अखिलेश ने कठुआ-उनाव मामले में दिया शर्मनाक बयान इस पत्रकार ने मारा जोरदार तमाचा,देख मायावती की बोलती हुई बंद

modi

देश के दो राज्य उत्तर प्रदेश और कश्मीर में दो सामूहिक दुष्कर्म से बबाल मचा हुआ है! जहाँ जम्मू कश्मीर के कठुआ में आसिफा के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी गई थी! वही उत्तर प्रदेश के उन्नाव में सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है! जिसमें आरोप बीजेपी विधायक पर लगा है!इस मामले में पीड़िता के पिता की हत्या कर दी गई है! मामले की गंभीरता को देखते हुए योगी सरकार ने जांच के आदेश दिए है! जम्मू के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ हुए गैंगरेप और मर्डर ने देश के लोगो के रूह को हिला कर रख दिया है!

इसी कड़ी में अखिलेश यादव ने उन्नाव में लड़की के साथ हुए दुष्कर्म और जम्मू कश्मीर में आसिफा के साथ हुए जघन्य अपराध को उठाते हुए ट्वीट किया कि ना ही कश्मीर में और ना ही उत्तर प्रदेश में और यहां तक कि दिल्ली में भी बेटियां सुरक्षित नहीं है जो यह बताता है कि मोदी सरकार किस प्रकार से नाकामी के गर्त में डूब चुकी है परंतु उसका सत्ता का लोभ और सत्ता का अहंकार नहीं जा रहा!

अखिलेश यादव ने ट्वीट किया- “उन्नाव, कठुआ, सूरत और अब दिल्ली में बलात्कार की घटनाओं ने देश के हर घर को चिंता में डाल दिया है. लोगों में अपनी बहन-बेटियों को लेकर डर का माहौल बन गया है. सरकार इतने गंभीर विषय पर भी कोई ठोस कार्रवाई न करके राजनीति कर रही है, इससे दुखद, शर्मनाक और निंदनीय और क्या हो सकता है!”

उनकी स्ट्रीट के बाद बहुत से लोगों की प्रतिक्रिया अभी आए कुछ लोगों ने उनका समर्थन किया तो कुछ लोगों ने यह बोला कि जब आप की सरकार थी तो देश ही नहीं बल्कि प्रदेश की बेटियों के साथ क्या अपराध होता था यह आप जानते हैं परंतु आज आप प्रधानमंत्री मोदी को इसके लिए नसीहतें देते फिरते हैं तो यह लगता है जैसे बिल्ली दूध की रखवाली कर रही हो!

परंतु सबसे अधिक तीखा हमला यदि किसी ने किया तो वह किसी राजनेता ने नहीं बल्कि एक पत्रकार सुशांत सिन्हा ने अखिलेश यादव के इस ट्वीट को कोर्ट करते हुए बोला कि “इससे निंदनीय ये हो सकता है कि आपके पिता मुलायम सिंह जी मंच पर खड़े होकर कहें कि “रेप किया तो क्या, लड़के हैं…गलती हो जाती है, फांसी पर चढ़ा दोगे क्या” और आप अपनी मुख्यमंत्री की कुर्सी के मोह में चुप बैठें.. उनसे पलटकर माफी मांगने को न कहें और आज रेप पर दुख का ढोंग करें।”
यह भी देखे

source  political report

Leave a Reply