कासगंज तिरंगा यात्रा में हुयी मौत पर भड़के राष्ट्रवादी पत्रकार रोहित सरदाना ने बुद्धिजीवियों को लगाया ऐसा जोरदार तमाचा..

उत्तर प्रदेश : कासगंज, गणतंत्र दिवस के मौके पर कासगंज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की तिरंगा यात्रा में सांप्रदायिक बवाल हो गया। शहर में निकल रही इस तिरंगा यात्रा पर जिहादी समाज के लोगों ने पथराव के साथ जबरजस्त हमला कर दिया। इससे माहौल बिगड़ गया। पथराव से भड़के माहौल के बीच आगजनी भी शुरू हो गई। वहीं फायरिंग में घायल दो लोगों में से एक की मौत हो गई। फिलहाल शहर में कर्फ्यू जैसा माहौल बना है। इस तिरंगा यात्रा के दौरान हुए पथराव में दर्जनों गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गईं।

Uttar Pradesh: On the occasion of Republic Day, on the occasion of the Republic Day, the All India Student Council’s Tricolor journey in Kasganj became communal. On this trip to the city, the jihadist community attacked with stone pelting. This has worsened the environment. The fire started between the atmosphere of the stone-pelting environment. One of the two people injured in the firing died on the spot. At the moment there is a curfew-like atmosphere in the city. During this tricolor, dozens of vehicles were damaged in the stone pelting.

शहर के बडडू नगर मोहल्ले में तिरंगा यात्रा को लेकर दो वर्गों के युवक भिड़ गए। युवकों के बीच कहासुनी के बाद मारपीट और पथराव के बाद फायरिंग भी शुरू हो गई। जिसमें दो लोगों को गोली लगी और गंभीर रूप से घायल चंदन गुप्ता की मौत हो गई। पुलिस ने दोनों वर्ग से आधा दर्जन लोगों को अपनी हिरासत में लिया है। इसके बाद भी शहर में तनाव बरकरार है। आज शनिवार को भी गुसाये लोगो ने दुकानों और वाहनों को आग के हवाले कर दिया!

Two sections of the youth were confronted about the tri-color journey in the city’s Baddu Nagar Mohalla. After firing among the youth, firing started after the assault and stone pelting. In which two people were shot and severely injured Chandan Gupta died. The police has taken half of the dozen people in their custody in their custody. Even after this the tension in the city remains intact. Today on Saturday, the people of Gusayee handed over shops and vehicles to the fire!

बता दे, गणतंत्र दिवस के मौके पर युवा तीन दर्जन बाइकों पर तिरंगा यात्रा एवं जुलूस निकाल रहे थे। तिरंगा यात्रा का काफिला जब शहर के बड्डू नगर मोहल्ले में पहुंचा, तो वहां मौजूद दूसरे वर्ग के युवकों ने किसी बात को लेकर उनका विरोध किया। इसके बाद दोनों वर्गों के युवकों के बीच विवाद शुरू हो गया और मारपीट व पथराव शुरू हो गया। मारपीट व पथराव तेज होने की वजह से तिरंगा यात्रा निकाल रहे युवक बाइक छोड़ भाग खड़े हुए। इस दौरान गोली भी चली जिसमे दो लोग घायल हुए थे और एक चन्दन गुप्ता की मौत हो गई! जिससे शहर में तनावपूर्ण स्थित पैदा हो गई।

Tell us, on the occasion of Republic Day, the youth were taking trips and trips on three dozen bikes. When the convoy reached the Baddu Nagar Mohalla in the city, the youth of the second class, present there, protested against something. After this there was a dispute between the youth of both the sections and the riot began. Due to the sharpening of the fire and the stones, the youths who traveled the tricolor left the bike. During this, the bullet went in which two people were injured and one Chandan Gupta died! As a result of which there was a tension in the city.

इस घटना को लेकर लोगो में आक्रोश व्याप्त है, वही लोग मीडिया के दोहरे चरित्र के लिए भी निशाना साध रहे है! लोगो का कहना है की मीडिया इस खबर को क्यों नहीं दिखा रही है, जबकि पद्मावत फिल्म के विरोध प्रदर्शन को लगातार मीडिया दिखा रही थी और तब समुदाय विशेष या जाती विशेष न कहकर राजपूत शब्द का इस्तेमाल किया जा रहा था लेकिन यहाँ समुदाय विशेष कहकर मीडिया kya साबित करना चाहती है, और सबसे बड़ी बात इनलोगो को किसका समर्थन मिला हुआ है!

There is anger in the people about this incident, the same people are also targeting the double character of the media! The logos say that the media is not showing this news, while Padmavat was constantly showing the media’s protests and then the word ‘Rajput’ was being used by the community, special or not specific, but the community here was called special media Kya wants to prove, and the biggest thing is that whose support is received by InoLogo!

इसी कड़ी में राष्ट्रवादी पत्रकार रोहित सरदाना ऐसे लोगो को आड़े हाथों लिया है, जो इस पुरे मसले पर चुप्पी साढ़े हुए है! रोहित सरदाना ने ट्विटर पर लिखा- “भारत में रह कर पाकिस्तान का झंडा फहराने वालों को बचाने अनेक ‘बुद्धिजीवी’ मैदान में कूद आते हैं. कासगंज में तिरंगा फहराने पे मार दिए गए आदमी के लिए कोई आवाज़ नहीं? #BharatKeDushman”

यह भी देखे :

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0

source political report

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *