पशिचम बंगाल के बाद इस राज्य की सरकार ने सुनाया ये विरोधी फरमान

ऐसी खबरें पाकिस्तान और बांग्लादेश से नहीं अब भारत से ही आती है, हमारे देश का क्या हाल बना दिया गया है, कथित जनेऊधारी राहुल गाँधी की सत्ता है कर्णाटक में, जहाँ उनका खासमखास सिद्धारमैया मुख्यमंत्री है

Such reports are not from Pakistan and Bangladesh but from India, what has been made of our country, the alleged Janayoghari Rahul Gandhi is in power, in Karnataka, where he is the Chief Minister.

कर्णाटक की राजधानी बंगलुरु में एक सरकारी स्कुल में छात्रों से जबरन नमाज़ कराई गयी, ये कोई मदरसा या इस्लामिक स्कुल नहीं बल्कि एक सरकारी स्कुल का मामला है, जो राहुल गाँधी का प्रशासन चलाता है

Forced prayers were offered to students in a government school in the capital of Bengaluru, Bangalore, this is not a seminary or Islamic school but a government school, which runs the administration of Rahul Gandhi

ये स्कुल बंगलुरु के शिवाजी नगर में है और स्कुल का नाम है गवर्नमेंट VKO स्कुल, इस स्कुल में बच्चों से जबरन नमाज़ पढाई गयी, किसी शख्स ने बच्चों से जबरन नमाज़ पढ़वाने का वीडियो रिकॉर्ड कर लिया और ये खबर बाहर आई

These schools are located in Shivaji Nagar of Bangalore and the name of the school is Government VKO School; For this school, forcibly prayers were read to the children, a person recorded a video of forced prayer to children and this news came out.

आप ऊपर का वीडियो देख सकते है, जहाँ बच्चों से नमाज़ पढ़वाई जा रही है, और ये सारे बच्चे मुसलमान नहीं है, हिन्दू बच्चों से भी जबरन नमाज़ पढ़वाई जा रही है, जब ये वीडियो लोगों के सामने आया तो इस मामले पर एक लोकल मीडिया में चर्चा शुरू हो गयी, पहले इस स्कुल की प्रिंसिपल ने इस खबर को झूठा बताया पर जब उसके मुँह पर वीडियो मारा गया तो उसने स्वीकार कर लिया की बच्चों से नमाज़ पढ़वाई गयी थी

You can see the video above, where children are being taught prayers, and all these children are not Muslims, for instance, Hindu prayers are being taught to the children, when these videos came to the public, then a local media The discussion started, before the principal of this school told this news lies, but when the video was hit on his face, he accepted that a prayer was being done with the children

आप देख सकते है की राहुल गाँधी के शासन में हिन्दू बच्चों पर सरकारी स्कुल में जबरन नमाज़ थोपी जा रही है, अगर उत्तर प्रदेश में योगी राज में मुस्लमान बच्चों से सरकारी स्कुल में भजन करवाया जाये तो देश में भूचाल आ जायेगा, पर काँग्रेस के शासन में हिन्दू बच्चों से जबरन नमाज़ पढाई जा रही है और देश में कोई भी इस खबर को दिखाने और बताने को तैयार नहीं है !

You can see that under the rule of Rahul Gandhi, forcibly prayers are being imposed on Hindu children in government schools, if the Yogi Raj in Uttar Pradesh is worshiped by Muslim children in government schools, the earthquake will come in the country, but the rule of Congress For instance, prayers are being read for Hindu children, and no one in the country is ready to show and tell this news!

यह भी देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

source name:otical report

भारत की चीन पर तानाशाही,चीन समेत शी जिनपिंग के उड़े होश

ये है अच्छे दिन : भारतीय कम्पनियाँ चीन के अंदर चीनी कंपनियों को पछाड़ने लगी, ये एक बड़ी उपलब्धि

चीन एक साम्राज्यवादी देश है, वो बिलकुल नहीं चाहता की कोई भी देश उसके सामने किसी भी मामले में टिके, चीन दुनिया भर में व्यापार करना चाहता था , पर दूसरे लोगों को अपने यहाँ व्यापार नहीं करने देना चाहता, और असल में वहां के लोग भी काफी एकजुट है, जो मिलकर विदेशी कंपनियों का बहिष्कार करते थे/

China is an imperialist country, he does not want any country to stand in front of him in any case, China wants to do business around the world, but other people do not want to do business here, and in fact the people there also Is quite united, who together boycott foreign companies

उदाहरण के तौर पर, चीनी लोग गूगल का इस्तेमाल नहीं करते, चीनियों ने खुद का ही सर्च इंजन बनाया हुआ है, चीनी लोग फेसबुक और व्हाट्सऐप का भी इस्तेमाल नहीं करते, उन्होंने खुद के ऐप और सोशल मीडिया के प्लेटफार्म बनाये हुए है, चीनी लोग दूसरे देशों के फ़ोन भी नहीं इस्तेमाल करते, कुल मिलाकर चीन की सरकार और वहां की जनता, दूसरी कंपनियों को अपने यहाँ टिकने नहीं देती थे

For example, the Chinese do not use Google, the Chinese have built their own search engine; Chinese people do not even use Facebook and Whatsapp, they have built their own app and social media platforms, Chinese people Overall, the government of China and its people did not allow other companies to stay here.

 

ऐसे में कोई विदेशी कंपनी चीन में चीनी कंपनियों पर ही भारी पड़ जाये, चीनी मार्किट में ही चीनी कम्पनियाँ को पछाड़ने का काम शुरू कर दे तो ये एक बड़ी उपलब्धि है, ये एक बड़ी चीज है बड़ी बात है, और मोदी राज में भारतीय कंपनियों ने चीन में इतिहास बना दिया है

In such a case, if the foreign company gets heavier on Chinese companies in China, it is a big achievement if it starts working out of Chinese companies in Chinese market, it is a big thing, and Modi is the Indian company in the state. Has made history in China

जी हां, भारत की ब्लैक टी कंपनियों ने चीनी मार्किट में चीनी ब्लैक टी कंपनियों को पछाड़ दिया है, भारत की कंपनियों का ब्लैक टी, चीनी कंपनियों के ब्लैक टी से ज्यादा चीनी मार्किट में बिक रहा है, जिस से चीन परेशान है, और बड़ी चीज ये है की चीन कुछ कर भी नहीं पा रहा है, पिछले 3 सालों से यानि 2015 के बाद से भारत की ब्लैक टी कम्पनियाँ चीनी कंपनियों को चीन में पछाड़ रही है

Yes, Black Tea companies in India have overtaken Chinese Black Tea companies in Chinese market, Black Tea of ​​India companies is selling more than Chinese Tea Black tea, which makes China disturbed, and large The thing is that China is not able to do anything, for the last 3 years i.e. since 2015, the Black Tea companies of India are chasing Chinese companies in China.

2014 तक चीनी मार्किट में भारत 1 मिलियन किलो ब्लैक टी ही बेच पाता था, पर 2014 में मोदी प्रधानमंत्री बने और हमारे उद्योग मंत्रालय ने कुछ नीतिगत बदलाव किये जिसके बाद 2015 में भारत ने चीन में 3 मिलियन किलो ब्लैक टी बेचा, यानि तीन गुने की बढ़ोतरी

In 2014, India was able to sell 1 million kg of black tea in the Chinese market, but in 2014 Modi became the Prime Minister and our industry ministry made some policy changes, after 2015, India sold 3 million kg black tea in China, i.e. three times Growth

फिर 2016 में भारत ने चीन में 5.5 मिलियन किलो ब्लैक टी बेचा, और 2017 में ये आंकड़ा 8.3 मिलियन किलो तक पहुँच गया, माना जा रहा है की 2018 में जब आखिरी आंकड़े आएंगे, तो भारत चीन में 12 मिलियन ब्लैक टी बेच लेगा, और इस से चीन की सरकार और चीनी कंपनियों की नींद उडी हुई है, चीन के मार्किट में ब्लैक टी के मामले में भारतीय कम्पनियाँ दिन दुनि रात चौगुनी तरक्की कर रही है, और चीनी कम्पनियाँ फ्लॉप पर फ्लॉप हो रही है, हालाँकि 2017 में चीनी मार्किट में भारत की कंपनियों ने 8.3 मिलियन किलो ब्लैक टी बेचा है, जबकि चीन की कंपनियों ने 20 मिलियन किलो

Then in 2016, India sold 5.5 million kg black tea in China, and in 2017 it reached 8.3 million kg, it is believed that when the last figures are coming in 2018, India will sell 12 million black tea in China, and This has left the Chinese government and Chinese companies sleepy, in the case of Black Tea in Indian market, Indian companies are progressing day by day, and Chinese companies are floping on the flop, Indian companies in the Chinese market in 2017, has sold 8.3 million kg of black tea, while 20 million kg by Chinese companies

पर भारत की कम्पनियाँ मार्किट पकड़ने में लगातार कामयाब हो रही है, जहाँ भारतीय कम्पनियाँ साल दर साल ज्यादा टी बेच रही है, वहीँ चीनी कंपनियों का मार्किट शेयर हर साल घट रहा है, और 2019 तक आंकड़ों ने अनुसार चीन में भारतीय कम्पनियाँ 15 मिलियन किलो तक पहुँच जाएँगी जबकि चीनी कम्पनियाँ भी नीचे आकर 15 मिलियन किलो तक पहुँच जाएगी, और 2020 में चीनी ब्लैक टी मार्किट हमारा होगा !

But Indian companies are constantly successful in catching the market, where Indian companies are selling teas over the years, the market share of Chinese companies is declining every year, and according to the figures by 2019 Indian companies in China 15 million kg While Chinese companies will also come down to 15 million kg, and in 2020, the Chinese Black T market will be ours!

यह भी देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

SOURCENAME:POLITICAL REPORT

अफजल प्रेमि कट्टरपंथियों ने मंदिर पर कर दिया ये शर्मनाक काम,PM मोदी समेत मोहन भागवत सन्न

श्योपुर. मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में उस समय हड़कंप मच गया जब लोगों ने यहां एक मंदिर की दीवारों पर देश विरोधी नारे लिखे देखे. ग्रामीणों ने देश विरोधी सोच रखने वाले इन अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है और जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग की है. वहीं, कुछ हिंदू संगठनों ने पुलिस पर त्वरित कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया है. घटना के बाद लोगों ने श्योपुर बंद का ऐलान किया है.

Sheopur There was a stir in the Sheopur district of Madhya Pradesh when people saw anti-country slogans on the walls of a temple here. Villagers have filed a case against these unknown people who have anti-national sentiments and have demanded the arrest as soon as possible. At the same time, some Hindu organizations have accused the police of not taking immediate action. After the incident, people have declared Shiyopur Bandh.

दरअसल, श्योपुर के कमाल खेड़ी स्थिति हनुमान मंदिर की दीवारों पर अज्ञात लोगों ने ”पाकिस्तान जिंदाबाद, इस्लाम जिंदाबाद” और “हिंदुस्तान मुर्दाबाद” जैसे देश विरोधी नारे लिख दिए. इसके अलावा मंदिर पर 2050 में हिंदुआों को खत्म करने की बात भी लिखी गई है. इतना ही नहीं वहां यह भी लिखा गया है कि 5 दिन के अंदर मुर्तियां तोड़ने जैसी भड़काऊ बातें भी लिखी गई हैं.

In fact, on the walls of the Kamal Khedi position of Shiyopur, unknown people on the walls of Hanuman temple wrote anti-country slogans like “Pakistan Zindabad, Islam Zindabad” and “Hindustan Mudabad”. Apart from this, the talk of destroying Hindus in 2050 Not only that, it has also been written that the inflammatory things like breaking the statues have been written within 5 days.

यह भी लिखें: बकरियां बेचकर शौचालय बनाने वाली कुंवर बाई का निधन, पीएम मोदी ने छुए थे इनके पैर

Also write: Kunwar Bai, who built toilets by selling goats, was touched by PM Modi, his feet

पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप
इस काम को रात में अंजाम दिया गया ताकी कोई देख न ले. सुबह जब ग्रामीणों को इसके बारे में पता चला तो उन्होंने पुलिस में शिकायत की और जल्द कार्रवाई की मांग की. पुलिस की तरफ से कार्रवाई न होता देख वहां के कुछ हिंदू संगठनों ने बंद का ऐलान कर दिया. उधर, कुछ संगठनों ने जिले में बैठक बुलाई और आरोपी के पकड़े जाने तक अखंड रामायण का पाठ शुरू कर दिया है. पूरे गांव में तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है. यह भी लिखें: VIDEO: मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में बनेगा कुत्तों के लिए टॉयलेट, वजह जान हैरान रह जाएंगे आप

Police accused of not taking action
This work was done at night so no one would see it. In the morning when the villagers came to know about it, they complained to the police and demanded action soon. Seeing no action taken by the police, some Hindu organizations there declared the shutdown. On the other hand, some organizations have convened a meeting in the district and have started reading Akhand Ramayana till the accused is arrested. There is a tense atmosphere in the entire village. Write this too: VIDEO: Houshangabad in Madhya Pradesh will be restored for dogs, you will be surprised to know the reason

हिंदू संगठनों ने दी आंदोलन की धमकी
बजरंग दल के अध्यक्ष अटल राठोर का कहना है कि मंदिर की दीवारों पर बजरंग दल और आरएसएस को लेकर आपत्तिजनक शब्दों का भी इस्तेमाल किया गया है. उन्होंने चेतावनी दी है कि पांच दिन में अगर पुलिस ने उचित कार्रवाई नहीं की तो उग्र आंदोलन किया जाएगा.

Hindu organizations threaten movement
Bajrang Dal president Atal Rathore says that objectionable words have also been used in connection with Bajrang Dal and RSS on the temple walls. They have warned that in five days if the police did not take proper action then a fierce movement will be done.

पुजारी के घर पर पथराव
वहीं, भाजपा नेता रामलखन मीणा ने कहा कि असामाजिक तत्वों ने दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिखने के बाद मंदिर में पूजा करने वाले पुजारी के घर पर पथराव भी किया. मामले की जानकारी मिलते ही पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है. वहीं, एस.डी.एम. आरबी सिंडोस्कर ने कहा कि शिकायत मिलने के बाद अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया गया है. मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है.

Stone pelting at the priest’s house
At the same time, BJP leader Ramlakhan Meena said that anti-social elements also used stone pelting at the priest’s house in the temple after writing anti-India slogans on the walls. A complaint has been lodged with the police after getting the information of the case. At the same time, SDM RB Syndoskar said that FIR has been registered against unknown people after receiving the complaint. Further action is being taken in the matter.

यह भी देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

SOURCENAME:POLITICALREPORT

मेघालय और नागालैंड चुनाव: कांग्रेस और BJP के बीच इस पार्टी को मिल रहा बड़ा फायदा

शिलांग/कोहिमा: दो पूर्वोत्तर राज्यों मेघालय और नगालैंड में आज (27 फरवरी) को सुबह 7 बजे से विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग जारी है. वोटिंग शाम चार बजे तक चलेगा. नगालैंड के दूरदराज के जिलों में कुछ मतदान केंद्रों पर मतदान तीन बजे समाप्त हो जाएगा. दोनों राज्यों में 60-60 सदस्यीय विधानसभा है, लेकिन दोनों ही प्रदेशों में 59-59 सीटों पर वोटिंग जारी है. दोनों ही राज्यों में और त्रिपुरा में चुनाव के परिणाम 3 मार्च को घोषित किए जाएंगे. मेघालय में 18 फरवरी को ईस्ट गारो हिल्स जिले में एक आईईडी विस्फोट में राकांपा प्रत्याशी जोनाथन एन संगमा की मौत हो जाने की वजह से विलियमनगर सीट पर चुनाव रद्द कर दिया गया है. नगालैंड में एनडीपीपी प्रमुख नीफियू रियो को उत्तरी अंगामी..द्वितीय विधानसभा सीट से निर्विरोध
निर्वाचित घोषित किया जा चुका है.

Shillong / Kohima: In two North Eastern states of Meghalaya and Nagaland, today (27th February) voting is going on for the Assembly elections from 7 am onwards. Voting will run till 4 o’clock in the evening. Polling at some polling stations in remote districts of Nagaland will end at three o’clock. There is a 60-60-member assembly in both the states, but voting is going on in 59-59 seats in both the states. Election results in both states and Tripura will be announced on March 3. In Meghalaya, the election on the WilliamMannagar seat has been canceled because of the death of NCP candidate Jonathan N Sangma in an IED blast in East Garo Hills district. NDPP chief Nefiyo Rio in Nagaland is elected unopposed from the Northern Angami seat.
Election has been declared.

लाइव अपडेटः

10.05 बजे : नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीडीपी) के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार नेफ्यू रियो को उत्तरी अंगामी-2 निर्वाचन सीट से निर्विरोध विजयी घोषित कर दिया गया.

Live updates:

10.05 pm: Chief of the Nationalist Democratic Progressive Party (NDDP) Chief Minister N.F. Roi was declared unopposed from the North Angami-2 constituency.

9.30 बजे : पुलिस अधिकारी ने बताया कि राज्य के पूर्वी हिस्से के तिजित निर्वाचन क्षेत्र के एक मतदान केंद्र में सुबह लगभग 5.45 बजे बम विस्फोट हुआ, जिसमें एक शख्स घायल हो गया.

9.30 hrs: Police officer said that a bomb blast took place at around 5.45 am in a voting center in the constituency of the Tijit constituency in eastern part of the state, in which one person was injured.

9.09 बजे : नागालैंड के तिजित में पोलिंग बूथ पर उग्रवादियों का हमला किया है गया है.

9.09 hrs: The insurgents have been attacked on the polling booth in Nagaland’s Tijit.

मेघालय में 370 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं

मेघालय में कांग्रेस ने 59 और बीजेपी ने 47 सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं. इस राज्य में लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष पीए संगमा के पुत्र कॉनराड संगमा की नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) और बीजेपी अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं, लेकिन नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस (एनईडीए) में एनपीपी बीजेपी की सहयोगी है.

370 candidates in Meghalaya are in the fray

In Meghalaya, the Congress has 59 candidates and BJP has fielded candidates in 47 seats. The National People’s Party (NPP) and the BJP of Conrad Sangma, son of PA Sangma, former Lok Sabha Speaker, are contesting different elections, but NPP is a partner of BJP in the North East Democratic Alliance (NEDA).

ये भी पढ़ें : मेघालय चुनाव मैदान में नेताओं के परिजनों को अहम स्थान

पीएम मोदी ने की वोट अपील
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को नगालैंड और मेघालय विधानसभा के लिए लोगों से बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह किया. मोदी ने ट्वीट कर मतदाताओं से बड़ी संख्या में मतदान करने की अपील की है.

Read also: Important places for families of leaders in Meghalaya elections

PM Modi’s vote appeal
Prime Minister Narendra Modi on Tuesday urged people to vote in large numbers for Nagaland and Meghalaya assembly elections. Modi has appealed to voters to vote in large numbers by tweeting.

नगालैंड में पहली बार दमखम से लड़ रही है बीजेपी
नगालैंड में बीजेपी को नीफियू रियो की नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के साथ किनारे लगने की उम्मीद है. दोनों गठबंधन भागीदारों में से एनडीपीपी ने 40 सीटों पर और बीजेपी ने शेष 20 सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं. वर्ष 1963 में नगालैंड के अस्तित्व में आने के बाद कांग्रेस ने तीन मुख्यमंत्री दिए. लेकिन वह अब केवल 18 सीटों पर लड़ रही है जबकि भाजपा यहां 20 सीटों पर खड़ी है.

BJP is fighting for the first time in Nagaland
In Nagaland, BJP is expected to get along with Nephilio Rio’s Nationalist Democratic Progressive Party (NDPP). Of the two coalition partners, the NDPP has fielded candidates in 40 seats and the BJP has contested the remaining 20 seats. After Nagaland came into existence in 1963, the Congress has given three Chief Ministers. But he is now fighting only 18 seats while the BJP is standing here in 20 seats.

ये भी पढ़ें : मेघालय चुनावः शशि थरूर ने क्षेत्रीय पार्टी NPP को बताया ‘कुत्ते की पूंछ’, बीजेपी गुस्साई

मेघालय में 370 प्रत्याशी आजमा रहे भाग्य
मेघालय में 370 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. कुल 18.4 लाख मतदाता राज्य में फैले 3,083 मतदान केंद्रों पर अपने मताधिकारों का उपयोग करेंगे. मेघालय के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एफ आर खारकोंगोर ने बताया कि राज्य में पहली बार 67 महिला मतदान केंद्र और 61 आदर्श मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं. राज्य विधानसभा चुनाव में 32 महिलाएं भी उम्मीदवार हैं.

Read also: Meghalaya elections: Shashi Tharoor told regional party NPP ‘dog of tail’, BJP angry

Meghalaya destined for 370 candidates
There are 370 candidates in the Meghalaya constituency. A total of 18.4 lakh voters will use their franchise at 3,083 polling stations spread across the state. Meghalaya’s Chief Electoral Officer, F.R. Kharkongogor said that for the first time 67 women polling stations and 61 model polling stations have been set up in the state. 32 women are also the candidates for the state assembly elections.

नगालैंड में 11,91,513 मतदाताओं में से 6,01,707 पुरूष और 5,89,806 महिला मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे. सैन्य सेवाओं में कार्यरत मतदाताओं की संख्या 5,925 हैं. नगालैंड में चुनाव से पहले नगा राजनीतिक मुद्दे के समाधान की मांग कर रही नगालैंड ट्राइबल होहोज एंड सिविल ऑर्गनाइजेशन्स (सीसीएनटीएचसीओ) की कोर समिति ने ‘‘चुनाव नहीं’’ का फरमान जारी किया है जिसके चलते राजनीतिक दलों ने खुद को चुनाव प्रक्रिया से अलग कर रखा है.

Of Nagaland 11,91,513 voters, 6,01,707 males and 5,89,806 female voters will use their franchise. The number of voters employed in military services is 5,925. Nagaland Tribal Hohoj and Civil Organizations (CCNTHCO), demanding a solution to the Naga political issue before the election in Nagaland, has issued the order of “No Election”, due to which political parties have separated themselves from the election process. Is kept.

यह भी देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

SOURCENAME:POLITICALREPORT

PNB बैंक के बाद इस बड़े बैंक, में घोटाला शामिल है ये बड़ा कांग्रेसी दामाद

नई दिल्ली : PNB बैंक के घोटाले में ताबड़तोड़ एक्शन से नीरव मोदी और उसके परिवार की सम्पत्तियों को जब्त करने का काम तेज़ी से चल रहा है. 6000 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली गयी है अब तक और 18 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं. कांग्रेस शासन में हुए इस घोटाले का इल्जाम कांग्रेस ने पीएम मोदी पर लगा रही है.

New Delhi: The process of seizing properties of Nirav Modi and his family is being carried out fast with prompt action in the PNB Bank scam. Property worth 6000 crores has been seized so far and 18 arrests have taken place. The Congress is putting PM on the blame for the scam in the Congress rule.

PNB के बाद OBC घोटाले में कोंग्रेसी दामाद का निकला कनेक्शन
इस बीच एक और OBC बैंक का साल 2007 का ज़बरदस्त 2000000000 रूपए घोटाला सामने आ गया है. घोटाले का खुलासा होते ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने इसके लिए फुर्ती से पीएम मोदी पर हमला बोलना शुरू कर दिया. लेकिन मज़े की बात देखिये इस घोटाले में भी कांग्रेस का गहरा कनेक्शन निकल आया. वो भी कोई छोटा मोटा कांग्रेसी नहीं मुख्यमंत्री का दामाद बुरी तरह इस घोटाले में लिप्त पाया गया है.

Congressional son-in-law connection in OBC scandal after PNB
In the meanwhile, another OBC bank’s 2007 year-old 200,000,000 rupees scandal has come out. When the scandal was exposed, Congress President Rahul Gandhi hastily started attacking PM Modi for this. But watch out for fun, there was a deep connection of Congress in this scam. The son-in-law of the Chief Minister, who is also a small, thick Congressman, has been found badly involved in this scam.

सिंभावली शुगर लिमिटेड
अभी मिल रही बहुत बड़ी खबर के मुताबिक पीएनबी घोटाले के बाद अब ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में 200 करोड़ के लोन डिफॉल्ट और धोखधड़ी का मामला सामने आया है. यूपी की सिंभावली शुगर लिमिटेड कंपनी पर सीबीआई ने धोखाधड़ी के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है. आप जानकार हैरान रह जाएंगे इस बड़े घोटाले में सीबीआई ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के दामाद समेत 13 लोगों पर केस दर्ज किया है.


Sinbhavali Sugar Limited
According to the very big news now, after the PNB scam, the case of loan default and scam of Rs 200 crore has come out in the Oriental Bank of Commerce. The CBI has registered an FIR in the case of fraud in the Sinchanghi Sugar Ltd Company of UP. You will be surprised that in this big scandal, the CBI has registered a case against 13 people, including son of Punjab Chief Minister Capt Amarinder Singh.

क्या अब इस घोटाले के बाद भी कांग्रेस मोदी सरकार पर इल्जाम लगाएगी ? हर घोटाले में कहीं न कहीं कांग्रेस का बड़ा हाथ निकल ही आता है. अकेले सिंभावली शुगर लिमिटेड पर 97.85 करोड़ रुपए का लोन नहीं चुकाने का मामला दर्ज किया गया है. इस कंपनी के इसके सीएमडी गुरमीत सिंह मान, डिप्टी एमडी गुरुपाल सिंह और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

Will the Congress still blame the Modi government after this scam? Somewhere in every scam the Congress’s big hand comes out. A case has been filed for not paying a loan of Rs. 97.85 crores on Singbhali Sugar Limited alone. The company has registered a case against its CMD Gurmeet Singh Mann, deputy MD Gurpal Singh and others.

गन्ना किसानों के साथ इतना बड़ा धोखा
यही नहीं इस घोटाले में भी PNB घोटाले की तरह एफआईआर में OBC बैंक के बड़े अधिकारीयों का नाम शामिल है. इस घपले के पीछे तो बेहद दर्दनाक बात छुपी हुई है, जिसने अब इस देश को झकझोर के रख दिया है. PNB घोटाला तो हीरा व्यापारी ने अपने लिए लिया था लेकिन ये OBC घोटाला में तो कंपनी ने साल 2011 में रिजर्व बैंक की गन्‍ना किसानों के लिए लाई गई योजना के तहत ही 97.85 करोड़ का लोन लिया था. इस भारी भरकम रकम को 5762 गन्ने के किसानों को वित्तीय सहायता दी जानी थी. लेकिन इस लोन की राशि को बैंक और कंपनी ने अपने निजी इस्तेमाल के लिए गलत ढंग से ट्रांस्फर कर लिया.

Such a big fraud with sugar cane farmers
Not only this, this scam also includes the names of senior officers of OBC Bank in the FIR like PNB scam. This painful thing has been hidden behind this scandal, which has now kept the country shameless. The PNB scam was taken by the diamond trader for himself, but in the OBC scam, the company had taken a loan of Rs 97.85 crore in 2011, under the scheme for the sugarcane farmers of the Reserve Bank. Financial assistance to 5762 sugarcane growers was to be given to this huge amount. But the amount of this loan was incorrectly transferred by the bank and the company for its personal use.

इस वजह से कर रहे थे किसान आत्महत्या
आपको याद होगा कुछ वर्षों पहले एक के बाद एक गन्ना किसानो की आत्महत्या का मामला सामने आया था. जिसके पीछे के राज़ अब खुलकर सामने आ रहे हैं. गन्ना किसानों के नाम पर ये क़र्ज़ लिया गया और जैसे ही मोदी सरकार सत्ता में आयी ये क़र्ज़ को तुरंत NPA घोषित कर दिया गया. NPA मतलब ऐसा क़र्ज़ जिसे बैंक वसूलने में असमर्थ है और उसकी भरपाई अब सरकार करेगी.

Farmers commit suicide due to this
You will remember a few years ago a case of suicide of sugarcane farmers was revealed. The secret behind which is now openly exposed. This loan was taken in the name of sugarcane farmers and as soon as the Modi government came to power, this loan was immediately declared as an NPA. NPA means a loan which is unable to recover the bank and the government will compensate it now.

कर्जे के ऊपर दिया गया एक और कर्ज
यही नहीं जब कंपनी पहले से ही कर्ज़े में डूबी हुई थी उसके बाद फिर से कंपनी ने पिछले लोन को चुकाने के लिए 110 करोड़ रु का एक और नया लोन ले लिया. एफआईआर के अनुसार दूसरे लोन को भी नोटबंदी के 20 दिन बाद 29 नवंबर 2016 को NPA घोषित कर दिया गया.

Another loan above loan
Not only this, when the company was already in debt, the company again took another loan of Rs 110 crore to repay the previous loan. According to the FIR, the second loan was declared NPA after 20 days of note-taking on November 29, 2016.

एफआईआर के अनुसार बैंक से 97.85 करोड़ रु की धोखाधड़ी का मामला है लेकिन असल में बैंक को 109.08 करोड़ रु का नुकसान हुआ है. सीबीआई ने सिंभावली शुगर्स लिमिटेड के खिलाफ मामले के सिलसिले में दिल्ली और उत्तरप्रदेश में कई स्थानों पर छापेमारी की है. छापेमारी के साथ सीबीआई ने आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है. गौरतलब है कि यह कंपनी शुगर रिफाइनरी कंपनियों की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है. यह कंपनी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में भी लिस्टेड है.

According to the FIR, there is a case of fraud of Rs 97.85 crore from the bank, but in reality the bank has suffered a loss of Rs 109.08 crore. The CBI has conducted raids at various places in Delhi and Uttar Pradesh in connection with the case against Sinbhavali Sugars Limited. With the raid, the CBI has started looking for the accused. Significantly, this company is one of the largest companies of Sugar Refinery Companies. The company is also listed on the Bombay Stock Exchange.

बड़ी सोची समझी साज़िश का खुलासा
इससे पहले हमने आपको बताया था ये घोटाले बैंक के बड़े अधिकारी भी शामिल हैं. बड़ी सोची समझी साज़िश के तहत ज़बरदस्त लूट मचाई गयी है. जानबूझ कर कर्ज़ों को NPA घोषित किया जा रहा है और इसकी भरपाई के लिए जब मोदी सरकार सत्ता में आयी तो उन्होंने बैंकों के खस्ता हालत के लिए ढाई लाख करोड़ दिए क्यूंकि देशभर के बैंक करीब 9 लाख करोड़ रूपए का क़र्ज़ अब तक लुटा चुके हैं.

Explanation of a very intriguing conspiracy
Earlier we had told you that these scams are also included in the bank’s top officials. Under a very thoughtful conspiracy, there was a great loot. Deliberately the loans are being declared as NPA and when the Modi government came to power to compensate it, they gave 2.5 lakhs for the tranquil condition of the banks, because the banks across the country have lienged nearly Rs.9 lakh crore so far.

नोटबंदी के बाद मचा हड़कंप
कुल मिलाकर मिल बाँट कर ये सभी देश को लूटने में लिप्त रहे. मगर देश की जनता ने मोदी को प्रधानमंत्री बनाकर इनका खेल बिगाड़ दिया. जैसे ही पीएम मोदी ने नोटबंदी की, सभी भ्रष्टाचारी एक सुर में रोने-चिल्लाने लगे थे. अगर आज भी मोदी सरकार ना आयी होती तो कभी देश को पता ही नहीं चलता कि अंदर ही अंदर दीमक की तरह देश को खोखला किया जा रहा है और बैंक अधिकारीयों की मिलीभगत के साथ कांग्रेस दामाद देश की जनता का पैसा और गन्ना किसानों का खून चूस रहे हैं.

Circulation after registering
Overall, they are involved in looting all the country by distributing the mill. But the people of the country spoiled the game by making Modi the Prime Minister. As soon as PM Modi made a ban, all the corrupt people started crying and crying. If the Modi government had not come even today, then the country would never know that inside the country like the termite is being hollowed out and Congress son-in-law with the collusion of bank officials, the money of the people of the country and the sugarcane farmers shed blood Are there.

https://youtu.be/zebp2pu1dW4

आपको बता दें कि बीते 10 दिनों में सीबीआइ ने बैंकों की शिकायत पर कुल 7 से ज्यादा मामले दर्ज किए हैं। शिकायत करने वाले बैंकों में एसबीआइ, पंजाब नेशनल बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और तेलांगना ग्रामीण बैंक हैं। दर्ज किये गए ज्यादातर मामले बैंक कर्मचारियों की मिलीभगत से धोखाधड़ी के हैं.

Let me tell you that in the last 10 days, the CBI has registered more than 7 cases against the banks’ complaint. The banks complaining are SBI, Punjab National Bank, Oriental Bank of Commerce, Bank of Maharashtra and Telangana Rural Bank. Most of the cases registered are fraud by the collusion of bank employees.

यह भी  देखे

https://youtu.be/zebp2pu1dW4

source name:politicalreport

अभी अभी: श्री देवी मौत पर नया मोड़,हार्ट अटैक नहीं बल्कि ये था कातिल

नई दिल्ली : बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री श्रीदेवी की शनिवार रात दुबई में दिल का दौरा पड़ने से दर्दनाक मौत हुई. दुबई में हुई मौत के बाद उनके पार्थिव शरीर को भारत लाने से पहले तमाम औपचारिकताओं से गुजरना पड़ रहा है. लेकिन अब इस मामले में दुबई पुलिस की पोस्टर्मटम रिपोर्ट में कुछ अलग ही खुलासे सामने आ रहे थे

New Delhi: Bollywood’s famous actress Sridevi died of a heart attack in Dubai on Saturday night. After his death in Dubai, he has to undergo all formalities before bringing his body to India. But now in this case some different disclosures are coming out in Dubai Police’s Postarmatum report.

श्रीदेवी की मौत पर सस्पेंस?
अभी गल्फ न्यूज़ से मिल रही खबर के मुताबिक फॉरेंसिक रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि मौत बाथटब में डूबने से हुई. गल्फ न्यूज़ के मुताबिक जिस वक्त श्रीदेवी के साथ ये हादसा हुआ उस समय उन्होंने शराब पी रखी थी और नशे में होने की वजह से उनको चक्कर आया और अपना बैंलेंस खोकर वो बाथटब में गिर पड़ीं. गल्फ न्यूज के अनुसार श्रीदेवी के खून में एल्कोहल की मात्रा ज़्यादा पायी गयी है.

Suspense on Sridevi’s death?
According to the news from Gulf News, forensic reports have revealed that death was due to drowning in the bathtub. According to Gulf News, at the time when this incident happened with Sridevi, they had drank alcohol and due to their being addicted, they got into a dizziness and fell out of the bathtub after losing their balance. According to Gulf News, the amount of alcohol in Sridevi’s blood has been found more.

दुबई पुलिस ने अब इस मामले को दुबई पब्लिक प्रॉसिक्यूशन को सौंप दिया है जिस कारण श्रीदेवी के परिजनों को शव लेने के लिए सरकारी वकील की इजाजत का इंतजार करना पड़ रहा था

The Dubai Police has now handed the matter to Dubai Public Prosecution, which is why the relatives of Sridevi have to wait for the permission of the government lawyer to take the dead body.

बोनी कपूर से लंबी पूछताछ
वहीं दुबई पुलिस श्रीदेवी के पति और फिल्मकार बोनी कपूर से चार घंटे तक पूछताछ की. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस दौरान पुलिस ने श्रीदेवी की मौत को लेकर तमाम सवाल पूछे और उनके बयान दर्ज किए गए थे .

Long queries from Boney Kapoor
At the same time, the Dubai police questioned Sridevi’s husband and filmmaker Bonnie Kapoor for four hours. According to media reports, during this period, the police asked all questions about Sreedadie’s death and recorded his statements.

अमर सिंह ने कहा, हार्ड ड्रिंक नहीं करती थीं श्रीदेवी
तो वहीँ अब राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने बयान दिया है कि श्रीदेवी शराब नहीं पीती थीं. उनके मुताबिक श्रीदेवी कभी कभी वाइन का सेवन किया करती थीं लेकिन वो हार्ड ड्रिंक नहीं लेती थीं. बताया जा रहा है कि दुबई की पुलिस श्रीदेवी की कॉल डीटेल्स की भी जांच कर रही है. यही नहीं पुलिस इस बात का भी पता लगा रही है कि घटना के वक्त श्रीदेवी के साथ कौन-कौन था.

Amar Singh said, Sridevi did not drink hard drink
So now the Rajya Sabha MP Amar Singh has said that Sridevi did not drink alcohol. According to him, Sridevi used to consume some wine but he did not take any hard drinks. It is being told that the Dubai police is also investigating the call details of Sridevi. Not only this, the police is also finding out who was with Sridevi at the time of the incident.

तस्‍लीमा नसरीन ‘स्‍वस्‍थ महिलाएं ‘एक्‍सीडेंटली’ डूबती हैं?’
तो वहीँ अब श्रीदेवी की मौत के मामले पर हुए खुलासे के बाद अब जानी मानी लेखिका तस्‍लीमा नसरीन ने सवाल उठाए हैं. बांग्लादेशी लेखिका तसलीमा नसरीन ने श्रीदेवी की मौत को लेकर साजिश की आशंका जाहिर की है. तस्‍लीमा नसरीन ने ट्वीट किया, ‘स्‍वस्‍थ्‍य व्‍यक्ति बाथटब में दुर्घटनाग्रसत होकर नहीं डूबते.’ इसके बाद उन्‍होंने इस विषय पर सवाल उठाते हुए एक ब्‍लॉग शेयर करते हुए लिखा, ‘क्‍या सच में कोई सामान्‍य महिला बाथटब में डूब कर मर सकती है?’ अपने इस ट्वीट के साथ तस्‍लीमा नसरीन ने एक ऐसा ब्‍लॉग शेयर किया है, जिसमें लेखक किसी व्‍यक्ति का बाथटब में डूब कर मरने की संभावनाओं को पूरी तरह खारिज कर रहा है.

Taslima Nasreen ‘Healthy Women’ Accidentally ‘Drowning?’
So now, after the disclosure of Sridevi’s death, now-known writer Taslima Nasrin has raised questions. Bangladeshi writer Taslima Nasrin expresses her apprehensions about the death of Sridevi. Taslima Nasrin tweeted, “Healthy people do not get drunk due to accident in the bathtub.” After this, they were raising questions about this topic while sharing a blog, ‘Can a really normal woman drown in a bathtub and die?’ Taslima Nasreen has shared a blog with this tweet, in which authored author completely rejects the possibility of drowning in a bathtub and drowning Ha.

https://youtu.be/1dki3B0aotA?t=4

श्रीदेवी अपने रिश्तेदार की शादी में शामिल होने परिवार के साथ दुबई गई हुई थीं. शादी समारोह में शिरकत करने के बाद परिवार के कई सदस्य वापस आ गए थे. यहां तक कि उनके पति बोनी कपूर भी मुंबई लौट चुके थे, लेकिन शनिवार को वह श्रीदेवी के लिए एक बड़ा सरप्राइज लेकर फिर से दुबई पहुंचे थे.

Sridevi had gone to Dubai with his family to join his relative’s marriage. After attending the wedding ceremony many members of the family had returned. Even her husband, Boney Kapoor, had returned to Mumbai, but on Saturday, she reached Dubai again with a big surprise for Sridevi

यह भी देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

sourcename:politicalreport

सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोही कन्हैया को दिया तगड़ा झटका, सुनाया ये सनसनीखेज फैसला- उमर खालिद समेत कन्हैया के उड़े होश…

दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के विवि छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष ‘कन्हैया कुमार’ और अन्य की निचली अदालत में पेशी के दौरान फरवरी, 2016 को हुई हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच दल गठित करने के लिए दायर याचिका को खारिज कर दिया है। इस मामले को लेकर शीर्ष अदालत का कहना है कि ‘मरे हुए घोड़े को चाबुक मारकर जिंदा नहीं किया जा सकता।’

Delhi: The Supreme Court rejected the petition filed for constituting a Special Investigation Team to investigate violence in February, 2016 during the trial of former Kanwariya Kumar of former Jawaharlal Nehru University University Student Union and others in the lower court. Have given. On the issue, the apex court says that “the dead horse can not be killed alive by whipping.”

न्यायालय ने कहा कि खत्म हो चुके विवाद को वह फिर से हवा नहीं देगा। सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस रंजन गोगोई की बेंच ने कहा कि इस संबंध में दो साल पहले आदेश जारी कर चुके हैं और अब क्या चाहिए. न्यायालय द्वारा इस घटना के लिए दिल्ली पुलिस और अन्य के खिलाफ अवमानना कार्रवाई करने का अनुरोध भी स्वीकार नहीं किया।

The court said that it will not wind up over the dispute. In the Supreme Court, Justice Ranjan Gogoi’s Bench said that in this regard, the order has been issued two years ago and now what is needed. The court did not even accept the request for dishonor action against the Delhi Police and others for the incident.

सुप्रीम कोर्ट ने साथ ही उस याचिका को भी ख़ारिज कर दिया है, जिसमें वकील कामिनी जायसवाल ने तीन वकीलों के खिलाफ कोर्ट की अवमानना का नोटिस जारी करने की मांग की थी. इस याचिका में कहा गया था कि वकील विक्रम सिंह, यशपाल सिंह और ओम प्रकाश शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना की है. याचिका में ये भी कहा गया है कि इन तीनों ने ही पटियाला हाउस कोर्ट में हुए हमले का प्रतिनिधित्व किया है.

The Supreme Court has dismissed the petition as well, in which the lawyer Kamini Jaiswal demanded the issuance of notice of contempt of court against three lawyers. It was said in the petition that the lawyer Vikram Singh, Yashpal Singh and Om Prakash Sharma have contempt of the Supreme Court order. It has also been said in the petition that these three have represented the attack in Patiala House Court.

आपको बता दे कि याचिकाकर्ता ने इसे ‘डराने वाली कार्रवाई’ करार दिया था। इस पर, पीठ ने याचिकाकर्ता की ओर से पेश वकील प्रशांत भूषण और कामिनी जायसवाल से जानना चाहा, ‘‘कौन सी डराने वाली कार्रवाई।’’ दरअसल, भूषण ने 15 और 17 फरवरी 2016 की घटना का उल्लेख किया। गौरतलब है कि फरवरी, 2016 मे पटियाला हाउस जिला अदालत परिसर में कन्हैया, पत्रकारों, छात्रों और जवाहरलाल नेहरू विवि के शिक्षकों पर हमला किया गया था।

Tell you that the petitioner had termed this as a “scary action”. On this, the bench wanted to know from the petitioner Prashant Bhushan and Kamini Jaiswal, “What a scary action.” Actually, Bhushan mentioned the incident of 15 and 17 February 2016. It is worth mentioning that in February 2016, Kanhaiya, journalists, students and teachers of Jawaharlal Nehru University were attacked in the Patiala House District Court premises.

भूषण ने कन्हैया, पत्रकारों, छात्रों, जेएनयू के शिक्षकों और बचाव पक्ष के वकीलों पर अदालत परिसर के भीतर 15 और 17 फरवरी, 2016 को हुए हमले की घटनाओं का हवाला दिया। भूषण ने कहा कि यदि कोई कार्रवाई नहीं की गई तो लोगों को ऐसा करने का प्रोत्साहन मिलेगा। इस पर पीठ ने कहा, ‘‘हम इसमें आगे कार्यवाही करने की नहीं सोच रहे। विशेष जांच दल (एसआईटी) के गठन की आवश्यकता नहीं है।’’ पीठ ने कहा कि अगर आपको कोई शिकायत है तो आप एफआइआर दर्ज करा सकते हैं। याचिका खारिज की जाती है।’

Bhushan cited the incidents of attack on Kanhaiya, journalists, students, teachers of JNU and defense lawyers on 15 and 17 February, 2016 within the court premises. Bhushan said that if any action was not taken, people will be encouraged to do so. On this, the bench said, “We are not thinking of taking further action in this. There is no need to constitute Special Investigation Team (SIT). “The bench said that if you have any complaint then you can file an FIR. The petition is rejected. ‘

साथ ही पीठ ने याचिका खारिज करते हुए कहा, ‘‘हम वर्तमान याचिका पर और विचार करने की कोई वजह नहीं पाते हैं। यह कहने की आवश्यकता नहीं है कि वर्तमान आदेश याचिकाकर्ता को कानून के अनुसार उचित कार्रवाई करने से नहीं रोकता है।

Also, the bench dismissed the petition saying, “We do not find any reason to think more on the current petition.” It is not necessary to say that the current order does not stop the petitioner from taking appropriate action according to the law.

सोर्स निशांत टाइम्स

खास खबर: इस मुस्लिम देश के प्रधानमंत्री ने PM मोदी को लेकर दे डाला ये बड़ा बयान, लगाये ऐसे गंभीर आरोप…

मॊदी जी के फिलिस्तीन यात्रा को लेकर वहां के राजदूत और लोग बहुत ही उत्सुक हैं। भारत और फिलिस्तीन के लिहाज से यह यात्रा ऐतिहासिक मानी जा रही है क्योंकि फिलिस्तीन जानेवाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री है मोदी जी। मॊदी जी के भेट को लेकर फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री डॉ. रामी हमदल्लाह अधिक प्रसन्न हैं। भास्कर को दिये गये अपने संदर्शन में उन्होंने कहा है कि मोदी जी विश्व नायक है और मोदी जी में इतनी क्षमता है कि वे फिलिस्तीन और इसरायल के बीच के उनके मन मुटाव को खत्म कर सकते हैं। दुनिया के सभी देश मॊदी जी के नायकत्व को स्वीकार रहे हैं। फिलिस्तिनी राजदूतों के अनुसार, मॊदी जी का स्वागत खुद फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास करनेवाले हैं।

Ambassador and people are very excited about the visit of Modi to Palestine. This visit is considered to be historic in terms of India and Palestine because Modi is the first Indian Prime Minister to visit Palestine. The Prime Minister of Palestine, Dr. Rami Hamadullah, is more pleased with the visit of Mody Ji. In his presentation to Bhaskar, he has said that Modi is a world hero and Modi has so much capability that he can eliminate his mindset between Palestine and Israel. All the countries of the world are accepting the heroism of Mody Ji. According to the Palestinian ambassadors, welcome to Mudi ji is the Palestinian President Mahmoud Abbas himself.

हमदल्लाह ने कहा कि दावोस में मोदी जी के जलवायु परिवर्तन और विश्व आर्थिक सहयोग को लेकर जॉइंट ग्लोबल एक्शन का आह्वान किया था, उसका वे समर्थन करते हैं। उन्होंने आश जताई कि फिलिस्तीन जैसे विकासशील देशों के लिए भारत का आर्थिक और राजनीतिक ताकत के तौर पर उभरना अच्छी बात है। उनका मानना है, यह यात्रा भारत-फिलिस्तीन के बीच सहयोग के नए अवसर पैदा करेगी। फिलिस्तीनी प्रधानमंत्री ने माना कि पाकिस्तान की रैली में मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के साथ उनके राजदूत का मंच साझा करना आकस्मिक भूल थी और इसे जायज़ ठहराया नहीं जा सकता। उन्होंने उम्मीद जताया कि इस घटना से दोनों देशों के दशकों पुराने रिश्ते पर आंच नहीं आएगी।

Hamadullah said that he had called Joint Global Action about Modi’s climate change and world economic cooperation in Davos, he supports it. He expressed the hope that it is a good thing for emerging countries like Palestine to emerge as the economic and political power of India. He believes this visit will create new opportunities for cooperation between India and Palestine. The Palestinian Prime Minister acknowledged that sharing the platform of his ambassador with the mastermind of Hafiz Saeed of the Mumbai attacks in Pakistan rally was a sudden mistake and it can not be justified. He hoped that this incident will not affect the decades-old relationship of the two countries.

उन्होंने कहा कि मोदी जी की यात्रा भारत-फिलिस्तीन के बीच मजबूत रिश्तों की सूचक है। 15 नवंबर 1988 को आजादी की घोषणा के बाद फिलिस्तीन को मान्यता देने वाले पहले देशों में भारत शामिल था। भारत और फिलिस्तीन मुक्ति संगठन (पीएलओ) के बीच संबंध 1974 में कायम हुए। पीएलओ ने फिलिस्तीन में 1975 में कार्यालय खोला और दोनों देशों के बीच 1980 में राजनैतिक संबंध स्थापित हो गए। उनको उम्मीद है कि मोदी जी के यात्रा से दोनों देश के बीच व्यापार, संस्कृति, तकनीक और सूचना के क्षेत्र में सहयोग बढ़ेगा।

He said that Modi’s visit is an indicator of the strong relationship between India and Palestine. After the declaration of independence on 15th November 1988, India was involved in the first countries that recognized Palestine. The relationship between India and the Palestine Liberation Organization (PLO) was established in 1974. The PLO opened the office in Palestine in 1975, and political relations between the two countries began in 1980. They hope that the visit of Modi will increase cooperation between the two countries in the field of trade, culture, technology and information.

भारत ने येरूशलम को इजरायल की राजधानी बनाने के प्रस्ताव पर अमेरिका के खिलाफ जाकर यूएन में वोट दिया था लेकिन इसके बाद खुले मन से इजरायल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू का स्वागत किया और नेतन्याहू ने भी भारत के नेतृत्व की जमकर सराहना की थी। अंतराष्ट्रीय मंच पर देशों के बीच के समीकरण बहुत तेज़ी से बदल रहे है। छॊटे-बड़े देश भारत की भूमिका को सम्मान की दृष्टि से देख रहे हैं। भारत विश्व में एक बड़ी आर्थिक शक्ति के रूप में उभर रहा है। दुनिया के देश भारत को अब नज़र अंदाज़ नहीं कर सकते और उनको आशा है कि भारत ही एक मात्र ऐसा देश है जो दुनिया के बीच बढ़ रहे तनाव को कम कर विश्व में शांती बहाल करने की क्षमता रखता है। भारत की नसॊं में सनातन परंपरा दौड़ती है। अब भारत का नायकत्व एक ऐसे व्यक्ति के हाथॊं में है जो सनातन परंपरा को अपने जीवन में घॊल कर पी चुके हैं।

India had voted in the UN on the proposal to make Jerusalem Israel’s capital on the proposal to make Israel’s capital, but afterwards welcomed Israeli Prime Minister Netanyahu with an open mind and Netanyahu also fervently lauded the leadership of India. The equations between countries on the international stage are changing very rapidly. A small country is looking at India’s role with respect. India is emerging as a major economic power in the world. The countries of the world can not ignore India now and they hope that India is the only country which has the capacity to bring peace to the world by reducing the growing tension between the world. Sanatan tradition runs in India’s non-Hindus. Now the heroism of India is in the hands of a person who has enjoyed the eternal tradition in his life.

मॊदी जी ‘वसुदैव कुटुंबकम’ में विश्वास रखते है। अपने इसी लक्ष को पूर्ण करने के लिए वे दुनिया के सभी देशों को एक दूसरे के करीब ला रहे हैं। निश्चित ही एक बार फिर भारत विश्व गुरू बननेवाला है। हमको मॊदी जी के साथ खड़ा रहकर उनके काम में उनका साथ निभाना है।

Mudi ji believes in ‘Vasudeva Kutumbakam’. In order to fulfill their own goal, they are bringing all countries of the world closer to each other. Surely once again India is going to be a World Guru. We have to stand with Mody Ji and keep up with them in their work.

यह भी देखे:

source post card

बड़ी खबर: इस मुस्लिम लड़की ने अपनाया हिंदू धर्म, वजह जान PM मोदी समेत मुस्लिम मौलाना के उड़े होश..

New Delhi: उत्तराखंड के हल्द्वानी से एक धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है। यहां की एक मुस्लिम लड़की ने इस्लाम धर्म को छोड़ हिंदू धर्म अपना लिया है। लेकिन इसकी वजह जानकर मौलाना-मौलवी सोच में पड़ गए है।

New Delhi: A change of religion has come out of Haldwani in Uttarakhand. Here a Muslim girl has adopted Hindu religion, leaving Islam religion. But knowing the reason, Maulana-Maulavi has got into thinking.

बता दें बनभूलपुरा कि 22 साल की शहनवाज़ नाम की ये लड़की शुक्रवार को ही सिटी मजिस्ट्रेट के पास जाकर उन्हें शपथपत्र दिया। इस पत्र में धर्म परिवर्तन की जानकारी दी गई थी। इसके साथ ही शहनवाज़ से सुनीता बनी इस लड़की ने अपनी परिजनों और अन्य लोगों के लिए जान का खतरा बताया है। साथ ही उनकी सुरक्षा की गुहार लगाई है।

Tell me that the 22-year-old Shahnawaz, who came to the city magistrate on Friday, gave the affidavit to him. This paper was informed about the change in religion. Along with this, this girl, made from Shahnawaz, Sunita, has told her life and her life as a threat to others. At the same time, they have asked for their protection.

लड़की ने धर्म परिवर्तन के लिए कारण बताते हुए कहा कि मुस्लिम धर्म में महिलाओं को जीने की पूरी आजादी नहीं मिलती है। इसलिए उसने अपना धर्म बदल लिया है। जिसके बाद मजिस्ट्रेट ने इस पूरे मामले की जांच के लिए स्थानीय पुलिस को सूचित कर दिया है।

Explaining the reasons for the change in religion, the girl said that in Muslim religion, women do not get full freedom to live. That’s why he has changed his religion. After which the magistrate has notified the local police for the investigation of the entire matter.

शहनवाज़ ने कहा कि हिंदू धर्म में महिलाओं को खुलकर जीने के आज़ादी मिलती है, इसके साथ ही किसी तरह की कोई पांबदी भी नहीं होती, इसलिए उसने ये धर्म अपनाया है। हालांकि अब इस पूरे मामले की जांच की जा रही है।

Shahnawaz said that in Hindu religion, women get freedom to live freely, there is no papidi of any kind, therefore they adopted this religion. However, the whole issue is being examined now.

यह भी देखें :

मौत से महज़ एक घंटे पहले श्रीदेवी, ने ट्वीट पर कहा कुछ ऐसा जिससे खुल सकता है राज….

54 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से श्रीदेवी की मौत हो चुकी है. श्रीदेवी के अकस्मात निधन ने ना ही सिर्फ बॉलीवुड को बल्कि देश को बुरी तरह से झकझोर कर रख दिया है. ये खबर किसी को भी सदमा देने के लिए काफी है. जानकारी के मुताबिक अपनी मौत से पहले श्रीदेवी दुबई में एक शादी अटेंड करने पहुंची थीं. दुबई में ही इनको दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गयी है.

Sridevi has died due to heart attack at the age of 54. Suddenly the death of Sridevi has not only shaken the country but also shattered the country badly. This news is enough to shock anyone. According to the information, before his death, Sridevi had come to Dubai to attend a wedding. In Dubai, he suffered a heart attack and died.

श्रीदेवी की अचानक हुई इस मौत पर कोई विश्वास नहीं कर पा रहा है. ऐसा लग रहा है कि मानो ये अभी कल की ही तो बात थी जब सजी-धजी श्रीदेवी ने अपने घर की एक शादी (मोहित मारवाह) में शिरकत की थी. बताया जा रहा है मोहित की शादी निपटते ही श्रीदेवी अपनी छोटी बेटी ख़ुशी और पति बोनी कपूर के साथ दुबई में एक शादी अटेंड करने गयीं थीं. सब सही भी चल रहा था कि तभी दुबई से खबर आई जिसने फिरसे बॉलीवुड को तोड़ दिया. खबर श्रीदेवी के मौत की थी.

No one is able to believe Sridevi’s sudden death. It seems as though it was just yesterday’s incident when Sajid-Sadhvi Sridevi had attended a marriage of his house (Mohit Marwah). It is being told that as soon as Mohit married, Sridevi went to attend a marriage in Dubai with his younger daughter Khushi and husband Boney Kapoor. It was also going on well that the news came from Dubai only that broke the Bollywood again. The news was of Sridevi’s death.

ऐसे में अब श्रीदेवी की मौत के बाद उनका आखिरी ट्वीट काफी वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने कुछ ऐसा लिखा था जिसे पढ़कर आप भी रो देंगे. जी हाँ, आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको श्रीदेवी का वो आखिरी ट्वीट दिखाने जा रहे हैं जिसे देखने के बाद आपको भी लगेगा कि वाकई श्रीदेवी हमसे काफी दूर किसी और लोक में जा पहुंची हैं.

Now, after the death of Sridevi, his last tweet is becoming very viral, in which he had written something that you would also cry out. Yes, today through this post we are going to show you the last tweet of Sridevi, after seeing that you will also find that Sridevi really has moved far away from any other people.

बता दें कि मौत से चंद घंटे पहले श्रीदेवी ने आखिरी ट्वीट किया था. श्रीदेवी ने एक ट्रिब्यूट वीडियो को रिट्वीट किया था. इस वीडियो में कुंडली भाग्य की अदाकारा श्रद्धा आर्या श्रीदेवी के एक मशहूर गाने पर डांस करती हुई नजर आ रही हैं. श्रीदेवी इस वीडियो में ट्रिब्यूट को देखकर काफी प्रभावित हुई और उन्होंने इस वीडियो को रिट्वीट किया.

Let me tell you that Sridevi last tweeted a few hours before the death. Sridevi recaptured a tribute video. In this video, Kundli is seen dancing on a famous song by Shraddha Arya Sridevi, a performer of fate. Sridevi was very impressed by seeing the tribute in this video and he reshared this video.

यह भी देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

sourcename:politicalreport