बड़ी खबर: मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर में लगाया ऐसा कड़ा प्रतिबन्ध, खत्म हो गयी..

jammu kashmir

जनता के पैसों का दुरूपयोग जिस गति से पिछली सरकारें अपने एशोआराम के लिए करती थी अब वो सब बदलने का वक्त आ गया है , ऐसा ही एक प्रतिबन्ध अभी कश्मीर मर BJP और PDP सरकार ने मिलकर लिया है जो बाकि सरकारों के लिए भी एक मिशाल हैं,

Now the time has come to change all that, the speed at which the previous governments used for their empowerment. One such restriction has been taken by the BJP and the PDP government in Kashmir, which is also a mishra for the other governments. ,

जम्मू-कश्मीर में मोदी सरकार ने लगाया प्रतिबन्ध:
अभी मिल रही खबर के मुताबिक जम्मू-कश्मीर सरकार ने प्रशासन वित्तीय अनुशासन को बढ़ावा देने के लिए खर्च में कटौती के अगल-अगल तरीके अपनाने शुरू किये है, इसके लिए सरकार ने फाइव स्टार जैसे मंहगे होटलों में अधिकारिक बैठकें और सम्मलेन आयोजित करने पर प्रतिबन्ध लगा दिया है,

Modi government imposed restrictions in Jammu and Kashmir:
According to the news available now, the Jammu and Kashmir government has started adopting different ways of cutting costs for the promotion of financial discipline, for this, the government has banned the holding of official meetings and conferences in the expensive hotels like Five Star. Put it,

इस प्रतिबन्ध ने लोगों का स्वागत किया है. जनता द्वारा चुने गये जनता के सेवक होते है, उन्हें वहां आराम तलवी के लिए नही भेजा जाता बल्कि लोगों की समस्याएं दूर करने के लिए चुना है,

This prohibition has welcomed the people. There are servants of the public chosen by the public, they are not sent there for the rest of the floor but have chosen to remove the problems of the people,

बंद होगी ऐशोआराम की जिन्दगी:
प्रधान सचिव ,वित्त , नवीन कुमार चौधरी की और से जारी परिपत्र क्र अनुसार ,”सरकारी विभागों द्वारा सम्मेलनों, सेमिनारों, कार्यशालाओं के आयोजन में अधिकतम खर्च को ध्यान में रखा जायेगा और ऐसे सिर्फ ऐसे सम्मेलनों, सेमिनारों कार्यशालाओं इत्याधि का ही इस तरह से आयोजन होना चाहिए जो वास्तव में जरूरी हों.”

Life of Ashooram will be closed:
According to the circular issued by Principal Secretary, Finance, New Kumar Chowdhary and, “The maximum expenditure in organizing conferences, seminars, workshops by government departments will be taken into account and such arrangements of such conferences, seminars, workshops etc. Must be really necessary. ”

पत्र के अनुसार निजी होटलों में बैठको और सम्मेलनों के आयोजन पर प्रतिबन्ध होगा और इनके बजाये ऐसे कार्यों के लिए केवल सरकारी भवनों या परिसरों का ही इस्तेमाल किया जायेगा, इससे पिछली सरकारों का भी इस ओर ध्यान ही नही गया ,

According to the letter, there will be a ban on organizing meetings and conferences in private hotels and instead of using only government buildings or premises for such works, the previous governments have not even noticed this,

उन्हें तो बस कश्मीर का मुद्दा समझ में आता है जिसे वो पाकिस्तान के साथ सुलझाने का वादा करते रहते है. लेकिन कशिर सिर्फ भारत का हिस्सा है. यहीं नही पाकिस्तान का कब्जे वाला कश्मीर आज भी पाक के अत्याचारों से तंग आ चुका है और आजादी मांग रहा है

They just understand the issue of Kashmir, which they promise to settle with Pakistan. But Kashir is only a part of India. Not here, Pakistan-occupied Kashmir is still fed up with Pakistan’s atrocities and is demanding independence.

यह भी देखें:

SOURCENAME:POLITICALREPORT

Leave a Reply