जानिए क्या है रो-रो सर्विस? जिसकी आड़ में मोदी सरकार ने जड़ा कांग्रेस के मूंह पर ज़ोरदार तमाचा!

अहमदाबादः समुद्री तट को देश की उन्नति और समृद्धि का प्रवेश मार्ग बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि पिछले दशकों में केंद्र सरकारों ने समुद्री क्षेत्र के विकास पर ध्यान नहीं दिया और जहाजरानी एवं बंदरगाह क्षेत्र भी अछूते रहे है। हमारी सरकार ने समुद्री क्षेत्र में सुधार एवं जल आधारभूत संरचना के विकास के लिए ‘‘सागरमाला’’परियोजना और 106 राष्ट्रीय जल मार्गो के निर्माण का कार्य शुरू किया है। 45 मिनट से अधिक के संबोधन मोदी ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल और भाजपा सरकार के कार्यकाल में गुजरात के विकास की दिशा में उठाए गए कार्यो का संछिप ब्यौरा दिया।

Ahmedabad: Describing the sea coast as the gateway to the country’s advancement and prosperity, Prime Minister Narendra Modi today said that in the past decades, the Central Governments did not pay attention to the development of maritime area and shipping and port areas were also untouched. Our government has started the work of “Sagarmala” project and construction of 106 National Water Roads for improving maritime area and development of water infrastructure. Addressing more than 45 minutes, Modi gave a brief overview of the work taken during the Chief Minister’s post and the tenure of the BJP government towards the development of Gujarat.

रो-रो सर्विस की महत्व पूर्ण बिंदु:
पीएम मोदी ने भावनगर के घोघा और भरूच के दहेज के बीच 650 करोड़ रुपए की रोल-ऑन रोल ऑफ (रो-रो) फेरी सेवा के पहले चरण का शुभारंभ किया। रो-रो फेरी सर्विस के जरिए सिर्फ यात्री ही नहीं, बल्कि वाहन और माल की ढुलाई भी सहज और आसानी से हो सकेगी। इसमें जो बोट रहेगी, उसमें 150 बड़े वाहनों की ढुलाई और करीब 1000 लोग एकसाथ यात्रा कर सकेंगे। यह पूरा प्रोजेक्ट गुजरात मैरिटाइम बोर्ड ने तैयार किया है |

The importance of Ro-Ro service :
PM Modi inaugurated the first phase of Roll-On Roll Off (Ro-Ro) Ferry service worth Rs 650 crore between Ghogha and Bharuch dowry in Bhavnagar. Through the Ro-Ro Ferry service, not just passenger but also the transportation of vehicles and goods can be easily and easily. In the boat that will be there, it will be able to carry 150 high-speed vehicles and about 1000 people traveling together. This complete project has been prepared by Gujarat Maritime Board.

फिलहाल इस फेरी सर्विस का किराया 600 रुपया रखा गया है, जिसके लिए बाद में भावनगर से पिक-अप प्वाइंट, प्री-बुकिंग, ऑनलाइन बुकिंग भी शुरू की जाएगी। सौराष्ट्र और दक्ष‍िण गुजरात के बीच अगर सड़क से सफर करना है तो कम से कम 10 घंटे का वक्त लगता है। भरूच से भावनगर के बीच सड़क मार्ग से यात्रा के लिए 310 किलोमीटर की दूरी तय करनी होती है, लेकिन समुद्र के रास्ते यह दूरी मात्र 31 किमी की ही रह जाएगी। पहली पैसेंजर फेरी बोट घोघा से समुद्री रास्ते दक्षिण गुजरात में दाहेज तक जाएगी।

Currently, this ferry service has been hired for Rs 600, for which a pick-up point, pre-booking, online booking will also be started from Bhavnagar. If Saurashtra and South Gujarat are to travel by road then it takes at least 10 hours. Between Bharuch and Bhavnagar, it is necessary to cover a distance of 310 km for a road by road, but by the sea it will be only 31 km. The first passenger ferry boat will fly from Dahej to South Gujarat in South Gujarat.

मोदी के संबोधन की खास बातें:
-नई पोत परिवहन नीति और नई विमानन नीति तैयार की है। छोटे-छोटे हवाई अड्डों को सुधारने की पहल शुरू की है।
-अहमदाबाद और मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन परियोजना का कार्य आगे बढ़ाया है।
-देश को 21वीं सदी की परिवहन प्रणाली प्रदान करेंगे जो ‘न्यू इंडिया’की दिशा में महत्वपूर्ण कदम होगा।’’
-‘रो रो फेरी सर्विस’को दूसरे राज्यों के लिए रोल मॉडल बनाएँगे |
-प्रदेश एवं उनकी केंद्र सरकार की पहल से राज्य के विकास के साथ लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे।
-पिछले 15 वर्षों में गुजरात ने अपने बंदरगाहों की क्षमता में चार गुना वृद्धि की है।

Specific words of Modi’s address:
-New Ship Transport Policy and New Aviation Policy have been prepared. The initiative to improve small airports has begun.
-The work of the bullet train project has been further extended between Ahmedabad and Mumbai.
-The country will provide 21st Century transport system which will be an important step in the direction of ‘New India’.
-Ro Roar Ferry Service will make roll models for other states.
– With the initiative of the state and their central government, people will get employment opportunities with the development of the state.
In the last 15 years, Gujarat has increased the capacity of its ports four times.

गुजरात का समुद्री मार्ग सामरिक महत्व का है जहां से दुनिया के किसी दूसरे क्षेत्र में जाना सस्ता और आसान है। गुजरात का नौवहन विकास पूरे देश के लिए आदर्श है।
-रो रो फेरी सर्विस से रोजगार के अवसर बनेंगे ही, तटीय जहाजरानी और तटीय पर्यटन की दिशा में नये अवसर भी पैदा होंगे।
-घोघा से दाहेज की 300 किलोमीटर की दूरी तय करने में 7-8 घंटे लगते थे, लेकिन फेरी सर्विस शुरू होने के बाद महज डेढ़ घंटे में ये रास्ता तय हो जाएगा।

The sea route of Gujarat is of strategic importance, from which it is cheap and easy to go to any other area of ​​the world. Shipping development of Gujarat is ideal for the whole country.
There will be opportunities for employment from the Ro Ro Ferry Service, new opportunities will also be created in the direction of coastal shipping and coastal tourism.
Dahaj used to take 7-8 hours to cover the distance of 300 km from Dahaj, but after the ferry service began, it will be decided in just one and a half hours.

यह ही देखे-

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM&t=15s

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *