Blog

अभी अभी: मोदी सरकार ने रोहिंग्या मुस्लिमों के लिए उठाया ये बड़ा कदम , कांग्रेस और बसपा पार्टी हुए एक जुट

रोहिंग्याओ पर हो रहे अत्याचार को लेकर दुनिया में हर तरफ चर्चा हो रही है, तमाम मुस्लीमो देश रोहिंग्याओ की मदद में जुड़े है. भारत में भी जगह जगह प्रदर्शन किये जा रहे है, जहाँ लोग इस मुद्दे पर भारत की राय जानना चाह रहे थे वहीं दूसरी तरफ भारत ने ऐसा कदम उठाया जिसे देखकर लोग हैरान रह गये,

There is a discussion in the world about the atrocities on Rohingya, all the Muslim countries are involved in the help of Rohingya. There is also a place in place in India, where people were seeking to know India’s opinion on this issue, on the other hand, India took such a step which people were surprised to see,

आपको बता दें भारत की तरफ से इस मुद्दे पर कोई प्रक्रिया देखने को नही मिली है लेकिन गुरुवार को भारत ने  ऑपरेशन इंसानियत के नाम से एक ऐसा कदम उठाया जिसकी हर तरफ हो रही ही चर्चाये ! भारत ने बंगलादेश में म्यामार से आये रोहिंग्या शर्णार्थियो के लिए 53 टन रहत सामग्री भेजी है, बीपी न्यूज़ के अनुसार भारत ने मदद करने का फैंसला किया और पहली रहत सामग्री भी भेज दी है,

Let us tell you that no action has been taken on behalf of India, but on Thursday, India took a step in the name of Operation Humanity, which is being discussed on every side! India has sent 53 tonnes of material for Rohingya refugees from Myanmar in Bangladesh, according to BP news, India has fenced to help and sent the first stamped material,

राहत सामग्री में चावल दाल, चीनी,नमक,तेल,चाय,बिस्किट,मच्छरदानी जैसी आवश्यक चीजे मौजूद थी,

The relief material was essential in the form of rice dal, sugar, salt, oil, tea, biscuits, mosquito nets,

दुतावास ने ट्वीट कर बताया है “भारत ने ऑपरेशन इंसानियत हाई कमीशन के तहत बांग्लादेश को मानवीय सहायता की फल खेप सौपी”

Dushavas tweeted “India has handed over the fruits of humanitarian aid to Bangladesh under the Operation Humanitarian High Commission”

आपको बतादें कि पहली खेप 53 टन की सौपी गयी है, सुषमा स्वराज के तहत ये रहत्र सामग्री भेजी गयी, भारत बांग्लादेश को 7000 टन राहत सामग्री भेजेगा,

Please tell you that the first ship has been handed over 53 tonnes, this sine material was sent under Sushma Swaraj, India will send 7000 tonnes of relief material to Bangladesh,

मोदी सरकार पर बना रहे विरोधी दवाब    

आपको बता दें कि रोहिंग्या मुस्लिमो को लेकर मोदी सरकार पर बहुत दवाब बनाया गया है कि वो रोहिंग्या को भारत में आने दे, जिसके कारण कई वाम्पंथी पत्रकार कांग्रेस पार्टी, मायावती, लालू सब एक साथ रोहिंग्याओ के समर्थक में उतर आये है,

Modi’s anti-government pressures

Let me tell you that there has been a lot of pressure on the Modi government regarding Rohingya Muslims, that they allow Rohingya to come to India, due to which many Pampanti journalist Congress Party, Mayawati, and Lalu have come together in support of Rohingya,

यही नही बंगाल के सीएम ममता ने तो ये तक कह दिया है कि रोहिंग्या मुसलमानों को बंगाल में वे तहे दिल से स्वागत करती है, इससे पहले अवैध बांग्लादेशी को वह सफलतापूर्वक घुसवा चुकी है , सबके आधार और वोटर आईडी कार्ड भी है,

Not only this, the CM of West Bengal, Mamta has betrayed Rohingya Muslims in West Bengal with full heart, before that she has successfully entered the Bangladeshi Bangladeshi successfully, there is also the basis and voter ID card of all,

इसके साथ अंतराष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग कर अध्यक्ष जैद बिन राद अल हुसैन भी भारत को हिदायत दे चुक्के है की रोहिंग्या की मदद करिये ,जिसके दवाब भी मोदी सरकार मानवाधिकार को सख्त लहजे में बता चुकी है कि रोहिंग्या देश के लिए आतंकी खतरा है, किनका कई आतंकवादी संगठन इस्तेमाल कर रहे है,

With this, the International Human Rights Commission, the President, Jed Bin Rad al-Hussein, has also instructed India to help Rohingya, the pressure of which Modi Government has conveyed to the human rights violation is that Rohingya is a terrorist threat to the country, many of whom are terrorists The organization is using,

जयपुर में फैलाया गया था दंगा          

इससे पहले अभी कुछ दिन पहले ही जयपुर में जो दंगा भड़काया गया उसमे भी रोहिन्य ही शामिल थे,4 क्षेत्रो में कर्फु लगाना पडा था, 4 पुलिस वाहन फूंक दिए, एम्बुलेंस जला दी गयी, पॉवर हाउस में आग लगाई गयी,’

Riot was spread in Jaipur

Earlier, just a few days earlier, the riot that was thrown in Jaipur was also involved in Rohini, 4 areas had to be set up, four police vehicles were burnt, ambulance burnt, powerhouse fire,

आपको बता दें कि मोदी सरकार पहले ही ये एडवाइज जारी कर चुकी है जिसके साथ-साथ सुप्रीम कोर्ट में भी हवाला दे चुकी है की रोहिंग्या मुस्लिम देश के लिए बहुत बड़ा आतंकी खतरा है, जिसके लिए सभी राज्य को ये आदेश दिए जा चुके है कि सभी अवैध रोहिंग्या को देश से बाहर निकल दुया जाये, साथ ही बॉर्डर को आधुनिक लेजर कैमरों की मदद से सिलकरवा दिया गया

Let me tell you that the Modi government has already issued this advice, along with which the Supreme Court has also mentioned that Rohingya is a great terrorist threat to the Muslim country, for which all the states have been ordered to All illegal Rohingya should be taken out of the country, along with the help of modern laser cameras bordered.

ध्यान देने वाली खबर: आपके एक शेयर से बचेगी लाखो,करोड़ो लोगो की जिन्दगी, कैंसर का ये बड़ा उपाय सब तक पहुंचाए

मित्रो, कैंसर हमारे देश में तेजी से बद रहा है ! हे साल लगभग बीस लाख लोग कैंसर से मर रहे है और हर साल कैंसर के बहुत नये केसेस आ रहे है आपको बता दें की कैंसर का १०० फीसदी इलाज ना होने से डॉक्टर्स भी अपना हाथ पैर दाल चुके है!

Friends, cancer is rapidly changing in our country! This year, about two million people are dying of cancer and many new cases of cancer are coming every year. Let us tell you that doctors have not even treated 100 per cent of the cancer treatment.

90% कैंसर पेशेंट्स लाखो  करोडो रुपया खर्च करके भी जिन्दा नही बच पते! लेकिन मित्रो आज हम आपको बता दें की ऐसा सरल घरेलू उपाय जिससे कैंसर का होगा 100% इलाज वो भी मात्र १०-20 रूपये के खर्च में, यकीं मानिये

90% of cancer patients spend lakhs of rupees without surviving the address alive! But friends, let us tell you today that such simple home remedies, where cancer will be 100% treated, even at the expense of 10-20 rupees.

एक छोटी सी विनती याद रखना की.. कैंसर के पेशेंट की कैंसर से डेथ नही होती ही, जो तेअत्मेंट उसे दिया जाता हहै उससे डेथ सबसे अधिक होरी है माने कैंसर से ज्यादा खतरनाक कैंसर का ट्रीटमेंट हाई ! ट्रीटमेंट कैसा है? आप सभी जानते है कीमोथेरेपी दे दिया, रेडियोथेरेपी दे दिया, कोबाल्ट-थेरेपी दे दिया !

Remember a small request. Cancer does not end with cancer, which is given to the instant that is the most horrendous death, the treatment of more dangerous cancer than the supposed cancer is high! How is the treatment? You all know chemotherapy, gave radiotherapy, gave cobalt-therapy!

इसमे क्या होता है की शारीर का जो प्रतिरक्षक शक्ति है रेजिस्टेंस पॉवर! वो बिलकुल खत्म हो जाती है! जब कीमोथेरेपी दिए जाते है! तो डॉक्टर बोलते है की हम कैंसर के सेल को मरना चाहते है लेकिन होता क्या है अच्छे सेल भी उसी के साथ मर जाते है राजीव भाई के पास कोई भी रोगी जो आया कीमोथेरेपी लेने के बाद राजीव भाई उसे बचा नही पाए ! लेकिन इसका उल्टा भी रिकॉर्ड है.. राजीव भाई के पास बिना कीमोथेरेपी लिए हुए कोई भी रोगी आया सेकंड & थर्ड स्टेज के कैंसर तक वो भी नही मर पाया!

What is this is that the resistance power of the body is the resistance power! He absolutely ends! When chemotherapy is given! So the doctor speaks that we want to die the cancer cell but what happens is the good cell dies with that. Any patient who came to Rajiv Bhai came after Rajiv Bhai could not save him after taking chemotherapy! But the opposite is also a record. Rajeev Bhai did not have any patients having chemotherapy for the second and third stage cancer, he could not even die!

जब स्टेज थर्ड क्रोस करके फोर्थ में पहुँच जाए तो तब रिजल्ट में प्रोब्लम आती है! और अगर अपने किसी रोगी को कीमोथेरेपी बैगेरा दे दिया तो फिर इसका कोई असर नही आता ! कितना भी पिलादो कोई रिजल्ट नही आता , रोगी मरता ही नही  अगर आप किसी रोगी को ये दवा दे रहे है तो उसे पुछ लिजिय जान लीजिये कंही कीमोथेरेपी शुरू तो नही हो गई ? शुरू हो गयी है अगर तो आप उसमे हाथ मत डालिए, जैसा डॉक्टर करता है,करने दीजिये , आप भगवान से प्रार्थना कीजिये उसके लिए .. इतना सारा

When crossing the stage and reaching the fourth, then the result comes in the result! And if you gave chemotherapy to one of your patients, then it has no effect! Even if there is no yellow results, the patient will not die, if you are giving this medication to any patient, then know that it has not started any chemotherapy. If you do not put your hand in it, as the doctor does, let’s do it, you pray to God for him .. so much

अगर कीमोथेरेपी स्टार्ट नही हुई है और उसने कोई अलोप्य्थी ट्रीटमेंट शुरू नही किया तो आप देखेंगे इसके मिराचुलोउस चमत्कारी रिजल्ट आते है, ये साडी दवाइयां काम करती ही बॉडी के रेसिस्तंस पर हमारी जो वितालिटी है उसको इमप्रोवे करता है हल्दी को छोड़कर गोमूत्र और पुनर्नवा शरीर के वितालिटी को इमप्रोवे करती है औ वितालिटी इमप्रोवे होने के बाद कैंसर सेल्स को कण्ट्रोल करते है !

If chemotherapy has not started and it does not start any inappropriate treatment then you will see its miraculous results come, if our Sari medicines work, we have immaturity on our body’s resistances, except for turmeric and cow urine and re- Improvize Vitality and after having a utility improve control the cancer cells!

तो कैंसर के लिए आप अपने जीवन में इस तरह से काम का सकते है, इसके आलावा भी बहुत साडी मेडिसिन्स है जो थोड़ी कोम्प्लिकाटेड है वो कोई बहुत अच्चा डॉक्टर या वैध उसको हंडल करे तभी होगा आपसे अपने घर में नही होगा ! इसमे एक सावधानी रखनी है के गाय के मुत्र लेते समय वो गर्भवती नही होई चाहिए गाय की जो बछड़ी हो जो माँ नही बनी उसका मूत्र आप कभी भी यूज कर सकते है!

So for cancer, you can work in your life like this, there is also a lot of sad medicines, which is a bit complicated, it will be a very good doctor or legitimate person, if you do not have it in your own house! There is a caution in taking care of the cow’s gut, it should not become pregnant, which is the cow of cow which is not made, it is the Urine that you can use anytime!

जिन्दगी में कैसर हो ही न ये और भी अच्चा है जानना ! तो जिन्दगी में आपको कभी भी कैंसर न हो उसके लिए एक चीज याद रखिये , हमेशा जो खाना खाय उसमे डालडा घी तो नही है उस्म रीफाएंड आयल तो नही हाई, हमेशा शुद्ध तेल खाए अर्थात सरसो नारियल मूंगफली का तेल खाने में प्रयोग करें और घी अगर खाना है तो देशी गाय का घी खाए

It is not even better to know the life of Kaiser in life! So remember one thing for you not to be cancerous in life, always eat whatever you eat. If you have not eat well, then you should always eat pure oil. Use coconut peanut oil and eat ghee. If you have food then eat the domestic cow’s ghee

ये देख लीजिये , दूसरा जो भी खाना खा रहे है उसमे रेशेद्दर हिस्सा ज्यादा होना चाहिए जसे छिलके वाली सब्जियां खा रहे चावल भी छोल्के याली खा रहे है तो बिलकुल नश्चित रहिये कैंसर होने का कोई चांस नही है!

Let’s see, the other person who is eating, the rhesus should be more like this, as rice is eating vegetables with vegetables, even if they are eating small amounts, then be absolutely sure there is no chances of cancer!

और कैंसर के सबसे बड़े कारणों में से दो तीन कारन है की, एक तो कारन है तम्बाकू दूसरा है बीडी और सिगरेट और गुटका ये चार चीजो को तो कभी भी हाथ मत लगाना क्योंकि कैंसर के मक्सिमम केसेस इन्ही के कारण है पूरे देश में ! कैंसर के बारे में साडी दुनिया एक ही बात कहती है चाहे वो डॉक्टर हो, के इससे हो के बचाव ही इसका उपाय है,

And two of the biggest causes of cancer are three reasons why there is one reason why tobacco is the second is not to put BD and cigarette and gutka to the four things because the maximum cases of cancer are due to the same in the whole country! About the cancer, the Sadi world says the same thing, even if it is a doctor, it is the remedy to be protected from it.

महिलायो को आज कल बहुत से कैसर है उतेरुस में गर्भाशय में, स्तनों में और ये काफी तेजी से बढ़ रहा है… टुमौर होता हाई फिर कैंसर में कन्वर्ट हो जाट है ! तो माताओ को बहनों को क्या करना जिससे जिन्द्दगी में कभी टुमौर होता आये? आपके लिए सबसे अच्छा प्रिवेंशन ही की जैसे ही आपको आपके शरीर के किसी भी हिस्से में UNWANTED ग्रोथ रशोली गांठ का पता  चले तो जल्द ही आप सावधान हो जाइये हालांकि सभी गांठ और सभी रशोली कैंसर नही होती है 2-3% ही कैंसर में कन्वर्ट होती है

There are many cousins in the womb today in the uterus in the uterus, and in the breasts, it is growing rapidly … The tumor is high then cancer is converted into a jac! So what do the mothers do to sisters so that they have never been in Tumour in life? As soon as you know the UNWANTED Growth Rasholi lump in any part of your body, you should be careful though, although not all lumps and all rasholi cancer are 2-3% only converted to cancer. is

आपको सावधान होना तो पड़ेगा ! माताओ को अगर कंही भी गांठ या रसोली हो गयी जो नॉन-कान्सरोउस है तो जल्दी से जल्दी इसे गलाना और घोल देने का दुनिया में सबसे अधिक दावा है चुना ! चुना वो ही जो पान में खाया जाता है जो पोती में इस्तेमाल होता है पानवाले की दुकान से चुना ले आइये उस चुने को कनक के डेन के बराबर रोज खाइए इसको खाने का तरीका है पानी में घोल के पानी पि लीजिए दही में घोल ले दही पि लीजिये दाल में मिलके दाल खा लीजिये सब्जी में डालके सब्जी खा लिजिए पर ध्यान रहे पथरी के रोगी के लिए चुना वर्जित है !

You have to be careful! If the mother had any lumps or result, which is noncancerous, then it is the most claim in the world to swallow and dissolve it as soon as possible! The one who is eaten is eaten in the panel which is used in the granddaughter. Take it from the paan Wala shop. Take that choice to eat the equivalent of the donation of Kanak every day. It is the method of eating it. Take the solution water in the water and stir it in the card. Take the pulse of lentils in the pulse. Take the vegetables in the vegetable and take care of the attention of the patient for the calculus is barred!

 

 

अभी अभी: एक पाक 1947 में बना पर आज तो पूरे भारत के हिस्से में पाकिस्तानी जिहादी मुस्लिम फ़ैल गए- प्रशांत पटेल

2 बड़ी घटनाये देश के 2 प्रमुख शहरो में हुई है वरंशी जो भारत ही नही दुनिया का सबसे पुराना शहर है, भारत की सांस्क्रतिक राजधानी है ओर जयपुर जो देश का प्रमुख शहर है, पर्यटन स्थल है

2 big events have happened in the two major cities of the country, Varanasi which is not only India but also the oldest city in the world, is the cultural capital of India and Jaipur which is the main city of the country, is a tourist destination

जिहादी भीड़ ने वाराणसी में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाये जाने वाले सभी हज यात्री हज यात्रा से वापस आकर वाराणसी में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाये

The Jihadi crowd returned from all Haj pilgrims hajj pilgrims shouted slogans of Pakistan Zindabad in Varanasi and returned slogans of Pakistan Zindabad in Varanasi.

वहीं जयपुर को तो 2500 की जिहादी भीड़ ने पूरी तरह जला ही दिया दर्जनों पुलिसकर्मी को अधमरा किया, तेजाब की बोतल, पत्थरों को छतो पर जमा किया, जिहाद की पूरी तैयारी

On the other hand, the 2500 jihadis were burnt completely by the jihadi crowd, dozens of policemen were abusive, the acid bottles, the stones deposited on the terrace, the complete preparation of the jihad

सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत पटेल ने भारत स्तिथि पर एक गंभीर ट्वीट किया है वाराणसी में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे और जयपुर में दंगे एक पाकिस्तान तो १९४७ में भारत को तोड़कर बनाया गया अपर आज भारत के कोने कोने में कई पाकिस्तान बन चुके है

Supreme Court lawyer Prashant Patel has tweeted a serious tweet on India’s situation: The slogan of Pakistan Zindabad in Varanasi and the riots in Jaipur were created by breaking a Pakistan in 1947. Today, India has many Pakistanis in the corner of India.

भारत का सेकुलरिज्म भारत को अंदर लगातार खाए जा रहा है

India’s secularism is being eaten indoors indoors

१९४७ में भी पाक और भारत का बटवारा हुआ था! लेकिन आज तो पूरे पाक ने ही भारत में अपना कब्जा कर लिया है,जिहादियो की संख्या बढती ही जा रही है और वो हिन्दुओ को चोट पहुँचने की फ़िराक में है,

Pak and India were also divided in 1947! But today, the whole Pak has captured itself in India, the number of Jihadis is increasing and it is in the midst of the hurting of the Hindus,

वो ये चाहते है की जल्द से जल्द पाक और जिहादी मुस्लिमो का ही कब्जा हो जाये, वो इसी मौके की फ़िराक में है कि कब हम हिन्दुओ पर सिकंजा कसे और इन्हे दबोच ले,

He wants that soon Pakistan and Jihadi Muslims should be captured, it is in the immediate context of the moment that when we seize and seize Hindus,

इसी के चलते हुए इन्होने अपनी जिहादी मुस्लिम सेना भी तैयार कर ली है ये पूरी तैयारी में है की कब हिन्दू हमारे कब्जे में आये और हम इन्हे मार गिराए

Due to ESI, they have prepared their own jihadist Muslim army. It is in full form when the Hindus came under our control and we killed them.

भारत को अंदर ही अंदर एक डर सा बैठ गया है की कंही इस जंग से बेचारे मासूम ना मारे जाये !

India is sitting inside a fear that inside the innocent, innocent innocent should not be killed!

जिस देश के लोग अपने देश में होने वाली ऐतिहासिक घटनाओं से सबक नहीं लेते वह इतिहास के पन्नों खो जाते है . और जिस देश के लोग अपने देश के शत्रुओं की कपट नीति जाने बिना उन से दोस्ती की अपेक्षा रखते है .

The people of a country who do not take lessons from historical events in their country are lost in the pages of history. And the people of that country expect friendship from them without knowing the falsity of their enemies.

वह लोग उन्ही शत्रुओं के हाथों से नष्ट हो जाते हैं .इतिहास साक्षी है कि लगभग सातवीं शताब्दी से लेकर आजतक मुस्लिम हमलावर , आतंकवादी भारत पर लगातार हमले करते आये हैं .

Those people are destroyed by the hands of their enemies. History is witness to the fact that since the seventh century AD, there have been auspicious Muslim invaders, the terrorists have been constantly attacking India.

पहले जो हमलावर आये थे वह तलवार लेकर इस्लाम का शांति सन्देश फ़ैलाने और यहाँ के हिन्दुओं को मुसलमान बनाने के लिए आये थे .लूटमार करना तो मुसलमानों का स्वभाव है ,

The attackers who had come earlier had come with the sword to spread the message of Islam and to make Hindus here Muslims. To kill is the nature of the Muslims,

जब उन लोगों ने अपने देश बर्बाद कर दिए तो भारत को क्यों छोड़ देते .उनका असली उद्देश्य तो भारत को इस्लामी देश बनाना था . और जब दुर्भाग्य से भारत के जिस भाग में भी इस्लामी हुकूमत बन गयी थी तो मुस्लिम बादशाहों ने बड़े प्रेम से क्रूरता पूर्वक लोगों को मुसलमान बना लिया . और जिसने भी इस्लाम से इंकार किया उनकी शांति पूर्वक सामूहिक हत्याएं करा दी . और प्रेम पूर्वक उनकी औरतों पर बलात्कार किया .

When those people had ruined their country, why did they leave India? Their true purpose was to make India an Islamic country. And when the unfortunate part of India became an Islamic rule, the Muslim rulers became cruel to people with great love. And whoever denied Islam, they peacefully massacred them. And raped their women with love.

यहाँ तक बच्चों को भी दीवाल में जिन्दा चुनाव दिया .क्योंकि इस्लाम प्रेम और शांति का धर्म है , औरअल्लाह ने मुहम्मद को दुनिया के लिए रहमत और दयालुता बनाकर भेजा था .

Even the children were given the live election in the wall. Because Islam is the religion of love and peace, and Allah sent Muhammad to the world by creating mercy and kindness.

हम भारत पर सभी हमलावर , लुटेरों ,आतंकवादियों को अपराधी नहीं बल्कि जिहादी मानते हैं .और जिहाद इस्लाम में अनिवार्य और पवित्र कार्य माना गया है .हमें स्वीकार करना होगा कि मुसलमान जहाँ भी रहेंगे जिहाद करते रहेंगे .

We treat all attackers, robbers, terrorists as criminals, not jihadists on India. And jihad has been considered as mandatory and sacred work in Islam. We have to accept that Muslims will continue to fight Jihad wherever they live.

अंतर केवल इतना है कि पहले जिहादी फौजें लेकर जिहाद करते थे आजकल गुप्त रूप से बम विस्फोट करते हैं .फिर भी जो सेकुलर लोग हिन्दू मुस्लिम एकता की वकालत करते हैं ,हम उन से यह सवाल पूछना चाहते हैं

The only difference is that Jihad used to carry out jihad with jihad in the past, nowadays they secretly bomb. However, the secular people who advocate Hindu Muslim unity, we want to ask this question to them.

 

VIDEO : धर्म निरपेक्ष ताकतों के मुंह पर कंगना का जोरदार तमाचा, एक बार जरुर देखें..!

बॉलीवुड की क्वीन कंगना रानौत अक्सर अपने चोकने वाले बयानों के लिए मीडिया पे छाई रहती हैं . फिर चाहे अज़ान विवाद को लेकर सोनू निगम के विचारों का समर्थन करना हो या फिर लाइव TV पर अपने आप को बरखा दत्त के सामने खुले आम एक सनातनी हिन्दू होने का दावा करने का बयान हो!

Bollywood queen Kangana Ranaut is often spotted on the media for her cheeky statements. Whether it is to support Sonu Nigam’s views on the Azan dispute or to make a statement about claiming to be openly open to Barkha Dutt on the live TV, a common conservative Hindu.

इसमें कोई दोहरे रूप की बात नहीं कंगना रानौत एक सच्ची सनातनी हिन्दू क्षत्रिय हैं और बॉलीवुड के एनी दोगले सेक्युलर हिन्दू कलाकारों से उलट जा कर वो हिंदुत्व के पुरोधा स्वामी विवेकानंद के विचारों का अध्ययन करती हैं!

There is no double form in it Kangna Ranaut is a true conservative Hindu Kshatriyas and by contrasting Bollywood’s Anne Dogale secular Hindu artists, they study the views of Swami Vivekananda, the pioneer of Hinduism.

जहां एक तरफ बॉलीवुड के एनी कलाकार बीफ खाने का समर्थन करते हैं और असहिष्णुता का राग अलापते हैं कंगना ने उनको ऐसा करारा जवाब दिया है. ऐसे में कंगना रानौत ने कल हिन्दू धर्म की सबसे पवित्र नगरी वाराणसी में जाकर ब्राह्मणों के साथ मिल कर वैदिक रीति रिवाज़ से पूजा अर्चना करी और साथ ही साथ माता गंगा नदी में पवित्र स्नान भी किया और वो भी हर हर महादेव के जय घोष के साथ!

While on the one hand Bollywood actors support eating beef and chant the intolerance chaos, Kangana has given such a convincing answer to them. In this way, Kangana Ranaut visited Varanasi, the holy city of Hinduism, in the holy city of Varanasi, and worshiped with the Brahmins worshiping the Vedic rituals, as well as performed a holy bath in the river Ganga and also with Jai Ghosh of Har Har Mahadev.

source : hawkfeed.com/

अभी अभी: बुलेट ट्रेन के लिए भारत के पास पर्याप्त पैसा नहीं था, लेकिन प्रधान मंत्री मोदी ने सिद्ध किया कि कुछ भी असंभव नहीं है

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और उनके जापानी समकक्ष शिंजो आबे, गुरुवार को अहमदाबाद से मुंबई तक जुड़ने वाली भारत की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए नींव रखेंगे। जबकि विपक्षी रो रही थी कि हम बुलेट ट्रेन के लिए धन की व्यवस्था नहीं कर सकते, प्रधान मंत्री मोदी ने इतनी बड़ी डील को तोड़ दिया है, आप कहेंगे कि वह एक असली प्रतिभाशाली है

Prime Minister Narendra Modi and his Japanese counterpart Shinzo Abe will lay the foundation for India’s first bullet train project on Thursday connecting Ahmedabad to Mumbai. While the opposition was crying that we can not arrange funds for the bullet train, Prime Minister Modi has broken such a big deal, you will say that he is a genius.

10 कारों और 750 लोगों को समायोजित करने की क्षमता वाली उच्च गति वाली ट्रेन, दोनों शहरों के बीच सात से तीन घंटे के बीच यात्रा के समय को कम करने की उम्मीद है। बाद में, ट्रेन में 16 कारें होगी जो 1200 लोगों को समायोजित करेगा।

A high-speed train with a capacity to adjust 10 cars and 750 people, is expected to reduce the travel time between seven to three hours between the two cities. Later, the train will have 16 cars which will accommodate 1200 people.

लगभग 1.10 लाख करोड़ रुपये परियोजना पर खर्च किए जाएंगे जिनमें से 88,000 करोड़ रुपये को जापान से नरम लोन द्वारा वित्त पोषित किया जाएगा। 2023 की समाप्ति की समय सीमा अग्रिम 2022 के लिए लाई जा सकती है जब देश 75 साल की स्वतंत्रता मनाता है

About 1.10 lakh crore will be spent on the project, out of which Rs 88,000 crore will be funded by a soft loan from Japan. The expiration date of 2023 can be bought for 2022 when the country celebrates 75 years of independence

जापानी ऋण केवल 0.1% ब्याज दर पर उपलब्ध होगा और भारत को 50 वर्षों में आसानी से चुकाने की आवश्यकता है। ऋण प्राप्त होने के 15 साल बाद पुनर्भुगतान शुरू हो जाएगा। मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन 320 किमी प्रति घंटे की गति से चल रही है और अधिकतम 350 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चल रही है, 12 स्टेशनों – बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स, ठाणे, विरार, बोईसर, वापी, बिलिमोरा, सूरत, भरूच, वडोदरा, आनंद, अहमदाबाद और साबरमती

Japanese loan will be available only at 0.1% interest rate and India needs to repay easily in 50 years. Repayment will start after 15 years of receiving the loan. The Mumbai-Ahmedabad bullet train is running at 320 km and is running at a speed of 350 kilometers per hour, 12 stations – Bandra Kurla Complex, Thane, Virar, Boisar, Vapi, Bilimora, Surat, Bharuch, Vadodara, Anand, Ahmedabad, and Sabarmati

508 किलोमीटर के गलियारे में, 468 किमी की ऊंचाई बढ़ेगी, 27 किमी एक अंडरसिया सुरंग से गुजरती है और शेष 13 किमी भूमि होगी। हालांकि किराया संरचना को अभी तक अंतिम रूप दिया जाना नहीं है, लेकिन मौजूदा एसी प्रथम श्रेणी के किराया में यह 1.5 गुना हो सकता है।

In the 508-kilometer corridor, the height of 468 km will increase, 27 km under an undersea tunnel and the remaining 13 km will be land. Although the rent structure has not yet been finalized, it can be 1.5 times in existing AC first class fare.

मुंबई से अहमदाबाद की यात्रा के लिए, एक यात्री को 2,700 रुपये से 3,000 रुपये के बीच का भुगतान करना होगा। इस मार्ग पर हवाई जहाज का किराया 3,500 रुपये से 4,000 रुपये के बीच है। एक अधिकारी ने बताया कि मुंबई से अहमदाबाद तक लक्जरी बस किराया करीब 1500 रुपये से 2,000 रुपये है।

For travel from Mumbai to Ahmedabad, a passenger must pay between Rs 2,700 and Rs 3,000. Airfare on this route is between Rs 3,500 and Rs 4,000. An official said that luxury bus fares from Mumbai to Ahmedabad are around Rs 1500 to Rs 2,000.

इसके अलावा, साबरमती में यात्री टर्मिनल और बड़ौदा में उच्च गति वाली रेल संचालन के लिए एक प्रशिक्षण केंद्र पर काम भी समारोह में घोषित होने की घोषणा की गई है, जिसे गुजरात और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों और शीर्षस्थ पीठों ने भाग लिया है। भारतीय रेलवे का

Apart from this, work has also been announced at the training center for the passenger terminal in Sabarmati and high-speed rail operations in Baroda, which has been attended by the Chief Ministers of Gujarat and Maharashtra and the top benches. Indian railway

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हम 2023 से 15 अगस्त, 2022 तक हाई स्पीड ट्रेन लॉन्च करने के लिए जापान के साथ चर्चा कर रहे हैं, 75 साल की आजादी के साथ।

A senior Railway official said that we are discussing with Japan to launch the High-Speed Train from 2023 to 15 August 2022, with 75 years of independence.

बड़ौदा में हाई-स्पीड ट्रेनिंग सेंटर 600 करोड़ रूपए की अनुमानित लागत से बनाया जाएगा। केंद्र के लिए पांच हेक्टेयर भूमि निर्धारित की गई है। जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई-अहमदाबाद हाई-स्पीड ट्रेन चलाने के लिए 400 प्रशिक्षित कर्मचारियों की आवश्यकता है

The high-speed training center in Baroda will be built at an estimated cost of 600 crores. Five hectares of land have been fixed for the center. According to the Japan International Cooperation Agency report, 400 trained workers are required to run the Mumbai-Ahmedabad high-speed train.

वर्तमान व्यवस्था के अनुसार, आगामी रेलवे के लिए 300 रेलवे अधिकारी जापान में प्रतिवर्ष प्रशिक्षित होंगे। एक बार बड़ौदा में केंद्र 2020 तक काम कर रहा है, करीब 1200 रेलवे अधिकारी को संस्थान में हर साल बैच में प्रशिक्षित किया जाएगा।

According to the present system, 300 railway officials will be trained every year in Japan for the upcoming railway. Once the center is working in Baroda till 2020, about 1200 railway officials will be trained in the batch every year at the Institute.

उच्च गति रेल में मुंबई और अहमदाबाद के बीच 12 स्टेशन होंगे। प्रस्तावित स्टेशनों में बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स, ठाणे, विरार, बोईसर, वापी, बिलिमोरा, सूरत, भरूच, वडोदरा, आनंद, अहमदाबाद और साबरमती हैं।

There will be 12 stations between Mumbai and Ahmedabad in high-speed rail. The proposed stations include Bandra Kurla Complex, Thane, Virar, Boisar, Vapi, Bilimora, Surat, Bharuch, Vadodara, Anand, Ahmedaba, and Sabarmati.

बड़ी खबर: रोहिंग्या मुस्लिमो ने मचाया भारत पर आतंक, हिन्दुओ ने ये करनी की ठानी

हिन्दुओ की निष्क्रियता भी एक मूल कारण है की उसके साथ इनता भेदभाव हो रहा है की. जम्मू कश्मीर में कश्मीरी हिन्दुओ को ही वापस बसाने की बात आती है तो वहां कहा जाता है की ये तो डेमोग्राफी बदलने की साजिश है,

The inertia of Hindus is also one of the basic reasons that discrimination is going on with him. If it comes to re-establishing Kashmiri Hindus in Jammu Kashmir, then it is eaten there that it is a conspiracy to change demography,

जब भारत के अन्य इलाकों के नागरिक की बात आती है तो वहां खा जाता है वो नही बस सकते यहाँ ३७० लगा हुआ है, ३५ A लगा हुआ है,

When it comes to the citizens of other areas of India, then they eat there, they can not just sit here at 370, 35 A is situated,

कुल मिलकर हिन्दू जम्मू में नही बस सकते

Together, Hindus can not sit in Jammu

पर रोहिंग्या मुसलमानों के मामले में ३७० और ३५A न जाने कहाँ हवा हो जाता है, सिर्फ हिन्दू के लिए ही है

But in the case of Rohingya Muslims, the food is not eaten by 370 and 35A, it is only for the Hindus.

दुनिया भर के मुस्लमान भारत में बस सकते है, सोमलिया अफगानिस्तान बांग्लादेश रोहिंग्या सभी भारत में बस सकते है, यह तक की चीन का उइगर मुस्लमान भी भारत में बस सकता है प् हिन्दू जम्मू में नही बस सकता

Muslims from all over the world can sit in India; Somalia Afghanistan Bangladesh can sit in Rohingya all over India, even China’s Uighur Muslims can also be settled in India. Hindus can not live in Jammu

हिन्दुओ की निष्क्रियता भी एक मूल कारन है की उसके साथ इतना भेदभाव हो रहा है और हिन्दुओ को इतने भेदभाव पर अब विचार करने और अपनी चुप्पी तोड़ने की जरूरत है, चूँकि अन्याय सहन करना भी एक तरह से पाप है

The inactivity of Hindus is also an original reason that such discrimination is taking place with them and Hindus need to consider such discrimination now and break their silence, as it is also a sin to tolerate injustice

खास खबर: डोकलाम पर चीन ने चली ये भयानक चाल, पूरे देश समेत मोदी जी के भी उड़े होश !

भूटान के पठार में स्थित डोकलाम को लेकर भारत और चीन के बिच तलवारें लटकी हुई हैं . चीन के हजारों तन सैन्य सामग्री से लैस सैनिक दस्ते को सिक्किम बॉर्डर के लिए रवाना किया डोकलाम मुद्दे पर भारत के तख्त रवैये को देखते हुए चीन ने यह कदम उठाया जो उसकी पडोसी देशो पर दवाब बनाने की रणनीति का हिस्सा बना हालाँकि एस बार चीन के मनसूबे सफल होते नही दिखाई दिए.

India and China are locked in the middle of the docklam in the Bhutan plateau. China’s military equipped with tens of thousands of military equipment left for Sikkim border, considering China’s crackdown on the issue of drought, China took this step, which became part of the strategy to make pressure on neighboring countries, Do not appear to be successful.

भारत ने डोकलाम पर अपना रुख पूरी तरह से स्पष्ट पर दिया था कि वह यहाँ से पीछे हटने के लिए तैयार नही है.इसी कड़ी में भारतीय जवानो ने अपने तम्बू भी गाड दिए है ऐसे में यह जानना जरूरी हो जता है की डोकलाम पर पूरा विवाद आखिर है क्या ! और क्यों चीन ने भारत के खिलाफ नाक का प्रश्न बना किया है. यह जानना भी जरूरी है कि आखिर डोकलाम का इतिहास क्या है. आईये एक बार डालते है इस पूरे विवाद पर नजर.

India had completely stymied his stand on the docs mouth that he is not ready to retreat from here. In this episode, the Indian soldiers have given their tent too, in this case, it is necessary to know that the entire controversy over Dokalam What is the end! And why China has made a nose question against India. It is also important to know what is the history of Doka lam. Come on let’s take a look at this whole dispute.

भौगोलिक रूप से डोकलाम भारत चीन और भूटान बॉर्डर के तिराहे पर स्थित है. जिसकी भरता के नाथुला पास से मात्र १५ किलोमीटर की दुरी है. चुंबी घाटी में स्थित डोकलाम सामरिक द्रष्टि से भारत और चीन के लिए काफी महत्वपूर्ण है. साल १९८८ और १९९८ में चीन और भूटान के बिच समझोता हुआ था की दोनों देश डोकलाम क्षेत्र में शांति बनाये रखने की दिश में काम करेंगे !

Geographically, Dokalam Bharat is located on the threshold of China and Bhutan border. Whose filling is only 15 kilometers away from Nathula Pass? Dokalam, located in the Magnetic Valley, is strategically important for India and China. In 1988 and 1998, between China and Bhutan, it was agreed that the two countries would work in the direction of maintaining peace in the region.

भारतीय सैनिक भी अभी डोकलाम पठार पर बने हुए है और देशों के सैनिक सिर्फ १५० मीटर की दुरी पर एक दुसरे के सामने है. चीनी सैनिको ने डोकलाम पठार के निचले हिस्से में बंकर बना रखे है. जिसके चलते दोनों देशो के बिच फिर से तनाव पनपने का खतरा हुआ है.

Indian soldiers are still on the Dokalam Plateau and the soldiers of the countries are in front of each other just 150 meters away. Chinese troops have built a bunker in the lower part of the Dokalm plateau. This has led to the threat of tension between the two countries.

भारतीय और चीनी के बिच नाथू ला पास प्र आठ सितम्बर को हुई कमांडर स्तरीय बैठक में भारत ने यह मुद्दा उठाया छार घंटे तक चली इस बैठक में भारत ने जोर देकर खा है कि जब तक चीनी सैनिक इलाके को खली नही कर देते तब तक २८ अगस्त को हुआ डिसंएगेज्मेंट का समझौता पुरा नही होगा.

During the Commander-level meeting held on September 8, between India and China, India raised this issue, which took place in the six-and-a-half hour long meeting in which India has emphasized that unless the Chinese military has cracked the area, on August 28 The agreement will not be completed.

चीनी सेना ने बैठक में भारत से खा है कि अपने सुपीरियर ऑफिसर्स से राय-मशविरा कर वे आपस हटेंगे. भारत चीन और भूटान की तिहरी सीमा से लगे विवादित डोकलाम पठार पर अभी भी दोनों के सैनिक बने हुए है, हालाँकि उनकी संख्या की पुष्ठ जानकारी नही है!

The Chinese army has eaten in India from the meeting that they will be withdrawn after consulting their superiors. India still remains a soldier on both sides of the disputed Dokalam Plateau, which is on the Triple border of China and Bhutan, although their number is not well known!

चीन के शियामेन में 3-५ सितम्बर के बिच हुए ब्रिक्स शिखर सम्मलेन में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे से ठीक पहले २८ अगस्त को कुटनीतिक बातचीत के जरिये डोकलाम विवद को सुलझा लिया था और दोनू के बिच विवादित इलाके से अपने आपने सैनिको को वापस बुलाने पर सहमती बाण गई थी

On August 28, exactly before the visit of Prime Minister Narendra Modi, during a bilateral summit held in Shi’in of China between September 3-5, Dullam Vivad was resolved through intriguing dialogue and the two by itself would bring back the troops from the disputed area. Agreed on

अभी अभी : जानिए अखाडा परिषद् द्वारा जरी की गई लिस्ट में किन-किन ” ढोंगी बाबाओं ” के नाम हैं शामिल..!

राम रहीम, आसाराम और राधे मां जैसे कई नमी-दमी धर्म,संस्कृति और संस्कारों का ज्ञान देने वालो के नाम इसमें शामिल है. ये सभी लोग वैसे तो धर्म पर बड़े-बड़े प्रवचन देते है लेकिन इनकी असलियत कुछ और ही देखने को मिलती. माना तो यह जता है कि इन ढोंगियों का बाहरी दुनियां से कोई मोह नही है परन्तु ये सब सिर्फ एक दिखावा है. लोगो को मुर्ख बनाने का एकमात्र साधन है!

It includes the names of those who give knowledge of many humidity-religions, culture and rites like Ram Rahim, Asaram and Radhe Ma. All these people, however, give great speeches on religion, but their reality is something else.It is believed that these hypocrites do not have any attachment to the outer world, but all this is just a sham. The only means of fooling people.

नई दिल्‍ली : देश में एक के बाद एक बाबाओं को लेकर हो रहे विवादी मामलो के बाद अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने इस विषय पर एक्‍शन लेने का मन बनाते हुए फर्जी बाबाओं की लिस्ट जारी की है. इसी मसले पर उत्‍तरप्रदेश के इलाहाबाद में रविवार को अखाड़ा परिषद की एक बैठक हुई.

New Delhi: After the controversial cases related to one Baba in the country, Akhil Bhartiya Akhara Parishad has issued a list of fake Baba while making an intention to take action on this subject. On this issue, a meeting of the Akhara Parishad held in Allahabad in Uttar Pradesh on Sunday.

इसके बाद ये सूची जारी की गई. मीटिंग सुबह 11 बजे से शुरू हुई ओर काफी देर तक चली. अखाड़ा परिषद के अध्‍यक्ष नरेंद्र गिरी ने ऐसे ढोंगी बाबाओं की लिस्ट जारी की, जो धर्म के नाम पर फर्जी तरीके से लोगों को गुमराह कर रहे हैं!लोगो को आपस में लड़ा रहे हैं.एक दुसरे को धर्म के नाम पर भड़काकर विरोध पैदा कर रहें हैं. गौरतलब है कि आसाराम, रामपाल और अभी हाल ही में एक ओर ढोंगी बाबा राम रहीम के बाद संतों के नाम की बहुत किरकिरी हुई है.

After this the list was released. The meeting started from 11am onwards and lasted for a long time. The president of the Akhara Parishad Narendra Giri released a list of such hypocrites who are misleading people in the name of religion!The people are fighting against each other. They are creating protests by spreading one another in the name of religion. It is noteworthy that Asaram, Rampal and recently a lot of cheating on the one side has been very rampant in the name of saints after Baba Ram Rahim.

इसलिए ऐसे ही कुछ बाबाओं की लिस्‍ट जारी की गई है, जो काफी समय से विवादों में हैं. इस लिस्ट में उन सभी बाबाओं के नाम है जो काफी अरसे से बाबा ढोंग रचकर हिन्दुओं को आपस में लड़ा रहें है!

Therefore, a list of some such Baba has been issued, which has been in dispute for a long time. In this list, there is the name of all the Baba who have been fighting the Hindus together for a long time.

अखाड़ा पर‍िषद ने जारी की गई ‘ढोंगी’ बाबाओं की लिस्ट जो नाम शामिल है वो कुछ इस प्रकार है…
1.आसाराम बापू उर्फ आशुमल शिरमलानी
2.सुखविंदर कौर उर्फ राधे मां
3.सच्चिदानंद गिरि उर्फ सचिन दत्ता
4.गुरमीत सिंह राम रहीम
5.ओम बाबा उर्फ विवेकानंद झा
6.निर्मल बाबा उर्फ निर्मलप्रीत सिंह
7.इच्छाधारी भीमानंद उर्फ शिवमूर्ति द्विवेदी
8.स्वामी असीमानंद
9.ओम नम: शिवाय बाबा
10.नारायण साईं
11.रामपाल

The name of the ‘Dhongi’ Baba, which has been released by the Akhara Parishad, is something like this …
1.Asaram Bapu alias Ashamal Sharmalani
2. Sukhwinder Kaur aka Radhe Ma
3.Schidanand Giri aka Sachin Dutta
4.Gurmeet Singh Ram Rahim
5. Om Baba aka Vivekanand Jha
6. Nirmal Baba alias Nirmalpreet Singh
7. Whistle Bhimanand aka Shivamurthy Dwivedi
8. Swami Aseemanand
9. Om Namah: Sage Baba
10. Narayan Sai
11. Ram Pal

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कहा गया है कि अखाड़ा परिषद् की बैठक में फर्जी बाबाओं की लिस्ट जारी करने के बाद इसे सरकार को सौंप दिया जाएगा. ऐसा इसलिए होगा जिससे कि इन बाबाओं के खिलाफ कड़े से कड़ा एक्शन लिया जा सके, जो गलत तरीके से आस्था के नाम से खिलवाड़ कर रहे हैं. आस्था के नाम पर लोगो में विवाद उत्त्पन्न करते है उन्हें गुमराह कर एक-दुसरे का प्रतिदुंदी बनाते है. धर्मं के नाम पर लोगो को आपस में लड़वाते है!

According to the media report, it has been said that after issuing the list of fake Baba in the Akhara Council meeting, it will be handed over to the government. This will be so that strict action can be taken against these babas who are mistakenly playing in the name of faith. In the name of faith, there is a controversy in the people, they make mischief by one another. In the name of religion, people are fighting against each other.

अब यह भी जरुर पढ़ें : अब आसानी से नहीं मिलेगी ‘संत’ की उपाधि, राम रहीम मामले के बाद तय हुई यह नई प्रक्रिया इस तरह समय-समय पर सामने आ रहे इन ढोंगी बाबाओं के नामों से यह तो साफ हो गया है कि अब से सरकार एक नई निति बनाने जा रही है जिसमे ये सुनिश्चित किया जायेगा कि कभी भी कोई भी बाबा बनकर इस तरह का असामाजिक कार्य न के सकें!

Now read this too: Now it is not easy to get the title of ‘saint’, this new process, fixed after the Ram Rahim case, has been made clear from the names of these deceitful Baba from time to time, that now Government is going to create a new policy in which it will be ensured that no one can ever do such anti-social work by becoming a Baba.

आपको बता दें कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद में देश के 13 अखाड़े शामिल हैं. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने कहा, ‘काफी दिनों से फर्जी बाबाओं के द्वारा बलात्कार, शोषण की खबरें आती जा रही हैं. ऐसे कई बाबाओं के खिलाफ देश की अदालतें भी फैसला सुना चुकी हैं. ऐसे में हिंदू धर्म और संत समाज की बदनामी होती है.’इस प्रकार से तो अन्य संतों के नाम भी ख़राब हो रहे है जो लोगो को धर्म का सही मतलब बतातें है!

Let us know that the All India Akhara Parishad comprises 13 of the country’s arena. The president of the Akhara Parishad Narendra Giri said, “There have been reports of rape, exploitation by the fake Baba for a long time. The courts of the country have also been heard against such many Baba. In such a situation, there is a defamation of Hindu religion and saint society. Thus, the names of other saints are also going down, which means the true meaning of religion to the people.

आगे जरुर पढ़ें: राम रहीम के डेरे में दो दो सुरंगें पाई गई है, जहाँ पता चला है कि बिना लाइसेंस चल रहा था स्‍किन बैंक.ऐसे ही बहुत से ऐसे राज सामने आये है जो आप लोगों को हैरान कर देगा. इतनी सुविधांए तो आपलोगों के पास भी नही है जो राम रहीम के घर में देखने को मिली है. ये राम रहीम काफी समय से गैर क़ानूनी तौर पर स्‍किन बैंक का धंधा चला रहा था. अब जाकर इसका सच सामने आया है. अभी भी बहुत से ऐसे राज है जो खुलना बाकि है!

Further reading: Ram Rahim’s dera has seen two two tunnels, where it has been found that the skin bank was running without license. Similarly, many such rajas have come out that you will be surprised by the people. You do not even have such facilities that you have seen in Ram Rahim’s house. This Ram Rahim has been running a skin bank business for a long time. Now the truth has come out. There are still many such secrets that are open.

उन्होंने यह भी बताया कि अखाड़ा परिषद की इस पहल को लेकर आसाराम के कथित समर्थकों ने उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी है. अखाड़ा परिषद की कार्यकारिणी में सभी अखाड़ों के दो-दो सदस्य हैं. ये 26 सदस्य मिलकर फर्जी बाबाओं की सूची बनाएंगे. पहली सूची परिषद की इलाहाबाद में हो रही मीटिंग में जारी की जाएगी. इसके बाद लगातार कई सूचियां आएंगी. जिसमे राम रहीम और आसाराम जेसे ढोंगियों के नाम शामिल होंगे!

He also told that Asaram’s alleged supporters have threatened to kill him on the initiative of the Akhara Council. There are two or two members of the All Akhara in the executive committee of the Akhara Parishad. These 26 members will make a list of fake Baba. The first list will be released in the council meeting in Allahabad. After that there will be many lists continuously. The names of Ram Rahim and Asaram jaisi Dhangis will be included.

खास खबर: दिग्विजय सिंह ने ट्विटर से PM मोदी को दे डाली ये अभद्र गलियां! जिसे पढ़कर आप रह जायेंगे सन्न

अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले कांग्रेस के सीनियर नेता दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अभद्र टिप्पणी की है. दिग्गी ने अपने ट्विटर हैंडल पर मोदी और उनके फॉलोअर्स जिन्हें कथित तौर पर भक्त कहकर पुकारा गया है, के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया.

Senior Congress leader Digvijay Singh, who is heading the headlines for his controversial statements, has made a vicious remark on Prime Minister Narendra Modi. Diggie used objectionable language against Modi and his followers who have been called as devotees on their Twitter handles.

दिग्विजय की पोस्ट में जो तस्वीर है, उसमें पीएम मोदी भी हैं. ये फोटो ये एक मेमे है जिसे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने पोस्ट किया है. मेमे में लिखा गया है, मोदी अपने सपोर्टर्स से कहते हैं- मेरी दो उपलब्धियां- 1. भक्तों को चू*** बनाया और दूसरा चू*** को भक्त बनाया.

In the post of Digvijay’s post, PM Modi is also there. These photos are a meme posted by senior Congress leader Digvijay Singh. It has been written in the memo, Modi says to his supporters – My two accomplishments- 1. He made the Chaita *** and made the second Chaita devotee.

इस पोस्ट में दिग्विजय सिंह ने लिखा कि यह मेमे उनका नहीं है. उन्होंने लिखा कि मोदी बेवकूफ बनाने में उस्ताद हैं. बता दें कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह कांग्रेस के राज्यसभा सांसद हैं.

In this post Digvijay Singh wrote that this meme is not his. He wrote that Modi is a master at making fools. Let the former Madhya Pradesh Chief Minister Digvijay Singh be the Rajya Sabha MP of the Congress.

बीते कुछ दिनों से सोशल मीडिया में इस बात पर हल्ला मचा हुआ है कि मोदी ट्विटर पर कैसे-कैसे लोगों के फॉलो करते हैं. दरअसल, एक अकाउंट जिसे मोदी फॉलो करते हैं उसी से गौरी लंकेश की हत्या के बाद पत्रकार के लिए गाली लिखी गई थी.

Over the past few days, there has been an attack on the social media about how Modi follows people on Twitter. In fact, after an assassination of Gauri Lankesh, an account which Modi follows, the abuse was done for the journalist.

इसपर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. लोगों ने सीधे तौर पर पीएम मोदी को इसमें घसीटा. बीजेपी ने इस शख्स की तुलना कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से करते हुए इन दोनों नेताओं के कुछ पुराने बयानों का जिक्र करते हुए कहा गया है कि पीएम मोदी तो राहुल गांधी और केजरीवाल को भी फॉलो करते हैं, तो क्या उन्होंने जो गलत बयान दिए हैं उसके लिए पीएम मोदी जिम्मेदार हैं?

The anger of the people grew. People directly draged PM Modi into it. Comparing this person to BJP with Congress vice president Rahul Gandhi and Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal, some BJP leaders have been referring to some old statements saying that PM Modi also followed Rahul Gandhi and Kejriwal, did they? PM Modi is responsible for the wrong statements made?

हालांकि, पीएम मोदी पर दिग्विजय की पोस्ट पर यूजर्स उन्हें भी निशाने पर ले रहे हैं. एक यूजर ने लिखा- पीएम के लिए अभद्र भाषा के इस्तेमाल पर आपको शर्म आनी चाहिए. क्या यही आपकी मानसिकता है. कांग्रेस को आपको निकाल देना चाहिए. एक और शख्स ने लिखा, ‘दिग्विजय सिंह जान लो, कांग्रेस एक अस्त होता हुआ सूरज है.

However, on Digvijay’s post on PM Modi, users are also targeting them. A user wrote – you should be ashamed of using abusive language for PM. Is this your mentality? Congress should remove you. Another person wrote, “Digvijay Singh, know that Congress is a sunset happening.

VIDEO: दिल्ली के जामा मस्जिद में अवैध और गैरकानूनी रोहिंग्याओं के लिया किया कार्यक्रम, हिन्दुओ को दी कई बड़ी चेतावनी

दिल्ली के जामा मस्जिद में आज हजारो भारतीय मुस्लिम ने अवैध और गैरकानूनी रोहिंग्या मुस्लिमों के समर्थन नमाज के बाद कार्यक्रम किया

Hundreds of thousands of Indian Muslims in Delhi’s Jama Masjid organized prayers after the prayers of illegal and illegal Rohingya Muslims.

इसका बकायदा वीडियो भी मौजूद है

Its video is also present

https://www.facebook.com/indianmuslims.co/videos/2109622005931907/

भारतीय सरकार अवैध और गैरकानूनी तौर पर भारत में घुसाए गए रोहिंग्या मुस्लिमो को बाहर करने की दिशा में काम कर रही है, वहीँ जामा मस्जिद में भारतीय अवैध रोहिंग्याओं के समर्थन में आवाज बुलंद कर रहे है

Rohingya, who has been implicated in India illegally and illegally in the Indian government, is working towards ousting Muslims, they are voicing their voices in support of Indian illegal Rohingya in Jama Masjid.

कई बार अल्लाह हु अकबर के नारे लगते हुए भारतीय मुसलमान कह रहे है की रोहिंग्या को कोई हाथ नही लगा सकता है, भारत के सभी मुसलमान रोहिंग्या के साथ खड़े है

Many Muslims are saying slogans of Allah Hu Akbar that Rohingya can not take any hand, all Muslims of India stand with Rohingya

ये अपने आप में बहुत ही अजीबोगरिब है चूँकि रोहिंग्या मुसलमान तो अवैध है ऐसे में अवैध रोहिंग्या के लिए जमा मस्जिद इ कार्यक्रम करना अपने आप में देशद्रोह से कम नही है

It is very strange in itself as Rohingya Muslims are illegal, so for the illegal Rohingya, the deposit mosque is not less than the treason in itself.

और अब ये रोहिंग्या मुस्लिम भारत के खिलाफ नयी साजिश रचने की कोशिश में लगे हुए जिससे मुस्लिम और भारत में जिहाद शुरू हो जाये और ज्यदा से ज्यादा भारत में ही जनसंख्या कम हो

And now this Rohingya is engaged in trying to create a new conspiracy against Muslim India, in which Muslims and India begin jihad and more population than India is less

फिर अंतराष्ट्रीय दबाव देशो प्र बनने लगता है क्योंकि अधिक लोगो को आप बाहर कर रहे होते है और मुसलमान बहुत ही तेजी से रफ्तार प्रजनन के रहे है ताकि इनकी आबादी दिन दुनि और रत चौगनी बढ़े और इतनी हो जाये कि इनको बाहर करना नामुमकिन सा हो जाये

Then the international pressure starts becoming a country because more people are being excluded from you and the Muslims have been able to breed the speed at a faster pace so that the population and their chaunies will increase day by day and so much that it will be impossible to get them out.

रोहिंग्या मुसलमानों ने भारत के खिलाफ जनसंख्या जिहाद छेड़ दिया है होता है की अगर इनकी संख्या कम होती है तो सरकार इनको  बाहर कर देगी, पर अगर ये कहें की हमारी हमारी संखया १० लाख है, 20 लाख है

Rohingya Muslims have started jihad against India, if their number is less then the government will exclude them, but if they say that our number is 10 lakh, 2 million