नितीश कुमार ने दिया वो महान बड़ा आदेश जिसका आप सभी को था इंतज़ार, जिसे देख PM मोदी समेत सभी हिन्दू संगठन रह गये दंग..

पटना : अचानक ही बिहार में बहार आनी कैसे शुरू हो गयी है इस खबर को पढ़ने के बाद आप भी चौंक उठेंगे. बिहार में सत्ता परिवर्तन क्या हुआ भाजपा के साथ हाथ मालते ही नितीश कुमार दनादन एक्शन में आ गए हैं. अभी नितीश ने अवैध बूचड़खानों पर ताले लगवाने का फैसला लिया था लेकिन इस बार तो नितीश कुमार ने ग़ज़ब कर दिखाया.

Patna: You will be shocked after reading this news that suddenly how come out of Bihar and how it has started. Nitish Kumar has been in the daily action as soon as the power change in Bihar happened with the BJP. Right now, Nitish had taken the decision to set up locks on illegal slaughterhouses, but this time, Nitish Kumar has made a ghazb.

अचानक ही बदल गया है बिहार….दे दिया वो महान आदेश

अभी कुछ वक़्त पहले ही बिहार में कभी जय श्री राम के नारों से लालू यादव के बेटे को दिक्कत हुआ करती थी भले ही वो भगवान कृष्ण के वेश में फोटो खिचवा लेते रहे हों. उसी बिहार में अचानक धर्म का मार्ग अपना लिया है. नितीश के इस ज़बरदस्त फैसले से अचानक ही बिहार का मौसम बदलने लगा है.

Patna: You will be shocked after reading this news that suddenly how come out of Bihar and how it has started. Nitish Kumar has been in the daily action as soon as the power change in Bihar happened with the BJP. Right now, Nitish had taken the decision to set up locks on illegal slaughterhouses, but this time, Nitish Kumar has made a ghazb.

जी हाँ बिहार के सीएम नितीश कुमार ने अभी आदेश जारी किये हैं कि अब एक भी गौ माता या गौ वंश सड़क पर आवारा घूमता हुआ नहीं दिखना चाहिए. यदि दिखा तो उससे सम्बंधित विभाग पर सख्त कार्यवाही होगी.

गाय के गोबर और गोमूत्र का करो इस्तेमाल

Use of cow dung and cow urine

इससे पहले नितीश कुमार कह चुके हैं कि उन्हें महागठबंधन में घुटन सी महसूस होने लगी थी. यही नहीं नितीश कुमार ने सबको आश्चर्यचकित करते हुए आदेश दिया कि आवारा घूमने वाली गायों और बैलों को गौशाला में ऱख कर उनके गोबर और और मूत्र का इस्तेमाल ऑर्गेनिक खाद बनाने में किया जाएगा. उन्होंने गौ वंश को प्रकृति व् इश्वर का एक बड़ा वरदान बताया है. सीएम के आदेश मिलते ही गौशालाओं का निर्माण तेज़ी से शुरू हो गया है.

Earlier, Nitish Kumar had said that he was feeling suffocated in the alliance. Not only this, Nitish Kumar, who gave surprise to everyone, ordered that the cows and oxen roaming cows and oxen will be kept in the cows and their dung and urine will be used to make organic manure. He has described Gau Dynasty as a great boon of nature and God. The construction of the Gaushalas has started rapidly as soon as the CM orders are received.

ऑर्गेनिक खाद

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि ये गाय भले ही दूध न देती हो, लेकिन इनका गोबर और गौमूत्र काफी उपयोगी होता है और इनका इस्तेमाल ऑर्गेनिक खाद बनाने में किया जाएगा. जिस से किसानो को महंगी खाद आदि का खर्चा नहीं देना पड़ेगा. इसके लिए बड़ी से बड़ी गौशालाएं बनायीं जाएँ.

Organic manure

Chief Minister Nitish Kumar said that even though these cows do not give milk, but their dung and cow urine are very useful and they will be used to make organic compost. The farmers will not have to pay the cost of expensive manure etc. Make large gaushalas for this.

अभी हाल ही मे हुए एक सम्बोधन में नितीश कुमार के तेवर बदले से नज़र आने लगे. जाहिर है अब वो बीजेपी के साथ बिहार में सरकार चला रहें हैं. इस मौके पर बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी मौजूद थे.

In a recent conversation, Nitish Kumar’s transformation began to appear. Clearly, now he is running the government in Bihar with BJP. Bihar Deputy Chief Minister Sushil Kumar Modi was also present on this occasion.

आपकी जानकारी के लिए बता दें अभी हाल ही मे नीतीश कुमार और सुशील कुमार मोदी ने पटना के बीर कुंअर सिंह आजादी पार्क में पेड़ों को रक्षा सूत्र बांध कर रक्षाबंधन का त्योहार मनाया था . इस पर नीतीश कुमार ने कहा कि वह 2011 से पेड़ों को रक्षा सूत्र बांध रहे हैं, ताकि लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़े. उन्होंने कहा कि हम पेड़ों को राखी बांध कर उनकी सुरक्षा का संकल्प लेते हैं.

For your information, just recently, Nitish Kumar and Sushil Kumar Modi celebrated the Raksha Bandhan by cutting a protective form of trees in Bir Kunar Singh Azadi Park in Patna. On this Nitish Kumar said that since 2011, he has been setting up protective sources for trees, so that awareness of the environment in people is increased. He said that we take a pledge of protection by binding rakhis to trees.

नीतीश कुमार ने इस अवसर पर अविरल गंगा और निरंतर गंगा की बात की और कहा कि गंगा की अविरलता बनी रही इसके लिए उन्होंने दिल्ली और पटना में कई अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार कराये, विशेषज्ञों की राय ली. गंगा की सफाई के लिए अब पटना में बड़े बड़े ट्रीटमेंट प्लांट लगाने का काम भी जल्द शुरू हो जायेगा.

Nitish Kumar talked about the unrestricted Ganga and the continuous Ganga on this occasion and said that for the continuation of the Ganga, he made several international seminars in Delhi and Patna and took the opinion of the experts. For the cleaning of Ganga, now the construction of a large treatment plant in Patna will also start soon.

यह भी देखे

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

https://youtu.be/hsfxfSRtdUs

SOURCE NAME  :POLITICAL REPORT

बिहार bjp में बड़ा संकट इस पार्टी नेता ने घोंपा पीठ में छुरा, शाह समेत pm मोदी सन्न

पटना: बिहार में NDA में सेंध लगती नजर आ रही है.बिहार के पूर्व सीएम और हिन्‍दुस्‍तानी आवाम मोर्चा के अध्‍यक्ष जीतनराम मांझी ने एनडीए को झटका देते हुए अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है.उन्‍होंने कहा है कि हमारी पार्टी का कोई साथ दे या न दे,हम बिहार में अकेले चुनाव लड़ेंगे.वो मंगलवार को गया में पार्टी कार्यकर्ताओं के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे.

Patna: In Bihar, there seems to be a dent in the NDA. Former Chief Minister of Bihar and President of Hindustani Awam Morcha, Jitan Ram Manjhi, has announced the fight for the election alone by jerking the NDA. He has said that he should join any party Or, we will fight alone in Bihar. He was addressing the party workers’ conference in Gaya on Tuesday.

बता दे कुछ दिन पहले एनडीए में बिहार विधानसभा चुनाव के लिये 40-50 सीटे जीतन राम मांझी ने अपनी पार्टी के लिए मांगी है.अब NDA से अलग होने के बयान ने सियासी महकमे के तापमान को बढ़ा दिया है.जीतन राम मांझी ने ये बयान गया जिले के टनकुप्‍पा में दिया.इस सभा में मांझी ने फिर से नीतीश कुमार पर भी इशारों में हमला भी किया.

Tell us a few days ago in the NDA 40-50 seats for the Bihar assembly elections, Jeetan Ram Manjhi has asked for his party. Now the statement of separation from the NDA has increased the temperature of the political system. The statement by Jeetan Ram Manjhi Given in Tankful of Gaya district. In this meeting, Manjhi again attacked Nitish Kumar in gestures.

अभी बिहार में चुनाव होने में काफी समय है लेकिन NDAके दो घटक दल हम और रालोसपा लगातार अपने विरोध और असंतोष के साथ प्रेशर पॉलिटिक्स कर रहे हैं.चुकी लोकसभा चुनाव में अब ज्यादा वक़्त नही बचा है और राजद बिहार में अपने लिए नए सहयोगियों की तलाश में है.राजद की कोशिश है कि मांझी और कुशवाह को साथ लाकर पिछडो और दलितों के वोटो पर पकड़ बनाये.

There is a lot of time in the elections in Bihar, but the NDA’s two constituent groups, we and RLSPA are continuously doing pressure politics with their opposition and dissatisfaction. There is no longer time left for the Lok Sabha elections and the findings of new colleagues for themselves in RJD Bihar It is the effort of the Rashad that bring Manjhi and Kushwah together and hold hold of the backward and the Dalits.

कुछ दिन पहले ही मांझी की पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वृषिण पटेल लालू से मिलने रांची जेल जा पहुंचे थे तो उपेंद्र कुशवाहा के मानव श्रृंखला में राजद के बड़े नेताओं की मौजूदगी दिखी थी. जीतनराम मांझी का यह नया बयान बिहार के ताजा राजनैतिक हालात में काफी अहम माना जा रहा है.
Only a few days ago, Manjhi’s party President Vrishi Patel had visited Ranchi to meet Laloo, then there was a presence of RJD’s big leaders in the human chain of Upendra Kushwaha. This new statement from Jitan Ram Manjhi is considered to be very important in Bihar’s latest political situation.

यह भी देखे

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

https://youtu.be/nr_nk-1ILRI

sourcename:politicalreport

अभी अभी: बिहार में भारत को दहलाने की पाक की बड़ी साजिश नाकाम, इन बहादुर जवानों ने दिखाया जबरदस्त एक्शन…

पटना : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तेजी से देश का विकास करते जा रहे हैं, उनकी नीतियों से आज अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भारत की साख काफी मजबूत हो चुकी है. वहीँ पाकिस्तान को दुनियाभर के देशों ने दरकिनार कर दिया है. अमेरिका ने भी पाकिस्तान का साथ छोड़ दिया है. ऐसे में पाकिस्तान पूरी तरह से पगला गया है और भारत में आतंकी हमले करने की पुरजोर कोशिशों में लगा है. ऐसी ही एक साजिश को बिहार में नाकाम किया गया है.

Tana: Prime Minister Narendra Modi is rapidly developing the country, his policies today has strengthened India’s credibility on the international stage. That’s the way Pakistan has been sidelined by countries all over the world. America has also left Pakistan. In such a situation, Pakistan has been completely wiped out and India is engaged in terrorism in its vigorous efforts. One such conspiracy has been failed in Bihar.

महाबोधि मंदिर में मिला बम
गया के महाबोधि मंदिर को बम से उड़ाने की साजिश को पुलिस ने नाकाम कर दिया है. दरअसल पुलिस को जानकारी मिली कि आतंकवादी महाबोधि मंदिर को दहलाने की साजिश कर रहे हैं, जिसके बाद पुलिस ने मंदिर परिसर व् उसके आसपास के इलाके में सघन तालाशी अभियान चलाया. तालाशी के दौरान पुलिस ने मंदिर परिसर से विस्फोट बरामद किया, जिसके बाद इलाके में हड़कंप मच गया है.

Bomb found in Mahabodhi Temple
The police have foiled the conspiracy to blow the Mahabodhi Temple from Gaya. In fact, the police got information that the terrorists were conspiring to storm the Mahabodhi temple, after which the police launched a compact lock-up campaign in the area around the temple premises and its surroundings. During the lock up, the police recovered the blast from the temple premises, after which the stir has spread in the area.

सूचना पर पहुंची पुलिस ने मंदिर और आसपास के इलाके को फौरन अपने कब्जे में ले लिया. आनन-फानन में बम निरोधक दस्ते को भी बुला लिया गया. जिसके बाद मंदिर के आसपास सघन तलाशी अभियान चलाया गया और विस्फोट को बरामद करके फल्गु नदी की ओर ले जाया गया.

The police reached the information immediately and took possession of the temple and the surrounding area. The bomb detention squad was also called in Anan-Phanan. After which a dense search operation was conducted around the temple and the blast was recovered and taken to the river Falgu.

हिन्दू व् बौद्ध मंदिर आतंकियों के निशाने पर
बता दें कि तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा फिलहाल बोधगया में हैं और दो जनवरी से महाबोधि मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना में भी हिस्सा ले रहे हैं. ऐसे में महाबोधि मंदिर के नजदीक विस्फोटक मिलना किसी बड़ी साजिश की ओर इशारा कर रहा है.

Hindu and Buddhist temple targets terrorists
Let the Tibetan Dharmaguru Dalai Lama presently be in Bodhgaya and are taking part in Special Pooja in Mahabodhi temple from January 2. In such a scenario, getting explosive near the Mahabodhi temple is pointing towards a big conspiracy.

बात दें कि इससे पहले आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन ने 7 जुलाई 2013 को भी महाबोधि मंदिर समेत बोधगया के कई इलाकों में सीरियल बम ब्लास्ट किये थे. पटना के गांधी मैदान में अक्टूबर 2014 में हुए धमाकों के बाद इंडियन मुजाहिद्दीन के कई आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था. इसमें आईएम का संस्थापक सदस्य यासीन भटकल के अलावा आईएम का तहसीन अख्तर उर्फ मोनू, हैदर अली उर्फ ब्लैक ब्यूटी समेत दर्जन भर से ज्यादा संदिग्ध आतंकी पकड़े गए थे.

Let us say that earlier the terrorist organization Indian Mujahideen had also blasted serial bomb in several areas of Bodh Gaya along with Mahabodhi temple on July 7, 2013. Many terrorists of Indian Mujahideen were arrested after the blasts in Patna’s Gandhi Maidan in October 2014. In addition to the founder member of IM, Yasin Bhatkal, more than a dozen suspected terrorists, including Tehsin Akhtar alias Monu, Hyder Ali alias Black Beauty, were caught.

साजिश के पीछे पाकिस्तान का हाथ
अभी हाल ही में अक्षरधाम मंदिर पर हमला करने की साजिश को भी नाकाम किया गया था. यानी कुल मिलाकर देखा जाए तो हिन्दू व् बौद्ध मंदिर आतंकियों के निशाने पर हैं. कुछ भी करके भारत में अस्थिरता पैदा करने की कोशिश की जा रही है. सीमापार से आतंकियों की घुसपैठ कराने के लिए पाक फ़ौज भी गोलीबारी कर रही है, जिसका जवाब दिया जा रहा है.

Pakistan’s hand behind plot
More recently, the plot to attack Akshardham temple was also foiled. That is, in total, the Hindu and Buddhist temples are on the target of the terrorists. Efforts are being made to create instability in India by doing anything. Pak army is also firing at the border to infiltrate terrorists from across the border, the answer is being given.

यह भी देखें :

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0

लालू प्रसाद यादव के जेल जाने के बाद बिहार के मसीहा पर चारा चोरों का जानलेवा हमला !

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बक्सर में भीड़ ने हमला कर दिया. भीड़ ने मुख्यमंत्री के काफिले पर पत्थर फेंके और नीतीश के खिलाफ नारेबाजी की. पत्थराव होते ही सुरक्षाकर्मियों ने नीतीश को अपने घेरे में ले लिया और उन्हें सुरक्षित गाड़ी में बैठा दिया. इस घटना में नीतीश के सुरक्षाकर्मी घायल हुए हैं. यह घटना बक्सर के नंदन में उस समय हुई जब नीतीश कुमार ‘समीक्षा यात्रा’ में शामिल हो रहे थे|

Patna: The Bihar Chief Minister Nitish Kumar attacked the crowd in Buxar. The crowd threw stones at the Chief Minister’s convoy and sloganeering against Nitish. As stones started, security personnel took Nitish into his coat and placed him in a safe vehicle. Nitish’s security personnel were injured in this incident. This incident took place at Nandan in Buxar when Nitish Kumar was attending a ‘review journey’.

बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इन दिनों विकास कार्यों की हकीकत जानने के लिए बिहार राज्य में आयोजित समीक्षा यात्रा पर हैं. पिछले साल सात दिसंबर को समीक्षा यात्रा पश्चिम चंपारण जिले से शुरू हुई. यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री प्रशासनिक अधिकारियों के साथ हर जिले का दौरा कर रहे हैं और जिले के विकास कामों की समीक्षा कर रहे हैं|

Explain that Chief Minister Nitish Kumar is on a review visit in Bihar today to know the realities of development work. The review journey started on December 7 last year from West Champaran district. During the visit, the Chief Minister is visiting every district with administrative officials and is reviewing development works of the district.

समीक्षा यात्रा के दौरान हर जिले में ‘सात निश्चय’ से संबंधित योजनाओं की प्रगति, शराबबंदी, बाल विवाह मुक्त एवं दहेज उन्मूलन कार्यक्रम, बिहार लोक शिकायत निवारण कानून के क्रियान्वयन सहित विभिन्न कार्यक्रमों में की गई घोषणाओं का अनुपालन और अन्य विकास एवं कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा की जा रही है. नीतीश की यह यात्रा 18 जनवरी तक जारी रहेगी. इस दौरान कुछ दिनों के लिए मुख्यमंत्री पटना लौटेंगे और फिर कुछ दिनों के अंतराल पर पुन: यात्रा पर निकल जाएंगे. नीतीश अंतिम पड़ाव में 16 से 18 जनवरी के बीच नवादा, गया, औरंगाबाद और जहानाबाद जिले में यात्रा करेंगे|

During the review visit, the compliance of the announcements made in various programs including implementation of ‘seven decisions’ related to the progress of all districts, prohibition of the prohibition of marriage, child marriage-free and dowry eradication programs, implementation of Bihar Public Grievances Redressal Law and other development and welfare schemes. Being reviewed. This journey of Nitish will continue till January 18 During this, Chief Minister will return to Patna for a few days and then they will be on a journey again for a few days. Nitish will travel in the last stages between January 16 and 18 in Nawada, Gaya, Aurangabad and Jehanabad districts.

इस समीक्षा यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री को लोगों के विरोध का भी सामना करना पड़ रहा है. मधुबनी में समीक्षा यात्रा के दौरान वित्त रहित शिक्षकों द्वारा मुख्यमंत्री को काले झंडे दिखाए गए. नीतीश कुमार ने जैसे ही भाषण की शुरुआत की, वैसे ही शिक्षकों ने काले झंडे दिखाकर उनका विरोध किया|

During this review visit, the Chief Minister is also facing opposition from the people. During the review visit in Madhubani, black flags were shown to the Chief Minister by the Finance teachers. As soon as Nitish Kumar started the speech, the teachers protested against showing black flags.

जब मुख्यमंत्री ने यह समीक्षा यात्रा शुरू की थी तब राष्ट्रीय जनता दल (RJD) प्रमुख लालू प्रसाद ने विकास समीक्षा यात्रा को लेकर नीतीश की आलोचना करते हुए कहा था कि यह यात्रा एक घोटाला है, जिसमें सरकारी खजाने से करोड़ों रुपए छवि निर्माण पर खर्च किये जा रहे हैं. प्रसाद ने दावा किया कि यात्रा में शामिल प्रत्येक जिले के लिए 10 करोड़ रुपए सरकारी खजाने से खर्च किये जा रहे हैं|

When the Chief Minister began this review journey, then the RJD chief Lalu Prasad criticized Nitish about the development review visit saying that the visit was a scandal, in which the government spent crores rupees on image creation Are going Prasad claimed that 10 crores of rupees are being sent from the government treasury for each district involved in the journey.

नीतीश कुमार समीक्षा यात्रा के दौरान जब शेखपुरा जिले के एक गांव पहुंचे तो वहां उन्होंने एक ऐसे स्तूप की खोज की जो 3000 साल पुराना बताया गया. नीतीश की नजर जब इस स्तूप पर पड़ी, तब उन्होंने पाया यह तो कोई ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक महत्व वाला स्थान प्रतीत होता है. इसके बाद ही मुख्य सचिव ने चौधरी को फोन किया था. मुख्यमंत्री की पहल पर स्तूप की जांच शुरू हुई. इन अवशेषों में मिट्टी के पात्र या बर्तन हैं, इनके पुरातात्विक महत्व हैं|

When the Chief Minister began this review journey, then the RJD chief Lalu Prasad criticized Nitish about the development review visit saying that the visit was a scandal, in which the government spent crores rupees on image creation Are going Prasad claimed that 10 crores of rupees are being sent from the government treasury for each district involved in the journey.

केपी जायसवाल अनुसंधान संस्थान के कार्यकारी निदेशक बिजॉय कुमार चौधरी ने कहा कि हमने उस जगह का दौरा किया और वहां कई अवशेषों को देखकर हम काफी रोमांचित हुए. ये अवशेष उनके पुरातन अस्तित्व का संकेत देते हैं. राज्य सरकार द्वारा संचालित यह संस्थान पटना संग्रहालय भवन में स्थित है, जो इतिहास एवं पुरातत्व के क्षेत्र में अनुसंधान करता है|

Bijoy Kumar Chaudhary, Executive Director, KP Jaiswal Research Institute said that we visited that place and we were quite thrilled to see many residues there. These relics indicate their ancient existence. This institute, run by the state government, is located in Patna Museum Building, which conducts research in the field of history and archeology.

सूत्रों के मुताबिक बिहार के मसीहा कह जाने वाले नितीश कुमार पर यह हमला चारा चोरों ने करवाया था| यह तो सभी जानते हैं की नितीश कुमार और लालू में शुरू से ही बनती नहीं थी और लालू नितीश के सामने कुछ और नितीश के पीछे कुछ और बोलते थे और उनके जेल जाने के बाद नितीश के विरोधियों और चारा चोरों का यह बड़ा गेम प्लान हो सकता है|

According to sources, Nitish Kumar, who was called the mosque of Bihar, was attacked by thieves. It is known to all that Nitish Kumar and Lalu did not get started from the beginning and Laloo used to speak in front of Nitish some more in front of Nitish and after going to jail, Nitish’s opponents and fodder thieves could have a big game plan. Is there.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=4Tyz5onsJbA

https://www.youtube.com/watch?v=dsJje-_3hzs

चारा घोटाले के आरोपी लालू यादव की सजा के बाद PM मोदी पर बरसे तेज प्रताप यादव कहा…

चारा घोटाले में आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव को शनिवार को सजा का ऐलान हुआ। देवघर ट्रेजरी मामले में उन्हें साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई है। इसके साथ ही उन पर पांच लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया। सजा के ऐलान के बाद लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की प्रतिक्रिया आई।

RJD leader Laloo Prasad Yadav in fodder scam declared the punishment on Saturday. He has been sentenced to three and a half years in the Devghar Treasury case. At the same time, he was fined five lakh rupees. After the announcement of the punishment, the reaction of Prasad Yadav, elder son of Lalu, came.

 

 

उन्होंने प्रधानमंत्री को लेकर बड़ा बयान दिया। कहा है कि जो गरीबों के लिए लड़ेगा, उनकी आवाज उठाएगा। उसे ही घेरा जाएगा। देश की जनता आक्रोश में है। पीएम मोदी बैठकर मलाई खा रहे हैं। आपको बता दें कि चारा घोटाले से जुड़े एक मामले में रांची की विशेष सीबीआई अदालत ने आज (6 जनवरी) लालू प्रसाद यादव को साढ़े तीन साल की सजा और 5 लाख का जुर्माना लगाया है।

He gave a big statement about the Prime Minister. It is said that those who will fight for the poor will raise their voice. He will be surrounded. The people of the country are in anger. PM Modi is eating cream and sitting. Let me tell you that in a case related to the fodder scam, a special CBI court in Ranchi has imposed a fine of three and a half years on Lalu Prasad Yadav (January 6) and fined five lakhs.

देवघर ट्रेजरी मामले में फैसला वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनाई गई है। अब लालू यादव को इस अदालत से जमानत नहीं मिल सकेगी। उन्हें जमानत के लिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाना होगा। अगर लालू प्रसाद यादव 5 लाख रुपये का जुर्माना नहीं चुकाते तो उन्हें 6 महीने की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। इस मामले में कुल 16 लोगों को दोषी ठहराया गया था। लालू के अलावा दोषी फूल चंद, महेश प्रसाद, बाके जुलियस, सुनील कुमार, सुशील कुमार, सुधीर कुमार और राजाराम को भी 3.5 साल कैद व 5 लाख रुपये की सजा दी गई है।

Decision in Deoghar Treasury case has been heard through video conferencing. Now Laloo Yadav can not get bail from this court. They will have to knock the High Court door for bail. If Laloo Prasad Yadav does not pay a penalty of Rs 5 lakh, he will have to pay an extra 6 months sentence. In this case, a total of 16 people were convicted. Apart from Lalu, convicted flowers Chand, Mahesh Prasad, Baki Julius, Sunil Kumar, Sushil Kumar, Sudhir Kumar and Rajaram have also been sentenced to 3.5 years imprisonment and Rs 5 lakhs.

तेज प्रताव ने इस बारे में शनिवार को पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने कहा, “हमें विश्वास है कि लालू जी को बेल मिलेगी। हमें न्यायिक प्रणाली में पूरा विश्वास है। हम झुकेंगे नहीं।”

Fast Pratava talked to reporters on Saturday about this. They said, “We believe Laloo ji will get Bell. We have complete faith in the judicial system. We will not bow down. ”

बड़े बेटे ने आगे एक चैनल से कहा, “अभी इस बारे में हमें सूचना मिली है। अगर ज्यादा की सजा होती है तो हाईकोर्ट जाएंगे। देखिए गरीब की जो आवाज उठाएगा, चाहे हम उठाएंगे या कोई और उठाएगा उसे लोग ऐसे ही घेरने का काम करेंगे। देखिए जनता कैसे आक्रोश में है। किस तरह से कारनामा हो रहा है। नरेंद्र मोदी मलाई खा रहे हैं बैठ कर। सारी डील वही कर रहे हैं।”

The elder son said to a channel, “Now we have received information about this. If there is more punishment then the High Court will go. Look, the voice of the poor will raise, whether we will raise or someone else will pick it up, people will do such work. See how the public is in anger. How is it happening? Narendra Modi is eating cream and sitting. All deals are doing the same. ”

वर्ष 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये की फर्जीवाड़ा कर अवैध ढंग से पशु चारे के नाम पर निकासी के इस मामले में कुल 38 लोग आरोपी थे, जिनके खिलाफ सीबीआई ने 27 अक्तूबर 1997 को मुकदमा दर्ज किया था और लगभग 21 साल बाद इस मामले में गत 23 दिसंबर को फैसला आया।

Between 1990 and 1994, a total of 38 people were accused in the case of illegal fodder evacuation of Rs 89 lakhs, 27 thousand rupees from Deoghar treasury and against whom the CBI filed the case on October 27, 1997, and After 21 years, the verdict came on December 23 in the case.

सीबीआई की विशेष अदालत ने चारा घोटाले के इस मामले में 23 दिसंबर को लालू प्रसाद समेत तीन नेताओं, तीन आईएएस अधिकारियों के अलावा पशुपालन विभाग के तत्कालीन अधिकारी कृष्ण कुमार प्रसाद, पशु चिकित्साधिकारी सुबीर भट्टाचार्य तथा आठ चारा आपूर्तिकर्ताओं सुशील कुमार झा, सुनील कुमार सिन्हा, राजाराम जोशी, गोपीनाथ दास, संजय कुमार अग्रवाल, ज्योति कुमार झा, सुनील गांधी तथा त्रिपुरारी मोहन प्रसाद को अदालत ने दोषी करार देकर जेल भेज दिया था।

In the case of the fodder scam, on December 23, three leaders including Lalu Prasad, three IAS officers, Krishan Kumar Prasad, Animal Husbandry Department, Animal Husbandry Subir Bhattacharya and eight fodder suppliers Sushil Kumar Jha, Sunil Kumar Sinha, Rajaram Joshi, Gopinath Das, Sanjay Kumar Agarwal, Jyoti Kumar Jha, Sunil Gandhi and Tripurari Mohan Prasad Programmed court jailed him guilty.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=4Tyz5onsJbA

https://www.youtube.com/watch?v=dsJje-_3hzs

नितीश कुमार ने मीलॉर्ड से लिया पंगा, पद्मावती पर सुनाया हाहाकारी फैसला, भंसाली समेत ममता हैरान !

नई दिल्ली : संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ के लिए मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रहीं. देश भर में विवाद बढ़ता ही जा रहा है. हालाँकि कल सुप्रीम कोर्ट ने उन याचिकाओं को ठुकरा दिया जिसमें कहा गया था फिल्म रिलीज़ न होने दी जाय और भंसाली के खिलाफ केस चलाया जाय, क्यूंकि इसमें इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गयी है. लेकिन अब इसी कड़ी में भंसाली को एक और बड़ा झटका लग गया है.एमपी सीएम शिवराज के बाद नितीश कुमार ने भी कड़ा फैसला लिया है |

New Delhi: Sanjay Leela Bhansali’s ‘Padmavati’ did not name the end of the trouble. There is a growing dispute across the country. However, yesterday the Supreme Court rejected the petitions which said that the film should not be released and the case should be filed against Bhansali, because history has been tampered with. But now in this episode Bhansali has suffered another major setback. After the CM CM Shivraj, Nitish Kumar has also taken a tough decision.

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में फिल्म पर पहले से ही तलवार लटक रही है. तो वहीँ अब नितीश कुमार ने भी पद्मावती फिल्म को लेकर बिहार में बैन करने के आदेश दे दिए हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य में फिल्म तब तक रिलीज नहीं होगी जब तक सभी पार्टियां इसे लेकर किसी निष्कर्ष पर न पहुंच जाएं |

According to the big news now available, the sword is already hanging on the film in Rajasthan, Gujarat, Uttar Pradesh and Madhya Pradesh. So, now, Nitish Kumar has now ordered to ban the Padmavati film in Bihar. Chief Minister Nitish Kumar said that in the state, the film will not be released until all parties reach this conclusion.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बिहार के कला, संस्कृति, खेल और युवा मामलों के मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि ने कहा है कि जब तक पद्मावती” से विवादित दृश्य निकाले नहीं जाते, तब तक फिल्म राज्य में रिलीज नहीं होने नहीं दी जाएगी|

According to the news agency ANI, Krishan Kumar Rishi, Bihar’s Minister of Arts, Culture, Sports and Youth has said that till the controversial scene is removed from Padmavati, the film will not be released in the state.

यह फैसला ऐसे वक्त में आया है जब एक दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने मामले को लेकर मुख्यमंत्रियों को फटकार लगाई थी. कोर्ट ने कहा था कि मुख्यमंत्री किसी फिल्म पर बैन नहीं लगा सकते. साथ ही कोर्ट ने मुख्यमंत्रियों से फिल्म के खिलाफ माहौल नहीं बनाने के लिए भी कहा था |

This decision has come at a time when the Supreme Court rebuked the Chief Ministers on the issue a day earlier. The court had said that the Chief Minister can not ban any film. At the same time, the court had also asked Chief Ministers not to create an atmosphere against the film.

कोर्ट ने कहा था कि जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों को अपने शब्दों पर ध्यान देना चाहिए. सेंसर बोर्ड के फिल्म पर फैसले से पहले ही इस मामले पर कोई टिप्पणी न करने के लिए भी कोर्ट ने कहा था. हालाँकि कोर्ट ने ने उन लोगों के बारे में एक शब्द भी नहीं बोला जो रानी पद्मावती को काल्पनिक बताते हैं और मज़ाक उड़ा रहे हैं और ना ही उन लोगों के खिलाफ कुछ बोला जिन्हे देश में असहिणुता दिखने लगी है, उन्हें भारतीय होने पर शर्म होने लगी है |

The court had said that people sitting in responsible positions should pay attention to their words. Even before the decision on the censor board’s film, the court had also asked not to comment on this matter. However, the court did not even mention a word about those people who say that the queen of Padmavati is imaginary and is not joking or speaks against those people who have started showing innocence in the country, they become ashamed of being Indian Is there.

जहाँ एक तरफ पूरे देश में पद्मावती फिल्म का विरोध हो रहा है है वहीँ दूसरी तरफ बंगाल सीएम ममता बैनर्जी ने अपना लग ही राग अलाप रखा है. उन्होंने कहा है कि हम भंसाली का बंगाल में स्वागत करते हैं. हम पद्मावती को बंगाल में ज़रूर दिखाएंगे |

On one side, the whole country is opposing the Padmavati film; on the other hand, the Bengal CM, Mamta Banerjee, has kept the chord with herself. He has said that we welcome Bhansali in Bengal. We will definitely show Padmavati in Bengal.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM