बड़ी खबर: अलगावादी नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट दे डाली ऐसी बड़ी धमकी, देख भौचक्के रह गए मीलार्ड..

modi

देशभर के लिए बहुत बड़ा दिन है सुप्रीम कोर्ट में संविधान के आर्टिकल 35A को लेकर दायर की गई याचिकाओं पर जल्द ही सुनवाई होगी. जिसके लिए मोदी सरकार जी तोड़ से लगी हुई है. हालाँकि पिछले कई फैसले कोर्ट के लोगों को ज़रा खटके हैं और इसकी सुनवाई भी वही जज कर रहे हैं जिन्होंने दिवाली पर ही केवल पटाखों पर बैन लगाया था. इस बीच अलगाववादियों ने बेहद चौंकाने वाला ज़हर उगल दिया है.

There is a huge day for the country. The petition filed in the Supreme Court on Article 35A of the Constitution will be heard soon. For which Modi Government is engaged with the break. However, the previous decisions have been filed against the people of the court and its hearings are also being judged by those who had banned fireworks only on Diwali. Meanwhile, the separatists have sparked a very startling poison.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले अलगाववादियों ने दी धमकी !
खबर के मुताबिक अलगाववादियों के अंदर डर का माहौल अभी से पैदा हो गया है कि अगर कहीं कोर्ट ने अनुच्छेद 35A ख़त्म कर दिया तो उनकी घाटी में फैलाई हुई दहशत और कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार करने वाले प्लान पर पानी फिर जाएगा. इसलिए अलगाववादी नेताआें ने अनुच्छेद 35A को रद्द करने की मांग वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से ठीक पहले जम्मू-कश्मीर को फलिस्तीन बनाने की गीदड़ धभकी दी है.

Before the Supreme Court’s decision, separatists gave the threat!
According to the news, the atmosphere of fear in the separatists has arisen right now, if the court has finished Article 35A, then the panic spread in the valley and the ploy to punish the Kashmiri Pandits will get water again. That is why separatist leaders have shouted slogans to make Jammu and Kashmir a Palestinian state just before the hearing in the Supreme Court on the petitions demanding the cancellation of Article 35A.


फिलिस्तीन बना देंगे कश्मीर को
अलगाववादियों ने लोगों से सड़कों पर उतरने की अपील करते हुए कहा कि राज्य सूची के विषय से छेड़छाड़ फलिस्तीन जैसी स्थिति पैदा करेगा. नेता अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक और मोहम्मद यासिन मलिक ने कहा कि यदि सुप्रीम कोर्ट राज्य के लोगों के हितों और आकांक्षा के खिलाफ कोई फैसला देता है, तो लोग विद्रोह पर उतर आएंगे.

Palestine will make Kashmir
The separatists appealed to the people to land on the streets, saying that the issue of state listing will create a situation like tainted Palestine. Leader Ali Shah Geelani, Mirwaiz Umar Farooq and Mohammad Yasin Malik said that if the Supreme Court gives a decision against the interests and aspirations of the people of the state, then people will come to the rebellion.

आज होगी अनुच्छेद 35ए पर अहम् सुनवाई
दरअसल अनुच्छेद 35A को काफी लम्बे वक़्त से ख़त्म करने की मांग उठ रही है. अनुच्छेद 35-ए जम्मू-कश्मीर को राज्य के रूप में विशेष अधिकार देता है. याचिका में आर्टिकल 35A के कुछ विशेष प्रावधानों को चुनौती दी गई है, जैसे राज्य के बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने वाली महिला को संपत्ति का अधिकार नहीं मिलना.

Today will be the ego hearing on Article 35A
Actually, the demand for closing Article 35A is going on for a very long time. Article 35-A gives exclusive powers to Jammu and Kashmir as state. In the petition, some special provisions of Article 35A have been challenged, such as a woman who is married to a person outside the state, does not get the right to property.

इस प्रावधान के तहत राज्य के बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने वाली महिला का संपत्ति पर अधिकार समाप्त हो जाता है. इतना ही नहीं उसके बेटे को भी संपत्ति का अधिकार नहीं मिलता. लेकिन आर्टिकल 35A को रद्द करने की मांग वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से ठीक पहले जम्मू-कश्मीर के तीन बड़े अलगाववादियों ने घाटी में माहौल खराब करने की धमकी दी है. हालाँकि अब मोदी सरकार है और अलगाववादियों के दिन वैसे ही दिन खराब चल रहे हैं, इनकी करोड़ की संपत्ति जब्त हो चुकी है

Under this provision, the woman who is married to a person outside the state gets the right of property. Not only this, his son also did not have the right to property. But just before the hearing in the Supreme Court on petitions seeking the cancellation of Article 35A, three major separatists of Jammu and Kashmir have threatened to spoil the atmosphere in the valley. Although now Modi is the government and the days of the separatists are going bad on the same day, the assets of their crore have been seized.

इनके एटीएम ज़हूर वताली गिरफ्तार हो चुका है, एक अलगाववादी नेता ने हैफ़ सईद से रिश्ते कबूल लिए हैं. यही वजह है कि ऐसे लोग शांति भंग करने की हर कोशिश करते रहते हैं.

Their ATM Zahoor Watali has been arrested, a separatist leader has confessed to Haif Saeed. That is why such people keep trying every bit of peace.

यह भी देखे

देशभर के लिए बहुत बड़ा दिन है सुप्रीम कोर्ट में संविधान के आर्टिकल 35A को लेकर दायर की गई याचिकाओं पर जल्द ही सुनवाई होगी. जिसके लिए मोदी सरकार जी तोड़ से लगी हुई है. हालाँकि पिछले कई फैसले कोर्ट के लोगों को ज़रा खटके हैं और इसकी सुनवाई भी वही जज कर रहे हैं जिन्होंने दिवाली पर ही केवल पटाखों पर बैन लगाया था. इस बीच अलगाववादियों ने बेहद चौंकाने वाला ज़हर उगल दिया है.

There is a huge day for the country. The petition filed in the Supreme Court on Article 35A of the Constitution will be heard soon. For which Modi Government is engaged with the break. However, the previous decisions have been filed against the people of the court and its hearings are also being judged by those who had banned fireworks only on Diwali. Meanwhile, the separatists have sparked a very startling poison.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले अलगाववादियों ने दी धमकी !
खबर के मुताबिक अलगाववादियों के अंदर डर का माहौल अभी से पैदा हो गया है कि अगर कहीं कोर्ट ने अनुच्छेद 35A ख़त्म कर दिया तो उनकी घाटी में फैलाई हुई दहशत और कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार करने वाले प्लान पर पानी फिर जाएगा. इसलिए अलगाववादी नेताआें ने अनुच्छेद 35A को रद्द करने की मांग वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से ठीक पहले जम्मू-कश्मीर को फलिस्तीन बनाने की गीदड़ धभकी दी है.

Before the Supreme Court’s decision, separatists gave the threat!
According to the news, the atmosphere of fear in the separatists has arisen right now, if the court has finished Article 35A, then the panic spread in the valley and the ploy to punish the Kashmiri Pandits will get water again. That is why separatist leaders have shouted slogans to make Jammu and Kashmir a Palestinian state just before the hearing in the Supreme Court on the petitions demanding the cancellation of Article 35A.

फिलिस्तीन बना देंगे कश्मीर को
अलगाववादियों ने लोगों से सड़कों पर उतरने की अपील करते हुए कहा कि राज्य सूची के विषय से छेड़छाड़ फलिस्तीन जैसी स्थिति पैदा करेगा. नेता अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक और मोहम्मद यासिन मलिक ने कहा कि यदि सुप्रीम कोर्ट राज्य के लोगों के हितों और आकांक्षा के खिलाफ कोई फैसला देता है, तो लोग विद्रोह पर उतर आएंगे.

Palestine will make Kashmir
The separatists appealed to the people to land on the streets, saying that the issue of state listing will create a situation like tainted Palestine. Leader Ali Shah Geelani, Mirwaiz Umar Farooq and Mohammad Yasin Malik said that if the Supreme Court gives a decision against the interests and aspirations of the people of the state, then people will come to the rebellion.

आज होगी अनुच्छेद 35ए पर अहम् सुनवाई
दरअसल अनुच्छेद 35A को काफी लम्बे वक़्त से ख़त्म करने की मांग उठ रही है. अनुच्छेद 35-ए जम्मू-कश्मीर को राज्य के रूप में विशेष अधिकार देता है. याचिका में आर्टिकल 35A के कुछ विशेष प्रावधानों को चुनौती दी गई है, जैसे राज्य के बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने वाली महिला को संपत्ति का अधिकार नहीं मिलना.

Today will be the ego hearing on Article 35A
Actually, the demand for closing Article 35A is going on for a very long time. Article 35-A gives exclusive powers to Jammu and Kashmir as state. In the petition, some special provisions of Article 35A have been challenged, such as a woman who is married to a person outside the state, does not get the right to property.

इस प्रावधान के तहत राज्य के बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने वाली महिला का संपत्ति पर अधिकार समाप्त हो जाता है. इतना ही नहीं उसके बेटे को भी संपत्ति का अधिकार नहीं मिलता. लेकिन आर्टिकल 35A को रद्द करने की मांग वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई से ठीक पहले जम्मू-कश्मीर के तीन बड़े अलगाववादियों ने घाटी में माहौल खराब करने की धमकी दी है. हालाँकि अब मोदी सरकार है और अलगाववादियों के दिन वैसे ही दिन खराब चल रहे हैं, इनकी करोड़ की संपत्ति जब्त हो चुकी है

Under this provision, the woman who is married to a person outside the state gets the right of property. Not only this, his son also did not have the right to property. But just before the hearing in the Supreme Court on petitions seeking the cancellation of Article 35A, three major separatists of Jammu and Kashmir have threatened to spoil the atmosphere in the valley. Although now Modi is the government and the days of the separatists are going bad on the same day, the assets of their crore have been seized.

इनके एटीएम ज़हूर वताली गिरफ्तार हो चुका है, एक अलगाववादी नेता ने हैफ़ सईद से रिश्ते कबूल लिए हैं. यही वजह है कि ऐसे लोग शांति भंग करने की हर कोशिश करते रहते हैं.

Their ATM Zahoor Watali has been arrested, a separatist leader has confessed to Haif Saeed. That is why such people keep trying every bit of peace.

यह भी देखे

SOURCENAME :POLITICALREPORT

Leave a Reply