पीएम मोदी ने जापान के साथ मिलकर लिया जबरदस्त फैसला, 60 सालों में पहली बार हुआ ऐसा, मिटटी से बनेगा…

नई दिल्ली : भारत की बढ़ती लोकप्रियता और वैश्विक शक्ति बनकर उभरता देख अब दूसरे शक्तिशाली देश भारत की तरफ खिंचे चले आ रहे हैं. जापान के साथ 0% इंटरेस्ट पर जापान भारत को बुलेट ट्रेन तो दे ही रहा है जिसका काम तेज़ी से शुरू भी हो गया है लेकिन अब भारत की सबसे बड़ी समस्या को सुलझाने में भी जापान हाथ बढ़ाने आगे आया है.

New Delhi: Seeing rising India’s growing popularity and becoming the global power, now another powerful country is coming towards India. On Japan’s 0% interest with Japan, Japan has been giving bullet train to India, whose work has begun fast but now it has come to enhance Japan’s hand in solving India’s biggest problem.

पीएम मोदी ने जापान के साथ मिलकर लिया ऐतिहासिक फैसला

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक भारत में कूड़ा कचरा आज सबसे बड़ी समस्या बन चुका है. कई हज़ार टन कूड़े के ऊँचे-ऊँचे पहाड़ खड़े हो चुके हैं. लेकिन अब इसी कूड़े कचरे में से पैसा बनाने का तरीका पीएम मोदी ने निकाला है और इसमें पीएम मोदी की मदद करने के लिए खुद जापान आगे आया है.

PM Modi teamed up with Japan, historic decision

According to the latest news now, garbage trash in India has become the biggest problem today. Hundreds of thousands of tons of high mountains have been raised. But now PM Modi has removed the way to make money from this litter trash and Japan itself has come forward to help PM Modi.

62 मिलियन टन कचरे से भारत बनाएगा बिजली

भारत का मित्र देश जापान भारत में प्रतिवर्ष पैदा होने वाले तकरीबन 62 मिलियन टन कचरे से बिजली पैदा करनी चाहता है. भारत में कचरे को डम्प करने की समस्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही थी. काफी वक़्त से राज्य सरकारें समझ नहीं पा रही थी कि इतने सारे कचरे का किया क्या जाय.

India will build 62 million tons of waste

India’s friend Country Japan wants to generate electricity from nearly 62 million tonnes of waste annually produced in India. The problem of dumping waste in India was increasing day by day. The State Governments could not understand enough to do so many such waste.

लेकिन अब पीएम मोदी एक बार फिर अपनी सूझबूझ का प्रमाण दिया है. जापान की तकनीक का इस्तेमाल करके भारत अब इस कचरे से बिजली बनाएगा.जापान के विश्व मामलों के पर्यावरण मंत्री याशुहोताकाहाशी ने इस मामले बारे केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी के साथ गत दिनों एक उच्च स्तरीय बैठक की, जिसमें जापान के मंत्री ने भारतीय मंत्री को अपनी तकनीक से अवगत करवाया और बताया कि इस तकनीक के जरिए भारत के कचरे का बड़ा भाग बिजली में परिवर्तित हो सकेगा.

But now PM Modi has once again given evidence of his sense of well-being. India will now generate electricity from this waste by using the technology of Japan.Japanese Environment Minister Yashuhatakahashi held a high-level meeting with Union Urban Development Minister Hardeep Puri last week, in which Japan’s minister called the Indian minister Informed his technique and told that through this technique, a large part of India’s waste will be converted into electricity.

इस मीटिंग में हर बड़े राज्य के मेयर, निगम अधिकारी और जापान से आए विशेषज्ञों के साथ गहन चर्चा हुई. आप जानकार हैरान रह जाएंगे अकेले चेन्नई से आए निगमायुक्त ने बताया कि अकेले तमिलनाडु में ही प्रतिदिन 12000 मीट्रिक टन कचरा पैदा हो रहा है. ही प्रतिदिन 12000 मीट्रिक टन कचरा पैदा हो रहा है।

There was a thorough discussion with the mayor, corporation officer of every major state and experts from Japan in this meeting. You will be surprised to know that the only person coming from Chennai alone said that only 12,000 metric tonnes of garbage is being generated in Tamil Nadu alone. Only 12,000 metric tons of garbage is being generated every day.

गौरतलब है कि भारत के शहरों में प्रतिदिन उत्पन्न होने वाला कचरा लगातार बढ़ता जा रहा है। मामले बारे वातावरण से जुड़े जानकारों का कहना है कि भारत की आबादी 130 करोड़ के पार हो चुकी है, इससे पैदा होने वाले कचरे की विकट स्थिति को बड़े शहरों में ज्यादा परेशानी पैदा करते हुए देखा गया है.

Significantly, the daily waste generated in the cities of India is increasing. Analysts related to the matter say that India’s population has crossed 130 crore, due to which the woes of the waste arising from it have been found to create more trouble in big cities.

पिछले वर्ष तो दिल्ली के कचरा ढेर में भारी विस्फोट से काफी नुक्सान भी हुआ था। देश के बड़े शहरों में इस कचरे के कारण वातावरण असंतुलित हो रहा है. प्रदूषण की समस्या पैदा हो रही है। देश के शहरों से ही तकरीबन 62 मिलियन टन से अधिक कचरा प्रतिवर्ष पैदा हो रहा है, जिसमें से लगभग 25 टन कचरे का ही निस्तारण हो पाता है। कचरे की इस गंभीर समस्या सेभूमिगत जलस्रोत भी दूषित हो रहे हैं.

Last year, a huge explosion in Delhi’s garbage pile had suffered a lot. The environment is becoming unbalanced due to this waste in major cities of the country. The problem of pollution is getting created. Only about 62 million tons of garbage is being generated annually from the cities of the country, out of which only 25 tons of garbage can be disposed of. This serious problem of waste water is also being contaminated by water sources.

ऐसे में केंद्र सरकार के इस फैसले की हर तरफ तारीफ हो रही है. जापान की तकनीक और भारत का कौशल मिलकर मिटटी को भी सोना बनाया जा सकता है. आज भारत न सिर्फ अपनी बिजली की आपूर्ति करता है बल्कि दूसरे देशो को बिजली बेचता भी है. आज देश के लगभग हर गाँव में मुफ्त बिजली कनेक्शन दिए जा रहे हैं.

In such a situation, the decision of the central government is being appreciated all over. Japan’s technique and India’s skill can be combined to make the soil gold. Today India not only supplies its power but also sells electricity to other countries. Today, free electricity connections are being given to almost every village of the country.

2014 तक 18000 गाँवों में देश आज़ाद हुए 70 साल से अब तक बिजली नहीं आयी थी. लेकिन केवल चार सालों में इस लक्ष्य को पा लिया गया है, मात्र अब 2 % ही गाँव ऐसे बचे हैं जहाँ अभी बिजली पहुचायी जानी है. ऐसे दुर्लभ इलाके और ऊँची पहाड़ियों में बसे गाँवो तक बिजली पहुचायी गयी है.

Until 2014, 70,000 villages have not come to power since 1800 villages have been liberated. But this goal has been achieved in only four years, but now only 2% of the villages are left where electricity is to be reached. Electricity has been transported to such remote areas and villages in higher hills.

यह भी देखे
https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

Source Political Report

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *