इस विधायक को चुनाव प्रचार के लिए खर्च की ज़रूरत नहीं, लोग खुद ही जीता देते हैं !

जूनागढ़ में गिरनार की विशाल पहाड़ी है और इस गिरनार पहाड़ी की परिक्रमा का बहुत महत्व है परिक्रमा पथ पर परिक्रमा करने के बाद लोग बोतल नमकीन के खाली रेपर आदि फेंक देते हैं ।

Junagadh is a huge mountain of Girnar and the importance of this ornamentation of this Girnar hill is the importance of throwing a empty wrapper of bottle snacks etc. after the orbiting the circus path.

गिरनार पहाड़ी की सफाई करता है यह व्यक्ति और कोई नहीं बल्कि जूनागढ़ के बीजेपी विधायक महेंद्र मशरू है ।

Girnar cleanses the hill, this person is none other but BJP legislator of Junnag Mahendra Mashru.

महेंद्र मशरू की सादगी सुनकर आप दंग रह जाएंगे । महेंद्र मशरू दो बार निर्दलीय और चार बार से बीजेपी के विधायक हैं यानी करीब 38 साल से लगातार विधायक है । उन्होंने शादी नहीं की है एक कमरे के छोटे से मकान में रहते हैं पैर में चप्पल पहने रहते हैं हर वक्त लोगों की सेवा करने के लिए तत्पर रहते हैं हमेशा बस में ही सफर करते हैं इनके पास अपनी खुद की गाड़ी तक नहीं है यह या तो पैदल चलते रहते हैं या बस में सफर करते हैं ।

You will be stunned by hearing the simplicity of Mahendra Mashru. Mahendra Mashru is a two-time Independent and four times MLA from BJP, that means he is a Constructive MLA for nearly 38 years. They have not married, they live in a small house of a living room, they are wearing sandals on their feet, they are always ready to serve the people always travel in the bus. They do not even have their own cars. Walks on foot or travels in bus.

अपना पूरा चुनाव प्रचार यह पैदल चलकर ही करते हैं गांधीनगर में विधायक निवास से विधानसभा तक राज्य सरकार विधायकों को आने जाने के लिए बस चलाती है उस बस का सिर्फ महेंद्र मशरू ही इस्तेमाल करते हैं और विधानसभा सत्र पूरा होने के बाद गांधीनगर से बस में बैठकर ही जूनागढ़ चले जाते हैं |

Its complete election campaign only on foot; In Gandhinagar, from the legislative house to the assembly, the state government runs bus to come to the legislators that only Mahendra uses the bus and sitting on the bus from Gandhinagar after the completion of the assembly session. They go to Junagadh only.

इनकी सादगी और कर्मठता को नमन …इनकी सादगी और इनके कर्मठता से आज तक कांग्रेस इन्हें हरा नहीं सकी और ना कभी हरा सकेगी वाह आज भी ऐसे नेता मौजूद है, इन्हे अपने चुनाव प्रचार के लिए किसी खास खर्च की जरुरत नहीं है, न ही इन्हे कोई हत्कंडे करने की जरुरत है, पर इनकी सादगी के कारण लोग खुद ही इनको इतना प्रेम करते है की जीता देते है |

His simplicity and hard work … His simplicity and his work from the Congress till today, Congress could not beat them or they will never be able to defeat such a leader even today, they do not need any special expenditure for their election campaign. They need to do any kind of hatred, but because of their simplicity, people love them so much that they win.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *