बड़ी खबर: पद्मावत विवाद पर अचानक आये इस फैंसले से दहला पूरा हिंदुस्तान…

जयपुर: राजस्थान के जयपुर में राजपूत महिलाओं ने जौहर दिखाने की धमकी दी है। फिल्म पद्मावत की रिलीज से खफा राजपूत महिलाओं का कहना है कि अगर फिल्म रिलीज हुई तो जौहर का इतिहास फिर दोहराया जाएगा।

Jaipur: Rajput women have threatened to show jawar in Jaipur, Rajasthan. Khapha Rajput women from the release of the film Padmavat says that if the film is released then the history of Johar will be repeated again.

बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को फिल्म पद्मावत की रिलीज पर 4 राज्यों में लगी रोक हटाने का आदेश दिया था। फिल्म 24 जनवरी को रिलीज हो रही है। हालांकि एक दूसरे समुदाय ने कहा है कि वे फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में फिर से याचिका दायर करेंगे।

Let the Supreme Court order on the release of Padmavat on Thursday, order to lift the ban in 4 states Had given. The film is being released on January 24. However, another community has said that they will file a petition again in the Supreme Court to ban the release of the film.

राजस्थान और मध्य प्रदेश की राजपूत महिलाओं के संगठन क्षत्राणी मंच ने कहा है कि उनके समुदाय की महिलाएं अपना जीवन जौहर स्थल पर खत्म कर देगीं। उन्होंने बताया कि राजपूतों को मानना है कि जौहर स्थल चित्तौड़गढ़ किले में है, जहां रानी पद्मावती ने जौहर दिखाया था।

Organization of Rajput women from Rajasthan and Madhya Pradesh has said that the women of their community will end their lives at the Johor site. He told that Rajputs believe that the Jauhar site is in Chittorgarh Fort, where Rani Padmavati showed Jauhar.

क्षत्राणी मंच की समन्वयक निर्मला राठौर ने कहा कि उन लोगों की मांग है कि फिल्म पद्मावत पर पूरी तरह से रोक लगाई जाए। फिल्म का कहीं पर भी रिलीज होना उन लोगों का अपमान है। उन्होंने कहा कि क्षत्राणी महिलाएं समुदाय के सम्मान के लिए रानी पद्मावती की तरह जौहर दिखाने में कोई हिचक महसूस नहीं करेंगी।

Nirmala Rathore, coordinator of the Ahratti Panchayat said that those people demand that the film Padmav will be banned altogether. The release of the film anywhere is an insult to those people. He said that women will not feel any hesitation in showing the jewelers like Rani Padmavati for the respect of the community.

उन्होंने बताया कि क्षत्रिय मंच की तरफ से स्वाभिमान मार्च 21 जनवरी को निकाला जाएगा। इस मार्च में कई शाही परिवारों की महिलाएं भी हिस्सा ले रही हैं। मार्च करते हुए महिलाएं जौहर स्थल तक पहुंचेंगी। उन्होंने बताया कि चौमू की राजकुमारी और उदयपुर के शाही परिवारों की महिलाओं ने इस मार्च में हिस्सा लेने की सहमति दे दी है। राजपूत महिलाएं जौहर स्थल + पर पहुंचकर वहां की मिट्टी हाथों में लेंगी और इस लड़ाई की प्रतिज्ञा लेंगी।

He said that self-respect from the Kshatriya platform will be removed on March 21st. In this March, women of many royal families are also participating. While marching, women will reach Jauhar site. He told that the women of the Chumu’s princess and the royal families of Udaipur have agreed to take part in this march. Rajput women will reach Jauhar site + and take the soil of their hands and take a pledge for this fight.

यह भी देखें :

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *