युद्ध के माहौल के बीच भारत को पड़ी मदद की आवश्यकता, तो अमेरिका कर देगा ये खुफिया काम

modi

भारत ऐसा देश है, जिसके साथ, अन्य राष्ट्र उलझना पसंद नहीं करेंगे| यहां तक ​​कि एक महाशक्तिशाली देश भी भी भारत के साथ उलझने से पहले सैकड़ों बार सोचेगा|ऐसी स्थिति में सब के मन में एक प्रशन जरुर उत्पन्न होगा की यदि भारत के खिलाफ युद्ध घोषित होता है तो अमेरिका किस देश का समर्थन करेगा?

India is a country with which other nations will not like to be confused. Even a super-powerful country will think hundreds of times before engaging with India. In such a situation, a question will arise in everybody’s mind that if the war against India is declared, then what country will America support?

क्या अमेरिका भारत के खिलाफ युद्ध घोषित करेगा?

सबसे पहले, तो मैं ये बताना चाहूँगा की संयुक्त राज्य अमेरिका कभी भी भारत के खिलाफ हमला करने की हिम्मत नहीं करेगा|पूरी दुनिया जानती है की समय के साथ साथ भारत और अमरीका के बीच मित्रता बड़ रही है| अमरीका के पास भारत के खिलाफ युद्ध घोषित करने का कोई कारण नहीं है|इससे स्पष्ट है की अगर कोई देश भारत के खिलाफ युद्ध घोषित करता है तो अमरीका भारत के साथ होगा,भारत के पक्ष में होगा|अब इस बात का विश्लेषण करते है की ऐसे कोन से देश है जो भारत के खिलाफ युद्ध घोषित करने की हिम्मत कर सकते है|

Will America declare war against India?

First of all, I would like to tell that the United States will never dare to attack India. The whole world knows that friendship and friendship between India and America is growing on time. The United States has no reason to declare war against India, it is evident from the fact that if a country declares war against India, then America will be with India, in favor of India. From such an angle is the country which can dare declare war against India.

भारत के खिलाफ अन्य देशों द्वारा युद्ध घोषित करने की क्या संभावनाएं है?

रूस भी भारत की तरह एक शक्तिशाली राष्ट्र है लेकिन रूस दशकों से भारत का दोस्त है और मैं अपने सपनों में भी कल्पना नहीं कर सकता की रूस भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर सकता है|

What are the prospects of declaring war by other countries against India?

Russia is also a powerful nation like India but Russia has been India’s friend for decades and I can not imagine in my dreams that Russia can declare war against India.

वर्तमान में एक और शक्तिशाली राष्ट्र है चीन। यह एक ऐसा राष्ट्र है जो दूसरे देश के क्षेत्रफल में प्रवेश करता हैऔर यह दावा करता है की वो उसका शेत्र है| परंतु भारत ने इस दुष्ट देश की इस आदत को तोड़ दिया है। क्या चीन कभी ये भूल सकता है कि भारत ने उसे किस तरह डॉकलाम से दूर कर दिया था| डॉकलाम विवाद लगभग 2 महीने से अधिक चला लेकिन चीन भारत को एक कदम भी पीछे न धकेल सका| डॉकलाम विवाद से पहले दुनिया एक गलत धारणा में थी की चीन भारत को दबा सकता है|अगर चीन भारत के खिलाफ युद्ध घोषित कर भी देता को लगाया तो संयुक्त राष्ट्र अमेरिका भारत का समर्थन करने के लिए अपने सैनिकों को भेज देता|पर अब संयुक्त राष्ट्र अमेरिका अपने सैनिकों को नही भेजेगा|इसका कारण निसंदेह साफ़ है| अब भारत अकेला ही चीन की रीढ़ को तोड़ने में समक्ष है|

There is currently another powerful nation in China. This is a nation which enters the territory of another country and claims that it is its territory. But India has broken this habit of this evil country. Can China ever forget that how India had overcome it from Doklam? Doklam controversy lasted more than 2 months but China could not push India one step back. Before the Doklam dispute, the world was in a misconception that China could suppress India. If China imposed a war against India, then the United States sent its troops to support India, but now the United Nations The United States will not send its troops. The reason is undoubtedly clear. India alone is in the forefront of breaking the backbone of China.

पहली बार इस बार ग्रेट ब्रिटेन ने आंतरिक न्यायालय ने न्यायाधीशों के चुनाव में हार का स्वाद चखा है| जैसे ही भारतीय न्यायाधीश श्री भंडारी को मजबूत समर्थन मिला तो ब्रिटेन के पास अपने कदम पीछे करने के इलावा कोई और चारा नही रहा और उसने द्वारा किये हुए नामांकन को वापिस ले लिया| युद्ध की बात तो भूल जाओ भारत ने तो ब्रिटेन को राजनयिक लड़ाई में ही बहुत आसानी से हरा दिया|

For the first time this time Great Britain has enjoyed the taste of defeat in the courts of the judiciary. As soon as Indian Judge Shri Bhandari got strong support, the UK had no choice but to step back, and withdrew the enrollment made by him. Forget about the war, India defeated Britain in a diplomatic fight very easily.

फ्रांस, इस राष्ट्र के पास भी भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा करने का कोई कारण नहीं है

France, this nation has no reason to declare war against India

जापान क्या यह राष्ट्र भारत पर हमला कर सकता है ? नही बल्कि जापान तो उल्टा भारत के साथ मिलकर उसके दुश्मनों का खात्मा कर देगा|

Japan can this nation attack India? Not only Japan but with the opposite India will eliminate its enemies.

जर्मनी, भूटान, बांग्लादेश, म्यांमार, ये सभी देश भी भारत के दुश्मन बनने की बजाए उसके दोस्त बनना चाहेंगे|

Germany, Bhutan, Bangladesh, Myanmar, all these countries would also want to become friends of India instead of being enemies.

अगर पाकिस्तान भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा करता है तो?

If Pakistan declares war against India then?

पाकिस्तान एकमात्र ऐसा राष्ट्र है जो भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा करने को उत्सुक्त है|पर मैं आपको बताना चाहूँगा ये पाकिस्तान का आतम दाह होगा वो अपनी मौत को खुद बुलावा दे रहे है|जनवरी 1 को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने घोषित किया था की अमेरिका अब पहले की तरह मुरखता करते हुए पाकिस्तानियों को फंड नही करेगा|इस आतंकवादी देश के पास तो अपने आतंकवादियों को खाने के लिए देने के लिए कुछ नही है भारत के खिलाफ युद्ध तो भूल ही जाओ|

Pakistan is the only nation which is excited to declare war against India. But I would like to tell you that it will be the worst thing in Pakistan that she is calling her own death. On January 1, President Donald Trump had declared that America Now it will not fund the Pakistanis while starking in the first place. There is nothing left for this terrorist country to give to their terrorists. War against the need to go forgot |

अगर पाकिस्तान ऐसा गलत निर्णय लेता भी है तो अमेरिका भारत के साथ खड़ा होगा और यहाँ तक की भारत और पाकिस्तान के बीच समझोता कराने की कोशिश करेगा जिससे युद्ध को टाला जा सके|

If Pakistan makes such a wrong decision then the US will stand with India and will even try to settle between India and Pakistan, to avoid the war.

अगर फिर भी पाकिस्तान युद्ध घोषित करता है तो हम भारत का साथ देंगे हम वो सब करेंगे जो इस तरह के प्रतिबद्धता को रोकने के लिए आवश्यक है,यहाँ तक की अगर इसमें पाकिस्तान के शासन को बदलने में व्यवस्था शामिल है| इसलिए नहीं कि भारत को सुरक्षा की जरूरत है बल्कि हम पाकिस्तान को उसके खुद से ही बचाएंगे।

If Pakistan still declares war then we will support India and we will do all those who are necessary to stop such commitment, even if there is a system to change the rule of Pakistan. Not because India needs protection, but we will save Pakistan from its own.

यह भी देखे

sourcename political report

Leave a Reply