योगी राज में अब तक की ये सबसे बड़ी खुशखबरी, जिसे देख ख़ुशी से आपकी आँखों में आ जायेंगे आंसू

मेरठ : यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ किस तरह से उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बना रहे हैं, ये जानकार आपको भी सुकून मिलेगा. कुछ ही महीनों पहले तक जो राज्य गुंडा राज के नाम से मशहूर था, वहाँ बड़े पैमाने पर बदमाशों की सफाई अभियान चल रहा है. आपको याद होगा कि अखिलेश राज में यूपी के कैराना से हिन्दुओं के पलायन की ख़बरें सामने आ रही थी. अब उसी कैराना से एक बड़ी खबर सामने आ रही है.

Meerut: CM Yogi Adityanath of Uttar Pradesh is making Uttar Pradesh the best state, knowing this will help you to get it. Until a few months ago, the state which was known as Gunda Raj, there is a large number of sweeping campaign of miscreants running. You will remember that news of the disappearance of Hindus from Uttar Pradesh’s Karana in Akhilesh Raj was coming out. Now a big news is coming out from that carahana.

हिन्दुओं को भागने पर मजबूर करने वाला मारा गया
यहां के सरूरपुर थाना क्षेत्र में पिछले गुरुवार को एसटीएफ ने कैराना में आतंक मचा रहे नामी बदमाश वसीम काला को ठोक दिया है. पुलिस ने बताया है कि वसीम काला पर 50 हजार का इनाम भी घोषित था. कैराना में वसीम काला और मुकीम काला नाम के दो सगे भाइयों ने हिन्दुओं के खिलाफ आतंक मचाया हुआ था. इन्ही जैसों के चलते वहाँ के हिन्दुओं को अपना घर-बार छोड़कर पलायन करना पड़ रहा था.

The Hindus have been forced to flee
In the Sarpurpur police station here on Thursday, the STF has knocked down Naami Badamash Wasim Black, who is facing terror in Karaana. Police have said that the reward of 50 thousand on Wasim Kala was also announced. In Kairana, two brothers in the name of Wasim Kala and Mukim Black were terrorized against the Hindus. Due to these similarities, the Hindus there had to leave their home and flee.

फिलहाल पुलिस इनके अन्य साथि‍यों की तलाश में जुटी है. एसटीएफ के डीएसपी ब्रिजेश कुमार सिंह ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि वसीम काला अपने साथी के साथ बाइक से करनावल-मीरपुर रजवाहे से आ रहा है. सूचना के आधार पर एसटीएफ की टीम ने कार्रवाई शुरू की और रजवाहे के पास घेराबंदी की गई.

At present, the police is busy looking for his other colleagues. DSP of STF Brijesh Kumar Singh told that he had received secret information that Wasim Kala is coming with his partner from Bikan to Karnal-Mirpur Rajvahi. On the basis of information, the STF team started the action and the siege was done near Rajwahi.

एसटीएफ के एक्शन के बाद कैराना में छायी शान्ति
इसके बाद सामने से एक बाइक पर दो युवक आते दिखे, जिन्हे पुलिस ने रुकने का इशारा किया लेकिन बदमाश शायद भांप गए और पुलिस पर ही गोलियां चलानी शुरू कर दी. जवाब में पुलिस ने भी गोली चलाई, जिसके बाद खुद को चारों ओर से घिरा हुआ देखकर दोनों बदमाश अपनी बाइक छोड़कर खेतों की ओर भागे.

After the action of STF, the peace of mind in Kairana
After this, two youths appeared on the bike from the front, which the police indicated to stop but the miscreants got scared and started firing on the police. In response, the police also fired, after seeing the surroundings surrounded by both the miscreants left their bike and ran towards the fields.

मगर इतने में ही पुलिस की एक गोली वसीम काला को जा लगी और वो मौके पर ही ढेर हो गया, जबकि उसका साथी खेतों के रास्ते भागने में कामयाब रहा. एसटीएफ द्वारा मुठभेड़ की सूचना पर सरूरपुर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और खेत में छिपे दुसरे बदमाश की तलाश में कांबिंग शुरू की, मगर तब तक वो भाग निकला था. घंटों तक चली कांबिंग के बावजूद उसका कोई सुराग हाथ नहीं लगा.

But in a lot of the same, one bullet from the police went to Wasim Kala and he got stuck on the spot, while his partner managed to escape through the fields. On the information of the encounter by the STF, the Sarpurpur police station reached the spot and started camping in search of another miscreant hidden in the farm, but by then he had escaped. Despite climbing for hours, there was no clue on his hand.

वसीम काला को अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोष‍ित कर दिया. पुलिस के मुताबिक एनकाउंटर में मारे गए बदमाश की शिनाख्त शामली में रहने वाले वसीम काला के रूप में हुई है. वसीम पर 50 हजार का इनाम घोषित था और इसके खिलाफ रंगदारी, हत्या, लूट आदि के एक दर्जन से ज्यादा केस दर्ज थे. वसीम कैरान के कुख्यात बदमाश मुकीम काला का सगा भाई था. मुकीम इस समय जेल में बंद है। इसकी दहशत की वजह से कैराना के हिन्दुओं ने पलायन करना शुरू किया था.

Wasim Kala was taken to the hospital, where doctors declared him dead. According to the police, the miscreants killed in an encounter were identified as Wasim Kala, who lived in Shamli. Wasim was declared a reward of 50 thousand and against him more than a dozen cases of dredging, murder, loot etc. were registered. Wasim Karan’s infamous crook was a relative brother of Mukim Black. Mukim is currently in jail. Because of its panic, the Karaana Hindus started to flee.

यह भी देखें:

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0

source zee news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *