ब्रेकिंग : फारूख अब्दुल्ला के देश के साथ गद्दारी करने पर हुआ बड़ा एक्शन, ऋषि कपूर की बोलती हुई बंद

नई दिल्ली : फारूख अब्दुल्ला ने कुछ वक़्त से लगातार भारत माता के प्रति अमर्यादित टिप्पणी व पाकिस्तान को समर्थन की बात करी थी. इससे पहले कभी पत्थरबाजों का समर्थन कभी अलगवववादियों का समर्थन, लेकिन इस बार तो अबदुल्ला ने हद पार करते हुए कहा था कि पीओके पर कब्ज़ा करने कि दम किसी के बाप में नहीं है. पीओके पाकिस्तान का ही रहेगा. जिसके बाद अब फारुख अब्दुल्ला के खिलाफ बड़ा एक्शन होता दिख रहा है |

New Delhi: Farooq Abdullah had talked of continuous support for Bharat Mata and support for Pakistan from time to time. Never before was the support of stonebirds ever supported by the separatists, but this time Abdullah had crossed the limits saying that the possession of the POK was not in anybody’s father. PoK will remain in Pakistan. After that there is now a big action against Farooq Abdullah.

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक फारूक अब्दुल्ला ने कहा था कि पाकिस्तान ने चूड़ियां नहीं पहन रखीं, वो इतना कमजोर नहीं है कि अपने कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) पर भारत का कब्जा होने देगा | पाकिस्तान के पास भी एटम बम है| अब्दुल्ला ने कथित तौर पर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को पाकिस्तान का बताया था | यही नहीं अभिनेता ऋषि कपूर ने भी अब्दुल्ला का समर्थन किया था और अब सलमान खुर्शीद ने भी अब्दुल्ला का समर्थन कर दिया है |

Farooq Abdullah had said that Pakistan did not wear bangles, it is not so weak that it will allow India to capture its occupied Kashmir (PoK). Pakistan also has an atom bomb. Abdullah reportedly told Pakistan-occupied Kashmir to Pakistan. Not only this, actor Rishi Kapoor also supported Abdullah and now Salman Khurshid has also supported Abdullah.

फारुख अब्दुल्ला के इस बेतुके बयान के बाद आक्रोशित वकीलों ने शनिवार को जम्मू व कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुला का पूतला फूंका | साथ ही दिल्ली के हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका (पीआईएल) दायर की है | इस याचिका में फारुख अब्दुल्ला पर देशद्रोह का मुकद्दमा दर्ज करने और पुलिस को गिरफ्तारी के लिए कोर्ट से आदेश करने की मांग की गई है | इसके अलावा पासपोर्ट जब्त करके एनआईए और आईबी से जांच करवाने की भी याचिका में मांग की गई है |

After this absurd statement of Farooq Abdullah, the raged lawyers blew the effigy of former Jammu and Kashmir Chief Minister Farooq Abdullah on Saturday. Along with this, a Public Interest Litigation (PIL) has been filed in the High Court of Delhi. In this petition, Farooq Abdullah has been asked to file a sedition case and order the court to arrest the police. Apart from this, a demand has been sought in the petition to seize passports and investigate with NIA and IB.

याचिकाकर्ता का कड़े लफ्ज़ में कहना है कि फारूक अब्दुल्ला को दो बार मुख्यमंत्री भारत की जनता ने बनाया है, उनकी राष्ट्रीयता भारतीय है | लेकिन वो गुणगान पाकिस्तान का कर रहे हैं. ऐसे लोग खाते भारत का हैं और महिमामंडन पाकिस्तान का करते हैं. ऐसे लोगों की फंडिंग की भी जांच होनी चाहिए | ये भारत माता का अपमान है.याचिकाकर्ता का कहना है कि जब वो वोट हिंदुस्तान की जनता से मांगते हैं, तो फिर पाकिस्तान के साथ इतना प्रेम क्यों?

In the strong words of the petitioner, it is said that Farooq Abdullah has been made twice by Chief Minister of India, his nationality is Indian. But they are doing homage to Pakistan. These people belong to India and glorify Pakistan. Funding of such people should also be investigated. This is an insult to Bharat Mata. The petitioner says that when they demand the votes from the people of India, then why so much love with Pakistan?

इस याचिका पर सोमवार को हाईकोर्ट सुनवाई करेगा | अब देखना होगा कि कोर्ट भी देशभक्ति के हित में कुछ कड़ा फैसला सुनाएगा या पिछले मामलों कि तरह इसे भी आया गया कर दिया जाएगा | इससे पहले भी फारुख अब्दुल्ला पत्थरबाजों का समर्थन कर चुके हैं |

The High Court will hear the petition on Monday. Now it is necessary to see that the court will also give some tough verdict in the interest of patriotism or it will also be passed in the previous cases. Even before that Farooq Abdullah has supported the stone makers.

ये वहीँ पत्थरबाज होते हैं जो जब सेना आतंकियों का एनकाउंटर करने लगती है तभी उन्हें बचने के लिए सेना पर पत्थर फेंकने लगते हैं | लेकिन जाबांज सेना ने ऑपरेशन कासो चला रखा है घाटी में जिसमें हर पत्थरबाज को दूर से ही मार मार के खदेड़ दिया जाता है जिससे वो एनकाउंटर वाले क्षेत्र में घुस ही न पाय |

These are stonework which, when the army starts encroaching the terrorists, then they start throwing stones at the army to save them. But the Jabanj army has operated casino in the valley where every stone carrier is driven away by killing it so that it can not enter the area of the encounter.

यह भी देख :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *