बड़ा खुलासा- अहमद पटेल का हुआ पर्दाफाश, जांच में इन बड़े नेताओं का नाम आया सामने !

politics

नामोभारत ने सबसे पहले अपने पाठको को बताया था की गुजरात में जो 2 ISIS के आतंकी पकडे गए है उनमे से एक के तार कांग्रेस नेता अहमद पटेल से जुड़े हुए है, नामोभारत के बाद अन्य पोर्ट्सल और फिर टीवी वाली मीडिया ने भी ये खबर दिखाना शुरू कर दिया|

Namobharat had first told his readers that one of the two ISIS terrorists in Gujarat has been linked to Congress leader Ahmed Patel, after Nomination, other portals and then TV-based media also started showing this news. Done

अहमद पटेल सिर्फ उस अस्पताल का ट्रस्टी ही नहीं बल्कि उसका संस्थापक भी था, ये अहमद पटेल का ही अस्पताल है, 2014 में ट्रस्टी पद से इस्तीफा दिया, पर मालिकाना हक अहमद पटेल का ही है, 2016 में वो इस अस्पताल के एक कार्यक्रम में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भी लाया था |

Ahmed Patel was not only the trustee of that hospital but also the founder of it, it is Ahmad Patel’s hospital, resigned from the trustee post in 2014, but belongs to the owner of Ahmed Patel, in 2016 in a hospital program, President Pranab Mukherjee was also brought.

अहमद पटेल के अस्पताल से ISIS का आतंकवादी निकला है, पर कांग्रेस का कहना है की अहमद पटेल और कांग्रेस का इस से कुछ लेना देना नहीं है, इतनी बड़ी खबर के बाद भी सी.पी.एम. और आम आदमी पार्टी ने चुप्पी साध रखी है, इनका सोशल मीडिया आईटी सेल भी एकदम चुप है, और इसी चुप्पी पर भारतीय सेना के पूर्व मेजर ने सवाल पूछा है |

ISIS has emerged as a terrorist from Ahmed Patel’s hospital, but the Congress says that Ahmed Patel and the Congress have nothing to do with it, even after such a big news, CPM And the Aam Aadmi Party has kept quiet, their social media IT cell is also quite silent, and on this silence the former Major of the Indian Army has asked the question.

/

जिस अस्पताल का कर्मचारी ISIS का आतंकी निकला है उस अस्पताल अहमद पटेल का है जो गुजरात में मुख्यमंत्री पद का भी कांग्रेस दावेदार है, पर इतनी बड़ी खबर पर आम आदमी पार्टी और सी.पी.एम. और अन्य सेक्युलर दल बिलकुल चुप है|

Hospital hospital employee ISIS is out of the hospital Ahmed Patel, who is also a Congress contender for the Chief Minister in Gujarat, but on such a big news, the Aam Aadmi Party and the CPM. And other secular parties are absolutely silent.

अगर अहमद पटेल की जगह इस अस्पताल से मोदी या अमित शाह जुड़े होते, या इस अस्पताल के ट्रस्टी में कोई बीजेपी का नेता होता, तो क्या आम आदमी पार्टी सी.पी.एम. और अन्य सेक्युलर और वामपंथी इसी प्रकार चुप रहते ?

Had Ahmed or Amit Shah been associated with this hospital instead of Ahmed Patel, or if there was a BJP leader in the trustee of this hospital, would the Aam Aadmi Party CPM? And other secular and leftists remain silent in the same way?

ये तो अहमद पटेल का नाम आया इसलिए सभी सेक्युलर तत्व खामोश है, बीजेपी के किसी नेता या संघ के किसी नेता का नाम आता तो हिन्दू आतंकवाद का राग सभी सेक्युलर अलापने लगते |

It was Ahmad Patel’s name that all the secular elements are silent; the name of any leader of BJP or any leader of the Sangh, the name of the Hindu terrorism, all the secular alarms begin.

यह भी देखे :

Leave a Reply