आखिर क्यों इजराइल इतनी मित्रता दिखा रहा है, क्या कारण है भारत के प्रति इस राजनैतिक प्रेम का…

हम सभी ने देखा की मोदी जब से इजराइल गए हैं सारा इजराइल उनपर प्यार बरसा रहा है| इसके क्या मायने हैं| क्यों इजराइल भारत के प्रधानमन्त्री और भारत, दोनों का दीवाना हो गया है| इजराइल ऐसा क्यों कर रहा है| कहने का मतलब है की दुनिया के सबसे ताकतवर देश में शुमार इजराइल का भारत के साथ क्या लेना देना हो सकता है|

We all have seen hom modiji is loved by israel ever since he decided to vsit israel. what does it mean? why israel prime minister has fallen in love with india. question is what on earth a powerful nation like israel has to do with a country like india.

कयास यह भी लगाये जा रहे हैं की इजराइल से भारत को इनोवेशन का बोहत बड़ा खजाना मिल सकता है| हालाकि इसैल बोहत छोटा सा देश है लेकिन भारत इजराइल से बोह्ह्त कुछ सीख सकता है| इजराइल की कुल जनसँख्या केवल 87 लाख है और क्षेत्रफल केवल 20700 वर्ग किलोमीटर है| यदि तुलना करें तो भारत का क्षेत्रफल इजराइल से 158 गुना ज्यादा है| जबकि जनसंख्या 153 गुना ज्यादा है| ऐसे में बोहत से लोग ये कहेंगे की इन दोनों देशों की तुलना संभव नहीं |

It is also being speculated that from Israel, India can get a great treasure of innovation. Though Ismail is a small country with Bohit, but India can learn something from Bohhat. The total population of Israel is only 87 million and the area is only 20700 square kilometers. If compared, the area of ​​India is 158 times more than Israel. While the population is 153 times more. In such a case, people will say that the comparison of these two countries is not possible.

हम भी यह बात जानते हैं लेकिन इनोवेशन क्षेत्रफल और जनसँख्या की मोहताज नहीं होती| नए आविष्कार और खोज कही भी हो सकती हैं| केवल खोज करने का भाव होना चाहिए| और इजराइल भाव में पीछे नहीं है| और इसीलिए इजराइल को इनोवेशन का केंद्र कहा जाता है| आतंकवाद से लड़ने के नए तरीके हों या खेती करने के नए फोर्मुले, इजराइल ने दोनों ही क्षेत्रो में झंडे गाढ़े हुए हैं| वह जय जवान भी है और जय किसान भी है|

We also know this, but the area of innovation and the population is not appealing. New inventions and discoveries can happen anywhere. There should be a sense of searching only. And Israel is not behind in the spirit. And that is why Israel is called the center of innovation. There are new ways to fight terrorism or the new formulas of farming, Israel has flagged the flags in both areas. He is also a Jai Jawan and Jai is a farmer too.

आतंकवाद से मुकाबला केसे किया जाता है? और सूखी ज़मीन पर खेती केसे होती है? ये इनोवेशन इजराइल ने पूरी दुनिया को करके दिखाया है| इजराइल दुनिया के उन चुनिन्द्दा देशों में शामिल है जो आतंकवाद से किसी भी तरह का कोई भी समझौता कभी भी नहीं करते हैं|

How to counter terrorism? And what is the cultivation of dry land? This innovation has shown to Israel through the whole world. Israel is among the select countries of the world who do not compromise on any kind of terrorism.

आज इजराइल के बने हथियार पूरी दुनिया में आतंकवादियों पर मौत बनकर बरस रहे हैं|
Today the weapons made by Israel are roaming on the terrorists throughout the world.

इतिहास गवाह है की भारतीय जनता पार्टी की सरकार से इजराइल के रिश्ते हमेशा अच्छे रहे हैं| इससे पहले पूर्व प्रधानमन्त्री अटल विहारी बाजपेयी के नेत्रत्व वाली सर्कार के समय भी तत्कालीन इजराइल के प्रधानमन्त्री अरियल शेरोन भारत की यात्रा करने वाले पहले इसरायली प्रधानमंती बने|

History is witness that Israel’s relations with the Bharatiya Janata Party government have always been good. Earlier, even during the reign of the Prime Minister Atal Bihari Vajpayee’s leadership, then Israel’s prime minister Ariel Sharon became the first Israeli prime minister to visit India.

कांग्रेस पार्टी पर ये आरोप लगते रहे हैं की उन्होंने इजराइल को नज़रंदाज़ किया| हालांकि पी वी नरसिंह राव के कार्यकाल में इजराइल से कूटनीतिक बातचीत की औपचारिक शुरुआत हुई थी|

The Congress party has been accusing that they ignored Israel. However, during the tenure of P.V. Narasimha Rao, formal formation of diplomatic negotiations was initiated by Israel.

इतिहास गवाह है की भारतीय जनता पार्टी की सरकार से इजराइल के रिश्ते हमेशा अच्छे रहे हैं| इससे पहले पूर्व प्रधानमन्त्री अटल विहारी बाजपेयी के नेत्रत्व वाली सर्कार के समय भी तत्कालीन इजराइल के प्रधानमन्त्री अरियल शेरोन भारत की यात्रा करने वाले पहले इसरायली प्रधानमंती बने|

History is witness that Israel’s relations with the Bharatiya Janata Party government have always been good. Earlier, even during the reign of the Prime Minister Atal Bihari Vajpayee’s leadership, then Israel’s prime minister Ariel Sharon became the first Israeli prime minister to visit India.

भारत और इजराइल में क्या समानताएं हैं और दोनों देशों को एक साथ क्यों काम करना चाहिए और इजराइल को ये बात समझ में आती है इसीलिए इजराइल भारत देश के साथ जुड़ने को बेताब है| अधिक जाने के लिए निचे विडियो देखें|

What are the similarities between India and Israel and why both countries should work together and Israel understands this, so Israel is desperate to be associated with India. Watch the video below to learn more.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=8ImzYyVUuNQ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *