VIDEO: मुहम्मद के चाचा मूर्तिकार थे, वो “लार्ड शिव” की पूजा करते थे, मक्का में सभी हिन्दू थे- खुद देखिये ये सबूत !

भारत के लोग जब दावा करते है की मक्का में भगवान् शिव का मंदिर है तो बहुत से लोग इसे सच नहीं मानते, परंतु आप स्वयं देख सकते है की अरब का एक इतिहासकार, मक्का और सऊदी अरब का क्या इतिहास बता रहा है, मुहम्मद के जन्म से पहले और मुहम्मद के जन्म के बाद क्या था अरब और मक्का, आप सबकुछ सुन सकते है, कुछ चीजों का अनुवाद हम नीचे लिख रहे है !

When people of India claim that there is a temple of Lord Shiva in Mecca, many people do not consider it to be true, but you can see for yourself that what a historian of Arabia is telling the history of Maize and Saudi Arabia, Muhammad’s birth Before and after the birth of Muhammad, what was the Arabs and Mecca, you can listen to everything, we are writing down the translation of some things!

इतिहासकार एक एक करके सभी घटनाक्रम को समझा रहा है भारत से लेकर पर्शिया, इराक, अफगानिस्तान, सऊदी अरब सभी 1 संस्कृति का हिस्सा थी जिसे अखंड भारत कहा जाता था, ये 1 देश नहीं बल्कि कई किंगडम से बनी हुई 1 संस्कृति थी !

The historian is explaining all the developments one by one, from India to Persia, Iraq, Afghanistan, Saudi Arabia was a part of all 1 culture, which was called Akhand India, it was not 1 country but 1 culture made up of many kingdoms!

आपको बता दें की चंद्रगप्त मौर्य से पहले भारत 1 देश नहीं बल्कि कई राज्यों का समूह था जैसे “गंधार, पांचाल, मगध, सिंधुदेश इत्यादि इन सभी की एक संस्कृति थी और सभी को मिलाकर भारतवर्ष या आर्यावर्त कहा जाता था, आज का ईरान व इराक “आर्यन” लोगों की जगह थी, ये “हिन्दू प्लेसेस” थे, मक्का को उस ज़माने में “मक्केश्वर” कहा जाता था !

Let us tell you that before the Chandragupta Maurya, India was not a country but a group of many states like “Gandhar, Panchal, Magadha, Sindhadesh etc. All these were a culture and all were called Bharat Varsha or Aryavarta, today’s Iran and Iraq “Aryan” was in place of people, these were “Hindu places”, Mecca was called “Makkeshwar” in that era!

मक्केश्वर एक बड़ा ही प्रसिद्द जगह थी जहाँ लोग धार्मिक यात्रा पर आते थे, इस्लाम से बहुत पहले ऐसा था, ये जो शहर था मक्केश्वर वो लार्ड शिवा की जगह थी, यहाँ पर 300 से अधिक देवताओं की मूर्तियां थी !

Makkeshwar was a great place where people used to come on a religious journey, much earlier than Islam, that was the place of the city of Makkeshwar, Lord Shiva, here there were sculptures of more than 300 gods!

जब मुहम्मद का जन्म हुआ तो उसके पिता नहीं थे, वो अनाथ था, उसके चाचा उस समय मक्का में रहते थे, वो पेशे से मूर्तिकार थे, और देवताओं की मूर्तियां बनाते थे, वो लार्ड शिव की पूजा करते थे, वहां पर सभी हिन्दू थे, मुहम्मद चाचा के साथ ही रहता था, वो चाचा के साथ रहकर ऊंट यहाँ से वहां ले जाना सीख चूका था !

When Muhammad was born, he had no father, he was orphan, his uncle lived in Makkah at that time, he was a sculptor with a profession, and used to make statues of gods, used to worship Lord Shiva, there were all Hindus there. Muhammad lived with uncle, he had lived with uncle and learned to take the camel from there!

मुहम्मद को एक दिन एक एंजेल मिली जिसका नाम गेब्रियल था, गेब्रियल ने उसे कुछ बाते सिखाई, मुहम्मद फिर मक्का वापस गया और उसने लोगों से कहा की “केवल 1 गॉड होता है और वो अल्लाह है”, लोगों ने मुहम्मद की कोई बात नहीं सुनी और उसपर भरोसा नहीं किया , मुहम्मद फिर मदीना आ गया और वहां पर एक आर्मी बनाने की कोशिश करने लगा ताकि मक्का पर आक्रमण कर सके, यंग मुहम्मद ने वहां कई महिलाओं से शादी की और अमीर लोगों से सांठगांठ किया!

One day Muhammad received an Angel named Gabriel, Gabriel taught him some words, Muhammad then went back to Mecca and told the people that “There is only one God and that is Allah”, people did not listen to Muhammad And did not trust him, Muhammad again came to Medina and started trying to build an army there to attack Mecca, Young Muhammad married many women there and made rich people The conniving!

मुहम्मद ने खदीजा से शादी की जो पहले से विधवा थी पर बहुत अमीर थी , फिर मुहम्मद ने कुछ लोगों को लेकर कारवां पर आक्रमण किया और वहां बड़ी आर्मी बनाई, फिर इस आर्मी ने मक्का पर आक्रमण किया और वहां 360 में से 359 मूर्तियां तोड़ दी जिसमे कृष्ण और शिव की मूर्ति भी थी , उसके बाद से मक्का मुस्लिम जगह हो गयी !

Muhammad married Khadija who was already a widow but was very rich, then Muhammad attacked the caravan with some people and made a large army there, then the army attacked Mecca and broke 359 statues out of 360 there. The statue of Krishna and Shiva was also there, since then Mecca became Muslim place!

मुहम्मद के साथियों ने मक्का में सभी मूर्तियां तोड़ दी, उन्होंने केवल 1 शिवलिंग को छोड़ दिया , वो शिवलिंग को उन्होंने चांदी से ढक दिया और वहां पर एक स्ट्रक्चर बना दिया, जो की आप अभी मक्का में काबा के रूप में देखते है, लोग आज भी उसके चारो ओर परिक्रमा करते है, वो ब्लैक स्टोन असल में वही शिवलिंग है !

The companions of Muhammad broke all the sculptures in Mecca, they left only 1 Shivling, they covered Shivling with silver and made a structure on it, which you now see as a Kaba in Mecca, people today Even the orbits around it, that Black Stone is actually the same Shivling!

आपको बता दें की मक्का के इस्लामिक बन जाने के बाद फिर उन्ही हमलावरों और उनके संतानो ने इराक, इरान , अफगानिस्तान, भारत इत्यादि पर हमला किया और धीरे धीरे लोगों का कत्लेआम इत्यादि कर उनका धर्मान्तरण किया, भारत से पाकिस्तान, बांग्लादेश इत्यादि बने और बाकी इतिहास तो सभी जानते है !

Let me tell you that after Maize became Islamic, then the same attackers and their children attacked Iraq, Iran, Afghanistan, India etc. and gradually converted them to mass slaughter, etc. By making India to Pakistan, Bangladesh etc. and the rest History is known to all!

source dainik bharat

ब्रेकिंग:भागलपुर में ,कट्टरपंथियों ने कर दिया कुछ ऐसा खौफनाक कांड, जिसे देख सीएम नितीश ने गुस्से में भेजी भारी फाॅर्स

नई दिल्ली : आज पूरे देश में हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक नए साल का जश्न मनाया जा रहा है. हर्षोउल्लास के इस मौके पर भी कट्टरपंथियों ने रंग में भंग डालने का काम किया है. कासगंज के बाद अब बिहार के भागलपुर में कट्टरपंथियों ने बड़ा दंगा भड़काया है जिसके बाद से पूरे इलाके में पुलिस फाॅर्स QRT टीम को तैनात करना पड़ा है.

New Delhi: According to the Hindu calendar in whole country today the celebration of the new year is being celebrated. On this occasion of Harshowlas, fundamentalists have done the work of dissolving in color. After Kasganj, now a big riot has been launched in Bhagalpur in Bihar after which fanatics have to deploy Police Force QRT team throughout the area.

आप नव वर्ष का जश्न मना रहे थे वहां भागलपुर में हो गया बड़ा कांड

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक शनिवार शाम को हिंदू कैलेंडर विक्रम संवत को लेकर बीजेपी और आरएसएस ने बाइक जुलूस निकाला था. विक्रम संवत नव वर्ष की पूर्वसंध्या पर निकाले गए इस जुलूस की शुरुआत बुधनाथ मंदिर से हुई और पूरे शहर से होते हुए यह नाथनगर पहुंचा. जिसके बाद यह जुलूस जैसे ही मदनी चौक मुस्लिम बहुल इलाके से गुज़रा वहां कट्टरपंथियों ने गाने बजने को लेकर हंगामा किया.

You were celebrating the New Year, there was a big scandal in Bhagalpur

According to the big news now, on Saturday evening, BJP and RSS took out a bike procession about the Hindu calendar Vikram Samvat. The procession, taken on the eve of Vikram Samvat, on the eve of New Year, began with the Buddhanath temple and reached Nathnagar via the whole city. After this process, as soon as the Madani Chowk passed through Muslim-dominated areas, the fanatics raged for the songs to be played.

कट्टरपंथियों ने डाला जश्न में खलल, ताबड़तोड़ पत्थरबाज़ी, बमबाज़ी हुई

इससे पहले यूपी में कासगंज में तिरंगा यात्रा को मुस्लिम बहुल इलाके से निकालने पर ज़बरदस्त पत्थरबाज़ी हुई थी. जिसमे चन्दन युवक की कट्टरपंथियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. सीएम योगी पहले ही कह चुके हैं जुलूस है कोई शमशान यात्रा तो है नहीं जो मौन हो कर निकल जायेगी. साल में एक बार नववर्ष का जश्न भी जिहादी मानसिकता वालों से नहीं देखा गया.

Fundamentalists throw away celebration, rocketing, bombardment

Earlier, there was tremendous stone-throwing at the time of removal of the Tiranga Yatra in Kasganj from a Muslim-dominated area. In which the youth of the Chandan youth was shot and killed by the fundamentalists. The CM Yogi has already said that the procession is not a crematorium, but it will go out of silence. Once a year, the celebration of the New Year was not seen in the Jihadi mindset.


60 लोग घायल

जिसके बाद किसी तरह से पुलिस के बीच बचाव के बाद जुलूस आगे निकल सका. लेकिन कट्टरपंथियों से साल में एक बार हिन्दू जश्न देखा नहीं गया. जुलूस के आगे निकलते ही ज़ोरदार हिंसक झड़प हुई. कटरपंथियों ने दर्जनों दुकानें जला दी,उपद्रवियों ने गाड़ियों के शीशे तोड़ डाले, मोटरसाइकिल फूंकी गई. उपद्रवियों ने 15 राउंड फायरिंग की और चार बम भी फोड़़े. हिंसक झड़प में 60 लोग घायल हो गए हैं और दो दर्ज़न पुलिसवालों घायल हो गए हैं.

60 people injured

After which somehow the proceedings after the rescue between the police could overtake. But once a year, Hindu celebrations were not seen by fanatics. Ahead of the procession there was a violent clash. The custodians burnt dozens of shops, the miscreants broke the glasses of the cart, the motorcycle was blown. The miscreants fired 15 rounds and also burst four bombs. In the violent clashes, 60 people have been injured and two dozen policemen have been injured.

इंस्पेक्टर ने मंदिर में छुपकर जान बचाई

तनाव को देखते हुए क्षेत्र में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. कई घंटे तक पथराव, बमबाजी, फायरिंग और तोडफ़ोड़ हुई. जिसके बाद चार जिलों की पुलिस बुलाई गई, स्पेशल फोर्सेज बुलाई गयी. ईंट-पत्थर लगने से डीएसपी और कई इंस्पेक्टर जख्मी हो गए. नाथनगर इंस्पेक्टर ने मंदिर में छुपकर जान बचाई. इसके बाद क्विक रिएक्शन टीम (क्यूटीआर), पुलिस लाइन और सीटीएस से प्रशिक्षु जवानों के अलावा अतिरिक्त पुलिस बल को बुलाना पड़ा.

Inspector saved life by hiding in the temple

Given the tension, internet service has been discontinued in the area. Stacking, bombardment, firing and collapsing for several hours. After which police of four districts were convened, Special Forces were convened. DSP and many inspectors were injured due to brick-stone. Nathnagar inspector saved his life by hiding in the temple After this, additional police forces had to be called in addition to the trainee jawans from the Quick Reaction Team (QTR), Police line and CTS.

यह भी देखे

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

SOURCE NAME :POLITICAL REPORT

मुस्लिम देश जॉर्डन के किंग अब्दुल्लाह द्वितीय ने भारत को लेकर दे डाला ऐसा बड़ा बयान जिसे देख कट्टरपंथियों में हडकंप

पीएम मोदी कितने कर्मठ और जुझारू नेता है यह बात तो अब आप सभी जान ही चुके होंगे. वो बिना रुके काम करते रहते हैं ताकि हमारा देश आगे बढ़ सके और हम भी दूसरे देशों के मुकाबला कर सकें. अभी हाल ही में पीएम मोदी जॉर्डन दौरे पर गए थे जिसके ठीक तीन हफ्ते बाद ही जॉर्डन के किंग अब्दुल्ला भारत की यात्रा पर आये हैं. यह यात्रा इतनी ख़ास है क्योंकि इस यात्रा में जॉर्डन के किंग अब्दुल्ला द्वितीय बिन अल हुसैन ने भारत के बारे में वो बात कह दी हैं जिसे सुनकर कट्टरपंथियों को मिर्ची लगना तय है.

Now, you must have known all that PM Modi is a skilled and belligerent leader. They continue to work uninterrupted so that our country can move forward and we can also compete with other countries. More recently, the PM Modi went to visit Jordan, just three weeks later, King Abdullah of Jordan has come to visit India. This journey is so special because in this journey, King Abdullah II of Jordan bin Al-Hussein has said about India that the hardliners are ready to accept chillies.

जी हाँ दरअसल जॉर्डन के किंग 27 फरवरी को भारत आये हैं, भारत आने के बाद 28 फरवरी को जॉर्डन के किंग अब्दुल्ला द्वितीय बिन अल हुसैन ने भारतीय विदेश मंत्री सुषामा स्वराज से मुलाकात की है और इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वह भारत से मिले गर्मजोशी स्वागत से वास्तव में खुश हैं और उन्हें उम्मीद है कि उनके इस दौरे से दोनों देशों के बीच रिश्तों के ऐतिहासिक अध्याय की शुरुआत होगी.

Yes indeed the King of Jordan has arrived in India on 27th February, after coming to India on February 28, King Abdullah II of Jordan, bin Al Hussein, met Indian Foreign Minister Sushma Swaraj, and also said that she was from India He is truly happy with the warm welcome he receives and hopes that his visit will start with the historical chapter of the relationship between the two countries.

किंग हुसैन तीन दिनों के लिए भारत दौरे पर हैं और इस यात्रा के दौरान जब किंग हुसैन की मुलाक़ात विदेश मंत्री सुषामा स्वराज से हुई, तो कहा जा रहा है कि इस वार्तालाप में सभी क्षेत्रों में रिश्तों को मजबूत करने के लिए काफी अच्छी बातचीत भी हुई. इस मुलाकात में ख़ासतौर पर व्यापार और निवेश, रक्षा और सुरक्षा, पर्यटन और पीपुल टू पीपुल संपर्क के क्षेत्रों को लेकर भी बातचीत की गयी है. वहीँ हम आपको यह भी बता दें कि किंग हुसैन के साथ जॉर्डन के व्यवसायियों का एक प्रतिनिधिमंडल भी आया है और इसके साथ ही विभिन्न क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच कई समझौते होने हैं.

King Hussein is on a three-day visit to India and during this visit, when King Hussein met Foreign Minister Sushma Swaraj, it is being said that there was a good negotiation in this area to strengthen relations in all areas. . In this meeting, there is also talk about areas of trade and investment, defense and security, tourism and people to people contact. Let us also tell you that a delegation of businessmen of Jordan has also come along with King Hussein, and there are many agreements between the two countries in different areas as well.

आज भारत दिन पर दिन तरक्की की ओर बढ़ता जा रहा है, ऐसे में अब जब मुस्लिम देश जॉर्डन के किंग अब्दुल्लाह द्वितीय ने भारत के बारे में इतनी बड़ी-बड़ी बात बोल दी हैं तो मुस्लिम देश पाकिस्तान को मिर्ची तो ज़रूर लगने वाली है, क्योंकि वो भारत को हर तरह से हारता देखना चाहता है मगर ऐसा नहीं हो पा रहा है. आज दुनिया के सभी बड़े देश भारत के दोस्त हैं और भारत के साथ खड़े हैं. वहीँ भारत की इस तरह की तरक्की उन राजनेताओं के मुंह पर भी तमाचा है जिनका यह कहना है कि मोदी सरकार कोई काम नहीं करती.

Today, India is increasing day by day, so now that Muslim country’s King Abdullah II has spoken such a big thing about India, Muslim country Pakistan is going to look like a miracle because He wants to see India lose in every way but it is not so. Today all the big countries of the world are friends of India and stand with India. The same kind of progress in India is also a pitch on the faces of those politicians who say that the Modi government does not do any work.

यह भी देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

https://www.youtube.com/watch?v=k87GwTUEGuQ&t=18s

SOURCENAME:POLITICALREPORT

जोरदार हमला: मोदी सरकार ने दिया सेना को ऐसा जानलेवा बख़्तर, चीन समेत पाक में मची तबाही !

नई दिल्ली दुश्मनों से निपटने के लिए मोदी सरकार भारतीय सेना को वैसे तो कई तरह के आधुनिक हथियार और बुलेट प्रूफ जैकेट दे ही रही है, मगर इस बार सरकार ने एक ऐसा जबरदस्त फैसला लिया है, जिससे दुश्मनों में तबाही मचाने के लिए भारतीय सेना को काफी सहायता मिलने जा रही है. भारतीय सेना को मिलने जा रहे इस हथियार का जवाब चीन और पाकिस्तान सेना के पास भी नहीं है.

In order to deal with the enemies of the New Delhi, Modi Government has been giving various types of modern weapons and bullet proof jackets to the Indian Army, but this time the government has taken such a tremendous decision, to help the Indian Army There is a lot of support going on. The answer to this weapon going to meet the Indian Army is not even with the Chinese and Pakistan army.

बुलेट प्रूफ बंकरों से करेंगे दुश्मनों का विनाश
दरअसल अब भारतीय सेना ऐसे बंकर बनाने जा रही है जो पोर्टेबल और बुलेट प्रूफ हों. पत्थर और मिट्टी के बंकरों की जगह पर ऐसे बंकरों का निर्माण किया जाएगा, जो स्टील के हों और मजबूत हों. पाकिस्तान और चीन की चुनौतियों से मोर्चा लेने वाले जवानों को ऐसे बंकर मिलने से वो दुश्मन के हमले से सुअक्षित रह सकेंगे और मजबूती से दुशमन पर धावा बोल सकेंगे.

Bullet proof bunkers will destroy the enemies
Indeed, the Indian Army is going to build a bunker, which is portable and bullet proof. Bunkers will be constructed at the place of stone and soil bunkers, which are steel and strong. By getting such bunkers from the challenges of Pakistan and China, such a bunker will be able to stay safe with the enemy attack and will be able to rush firmly on the enemy.

नए बंकरो के निर्माण का उद्देश्य सुरक्षा मानकों को और मजबूत करना है. इसके लिए ज्यादा से ज्यादा मात्रा में बुलेटप्रूफ सामान का प्रयोग किया जाएगा, जिनमें जैकेट और गाड़ियां भी शामिल हैं. यानी बंकर भी बुलेट प्रूफ होंगे, साथ ही जवान बुलेट प्रूफ जैकेट पहने होंगे और उनकी गाड़ियां भी बख्तरबंद होंगी, जो दुश्मन की गोलियां आसानी से झेल जाएंगी और जवानों की जान बचा लेंगी.

The objective of building new bunkers is to strengthen security standards. For this, bulletproof bags will be used in maximum quantities, including jackets and trains. That means the bunker will also be bullet proof, as well as the youth will be wearing bullet proof jackets and their vehicles will also be armored, which will easily catch the enemy pills and save the lives of the soldiers.

बता दें कि कांग्रेस ने अपने 60 साल के राज में सेना के जवानों की सुरक्षा की ओर कभी कुछ ख़ास ध्यान नहीं दिया. जवान मिटटी व् पत्थरों के बंकरों से दुश्मन से लोहा लेते आये हैं और ऐसे बंकरों के कमजोर होने के कारण जवानों को असमय ही अपनी जान से हाथ धोना पड़ता था.

Let us state that the Congress has never given special attention towards the security of the army personnel in its 60-year rule. Young men have come from the land of the bunks of clay and stones, and due to the weakness of such bunkers, the soldiers had to wash their lives in the meantime.

मिटटी के नहीं, फौलाद के होंगे बंकर
सेना के इस कदम के पीछे मुख्य उद्देश्य सुरक्षा व्यवस्था और चाक-चौबंद करने के साथ सेना को स्थानीय जरूरतों के अनुसार तैयार करना है. विदेशी उपकरणों पर निर्भरता कम कर सेना को घरेलू हालात में और मजबूत बनाना ही भारतीय सेना की प्राथमिकता है.

Not of soil, steel can be bunker
The main objective behind this move of the army is to make the army in accordance with the local needs, with the security system and chalking. Reducing dependence on foreign equipment and strengthening the army in the domestic situation is the priority of the Indian Army.

बता दें कि इस वक्त सेना में 2 तरह के बंकर इस्तेमाल किए जाते हैं. पत्थर और मिट्टी वाले बंकर मजबूती के लिहाज से ठीक नहीं होते. दुश्मनों का हमला झेलने की इनकी क्षमता नहीं होती और जल्द ही ध्वस्त हो जाते हैं. दूसरे बंकर स्टील वाले होते हैं, जिनका निर्माण मुश्किल होता है. इन स्टील के बंकरों पर दुश्मन की गोलियों का असर नहीं होता और इनमे कुछ ऐसे छेद बने होते हैं, जिनसे जवान दुश्मनों पर गोलियां चलाते हैं

Explain that two types of bunkers are used in the army at this time. Boulders with stones and soil are not well enough in terms of strength. They do not have the ability to withstand the attack of enemies and they are destroyed soon. The second bunker is steel, which is difficult to construct. These steel bunkers are not affected by enemy bullets and some of these holes are formed by which the young soldiers firing on enemies

मगर अब कोयटंबूर की अमृता यूनिवर्सिटी ने एक ऐसे बंकर मॉडल का निर्माण किया है, जो हल्के स्टील से बना है और बीच में प्लाइवुड का इस्तेमाल किया गया है, ये बंकर बनाने आसान भी हैं और जवानों की रक्षा करने में भी बेहतरीन हैं. सेना को ये बंकर मिलने से हर जवान की ताकत कई गुना तक बढ़ जायेगी.

Now Amrita University of Coetambur has built a bunker model which is made of light steel and plywood is used in the middle, these bunkers are easy to make and are also excellent in protecting the soldiers. By getting this army bunker, the strength of every young man will increase manifold.

बड़ी खबर: इस मुस्लिम लड़की ने अपनाया हिंदू धर्म, वजह जान PM मोदी समेत मुस्लिम मौलाना के उड़े होश..

New Delhi: उत्तराखंड के हल्द्वानी से एक धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है। यहां की एक मुस्लिम लड़की ने इस्लाम धर्म को छोड़ हिंदू धर्म अपना लिया है। लेकिन इसकी वजह जानकर मौलाना-मौलवी सोच में पड़ गए है।

New Delhi: A change of religion has come out of Haldwani in Uttarakhand. Here a Muslim girl has adopted Hindu religion, leaving Islam religion. But knowing the reason, Maulana-Maulavi has got into thinking.

बता दें बनभूलपुरा कि 22 साल की शहनवाज़ नाम की ये लड़की शुक्रवार को ही सिटी मजिस्ट्रेट के पास जाकर उन्हें शपथपत्र दिया। इस पत्र में धर्म परिवर्तन की जानकारी दी गई थी। इसके साथ ही शहनवाज़ से सुनीता बनी इस लड़की ने अपनी परिजनों और अन्य लोगों के लिए जान का खतरा बताया है। साथ ही उनकी सुरक्षा की गुहार लगाई है।

Tell me that the 22-year-old Shahnawaz, who came to the city magistrate on Friday, gave the affidavit to him. This paper was informed about the change in religion. Along with this, this girl, made from Shahnawaz, Sunita, has told her life and her life as a threat to others. At the same time, they have asked for their protection.

लड़की ने धर्म परिवर्तन के लिए कारण बताते हुए कहा कि मुस्लिम धर्म में महिलाओं को जीने की पूरी आजादी नहीं मिलती है। इसलिए उसने अपना धर्म बदल लिया है। जिसके बाद मजिस्ट्रेट ने इस पूरे मामले की जांच के लिए स्थानीय पुलिस को सूचित कर दिया है।

Explaining the reasons for the change in religion, the girl said that in Muslim religion, women do not get full freedom to live. That’s why he has changed his religion. After which the magistrate has notified the local police for the investigation of the entire matter.

शहनवाज़ ने कहा कि हिंदू धर्म में महिलाओं को खुलकर जीने के आज़ादी मिलती है, इसके साथ ही किसी तरह की कोई पांबदी भी नहीं होती, इसलिए उसने ये धर्म अपनाया है। हालांकि अब इस पूरे मामले की जांच की जा रही है।

Shahnawaz said that in Hindu religion, women get freedom to live freely, there is no papidi of any kind, therefore they adopted this religion. However, the whole issue is being examined now.

यह भी देखें :

मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ पाक ने लिया ऐसा कड़ा फैंसला, जिसे देख हाफिज समेत मुस्लिमों के उड़े होश.

इस्‍ल’माबाद (एएनआई)।2008 मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हफिस सईद से जुड़े प्रतिबधित चैरिटी पाकिस्तान के लिए गंभीर चुनोती है सईदने से जुड़े दो चैरिटीपर पिछले सप्‍ताह पाकिस्तान ने रोक लगा दी हाफिस की खिलाफ कारवाही की असल वजह पेरिस में होने जा रही फाइनेंशियल एक्शन टास्क फ़ोर्स ((एफएटीएफ) की बेठक है इसमें पाकिस्तान को अपने खिलाफ बड़ी करिवाही का दर सता रहा एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान को 2012 से 2015 तक डाला था

ISLAMABAD (ANI) .2008 Mumbai mastermind of the Mumbai attack. Huffice Saeed’s committed charity is a serious challenge for Pakistan. Two charities associated with Saeeden have been banned last week. The real reason behind the action against Hafeez is the financial action being taken in Paris The Task Force (FATF) is unrecognized in Pakistan, in the Gray List of FATF, being harassing the rate of big tax against Pakistan 2012 to 2015

मीडिया रिपोर्ट का अनुसार इस्‍लामिक चैरिटी का बड़ा नेटवर्क है जमात उद दावा से जुड़े सभी सुविधओं स्‍विमिंग अकेडमी मार्शल आर्ट क्‍लासेज कार्यालय स्कूलों, डिस्पेंसरी और सेमिनार समेत इसके तमाम नेटवर्क को पाकिस्‍तानी सरकार ने ले लिया है।

According to the media report, there is a large network of Islamic charities, all the facilities related to the Jamaat-ud-Dawa, Swaming Academy martial arts classes office has been taken by the Pakistani government, including all schools, dispensaries and seminars.

हालांकि सईद के नियत्रण वाल विभिन चैरिटी पर नियत्रण पाकिस्तान के लिए बड़ी चुनोती है सरकार के लिए इन्हें चलाना ट्रैक और फंडिंग पर नियत्रंण और प्रतिबधित चैरिटी के आय स्रोतों को फंडिंग करना कठिन होगा

Although the control over Saeed’s control is a big challenge for Pakistan, it is difficult for the government to run them, it will be difficult to fund the track and funding and income sources of restricted charity.

पजांब सरकार मालिक मोहम्मद अहमद खान ने कहा हम भी जामित उद दावा की सुविधओं के बारे में विवरण और जानकारियां इकट्ठा कर रहा इन्हें चलाने के लिए योजना बनाने को लेकर हमारे वित्तीय रणनीतिकार संधीय सरकार के सम्पर्क में है |

Pajam government owner Mohammad Ahmad Khan said, “We are also in touch with the Government of our financial strategist, the government, for collecting details and information about the facilities of Jamit Uda claim.

इस्लामाबाद ने उम्मीद जतायी है कि अमेरिका द्वारा आंतकी करार दिए गे संगठनों जेयूडी और फलाह ए इशानियत का नियंत्रण जब्ब्त कर लेने के बाद देश ग्‍लोबल वाच्लिष्ट में नहीं आयगा जिसके लिए लंबे समय से अन्य देशों द्वारा पाकिस्तान की आलोचना की जा रही है|

Islamabad has expressed hope that after the confiscation of controls by the United Nations, JUD and Falah A Istaniyat, the country will not come in the Global Wichitite for which for many years Pakistan has been criticized by other countries.

लश्कर ए तैयबा के फाउंडर सईद को सयुक्त राष्ट द्वारा आंतकी करार दिया गया था और 2012 में अमेरिका द्वारा उसपर 10 मिलियन डोलोर का इनाम रखा गया अफगानिस्‍तान व पाक अधिक्रत कश्मीर में आन्कियों को समर्थन देने के भारत और अमेरिका द्वारा लगाए गे आरोपों का पाकिस्तान लंबे समय ख़ारिज करता आया है

The founder Saeed of Lashkar-e-Taiba was declared terrorized by the United Nations, and in 2012 he was rewarded with 10 million dollars by the US, Pakistan long time accusing India and the United States of giving support to the Maoists in Afghanistan and Pakistan. Has dismissed

2014 में अमेरिका ने जेयूडी को विदेशी आतकी संगठन करार दे दिया पाकिस्तान 2018 का होने वाले आम चुनावों के लिए सईद ने भी अपनी राजनितिक पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग का गठन किया है

In 2014, the US termed the JUD as a foreign terrorist organization. For the general elections of Pakistan 2018, Saeed has also formed his political party Milli Muslim League.

sourcename:politicalreport

इस मुस्लिम नेता का ऐलान सुनकर पीएम मोदी के भी पैरों तले जमीन खिसक गयी, अब होगा भारत का…

आपको याद होगा कि आजादी के बाद कट्टरपंथी मुस्लिमों ने भारत के टुकड़े करके देश का बंटवारा कर दिया था, जिससे पाकिस्तान व् पूर्वी पाकिस्तान जिसे आज हम बांग्लादेश के नाम से जानते हैं, अस्तित्व में आये. पाकिस्तान को एक इस्लामिक राष्ट्र बनाया गया, जबकि भारत ने धर्म-निरपेक्षता का रास्ता चुना.

You will remember that after independence, radical Muslims had split the country by dividing India, due to which Pakistan and East Pakistan which we now know as Bangladesh, came into existence. Pakistan was created as an Islamic nation, while India chose the path of secularism.

मगर अब देश एक बार फिर विभाजन की ओर बढ़ रहा है, भारत को तोड़ने के लिए जिहादी एक बार फिर गृहयुद्ध छेड़ने के मूड में हैं और इसका बाकायदा ऐलान किया गया है.

But now the country is moving towards partition again, to break India, the jihadis are once again in the mood to launch a civil war and the announcement has been made.
Mufti appealed to break the country

मुफ़्ती नासिर ने शोपियां में हुई गोलीबारी की घटना पर मीडिया से बात करते हुए देश के मुस्लिमों से आवाहन किया है कि वो अपने लिए एक अलग देश की मांग करना शुरू कर दें, जैसे पाकिस्तान बना है, वैसे ही मुस्लिम भारत को तोड़कर एक और मुस्लिम देश बना लें.

Mufti Nasir has been talking to the media on the incident of shootout in Shopian, and has urged the Muslims of the country to start demanding a separate country for themselves, just like Pakistan is, similarly, by breaking Muslim India, another Muslim Make the country.

मुफ़्ती ने अपने बयान में मुस्लिमों को सन्देश देते हुए कहा है कि, ‘1975 के बाद से भारत में मुस्लिमों के साथ जिस तरह का व्यवहार हो रहा है, वो बेहद शर्मनाक है. मुस्लिमों के साथ हो रहा इस तरह का बर्ताव हमें मंजूर नहीं. भारत के मुसलामानों को अहसास हो गया है कि वो अब भारत में सुरक्षित नहीं हैं. भारत के मुस्लिमों को अब अपने लिए एक और अलग देश की मांग करनी चाहिए.

Mufti has said in his statement to the Muslims that, ‘The kind of behavior that is being done with Muslims in India since 1975 is very embarrassing. We do not approve of this kind of behavior with Muslims. Muslims of India have realized that they are no longer safe in India. Muslims of India should now demand for another separate country for themselves.

जानकारों के मुताबिक़ ये कोई छोटी-मोटी बात नहीं है, कुछ इसी तरह भारत के विभाजन की बात 1946 में भी शुरू की गयी थी. एक बार जो ये मांग उठी, तो देश में जगह-जगह दंगे किये गए. खासतौर पर कोलकाता में लाशों के ढेर लगा दिए गए थे. गृहयुद्ध जैसे हालात उत्पन्न किये गए थे और आखिरकार देश को तीन टुकड़ों में तोड़ दिया गया था.
भारत में मुसलमानों की स्थिति पर एक नजर.

According to the experts, this is not a small matter, some similarly the point of partition of India was also started in 1946. Once these demands arose, there were riots everywhere in the country. In particular, the bodies of the corpses were stacked in Kolkata. Things like Civil War were created and finally the country was broken into three pieces.
A look at the situation of Muslims in India.

1975 के बाद से मुस्लिमों के साथ हो रहे व्यवहार से मुफ़्ती काफी नाराज हैं, आइये एक नजर डालते हैं कि आखिर भारत में मुसलमानों के साथ कैसा व्यवहार हो रहा है? भारत इस दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है जो मुसलमानों को आरक्षण देता है. मुस्लिम लड़कियों को पढ़ाई के लिए वजीफे देता है.
Since 1975, Mufti is very angry with the behavior of Muslims, let’s take a look at how the Muslims are being treated in India. India is the only country in this world that gives reservation to Muslims. Muslim girls give stipends for education

भारत एकमात्र ऐसा देश है, जो मुस्लिमों को हज सब्सिडी देता आया है. भारत एकमात्र ऐसा देश है, जो मुस्लिमों को देश के क़ानून से इतर, उनका पर्सनल लॉ फॉलो करने की इजाजत देता है. भारत दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है, जहाँ किसी को एक से ज्यादा शादी करने की इजाजत नहीं है सिवाय मुसलमानों के, वो अपने शरिया क़ानून का पालन करते हुए चार शादियां कर सकते हैं.

India is the only country which has given Haj subsidy to Muslims. India is the only country which allows Muslims to follow their personal law, other than the laws of the country. India is the only country in the world, where no one is allowed to marry more than one, except for Muslims, they can do four marriages while following their Shari’a law.

भारत विभाजन के बावजूद दुनिया में मुस्लिम आबादी वाला दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश है. भारत में दुनिया के किसी भी अन्य देश के मुकाबले सबसे ज्यादा मस्जिद हैं. बॉलीवुड के सबसे अमीर तीन हीरो भी तीन खान हैं. मगर ऐसे देश को कुछ कट्टरपंथी व् जिहाद समर्थक एक बार फिर तोड़ने की साजिशों में लग गए हैं.

https://youtu.be/g2I-PHNIw7k

Despite India’s partition, the world’s second-largest Muslim population is the world’s second largest country. India has the highest mosque compared to any other country in the world. Bollywood’s richest three heroes are also three miners. But such a country has got engaged in conspiracy to break some fanatics and jihad supporters once more.

यह भी  देखे

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

source name:ddbharti

ब्रेकिंग: देश के मौलानाओं पर अबतक का सबसे हाहाकारी फैसला, ओवैसी समेत मौलानाओं को लगा तगड़ा झटका…

आज कोई भी न्यूज़ चैनल की डिबेट उठा कर देख लीजिये आपको पैनल में कम से कम एक मौलाना गला फाड़ते हुए अपना बेबुनियादी पक्ष रखते दिख ही जायेगा. ऐसा तो हो ही नहीं सकता कि कोई डिबेट हो रही हो और उसमें मौलानाओं का पक्ष ना हो, लेकिन अब ये ज्यादा दिन की बात नहीं है. अब आप कहेंगे कि आखिर ऐसा क्यों तो हम आपको बता दें कि ऐसा इसलिए क्योंकि अब बात-बात पर फतवा जारी करने वाले इन मौलानाओं के खिलाफ एक ऐसा फतवा जारी हुआ है जिसे सुनकर बहुतों को सांप सूंघने वाला है.

Today, by raising the debate of any news channel, see that at least one maulana in the panel will be seen to be your baseless side by hanging. It can not be that a debate is happening and there is no favor for maulanas in it, but now it is not a matter of much day. Now you will say that why we should tell you why this is so because now a fatwa has been issued against these maulanas issuing fatwas on the matter, which many people are going to snake sniffing.

जानिए क्या है वो फतवा?
दरअसल अपने आप में अनोखे इस फैसले के अनुसार टीवी न्यूज़ चैनल पर होने वाली डिबेट में भाग लेने वाले मौलानाओं पर दरगाह आलाहज़रत से फतवा जारी किया गया है. फतवे में कहा गया है कि, “इस प्रकार के कार्यक्रमों में मौलानाओं का शामिल होना न सिर्फ शरीयत के खिलाफ है बल्कि हराम भी है. टीवी चैनलों पर डिबेट में शामिल होने पर मौलानाओं के शामिल होना जायज नहीं नाजायज है.”

Know what is fatwa?
In fact, according to this unique decision in itself, a fatwa has been issued from the Dargah on the maulanas who participated in debate on TV news channel. It is said in the fatwa that “Involvement of maulanas in such programs is not only against Shariat but also Haram. Inclusion of maulanas on TV channels is not permissible for joining the debate. ”

सोशल मीडिया पर जारी एक खबर के मुताबिक बरेली विश्व प्रसिद्ध दरगाह आलाहज़रत से आज एक फ़तवा जारी किया है. इस फतवे में लिखा गया है कि, “टीवी चैनलों में होने वाले डिबेट कार्यक्रमों में मौलाना या मौलवियों का शिरकत करने, उसमे भागेदारी लेना शरीयत के खिलाफ है और हराम है.” दरअसल, टीवी चैनलों पर लगातार हो रही डिवेट में मौलानाओं और मौलवियों के शामिल होने पर अभद्र भाषा का प्रयोग होना आम बात हो गई है. जिसको देखते हुए बरेली के पुराना शहर निवासी गुलफाम अंसारी ने दरगाह आलाहज़रत के दारुल इफ्ता से लिखित सवाल डाला गया था.

According to a news release issued on social media, Bareilly has issued a fatwa from the world famous dargah all over the world today. It has been stated in this verse that, “The participation of maulanas or clerics in debate programs occurring in TV channels, taking part in it is against Shariat and haram.” Indeed, in the continuous distribution of TV channels, maulanas and clerics It is common practice to use hate speech when joining. In view of this, Gulfam Ansari, a resident of Bareilly’s old town, had written a written question to Darul Iftaar of the Dargah Allahabad.

यह भी देखे:

https://www.youtube.com/watch?v=2p5FWA_BBz4

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

 

हिन्दू कर सेवकों की सबसे बड़ी जीत, शाबरमति एक्सप्रेस अग्निकांड में हुआ ये बड़ा खुलासा, PM मोदी-शाह ख़ुशी से पागल..

अहमदाबाद: साल 2002 में हुए गोधरा ट्रेन अग्निकांड में 16 साल से फरार एक आरोपी को गुजरात पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है. एक अधिकारी ने इस संबंध में जानकारी दी. उन्होंने बताया कि गोधरा बी डिविजन पुलिस की एक टीम ने याकूब पटालिया (63) को गोधरा से गिरफ्तार किया. उन्होंने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि उसे मंगलवार सुबह एक इलाके में देखा गया. उन्होंने बताया कि गश्त के दौरान पुलिस को आरोपी की मौजूदगी के बारे में सूचना मिली. उसके बाद तत्काल कार्रवाई करते हुए उसे गिरफ्तार कर लिया गया.

Ahmedabad: In the 2002 Godhra train fire, one of the accused, who has been absconding for 16 years, has been successful in arresting the Gujarat Police. An official informed about this. He told that a team of Godhra B division police arrested Yakub Patalia (63) from Godhra. He told that the secret information was received that he was seen in an area on Tuesday morning. He informed that during the patrol, the police received information about the presence of the accused. After that, he was arrested while taking immediate action.

पटालिया को एसआईटी को सौंपा जाएगा
अधिकारी ने बताया कि पटालिया को विशेष जांच टीम (एसआईटी) को सौंप दिया जाएगा जो मामले की जांच कर रही है. पटालिया पर उस भीड़ में शामिल होने का आरोप है जिसने 27 फरवरी 2002 को गोधरा रेलवे स्टेशन के पास साबरमती रेलवे स्टेशन के पास साबरमती एक्सप्रेस के डिब्बों में आग लगाई थी.

PATALIA TO BE SIGNED TO SIT
The officer said that Patalia will be handed over to the Special Investigation Team (SIT), who is investigating the matter. The Patiala is accused of joining the crowd who had set fire to the compartments of Sabarmati Express near Sabarmati railway station near Godhra railway station on February 27, 2002.

उसके खिलाफ सितंबर 2002 में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. साथ ही उस पर खिलाफ आईपीसी और रेलवे कानून के विभिन्न प्रावधानों के तहत आरोप लगाए गए. पुलिस ने बताया कि घटना के बाद से ही पटालिया फरार था.

An FIR was lodged against him in September 2002. Alongside it, allegations were made against him under different provisions of IPC and Railway Law. The police said that since the incident, Pantialia was absconding.

आरोपी का भाई भी हुआ था गिरफ्तार
पटालिया के एक भाई कादिर पटालिया को भी 2015 में गिरफ्तार किया गया था और सुनवाई के दौरान ही कादिर की 2015 में जेल में मौत हो गई. उसका एक अन्य भाई अयूब पटालिया वडोदरा केंद्रीय जेल में उम्रकैद की सजा काट रहा है.

The accused’s brother was arrested
Kadir Patalia, a brother of Patalia too was arrested in 2015 and during the hearing Kadir died in jail in 2015. His brother Ayub Patalia is serving life imprisonment in Vadodara Central Jail.

खास बातें
गोधरा ट्रेन अग्निकांड में 16 साल बाद आरोपी की गिरफ्तारी
आरोपी को विशेष जांच टीम (एसआईटी) को सौंपा जाएगा
गश्त के दौरान पुलिस को मिली आरोपी के दिखने की सूचना

कला जगत में देखें:

https://youtu.be/fBRvBB-0gH0

भारत में मुस्लिमों को पूजा जाता है और पाक में हिन्दुओं के साथ हो रहा ये शर्मनाक काम, देख आपकी आखें फटी रह जाएँगी..

कराची. पाकिस्तान में सिंध प्रांत के थरपरकर जिले में बाइक सवार लुटेरों ने गोली मारकर दो हिंदुओं की हत्या कर दी। मारे गए दोनों शख्स भाई थे और अनाज का कारोबार करते थे। इस घटना के बाद इलाके में हिंदू अल्पसंख्यकों ने दुकानें बंद कर दीं और विरोध-प्रदर्शन किया। हाईवे पर धरना दिया, जिससे जाम लग गया।

Karachi Pakistanis killed two Hindus by shooting a bike rider robbers in Tharparkar district of Sindh province. The dead were both brothers and used to trade grains. After this incident, the Hindu minorities closed shops and protested in the area. Hiked on the highway, there was a jam.

पुलिस ने कहा- जिले में लूट की पहली घटना
– पुलिस के मुताबिक, “दोनों कारोबारी भाई शहर के मिठी इलाके में स्थित अपनी दुकान खोल रहे थे, तभी वहां पहुंचे दो बाइक सवार लुटेरों ने उनसे पैसे छीनने की कोशिश की। विरोध करने पर लुटेरों ने गोली मारकर दोनों की हत्या कर दी।”

Police said – the first incident of robbery in the district
– According to the police, “Both businessmen were opening their shop located in the hugely situated area of the city, and then two bike rider robbers came there trying to snatch away money from them. The robbers shot and killed both of them for protest. ”

– मारे गए दोनों भाइयों के नाम दिलीप कुमार और चंदर माहेश्वरी थे। पुलिस के मुताबिक, थरपरकर शहर में लूट की यह पहली घटना है।

पुलिस पर लगा देर से आने का आरोप
– स्थानीय लोगों का आरोप है कि पुलिस घटनास्थल पर देर से पहुंची।
– रिपोर्ट के मुताबिक, ज्यादातर पुलिसवाले मीरपुरखास में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) की रैली में सिक्युरिटी के लिए भेजे गए हैं। वहां पाकिस्तान के पूर्व प्रेसिडेंट आसिफ अली जरदारी का भाषण होना है।

Police accused of coming late
– Local people have alleged that police reached late on the spot.
– According to the report, most of the policemen have been sent for security in the Pakistan People’s Party (PPP) rally in Mirpurkhas. There is a speech by Pakistan’s former President Asif Ali Zardari.

सिंध के होम मिनिस्टर क्या बोले?
– सिंध प्रांत के होम मिनिस्टर सोहेल अनवर सियाल ने इस घटना पर उमरकोट के एसएसपी को जांच के निर्देश दिए हैं।
– उन्होंने कहा “हम जल्द ही दोनों हिंदू भाइयों की हत्या की डीटेल्स आपसे शेयर करेंगे।

What did the Sindhu Home Minister say?
– Home Minister Sohail Anwar Seal of Sindh province has instructed the investigation of the SSP of Umarkote on this incident.
– He said “we will soon share details of the killing of both Hindu brothers with you.”

कला जगत में देखें:

https://youtu.be/fBRvBB-0gH0