S**Y DURGA पर मी लार्ड ने दिया यह बड़ा आदेश, फिल्म्बाज़ों को दिखाई औकात !

पणजी: मलयालम फिल्म ‘sexy durga’ अपने टाइटल को लेकर काफी समय से विवादों में बरकरार है. फिल्म को 48वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) में प्रदर्शित करने के लिए सनल कुमार शशिधरन जी जान से कोशिश कर रहे थे लेकिन उनके ये प्रयास विफल ही रहे. फिल्म ‘एस दुर्गा’ विवाद में एक नया मोड़ आया है. जिसके कारण ये फिल्म इफ्फी में प्रदर्शित नहीं हो सकी है. बता दें इस फिल्म फेस्टिवल का मंगलवार को समापन हो गया है |

Panaji: The Malayalam film ‘sexy durga’ has long been in controversy for its title. Sanal Kumar Shashidharan was trying to show the film in the 48th International Film Festival of India (IFFI), but his efforts failed. There has been a new turn in the film ‘Durga’ controversy. Due to which this film could not be displayed in IFFI. Please tell us this movie festival has ended on Tuesday.

टंडन ने शशिधरन को लिखे पत्र में कहा है, “जूरी द्वारा फिल्म की स्क्रीनिंग के बाद फिल्म के टाइटल के संबंध में प्रमाणीकरण से संबंधित कुछ मुद्दे उठाए गए थे. यह स्पष्टीकरण के लिए सीबीएफसी के पास भेजा गया. सीबीएफसी के आदेश के नतीजे के रूप में इस मुद्दे का समाधान होने तक फिल्म प्रदर्शित नहीं हो सकती.”

Tandon has written in a letter to Shashidharan, “After the screening of the film, some issues related to certification regarding the title of the film were raised, it was sent to the CBFC for clarification, the result of the CBFC order. The film can not be displayed until this issue is resolved. ”

इस फिल्म को एक अन्य फिल्म ‘न्यूड’ के साथ इफ्फी में नहीं दिखाने का फैसला सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने लिया था जिसे लेकर काफी विवाद हुआ था | शशिधरन ने न्याय पाने के लिए पिछले हफ्ते केरल हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी | कोर्ट ने जूरी के लिए फिल्म का सेंसर किया हुआ संस्करण प्रदर्शित किए जाने के बाद इफ्फी को महोत्सव में फिल्म की स्क्रीनिंग करने के आदेश दिए थे |

It was decided by the Ministry of Information & Broadcasting that the film was not to be shown in the IFFI along with another film, Nude, which had a lot of controversy. Shashidharan had filed a petition in the Kerala High Court last week to get justice. After the court released the censored version of the film for the jury, IFFI had ordered the screening of the film in the festival.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि जूरी ने सोमवार रात को फिल्म की स्क्रीनिंग के पक्ष में 7-4 से वोट दिए गए लेकिन कुछ कारणों की वजह से इस फिल्म को सेंसर बोर्ड ने प्रदर्शित होने से मना कर दिया था | फिल्म sexy durga पिछले कुछ समय से विवादों में रही थी | इस फिल्म के शीर्षक को लेकर भी काफी बवाल हुआ था जिसके चलते इसे बैन करने की भी बात चल रही थी |

Official sources said that the jury was voted 7-4 in favor of film screening on Monday night but due to some reasons the movie was denied by the censor board. The movie sexy durga has been in controversy for some time now. The film was also very fierce about the title, due to which it was also being discussed.

सीबीएफसी का कहना था कि फिल्म के शीर्षक में बदलाव कर ‘सेक्सी दुर्गा’ से ‘एस दुर्गा’ करने और इसके बाद ‘एस (फिर तीन हैशटैग के चिन्ह) दुर्गा’ किए जाने में समस्या है और सोमवार को इसे देखने वाली इंडियन पैनोरमा जूरी के सदस्यों ने शीर्षक में बदलाव को लेकर आपत्ति की है |

The CBFC said that there is a problem in changing the title of the movie and making ‘S Durga’ from ‘Sexy Durga’ and after that ‘S (Again, the sign of three hashtags) Durga’ and the Indian Panorama Jury Members have objected to the change in the title.

फिल्म को नहीं दिखाए जाने के खिलाफ शशिधरन और फिल्म में भूमिका निभाने वाले कनन नायर ने इफ्फी स्क्रीनिंग के स्थल के पास सांकेतिक प्रदर्शन किया |

In contrast, Shashidharan, who played the film, and Kanan Nair, who played the role in the film, performed signaling near Iffi screening site.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

खास खबर: नीतीश कुमार ने लालू पर खेला ये बड़ा दाव, ट्वीट पर दे डाला ऐसा मुंहतोड़ जवाब !

New Delhi: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लगातार दूसरे दिन राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के सुप्रीमो लालू यादव पर तंज कसते हुए ट्वीट किया है। नीतीश ने अपने ट्वीट में लालू यादव की देशभक्ति पर सवाल उठाए हैं।

New Delhi: Bihar Chief Minister Nitish Kumar has tweeted tantrums on the second day of the National Janata Dal (RJD) supremo Lalu Yadav. Nitish has questioned Laloo Yadav’s patriotism in his tweet.

नीतीश ने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘जान की चिंता, माल-मॉल की चिंता, सबसे बड़ी देशभक्ति है!’

Nitish has written in his tweet, ‘The worry of life, the worry of the Mall-Mall, the biggest patriotism!’

CM नीतीश कुमार ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर के जरिए अपने विरोधियों पर लगातार दूसरे दिन तीखा प्रहार करते हुए लिखा, “जान की चिंता, माल-मॉल की चिंता, क्या सबसे बड़ी देशभक्ति है।” हालांकि अपने ट्वीट में मुख्यमंत्री ने किसी का नाम तो नहीं लिया लेकिन उनका ट्वीट राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को जवाब के रूप में देखा जा रहा है।

Chief Minister Nitish Kumar, on micro blogging site Twitter, hit his opponents for the second consecutive day, writing “The worry of life, the concern of goods and mall, is the biggest patriotism.” However, in his tweet, Not taken but his tweet is seen as a reply to the Rashtriya Janata Dal (RJD) president Lalu Prasad Yadav and former deputy chief minister Tandav Yadav.

बता दें कि नीतीश ने लालू यादव की हाल में की गई सुरक्षा में कमी पर हुए बवाल पर ये तंज कसा है। साथ ही उन्होंने जमीन और अन्य घोटालों को लेकर भी लालू पर यह ट्वीट किया है।

Let me tell you how Nitish did this taint at the lacuna on the safety of Lalu Yadav’s recent security. At the same time, he has tweeted this on Lalu with land and other scandals.

बता दें कि हाल ही में लालू प्रसाद यादव की जेड प्लस श्रेणी की सिक्युरिटी कम करके जेड श्रेणी की सिक्यूरिटी की गई है। इस पर मंगलवार को भी नीतीश ने ट्वीट किया था।

Let me tell you that recently Zade category security has been secured by reducing the security of Z. Plus category of Lalu Prasad Yadav. Nitish had also tweeted this on Tuesday.

मंगलवार को ट्वीट करते हुए नीतीश ने लिखा था, ‘राज्य सरकार द्वारा ‘जेड’ प्लस और एसएसजी की मिली हुई सुरक्षा के बावजूद केंद्र सरकार से एनएसजी और सीआरपीएफ के सैकड़ों सुरक्षा कर्मियों की उपलब्धता के जरिए लोगों पर रौब गांठने की मानसिकता, साहसी व्यक्तित्व का परिचायक है!’

While tweeting on Tuesday, Nitish had written, “Despite the security of ‘Z’ plus and SSG by the state government, through the availability of hundreds of NSG personnel and CRPF security personnel, the mentality of courageous person, courageous personality It’s familiar! ‘

उल्लेखनीय है कि लालू की सुरक्षा में कटौती के बाद उनके दोनों पुत्र तेजस्वी प्रसाद यादव और तेज प्रताप यादव ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा था। तेज प्रताप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की खाल उधेड़ने तक की धमकी तक दे डाली थी।

It is to be mentioned that after the reduction of Lalu’s security, both his sons, Tejaswas Prasad Yadav and Sharad Pratap Yadav, also targeted the central government. Pratap gave up till the threat of Prime Minister Narendra Modi.

इससे पूर्व मंगलवार को भी मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमों, जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की सुरक्षा श्रेणी में कटौती करने के केंद्र के फैसले को लेकर जारी बयानबाजी के बीच सोशल मीडिया के जरिए विरोध पर तंज किया था। उन्होंने ट्वीट के जरिए विरोधियों पर हमला करते सवाल किया कि राज्य सरकार द्वारा जेड प्लस श्रेणी और राज्य सुरक्षा गार्ड (एसएसजी) की मिली हुई सुरक्षा के बावजूद केंद्र सरकार से राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) एवं केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआपीएफ) के सैकड़ों सुरक्षाकर्मियों की उपलब्धता के जरिए लोगों पर रौब झाड़ने की मानसिकता क्या साहसी व्यक्तित्व का परिचायक है।

Earlier on Tuesday, the Chief Minister also issued a statement regarding the central government’s decision to cut the security category of former Janata Dal United (JDU) former National President Sharad Yadav and former Chief Minister Jitan Ram Manjhi. The media had to quell the protest through the media. They attacked the opponents through tweets that despite the security of the Z-plus category and the State Security Guard (SSG) by the state government, hundreds of security personnel of National Security Guard (NSG) and Central Reserve Police Force (CAPF) from the Central Government What is the mentality of rubbing people on the basis of the availability of the daring personality?

यह भी देखें :

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

source aaj tak

असम के इस नेता ने दिया यह देश विरोधी बयान, हिन्दुओं में मचा बवाल !

कांग्रेस शासन ने वोट बैंक के लिए असम का क्या हाल किया है, वो आज स्पष्ट हो गया है, बीजेपी की सरकार को आये साल भर ही हुआ है, और बीजेपी ने एक टीम बनाई जिसका काम था की, असम के कितने गैर क़ानूनी बांग्लादेशी है, उस टीम ने 47 लाख से ज्यादा बांग्लादेशियों की पहचान कर ली |

What Congress Congress has done for Assam’s vote bank, it has become clear today that the BJP government has come only in the coming year, and the BJP formed a team whose job was to ensure that there are many illegal illegal Bangladeshi people in Assam. , That team identified more than 47 lakh Bangladeshis.

असल की कुल आबादी लगभग 3 करोड़ है, जिसमे 35% मुसलमान है, यानि 1 करोड़ से ज्यादा, और आज असम के एक पूर्व विधायक ने कहा की हम मुसलमानो की आबादी असम में 1 करोड़ से ज्यादा हो गयी है, और अब हिन्दुओ पर हमले करो और उन्हें असम से भगा दो |

The total population is approximately 30 million, in which 35% is Muslim, i.e. more than 10 million, and today an ex-MLA from Assam said that we have increased the population of Muslims to more than 10 million in Assam, and now attacks on Hindus Do it and let them flee from Assam.

इस पूर्व विधायक का नाम है शाह शेख आलम, और ये असम की इस्लामिक पार्टी जिसका सरगना बदरुद्दीन अजमल है, उसका नेता है, इसने खुलेआम एक रैली में कहा की, असम में हम मुसलमान अब 1 करोड़ है, हिन्दुओ पर हमला करो और असम को पूरी तरह इस्लामिक राज्य बना लो |

The name of this former MLA is Shah Sheikh Alam, and it is the leader of Assam’s Islamic party whose donor Badruddin Ajmal is its leader, openly said in a rally that in Assam we are Muslims now 10 million, attack Hindu and Assam Become a completely Islamic State.

 

साथ ही इस पूर्व विधायक ने ये भी कहा की, जल्द ही असम पर हमारा यानि मुसलमानो का राज होगा, चूँकि ये जल्द ही हिन्दुओ को आबादी में पछाड़ देंगे, और उसके बाद हिन्दुओ को भगा दिया जायेगा, असम में बांग्लादेशियों को न सिर्फ कांग्रेस की सरकार ने वोटबैंक के लिए घुसाया, बल्कि उनको आर्थिक मदद भी की, तमाम कागज़ तो उनके लिए बनाये ही गए, उनको जमीन भी दी गयी, और अब ये लोग असम से हिन्दुओ को साफ़ कर देने की बातें करने भी लगे, कांग्रेस की तुष्टिकरण की राजनीती भारत पर बहुत भारी पड़ रही है |

At the same time, the former legislator also said that soon Assam will be the rule of Muslims, as soon as this will overthrow Hindus in the population, and after that the Hindus will be banished, the people of Assam not only the Congress The government insisted for votebank, but also provided economic help to them, all the papers were made for them, they were given land too, and now they talk about cleansing of Hindus from Assam. Also engaged politics of the Congress of appeasement is falling too heavily on India.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=Dhl7blIhWec

https://www.youtube.com/watch?v=KZmJrB0_U64

बड़ी खबर: PM मोदी के विरुद्ध कांग्रेसी दलालों की रची बड़ी साजिश का हुआ खुलासा, UP पुलिस ने किया पर्दाफ़ाश

नई दिल्ली : चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस और उनके दलाल किस हद तक गिर सकते हैं, इस बात का अंदाजा आपको ये हैरतअंगेज खबर पढ़कर हो जाएगा. यूपी चुनाव से पहले सपा नेताओं ने गुजरात के लोगों को गधा तक कह डाला था. अब गुजरात चुनाव में एक बार फिर गधों का सहारा लेकर कांग्रेस चुनाव जीतने की कोशिश कर रही है. कांग्रेस के दलाल माने जाने वाले एनडीटीवी ने बीजेपी सरकार का मजाक उड़ाते हुए झूठी खबर वायरल कर दी कि यूपी पुलिस ने गधों को चार दिनों के लिए जेल में डाल दिया, मगर यूपी पुलिस ने तुरंत इनकी अक्ल ठिकाने लगा दी.

आकाओं की मदद के लिए झूठी ख़बरें छाप रहा एनडीटीवी
एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश के जालौन जिले में जेल प्रशासन ने गधों के एक समूह को हिरासत में ले लिया था. इस रिपोर्ट के मुताबिक़ उरई में हिरासत में लिए गए इन गधों ने जिला जेल के बाहर लगे पेड़ों को नुकसान पहुंचाया था, जिसके बाद जेल प्रशासन के कर्मचारी इन्हें पकड़कर ले आए.

हालांकि ये खबर पूरी तरह से झूठी और बकवास थी, मगर फिर भी बिना सच्चाई की पड़ताल किये कई मीडिया चैनलों व् अखबारों ने प्रमुखता से इस खबर को चलाया और बीजेपी सरकार पर खूब कीचड उछाला गया. कोंग्रेसी दलालों की पूरी कोशिश थी कि किसी तरह इस मुद्दे को लेकर मोदी को घेर लिया जाए और गुजरात चुनाव को प्रभावित किया जाए.

यूपी पुलिस ने दी चेतावनी
मगर यूपी पुलिस ने तुरंत घटना का संज्ञान लेते हुए जांच की और पाया कि पूरी खबर कोरी बकवास है और यूपी पुलिस ने किसी गधे को नहीं पकड़ा है. जिसके बाद एनडीटीवी को फटकार लगाते हुए यूपी पुलिस ने आगे से जांच करके रिपोर्ट छापने के लिए कहा.

मगर बदतमीजी की इंतहां देखिये कि गलती पकडे जाने पर भी एनडीटीवी ने माफ़ी नहीं मांगी. माफ़ी मांगना तो दूर, उलटा यूपी पुलिस को ही नसीहत देते हुए कह दिया कि ये रिपोर्ट उनके बारे में है ही नहीं. वहीँ देश की जनता इस झूठी खबर और मोदी के खिलाफ मीडिया के एक वर्ग द्वारा किये जा रहे षड्यंत्र को देख बुरी तरह भड़क उठे.

https://twitter.com/Rajdeep4G/status/935375764794388480

ट्विटर व् फेसबुक पर लोगों ने एनडीटीवी को जी-भर कर कोसा. लोगों ने ट्वीट करके कहा कि मीडिया जितनी झूठी ख़बरें चलाएगा, मोदी उतना ही आगे बढ़ेगा. वहीँ कुछ लोगों ने एनडीटीवी पत्रकारों को अफवाह फैलाने के लिए जेल भेजे जाने तक के लिए कहा.

बता दें कि एनडीटीवी सदा ही देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त रहा है. इससे पहले भी आतंकवादियों की मादा करने के आरोप के चलते सरकार ने इस चैनल को एक दिन के लिए बैन करने का फैसला लिया था, मगर तब सभी वामपंथी पत्रकार उसके समर्थन में आकर घड़ियाली आंसू बहाते हुए उसे प्रेस की आजादी पर ख़तरा बताने लगे थे.

मगर ये साफ़ है कि एक पार्टी के खिलाफ एजेंडा चलाने वाले ऐसे डिज़ाइनर पत्रकार अपने आकाओं को चुनाव में जीत दिलाने के लिए झूठी, फर्जी ख़बरें छापने से भी संकोच नहीं करते हैं. ऐसे में इनके द्वारा छापी गयी किसी भी खबर का विशवास करना मुश्किल हो जाता है.

यह भी देखें :

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

source zee news

मोदी ने किये पाकिस्तान के टुकड़े,गिलगित और बालटिस्तान हुए अलग !

नई दिल्ली: पिछले साल 2016 में लाल किले के मंच से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि पीओके यानी पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर भी हमारा है! तब से पाकिस्तान ऑक्यूपाइड कश्मीर, बाल्टिस्तान और सिंध में हमेशा पाकिस्तान विरोधी नारे और रैलिया होती नजर आ रही है! सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान के खिलाफ वहां रह रहे लोग काफी गुस्से में हैं! पाकिस्तान के खिलाफ लोग आये दिन नारे लगा रहे है, बीते कई दिनों से वहां हंगामा चल रहा है!

New Delhi: In 2016, Prime Minister Narendra Modi had said from the fort of Red Fort that the Pakistan occupied PoK is ours too! From then on, Pakistan Occupied Kashmir, Baltistan and Sindh have always seen anti-Pakistan slogans and rallies! According to information from sources, the people living there against Pakistan are very angry! People are shouting slogans against Pakistan, there has been a rage for many days!

गिलगिट, जहां लोगों ने प्रदर्शन कर पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाये हैं, मुजफ्फरबाद से भी तस्वीरें आई थी, वहां भी नारे लगे थे! लोगों का ताजा गुस्सा पाकिस्तानी सुरक्षा बलों की उस कार्रवाई के बाद फूटा है जिसमें उन्होंने 500 से ज्यादा युवकों को हिरासत में ले लिया था! लोगों का कहना था कि जिन युवकों को सुरक्षा बलों ने कैद किया है वे राजनीतिक हकों की बात कर रहे थे! इसके साथ ही उन्होंने पाकिस्तानी बलों के खिलाफ नारे लगाए थे! यह विरोध प्रदर्शन उस क्षेत्र में हो रहा है जहां शिया लोग ज्यादा है जबकि पाकिस्तान में सुन्नी लोगों की संख्या दा ज्याहै!

People display slogans against Pakistan

Gilgit, where people have demonstrated slogans against Pakistan, photos from Muzaffarabad also came, slogans were there too! The fresh anger of the people has spread after the Pakistani security forces in which they took custody of more than 500 young men! People said that the youth who were imprisoned by the security forces were talking about political rights! Along with this he had slogans against Pakistani forces! This protest is taking place in the area where Shi’ah is more, while the number of Sunni people in Pakistan is the same!

चाइना-पाक इकोनॉमिक कॉरीडोर पर भी नाराज लोग

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) के गिलगित-बालिस्तान में लोगों के बीच पाकिस्तान और चीन के हस्तक्षेप को लेकर गुस्सा बढ़ रहा है! इन दोनों देशों द्वारा अपने फायदे के लिए यहां के संसाधनों का मनमाना दोहन करने को लेकर स्थानीय लोगों में रोष है!

Angry people also on the China-Pak Economic Corridor

Anger is growing in the Gilgit-Baltistan of Pakistan-occupied Kashmir (PoK) between the people of Pakistan and China. There is anger in the local people for these two countries to exploit the arbitrariness of the resources here for their benefit!

स्थानीय लोग 3000 किमी लंबे चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) का भी व्यापक विरोध कर रहे हैं! लोगों का कहना है कि उन्हें इसका कोई फायदा नहीं मिलने जा रहा है! चीन इस प्रॉजेक्ट के लिए 40 बिलियन डॉलर का निवेश कर रहा है! इससे पश्चिमी चीन और दक्षिणी पाकिस्तान आपस में रोड नेटवर्क, रेलवे लाइन और पाइपलाइंस के जरिए जुड़ जाएंगे! कहा जा रहा है कि इससे क्षेत्र का सामाजिक-आर्थिक विकास होगा, पर स्थानीय लोगों की नाराजगी इस बात को लेकर है कि इस बारे में सभी हितधारकों से संपर्क नहीं किया गया!

The local people are also protesting a massive 3,000-km China-Pakistan Economic Corridor (CPEC)! People say that they are not going to get any benefit from it! China is investing 40 billion dollars for this project! This will connect Western China and South Pakistan through road network, railway line and pipelines! It is being said that this will lead to socio-economic development of the region, but the local people’s resentment is on the matter that all the stakeholders have not been contacted about this!

स्थानीय निवासी अब्दुल रहमान बुखारी का कहना है, ‘लोग इस बात को लेकर नाराज हैं कि कम से कम उन्हें इस बारे में बसे में लेना चाहिए था! अगर हम सिर्फ चीन से आने वाले ट्रक गिनते रहेंगे तो इससे तो कोई फायताना चाहिए था, भरोदा नहीं होगा!’

Local resident Abdul Rahman Bukhari says, “People are upset about the fact that at least they should have taken this into account! If we keep counting trucks coming from China then it should have benefitted from this, will not be trusted!

कश्मीर नैशनल पार्टी के नेता मोहम्मद नईम खान ने कहा, ‘वे CPEC प्रॉजेक्ट में 60 इकनॉमिक जोन बना रहे हैं, लेकिन इनमें से कोई भी गिलगित-बालिस्तान या पीओके में नहीं है। यहां पर कोई निवेश नहीं हो रहा है!’ यह आम धारणा है कि चीन अपने फायदे के लिए यहां पर डैम, हाइवे और पोर्ट बना रहा है!

Kashmir National Party leader Mohammad Nayeem Khan said, “They are making 60 economic zones in the CPEC project, but none of these is in Gilgit-Balisthan or POK. There is no investment here! ‘It is a common belief that China is making a dam, highway and port on its own here!

गिलगित-बालिस्तान नैशनल कांग्रेस के डायरेक्टर एस.एच. सेरिंग का कहना है, ‘जब पाक सेना चीन से लगा हुआ कराकोरम हाइवे बना रही थी, प्रभावित लोगों को कोई मुआवजा नहीं दिया गया! अब जबरन CPEC बनाया जा रहा है! लोगों की मर्जी के बिना गिलगित-बालिस्तान की सरकार और पाक सेना उनकी पुश्तैनी जमीन ले रही है!’

Gilgit-Balistan National Congress Director S.H. Sering says, “When the Pak army was making the Karakoram highway with China, no compensation was given to the affected people! Now forcibly CPEC is being created! Without the consent of the people, Gilgit-Balistan government and the Pak army are taking their ancestral land!

इस प्रॉजेक्ट को कानूनी सुरक्षा देने के लिए पाकिस्तान सरकार गिलगित-पाकिस्तान को संवैधानिक दर्जा देने की कोशिश कर रही है, हालांकि स्थानीय लोग इसके विरोध में हैं! पाकिस्तान ने गिलगित-पाकिस्तान में 1947 में गैरकानूनी ढंग से कब्जा कर लिया था! तब से इस इलाके में स्थानीय लोग आम सुविधाओं के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं!

To provide legal protection to this project, the Pakistan government is trying to give Gilgit-Pakistan a constitutional status, though the local people are opposing it! Pakistan had illegally occupied Gilgit-Pakistan in 1947! Since then local people are also struggling for common facilities in this area

VIDEO: तैमूर के पिता सैफ अली खान ने सोनू को अज़ान पर दी ये बड़ी धमकी, अक्षय कुमार ने खींचकर लगाया जोरदार थप्पड़

तैमूर के पिता सैफ अली खान ने कल सोनू निगम की अज़ान की आवाज़ कम करने की मांग पर दे दिया है ये बड़ा बयान. सोनू निगम ने जब से अज़ान वाले मुद्दे पर बहस छेड़ी है तबसे पूरी फिल्म इंडस्ट्री में दो फाड़ हो गया है. कई सेक्युलर फ़िल्मी सितारे सोनू निगम का ताबड़तोड़ विरोध कर रहे हैं तो कई सितारे ऐसे भी हैं जो की शिव भक्त सोनू निगम के समर्थन में खड़े हैं.

Saif Ali Khan, Timur’s father, has given this statement on Sonu Corporation’s demand for reducing the voice of Azan. Ever since the Sonu Nigam has argued on the issue of Azan, there have been two tears in the entire film industry. Many secular film stars are protesting the slogan of Sonu Corporation, so there are many stars which Shiv devotees stand in support of Sonu Nigam.

ऐसे में सैफ अली खान जैसे बड़े सितारे ने जब सोनू निगम जी को सुनाई खरी खोटी तो हिन्दू ह्रदय सम्राट अक्षय कुमार ने लिया उन्हें आड़े हाथ.

In such a case, when a big star like Saif Ali Khan heard the Sonu Narga Ji, then the Hindu heart emperor Akshay Kumar took him away.

सैफ अली खान ने कहा है की सोनू निगम सरासर गलत हैं और उन्हें अज़ान सुनने की आदत डाल लेनी चाहिए क्यूंकि इजराइल से लेकर अमेरिका तक हर देश में मुसलमान लाउडस्पीकर पर ही अज़ान गाते हैं और ये हम मुसलमानों के लिए बहुत ज़रूरी है क्यूंकि हम अल्पसंख्यक हैं और हमें पूरी दुनिया में अपने धर्म की उपस्थिति दर्ज करानी है

Saif Ali Khan has said that Sonu corporations are wrong and they should use the habit of listening to Azan because Muslims in every country from Israel to America sing Azan only on the loudspeaker and it is very important for us to be Muslims because we are minorities. And we have to enter the presence of our religion throughout the world

दरअसल इस मामले के बाद से सोनू निगम को फिल्म इंडस्ट्री से निकले जाने की साजिश शुरू हो चुकी है क्यूंकि फिल्म इंडस्ट्री में दावूद इब्राहीम की बेशुमार दौलत लगी हुई है और अधिकतर फ़िल्मी सितारे विशेषकर खान बन्धु तो उसी के दम पर इतने बड़े सितारे बने हैं. ऐसे में अपने मालिक के आगे तो ये फिल्मी कुत्ते दम हिलाएंगे ही.

Actually this plot has begun Sonu Nigam has begun to get out of the film industry, because Dawood is in the film industry’s rich wealth, and most film stars, especially Khan Dhanu, have become so big stars on the same side. In this way, ahead of their master, these films will move on to dogs.

परन्तु फिल्म इंडस्ट्री में सभी सितारे एक जैसे नहीं हैं इस फिल्म इंडस्ट्री में अक्षय कुमार, अनुपम खैर सोनू निगम, विवेक अग्निहोत्री जैसे देशभक्त हिन्दू भी हैं. सूत्रों के अनुसार, अक्षय कुमार ने सीधे सीधे बोल डाला है की देखता हूँ कौन सोनू निगम को हाथ लगाता है जब तक मैं हूँ. सोनू निगम को मैं अपनी फिल्मों में काम दूंगा और किसी माई के लाल में दम है तो सोनू निगम को फिल्म इंडस्ट्री से बाहर निकाल कर दिखाओ.

But all the stars are not the same in the film industry. In this movie industry, Akshay Kumar, Anupam Well Sonu Corporation, Vivek Agnihotri are also patriotic Hindus. According to the sources, Akshay Kumar has spoken directly to see who handles Sonu Corporation till I am. I will give Sonu Corporation a job in my movies and I am very proud of any of the Mai’s redesigns, then show out Sonu Corporation out of the film industry.

नई दिल्ली: पिछले 5 दिन से बॉलीवुड के पार्श्वगायक सोनू निगम के किए एक ट्वीट को लेकर हंगामा मचा हुआ है.जिसमें कूदते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री तथा कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य अहमद पटेल ने गायक की बात का परोक्ष रूप से समर्थन किया है…

New Delhi: For a last tweet of Bollywood player playback Sonu Nigam since the past five days, there has been a riot.In which former Union Minister and Congress Executive Committee member Ahmed Patel has indirectly supported the singer’s talk …

देखें विडियो-

Watch video-

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के करीबी नेताओं में शुमार किए जाने वाले अहमद पटेल ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर मंगलवार सुबह किए ट्वीट में साफ लिखा, “नमाज़ का बेहद ज़रूरी हिस्सा है अज़ान… आधुनिक तकनीक के इस ज़माने में… लाउडस्पीकर (ज़रूरी हिस्सा) नहीं हैं…”

Ahmed Patel, a member of the Congress President Sonia Gandhi, who is a member of the micro-blogging website, posted on Tuesday in a tweet, said: “Namaz is a very important part of Ajzan … in this era of modern technology … loudspeaker ( an essential part) Are not … ”

एक खुले मंच से भगवत गीता के बारे में मुस्लिम ने जो कहा उसे सुन हर हिन्दू हर हिन्दुस्तानी को गर्व होगा लेकिन ये बात कट्टरपंथियों ने सुन ली तो उनके सीने पर सांप लेट जायेंगे और ये लोग हाहाकार मचा देंगे .
जो बात इस मुस्लिम ने भगवत गीता को लेकर कही वो ही कलयुग की सच्चाई है. आज भगवत गीता को देश ही नहीं विदेशों में भी ज्ञान लेने के रूप में देखा जा रहा है. अलग अलग देश अपनी भाषा में गीता को बदल उसका ज्ञान ले रहे हैं.

Listen to what God said about Bhagwat Gita from an open stage. Every Hindu will be proud of every Hindu but listen to the radicals, then the snakes will lie down on their chest and they will make a mistake.
The matter which the Muslim took about Bhagwat Gita is the fact that Kalyuga is the truth. Today, Bhagwat Gita is not seen as a nation but also abroad. Different countries are changing their knowledge of Gita in their language.

भगवान् श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को दिया गया ज्ञान, जिसमे श्री कृष्ण भगवान् साक्षात् प्रकट हुए हैं ऐसे ज्ञानी पुरुष के प्रभाव पूर्ण शब्दों को दर्शाता है, जिसके द्वारा हम अपनी खोई हुई समझ को फिर से प्राप्त कर सकते हैं और उसके उपयोग द्वारा कर्मो से मुक्त हो सकते हैं.

The knowledge is given by Lord Krishna to Arjun by Lord Krishna, in which Mr. Krishna has revealed God’s evidence, the effect of such knowledgeable man shows full words, through which we can regain our lost understanding again and by using it free from karma Can be

आप भी देखें किस तरह भरे मंच पर इस मुस्लिम शख्स ने जमकर की भगवत गीता की तारीफ.

You also see how this Muslim man praises Bhagwat Gita of the Muslim community.

देखिये विडियो-

Watch video

https://youtu.be/dLMWPDsFcsU

पिछले कई सालों से कांग्रेस पार्टी मुस्लिमों के वोटों की खातिर उनके आगे पीछे दौड़ रही थी . पर अब ऐसा नहीं होगा . इन बदले हुए तेवरों का क्या मतलब है. अगले पेज पर पूरी खबर पढ़ें

For the past several years, the Congress party was running behind them for the sake of the votes of Muslims. But now it will not happen. What does these changed tales mean? Read the whole news on the next page

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के करीबी नेताओं में शुमार किए जाने वाले अहमद पटेल ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर मंगलवार सुबह किए ट्वीट में साफ लिखा, “नमाज़ का बेहद ज़रूरी हिस्सा है अज़ान… आधुनिक तकनीक के इस ज़माने में… लाउडस्पीकर (ज़रूरी हिस्सा) नहीं हैं…” यह कह कर अहमद पटेल ने गायक सोनू निगम की बात का सीधे सीधे समर्थन किया है…

Ahmed Patel, a member of the Congress President Sonia Gandhi, who is a member of the micro-blogging website, posted on Tuesday in a tweet, said: “Namaz is a very important part of Ajzan … in this era of modern technology … loudspeaker (essential part) Are not … “saying this, Ahmed Patel has directly supported the talk of singer Sonu Nigam …

ऐसे में ये समझना बहुत जरूरी हो गया है की जिस पार्टी ने पिछले 70 साल मुस्लिम वोट बैंक की चाटुकारिता की है. मुस्लिम तुष्टिकरण के नए कीर्तिमान रचे, आज उसी पार्टी के मुस्लिम नेता कह रहे हैं, मस्जिदों में लाउडस्पीकर बजना गलत है, आज उसी कांग्रेस के दिग्विजय सिंह कह रहे हैं की राम मंदिर वहीँ था और वहां कोई मस्जोद थी ही नहीं, अत: अयोध्या में राम मंदिर ही बनना चाहिए. कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता आज कल TV पर पाकिस्तान के मामले में मोदी जी का पूरी तरह समर्थन करते नज़र आ रहे हैं. ऐसे में भारत में मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति की व्यवहारिकता समाप्त होती नज़र आ रही है l

In such a way, it is very important to understand that the party has made a change in the Muslim vote bank for the past 70 years. Today, the Muslim leader of the same party has said that the loudspeaker is wrong in mosques, today the same Congress Digvijay Singh is saying that there was no Ramadan in the temple and there was no mood there, so in Ayodhya Ram temple should be formed only. Congress spokesman Spokesperson Modiji is fully supporting supporters of Pakistan on TV today. In this way, the behavior of the Muslim consolidation politics in India seems to be over

एक के बाद एक ट्वीट करते हुए उन्होंने इस मुद्दे पर अपनी नाराजगी का इजहार किया। 43 वर्षीय गायक ने कहा, “मुझे नहीं लगता कि धार्मिक स्थलों को लाउडस्पीकर के जरिये लोगों को जगाने की इजाजत दी जानी चाहिए।” उन्होंने इसको धार्मिकता थोपने जैसा बताते हुए इसे खत्म करने की मांग की।

While making a tweet after one, he expressed his disappointment on this issue. The 43-year-old singer said, “I do not think religious places should be allowed to wake people through loudspeakers.” They demanded it to be terminated as saying that it was justifying the righteousness.

पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा, “भगवान सबका भला करे। मैं मुस्लिम नहीं हूं और हर सुबह मेरी नींद अजान से खुलती है। भारत में धर्म को लेकर यह जबरदस्ती कब खत्म होगी?” इसके बाद उन्होंने अगला ट्वीट किया, “और हां, मुहम्मद ने जब इस्लाम बनाया तब बिजली नहीं थी। तो फिर एडिसन के बाद मुझे यह शोर क्यों सुनना पड़ता है?”

In the tweet, he first wrote, “God bless everyone. I am not Muslim, and every morning my sleep opens with Azan. When will this forced end in religion in India? “After this, he did the next tweet,” and yes, when Islam created Islam, there was no power. So why do I have to listen to this noise after Edison? ”

इसके बाद सोनू ने इस मुद्दे पर हिंदू और सिख धर्म की भी आलोचना की। उन्होंने लिखा, “मुझे ऐसे मंदिर या गुरुद्वारे पर भी विश्वास नहीं है, जो उनका धर्म नहीं मानने वालों को लाउडस्पीकर की तेज आवाज से उठाते हैं।”

After this, Sonu also criticized Hindu and Sikh religion on this issue. He wrote, “I do not believe in such a temple or a gurudwara who pick up those who do not believe in religion with loud loudspeaker’s loud voice’

यह भी देखें

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

युद्ध के माहौल में रख दी सेना ने ऐसी मांग, जिससे रक्षामंत्रालय ही नही मोदी भी है हैरान |

नई दिल्लीः रक्षा मंत्रालय ने हथियारों व अन्य सैन्य सामग्री की खरीद के लिए 20,000 करोड़ रुपये के अतिरिक्त आवंटन की मांग की है, क्योंकि अधिग्रहण की गति बढ़ाने के कारण वह अपने बजट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा पहले ही खत्म कर चुकी है. जानकार सूत्रों से यह जानकारी मिली. रक्षा मंत्रालय द्वारा अतिरिक्त आवंटन की मांग उस समय की गई है, जब चीन के साथ सिक्किम क्षेत्र में तकरार जारी है. सूत्रों ने हालांकि कहा कि हालिया घटनाक्रमों के साथ इस मांग का कोई लेना-देना नहीं है.

New Delhi: The Ministry of Defense has demanded an additional allocation of Rs 20,000 crore for the purchase of weapons and other military materials, as it has already ended an important part of its budget due to the speed of acquisition. This information was received by knowledgeable sources. The demand for additional allocation by the Ministry of Defense has been done at the time when there is a conflict between China and the Sikkim region. Sources however said that there is no demand for this demand with recent developments.

सूत्र ने बताया, “यह साल का ऐसा समय होता है, जब मंत्रालय आमतौर पर अधिक बजट चाहते हैं. हाल के घटनाक्रम के साथ इसका किसी भी रूप में कोई लेना-देना नहीं है.” मंत्रालय ने लगभग 2.74 लाख करोड़ रुपये की बजटीय आवंटन के अलावा 20,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त मांग की है. सूत्र ने बताया कि मंत्रालय पहले ही अपने बजट के करीब 50 फीसदी तक खर्च कर चुका है, क्योंकि खरीद की प्रक्रिया तेजी से बढ़ रही है. इसके अलावा, विभिन्न खरीद पर आयात शुल्क का भुगतान करना पड़ रहा है.

Sources said, “This is the time of year when the ministry usually wants a higher budget. It has nothing to do with the recent developments.” Apart from the budget allocation of about Rs 2.74 lakh crore, the Ministry has made an additional demand of Rs 20,000 crore. The source said that the ministry has already spent about 50 per cent of its budget, because the process of procurement is increasing rapidly. Apart from this, the import duty has to be paid on various purchases.

सूत्र ने कहा, “इसके अलावा, हाल ही में बलों को अधिक खरीद शक्तियां दी गई हैं, इसके लिए भी धन की जरूरत है.” रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में संवेदनशील सुरक्षा खरीद का वित्तीय अधिकार तीनों सेनाओं के उपसेनाप्रमुख को सौंप दिया है. इससे पहले उपसेना प्रमुखों को 46 तरह के गोला बारूद तथा 10 तरह के हथियार प्लेटफार्म खरीदने के लिए 40,000 करोड़ रुपये तक का खर्च करने का अधिकार दिया गया था.

Sources said, “Apart from this, more forces have been given more powers recently, for this also money is needed.” The Ministry of Defense has recently handed over the financial powers of sensitive security procurement to the Deputy Chief of the three services. Earlier, the sub-heads were given the right to spend upto Rs 40,000 crore to purchase 46 types of ammunition and 10 types of weapon platforms.

गौरतलब है कि साल 2017 की शुरुआत में ही केंद्र सरकार ने सेना के सामानों के आयात पर से कस्टम ड्यूटी को हटा दिया गया था. इससे पहले कस्टम ड्यूटी की वजह से सेना को अपनी खरीद पर काफी पैसा खर्च करना पड़ता था साथ ही इस फैसले को इसलिए भी लिया गया था, ताकि स्वदेशी सामानों और हथियारों का इस्तेमाल बढ़ सके. भारत चीन के बीच पिछले दो महीने से जारी तनातनी से सीमा पर ऐसे हालात बन गए कि किसी भी समय दोनों देशों के बीच युद्ध हो सकता है. यहां गौर करने वाली बात ये है कि कुछ दिन पहले ही CAG की रिपोर्ट में बताया था कि युद्ध शुरू होने की स्थिति में सेना के पास महज 10 दिन का ही पर्याप्त गोला-बारूद है. इसके साथ ही इस रिपोर्ट में ये भी खुलासा किया गया था भारतीय सेना के पास कुल 152 तरह के गोला-बारूद हैं जिनमें से केवल 31 का ही स्टॉक संतोषजनक है.

It is noteworthy that in the beginning of the year 2017, the Central Government had removed custom duty from import of military goods. Earlier, due to custom duty, the army had to spend a lot of money on its purchases, and this decision was also taken so that the use of indigenous goods and weapons would increase. The situation in the border between India and China has become such a situation on the border since the last two months that there may be a war between the two countries at any time. Here is a point to note that in the CAG report a few days back, in the event of war, the army has enough ammunition for only 10 days. In addition, this report also revealed that the Indian Army has a total of 152 types of ammunition, out of which only 31 stocks are satisfactory.

यहां ध्यान देने वाली बात ये है कि यदि भारतीय सीमा पर युद्ध की स्थिति बनती है तो भारतीय सेना के पास कम से कम इतना गोला-बारूद होना चाहिए, जिससे वह 20 दिनों के किसी सघन टकराव की स्थिति से निपट सकें. इससे पहले सेना को 40 दिनों का सघन युद्ध लड़ने लायक गोलाबारूद अपने वॉर वेस्टेज रिजर्व (WWR) में रखना होता था, जिसे 1999 में घटा कर 20 दिन कर दिया गया था. ऐसे में कैग की यह रिपोर्ट गोलाबारूद की भारी किल्लत उजागर करती है.

The point here to note is that if there is a war situation on the Indian border, then the Indian Army should have at least a lot of ammunition so that it can deal with the situation of a compounded conflict of 20 days. Earlier, the Army had to keep 40 days of intense war-fighting ammunition in its War Vesteze reserve (WWR), which was reduced to 20 days in 1999. In such a situation, the CAG report exposes the huge ammunition of ammunition.

https://youtu.be/MATUsWl2erM

यह भी देखें

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

source zee news

हाफिज सईद और सोनिया गाँधी के कनेक्शन का सनसनीखेज खुलासा, पूर्व एयर चीफ मार्शल ने किया पर्दाफ़ाश

नई दिल्ली : देश की जनता की आँखों में धूल झोंक कर 60 सालों तक राज करने वाली कांग्रेस किस कदर धूर्त और गद्दारों का टोला बन चुकी है, इस बात का अंदाजा आपको इस बेहद सनसनीखेज खबर को पढ़कर हो जाएगा. हिन्दुओं को आतंकी साबित करने की कोशिशें करने वाली कांग्रेस के पाकिस्तानी आतंकियों के साथ कैसे सम्बन्ध हैं, ये भी इस खबर से पता चलता है. पूर्व एयर चीफ मार्शल (सेवानिवृत्‍त) मेजर फली होमी ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए कांग्रेस की मक्कारी की दास्तान सुनाई है.

सोनिया-मनमोहन सरकार ने रोका वायुसेना को
पूर्व एयर चीफ मार्शल मेजर फली होमी ने खुलासा किया है कि वायुसेना नौ साल पहले ही पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में सर्जिकल स्‍ट्राइक करना चाहती थी. जब आतंकवादियों ने मुंबई में 26 नवंबर, 2006 को आतंकी हमला किया था, उसी वक़्त वायुसेना पाकिस्‍तान को सबक सिखाना चाहती थी.

भारत की वीर वायुसेना पाकिस्तान पर हमले के लिए तैयार थी और सक्षम भी. योजना थी कि पीओके में भारतीय वायुसेना के लड़ाकू जहाज भीषण बमबारी करके सभी आतंकी ठिकाने ध्वस्त कर देंगे. लेकिन तत्‍कालीन कांग्रेस सरकार ने भारतीय वायुसेना को ऐसा करने नहीं दिया. गौरतलब है कि मुम्बई पर हमले के पीछे हाफ़िज़ सईद की साजिश थी, मगर कांग्रेस ने वायुसेना के हाथ बाँध दिए और हाफ़िज़ व् उसके आतंकी गुर्गों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लेने दिया.

कांग्रेस ने बचाया पाक आतंकियों को
पूर्व एयर चीफ मार्शल फली होमी मेजर ने अपने हैरान कर देने वाले खुलासे में कहा है कि तत्‍कालीन कांग्रेस सरकार ने पाकिस्‍तान को सबक सिखाने के लिए पूरी तरह तैयार वायुसेना की सर्जिकल स्ट्राइक की योजना को ‘रोक’ दिया था.

पूर्व वायु सेना प्रमुख ने टाइम्‍स नाउ के सृंजय चौधरी के साथ बातचीत में रविवार को यह सनसनीखेज खुलासा किया और कहा कि वायुसेना 2008 में सर्जिकल स्‍ट्राइक के लिए पूरी तरह तैयार और सक्षम थी. मुंबई हमले के नौ साल बाद पूर्व वायु सेना प्रमुख ने यह सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा कि वायुसेना की योजना 2008 में ही पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में आतंकवादियों के प्रशिक्षण शिविरों को निशाना बनाते हुए सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी और वह इसमें सक्षम भी थी, लेकिन तत्‍कालीन कांग्रेस सरकार ने इसकी अनुमति नहीं दी.

हिन्दुओं को आतंकवादी साबित करने की साजिश
बता दें कि कांग्रेस के खिलाफ रॉ के पूर्व उच्चाधिकारी आरएसएन सिंह ने एक मीडिया डिबेट के दौरान खुलासा किया था कि कोंग्रेसी नेताओं के पाकिस्तानी आतंकियों और पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ सम्बन्ध हैं. उन्ही की साजिश पर कोंग्रेसी हिन्दुओं को आतंकवादी साबित करने के लिए साजिशें कर रहे थे.

अब पूर्व वायु सेना प्रमुख के खुलासे के बाद ये स्पष्ट है कि कांग्रेस नहीं चाहती थी कि पाकिस्तान व् उसके आतंकियों के खिलाफ कोई भी कार्रवाई हो. कोंग्रेसी नेताओं की धूर्तता व् कायरता के कारण भारतीय सेना की बदनामी हुई. जबकि पीएम मोदी ने पाकिस्तान को जवाब देते हुए सर्जिकल स्ट्राइक के तुरंत आदेश दे दिए थे.

गुजरात चुनाव से ठीक पहले हुए इस बड़े खुलासे के बाद कोंग्रेसियों के लिए मुँह छिपाने की नौबत आ गयी है. किस मुँह से राहुल गाँधी गुजरात की जनता से झूठे वादे करके अपनी पार्टी के लिए वोट मांगेंगे.

यह भी देखें :

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

source aajtak

फारुख अब्दुल्ला का झंडे पर गद्दारी भरा बयान, पूरे भारत को दी चुनौती

Srinagar: जम्मू-कश्मीर के पूर्व CM फारुख अब्दुल्ला ने केंद्र सरकार पर एक बार फिर हमला बोला है।

Srinagar: Former Jammu and Kashmir Chief Minister Farooq Abdullah has once again attacked the central government.

श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने की चुनौती देते हुए फारुख ने कहा कि PoK में आप तिरंगा फहराने की बात करते हैं, लेकिन मैं कहता हूं कि पहले श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहरा कर दिखाओ।

Challenging the challenge of hoisting the tricolor at Lal Chowk in Srinagar, Farooq said that in the PoK you talk of hoisting the tricolor, but I say that before the tricolor of Lal Chowk, hoist the flag.

आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों में फारूख का पीओके को लेकर ये दूसरा विवादास्पद बयान है। कुछ दिनों पहले उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान इतना कमजोर नहीं है कि भारत उससे PoK छीन सके। सोमवार को फारूख अब्दुल्ला ने सीधे तौर पर केंद्र सरकार और बीजेपी को चैलेंज दिया। उनके बेटे उमर अब्दुल्ला भी जम्मू-कश्मीर के सीएम रह चुके हैं।

Let us tell you that this is the second controversial statement of Farooq’s POK in the last few days. A few days ago he had said that Pakistan is not so weak that India could snatch the PoK from it. On Monday, Farooq Abdullah gave a challenge to the Central Government and the BJP directly. His son Omar Abdullah has also been the CM of Jammu and Kashmir.

एक कार्यक्रम के बाद मीडिया से बातचीत में फारूख ने कहा- वो (BJP और केंद्र) PoK में जाकर तिरंगा फहराने की बात करते हैं। मैं उनसे कहता हूं कि जाओ और जाकर पहले श्रीनगर के लाल चौक में तिरंगा फहरा के दिखाओ। वो यहां तो तिरंगा फहरा नहीं पा रहे हैं और बात PoK की करते हैं।

Talking to the media after a program, Farooq said, “They (BJP and Center) go to PoK and talk about hoisting tricolor. I tell them that go and show the tricolor of the first tricolor of Lal Chowk in Srinagar. They are not able to hoist the tricolor here and do the talk of PoK.

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने यहां तक कहा – अगर आप सच नहीं सुनना चाहते तो कोई बात नहीं। गलत बातों में ही जीते रहिए। सच्चाई ये है कि PoK भारत का हिस्सा नहीं है। मीडिया ने जब फारूख से पूछा कि क्या वो इस तरह के बयान देकर देश की जनता की भावनाओं से खिलवाड़ नहीं कर रहे हैं? इसपर अब्दुल्ला ने कहा- भारतीयों की भावनाएं क्या होती हैं? क्या आप ये सोचते हैं कि मैं भारतीय नहीं हूं?

The former Union minister even said so – If you do not want to listen to the truth then it does not matter. Live only in the wrong things The truth is that PoK is not a part of India. When the media asked Farooquk whether he was not messing with the feelings of the people of the country by giving such statements? Abdullah said: What are the feelings of Indians? Do you think that I am not Indian?

उधर BJP नेता और जम्मू-कश्मीर के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने फारूख को जवाब दिया है। सिंह ने कहा- फारूख अलगाववादियों और आतंकवादियों को मजबूत कर रहे हैं, क्योंकि वो फ्रस्टेड हो चुके हैं। सिंह ने आगे कहा- फारूख ये भूल रहे हैं कि लाल चौक समेत राज्य के हर हिस्से में अब तिरंगा ही फहराया जा रहा है।

Meanwhile, BJP leader and Jammu and Kashmir deputy CM Nirmal Singh responded to Farooq. Singh said – Farooq is strengthening separatists and terrorists, because they have been frustrated. Singh further said- Farooq is forgetting that the tricolor is being hoisted in every part of the state including the Lal Chowk.

यह भी देखें

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

source zee news

रोहित सरदाना के बाद अब “इंडिया टुडे ग्रुप” के इस बड़े पत्रकार ने भी फातिमा, आयशा और मैरी के नाम जताई ऐसी कड़ी आलोचना !

आज हिन्दू इनके कृत्यों से इतना आहत है की हर क्षेत्र से आवाज उठ रही है, चाहे हिन्दू धर्म में आस्था रखने वाला नेता हो अभिनेता हो या पत्रकार! धीरे धीरे ही सही पर कुछ हिन्दू इस बात को अब समझने लगे है की किस प्रकार फिल्मबाज़ तत्व हिन्दू धर्म को अपनी फिल्मो के जरिये निशाने पर ले रहे है, और इनका मुख्य मकसद है हिन्दुओ में हीन भावना डालना और हीन भावना हिन्दुओ में आते ही वो खुद अपने धर्म से नफरत करना शुरू कर देंगे, फिर रोम वाले उन्हें ईसाई बनाये या अरब वाले उन्हें मुसलमान बनाये, इन फिल्मबाजो को रोम और अरब से माल मिलता ही रहेगा!

Today, the Hindus are so much hurt by their acts that the voice is rising from every field, whether the leader of the faith in Hinduism is an actor or journalist! Slowly right now, some Hindus have started to understand that in this way, the filmbase element is taking Hindus towards their targets through films, and their main objective is to impose an inferiority complex in Hinduism and when the inferiority complex comes into Hindu Himself will start hating his religion, then make him a Christian in Rome or make him a Muslim of Arab, these films will continue to receive goods from Rome and Arabia.

फिल्मबाजो ने अपनी फिल्मो के लिए ये नाम चुने है, “सेक्सी दुर्गा”, “सेक्सी राधा” , जब मोदी सरकार ने गोवा फिल्म फेस्टिवल में सेक्सी दुर्गा नामक फिल्म को बैन किया तो कांग्रेस भड़क गयी, और पूर्व सुचना और प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने तो इसे क्रूरता तक कह दिया, कहा की मोदी अभिव्यक्ति की आज़ादी की हत्या कर रहे है!

Filmmaker has chosen this name for his films, “Sexy Durga”, “Sexy Radha”, when the Modi government banned the movie Sage Durga in the Goa Film Festival, the Congress broke out, and former Information and Broadcasting Minister Manish Tewari So he called it cruelty, said that Modi is killing the freedom of expression!

अब इस कड़ी में एक और पत्रकार ने रोहित सरदाना की ही तरह खुलकर अपनी बात रखी है! इंडिया टुडे ग्रुप के ही पत्रकार अभिजीत मजूमदार ने सेक्सी दुर्गा नाम से फिल्म बनाये जाने की कड़ी आलोचन की और उन्होंने भी रोहित के तर्ज पर ही लोगो से सवाल किया है! सही भी है क्योंकि जब धर्म और इतिहास की बात आती है तो एक सच्चे हिन्दू के तन बदन में बिजली दौड़ जाती है, और बॉलीवुड वालों की हरकतों को देखते हुए कोई भी सच हिन्दू अपने को रोक नहीं पा रहा है!

Now in this episode, another journalist has spoken openly like Rohit Sardan! Abhijeet Mazumdar, the journalist of the India Today Group, strongly condemned the film being called Sexy Durga and he also questioned the people on the lines of Rohit! It is also right because when it comes to religion and history, electricity of a true Hindu gets run in the body, and seeing the movements of Bollywood people, nobody can stop Hindus from any truth!

अभिजीत मजूमदार ने सोशल मीडिया वेबसाइट ट्वीटर पर ट्वीट कर लिखा, “सिंपल क्वेश्चन, क्या आप सेक्सी फातिमा या सेक्सी आयेशा या फिर सेक्सी मैरी फिल्म को अलाउ करोगे, अगर हाँ! तो आप सेक्सी दुर्गा को समर्थन दो”

Abhijit Majumdar tweeted on the social media website tweet: “Simple question, will you offer sexy Fatima or Sexy Ayesha or Sexy Marie film, if yes! So you support the sexy Durga ”

गौरतलब हो रोहित सरदाना ने ट्वीट के जरिये और अंजना ॐ कश्यप के साथ न्यूज़ चॅनेल पर बहस के दौरान इस बात का जिक्र किया था जिसके बाद से रोहित सरदाना के खिलाफ मुस्लिम समुदाय भड़क उठा था और उन्हें फ़ोन कॉल्स और मैसेज के जरिये धमकिया मिलनी शुरू हो गयी थी! जिसके बाद रोहित ने फ़ोन पर मिल रही धमकियों की जानकारी ट्वीटर के माध्यम से दिया है और उन्होंने गृह मंत्री राजनाथ सिंह और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से इसके खिलाफ करवाई करने की मांग भी की थी!

Significantly, Rohit Sardana spoke about this during tweet and during the debate on the news channel with Anjana Kashyap, after which Muslim community was raging against Rohit Sardana and they started receiving threats through phone calls and messages. Had gone! After which Rohit has given information about the threats received on the phone through a tweeter and he also demanded the action against Home Minister Rajnath Singh and the UP CM Yogi Adityanath against him!

यह भी देखें

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/KZmJrB0_U64

source aajtak