मोदी सरकार ने लिया जाधव के परिवार की बेइज्जती का बदला, किया ऐसा काम पूरे देश ने ठोका सलाम- पाक का हुआ बुरा हाल……

modi, news, politics

इस्लामाबाद : भारत ने ईंट का जवाब पत्थर से देना शुरू कर दिया है. पहले भारतीय जवानों की मौत का बदला लेते हुए भारतीय सेना ने एलओसी पार करके पाकिस्तान की सैन्य चौकियों को तबाह करते हुए पाक सैनिकों की लाशें बिछा दी. और अब कुलभूषण जाधव की मां व् पत्नी का अपमान करके भी पाकिस्तान ने खुद के पैरों पर ही कुल्हाड़ी मार ली है. भारत ने पाकिस्तान को इसका जवाब दिया है.

ISLAMABAD: India has started giving the answer to the brick by stone. Taking the revenge of the death of the first Indian soldiers, the Indian Army crossed the LoC and demolished Pakistan’s military checkpoints and laid the bodies of the Pak soldiers. And now, by insulting the mother and wife of Kulbhushan Jadhav, Pakistan has hit the ax on itself. India has responded to Pakistan.

192 पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा देने से भारत का इंकार
दरअसल भारत की और से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज लगातार जरूरतमंद पाकिस्तानियों को भारत का वीजा दिए जा रही थी, उनकी सम्मानपूर्वक पूरी सहायता की जा रही थी. मगर अब पाकिस्तानियों के लिए भारत के दरवाजे बंद हो गए हैं.

India denies visa to 192 Pakistani nationals
Indeed, the Foreign Minister Sushma Swaraj was continuously giving India visas to the needy Pakistanis, and her whole-hearted support was being done. But now the doors of India are closed for the Pakistanis.

पाकिस्तान ने शनिवार को दावा किया है कि भारत ने उसके करीब 200 नागरिकों को वीजा देने से इनकार कर दिया है, जो भारत में हजरत निजामुद्दीन औलिया के उर्स में भाग लेना चाहते थे. पाकिस्तान के विदेश विभाग ने एक बयान में कहा कि पाकिस्तान को दुःख है कि 1 से 8 जनवरी तक नई दिल्ली में आयोजित होने जा रहे उर्स में 192 पाकिस्तानी जायरीनों को भारत ने वीजा नहीं दिया.

Pakistan has claimed on Saturday that India has refused to grant Visa to nearly 200 citizens who wanted to participate in Urs of Hazrat Nizamuddin Auliya in India. Pakistan’s Foreign Office said in a statement that Pakistan is sad that India has not given visa to 192 Pakistani Jairans in Urs going to be held in New Delhi from 1st to 8th January.

ना’पाक ने बहाये घड़ियाली आंसू
बयान में कहा गया है, ”भारत के फैसले के कारण पाकिस्तानी जायरीनों को उर्स में भाग लेने का मौका नहीं मिल पाएगा. उर्स का एक खास महत्व है. यह यात्रा धार्मिक स्थलों के दौरे पर 1974 के पाकिस्तान-भारत प्रोटोकॉल के प्रावधानों के तहत होनी थी और यह एक वार्षिक प्रक्रिया है.”

Naypak sheds gaudical tears
According to the statement, “due to India’s decision, Pakistani Jairans will not be able to get a chance to participate in Urs. Urs has a special significance. This visit was to be done under the provisions of the Pakistan-India Protocol on Religious Places Tour, 1974 and it is an annual process.

बयान के अनुसार, ”यह दुर्भाग्यपूर्ण है और 1974 प्रोटोकॉल तथा लोगों से लोगों के संपर्क के उद्देश्य की भावना के खिलाफ है.” इसमें कहा गया है कि द्विपक्षीय प्रोटोकॉल और धार्मिक आजादी के मूल मानवाधिकार का उल्लंघन होने के साथ ही ऐसे कदमों से माहौल बेहतर बनाने, लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने और दोनों देशों के बीच संबंध सामान्य बनाने के प्रयासों को नुकसान पहुंचता है.

According to the statement, “This is unfortunate and is against the spirit of 1974 protocol and the purpose of contact with people.” It says that with the violation of the basic human rights of bilateral protocols and religious freedom, Attempts to create, interact among people and normalize the relations between the two countries are damaged.

भारत की दोस्ती के लायक ही नहीं ना’पाक
पाकिस्तान के विदेश विभाग ने कहा, ”यह विडंबना है कि यह हजरत निजामुद्दीन औलिया के उर्स के मौके पर किया गया जो समुदायों को एक-दूसरे के करीब लाने के प्रतीक हैं.” वहीँ सोशल मीडिया में लोगों ने भारत के इस फैसले पर ख़ुशी व्यक्त की है. लोगों का कहना है कि आतंकी देश पाकिस्तान ने देश की माँ-बेटी का अपमान किया है, ऐसे में उसने भारत की दोस्ती का अधिकार ही खो दिया है. किसी भी पाक नागरिक को भारत का वीजा नहीं दिया जाना चाहिए.

Not only worth the friendship of India
Pakistan’s Foreign Office said, “It is ironic that this was done on the occasion of Urs of Hazrat Nizamuddin Auliya, which is a symbol of bringing communities closer to each other.” In the same social media, people expressed their happiness on this decision of India Is of People say that the terrorist country Pakistan has insulted the mother and daughter of the country, in this case it has lost the right to friendship of India. No Pak citizen should be given visa to India.

यह भी देखें:

source zee news

Leave a Reply