बंगाल और ओडिसा दोनों पर तुगन खान ने हमला किया था, पर बंगाल इस्लामिक है जबकि ओड़िया हिन्दू, ऐसा क्यों ?

इतिहास जो हमें जानना चाहिए ….बंगाल (बांग्लादेश सहित) आज इस्लामी हो गया, वहीँ ओडिसा आज भी 96% हिन्दू है …. कैसे ? जबकि दोनों ही इलाकों पर इस्लामिक हमलावरों ने सन 1000 के बाद एक साथ हमला किया था, फिर ऐसा क्या हुआ की बंगाली बोलने वाले लोग आज अधिकतर इस्लामिक है, मुसिलम है, पर ओड़िया बोलने वाले लोग हिन्दू है, कभी आपने इसका कारण सोचा है ?

History which we should know …. Bengal (including Bangladesh) today became Islamic, yet Odisha is still 96% Hindu … How? Whereas Islamic attackers attacked both the areas together after 1000 AD, then what happened that the people who spoke Bengali today are mostly Islamic, muslim, but the people who speak Oriya are Hindus, have you ever thought of the reason?

सन 1248 ( 13वी शताब्दी ) इस्लामिक हमलावर तुगन खान ने उडीसा पर हमला किया । उस समय वहां पर राजा नरसिम्हादेवा का राज था । राजा नरसिम्हादेव ने फ़ैसला किया कि इस्लामी हमलावर को इसका जवाब छल से दिया जाना चाहिये । उन्होने तुगन खान को ये संदेश दिया कि वो भी बंगाल के राजा लक्ष्मणसेन की तरह समर्पण करना चाहते हैं, जिसने बिना युद्ध लडे तुगन खान के सामने हथियार डाल दिये थे।

1248 (13th Century) Islamic invader Tuhin Khan attacked Orissa. At that time there was the rule of King Narasimaveda. King Narasimha Deo decided that the answer to the Islamic attacker should be given in a trick. He gave this message to Tujan Khan that he too wanted to surrender like King Laxmansena of Bengal, who had put arms in front of a warrior, Tuhin Khan.

तुगन खान ने बात मान ली और कहा कि वो अपना समर्पण “पूरी” शहर में करे, इस्लाम कबूल करे और जगन्नाथ मंदिर को मस्जिद में बदल दे । राजा नरसिम्हादेव राज़ी हो गए और इस्लामिक लश्कर “पूरी” शहर की तरफ़ बढने लगा, इस बात से अन्जान कि ये एक जाल।है। राजा नरसिम्हादेव के हिंदू सैनिक शहर के सारे चौराहों , गली के नुक्कड़ ओर घरों में छुप गये।

Tujan Khan accepted the offer and said that he should dedicate his dedication to the “whole” city, accept Islam and convert the Jagannath temple into a mosque. King Narasimadhe agreed and the Islamic militant started moving towards the “whole” city, unaware that it is a trap. The Hindu soldiers of King Narasimhadev hid all the intersections of the city, the streets and the houses in the streets.

जब तुगन खान के इस्लामिक लश्कर ने जगन्नाथ मंदिर के सामने पहुंचे, उसी समय मंदिर की घंटिया बजने लगी और ‘जय जगन्नाथ’ का जयघोष करते हिंदू सैनिको ने इस्लामिक लश्कर पर हमला कर दिया। दिनभर युद्ध चला, ज्यादातर इस्लामिक लश्कर को कब्जे में कर लिया गया और कुछ भाग गये । इस तरह की युद्धनीति का उपयोग पहले कभी नहीं हुआ था । किसी हिंदू राजा द्वारा जेहाद का जवाब धर्मयुद्ध के द्वारा दिया गया हो।

When the Islamic LeT of Tujan Khan reached the Jagannath temple, at that time the temple bells started and the Hindu soldiers praising ‘Jai Jagannath’ attacked the Islamic LeT. The war was going on throughout the day, mostly the Islamic LeT was captured and some fled. This kind of battle was never used before. Jihad has been answered by a Hindu king by the Crusades.

राजा नरसिम्हादेवा ने इस विजय के उपलक्ष्य में ” कोनार्क” मंदिर का निर्माण किया । गूगल पर कम से कम ज़रूर देखिये इस शानदार मंदिर को । अगर लड़ोगे तो जीतने की गुंजाइश तो होगी ही, मुर्दे लड़ नहीं सकते इसीलिए वो धर्मनिरपेक्षता का ढोंग करते हैं । और दुनिया को यह दिखाते है कि धर्म के अनुयायी है. और उसका पालन करते है।

King Narasamideva constructed the “Konark” temple in honor of this victory. At least look at this magnificent temple on Google. If you fight, then there will be room for victory. They can not fight, hence they pretend to secularism. And show the world that there is a follower of religion. And follow him.

बंगाली भाषा जहाँ थी वहां का राजा लक्ष्मणसेन ने बिना लड़े हथियार डाल दिया, नतीजा देखिये, आज अधिकतर बंगाली बोलने वाले लोग मुसलमान है, बंगाल सिर्फ पश्चिम बंगाल ही नहीं बल्कि बांग्लादेश भी बंगाल ही था, आज अधिकतर बंगाली लोग मुसलमान है, बंगाल इस्लामिक है, वहीँ ओड़िया बोलने वाले लोग 96% हिन्दू है।

Where the Bengali language was, the King Laxmansen put the weapon without any war, see the result, today most Bengali speakers are Muslims, Bengal is not only West Bengal but Bangladesh was also Bengal, today most Bengali people are Muslims, Bengal is Islamic , Those who speak Oriya are 96% Hindu.

source : dainik-bharat.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *