताओं की वजह से होता आतंक के सरगानों के वजह से होता है |

The people of the country are dying of hunger but they want to see Kashmir’s dream. Terror is to be sheltered. The biggest stupidity of Pakistan is that these people spend their time in sheltering terror rather than Pakistan’s development. Pakistan’s Awam hates Pakistan itself. And all this happens due to the poor thinking politicians, because of the terrorists’ terrorists.

भारत आज विश्वपटल पर दिन प्रतिदिन नया इतिहास रच रहा है। एक समय वह था जब भारत को सबसे भृष्ट राष्ट्र समझा जाता था लेकिन जब से मोदी सरकार केंद्र में आयी है तभी से चारो तरफ भारत के चर्चे होते हैं। बड़े बड़े राष्ट्रों के राष्ट्राध्यक्ष भी भारत के प्रधानमंत्री से मिलने के लिए खड़े रहते हैं। जैसे G-२० सम्मलेन में ट्रम्प खुद जाकर मोदी जी के साथ फोटो खिनच्वने के लियें खड़े होगये थे|क्यूंकि उनको पता है की आने वाले भविष्य में एक भात ही है जो अमेरिकियों के लिए अची व् सुरक्षित जगह हो सकती है एशिया में स्थान बनाने के लियें, इसीलियें वह भारत की चापलूसी करने को भी तैयार है|

India today is creating a new history every day on the world stage. There was a time when India was considered as the most distant nation but since then the Modi government has come to the center since then there are discussions of India on all four sides. The President of the big nations also stands to meet the Prime Minister of India. Like in the G-20 conference, Trump himself went ahead and stood by himself for the photographs with Modiji, because he knows that there is only one rice in the future that can be a safe place for the Americans to make a place in Asia. Take it, therefore, it is ready to flatter India.

अब सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमे पाक मीडिया के पत्रकार और उनके एक्सपर्ट भारत की तरक्की पर घुट रहे हैं। वहाँ की मीडिया चर्चा कर रही है कि कैसे अमेरिका को भारत ने घुटनो पर ला दिया। अमेरिका को घुटनों पर लाना कोई भारत से सीखे। पाक मीडिया कह रही है कि एक हम है कि कोई पूछता नही और सुनता नही। हम अमेरिका का कुछ कर नही सकते।

Now a video on the social media is becoming viral in which Pakistani media journalists and their experts are knocking on India’s progress. There the media is discussing how the US has brought India to the knees. Anyone learning from India to kneel on the knees Pak media is saying that we are one that no one asks and does not listen. We can not do anything of America.

लेकिन पाकिस्तानी मीडिया का भारत की तरक्की को देखर फुसफुसाना हर भारतीय के दिल को सुकून देता है। क्योंकि ये भारतीय की बर्बादी का बेवजह ही ख्वाब देखते रहते हैं।

But whispering to the growth of India’s Pakistani media, the whispers please the heart of every Indian. Because they look at the ruin of the Indian only because of the scourge.

https://www.youtube.com/watch?v=dzMXLS8btDI

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

धमाकेदार खबर : खूंखार आतंकी ने मिलाया भारतीय सेना से हाथ फिर हुआ कुछ ऐसा अंजाम जिससे कश्मीरियों के उड़े होश !

वैसे तो कश्मीर में पिछले काफी वक़्त से भारतीय सेना आतंकवादियों का शिकार कर रही है. अब तक 100 से ज्यादा खतरनाक आतंकवादी मारे जा भी चुके हैं, लेकिन इन दिनों घाटी में एक अलग ही कशमकश शुरू हो गयी है. आतंकी आपस में ही लड़े मर रहे हैं. आतंकी संगठनों में आपसी फूट पड़ गयी है. आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन ने जम्मू-कश्मीर के शोपियां की गलियों को ऐसे हैरतअंगेज पोस्टर्स से भर दिया है, जिन्हे देख आप भी हैरानी में पड़ जाएंगे.

In the meantime, the Indian army is hunting terrorists in Kashmir for quite some time now. So far, more than 100 dangerous terrorists have been killed, but these days a different peasant has started in the valley. Terrorists are fighting alone. Terrorist organizations have mutual differences. Terrorist organization Hizbul Mujahideen has filled the streets of Shopian in Jammu and Kashmir with such amazing posters, you will also be surprised.

इन पोस्टर्स में हिज़बुल ने अपने पूर्व कमांडर जाकिर मूसा के खिलाफ जहर उगलते हुए लिखा है कि जाकिर मूसा ने भारतीय सेना के साथ हाथ मिला लिया है और भारतीय सेना की मदद कर रहा है. उसके कारण ही सेना आसानी से कश्मीरियों की ह्त्या करने में कामियाब हो पा रही है. पोस्टरों में लोगों को उकसाया गया है कि भारतीय एजेंट बन चुका जाकिर मूसा जहां भी मिले, पकड़कर मार डालो ठोक डालो |

In these posters, Hizb has written poison against his former commander Zakir Musa that Zakir Musa has joined hands with the Indian Army and is helping the Indian Army. Because of this, the army is easily able to kill the Kashmiris. People have been provoked in the posters that an Indian agent has become Jakir wherever he meets, grab and kill him.

ये पोस्टर्स उर्दू में लिखे गए हैं और इन पर मूसा की तस्वीरें भी छापी गई है. इसमें दावा किया गया है कि जाकिर मूसा भारतीय सेना से बड़ी रकम लेकर निर्दोष कश्मीरियों की हत्या करवा रहा है. यह ‘विश्वासघाती’ सरकारी मदद से खुद को बहुत अमीर बना रहा है. पहले वो हिज़बुल का हिस्सा था मगर अब उसने भारत सरकार से हाथ मिला लिया है. ऐसे में आपको वह जहां भी मिले, उसे खत्म कर दो. गद्दार को मार डालो |

these posters are written in Urdu and photos of Moses are also printed on them. It has been claimed that Zakir Musa is killing the innocent Kashmiris with a huge amount from the Indian army. This ‘treacherous’ government help is making itself very rich. Earlier he was part of Hizbul but now he has joined hands with the Indian government. In this way, wherever you get it, finish it, kill the traitor.

हालांकि सच्चाई इससे कहीं दूर है. दरअसल मूसा के मुताबिक़ अलगाववादी संगठन हुर्रियत कॉन्फ्रेंस कश्मीर में ‘राजनीतिक समस्या’ बताकर ‘आम लोगों को फांसी’ पर चढ़वा रहा है. जबकि मूसा कश्मीर के आंदोलन को कश्मीर की आजादी नहीं बल्कि इस्लामिक आंदोलन मानता है|

However, the truth is far from it. In fact, according to Moses, separatist organization Hurriyat Conference is calling ‘political problems’ in Kashmir and ‘killing people on the common people’. While Moses considers the movement of Kashmir to be not the freedom of Kashmir but the Islamic movement.

उसके मुताबिक़ हिन्दुओं को जान से मारने का मिशन होना चाहिए ना कि कश्मीर की राजनीति का. इसीलिए उसे हुर्रियत कॉन्फ्रेंस पर विशवास नहीं रहा और उसने कुछ महीने पहले ही हिज़बुल मुजाहिदीन का साथ छोड़कर ‘गजवा-ए-हिंद’ (अल-कायदा का आतंकी सेल) से हाथ मिला लिया था.

According to him, there should be a mission to kill Hindus rather than Kashmiri politics. That is why he did not believe in the Hurriyat Conference and he had left Hizbul Mujahideen a few months ago and joined hands with ‘Gajwa-e-Hind’ (Al-Qaeda’s Terrorist Cell).

अब आलम ये है कि एक आतंकी संगठन कश्मीर को पाकिस्तान में मिलाने के लिए लड़ रहा है और दूसरा हिन्दुओं के क़त्ल करने के लिए. दोनों आपस में ही भिड़ गए हैं. वैसे देखा जाए तो भारतीय सेना के लिए तो इससे फायदा ही है क्योंकि दोनों की आपसी लड़ाई का फायदा उठाकर दोनों संगठनों के आतंकियों को ठोकना आसान हो जाएगा.

Now Alam is that a terrorist organization is fighting Kashmir to join Pakistan and for killing other Hindus. The two have been confronted by each other. By the way, it is beneficial for the Indian Army to take advantage of the mutual battles of both, it will be easy to hit the terrorists of both the organizations.

पीएम मोदी ने तो कश्मीर से एक-एक आतंकी को चुन-चुन कर मारने के आदेश तो दिए ही हुए हैं. सेना भी अपने मिशन में तेजी से काम कर रही है. हालात ये हो चुके हैं कि आतंकी संगठन का लीडर बनते ही उसे मार दिया जाता है. ऐसे में आतंकी लीडर बनने तक से कतराने लगे हैं, उन्हें पता है कि उनके लीडर बनते ही उनका नंबर आ जाएगा.

PM Modi has given orders to kill and kill each terrorist from Kashmir. The Army is also working fast in its mission. Things have happened that he is killed as soon as the leader of the terrorist organization becomes a leader. In such a situation, terrorists have been cutting off till they become a leader, they know that their leader will come as soon as their leader becomes formed.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

बड़ी खबर: कंगना रनौत ने हिंदुत्व पर दे दिया हाहाकारी बयान, सोशल मीडिया पर मिला भारी समर्थन

कंगना हाल के दिनों में काफी सुर्ख़ियों में रहीं, पहले तो हृतिक रोशन से हुए उनके विवाद की वजह से और दूसरा तीसरी बार नेशनल अवार्ड जीतने पर. मीडिया ने सबसे ज्यादा हृतिक रोशन के साथ हुए उनके विवाद को उछाला और TRP की अंधी दौड़ में कंगना और हृतिक दोनों की सामाजिक छवी को ख़राब किया. हाल ही में कंगना के कई इंटरव्यू सामने आये जिसमे उन्होंने अपना पक्ष रखा और इस प्रकरण पर रौशनी भी डाली. एक ताज़ा इंटरव्यू में कंगना ने हिंदुत्व पर भी बड़ा बयान दे दिया जिसके बाद हिंदूवादी संगठन और सोशल मीडिया उनके समर्थन में उतर आयें है. कंगना के हिंदुत्व पर इस बयान के बाद लोगों ने उन्हें योगी आदित्यनाथ से भी बड़ी हिंदूवादी घोषित कर दिया है. इस बयान पर बॉलीवुड की खान तिकड़ी को भी मिर्ची लग सकती है.

After winning her third National Award, the Bollywood actress Kangana Ranaut clearly stated that she doesn’t need to work with Khans to sky rocket her career.

कंगना राणावत ने अपने आप को बरखा दत्त के सामने एक लाइव tv पर एक गौरवशाली हिन्दू घोषित किया वो भी एक ऐसे समय में जब की अधिकांश बॉलीवुड कलाकार हमेशा देशद्रोही बयान देकर पाकिस्तान के तलुए चाटने में लगे हुए हैं ताकि एक विशेष अल्पसंख्यक वर्ग का तुष्टिकरण कर सकें l ऐसे में कंगना का ये बयान सभी देशप्रेमियों और हिंदुवादियों के लिए एक आशा की किरण है l

ऐसा क्या कह दिया कंगना ने की लोग उन्हें योगी आदित्यनाथ से भी बड़ा हिंदूवादी मानने लगे?

कंगना ने एक ताज़ा इंटरव्यू में हिन्दू धर्म से अपने प्यार को खुल कर मीडिया के सामने क़ुबूल किया. उन्होंने कहा की वो एक स्वाभिमानी(proud) हिन्दू हैं और उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की दुनिया उनके धर्म और पूजा पद्धति के बारे में क्या सोचती है. आगे उन्होंने यह भी कहा की बचपन से ही अपने धर्म में बहुत आस्था रखती हैं और लोगों की सोच का उनपर कोई असर नहीं पड़ता, उनकी पूजा को कुछ लोग जादू टोने का नाम देते हैं और उनके नाम को भी हाल ही के दिनों में इस वजह से खूब उछाला गया. इसके आगे उन्होंने खान तिकड़ी पर भी बहुत चौकाने वाले खुलासे किये.

As 3 times national award winner Kangana ranaut claims to be a devout Hindu, millions of her Hindu fans have come in full support of her statement which will surely have a very positive impact on Kangana’s career.

कंगना के किस बयान पर खान तिकड़ी को लगी मिर्ची?

khan trio of bollywood

कंगना ने अपने इंटरव्यू में ये भी कहा की जब वो फिल्म इंडस्ट्री में नयी थी तब खान तिकड़ी में से कोई भी उनके साथ काम करने को तैयार नहीं था. कंगना ने कई हिट फ़िल्में दी पर शाहरुख़, आमिर और सलमान तीनों ने ही उनके साथ के कई प्रोजेक्ट्स ठुकरा दिए और अब जब कंगना देश की सबसे बड़ी अदाकारा के रूप में अपनी पहचान बना चुकी हैं, तीनों खान उनके साथ फिल्मे करने के लिए तैयार खड़े दिख रहे हैं. कंगना को इन तीनों की तरफ से कई फिल्मों के ऑफर आ चुके हैं पर कंगना इन सारे ऑफर्स को मना करती जा रही हैं. कंगना का कहना है की उन्हें खान तिकड़ी की नहीं बल्कि खान तिकड़ी को उनकी ज़रुरत है. आपको बताते चलें की कंगना 2 बार लगातार राष्ट्रीय पुरस्कार पा चुकी शबानी आज़मी से भी आगे निकल चुकी हैं क्यूंकि कंगना को नेशनल अवार्ड 3 बार मिल चुका है. बहरहाल कंगना का यह कहना की वो एक proud हिन्दू हैं और वो खान तिकड़ी के साथ काम नहीं करना चाहती और खुद के बनाये उसूलों से ही ज़िन्दगी चलाएंगी.

“Initially I wanted a traditional route where I wanted to work with big heroes. In Bollywood if you work with a superstar, even if you are a newcomer, you become a superstar. That didn’t happen with me,” Kangana said in a TV interview.

“Now I get a lot of offers to work with the Khans. I’m my own hero on the sets, why should I work with other heroes? The Khans did not want to work with me when I started, why should I work with them now?” she asked.

कंगना का नया बयान जिसमे उन्होंने बरखा दत्त के सामने किया हिन्दू धर्म का बखान

In an exclusive interview to NDTV, actor Kangana Ranaut, at the centre of an industrial-strength feud with Hrithik Roshan, said, “If a woman is sexually active, she’s called a whore” and if she’s “super-successful, she’s called a psychopath”. Ms Ranaut has testified to the police in a criminal case filed by Mr Roshan, 42.

Watch the video here:

As you can clearly hear kangana ranaut saying in this video ”i love to be a Hindu and i follow Sanatan Dharma” and also she made sure that she didn’t name islam and christianity among her favorite religions. its clearly eveident that Kangana Ranaut is a very proud Hindu and therefore she makes open claim to be a Hindu which is quite a rare sight in the pseudo secular bollywood industry. that’s why she is getting massive support by the strongly active community of internet Hindus who are mostly young people and ofcourse, Kangana is a heartthrob of youngsters of India. we are hopeful that more and more young Hindus are now going to support her movies just like they do support popular nationalist actor Akshay Kumar.

जब कंगना पहुँची विवेकानंद आश्रम, क्यूँ मानती हैं हिन्दू धर्म को अपना सब कुछ?

Bollywood’s hottest sensation Kangana ranaut is surprisingly a great devotee of Swami Vivekananda and his philosophy. she has also read many of his books and uses this learning as a source of inspiration in her life.

जब कंगना ने हृतिक रोशन की सफलता के लिए की पूजा

Watch the video here:

यह भी देखें :

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

source http://vegnfresh.com

तिब्बत पर हमला करने की सोचे भी ना चीन, देखिये कैसे तबाह कर दिया जायेगा !

भारत और चीन के बीच डोकलाम मु्द्दे को लेकर सीमा पर बढ़ते तनाव को देखते हुए दोनों ही देशों के बीच तलवारें तनी हुई हैं. एक तरफ चीन पीछे हटने को तैयार नहीं है वहीं भारत भी अपने रुख पर कायम है.

Due to the growing tension between India and China on the border with Dokalam Mudade, the swords are strained between the two countries. On one hand, China is not ready to retreat, India is still on its stand.

आये दिन चीनी मीडिया द्वारा भारत को नयी नयी धमकियाँ दी जा रही हैं भारत को पीछे हटने को कहा जा रहा है.

माहौल ऐसा है कि कभी भी युद्ध हो सकता है. ऐसे में यदि युद्ध की ये स्थिति चीन के तिब्बत में बनी तो भारतीय वायुसेना चीनी लड़ाकू विमानों को पटखनी दे सकती है. ऐसा माना जा रहा है कि भारतीय वायुसेना के विमान चीन की (पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी एयर फोर्स) पर कहीं ज्यादा भारी पड़ेंगे. जानिए

These days are being given new new threats to India by Chinese media is being asked to retreat to India.

The atmosphere is such that there can be war ever. In such a case, if this situation of war was made in Tibet of China, then the Indian Air Force could spill Chinese fighter planes. It is believed that the plane of the Indian Air Force will more heavily than ever on China (People’s Liberation Army Air Force). Learn

तिब्‍बत में टकराव की स्थिति उत्‍पन्‍न होती है तो इस युद्ध स्थल में ऐसी कई परिस्थितियां हैं जो भारत के पक्ष में जाएंगी. इसका खुलासा भारतीय वायुसेना के पूर्व स्‍क्‍वाड्रन लीडर समीर जोशी ने अपने एक दस्तावेज में किया है जो जल्द ही प्रकाशित होने जा रहा है.

If there is a situation of confrontation in Tibet, there are many situations in this war site that will go in favor of India. This is disclosed by Sameer Joshi, former Squadron Leader of the Indian Air Force, in a document which is going to be published soon.

पिछले कुछ समय से सिक्किम के डोकलाम क्षेत्र में भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध के बीच आकाश में शक्ति संतुलन के आकलन के लिहाज से यह अपनी तरह का समग्र रूप से पहला भारतीय दस्‍तावेज है

इंडियन डिफेंस अपडेट वेबसाइट में छपी खबर के मुताबिक इस दस्तावेज का नाम है. जिसमें पूर्व स्‍क्‍वाड्रन लीडर जोशी ने भारतीय वायुसेना और चीनी वायुसेना का तिब्बत की परिस्थिति में विश्लेषण किया है.

It has been the first Indian document of its kind in terms of estimation of power balance in the sky in the sky between the stalemate between India and China in Sikkim’s Dokalam area for some time.

According to the news published in the Indian Defense Update website, this document is named. In which former Squadron Leader Joshi has analyzed Indian Air Force and Chinese Air Force in Tibet.

जल्‍दी ही प्रकाशित होने जा रहे दस्‍तावेज के मुताबिक तिब्‍बत स्‍वायत्‍त क्षेत्र में ऑपरेशन के लिहाज से भारतीय एयरफोर्स को चीन की तुलना में बढ़त हासिल है. आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच स्थित वास्‍तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के उत्‍तर में तिब्‍बत स्‍वायत्‍त क्षेत्र पड़ता है.

According to the document being published soon, in the Tibet Autonomous Region, Indian Air Force has an edge over China compared to China. Let us know that the Tibet Autonomous Region lies in the north of the Line of Actual Control (LAC) between India and China.

भारतीय वायुसेना के श्रेष्ठ लड़ाकू विमानों में से एक मिराज 2000 के फाइटर पायलट रहे हैं जोशी ने इसके पीछे भौगोलिक कारण दिए है. उन्होंने लिखा है कि भारतीय एयरफोर्स के लड़ाकू विमान, चीनी लड़ाकू विमानों को पटखनी देने में प्रभावी रूप से सक्षम हैं.

One of the best fighter aircraft of the Indian Air Force, Mirage 2000 has been a fighter pilot, Joshi has given geographical reasons behind it. He has written that Indian Air Force’s fighter aircraft are capable of bridging Chinese fighter planes.

इस मामले में भारत पड़ेगा भारी

जोशी ने इसकी मुख्य वजह ये बताई है कि चीन के मुख्य एयरबेस बेहद ऊंचाई पर है वहीं दूसरी तरफ तिब्‍बत स्‍वायत्‍त क्षेत्र में आने वाले चीनी एयरक्राफ्ट को बेहद विपरीत जलवायु दशाओं का भी सामना करना पड़ता है जिसके चलते चीनी एयरक्राफ्ट की प्रभावी पेलोड और सैन्‍य अभियान की क्षमता में काफी कमी आ जाती है. यानी तिब्‍बत के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में वायु का लघु घनत्‍व चीनी लड़ाकू विमानों मसलन su-27, J-11 अथवा J-10 की क्षमता को कमजोर कर देता है.वहीं भारतीय वायुसेना की बात करें तो इंडियन एयरफोर्स उत्‍तर-पूर्व में स्थित 4 एयरबेस (तेजपुर, कलाईकुंडा, छाबुआ और हाशीमारा) से ऑपरेट करती हैं. इन चारों एयरबेस की ऊंचाई मैदानी इलाकों की समुद्र तल से ऊंचाई के करीब है.

In this case, India will have heavy

Joshi’s main reason for this is that China’s main airbase is at a very high level, while on the other hand, the Chinese aircraft coming to the Tibet Autonomous Region have to face extreme anti-climatic conditions, due to the effective payloads of the Chinese aircraft and the military campaign. Capacity decreases significantly. That is, the small density of air in the high altitude areas of Tibbad weakens the potential of Chinese fighter planes such as Su-27, J-11 or J-10. If there is talk of Indian Air Force, Indian Air Force 4 airbase located in the northeast (Tezpur, Kalaikunda, Chhabua and Hashimara). The height of these four airbases is close to the altitude of the plains of the plains

मतलब भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र में भौगोलिक परिस्थितियों का लाभ उठाते हुए काफी भीतर तक ऑपरेशन करने में सक्षम हैं. जबकि चीनी लड़ाकू विमानों को तिब्बत की ऊंचाई वाले क्षेत्रों से उड़ान भरनी पड़ेगी जो उनके अनुकूल नहीं होगी और उनकी मारक क्षमता कम हो जाएगी.

स्‍क्‍वाड्रन लीडर समीर जोशी के मुताबिक, ‘क्षेत्र, टेक्‍नोलॉजी और ट्रेनिंग के लिहाज से तिब्‍बत और दक्षिणी जिनजियांग में भारतीय वायुसेना को PLAAF(पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी एयर फोर्स) पर निश्चित रूप से बढ़त हासिल है. यह संख्‍याबल के लिहाज से PLAAF की बढ़त को कम से कम आने वाले कुछ सालों तक रोकने में सक्षम है.

It means that the fighter aircraft of the IAF is able to take the advantage of geographical conditions in the Tibet Autonomous Region and perform quite within the operation. While Chinese fighter aircraft will have to fly from high altitude areas of Tibet, which will not be favorable to them and their firepower will be reduced.

According to Squadron Leader Sameer Joshi, in terms of area, technology and training, the IAF in Tibet and southern Gingjiang is definitely the lead on the PLAAF (People’s Liberation Army Air Force). It is capable of stopping the growth of PLAAF for a few years for at least the coming years in terms of numerical strength.

यह भी देखें :

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

source http://vegnfresh.com

गुजरात चुनाव से ऐन पहले कांग्रेस के हुए दो टुकड़े, शहज़ाद पूनावाला ने राहुल गाँधी पर किया बड़ा खुलासा !

देर से ही सही पर कांग्रेस के एक मुस्लिम नेता की आँख खुल ही गयी, और उसके राहुल गाँधी सोनिया गाँधी कांग्रेस और उसके नेताओं की पूरी पोल खोलकर रख दी, हम बात कर रहे है कांग्रेस के मुस्लिम नेता शहज़ाद पूनावाला की जिन्होंने राहुल गाँधी की पोल खोली है |

Late on the right, the eyes of a Muslim leader of the Congress has opened up, and his Rahul Gandhi Sonia Gandhi kept the full poles of the Congress and its leaders, we are talking about the Congress leader of the Congress, Shahzad Poonawala, who is a Rahul Gandhi Is open

शहज़ाद पूनावाला ने कहा की मैं कांग्रेस के लिए 2008 से ही काम कर रहा हूँ, राहुल गाँधी कांग्रेस में चुने हुए नहीं बल्कि थोपे हुए नेता है, शहज़ाद पूनावाला ने कहा की राहुल गाँधी ने 2004 में अमेठी से चुनाव लड़ा, बिना किसी काबिलियत के बिना किसी मेरिट के बिना किसी टेस्ट के बिना उनको सीधे लोकसभा का टिकट दे दिया गया |

Shahzad Poonawala said that I have been working for Congress since 2008, Rahul Gandhi is not elected in Congress but a prominent leader, Shahzad Poonawala said that Rahul Gandhi contested from Amethi in 2004, without any merit Without a merit, without any test, they were given directly to the Lok Sabha ticket.

2007 में राहुल गाँधी को बिना किसी टेस्ट के, बिना किसी मेरिट के कांग्रेस का महासचिव बना दिया गया, वो कांग्रेस पार्टी में महासचिव चुने हुए नहीं बल्कि बनाये गए है , उसके बाद उन्होंने युथ कांग्रेस और NSUI को अपने अधीन ले लिया |

In 2007, Rahul Gandhi was made the General Secretary of the Congress without any merit, without any merit, he has not been elected as general secretary in the Congress party but after that he took Youth Congress and NSUI under his control.

शहज़ाद पूनावाला ने बताया की आज कांग्रेस के जितने भी स्टेट प्रेजिडेंट, यानि राज्य अध्यक्ष है वो सभी नेताओं के बच्चे है | हर राज्य का अध्यक्ष किसी नेता का बच्चा है| कांग्रेस में साधारण लोगों के लिए कोई जगह ही नहीं है | चाहे वो राजस्थान कांग्रेस हो, महाराष्ट्र कांग्रेस को, कर्णाटक कांग्रेस हो, सभी जगह के अध्यक्ष किसी ने किसी नेता के बच्चे है |

Shahzad Poonawala said that as many as the state president of the Congress, i.e. the state president is the children of all the leaders. The president of every state is the child of a leader. There is no place for ordinary people in Congress. Whether it is the Rajasthan Congress, the Maharashtra Congress, the Karnataka Congress, the president of every place is the leader of any leader.

शहज़ाद पूनावाला ने ये भी बताया की राहुल गाँधी अब अध्यक्ष बनाये जा रहे है, वो चुने हुए अध्यक्ष नहीं होंगे, बल्कि थोपे हुए अध्यक्ष होंगे, कांग्रेस अध्यक्ष के लिए चुनाव बस नाममात्र एक बहाना है, अध्यक्ष राहुल गाँधी को ही बनना है, ऐसे में कांग्रेस के किसी भी अन्य नेता के पास अध्यक्ष बनने का कोई विकल्प ही नहीं है चाहे कितना ही काबिल क्यूँ ना हो, अध्यक्ष तो राहुल गाँधी ही बनेंगे |

Shahzad Poonawala also told that Rahul Gandhi is now being appointed as president, he will not be elected president, but rather a presiding president, the election for the Congress president is simply a pretext, it is to become president Rahul Gandhi, in such a way There is no alternative to any other Congress leader to become president, no matter how much he can be competent, the President will become Rahul Gandhi.

शहज़ाद पूनावाला ने बताया की कांग्रेस में काबिल लोगों को नहीं बल्कि परिवारवाद से निकले लोगों को ही स्थान मिलता है, राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद हो या फिर राज्य अध्यक्षों का पद हो, सब पर परिवारवाद से निकले नेताओं का कब्ज़ा है, साधारण लोगों के लिए इस पार्टी में कोई स्थान ही नहीं है |

शहज़ाद पूनावाला ने बताया की कांग्रेस में काबिल लोगों को नहीं बल्कि परिवारवाद से निकले लोगों को ही स्थान मिलता है, राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद हो या फिर राज्य अध्यक्षों का पद हो, सब पर परिवारवाद से निकले नेताओं का कब्ज़ा है, साधारण लोगों के लिए इस पार्टी में कोई स्थान ही नहीं है |

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

नितीश कुमार ने मीलॉर्ड से लिया पंगा, पद्मावती पर सुनाया हाहाकारी फैसला, भंसाली समेत ममता हैरान !

नई दिल्ली : संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ के लिए मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रहीं. देश भर में विवाद बढ़ता ही जा रहा है. हालाँकि कल सुप्रीम कोर्ट ने उन याचिकाओं को ठुकरा दिया जिसमें कहा गया था फिल्म रिलीज़ न होने दी जाय और भंसाली के खिलाफ केस चलाया जाय, क्यूंकि इसमें इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गयी है. लेकिन अब इसी कड़ी में भंसाली को एक और बड़ा झटका लग गया है.एमपी सीएम शिवराज के बाद नितीश कुमार ने भी कड़ा फैसला लिया है |

New Delhi: Sanjay Leela Bhansali’s ‘Padmavati’ did not name the end of the trouble. There is a growing dispute across the country. However, yesterday the Supreme Court rejected the petitions which said that the film should not be released and the case should be filed against Bhansali, because history has been tampered with. But now in this episode Bhansali has suffered another major setback. After the CM CM Shivraj, Nitish Kumar has also taken a tough decision.

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में फिल्म पर पहले से ही तलवार लटक रही है. तो वहीँ अब नितीश कुमार ने भी पद्मावती फिल्म को लेकर बिहार में बैन करने के आदेश दे दिए हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य में फिल्म तब तक रिलीज नहीं होगी जब तक सभी पार्टियां इसे लेकर किसी निष्कर्ष पर न पहुंच जाएं |

According to the big news now available, the sword is already hanging on the film in Rajasthan, Gujarat, Uttar Pradesh and Madhya Pradesh. So, now, Nitish Kumar has now ordered to ban the Padmavati film in Bihar. Chief Minister Nitish Kumar said that in the state, the film will not be released until all parties reach this conclusion.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बिहार के कला, संस्कृति, खेल और युवा मामलों के मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि ने कहा है कि जब तक पद्मावती” से विवादित दृश्य निकाले नहीं जाते, तब तक फिल्म राज्य में रिलीज नहीं होने नहीं दी जाएगी|

According to the news agency ANI, Krishan Kumar Rishi, Bihar’s Minister of Arts, Culture, Sports and Youth has said that till the controversial scene is removed from Padmavati, the film will not be released in the state.

यह फैसला ऐसे वक्त में आया है जब एक दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने मामले को लेकर मुख्यमंत्रियों को फटकार लगाई थी. कोर्ट ने कहा था कि मुख्यमंत्री किसी फिल्म पर बैन नहीं लगा सकते. साथ ही कोर्ट ने मुख्यमंत्रियों से फिल्म के खिलाफ माहौल नहीं बनाने के लिए भी कहा था |

This decision has come at a time when the Supreme Court rebuked the Chief Ministers on the issue a day earlier. The court had said that the Chief Minister can not ban any film. At the same time, the court had also asked Chief Ministers not to create an atmosphere against the film.

कोर्ट ने कहा था कि जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों को अपने शब्दों पर ध्यान देना चाहिए. सेंसर बोर्ड के फिल्म पर फैसले से पहले ही इस मामले पर कोई टिप्पणी न करने के लिए भी कोर्ट ने कहा था. हालाँकि कोर्ट ने ने उन लोगों के बारे में एक शब्द भी नहीं बोला जो रानी पद्मावती को काल्पनिक बताते हैं और मज़ाक उड़ा रहे हैं और ना ही उन लोगों के खिलाफ कुछ बोला जिन्हे देश में असहिणुता दिखने लगी है, उन्हें भारतीय होने पर शर्म होने लगी है |

The court had said that people sitting in responsible positions should pay attention to their words. Even before the decision on the censor board’s film, the court had also asked not to comment on this matter. However, the court did not even mention a word about those people who say that the queen of Padmavati is imaginary and is not joking or speaks against those people who have started showing innocence in the country, they become ashamed of being Indian Is there.

जहाँ एक तरफ पूरे देश में पद्मावती फिल्म का विरोध हो रहा है है वहीँ दूसरी तरफ बंगाल सीएम ममता बैनर्जी ने अपना लग ही राग अलाप रखा है. उन्होंने कहा है कि हम भंसाली का बंगाल में स्वागत करते हैं. हम पद्मावती को बंगाल में ज़रूर दिखाएंगे |

On one side, the whole country is opposing the Padmavati film; on the other hand, the Bengal CM, Mamta Banerjee, has kept the chord with herself. He has said that we welcome Bhansali in Bengal. We will definitely show Padmavati in Bengal.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

अख़लाक़ काण्ड पर योगी सरकर का इंसाफ, हिन्दुओं पर लिया यह बड़ा फैसला !

बेशक अब उत्तर प्रदेश में एक ऐसी सरकार है जो हिन्दुओ को ख़त्म करने पर नहीं तुली हुई और वो है योगी सरकार, योगी सरकार के आने के बाद उत्तर प्रदेश के हालात ठीक होने लगे है, अन्यथा उत्तर प्रदेश इस्लामिक स्टेट बनने को अग्रसर था |

Of course, now there is a government in Uttar Pradesh which has not been bent on eliminating Hindus and after the arrival of the Yogi Sarkar, the Yogi Sarkar, the situation in Uttar Pradesh has started to recover, otherwise, Uttar Pradesh was going to become an Islamic State.

आपको ध्यान होगा दादरी में अख़लाक़ काण्ड, मोहम्मद अख़लाक़ नाम के एक जिहादी शख्स ने गाय के बछड़े की हत्या की थी, और उसके पुरे परिवार ने उसका मांस खाया था, इन लोगों ने गौहत्या की थी, जिसके बाद दंगे हुए थे और अख़लाक़ मारा गया था |

You will notice that the Akhlaqand in Dadri, a jihadist named Mohammed Akhalak, had killed the cow’s calf, and his whole family had eaten his flesh; these people had made a cow, after which there were riots and the game killed.

पर इसके बाद अख़लाक़ को निर्दोष घोषित कर दिया गया, और अखिलेश यादव की सरकार ने गौहत्यारे के परिवार के लिए सरकारी खजाने का मुँह खोल दिया, और इलाके के कई हिन्दुओ को फंसा दिया गया, एक हिन्दू जिसका नाम था रवि उसकी तो मृत्यु भी हो गयी |

After this Akhilak was declared innocent, and Akhilesh Yadav’s government opened the mouth of government treasury for the family of the cow, and many Hindus of the area were trapped, a Hindu whose name was Ravi also died. Added.

पर सबको अख़लाक़ की पड़ी थी जो की गौहत्यारा था, हिन्दुओ पर भीषण अत्याचार किये गए, उन्हें झूठे केस में फंसाया गया और प्रताड़ित किया गया, पर उत्तर प्रदेश में बदलाव आया और योगी सरकार आयी, और अब इस सरकार में न्याय हो रहा है |

But all had to be ignorant, who was a coward, they were subjected to horrendous tortures, were trapped in false cases and tortured, but Uttar Pradesh changed and the Yogi government came, and now justice is being done in this government.

https://twitter.com/RAJSONI30881709/status/919807681317105664

जिन निर्दोष हिन्दुओ को फंसाया और प्रताड़ित किया था उन्हें नौकरियां तथा मृतक रवि की पत्नी को आर्थिक सहायता तथा नौकरी, अखिलेश यादव ने तो गौहत्यारे और अपराधी मोहम्मद अख़लाक़ के परिजनों को आर्थिक मदद, फ्लैट और नौकरियां दी थीं, हिन्दुओ पर भीषण अत्याचार किये गए थे, पर योगी सरकार में न्याय हो रहा है, अब बेशक कहा जा सकता है की देश में कोई नेता तो है जो हिन्दुओ का है और उनका भला चाहता है और उनके अस्तित्व को बचाना चाहता है |

The innocent Hindus who had tortured and tortured them were given financial help, flats, and jobs to the jobs and jobs of the deceased Ravi’s wife, and the job, Akhilesh Yadav, the villagers of Gauhitre and criminal Mohammed Akhlaq, were subjected to horrific torture on Hindus. But justice is happening in Yogi Sarkar, now it can be said that there is a leader in the country who is Hindu and wants his good and his Titv wants to save

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

VIDEO : भरी ससंद में वेंकैया नायडू ने राहुल गांधी को कहा “ओ पप्पू भाई बैठ जाओ”, सोनिया गांधी देखती रह गयी |

भारतीय राजनीती में सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के हालत देखकर लोगो ने कभी नहीं सोचा होगा की जो पार्टी देश में लगभग 65 सालो तक राज किया उसे ये दिन देखना पड़ेगा! अगर 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की प्रदर्शन की बात करे तो देश की सबसे पुरानी पार्टी ने महज 44 साइट जीती थी |

Seeing the condition of the oldest Congress party in Indian politics, people will never have thought that the party which ruled the nation for nearly 65 years, will have to see this day! If you talk about Congress’s performance in the 2014 Lok Sabha elections, the country’s oldest party won only 44 sites.

इसके पीछे सबसे बड़ा कारन है कांग्रेस पार्टी द्वारा किया गया भरष्टाचार लेकिन इसके अलावे भी एक बड़ी वजह यह भी है की कांग्रेस की कमान सिर्फ एक परिवार के हाथो सौप दी गयी है चाहे उस परिवार के लोग योग्य हो या नहीं लेकिन कांग्रेस उनकी खानदानी पार्टी बनकर रह गयी है और आज कांग्रेस के इस दशा का जिमेवार भी नेहरू-गाँधी परिवार ही है |

The biggest reason behind this is the corruption done by the Congress party but apart from this, there is also a major reason that the Congress command has been handed over to a family only, whether or not the people of that family are eligible but the Congress is a family party. And today the situation of the Congress is also a matter of fact, the Nehru-Gandhi family.

कांग्रेस पार्टी की कमान आज पूरी तरह से राहुल गाँधी के हाथो में है, हलाकि की वो कांग्रेस के उपाध्यक्ष के पद पर विराजमान है लेकिन सारे अहम् फैसले उन्ही के द्वारा लिए जाते है! और कांग्रेस पार्टी के नेता उनमे भारत का प्रधानमंत्री देखते है! खबरों की माने तो बहुत जल्द पार्टी की ओर से राहुल गाँधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष भी घोसित किया जायेगा!

The Congress party’s command is completely in the hands of Rahul Gandhi, though he is the vice president of the Congress, all the ego decisions are taken by him! And the Congress party leaders see the Prime Minister of India! According to the news, Rahul Gandhi will be declared the national president too soon from the party!

एक बात यह है कि राहुल गांधी का राजनैतिक उद्देश्य अपने निष्कर्ष तक नहीं पहुंचे या नहीं, लेकिन जब भी राहुल गांधी बोलते हैं, पूरे देश को सदन के साथ, जो कि स्वयं के दायरे में है, मनोरंजन की स्थिति में बन जाती है और राहुल गांधी हमेशा हँसी के पात्र बन जाते हैं।

One thing is that Rahul Gandhi’s political purpose did not reach its conclusions or not, but whenever Rahul Gandhi speaks, the entire country is in the realm of entertainment, with the house, which is within the purview of himself, and Rahul Gandhi always becomes the lover of laughter.

ठीक है, हर कोई जानता है कि पूरे देश में राहुल गांधी को पप्पू के रूप में जानता है, लेकिन मजे की स्थिति सामने आई जब भाजपा नेता वेंकैया नायडू ने सदन में कहा कि पप्पू कृपया बैठो।

All right, everyone knows that Rahul Gandhi knows the whole country as Pappu, but the situation of the fun came when BJP leader Venkaiah Naidu said in the house that Pappu please sit.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

ताजा खबर: उत्तर कोरिया ने जापान पर दागी बैलिस्टिक मिसाइल, अमेरिका समेत जापान में हाहाकार !

नई दिल्ली: दुनियाभर की चेतावनियों को धता बता कर उत्तर कोरिया ने एक बार फिर बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है. परमाणु हथियारों से लैस उत्तर कोरिया ने कहा कि उसने एक नये अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया है जिसकी जद में पूरा अमेरिकी महाद्वीप आ गया है. सरकारी टेलीविजन द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार, उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन ने ह्वासोंग-15 मिसाइल का परीक्षण करने की घोषणा की. अमेरिका ने इस परिक्षण पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए इसे दुनिया के लिए खतरा बताया है. अमेरिकन समय के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने बुधवार की सुबह बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया.

New Delhi: Defying the warnings from around the world, North Korea has once again tested ballistic missile. North Korea, equipped with nuclear weapons, said that he has successfully tested a new intercontinental ballistic missile that has reached the entire American continent. According to the information provided by the official television, the North Korean leader Kim Jong-un announced the test of the Hwang-15 missile. While expressing strong reaction to the test, the US has described it as a threat to the world. According to American time, North Korea tested ballistic missile on Wednesday morning.

दक्षिण कोरिया की मीडिया के मुताबिक, दक्षिणी प्योंगान प्रांत से इस मिलाइल को जापान के सागर में छोड़ा गया था. इसका धमाका दूर तक सुना गया. यह एक अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल थी. उत्तर कोरिया ने भी ताल ठोकते हुए कहा कि अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (ICBM) ह्वासोंग-15 का परीक्षण सफलता पूर्वक हुआ है.

According to the media of South Korea, this millet was left in the Sea of Japan from the southern Pyongyan province. Its blast heard far far away. It was an intercontinental ballistic missile. North Korea also said that the trial of the intercontinental ballistic missile (ICBM) Hwasong-15 has been successful.

जापान के रक्षा मंत्री ने कहा कि यह मिसाइल उनके विशेष आर्थिक जोन में गिरी है. जापान ने भी इस परिक्षण की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए आपात बैठक बुलाई है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी किम जोंग उन की चुनौती को स्वीकार करते हुए कहा कि हम संभाल लेंगे राजनीतिक विशेषज्ञ इसे उत्तरी कोरिया की अमेरिका को खुली चुनौती मान कर चल रहे हैं. बता दें कि उत्तर कोरिया अपनी सैन्य ताकत बढ़ाते हुए लगातार परमाणु परिक्षण कर रहा है. उत्तर कोरिया ने पिछले साल नौ सितंबर को पांचवां परमाणु परीक्षण किया था. उसने एक सप्ताह पहले ही छठा परीक्षण किया और दावा किया कि यह एक हाइड्रोजन बम था जो मिसाइल पर लगाया जा सकता है.

The Defense Minister of Japan said that the missile has fallen into its special economic zones. Japan has also convened an emergency meeting condemning this test in strong words. American President Donald Trump also acknowledged the challenge of Kim Jong, who said, “We will handle it, political analysts are treating it as an open challenge to North Korea.” Explain that North Korea is continuously testing nuclear while increasing its military strength. North Korea conducted a fifth nuclear test on September 9 last year. He did a sixth test a week ago and claimed that it was a hydrogen bomb that could be mounted on the missile.

इस कदम की वैश्विक स्तर पर निंदा हुई. इसके बाद इस साल जुलाई में भी दो अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया था.

अमरीकी रक्षा मंत्री जेम्स मेटिस ने उत्तरी कोरिया के इस कदम को पूरी दुनिया के लिए ख़तरा बताया है. इससे पहले सितंबर में भी उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन एक परीक्षण कर चुके हैं. बता दें कि अमेरिका कई बार उत्तर कोरिया को चेतावनी दे चुका है कि वह परमाणु परीक्षण या अन्य प्रकार के सैन्य परीक्षण ना करे. ऐसा करना उसके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संयुक्त महासभा मे मौजूद नेताओं के समक्ष 19 सितंबर को चेतावनी दी कि अगर किम जोंग उन का परमाणु हथियारों से लैस शासन अपने पड़ोसियों के लिए खतरा बना रहता है तो अमेरिका को उत्तर कोरिया को तबाह करना पड़ सकता है.

This step has been condemned globally. After this, in July this year, two intercontinental ballistic missiles were tested.

US Defense Secretary James Matis called North Korea’s threat to the whole world. Earlier in September, even North Korea’s ruler Kim Jong has done a test. Tell us that America has warned North Korea many times that it does not conduct nuclear tests or other types of military tests. This may prove to be harmful for him. President Donald Trump warned on September 19 before the leaders present in the United Nations General Assembly that if Kim Jong, his nuclear armed government remains a threat to its neighbors, then the United States may have to destroy North Korea.

दुनियाभर की चेतावनियों को धता बता कर उत्तर कोरिया ने एक बार फिर बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है. अमेरिका ने इसे दुनिया के लिए खतरा बताया है.

Defying the warnings from around the world, North Korea has once again tested ballistic missiles. America has called it a threat to the world.

खास बातें
बुधवार तड़के उत्तर कोरिया ने किया बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण
दक्षिणी प्योंगान प्रांत से मिसाइल जापान के सागर में दागी गई थी
मिसाइल जापान के विशेष आर्थिक जोन गिरी, बुलाई आपात बैठक

Special things
North Korea did ballistic missile test Wednesday
Missile from southern Pyongyon province was torn into the Sea of Japan
Missile Special Economic Zone Zone of Japan, convening emergency meeting

यह भी देखें :

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

source aajtak