ब्रेकिंग न्यूज़: कासगंज दंगे के मास्टरमाइंड का हुआ सनसनीखेज खुलासा, सामने आयी ये खौफ़नाक सच्चाई…

कासगंज : गणतंत्र दिवस के मौके पर तिरंगा यात्रा के दौरान मजहबी जिहादियों ने दंगा भड़का दिया. बेहिसाब पत्थरबाजी के साथ-साथ फायरिंग भी की गयी, जिसमे चन्दन नाम के एक युवक की जान चली गई. इस दंगे के पीछे जिम्मेदार चेहरे अब सामने आने शुरू हो गए हैं और जिहादियों के खून मंसूबों के पीछे की सच्चाई भी सामने आनी शुरू हो गयी है.

Kasganj: On the occasion of Republic Day, religious jihadis triggered riots during the trip to Tiranga. Firing was done with unaccounted rocketing, in which a young man named Chandan died. Responsible faces have started appearing behind this riot and the truth behind the bloodshed of the jihadis has also started to emerge.

पहले तो मीडिया ने इस खबर को दो समुदायों के बीच हुई झड़प बताकर मामले को टालने की कोशिश की. बाद में जब कुछ हिन्दुओं का माथा घूमा और उन्होंने हिंसा का जवाब प्रतिहिंसा से देना शुरू कर दिया तो मीडिया ने सारा दोष बीजेपी नेताओं व् एबीवीपी पर मढ़ दिया.

At first, the media tried to avoid the matter by telling the news about a clash between two communities. Later, when some Hindus came to the forehead and started giving responses to violence, the media plunged the entire blame on BJP leaders ABVP.

झूठ फैलाया जाना शुरू हो गया कि एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने मुस्लिमों के खिलाफ नारेबाजी की और भगवा झंडा फहराया. हालांकि अब सामने आ गया है कि ये सब दरअसल झूठ था और कासगंज को जलाने की साजिश सुनियोजित थी.

The lie began to spread that the ABVP workers shouted slogans against the Muslims and hoisted the saffron flag. Although it is now revealed that all this was a lie and conspiracy the conspiracy to burn Kasganj was well planned.

कासगंज हिंसा का आरोपी शकील फरार
पुलिस व् प्रशासन ने भी जिहादियों के खिलाफ एक्शन ना लेने की पूरी कोशिश की, सीएम योगी के आदेश के बाद ही पुलिस ठीक से एक्शन में आयी और जिहादियों के घरों पर छापेमारी शुरू हुई. पुलिस के निक्कमेपन के कारण चन्दन की हत्या करने वाला शकील फरार हो गया. आज शकील के घर में तलाशी के दौरान पुलिस को देशी बम और पिस्टल बरामद हुई है.

Shakeel absconding for Kasganj violence
Police and administration also made every effort to not take action against the jihadis, only after the order of CM Yogi the police came into action and started raiding the houses of jihadis. Due to the deficiency of the police, Shakeel, who killed Chandan, escaped. Today, during the search of Shakeel’s house, the country’s bombs and pistols have been recovered.

जिहादियों के घरों से असलाह, बारूद का जखीरा बरामद
तलाशी के दौरान राशिद होटल से भी देशी बम मिला है और एक युवक पिस्टल के साथ पकड़ा गया है. पूरे इलाके में सघन तलाशी अभियान चलाया जा रहा है. आधे दर्जन घरों से देसी बम बरामद हुए हैं, जहाँ छापे मार रही है पुलिस वहीँ से देसी कट्टे व् गोलियां बरामद हो रही हैं. ऐसा लग रहा है कि बड़े पैमाने पर खून-खराबे की तैयारी की गयी थी.

Aslam, junkies recovered from jihadis’ houses
During the search, Rashid Hotel has also received country bombs and a young man has been caught with a pistol. Intensive search operations are being carried out in the entire area. Desi bombs have been recovered from half a dozen houses, where the raid is being carried out, the police are getting the country’s blacks and bullets from them. It seems that there was a massive bloody preparation.

कासगंज के कई इलाकों में आज भी आगजनी की घटनाएँ हुई हैं और बंद पड़ी कुछ दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया है. वहीँ पुलिस लगातार सघन तलाशी अभियान चलाकर दोषियों को पकड़ने की कोशिश में जुटी हुई है. अखिलेश यादव जिहादियों के खिलाफ पुलिस की इस कार्रवाई को अन्याय बता रहे हैं.

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा है कि अफवाह न फैले इसलिए कासगंज में इन्टरनेट सेवाओं को रोका गया है. बाहरी नेताओं के आने से माहौल ख़राब हो सकता है, इसलिए उनके आने पर रोक लगाई गयी है.

जिहादियों के खिलाफ एक्शन क्यों नहीं लेती यूपी पुलिस?
कासगंज हिंसा की जाँच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है. कासगंज की हिंसा ने प्रशासन के रवैये पर लगातार सवाल उठाये हैं. आज तीसरे दिन भी पेट्रोलिंग के दौरान एक युवक पिस्टल के साथ गिरफ्तार किया गया है. सीएम योगी ने कल हाई लेवल मीटिंग भी की थी और प्रमुख सचिव गृह ने भी कल कहा था कि जल्दी ही स्थिति नियंत्रण में होगी.

Why does the UP Police take action against jihadis?
SIT has been constituted to investigate Kasganj violence. The violence of Kasganj has consistently raised questions on the attitude of the administration. Today, on the third day, a young man has been arrested with pistol during patrol. CM Yogi had also made a high level meeting yesterday and the Principal Secretary’s house had said yesterday that the situation will be under control soon.

इस पूरे मामले में डीएम और एसपी की नाकामी पर भी सवाल उठ रहे हैं. सूत्रों के हवाले से मिली खबर के मुताबिक़ जिहादियों के खिलाफ वक़्त रहते सख्त एक्शन ना लेने के लिए सीएम योगी एटा और कासगंज प्रशासन से नाराज बताए जा रहे हैं. माना जा रहा है कि डीएम और एसपी पर गाज गिर सकती है और दोनों को हटाया जा सकता है.

यह भी देखें:

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0

source political report

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *