अंतराष्ट्रीय मोस्ट वांटेड आतंकी ने राम मंदिर के विवाद को लेकर दे डाली धमकी मोदी-योगी के खिलाफ उगला ज़हर,अगर राम मंदिर बना तो…

नई दिल्ली : एक तरफ राम मंदिर के मुद्दे को सुप्रीम कोर्ट लटकाये जा रहा तो वहीँ अब ऐसी खबर आने लगी है कि मोदी सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में राम मंदिर को लेकर कानून बनाएगी. तो वहीँ इस बीच अब राम मंदिर को लेकर मोस्ट वांटेड अंतर्राष्ट्रीय आतंकी ने बहुत बड़ी धमकी दे दी है.

दिल्ली से काबुल तक मचा देंगे तबाही
अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक एक तरफ देश में ही बैठे कुछ विपक्षी लोग राम मंदिर को लेकर एकता नहीं दिखा रहे हैं और वहीँ दूसरी तरफ कट्टरपंथी भी अब राम मंदिर के खिलाफ खड़े हो गए हैं. आतंकी सगंठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर ने बाबरी मस्जिद को लेकर 9 मिनट का ऑडियो जारी किया है. इस ऑडियो में मसूद अजहर धमका रहा है कि अगर भारत बाबरी मस्जिद की जगह पर राम मंदिर बनाता है, तो दिल्ली से काबुल तक मुसलमान लड़के बदला लेने को तैयार हैं. उसने कहा कि हम लोग पूरी तरह से तबाही फैलाने करने के लिए तैयार हैं.

मसूद ने दावा किया कि काबुल और जलालाबाद में भारतीय संस्थानों को निशाना बनाया गया था. अजहर ने ऑडियो में कहा कि हमारी बाबरी मस्जिद को गिराकर वहां अस्थाई मंदिर बनाया गया है, वहां हिंदू लोग त्रिशूल के साथ इकट्ठे हो रहे हैं. मुसलमान लोगों को डराया जा रहा है, एक बार फिर हमें बाबरी मस्जिद बुला रही है.

ऑ़़डियो में जैश सरगना बोल रहा है कि हम बाबरी मस्जिद पर नजर बनाए बैठे हैं, तुम सरकारी खर्च करने का माद्दा रखते हो तो हम जान खर्च करने के लिए तैयार हैं. इतना ही नहीं इस ऑडियो में अजहर ने करतारपुर कॉरिडोर के बारे में भी टिप्पणी की. उसने पाकिस्तानी सरकार द्वारा भारत के मंत्रियों को बुलाने पर नाराजगी व्यक्त की.

इस ऑडियो में मसूद अजहर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ भी काफी जहर उगला. उसने पीएम मोदी और सीएम योगी के लिए अपशब्द बोले हैं.

बता दें कि बीते कुछ दिनों में जिस तरह भारत की ओर से आतंकियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई और सख्ती भरी भाषा का प्रयोग किया गया है उससे उनके आका बौखलाए हुए हैं. यही कारण है कि अब ये बौखलाहट इस तरह की गीदड़ भभकी से सामने आ रही है.

साफ़ देखा जा सकता है कि कैसे कैसे आतंकी, कट्टरपंथी राम मंदिर के खिलाफ खड़े हो गए हैं और देश में ही कुछ हिन्दू ऐसे हैं जो राम मंदिर के लिए एक नहीं होते हैं. इतने दशकों से राम मंदिर का मुद्दा लटका हुआ है. कांग्रेस के वकील इसका हमेशा से विरोध करते आ रहे हैं. इससे पहले कांग्रेस नेताओं ने तो भगवान राम को काल्पनिक तक बता दिया था.

कितने शर्म कि बात है कि एक तरफ वहां पाकिस्तान में हज़ारों मंदिर को तबाह कर दिया गया. हिन्दुओं को पलायन करने पर मज़बूर किया गया. उन पर अत्याचार किये गए. आज उनकी आबादी सिर्फ 1.8 % रह गयी है और यहाँ भारत में हिन्दू अपने आराध्य का एक मंदिर नहीं बना पा रहे हैं.

source dd bharti

सुब्रमण्यम स्वामी सिद्धू के खालिस्तानी कनेक्शन के बाद किया बड़ा खुलासा ,इमरान खान समेत बाजवा हैरान

नई दिल्ली : पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरिडोर के नाम पर अपना खतरनाक एजेंडा चल दिया है. सिद्धू सामने बैठ कर ताली बजाते रहे और इमरान खान ने शांति, अमन का चोला पहनकर कश्मीर राग अलाप दिया. इस कार्यक्रम में खालिस्तानी खुलेआम शामिल हुए, बाकायदा उन्हें निमंत्रण भेजा गया, खालिस्तानियों ने पाक चीफ बाजवा से हाथ मिलाया और सिद्धू के साथ भी खालिस्तानी की फोटो उसने खुद पोस्ट करी और नीचे पाकिस्तान ज़िंदाबाद लिखा.

ऐसे में अब सिद्धू की खालिस्तानी से मुलाक़ात के बाद उनकी मुश्किलें बढ़ती नज़र आ रही हैं. अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी के फायर ब्रांड नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पर तगड़ा प्रहार किया है.

उन्होंने कहा कि सिद्धू को नेशनल सिक्योरिटी एक्ट (रासुका) के तहत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। स्वामी का यह बयान उस तस्वीर पर आया है जिसमें सिद्धू खालिस्तान सर्मथक गोपाल चावला के साथ खड़े हैं। चावला ने यह तस्वीर फेसबुक पर पोस्ट की थी। जिसके बाद बवाल शुरू हो गया। वहीं, इस पर सिद्धू ने सफाई देते हुए कहा था कि, हर दिन 5 से 10 हजार फोटो क्लिक होती हैं, मैं किसी चावला को नहीं जानता.

तस्वीर सामने आने के बाद स्वामी ने तीखा हमला करते हुए सिद्धू को गिरफ्तार किए जाने की मांग की है। स्वामी ने कहा, ‘अगर वह यह कह रहे हैं कि चावला को नहीं जानते तो उन्हें कहना चाहिए कि खालिस्तान से उनका कोई लेना देना नहीं और वह इसकी निंदा करें। उन्होंने कहा, ‘नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी को उनकी जांच करनी चाहिए। साथ ही उन्हें नेशनल सिक्योरिटी एक्ट के तहत गिरफ्तार करना चाहिए’।

बता दें जब सबसे पहली बार सिद्धू पाकिस्तान गए थे तब उन्होंने पाक चीफ बाजवा को गले लगा लिया था. जबकि उसके कुछ दिन पहले ही पाक फौजियों ने BSF जवान की निर्मम रूप से हत्या की थी. इसकी खूब आलोचना हुई तो वहीँ अब जब दूसरी बार सिद्धू पाक दौरे पर गए हैं तो वे खालिस्तानियों के साथ मिलकर आ गए हैं. वही खालिस्तानी जो हाफिज सईद के बगल में बैठकर देशविरोधी नारे लगाता है. ऐसे में अब अगर तीसरी बार सिद्धू पाकिस्तान गए तो ज़रूर हाफिज सईद को भी अमन,और शांति के नाम पर गले लगा लेंगे.

वहीं, अकाली दल ने सिद्धू के बर्खास्तगी की मांग की है। दिल्ली में अकाली दल के विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने एक ट्वीट कर कहा, ‘एक ग्रुप फोटो में नरेंद्र मोदी जी से बहुत दूर नीरव मोदी के खड़े होने पर बवाल मचाने वाले राहुल गांधी आज इस फोटो पर क्या कहेंगे। या तो मोदी जी से माफी मांगो राहुल गांधी या फिर सिद्धू को बर्खास्त करो!’

पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोस के शिलान्यास के मौके पर सिद्धू की एक तस्वीर खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला के साथ कैमरे में कैद हो गई। जो बहुत तेजी से वायरल हुई। इससे हंगामा मचने में समय नहीं लगा। इस पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा, रोजाना 5 से 10 हजार तस्वीरें खीची जाती हैं, मुझे नहीं पता कौन है गोपाल चावला.

source:dd bhartinews

बीजेपी प्रचार में उतरे ‘जेठालाल’ ने राहुल गांधी को लेकर दे दिया विवादित बयान राहुल समेत पुरे कांग्रेस खेमे में खलबली

नई दिल्ली। राजस्‍थान विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टी वोटर को लुभाने के लिए हर मुमकिन कोशिश में लगी हुई है। विधानसभा चुनाव में अब तक जहां राजनेता अपने प्रत्याशियों के समर्थन में चुनावी सभाएं करने में जुटे हुए तो वहीं अब टीवी कलाकार भी इस मैदान में उतर कर प्रत्याशियों के समर्थन में रोड शो कर रहे हैं।

dilip joshi टीवी सीरियल के कलाकार और ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ से घर-घर में जेठालाल नाम से लोकप्रिय दिलीप जोशी ने गुरुवार को चित्तौड़गढ़ जिले के बड़ी सादड़ी विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में रोड शो किया। लेकिन इस प्रचार के दौरान राहुल गांधी पर तंज कसने से वह भी पीछे नहीं रहे। यहां तक कि उन्‍होंने राहुल को खुद से बड़ा ‘कॉमेडियन’ कह डाला।

dilip joshi

गुरुवार को चित्तौड़गढ जिले के बड़ीसादड़ी विधानसभा क्षेत्र में दिलीप जोशी ने भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में रोड़ शो किया। इस दौरान अपने पसंदीदा किरदार जेठालाल को लाइव देखने के लिये लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। दिलीप जोशी ने खास बातचीत में कहा कि उन्‍होंने पिछले लोकसभा चुनाव में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिये बनारस में प्रचार किया था और अब फिर से विधानसभा चुनाव में मौका मिलने पर भाजपा के समर्थन में प्रचार कर रहे हैं।

Dilip Joshi

जेठालाल ने राहुल गांधी को बताया ‘कॉमेडियन’

अपने सीरियल ‘तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ के जरिए सालों से दर्शकों को हंसाने वाले जेठालाल भले ही भाजपा का प्रचार कर रहे थे लेकिन जैसे ही उनसे राहुल गांधी के बारे में पूछा गया तो उन्‍होंने उन्‍हें कॉमेडियन कह दिया। दिलीप जोशी से जब पूछा गया कि एक हास्‍य कलाकार के तौर पर आप राहुल गांधी के बारे में क्‍या कहेंगे तो उन्‍होंने कहा, ‘बस इतना ही कह सकता हूं कि मुझसे बड़े हास्‍य कलाकार वो हैं।

दिलीप जोशी बॉलीवुड और गुजराती समेत कई फिल्‍मों में नजर आ चुके हैं। इसके साथ ही वह कई टीवी सीरियल्‍स में भी नजर आ चुके हैं।

source:/hindi.newsroompost

गर्भवती महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए अरुणाचल के गर्भवती महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए अरुणाचल के राज्यपाल बीडी मिश्रा ने किया ऐसा कारनामा देख देशभर की जनता हैरान ने किया ऐसा कारनामा देख देशभर की जनता हैरान

नई दिल्ली। किसी भी पद से इंसानियत सबसे ऊंची होती है। ऐसा ही साबित कर के दिखाया है अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ब्रिगेडियर बी.डी मिश्रा ने। जिन्होंने एक गर्भवती महिला को अपने हेलीकॉप्टर से तवांग से ईटानगर लेकर आए। जिससे उनका इलाज हो सके।

हालांकि इस काम में राज्यपाल के सामने कई अड़चनें भी आईं, और कुछ ऐसा हुआ कि वह खुद ईटानगर नहीं पहुंच सके, लेकिन उस महिला को बेहतर इलाज के लिए अस्पताल पहुंचा पाने में कामयाब रहे।

वहीं राजभवन के सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि तवांग में बुधवार को आधिकारिक कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल ने मुख्यमंत्री पेमा खांडू और स्थानीय विधायक के बीच बातचीत सुनी। विधायक खांडू को बता रहे थे कि एक गर्भवती महिला की हालत नाजुक है लेकिन तवांग और गुवाहाटी के बीच अगले तीन दिनों तक कोई हेलीकॉप्टर सेवा नहीं है। इतना सुनते ही राज्यपाल मिश्रा ने कहा कि वह अपने हेलीकॉप्टर से महिला और उसके पति को साथ ले जाएंगे।

दंपति के लिए हेलीकॉप्टर में जगह बनाने की खातिर राज्यपाल ने अपने 2 अधिकारियों को तवांग में ही छोड़ने का फैसला लिया। मामला यहीं खत्म नहीं हुआ, मिश्रा का हेलीकॉप्टर असम के तेजपुर में ईंधन भरने के लिए उतरा। वहां पायलट ने देखा कि हेलीकॉप्टर में कुछ खराबी आ गई है और अब वह उड़ान नहीं भर सकता है। महिला की हालत से परेशान राज्यपाल ने तेजपुर स्थित वायुसेना बेस के कमांडिंग अफसर से दूसरा हेलीकॉप्टर मांगा और महिला तथा उसके पति को रवाना किया। वह खुद बाद में दूसरे हेलीकॉप्टर से गए।

बी.डी मिश्रा ने सुनिश्चित किया कि ईटानगर में राजभवन के हेलीपैड पर एक स्त्री रोग विशेषज्ञ के साथ ऐम्बुलेंस मौजूद रहे ताकि महिला को कोई कष्ट ना हो। राज्यपाल ने बाद में महिला और बिल्कुल स्वस्थ पैदा हुए बच्चे को शुभकामनाएं और शुभाशीष दिया।

source:hindi.newsroompost

कुंभ पर मंडराया आतंकी खतरे का साया,सुरक्षा के लिए इजराइल आया आगे,सुरक्षा का जिम्मा सेना के हाथ, CM योगी समेत पीएम मोदी हैरान

Security in Kumbh By Israeli Technique : साल 2019 में हिन्दू धर्म का सबसे बड़ा आयोजन पवित्र हिन्दू तीर्थ स्थल प्रयागराज में होगा, ये आयोजन है कुम्भ मेला, इस आयोजन में इतने लोग आते है जितने मक्का और वैटिकन को मिलाकर भी नहीं जाते, ये संसार का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन है

कुम्भ में 10 करोड़ के आसपास श्रद्धालुओं, संतों के आने की उम्मीद है, ये संख्या 10 करोड़ कम से कम रहेगी, और योगी सरकार ने जिस तरह अबतक कुम्भ को लेकर प्रचार प्रसार का काम किया है, प्रयागराज 2019 कुम्भ में श्रद्धालुओं की संख्या 15 करोड़ भी पहुँच जाये तो कोई बड़ी चीज नहीं है

जितने अधिक श्रद्धालु उतना ही ज्यादा बड़ा काम सुरक्षा का, कुम्भ पर इस्लामिक आतंकवादियों, कट्टरपंथियों की भी नजर है, करोडो हिन्दू आने वाले है, संत महात्मा आने वाले है, इसी कारण इस आयोजन पर इस्लामिक आतंकी हमले का भी अंदेशा है

योगी सरकार किसी भी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहती और एकदम सफल आयोजन चाहती है, योगी सरकार कुम्भ के लिए संसार की बेस्ट सुरक्षा तकनीक लगाना चाहती है, और अब भारत का परम मित्र इजराइल भारत की मदद को आगे आया है, इजराइल सुरक्षा तकनीक के मामले में दुनिया का नंबर 1 देश है

कुम्भ की रक्षा के लिए इजराइल की मदद ली जाएगी, योगी सरकार इसरायली तकनीक से कुम्भ की रक्षा करेगी, और इसके लिए योगी सरकार ने इजराइल से संपर्क भी कर लिया है, और भारत की मदद करने में इजराइल भी कहाँ पीछे रहता है, इजराइल ने भी अपने एक्सपर्ट भारत भेज दिए है

कुम्भ मेले की सुरक्षा को लेकर सोमवार को उत्तर प्रदेश पुलिस के DGP ओपी सिंह ने इजराइल में सुरक्षा संबंधी सेवा से जुडी एक कंपनी के एक्सपर्ट्स के साथ बैठक भी कर ली है और सुरक्षा कैसे की जाये उसपर इस बैठक में चर्चा हुई है

इस बैठक में भीड़ को मैनेज करने, अत्याधुनिक सुरक्षा उपकरणों के इस्तेमाल, आपातकाल की स्तिथि से निपटने की तैयारी, और सुरक्षा से जुडी अन्य सभी चीजों पर चर्चा हुई है

Security in Kumbh By Israeli Technique : जानकारी ये भी है की स्वयं योगी आदित्यनाथ इजराइल के एक्सपर्ट्स के साथ जल्द ही मीटिंग करने वाले है, और इजराइल के एक्सपर्ट उत्तर प्रदेश पुलिस के साथ मिलकर योगी को एक प्रेजेंटेशन भी देने वाले है जिसमे बताया जायेगा की हिन्दू श्रद्धालुओं के लिए दुनिया की बेस्ट सुरक्षा व्यवस्था किस प्रकार सुनिश्चित की जाएगी

इस बार का कुम्भ केवल तैयारियों, सुविधाओं की दृष्टि से ही नहीं अपितु बेस्ट सुरक्षा की दृष्टि से भी सबसे ज्यादा भव्य होगा

source:dbn.news

आतंकी समूहों पर लगाम लगाने में PAK नाकाम, अमेरिका ने रोके 3 अरब डॉलर

अब तक तीन अरब डॉलर की निलंबित राशि को सार्वजनिक नहीं किया गया है. लेकिन यह इस महीने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा कहे गए 1.3 अरब डॉलर और पिछले सप्ताह पेंटागन द्वारा बताए गए 1.66 अरब डॉलर से बहुत अधिक है.

अमेरिका ने इस साल पाकिस्तान को सुरक्षा मद में दी जाने वाली तीन अरब डॉलर की सहायता राशि को टाल दिया. आतंकी समूहों पर लगाम लगाने में विफल रहने पर पाकिस्तान के खिलाफ ये कार्रवाई की गई है. यह आंकड़ा पूर्व में ट्रंप सरकार द्वारा उल्लेखित 1.3 अरब डॉलर से बहुत अधिक है.

समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा ने सूत्रों के हवाले से बताया कि विभिन्न माध्यमों से किए गए भुगतान के हालिया संकलन से तीन अरब डॉलर का आंकड़ा प्राप्त हुआ है.

हालांकि, अब तक तीन अरब डॉलर की निलंबित राशि को सार्वजनिक नहीं किया गया है. लेकिन यह इस महीने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा कहे गए 1.3 अरब डॉलर और पिछले सप्ताह पेंटागन द्वारा बताए गए 1.66 अरब डॉलर से बहुत अधिक है.

ऐसा समझा जा रहा है कि राष्ट्रपति ट्रंप और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बीच हाल में ट्विटर पर हुई जंग के बाद अमेरिकी सरकार की विभिन्न शाखाओं से प्राप्त आंकड़ों का संकलन किया गया है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस महीने कहा था कि दक्षिण एशियाई देशों के लिए अमेरिका की ओर से अरबों डॉलर खर्च किये जाने के बावजूद पाकिस्तान ने उनके देश के लिए कुछ भी नहीं किया. खान ने अमेरिकी राष्ट्रपति पर पलटवार करते हुए कहा कि उन्हें ‘ऐतिहासिक तथ्यों की जानकारी होनी चाहिए.’

अमेरिका पहले ही सतर्क

इस बीच, आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान ने एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से कर्ज की मांग की है. इसके बाद अमेरिका सतर्क हो गया है. अमेरिका को शक है कि पाकिस्तान आईएमएफ से ये सहायता चीन का कर्ज उतारने के लिए मांग रहा है. उसने (अमेरिका) पाकिस्तान से चीन के कर्ज पर पारदर्शिता लाने की मांग की है.

अंतरराष्ट्रीय मामलों के उप वित्त मंत्री डेविड मालपास ने कांग्रेस से जुड़ी एक कमेटी की सुनवाई के दौरान सांसदों को बताया कि आईएमएफ की टीम अभी पाकिस्तान से लौटी है. हम इस बात पर जोर दे रहे हैं कि कर्ज में पूरी पारदर्शिता हो. इस बाबत अमेरिका के सांसद जेफ मर्कली ने उप वित्त मंत्री डेविड मालपास से पूछा था कि क्या आईएमएफ के कोष का इस्तेमाल चीन का कर्ज उतारने के लिए किया जा रहा है. मर्कली का कहना है कि एक चुनौती ये है कि पाकिस्तान ने ज्यादातर मामलों में अपनी कर्ज की शर्तों का खुलासा नहीं किया है, जिसमें ब्याज दर और उसकी अवधि शामिल है.

source:aajtak.intoday.in

जम्मू कश्मीर में बिपिन रावत का देशविरोधियों पर बड़ा ऐलान,मेहबूबा समेत पत्थरबाज हैरान

नई दिल्ली : जिस तरह इस वक़्त इजराइल देश सीमा पर दुश्मनों और पत्थरबाजों पर करारा प्रहार करता है और ड्रोन की मदद से उन पर कहर बनकर बरसता है ठीक उसी तरह अब कश्मीर में भारतीय सेना भी इजराइल की तरह ड्रोन से पत्थरबाजों और आतंकियों पर कहर बरपाएगी.

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक सेना चीफ बिपिन रावत 9वें वाईबी चव्हाण मेमोरियल लेक्चर के दौरान सम्बोधित कर रहे थे. जहाँ उन्होंने इजराइल की तरह ड्रोन टेक्नोलॉजी से आतंकियों पर क़ाबूओ करने की बात कही.

उन्होंने कहा भारतीय सेना जम्मू-कश्मीर और LoC पार दुश्मनों के ठिकानों पर हमला करने के लिए ड्रोन का उपयोग करने में सक्षम है, और इसका उपयोग करने में उन्हें कोई दिक्कत नहीं दिखती बशर्ते राष्ट्र ‘गलतियां’ और इसके नुकसान को समझने को स्वीकार करे.

यह बातें भारतीय सेना के प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कही. दरअसल सेनाध्यक्ष से जब पूछा गया कि क्या भारत भी दुश्मन के ठिकानों को समाप्त करने के लिए अमेरिका, इजराइल की तरह ड्रोन का इस्तेमाल करेगा. जनरल बिपिन रावत ने कहा कि उन्हें कोई समस्या नहीं है बशर्ते लोग और अंतरराष्ट्रीय समुदाय और तथाकथित मानवाधिकारियों से कोई प्रतिक्रिया न हो.

सेनाध्यक्ष ने कहा कि जब आप ड्रोन से हमले की बात करते हैं तो आपको यह देखना होगा कि कैसे इजरायल इसका इस्तेमाल करता है. उनके पास जमीन पर सूत्र रहते हैं, जो गाड़ियों पर ध्यान देते हैं, जो यह बताते हैं कि गाड़ी में कौन बैठा है. वे इलेक्ट्रॉनिक तरीके से गाड़ी को चिन्हित कर लेते हैं. इसके बाद ड्रोन उड़ान भरता है और उस गाड़ी पर हमला कर देता है.

सेना प्रमुख ने कहा कि अब ऐसी चीज उस देश में संभव है, लेकिन हमारे देश में आपने देखा होगा कि जब हम जम्मू कश्मीर में पत्थरबाजों के खिलाफ कार्रवाई करते हैं तो किस तरह से इसके विरोध में प्रदर्शन होता है.

उन्होंने आगे कहा कि भारत में जैसी चीजें आगे बढ़ रही हैं, ऐसे में मुझे कहने में अच्छा लग रहा है कि हमें ऐसे ड्रोन की जरूरत है. जनरल बिपिन रावत ने यह बातें 9वें वाईबी चव्हाण मेमोरियल लेक्चर के दौरान बोली. जनरल बिपिन रावत ने कहा कि आपके क्षेत्र में या आपके क्षेत्र से बाहर, गलतियां होंगी. अगर आप गलतियां स्वीकार करने की इच्छा रखते हैं, तो इसका भी एक रास्ता है, यह वो नहीं है कि हम इस्तेमाल नहीं कर सकते.

source ddbhartinews

भारत ने अंतरिक्ष में लहराया अपना परचम, इस बड़े कदम को देख अमेरिका समेत देशभर में भूकंप

नई दिल्ली : एक वक़्त वो भी था जब देश के प्रधानमंत्री अपने परिवार के साथ विमान में विदेश यात्राएं किया करते थे अपने बच्चों,पोते, पोतियों के जन्मदिन भी विमान में मनाते थे और तब भी भारतीय स्पेस एजेंसी ISRO के साइंटिस्ट्स राकेट के पार्ट्स को बैलगाड़ी पर लादकर या साइकिल के पीछे बांध कर ले जाते थे लेकिन आज वही ISRO सिर्फ अपने देश के लिए ही नहीं बल्कि अन्य देशों के लिए भी एक भरोसेमंद उम्मीद बन रहा है.

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक ISRO ने आज एक बार फिर अंतरिक्ष में अपना डंका बजवाया है. धरती का अध्ययन करने वाले उपग्रह (HySIS) हाइपर स्पेक्ट्रल इमेजिंग का प्रक्षेपण कर दिया गया है। इसरो के अंतरिक्ष यान पीएसएलवी-सी43 के साथ आठ देशों के 31 उपग्रह प्रक्षेपित किए गए हैं। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के मुताबिक, आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से गुरुवार सुबह 09.58 बजे पीएसएलवी-सी43 से उपग्रहों का प्रक्षेपण किया गया.

बता दें कि हाईपर स्पेक्ट्रल इमेजिंग सेटेलाइट (HySIS) का प्राथमिक लक्ष्य पृथ्वी की सतह का अध्ययन करना है। 380 वजनी इस सेटेलाइट को इसरो ने विकसित किया है। यह पीएसएलवी-सी43 अभियान का प्राथमिक उपग्रह है। इसरो के बयान के अनुसार यह उपग्रह सूर्य की कक्षा में 97.957 डिग्री के झुकाव के साथ स्थापित किया जाएगा। इसकी आयु करीब 5 साल होगी.

भारत का हाइपर स्पेक्ट्रल इमेजिंग उपग्रह (HySIS) इस मिशन का प्राथमिक सैटलाइट है। इमेजिंग सैटलाइट पृथ्वी की निगरानी के लिए इसरो द्वारा विकसित किया गया है। इस उपग्रह का उद्देश्य पृथ्वी की सतह के साथ इलेक्ट्रोमैग्नेटिक स्पैक्ट्रम में इंफ्रारेड और शॉर्ट वेव इंफ्रारेड फील्ड का अध्ययन करना है। HySIS एक विशेष चिप की मदद से तैयार किया जाता है जिसे तकनीकी भाषा में ‘ऑप्टिकल इमेजिंग डिटेक्टर ऐरे’ कहते हैं.

isro

धरती के चप्पे-चप्पे पर नजर रखना आसान हो जाएगा
इस उपग्रह से धरती के चप्पे-चप्पे पर नजर रखना आसान हो जाएगा क्योंकि लगभग धरती से 630 किमी दूर अंतरिक्ष से पृथ्वी पर मौजूद वस्तुओं के 55 विभिन्न रंगों की पहचान आसानी से की जा सकेगी। हाइपर स्पेक्ट्रल इमेजिंग या हाइस्पेक्स इमेजिंग की एक खूबी यह भी है कि यह डिजिटल इमेजिंग और स्पेक्ट्रोस्कोपी की शक्ति को जोड़ती है.

हाइस्पेक्स इमेजिंग अंतरिक्ष से एक दृश्य के हर पिक्सल के स्पेक्ट्रम को पढ़ने के अलावा पृथ्वी पर वस्तुओं, सामग्री या प्रक्रियाओं की अलग पहचान भी करती है। इससे पर्यावरण सर्वेक्षण, फसलों के लिए उपयोगी जमीन का आकलन, तेल और खनिज पदार्थों की खानों की खोज आसान होगी.

isro

पूरी दुनिया में अपना परचम लहरा दिया
कभी थुंबा से शुरू हुआ इसरो का सफर आज बहुत आगे निकल गया है। 21 नवंबर 1963 को भारत केरल के थुंबा से छोड़ा गया था। उस वक्‍त दुनिया के दूसरे बड़े मुल्‍कों को इस बात का अहसास भी नहीं रहा होगा कि भविष्‍य में भारत उनसे इतना आगे निकल जाएगा कि उसको पकड़ पाना भी मुश्किल होगा।लेकिन इसरो ने अपनी विश्‍वसनीयता को बरकरार रखते हुए पूरी दुनिया में अपना परचम लहरा दिया है.

आलम ये है कि आज भारत अंतरिक्ष में महारत रखने वाले देश अमेरिका, रूस आदि के उपग्रहों का सफलतापूर्वक प्रक्षेपित कर रहा है। 29 नवंबर 2018 को भारत ने 29 विदेशी उपग्रहों को एक साथ धरती की कक्षा के बाहर स्‍थापित कर अपनी सार्थकता को साबित किया है। यह इसरो का इस वर्ष छठा सफल मिशन था। 15 फरवरी 2017 को इसरो ने एक साथ 104 उपग्रहों को अंतरिक्ष में स्‍थापित कर वर्ल्‍ड रिकॉर्ड बनाया था। इस दौरान अमेरिका, इजरायल, कजाखिस्‍तान, नीदरलैंड, स्विटजरलैंड, यूएई के उपग्रहों को छोड़ा गया था। इसमें 96 उपग्रह अकेले अमेरिका के ही थे.

source:dd bhartinews

NGT कोर्ट का बंगाल में ममता सरकार पर टूटा जबरदस्त कहर, इतनी बड़ी लापरवाही की चुकाई भारी कीमत, सन्न रह गए वामपंथी

नई दिल्ली : आज कल पूरा देश बढ़ते प्रदुषण से परेशान है खासतौर पर दिल्ली. लेकिन इसके पीछे बाकी राज्य भी कई हद तक ज़िम्मेवार हैं क्यूंकि वे इसके लिए जो कदम उठाये जाने चाहिए वे उन्हें नहीं उठा रहे हैं. ऐसे में अब NGT कोर्ट ने लाइन से सभी राज्यों को रिमांड पर ले लिया है पहले पंजाब फिर दिल्ली तो अब ममता बनर्जी के ऊपर कड़ा कहर टूट पड़ा है.

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक कोलकाता और हावड़ा में वायु प्रदूषण कम करने में विफल रही पश्चिम बंगाल सरकार पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने पांच करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। दो साल पहले ही एनजीटी ने इससे संबंधित निर्देश दिया था, लेकिन राज्य सरकार इस पर खरा नहीं उतर सकी.

कोलकाता और हावड़ा में वायु प्रदूषण कम करने में विफल रही पश्चिम बंगाल सरकार पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने पांच करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। दो साल पहले ही एनजीटी ने इससे संबंधित निर्देश दिया था, लेकिन राज्य सरकार इस पर खरा नहीं उतर सकी. पीठ ने कहा कि उक्त आदेश इसलिए दिया गया क्योंकि एनजीटी के वर्ष 2016 के आदेश में वायु प्रदूषण रोकने के लिए जो उपाय सुझाए थे, उन्हें पश्चिम बंगाल सरकार ने लागू नहीं किया.

ऑफर तीन हफ्ते के अंदर ममता सरकार ने ये जुरमाना नहीं भरा तो दो प्रति महीने जुर्माने की राशि एक करोड़ रुपये बढ़ती जाएगी. मतलब जितना विलम्ब राशि उतनी ज़्यादा बढ़ती जायेगी.

बता दें राज्य में वायु प्रदूषण को रोकने के लिए खंडपीठ ने वर्ष 2016 में पहले के निर्देश में एनजीटी द्वारा अनुशंसित कई उपायों को लागू नहीं करने के लिए यह जुर्माना लगाया है। एनजीटी ने कोलकाता और हावड़ा के जुड़वां शहरों में डीजल वाहनों की संख्या कम करने के लिए वैकल्पिक तंत्र शुरू करने जैसे उपायों की सिफारिश की थी, धूम्रपान उत्सर्जन की निगरानी के लिए रिमोट सेंसिंग डिवाइस (आरएसडी) शुरू करने, कम्प्यूटरीकृत निगरानी स्टेशन तैयार करने को कहा गया था लेकिन राज्य सरकार ने इनमें से किसी भी आदेश का पालन नहीं किया।

अन्य उपायों में राज्य के विभिन्न हिस्सों में डंपिंग साइटों में अपशिष्ट जलने से रोकने, जुड़वां शहरों में गैर-बीएस-4 वाणिज्यिक वाहनों की प्रविष्टि की निगरानी आदि का निर्देश भी दिया गया था जिसे राज्य सरकार ने नहीं माना है।

दो साल की मध्यवर्ती अवधि के बाद एनजीटी ने यह जानना चाहा था कि राज्य पर्यावरण विभाग और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इन निर्देशों को लागू करने के लिए कोई कदम उठाया था या नहीं। एनजीटी ने एक विशेषज्ञ समिति द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के आधार पर 2016 के आदेश पारित किए थे, लेकिन पर्यावरणविद्

सुभाष दत्ता ने हाल में एक अवमानना ​​याचिका दायर की थी जिसके कारण ट्रिब्यूनल द्वारा जुर्माना लगाया गया है। एनजीटी ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव को अनुवर्ती कार्रवाई योजना और जुर्माना के भुगतान के संबंध में आठ जनवरी 2019 तक शपथपत्र दाखिल करने का निर्देश दिया है

source:dd bharti

तो रोहित सरदाना ने इस लिए छोड़ा ZEE NEWS और थामा इस चैनल का हाथ !

राष्ट्रवादी न्यूज़ चॅनेल ज़ी न्यूज़ के एंकर रोहित सरदाना अब आने वाले समय में ज़ी न्यूज़ पर दिखाई नहीं देंगे! खबरों के मुताबिक रोहित सरदाना ने ज़ी न्यूज़ को छोड़ दिया है, और अब खबर ये भी है की वो बहुत जल्द आज तक चॅनेल पर नजर आएंगे| exchange4media.comनाम की वेबसाइट ने इसकी पुस्टि की है कि रोहित सरदाना ने इंडिया टुडे ग्रुप के हिंदी न्यूज़ चैनल आजतक को ज्वाइन कर लिया है! एक्सचैंज4मीडिया.कॉम मीडिया सम्बंधित खबरे पब्लिश करने के लिए जानी जाती रही है! यह वेबसाइट डिजिटल, प्रिंट और टीवी न्यूज़ सम्बंधित खबरों को पब्लिश करती है |

Anchor Rohit Sardana of National News Channel Zee News will no longer appear on Zee News in the coming days! According to reports, Rohit Sardana has left Zee News, and now the news is that he will be seen on the channel till very early. The website, exchange4media.com, has confirmed that Rohit Sardana has joined the India Today Group’s Hindi news channel Aaj Tak! Exchanges 4 media.com has been known to publish media related news! This website publishes news related to digital, print and TV news.

जैसा की हम सब जानते है की इंडिया टुडे ग्रुप के काफी सारे चैनल है, जिनमे आजतक हिंदी की प्रमुख न्यूज़ चॅनेल में से एक है, इस ग्रुप का मालिक है अरुण पूरी, वैसे आजतक चैनल हमेशा से ही अपनी हिन्दू विरोधी छवि के लिए जानी जाती रही है, अब देखना यह रह गया है की हिंदुत्व के समर्थक रोहित सरदाना किस तरह इस न्यूज़ चॅनेल के साथ फिट बैठते है! आज तक चॅनेल के एंकर पुण्य प्रसून जोशी को लगभग सभी देशवासी जानते होंगे, जिन्हे कैमरे पर केजरीवाल के साथ इंटरव्यू को फिक्स करते हुए पाया गया था, तब उनका वीडियो काफी वायरल हुआ था |

As we all know, there is a lot of channels of the INDIA TODAY group, which is presently one of the leading news channels of Hindi, Arun Prabha is the owner of this group, although the Aaj Tak channel always known for its anti-Hindu image. It has been left to see now that Rohit Sardan, a pro-Hindutva fan, fits in with this news channel! To date, Chanel Anchor Puja Prasun Joshi would have known almost all the nationals, who were found fixing the interview with Kejriwal on camera, his video was quite viral.

रोहित सरदाना के आजतक ज्वाइन करने की जानकारी हमे एक और सोर्स से भी प्राप्त हुयी है, उनके समर्थक रवि भदौरिया ने ट्विटर पर ट्वीट करके यह जानकारी दी है कि रोहित सरदाना ने आज तक ज्वाइन किया है, आपको बता दें की रोहित सरदाना ज़ी न्यूज़ पर अपने कार्यक्रम “ताल ठोक के” के लिए काफी मशहूर हुए थे, जिसके माध्यम से वो सामाजिक और राष्ट्रीय मुद्दों को मजबूती से उठाते थे |

We have also received information from Rohit Sardana to join Ajat, and his supporter Ravi Bhadauriya has tweeted on Twitter that Rohit Sardana has joined till date, tell you that Rohit Sardan is on Zee News. He was well-known for his program “Taal Thok Ke”, through which he used to raise social and national issues firmly.

https://twitter.com/ravibhadoria/status/923217168501633024

जी न्यूज़ चैनल में रोहित सरदाना “ताल थोक के” के नाम से एक प्रोग्राम में एंकर की भूमिका निभाते थे | उनका यह कार्यक्रम काफी प्रचलित था और इस कार्यक्रम की वजह से रोहित को तो खूब सरहाना मिली ही थी बल्कि जी न्यूज़ की भी टी.आर.पी. में काफी चढ़ाव आया था | रोहित सरदाना का “ताल थोक के” कार्यक्रम में सीधे सीधे मंत्रियों के बीच में बेहेस होती थी | लोगों ने इस कार्यक्रम को काफी पसंद किआ था | अपने पूरे पत्रिकारिता के काल में रोहित ने काफी पुरस्कार भी जीते हैं और यही वजह है की रोहित सरदाना को खूब पसंद किया भी जाता है |

In the Zee News channel, Rohit Sardana used to play Anchor in a program called “Taal Tol Ke”. His program was quite prevalent and due to this program, Rohit had got a lot of shout but Jai News also got TRP. There was a lot of ups and downs. In Rohit Sardana’s “Taal Tol Ke” program, he was directly involved in the middle of the ministers. People loved this program very much. During the period of his entire journalism, Rohit has won a lot of rewards, and this is why Rohit Sardana is also very liked.

रोहित सरदाना के आज तक ज्वाइन करने से उनके फैंस को विश्वास नहीं हो रहा है! लेकिन खबरों की माने तो यही सच्चाई है! अब चूँकि वो आजतक जैसे हिन्दू विरोधी चैनल पर चले गए है तो देखना होगा की वो किस प्रकार की पत्रकारिता करते है, हालाँकि मोदी सरकार के आने के बाद कई सारे मीडिया हाउसेस ने गिरगिट की तरह रंग बदला है, और राष्ट्रवादी बनने की कोशिश की है, कदाचित आजतक भी इस बात को समझ रहा हो की अब हिन्दू विरोध ज्यादा चलेगा नहीं और ये ग्रुप भी गिरगिट की तरह बदल जाये |

Joining till today Rohit Sardan does not believe his fancy! But the news is the truth! Now since he has gone on the anti-Hindu channel like Aaj Tak, he has to see what kind of journalism he is doing, although after the arrival of the Modi government many media houses have changed color like chameleon and have tried to become nationalist. Perhaps even today, it is understandable that now Hindu opposites will not do much and this group should be transformed like a chameleon.

पर क्या आज तक की यह कोई चाल तो नहीं ? क्या आज तक अपनी बिगड़ी और बची कुची इज्ज़त को उठाने के लिए रोहित को अपने चैनल में तो नि बुला रहा? वेसे भी चुनावों के दिन नजदीक आने ही वालों हैं और इसे में सबको पता है के बीजेपी की ही जीत होगी | तो क्या आजतक का ये कोई खेल तो नहीं के रोहित सरदाना को अपने चैनल में जगह देकर वो अपनी इज्ज़त बचा रही हो ?

But what is this trick till today? To date, his Rohit was calling in his channel to take care of his dirty and left pitcher. They are also coming closer to the day of elections and everyone knows that BJP will win. So do not you have any such game of Aaj Tak, then Rohit Sardana is giving his place in his channel, is it saving its respect?