बड़ा खुलासा : जब ” हिन्दू शरणार्थी ” बनेंगे तो ऐसा कौन सा देश है जो हिन्दुओं को आश्रय देगा, मचा हडकंप …..

modi, news, politics

आजकल सभी लोग सोशल मीडिया पर अपने विचार रखते है. वो क्या सोचते है और क्या चाहते है सभी कुछ सोशल मीडिया पे डालते है ताकि बाकि लोग भी इस ओर ध्यान दें. सोशल मीडिया लोगो को एक- दुसरे की बात को बताने का समझाने का माध्यम बन गया है. जिसके सहारे लोग अपनी बात को दुसरे लोगो तक पहुंचाते है. सच्चाई को सामने लेन का प्रयास करते है. लोगो को कई बातों से जुडी सच्चाई से अवगत कराते. सोशल मीडिया एक ऐसा माध्यम है जो लोगो को लोगो से जोड़ता है. उनके विचारो को दुसरे लोगो तक पहुंचता है !

Nowadays all people have their views on social media. What they think and what they want to put everything on social media so that other people also pay attention to it. The social media has become a medium to explain to people the story of one another. With which people bring their talk to other people. Let’s try the front lane to the truth. Make people aware of the truth about many things. Social media is a medium that connects people to people. Their thoughts reach to other people.

इसी चलते हमारी नजर सोशल मीडिया पर रहती है. आजकल देशभर में क्या-क्या हो रहा है ये सब हमे सोशल मीडिया से ही पता चलता है और इससे जुडी कई चीजों को हम अपने पाठकों के सामने भी पेश करते है. पूरे देशभर में क्या हो रहा है और क्या होने वाला है इससे लोगो को जागरूक कराते है. यह एक ऐसा माध्यम है जो कि सभी बातों को लोगो के सामने लाता है ये किसी एक क पक्ष नही लेता. जो भी देशभर में चल रहा होता है उससे लोगो को जागरूक कराता है. जिससे लोगो को पता होना चाहिए कि हमारे देश में क्या चल रहा है. कैसा होए से हमारा देश प्रगति कर सकता है या फिर कैसा न होने से देश कोहनी हो सकती है ये सभी बातें हमें सोशल मीडिया से पता चलती है !

This is why our eyes stay on social media. Nowadays, what is happening all over the country, we all know from the social media and we present a lot of things in front of our readers. Make people aware of what is going on in the whole country and what is going to happen. It is a medium that brings all things in front of people, it does not favor any one. What makes people aware of what is going on in the country. So that people should know what is going on in our country. How can our country progress or how can there be a lion in the country without regard to all these things we all know from the social media.

जिस सोशल मीडिया के कारन हमे देश भर हो रही बातों का पता चलता है आज उसी सोशल मीडिया पर हुए ये सवाल देखने को मिला. सवाल ये पूछा गया कि अगर कभी ऐसा हुआ की हिन्दुओं पर किसिस प्रकार की मुसीबत आई और उन्हें मज़बूरी में शरणार्थी बनना पड़ा तो वे क्या करेंगे. वे किस देश में शरण लेंगे या फिर किस देश में उनको शरण मिलेगी. कोन सा ऐसा देश होगा जो हिन्दुओं को अपने देश में आश्रय देगा. क्या कभी सोचा है आपने इस बारे मे कल अगर ऐसा हुआ थो क्या होगा इसका परिणाम. जनता है कोई इस बारे में की अगर कभी ऐसी नौबत आई थो क्या करेंगे !

The social media that we are aware of is happening around the country today, these questions got on the same social media. The question was asked, “If ever there was such kind of trouble that the Hindus had to suffer and what they would have to become refugees in a helplessness, what would they do?” In which country will they take shelter or in what country will they get shelter? Which country would be a country which would give shelter to Hindus in their country. Have you ever wondered what happened if you did this yesterday, the result? There is a public about this, if ever such a time came, what will happen.

यहाँ एक ऐसा मामला है जो दैनिक भारत के पाठकों के बीच में रखने लायक है, क्यूंकि जागरूकता हर व्यक्ति का अधिकार है. दैनिक भारत के पाठकों को इस बात कि जानकारी होनी ही चाहिए. आगे आने वाले समय में अगर कोई इसी मुसीबत आई थो क्या कदम उठाना होगा. क्या देश को जागरूक करना गलत है. क्या देश के प्रति अपना कर्तव्य न्हीभाना गलत है. दैनिक भारत के पाठकों को नि लगता की इस तरह का सवाल पूछा जाना सही नहीं है. ऐसा सवाल पूछकर आप क्या साबित करना चाहते है. जो भी देश में च रहा है इससे जनता को जागरूक कराना आवश्यक है !

Here is a case which is worth keeping among the readers of daily India, because awareness is the right of every person. The readers of daily India must know about this fact. In the coming time, if anybody has suffered this problem then what steps will be taken? Is it wrong to make the country aware? Is it wrong to claim duty on the country? It is not right to ask a question like this that readers of daily India feel uncomfortable. What do you want to prove by asking such a question? Whatever is happening in the country, it is necessary to make the public aware.

देखिये सोशल मीडिया पर क्या सवाल उठ रहा है सवाल यह पूछा गया है कि,अगर कभी हिन्दुओ पर मुसीबत आई और हिन्दू मज़बूरी में शरणार्थी बने तो उनको कौन से देश में शरण मिलेगी? ऐसा कोन सा देश हो जो इनको अपने साथ रखने के लिए राजी होगा अगर आप भारत का नक्शा देखें, और उसके पड़ोसियों को देखें तो एक चीज तो साफ़ हो जाता है की, पाकिस्तान में हिन्दुओ को शरण नहीं मिलेगी, बांग्लादेश और चीन की तरफ भी न ही देखा जाये तो अच्छा है !

What is the question raised on the social media? The question is asked, If ever there has been trouble on Hindus and Hindus become refugees in vulnerability, then which country will they find refuge? Who are these people who will agree to keep them with you if you look at the map of India, and if you see its neighbors, then one thing becomes clear that Hindus in Pakistan will not be sheltered, even in Bangladesh and China. Neither is good to be seen.

बात करें पाकिस्तान कि तो ये बात तो सबको पता है कि यहाँ आश्रय मिल पाना नामुमकिन है. पाकिस्तान तो शुरू से ही भारत का विरोधी देश रहा है. मुस्लिमो ने हमेशा से ही हिन्दुओं को अपना गुलाम बनाना चाहा. उनको अपने कदमो पर रखना चाहा है फिर केसे ये उम्मीद रख सकते है की पाकिस्तन किसी भी प्रकार से हिन्दुओ की मदद कर सकता है. ऐसा सोचना एक तरह से सपना देखना होगा और वो भी ऐसा सपना जो कि कभी भी सच्चा नही हो सकता इस बात को भूल जाओ वही अच्छा है !

Talk to Pakistan, then everyone knows that it is impossible to find shelter here. Pakistan has been an anti-India country since the beginning. Muslims always wanted to make Hindus their slave. They want to keep them on their feet, then how can they hope that Pakistan can help Hindus in any way. Thinking like this would have to be dreamed in a way and even a dream which can never be true, forget that, that is good.

वहीँ नेपाल भूटान और श्रीलंका हिन्दुओ को शरण दे सकेगा ये भी मुमकिन नहीं होगा क्यौकी वो तो काफी छोटे देश है, उनके खुद के देश में रहने वालो को मुसीबतों का सामना करना पता है ओ वो किस तरह हिन्दुओं की मदद क सकते है ऐसी सूरत में हिन्दुओ को 1 ही जगह शरण मिल सकती है और वो स्थान है समुंद्र में या तो बंगाल की खाड़ी या अरब सागर या फिर हिन्द महासागर ये जगह है जहाँ हिन्दुओं को रहने के लिए शरण मिल जाएगी. इन सभी बातों से यह पता चलता है कि हिन्दुओं का अपना कोई भविष्य नही है. उन्होंने कभी इस नजरिये से देखा ही नहीं की अगर कभी ऐसा हुआ तो कोण उनकी मदद करेगा.कोई भी नही है हिन्दुओं की सहायता करने वाला !

Even Nepal, Bhutan and Sri Lanka will be able to give shelter to Hindus. It is also not possible that they are a small country, those who live in their own country know to face the problems. How can they help Hindus in such a situation? Hindus can get asylum in the 1st place and the place is in Samudra either in the Bay of Bengal or the Arabian Sea or Indian Ocean where Hindus will get shelter to live. All these things show that Hindus have no future for themselves. He never saw from this point of view that if ever this happened then angle will help him. Nobody is helping the Hindus.

इन सब बातों से अब तो यही लगता है कि सच में हिन्दुओ को भी अपने भविष्य के बारे में सोचना ही चाहिए कि उनका आज चाहे जेसा भी हो पर उनका कल केसा होगा या उनका कल आज जेसा ही होगा या इससे भी बेकार होगा इस बारे में अभी तो कुछ भी नही कहा जा सकता. लेकी इतना जरुर कहा जा सकता ही हिन्दुओं को अपने आज के साथ- साथ अपने कल को भी बहतेर बनाना होगा ताकि अगर भविष्य में ऐसा हुआ भी तो उनको किसी के सहारे की जरुरत न पड़े. किसी के सामने सहायता के लिए हाथ न फैलाना पड़े. आज में अपने कल को इतना मजबूत बना लो कि कल जो भी हो इस बात से निश्चिंत रहें कि हमे या हमारी आने वाली पीड़ी को कोई कष्ट न हो आज की तरह हमारा कल भी सुन्दर ओए प्यारा हो !

From all these things, it seems that in reality, Hindus should also think about their future, regardless of what they are today, how they will be tomorrow or tomorrow will be as bad as today or worse. Nothing can be said right now. Leki can be said so much that Hindus have to make their own days together as well as their own, so that if this happened in the future, they would not have needed any support. Do not spread hands for anyone to help. Today, make your tomorrow so strong that whatever tomorrow is, be assured that neither ours nor our future will suffer any pain, as our life is still beautiful, dear.

यह भी देखें:

Source: guiltfree.online

Leave a Reply