योगेन्द्र यादव ने अरविन्द केजरीवाल को लेकर किया सबसे बड़ा खुलासा, AAP में मची खलबली !

आम आदमी पार्टी और केजरीवाल के फैसले से सबको हैरानी हो रही है! क्युकी जिस अन्ना आंदोलन से निकलकर ये तीन नेताओ ने पार्टी बनायीं थी, उनमे से एक दिल्ली का मुख्यमंत्री बनता है, दूसरा उप मुख्यमंत्री और तीसरे नेता कुमार विश्वास को हमेशा दरकिनार किया गया! कुमार को राज्यसभा भेजने में भी केजरीवाल को परेशानी हो रही है! क्युकी केजरीवाल जी वो इंसान है जो सबकी लोकप्रियता का सिर्फ फायदा उठाना जानते है और जब मतलब निकल गया तो हम आपके है कौन? ऐसा ही कुछ कुमार विश्वास के साथ भी हो रहा है|

Aam Aadmi Party and Kejriwal’s decision are all surprised! One of the three leaders who had made the party out of the Anna movement, the one who became the Chief Minister of Delhi, one of them becomes the Chief Minister of Delhi, the second Deputy Chief Minister and the third leader Kumar Vishwas has always been sidelined! Kejriwal is facing trouble in sending Rajya Sabha to Rajya Sabha. Kejriwal is a person who knows how to take advantage of everyone’s popularity and when it comes out we are yours. Something like this is happening with Kumar too.

आम आदमी पार्टी (AAP) से राज्यसभा में भेजे जाने के लिए बुधवार को तीन नाम फाइनल किए गए! दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि संजय सिंह, सुशील गुप्ता और एनडी गुप्ता का नाम फाइनल किया गया है! आम आदमी पार्टी ने राज्यसभा के लिए तीन उम्मीदवारों के नामों की घोषणा में राज्यसभा टिकट के प्रबल दावेदार माने जाने वाले पुर पत्रकार आशुतोष को भी टिकट नहीं दिया है, इसके अलावा पार्टी से बागी रुख अख्तियार किये कुमार विश्वास को भी पार्टी से निराशा हाथ लगी है|

Three nominations were finalized on Wednesday to be sent from Aam Aadmi Party to Rajya Sabha! Delhi’s Deputy CM Manish Sisodia said that the name of Sanjay Singh, Sushil Gupta and ND Gupta has been finalized! Aam Aadmi Party has not even given the ticket to Ashutosh, who has been named as the strongest contender for the Rajya Sabha ticket in the announcement of the names of three candidates for the Rajya Sabha, apart from this, the party has rebutted the party, Kumar Vishwas has also been disappointed with the party.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि आम आदमी पार्टी की ओर से राज्यसभा उमीदवार बनाये गए सुशिल गुप्ता कांग्रेस के नेता थे, जिन्होंने अपना इस्तीफा 1 महीने पहले 28 नवंबर को कांग्रेस के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन को सौपा था! यानि कहानी बिलकुल साफ़ थी की उन्हें केजरीवाल के तरफ से आश्वासन मिल चूका था की आप इस्तीफा दो हम आपको राजयसभा भेजेंगे|

For your information, tell us that Sushil Gupta, who was made Rajya Sabha candidate from Aam Aadmi Party, was the Congress leader, who had submitted his resignation on November 28 2012, to the Delhi Pradesh Congress chief, Ajay Maken, a month ago! That is, the story was completely clear that he had got assurance from Kejriwal that you will resign and we will send you the Rajya Sabha.

इसी कड़ी में योगेंदर यादव जो कभी केजरीवाल को ईमानदार मानते थे और कहते थे की कुछ भी हो जाये अरविन्द केजरीवाल बिकेगा नाहि! लेकिन आज योगेंदर यादव ने भी मान लिया की केजरीवाल ने पैसो से राज्यसभा की सीटें बेचीं है! यादव ने ट्वीट कर लिखा, “पिछले तीन साल में मैंने ना जाने कितने लोगों को कहा कि अरविंद केजरीवाल में और जो भी दोष हों, कोई उसे ख़रीद नहीं सकता। इसीलिए कपिल मिश्रा के आरोप को मैंने ख़ारिज किया। आज समझ नहीं पा रहा हूँ कि क्या कहूँ? हैरान हूँ, स्तब्ध हूँ, शर्मसार भी।”

In this episode, Yogendra Yadav, who once considered Kejriwal, to be honest, said that Arvind Kejriwal would not sell anything. But today, Yogender Yadav also admitted that Kejriwal has sold Rajya Sabha seats from Paiso! Yadav tweeted, “In the last three years, I did not know how many people told that there is no fault in Arvind Kejriwal and no one can buy it. That is why I dismiss the charge of Kapil Mishra. Today I can not understand what to say? I am amazed, I am shocked, even embarrassed. ”

हलाकि उमीदवारो के नाम सामने आने के बाद आशुतोष और कुमार विश्वास को काफी गहरा झटका लगा है! क्युकी ये दोनों ही नेता राज्यसभा जाने के प्रबल दावेदार मने जा रहे थे! कुमार विश्वास ने इस फैसले के बाद कहा, “अरविंद ने मुझे मुस्कुराते हुए कहा था कि सरजी आपको मारेंगे पर शहीद नहीं होने देंगे! मैं उनको बधाई देता हूं कि मैं अपनी शहादत स्वीकार करता हूं!” बता दें कि कुमार विश्वास कई मौकों पर पार्टी का विरोध कर चुके हैं|

However, after the names of Umidwaro’s names appear, Ashutosh and Kumar Vishwas have suffered a great shock! Both of these leaders were going to be the strong contenders to go to the Rajya Sabha! Kumar Vishwas said after this decision, “Arvind said to me smiling that Sarji would kill you but not let the martyr! I congratulate them that I accept my martyrdom! “Let me tell that Kumar Vishwas has opposed the party on several occasions.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=xlRRjGN7n7U

https://www.youtube.com/watch?v=aGHeWHD0uXg

चौकाने वाली खबर: ये होंगे AAP के नए नेता, तीसरे उम्मेदवार की खोज समाप्त !

नई दिल्ली : दिल्ली में राज्यसभा चुनावों के लिए काउंट डाउन शुरू हो गया है, लेकिन इस चुनाव में एकमात्र दावेदार आम आदमी पार्टी ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं. तीन सीटों पर होने जा रहे चुनावों के लिए 5 जनवरी तक नामांकन पर्च भरे जाएंगे. एक दावेदार के रूप में संजय सिंह का नाम आगे चल रहा था, लेकिन अब सुशील गुप्ता और एनडी गुप्ता भी इस दौड़ में शामिल हो गए हैं. गुप्ता ब्रदर्स का राज्य सभा की दौड़ में शामिल होने पर संजय सिंह हाशिए पर आ गए हैं|

New Delhi: Countdown has started for the Rajya Sabha elections in Delhi, but the only claimant in this election, the Aam Aadmi Party has not opened its cards yet. Nomination pills will be filled till January 5 for elections going to three seats. Sanjay Singh’s name was going on as a claimant, but now Sushil Gupta and ND Gupta have also joined the race. Sanjay Singh has been marginalized on the involvement of Gupta Brothers in the Rajya Sabha race.

अब जब संजय सिंह नहीं हैं तो ‘आप’ का तीसरा उम्मीदवार कौन होना, इस पर चर्चाओं का बाजार गर्म है. उधर, राजनीतिक गलियारे में तीसरे उम्मीदवार के रूप में खुद पार्टी संयोजक तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का नाम भी तेजी से चल पड़ा है. पार्टी सूत्र बताते हैं कि पार्टी में उम्मीदवारी को लेकर जिस तरह से गुटबाजी उभर कर सामने आई है, उसे खत्म करने के लिए किसी और को राज्यसभा नहीं भेजकर अरविंद खुद ही दिल्ली की गद्दी छोड़ सकते हैं|

Now when Sanjay Singh is not there, the market of discussions on this is a hot topic for who will be the third candidate of AAP. On the other hand, the name of party coordinator and Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal as the third candidate in the political corridor has also been running fast. Party sources say that the manner in which the factionalism has emerged about the candidature in the party, Arvind himself can not leave the throne of Delhi by sending someone else to the Rajya Sabha.

हालांकि अरविंद केजरीवाल बस नाम के ही दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं. उनके पास कोई भी विभाग नहीं है. सारा काम पार्टी में दूसरे नंबर की हैसियत रखने वाले उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ही देख रहे हैं. अरविंद पहले भी कई बार इच्छा जता चुके हैं कि वह पार्टी को राष्ट्रीय स्तर खड़ा करने के लिए राष्ट्रीय राजनीति में जाना चाहते हैं, इसीलिए उन्होंने दिल्ली में किसी भी जिम्मेदारी से खुद को मुक्त रखा है. ऐसा पहली बार है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री के पास कोई भी विभाग नहीं है, वे बस नाम के ही मुख्यमंत्री हैं|

Although Arvind Kejriwal is the Chief Minister of the name of Delhi. They do not have any department. Chief Minister Manish Sisodia, who is the second largest party in the entire work party, is watching. Arvind has expressed his desire several times before that he wants to go to national politics to make the party national level, that is why he has kept himself free from any responsibility in Delhi. This is the first time that the Chief Minister of Delhi has no department, he is the Chief Minister of the name.

इससे पूर्व भी वह विभिन्न चुनावों में दिल्ली छोड़ कभी बनारस, कभी गुजरात, कभी हिमाचल तो कभी उत्तराखंड में पार्टी का मोर्चा संभालते रहे हैं. अब जब 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए सभी पार्टियों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं, ऐसे में आम आदमी पार्टी भी इन चुनावों में ताल ठोकने की तैयारी कर रही है. 2014 के चुनावों में भी पार्टी ने बड़े पैमाने पर अपने उम्मीदवार खड़े किए थे, लेकिन पंजाब को छोड़कर कहीं सफलता हाथ नहीं लगी. दिल्ली में तो आम आदमी पार्टी दूसरे स्थान पर रही थी. उस समय अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगे थे कि अरविंद दिल्ली की चिंता छोड़कर देश की राजनीति में कूद पड़े, इसलिए उन्हें इस बात का खामियाजा भुगतना पड़ा था. पार्टी सूत्र बताते हैं कि इस बार इस तरह की आलोचनाएं ना उठें, इसलिए अरविंद खुद राज्यसभा जाकर वहां से राष्ट्रीय राजनीति की कमान संभालेंगे और आने वाले लोकसभा चुनावों की तैयारियां करेंगे|

Even before that, he left Delhi in various elections, never went to Banaras, sometimes Gujarat, Himachal and then in Uttarakhand to take on the party’s front. Now that all the parties have started preparations for the 2019 Lok Sabha elections, in this case, the Aam Aadmi Party is also preparing to set the rhythm in these elections. In the 2014 elections, the party had raised its candidates on a large scale, but except for Punjab, it did not get much success. In Delhi, the Aam Aadmi Party was in second place. At that time, Arvind Kejriwal was accused of arguing that Arvind had left Delhi’s concerns and jumped into politics in the country, so he had to suffer the brunt of this. Party sources say that this time no such criticism should arise, so Arvind himself will go to the Rajya Sabha and take over the responsibility of national politics from there and prepare for the forthcoming Lok Sabha elections.

बता दें कि आम आदमी पार्टी से नेताओं में राज्यसभा जाने की होड़ सी मची हुई है. पार्टी के वरिष्ठ नेता तथा राजस्थान के प्रभारी कुमार विश्वास ने राज्यसभा को लेकर खुलकर बगावत कर दी है. दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल भी अरविंद के सामने खुद को राज्यसभा भेजने की मांग उठा चुकी हैं.

Let the leaders of the Aam Aadmi Party get a chance to go to Rajya Sabha. Senior party leader and in-charge of Rajasthan, Kumar Vishwas, has openly rebelled against the Rajya Sabha. Delhi Women’s Commission President Swathi Maliwal has also raised the demand of sending himself a Rajya Sabha to Arvind.

दिल्ली में 70 विधानसभा सीटों में 66 पर ‘आप’ का कब्जा है. इसलिए राज्यसभा की तीन सीटों पर आप के उम्मीदवार निर्विरोध चुने जाएंगे. लेकिन पार्टी के अंदर होने वाले विरोध के कारण पार्टी को महज तीन नाम चुनने में पार्टी को गहन मंथन करना पड़ रहा है. आप की पॉलीटिकल अफेयर्स कमेटी आज बुधवार को अपने उम्मीदवारों की घोषणा करेगी. राज्‍यसभा की तीन सीटों के लिए 16 जनवरी को चुनाव होंगे. वहीं इसके लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख पांच जनवरी है|

In Delhi, there are 66 seats in AAP in 66 assembly seats. Therefore, your candidates will be elected unopposed in three seats in the Rajya Sabha. But due to the opposition within the party, the party has to churn the party in just three names to choose from. Your Political Affairs Committee today will announce its candidates on Wednesday. For the three seats of Rajya Sabha, elections will be held on January 16. The last date for filing nominations is January 5.

हालांकि अभी भी संजय सिंह, सुशील गुप्ता और एनडी गुप्ता के नाम पर चर्चा चल रही है. सुशील गुप्ता पंजाबी बाग क्लब के 25 साल से चेयरमैन हैं. साल 2013 के विधानसभा चुनाव में वह मोती नगर से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़े थे, लेकिन हार गए. उधर, एनडी गुप्ता चार्टेड अकाउंटेंट और दी इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया के उपाध्यक्ष हैं|

However, the names of Sanjay Singh, Sushil Gupta and ND Gupta are still under discussion. Sushil Gupta is the Chairman of the Punjab Bagh Club for 25 years. In the 2013 assembly elections, he contested on the Congress ticket from Moti Nagar, but lost. On the other hand, ND Gupta is the Chartered Accountant and Vice President of The Institute of Chartered Accountants of India.

पिछले कई दिनों से दिल्ली में राज्यसभा सीटों को लेकर चला आ रहा गतिरोध आज बुधवार को पार्टी की पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी की बैठक के बाद समाप्त हो गया. दोपहर को पार्टी ने राज्यसभा के लिए अपने तीन उम्मीदवार संजय सिंह, एनडी गुप्ता और संजीव गुप्ता के नामों का ऐलान कर दिया. पार्टी के इस ऐलान के साथ ही कुमार विश्वास को लेकर चल रही अटकलों पर विराम लग गया. कुमार विश्वास अब आम आदमी पार्टी की तरफ से राज्यसभा नहीं जा सकेंगे. बता दें कि दिल्ली से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए 16 जनवरी को चुनाव होगा. 5 जनवरी तक नामांकन भरे जा सकेंगे.

The stalemate coming out of the Rajya Sabha seats in Delhi for the last several days has ended on Wednesday after the meeting of the party’s Political Affairs Committee. In the afternoon, the party announced the names of three candidates Sanjay Singh, ND Gupta and Sanjeev Gupta for the Rajya Sabha. With this announcement of the party, there was a break on speculation about Kumar Vishwas. Kumar Vishwas will not be able to attend the Rajya Sabha on behalf of Aam Aadmi Party. Let us say that for the three seats of Delhi from Delhi, the elections will be held on January 16. Nominations will be filled till 5th January

यह भी देखे:

https://www.youtube.com/watch?v=xlRRjGN7n7U

https://www.youtube.com/watch?v=aGHeWHD0uXg

गुजरात चुनाव: फर्जी ओपिनियन पोल शेयर कर कांग्रेस फिर हुयी शर्मशार, चाणक्या टूडे ने भी बताया झूठा!

New Delhi: देश की दोनों बड़ी पार्टियों कांग्रेस और बीजेपी ने गुजरात चुनाव जितने के लिए हर वो प्रयास किया जिससे उन्हें सफलता हासिल हो सके! गुजरात में पहले चरण का मतदान समाप्त हो गया है, अब गुजरातियों के साथ साथ हर भारतीय को गुजरात के चुनाव परिणामो का बेशब्री से इंतजार है! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का गृह राज्य होने की वजह से हर कोई जानना चाहता है की क्या गुजरात में आज भी मोदी का जलवा कायम है या नहीं! गुजरात के 182 सीटों पर दो चरण में मतदान हो रहे हैं! दूसरे चरण के लिए मतदान 14 दिसंबर को डाले जाएंगे! गुजरात चुनाव को लेकर देश के लगभग सभी न्यूज़ चैनेलो ने अपने अपने ओपिनियन दिखाए और लगभग सभी ओपिनियन पोल में भाजपा ही जीतती नजर आ रही है!

मीडिया में आ रही खबरों की माने तो गुजरात में बीजेपी पिछली बार से भी अच्छा कर रही है, और कांग्रेस बुरी तरह हार रही है! सेक्युलर मीडिया और कांग्रेस के आईटी सेल ने गुजरात में हवा बनाने के लिए खूब झूठ फैलाये, कांग्रेस की फर्जी लहार बताई, मीडिया वालों ने तो कांटे की टक्कर जितनी बात कही! कांग्रेस के उपाध्यक्ष श्री राहुल गाँधी हर छोटे बड़े मंदिर जा जाकर दर्शन कर रहे है, जिससे वो हिन्दू वोट को अपनी ओर कर सके! इनसबके बाबजूद भी बीजेपी को ही बहुमत मिलता दिख रहा है!

गुजरात चुनाव के ओपिनियन पोल को देखकर कांग्रेस के नेता इतने हतास हो गए है की अब फर्जी ओपेनियन पोल भी सोशल मीडिया वेब्सीटेस पर शेयर करने लगे है! फोटोशॉप का उपयोग कर फर्जी सर्वे तैयार किये जा रहे है और लोगो के बिच ये दिखने की कोशिश की जा रही है की गुजरात का इलेक्शन कांग्रेस जित रही है! ऐसा इसलिए भी किया जा रहा है क्युकी अभी दूसरे चरण का मतदान होना बाकी है! इस तरह के फर्जी ओपिनियन पोल्ल को दिखाकर कांग्रेस लोगो को गुमराह कर रही है!

लेकिन एक बात जग जाहिर है की कोन्ग्रेस्स का फर्जीवाड़ा ज्यादा समय तक चलता है! अब पहले चरण में उनके नेता ने आरोप लगाया था की EVM को ब्लूटूथ के जरिये हैक किया जा रहा है, लेकिन शाम होने से पहले ही दूध का दूध और पानी का पानी हो गया और कांग्रेस को एक बार फिर शर्मशार होना पड़ा!

अब कांग्रेस के एक नेता ने फर्जी ओपिनियन पोल शेयर किया है जिसमे चाणक्या के नाम का उपयोग कर एक फोटो लोगो से साझा किया जा रहा है! लेकिन चाणक्या के वेरिफ़िएड ट्विटर अकाउंट ने इस तरह के किसी भी ओपिनियन पोल से इंकार किया है! रोहन गुप्ता नाम के कांग्रेस नेता ने अपने ट्विटर अकाउंट एक फर्जी पोल्ल शेयर किया है, देखिये!

चाणक्या टूडे ने भी बताया झूठा और इस तरह के किसी भी सर्वे से किया इंकार:-

सोशल मीडिया पर कांग्रेस के इस कृत्य के लिए लोग खूब आलोचना कर रहे है-

Video: नहीं बोलूंगा जय श्री राम, पहले तुम 5 बार अल्लाह हू अकबर बोलो : जिग्नेश मेवानी

अभी कुछ दिनों पहले ही गुजरात चुनाव की कद्दावर तिकड़ी में से एक जिग्नेश मेवाणी पर एक विवादित संगठन से चेक लेने की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुयी थी! और अब जिग्नेश मेवानी एक नए विवाद में घिरते नजर आ रहे है, इन्होने जय श्री राम कहने से इंकार किया और साथ ही यह भी कहा की पहले तुमलोग अल्लाह हु अकबर बोलो! वैसे तो जिग्नेश हिन्दुओ का ही नाम होता है, पर जिग्नेश मेवानी हिन्दू नहीं है, ये गौरी बामपंथी गैंग के मेंबर मालूम पड़ते है, ये मोदी के अलावा गाय को भी मारने की बात कर चुके है, मीडिया ने इन्हे प्रचारित कर दलित नेता बना दिया, और कांग्रेस अब इसकी साथी है!

जिग्नेश मेवानी के बारे में अगर आप नहीं जानते तो आपको एक और जानकारी दे देते है, देशद्रोही नक्सली अरुंधति रॉय ने इसे चंदा दिया था, और इतना ही नहीं केरल के इस्लामिक आतंकी संगठन PFI ने भी जिसके ISIS से भी लिंक है, उसने भी जिग्नेश मेवानी को चन्दा दिया था

जिग्नेश मेवानी गुजरात में एक सभा कर रहा था, वो एक विधानसभा सीट से चुनाव भी लड़ रहा है, कांग्रेस ने अपना उमीदवार वहां से हटा दिया है, जिग्नेश मेवानी गुजरात में एक सभा कर रहा था, तभी वहां पर कुछ हिन्दू आ गए, और उन्होंने जिग्नेश मेवानी से जय श्री राम कहने के लिए कहा!

पर जिग्नेश मेवानी ने जय श्री राम कहने से साफ़ इंकार कर दिया, और इसने उल्टा हिन्दुओ को कहा की तुम 5 बार अल्लाह हू अकबर बोलो, फिर हिन्दुओ ने वहां मोदी-मोदी के नारे लगाने शुरू कर दिए, और गौरी लंकेश के इस भक्त को बोलने नहीं दिया!

इस वीडियो को ABP न्यूज़ के पत्रकार विकास भदौरिया ने ट्विटर पर शेयर किया है:-

यूपी चुनाव में अमित शाह के इस फोर्मुले ने भरी सर्दी में छुड़ाए माँ बेटे के पसीने !

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव के नतीजे लगभग आ चुके हैं. भारतीय जनता पार्टी ने राज्य में एक बार फिर बाजी मारी है. लेकिन इन नतीजों में सबसे बड़ी बात जो वही वो ये कि राहुल गाँधी अपना घर भी नहीं बचा सके. राहुल गांधी का संसदीय क्षेत्र और कांग्रेस का गढ़ माने जाने वाली अमेठी में भी भारतीय जनता पार्टी ने परचम लहराया है |

New Delhi: The results of body elections in Uttar Pradesh have almost come. The Bharatiya Janata Party has once again betrayed the state. But the biggest thing in these conclusions is that the same Rahul Gandhi can not even save his house. In the Amethi, which is considered as a parliamentary constituency of Rahul Gandhi and a Congress stronghold, the Bharatiya Janata Party has wooed the pancham.

अमेठी में दो नगर पालिका,गौरीगंज और जायस समेत दो नगर पंचायतें अमेठी और मुसााफिरखाना हैं. अमेठी की नगर पंचायत सीट भाजपा की चंद्रमा देवी जीत गई हैं. इसके साथ ही फिलहाल तक आए रुझानों के अनुसार अमेठी की गौरीगंज नगरपालिका सीट पर भाजपा आगे चल रही है. अमेठी के गौरीगंज नगरपालिका सीट से भाजपा को जीत मिली है, जबकि जायस नगरपालिका में भी भाजपा को बढ़त मिली है. अभी तक यहां एक भी चुनाव में भाजपा अपना खाता नहीं खोल सकी थी. यह अपने आप में एक इतिहास है |

Amethi has two municipal panchayats including two municipalities, Gauriganj and Jayas, Amethi and Musafirkhana. Amethi’s Nagar Panchayat seat has won the BJP’s, Chandra Devi. At the same time, according to trends, the BJP is moving forward in the Gauriganj Municipality seat of Amethi. The BJP has won from Gauriganj municipality seat of Amethi, whereas in the Jayas municipality, the BJP has got an edge. So far, in a single election, the BJP could not open its account. It has a history in itself.

चुनाव के इन रुझानों के आधार पर बीजेपी नेता स्मृति इरानी ने कांग्रेस के राजकुमार राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा कि राहुल गांधी अपने निर्वाचन क्षेत्र में ही नहीं जीत रहे हैं. इससे साफ है कि जनता में उन्हें समर्थन नहीं मिल रहा है. गुजरात में स्मृति ने कहा कि जो अपने क्षेत्र में नहीं जीत सकता, वह गुजरात में क्या सपने लेकर आए हैं |

On the basis of these trends of elections, BJP leader Smriti Irani tightened tears on Congress vice-president Rahul Gandhi and said that Rahul Gandhi is not winning in his constituency alone. It is clear from them that they are not getting support from the public. In Gujarat, Smriti said that what cannot win in its territory, what dreams have come in Gujarat?

बता दें कि बीजेपी 2014 के लोकसभा चुनाव से ही बीजेपी कांग्रेस के गढ़ में सेंध लगाने में जुटी हुई है। इसी क्रम में उसने राहुल के मुकाबले कद्दावर नेता स्मृति को राहुल के मुकाबले अमेठी में उतारा था. वहीं, विधानसभा चुनाव की बात की जाए तो कांग्रेस और सपा ने गठबंधन में चुनाव लड़ा था. इसके बावजूद अमेठी की 5 में से 4 सीटें बीजेपी ने जीती थी और कांग्रेस का खाता तक नहीं खुला था |

Let me tell you that BJP has been involved in breaking the Congress stronghold since the 2014 Lok Sabha elections. In the same sequence, she had brought Kadtar leader Smriti to Rahul in Amethi compared to Rahul. At the same time, if the talk of assembly elections, the Congress and the SP contested in the coalition. Despite this, 4 out of 5 seats of Amethi won by BJP and the Congress account was not open.

पिछले चुनावों के नतीजे देखें तो रायबरेली भी कांग्रेस के हाथ से फिसल रहा है. विधानसभा चुनाव में यहां कि 5 सीटों में से 2 पर बीजेपी ने कब्जा कर कांग्रेस को झटका दिया था. 2014 में भले ही सोनिया जीती हों लेकिन उनका वोट बैंक कम हुआ था. उस वक्त सपा ने उनके खिलाफ कोई कैंडिडेट मैदान में नहीं उतारा था |

Seeing the results of the last elections, Rae Bareli is also slipping from the hands of the Congress. In the Assembly elections here, 2 of the 5 seats BJP had captured and shocked the Congress. In 2014 even if Sonia won, but her vote bank was reduced. At that time, SP had not fielded any candidate against him.

जीत के बाद यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यूपी के चुनाव सबकी आंखों को खोलने वाला है, जो लोग गुजरात के संदर्भ में बात कर रहे थे उनका खाता भी नहीं खुला है और अमेठी में भी सूपड़ा साफ हुआ है |

After winning, UP CM Yogi Adityanath said that the elections of UP are going to open all eyes, those who were talking about Gujarat, their account is not even open and Amethi has also been cleared.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=g-H5DwYD5dc

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

चुनावों से ऐन पहले अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर घोटाले में बुरी तरह फसे माँ बेटे, गुजरात चुनाव लड़ेंगे जेल से !

नई दिल्ली : कांग्रेस के किये गए अपराधों की जांच तेजी से चल रही है. सत्ता में रहते हुए देश की जनता के पैसों की लूट मचाने वाले नेताओं का जेल जाना तय हो चुका है. ताजा खबर के मुताबिक़ अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीद मामले में केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने दिल्ली और कोलकाता में कई स्थानों पर छापे मारे हैं. जिसने एक बार फिर राजनीति में हलचलें बढ़ा दी हैं. बता दें कि इस मामले में सोनिया गाँधी समेत अहमद पटेल व् कई अन्य बड़े नेताओं और डिज़ाइनर पत्रकार आरोपी हैं |

New Delhi: Investigation of crimes committed by Congress is going on fast. In power, the leaders of the country’s public looters have decided to go to jail. According to the latest news, Central Bureau of Investigation (CBI) has raided at many places in Delhi and Kolkata in the AgustaWestland helicopter purchase case. Which has once again increased the stir in politics. In this case Ahmed Patel, along with Sonia Gandhi and many other big leaders and designer journalists, is accused in this case.

सीबीआई ने दिल्ली-कोलकाता में मारे छापे:

सीबीआई के मुताबिक़ दिल्ली और कोलकाता दोनों जगह तीन-तीन स्थानों पर छापे मारे गये. यह छापे दिल्ली स्थित एक निजी कंपनी के प्रबंध निदेशक के आवास और कार्यालय, कोलकाता स्थित एक अन्य कंपनी के निदेशक के आवास, कार्यालय और कोलकाता में उनके सहयोगी के आवास पर अगस्ता-वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीद मामले में आगे की जांच के सिलसिले में मारे गए |

CBI raids in Delhi-Kolkata

According to the CBI, raids were carried out at three or three places in both Delhi and Kolkata. The raids were carried out in connection with further investigations in the Agusta Westland helicopter purchase case at the residence of the Director, Housing and Office of the managing director of a private company located in Delhi, the residence of the director of another Kolkata-based company, and his colleague in Kolkata.

सीबीआई के मुताबिक़ इस छापेमारी में दिल्ली स्थित कंपनी के प्रबंध निदेशक के आवास से 55.68 लाख रुपए और कोलकाता स्थित कंपनी के निदेशक के आवास से करीब 29 लाख रुपए बरामद किए गये हैं. इसके अलावा कुछ आपत्तिजनक दस्तावेज भी बरामद किए गये हैं. इनके कुछ लॉकरों की छानबीन भी की जा रही है |

According to the CBI, about Rs 29 lakh was recovered from the residence of the managing director of Delhi-based company’s managing director and Rs 55.68 lakh from Kolkata-based company’s director. Apart from this, some objectionable documents have also been recovered. Some of these lockers are also being scrutinized.

पूर्व वायुसेना प्रमुख समेत सोनिया गाँधी की मुश्किलें बढ़ी?

अगस्ता-वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीद मामले में सीबीआई ने वायु सेना के पूर्व प्रमुख एस पी त्यागी और 18 अन्य व्यक्तियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया हुआ है | उसने इस मामले में गत एक सितंबर को एक आरोपपत्र भी दाखिल किया था | आरोप है कि अगस्ता-वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीद सौदे में बड़े पैमाने पर रिश्वत खायी और खिलाई गयी है. इटली की अदालत ने इस मामले की ड्राइविंग फ़ोर्स सिग्नोरा गाँधी को करार दिया था |

The problems of Sonia Gandhi, along with the former Air Force chief increased?

In the AgustaWestland chopper purchase case, the CBI has registered a case against former Air Chief SP Tyagi and 18 other persons under different sections of Indian Penal Code. He also filed a charge sheet on September 1 in this regard. It is alleged that bribes have been eaten and eaten on a large scale in Agusta-Westland helicopter purchase deal. Italy’s court had termed the driving force of this case, Force Signora Gandhi.

सोनिया गाँधी के खिलाफ भारत में कई मामलों में जांच चल रही है | इस मामले के अलावा भी एक अन्य भ्रष्टाचार के केस में सोनिया और राहुल के खिलाफ जांच की जा रही है और फिलहाल दोनों माँ-बेटा जमानत पर बाहर हैं |इटली के क़ानून ने वहां के दोषियों को सजा भी सुना दी हैं, भारत में तेजी से जांच आगे बढ़ रही है | जिस तरह से सीबीआई ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है, साफ़ है कि मामले की जांच जल्द ही पूरी होने वाली है | बीजेपी के नेताओं के मुताबिक़ जल्द ही सीबीआई 10 जनपथ तक पहुंचेगी और माँ-बेटे जेल की सलाखों के पीछे पहुंचेंगे |

Investigation is going on in many cases in India against Sonia Gandhi. In addition to this case, another corruption case is being investigated against Sonia and Rahul, and both mothers and children are now on bail. Italy’s law has also heard the conviction of the guilty, increasingly in India The investigation is going on. The manner in which the CBI is conducting raiding, it is clear that investigation of the case is going to be completed soon. According to BJP leaders, the CBI will soon reach 10 Janpath and the mother and son will go behind the prison bars.

हिमाचल में BJP के सीएम पद का नाम हुआ पक्का- कांग्रेस में मचा हडकंप, राहुल भी हुए हैरान!

शिमला: जहाँ एक तरफ राजनितिक पार्टियां गुजरात और हिमाचल प्रदेश चुनाव की तैयारियों में ज़ोर शोर से लग गयी है | हिमचाल में चुनाव से पहले जहाँ कांग्रेस से राहुल गाँधी ने बड़ा खतरा लेते हुए वीरभद्र सिंह को अपनी पार्टी का सीएम कैंडिडेट घोषित किया है जबकि वो खुद भ्रष्टाचार के आरोप में लिप्त हैं, उनकी संपत्ति जब्त हो रही है | वहीँ दूसरी तरफ आज अमितशाह ने बीजेपी सीएम कैंडिडेट का एलान कर सबको चौंका दिया |

Shimla: Where on one side political parties have come up with loud noise in Gujarat and Himachal Pradesh preparations. Before the election in Himachal, where Rahul Gandhi has taken a bigger risk from Congress, he has declared Virbhadra Singh as his CM candidate while he himself is involved in corruption charges, his property is seized. On the other hand Amit Shah surprised everyone by calling the BJP CM candidate today.

हिमाचल प्रदेश में बीजेपी ने सीएम कैंडिडेट का किया एलान : अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी ने आखिरकार अपने सीएम उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया है. दो बार मुख्यमंत्री रह चुके प्रेम कुमार धूमल पर अडवाणी, अमितशाह, पीएम नरेंद्र मोदी ने भरोसा जताया है. हिमाचल के राजगढ़ में एक रैली के दौरान बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उनके नाम की घोषणा की है. तो वहीँ कांग्रेस ने वीरभद्र सिंह को अपनी पार्टी का सीएम कैंडिडेट घोषित पहले ही कर चुकी है |

BJP announced in Himachal Pradesh CM candidate: According to the big news now available, just before the Himachal Pradesh assembly elections, the Bharatiya Janata Party has finally declared its CM candidate’s name. Advani, Amit Shah, PM Narendra Modi have expressed confidence in two-time Chief Minister Prem Kumar Dhumal. During a rally in Himachal’s Rajgarh, BJP national president Amit Shah has announced his name. So the Congress has already declared Virbhadra Singh as the CM candidate of his party.

कांग्रेस की बढ़ी मुश्किलें : अमित शाह ने आज एलान करते हुए कहा “वीरभद्र जी यहां रोज पूछते हैं, अपने काम का हिसाब नहीं देते, भ्रष्टाचार के जवाब नहीं देते. गुड़िया के न्याय की बात नहीं करते | हमें पूछते हैं कि बीजेपी किसके नेतृत्व में लड़ रही है | मित्रों देशभर में बीजेपी मोदी जी के नेतृत्व में लड़ रही है |

Increasingly difficulties of Congress: Amit Shah declares today, “Virbhadra ji asks every day, does not give account of his work, does not answer corruption, does not talk of justice of dolls. Fighting is being fought in the country under the leadership of BJP Modi.

अगर आपको सुनना है कि हिमाचल में बीजेपी किसके नेतृत्व में लड़ रही है, तो मैं आज स्पष्ट किए देता हूं वीरभद्र जी हिमाचल के अंदर भारतीय जनता पार्टी धूमल जी के नेतृत्व में चुनाव लड़ने के लिए जा रही है | मैं वीरभद्र जी को कहना चाहता हूं कि 2017 का यह चुनाव हमारे वरिष्ठ नेता धूमल जी के नाम पर लड़ेंगे उनके नेतृत्व में लड़ेंगे” | जिससे कांग्रेस और मौजूदा विधायक की मुश्किलें काफी बढ़ गयी हैं |

If you want to hear who is fighting under BJP leadership in Himachal, then I will clarify today Virbhadra is going to contest the election under the leadership of Bharatiya Janata Party Dhumal ji inside Himachal. I want to tell Virbhadra that this election of 2017 will fight under the leadership of our senior leader Dhumal, who will fight under his leadership “, which has greatly increased the difficulties of Congress and the present legislator.

आपको बता दें 2 बार हिमाचल के सीएम रह चुके प्रो. प्रेम कुमार धूमल इस बार सुजानपुर विधानसभा सीट से मैदान में हैं | इससे पहले वे बमसन सीट से लड़ते थे | इस बार पार्टी हाईकमान ने इनका विधानसभा क्षेत्र बदला है | ऐसे में सभी की नजरें इन पर हैं | वे 1998-2003 और 2008-2012 तक राज्य के सीएम रहे | 1991 में एक बार फिर धूमल ने हमीरपुर लोकसभा सीट से जीत दर्ज की |

Let me tell you, once the Himachal CM remains Prem Kumar Dhumal is in the fray from the Sujanpur assembly seat this time. Earlier he used to fight the Bamson seat. This time the party high command has changed their constituency area. In this way everyone’s eyes are on them. He was the CM of the state from 1998-2003 and 2008-2012. In 1991, Dhumal again won from Hamirpur Lok Sabha seat.

इसके बाद भाजपा ने उन्हें हिमाचल प्रदेश राज्य इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया | आपको बता दें कि हिमाचल में 9 नवंबर को चुनाव होना है | चुनाव से पहले ही कांग्रेस बेहद कमज़ोर दिखाई पड़ रही है | एकतरफ सीएम वीरभद्र सिंह पर भ्रष्टाचार के आरोप दूसरी तरफ एक के बाद कांग्रेस के बड़े सदस्य का भाजपा में शामिल होना | कांग्रेस के लिए बड़े खतरे की और इशारा कर रहा है |

After this, the BJP appointed him the President of Himachal Pradesh State unit. Let us tell you that elections are going to be held in Himachal on 9th November. Even before the elections, the Congress is seen very weak. On one hand, allegations of corruption on CM Virbhadra Singh, on one hand, joining the BJP in large numbers after the Congress. It is pointing to big threat to Congress.

एक बार फिर मणिपुर चुनावों में बीजेपी की हुई बड़ी जीत, कांग्रेस में छाया मातम !

कांग्रेस पंजाब के गुरदासपुर संसदीय सीट जीतकर काफी खुश हो रही थी लेकिन उसके बाद कांग्रेस के खेमे में सिर्फ मायूसी ही आयी है | अभी पीछे ही मणिपुर ग्राम पंचायत चुनाव नतीजे 2017 में बीजेपी ने इतिहास रच दिया था,जहाँ बीजेपी का कोई बजूद नहीं था आज वहां बीजेपी ने वो कर दिखाया था जो कोई नही कर सका,ये लोगों का विस्वास है,और अब जिला परिषद चुनाव में बीजेपी ने अपना डंका बजाते हुए सबका सूपड़ा साफ़ कर दिया है और सभी 6 सीट पर जीत दर्ज की है |

Congress was happy to win the Gurdaspur parliamentary seat of Punjab, but after that there has been only disappointment in the Congress camp. Manipur gram panchayat election results back in 2017, when BJP had created history, where there was no development of BJP, today the BJP showed it that no one could do it, it is the people’s trust, and now in the Zilla Parishad elections The BJP has cleared all the slogans while playing its rug and won all six seats.

मणिपुर में पाचवें ग्राम पंचायत चुनाव के नतीजे 14 तारीख को आए थे इसी महीने में.बीजेपी की उन चुनावों में बहुत बड़ी जीत हुई थी लेकिन मीडिया में इस बात की चर्चा नहीं की थी | आपको बता दें इसी साल दो राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं | यही वजह है कि मीडिया इस खबर को टीवी पर नहीं दिखा रही है हाँ अगर बीजेपी हारती तो खबर जरूर आती | अब जैसे कि जिला परिषद चुनावों में भी बीजेपी ने सबका सूपड़ा साफ़ कर दिया है तो ये खबर भी मीडिया में नहीं आई है |

The results of the fifth Gram Panchayat elections in Manipur came on the 14th of this month. The BJP had won a lot in those elections, but this was not discussed in the media. Let us tell you that assembly elections are going to be held in two states this year. This is the reason why the media is not showing this news on TV, yes if the BJP loses, the news will definitely come. Now, even in the Zilla Parishad elections, BJP has cleared all the sums, then the news has not come in the media.

इसी महीने मणिपुर राज्‍य के छह जिलों में 60 जिला परिषद,सीट में से 40 सीट पर जीत हासिल करके इतिहास रचा था | एक समय था जब कांग्रेस बोलती थी की बीजेपी का कभी बजूद नहीं बना पाएगा इन राज्यों में लेकिन वहां की जनता ने दिखा दिया वो किसके साथ है | अभी हाल ही में मणिपुर में बीजेपी ने अपना पहला मुख्यमंत्री राज्य को दिया था और अब बीजेपी का अच्छा प्रदर्शन जारी है | खुद मणिपुर के मुख्यमंत्री ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी

In this month, 60 district councils in six districts of Manipur state had won history by winning 40 out of the seats. There was a time when the Congress used to say that the BJP will never be able to create a place in these states but the people there have shown who it is with. More recently, in Manipur, BJP gave its first Chief Minister to the state and now BJP is doing a good show. The Chief Minister of Manipur himself tweeted this information.

जिस तरह से बीजेपी की जीत पहले महारष्ट्र फिर गुजरात निकाय चुनावों में हुई और अब मणिपुर में ये जनता का साफ़ संदेश है कि उनका विस्वास आज भी बीजेपी है और मोदी जी पर है | नार्थ ईस्ट में बीजेपी की पकड अब धीरे-धीरे मजबूत होती जा रही है जो आने वाले लोकसभा चुनावों के नजरिये से शुभ संकेत है |

The way in which the BJP won the first elections in Gujarat and then in the Gujarat body elections and now there is a clear message of public that Manipur is still BJP and Modi is on the side. The BJP’s grip in the North East is gradually getting stronger, which is an auspicious sign from the perspective of the upcoming Lok Sabha elections.

गुजरात चुनावों से पहले यूपी से आई ये बड़ी खबर- हुए अहम खुलासे, कई बड़े नेता रडार पर !

आज देश में दुश्मन सिर्फ सीमा पार से ही नहीं घुस रहे हैं बल्कि हमारी पिछली सरकारों की मूर्खता की वजह से वे आराम से अलग-अलग राज्यों में मस्त रह भी रहे हैं और अपने आतंकवाद को फ़ैलाने की साज़िश में लगे हुए हैं | ऐसी ही बड़ी खबर इस वक़्त यूपी के मुरादाबाद से आई जिसे देख आप भी सोचेंगे कि पिछली सरकारें आखिर कर क्या रही थीं | खबर के मुताबिक यूपी एटीएस और आइबी की टीम को बड़ी कामयाबी मिली है और उन्होंने लश्कर के आतंकी और गोधरा कांड में आरोपी रह चुके फरहान अहमद अली को गिरफ्तार कर लिया है | उसके पास से ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड, पैन और पहचान पत्र भी बरामद हुआ है जो फर्जी पाए गए हैं |

Today the enemies are not just crossing the border in the country, but because of the stupidity of our previous governments, they have been comfortably comfortable in different states and are engaged in the conspiracy to spread terrorism. Such a big news came at Moradabad in UP at this time and you will also see what the previous governments were doing at the end. According to the news, the team of UP ATS and IB has achieved great success and they have arrested Farhan Ahmed Ali, a terrorist of the LeT and accused in the Godhra carnage. Driving license, Aadhar card, PAN and identity card have also been recovered from him, who have been found to be fake.

 

जानकारी के अनुसार फरहान फर्जी दस्तावेज के आधार पर ये यहां काफी लंबे वक़्त से छिपा हुआ था | इसके साथ इसका एक और साथी पकड़ा गया है और अब इन दोनों की अब रिमांड ली जा रही है | मुरादाबाद जनपद से लश्कर के सजायाफ्ता आतंकी और गोधरा कांड के आरोपी फरहान अहमद को गिरफ्तार किया गया है | फरहान अहमद जिले के मुगलपुरा थाना क्षेत्र में फर्जी दस्तावेज के साथ रह रहा था |आपको बता दें कि फरहान अहमद गोधरा कांड में आरोपी रह चुका है और उसे कोर्ट ने दोषी माना था | पोटा कानून के तहत दोषी साबित हुए फरहान अहमद को 2009 में जमानत मिली थी, जिसके बाद से वह मुरादाबाद में फर्जी दस्तावेज बनाकर रह रहा था | इतना ही नही आतंकी फरहान ने फर्जी पासपोर्ट बनाकर कुवैत की यात्रा भी 2016 में की थी और उसके पास से ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड, पैन और पहचान पत्र भी बरामद हुआ है जो फर्जी पाए गए हैं |

According to information, on the basis of Farhan fake document, it was hidden from the long time. With this one other fellow has been arrested and now the two are now seeking remand. Muradabad district’s accused convicted and Godhra accused Farhan Ahmed has been arrested. Farhan Ahmed was living with a fake document in the Mughalpura police station area of ​​the district, let him know that Farhan Ahmed has been accused in Godhra and he was convicted by the court. Farhan Ahmed, convicted under the POTA Act, was granted bail in 2009, after which he was living in Muradabad by making fake documents. Not only that, the terrorist Farhan has made a fake passport and traveled to Kuwait in 2016 and his driving license, Aadhar card, PAN and identity card have also been recovered, which have been found to be fake.

मूल रूप से सिद्धार्थनगर जनपद के रहने वाला फरहान अहमद मुरादाबाद में फरहान अहमद अली के नाम से रह रहा था और वह 2009 में मुरादाबाद आने के बाद कटघर और मुगलपुरा थाना क्षेत्र में किराये के मकान में रह रहा था | गोपनीय सूचना के बाद गुरुवार देर रात पुलिस ने आतंकी फरहान को गिरफ्तार कर लिया | फ़िलहाल एटीएस ओर आईबी की स्पेशल टीमें फरहान से पूछताछ कर रही हैं और फरहान अहमद के खिलाफ मुगलपुरा थाने में आईपीसी की कई धाराओं में मुकदमा भी दर्ज किया गया है |

Originally from Siddharthnagar district, Farhan Ahmed was staying in Moradabad after the name of Farhan Ahmed Ali and he was living in a rented house in Katghar and Mughalpura police station area after returning to Moradabad in 2009. After confidential information, the police arrested the terrorist Farhan on Thursday night. At present, ATS and IB special teams are interrogating Farhan and Farhan Ahmed has also filed a lawsuit against him in several sections of the IPC in the Mughalpura police station.

नोएडा एटीएस, आईबी और मुगलपुरा पुलिस ने मुरादाबाद से लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी फरहान अहमद को गुरुवार देर रात को अरेस्ट किया। उसके पास से फर्जी राशन कार्ड, पैन कार्ड भी बरामद हुए। आतंकी साजिश रचने के आरोप में दिल्ली हाईकोर्ट ने इसे बरी करते हुए विदेश जाने पर रोक लगाई थी। इसके बावजूद वह फर्जी पासपोर्ट पर कुवैत गया था | अब जांच एजेंसियां उससे पूछताछ कर रही हैं। ख़बरों के मुताबिक़ फरहान अहमद सिद्धार्थनगर का रहने वाला है और आरोप है कि वह लश्कर का एक्टिव मेंबर है। वह मुरादाबाद में रह रहा था। यहां उसने फरहान अहमद अली के नाम से फर्जी पासपोर्ट और राशनकार्ड भी बनवा लिया। फर्जी पासपोर्ट के आधार पर वह कुवैत भी हो आया। ऐसा कहा जाता है कि उसका परिवार कुवैत में रहता है।

Noida ATS, IB and Mughalpura police arrested the Lashkar-e-Taiba terrorist Farhan Ahmed on Thursday night from Moradabad. Fake ration cards, PAN cards were also recovered from him. On the charge of conspiring to plot a terror plot, the Delhi High Court banned it from going abroad. Despite this, he went to Kuwait on a fake passport. Now the investigating agencies are interrogating him. According to reports, Farhan Ahmed is a resident of Siddhartha Nagar and is alleged to be an active member of the LeT. He was living in Moradabad. Here he also made a fake passport and ration card in the name of Farhan Ahmed Ali. Based on the fake passport, he also came to Kuwait. It is said that his family lives in Kuwait.

2002 में गोधरा कांड के बाद फरहान कुवैत से अहमदाबाद बदला लेने के लिए आया था और करीब 15 दिन रहा। आरोप है कि इस दौरान वह अपने साथ लोगों को जोड़ना चाहता था। इंटेलिजेंस ब्यूरो को उसकी जानकारी मिली और इसकी भनक लगते ही वह दिल्ली भाग गया। इसके बाद दिल्ली की स्पेशल सेल ने निजामुद्दीन से अरेस्ट किया और उस वक़्त उसके पास से 4 किलो एक्सप्लोसिव, 2 डेटोनेटर, एक चाइनीज पिस्टल और 15 कारतूस बरामद हुए थे।

After the Godhra carnage in 2002, Farhana had come to Kuwait from Kuwait for revenge and he was about 15 days old. It is alleged that during this time he wanted to add people with him. The Intelligence Bureau got his information and he got away from Delhi as soon as he knew it. After this, Special Cell of Delhi arrested Nijamuddin and at that time 4 kg explosive, 2 detonators, one Chinese pistol and 15 cartridges were recovered from him.

2007 में दिल्ली हाईकोर्ट से उसको जमानत मिल गई। इसके बाद वह फर्जी पासपोर्ट पर कुवैत चला गया। वापस आया तो सुरक्षा एजेंसियों ने उसे फिर से अरेस्ट कर लिया। 2009 में वह जमानत पर छूटा और मुरादाबाद आ गया। आतंकी फरहान ने आरटीओ से अलग-अलग तारीखों में फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस बनवाया था। पहला लाइसेंस 18 अक्टूबर 2002 को बनवाया गया, जबकि मुरादाबाद से ही दूसरा लाइसेंस तीन फरवरी 2010 को जारी किया गया। दोनों लाइसेंस में नाम फरहान अहमद अली है, जबकि जन्म तारीख अलग-अलग थींं। ऐसा कहा जाता है कि आतंकी फरहान का पूरा परिवार कुवैत में रहता है और उसके परिवार में वाइफ शकीना, भाई कामरान, इमरान, उस्मान और मां आएशा खातून हैं।

In 2007, he got bail from the Delhi High Court. After this he went to Kuwait on a fake passport. When he came back, the security agencies again arrested him. In 2009, he was released on bail and returned to Moradabad. Terrorist Farhan had made a fake driving license from RTO on different dates. The first license was made on 18th October 2002, while the second license from Moradabad was released on 3 February 2010. Both licenses are named Farhan Ahmed Ali, whereas the date of birth was different. It is said that the whole family of the terrorist Farhan lives in Kuwait and his family is Wife Shakina, Bhai Kamran, Imran, Usman and Maaishha Khatoon.

वहीँ इस मामले पर मुरादाबाद के एसएसपी प्रीतिंदर सिंह ने कहा कि ”पोटा के मामले में सजायाफ्ता फरहान को फर्जी पासपोर्ट के मामले में अरेस्ट किया गया है। इसके अलावा दिल्ली और अहमदाबाद से भी उसका आपराधिक रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है और सुरक्षा एजेंसियां उससे पूछताछ कर रही हैं।” एबीपी न्यूज़ की जानकारी के मुताबिक पुलिस को पड़ताल में चला चला कि फरहान ने अहमदाबाद के रहने वाले शाहिद अहमद के साथ कुवैत में आरएसएस, विहिप और बजरंग दल के बड़े नेताओं के कत्ल की साजिश रची थी | ये दोनों दिल्ली में हथियारों के साथ पकड़े गए थे और पोटा के तहत इन लोगों को सजा भी सुनाई गई थी | 2002 में गोधरा कांड के बाद फरहान कुवैत से गुजरात के अहमदाबाद बदला लेने के लिए आया था और करीब 15 दिन रहा | उसके पास से चार किलो विस्फोटक, 2 डेटोनेटर, एक चाइनीज पिस्टल और 15 कारतूस बरामद हुए थे |

On this case Moradabad SSP Preetinder Singh said that the convicted Farhan has been arrested in the case of “POTA” in connection with a fake passport case. Apart from this, his criminal records are being investigated from Delhi and Ahmedabad and security agencies are interrogating him. “According to the information of ABP News, the police went into the investigation that Farhan had accompanied Shahid Ahmed, a resident of Ahmedabad, in the RSS , Conspiracy to kill the big leaders of the VHP and Bajrang Dal. Both of them were caught with arms in Delhi and under the POTA these people were also sentenced. After the Godhra carnage in 2002, Farhan came to Kuwait from Gujarat to take revenge on Ahmedabad and had spent about 15 days. Four kilos of explosives, 2 detonators, a Chinese pistol and 15 cartridges were recovered from him.

आगे की और कड़ी पूछताछ में खुलासा हुआ कि उसे कुवैत से मोटा पैसा मिल रहा था | यहाँ फरहान स्थानीय मदद और लोगों की वजह से छिपता फिर रहा था | अब इसके और कितने साथी हैं और इनकी योजना क्या थी, ये सब पूछताछ में निकाला जा रहा है | अब सवाल ये कि जहाँ आम आदमी अपना आधार कार्ड बनवाने के लिए जूझ रहा है, वहां इन लश्कर आतंकियों के आधार कार्ड बने हुए हैं | अखिलेश सरकार आख़िरकार कर क्या रही थी, जो अब आतंकवादी पकड़े जा रहे हैं |

Further inquiries revealed that he was getting huge money from Kuwait. Here Farhan was hiding due to local help and people. Now how many more are his partners and what their plan was, all this is being put into question. Now the question is, where the common man is struggling to make a base card, the base cards of these LeT terrorists are made up there. The Akhilesh government was finally doing what, now the terrorists are being caught.

कांग्रेस सरकार ने आधार कार्ड व्यवस्था को ऐसे लागू किया कि आधार कार्ड पर कुत्ते बिल्लियों की फोटो छपने लगी थी और न जाने कितने लाखों आधार कार्ड फर्जी बनाये गए जिन्हे बाद में जलाया गया | हमें जाबांज आईबी और एटीएस के अधिकारीयों पर गर्व होना चाहिए कि वो देश में अंदर बैठे हुए आतंकवादियों को ढूंढ कर गिरफ़्तार कर रही है | इसके साथ ही सवाल उठता है उन दलालों पर जो सरकार में बैठकर लोगों के फ़र्ज़ी पहचान पत्र, आधारकार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस बनवाते हैं | इन जैसे दलालों का फायदा ये आतंकवादी उठाते हैं और फर्जी दस्तावेज बनाकर अपने नापाक मंसूबे पूरे करने कि साज़िश रचते रहते हैं |

The Congress government implemented such Aadhar card system that the photo of dog cats was being printed on the Aadhar card and not knowing how many millions of Aadhar cards were made fake, which was later burnt. We should be proud of the officials of Jabanj IB and ATS that they are apprehending and arresting the terrorists sitting inside the country. Along with this, the question arises on those brokers who sit in government and make fake identity card, Aadhar card, driving license of the people. These terrorists take advantage of these brokers and make a fake document and plot to fulfill their nefarious plans.

यह भी देखे:

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM&t=7s

VIDEO: सोचिये क्या होगा भारत का अगर नरेंद्र मोदी 2019 के आम चुनाव में हार जाएँ ?

मोदी ‘भाखत’ शायद शीर्षक को पढ़ने के बाद जहर उगलने लगेगा। कुछ अंधे अनुयायियों का आह्वान हो सकता है कि भारत 18 घंटे तक काम करने वाले प्रधान मंत्री को खोने का जोखिम नहीं उठा सकता। लेकिन 201 9 के चुनावों में अगर नरेंद्र मोदी पराजित हो जाएंगे तो भारत निश्चित रूप से लाभ उठाएगा ।

Modi ‘Bhakhat’ probably will start to spit poison after reading the title. Some blind followers can be called upon to say that India can not afford to lose the Prime Minister who works for 18 hours. But if Narendra Modi is defeated in the 2019 elections, then India will surely benefit.

नम्र और ईमानदार विपक्षी पार्टी नेताओं ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने प्रभावी विपणन नीति तैयार करके 2014 के चुनावों में जीत हासिल की, तो हम इस पर सहमत हो जाएं। राहुल गांधी और केजरीवाल जैसे ईमानदार विपक्षी नेताओं ने कहा कि मोदी लहर गायब हो गई है, लेकिन मोदी की भाजपा एक दूसरे के बाद एक चुनाव जीत रही है, फिर भी हम इन विपक्षी नेताओं से सहमत हैं।

Modest and honest Opposition party leaders said that if Narendra Modi won the 2014 elections by formulating an effective marketing policy, then we would agree on it. Honest opposition leaders like Rahul Gandhi and Kejriwal said that Modi wave has vanished, but Modi’s BJP is winning one election after each other, yet we agree with these opposition leaders.

विपक्षी पार्टी के नेताओं ने इटली, आतंकवादी समर्थक और नक्सली समर्थक के साथ संबंधों का अनुमान लगाया है कि 201 9 के लोकसभा चुनावों में मोदी को एक विनाशकारी हार का सामना करना होगा। तो क्या आप जानते हैं कि क्या उनकी कल्पनाएं सच हो जाएंगी? ठीक है, यहां लाभों की एक सूची दी गई है, जो भारत नरेंद्र मोदी को हराया जाता है या नहीं।

Opposition party leaders have speculated that relations with Italy, terrorist supporters and Naxalite supporters will have to face a devastating defeat in the 2019 Lok Sabha elections. So do you know if their fantasy will come true? Okay, here is a list of benefits that India or Narendra Modi is defeated or not.

1. भारत अचानक सहिष्णु राष्ट्र बन जाएगा। जिन भारतीयों ने धन और स्थिति के लालच के लिए ‘असहिलता’ शब्द को प्रेरित किया, वे भारत में मिले सहिष्णुता की प्रशंसा करना शुरू कर देंगे।

1. India will become a suddenly tolerant nation. The Indians who inspired the word ‘non-violence’ for the greed of money and position, they will start praising the tolerance found in India.

2.GST धीरे धीरे हटा दिया जाएगा; भविष्य के सुधारों में कोई दूरदृष्टि नहीं होगी और निश्चित रूप से एक महान अवसाद के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था को धक्का देगी।

2.GST will be removed gradually; There will be no vision in future reforms and will definitely push the Indian economy for a great depression.

3. शब्द ‘घोटाले’ धीरे-धीरे भारतीय रक्षा खरीद में घुस जाएगा क्योंकि आयोग को इटली के माफिया डॉन और कई अन्य राष्ट्रों में वापस कर दिया जाएगा। सेना को फिर से कम गुणवत्ता वाले हथियारों और गोला-बारूद के साथ समायोजित करना होगा।

3. The word ‘scandal’ will gradually enter Indian defense procurement because the commission will be returned to Italy’s Mafia don and many other nations. The army will again have to adjust with low quality weapons and ammunition.

4. अमीर और शाहरुख खान भारत में ही रहना पसंद करेंगे। धर्मनिरपेक्षता भारत के सभी राज्यों में पाई जाएगी और यहां तक कि भारत से ‘हनन’ भी गायब हो जाएगा।

4. Amir and Shah Rukh Khan would prefer to stay in India. Secularism will be found in all the states of India and even ‘abasement’ from India will also disappear.

5. प्रतिष्ठित सरकारी पदों को हत्या, बलात्कारियों और गिरोहियों को सौंप दिया जाएगा।

5. The prestigious government posts will be handed over to the murderers, rapists and gangsters.

6. कश्मीर के स्टोन पेल्टर और गुमराह युवा धीरे-धीरे शांति प्रेमियों बन जाएगा। सेपरेटिस्ट्स छाल लेंगे कि कश्मीरी एक स्वर्ग है और वे “आजाद कश्मीर” नहीं चाहते हैं

6. Stone Palter of Kashmir and misguided youth will gradually become peace lovers. Separatists will bark that Kashmiri is a paradise and they do not want “Azad Kashmir”

7. पाकिस्तान को भारत सरकार में एक आकर्षक स्थान मिलेगा क्योंकि लोकसभा चुनावों में मोदी को हराने के लिए मनु शंकर अय्यर की मदद की गई थी।

7. Pakistan will find an attractive place in the Indian government because Manu Shankar Aiyar was helped to defeat Modi in the Lok Sabha elections.

8. लव जिहाद, गाय तस्करी और तीन तलेक वैध होंगे। सरकार उन प्रतिष्ठित सामाजिक सुधारों को पूरा करने वाले युवाओं को अनुदान भी दे सकती है।

8. Love jihad, cow smuggling and three tricks can be valid. The government can also grant grants to those young people who fulfill these prestigious social reforms.

9.अगैन, धर्मनिरपेक्ष ओवैसी भाइयों को सिर्फ 15 मिनट में 100 करोड़ हिंदुओं को खत्म करने के लिए आत्मविश्वास हासिल हो सकता है।

9. Againe, secular Owais brothers may get confidence to eliminate 100 million Hindus in just 15 minutes.

10.ममता बनर्जी स्वर्ग को प्राप्त करेंगे क्योंकि वे पश्चिम बंगाल को बांग्लादेशी आप्रवासियों को सौंप देंगे। पश्चिम बंगाल में शांति बहाल करने के बाद शीघ्र ही बहाल हो जाएंगे।

10.Mamata Banerjee will get Paradise because she will hand over West Bengal to Bangladeshi immigrants. Restoring peace in West Bengal will be restored shortly.

11. एक महान कॉमेडियन ए.के.ए. युवा आइकन भारत का प्रधान मंत्री बन जाएगा। पाकिस्तान के प्रधान मंत्री को फिर से भारतीय प्रधान मंत्री को ‘गांव की महिला’ कहने की हिम्मत मिल जाएगी।

11. A great comedian A.K.A. The youth icon will become the Prime Minister of India. The Prime Minister of Pakistan will again get the courage to call the Indian Prime Minister a ‘village lady’.

12. सरकार द्वारा उद्यमियों को प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके परिणामस्वरूप, श्री रॉबर्ट वाड्रा औपचारिक रूप से हरियाणा राज्य को उनके फार्म हाउस में बदल सकते हैं।

12. The entrepreneurs will be encouraged by the government. As a result, Mr. Robert Vadra can formally convert the Haryana State into his farmhouse.

13. मोदी ने भारत में किसी भी घोटाले की अनुमति नहीं देकर भारतीयों को धोखा दिया था। इसलिए भारत आजादी के बाद शुरुआती दशकों की तरह एक और घोटाले के बाद एक साक्षी के लिए धन्य होगा। कोयला घोटाले के नायकों, 2 जी स्पेक्ट्रम घोटाले, बोफोर्स घोटाले फिर से अपने कौशल का प्रदर्शन करेंगे।

13. Modi had cheated Indians by not allowing any scandal in India. Therefore, India will be blessed for one witness after the other decades after independence, like the first decades after Independence. Coal scam heroes, 2G spectrum scam, Bofors scam will showcase their skills again.

14. सरकार पुरस्कारों को “पुरस्कार वाप्सी” गिरोह को वापस लौटा देगी और माफी मांगेगी। इसके अलावा, इन्हें भी विश्व स्तर पर भारत की छवि को खराब करने में उनके योगदान के लिए पद्म पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा।

14. The Government will award rewards to the “Prize Wages” gang and will apologize. Apart from this, they will also be honored with the Padma Awards for their contribution in destroying the image of India globally.

15. सरकार की परियोजनाओं का नाम फिर से गांधी परिवार के नाम पर रखा जाएगा। शायद, यहां तक कि सरकारी शौचालयों को यह विशेष सम्मान मिलेगा

15. The government’s projects will be renamed after the Gandhi family. Perhaps, even government toilets will get this special honor

16.मीडिया फिर से एक सुनहरा पैच के माध्यम से चलेगा क्योंकि वे कभी भी टूटने से बाहर नहीं होंगे & amp; सनसनीखेज खबर है कि भारत में घोटालों को नियमित रूप से किया जाएगा

16. The media will again run through a golden patch because they will never break out & amp; The sensational news is that scams in India will be done regularly

17. मोदी मोदी एक बार फिर गुजरात के मुख्यमंत्री बन सकते हैं क्योंकि उस राज्य के लोग जानते हैं कि केवल मोदी उन्हें विकास दे सकते हैं।

17. Modi Modi can once again become Chief Minister of Gujarat because people of that state know that only Modi can give them development.

18. ‘स्किल इंडिया’ को ‘स्कैम इंडिया’ में बदल दिया जाएगा, क्योंकि मंत्रियों ने घोटाले को पूरा करने और भारत के आम लोगों को लूटने की योजना बनाई है।

18. ‘Skil India’ will be changed to ‘Scam India’, because the ministers have planned to complete the scam and loot the common people of India.

19. आतंकवादी हमलों के दौरान, भारतीय सेना को सरकार से अनुमति देने के लिए 5 दिनों तक इंतजार करना होगा। वास्तव में, यह आतंकवादियों के लिए “अच्छे दिन” होगा

19. During the terrorist attacks, the Indian army will have to wait for 5 days to allow the government. In fact, it will be a “good day” for the terrorists

20. मीडिया 15 साल तक मोदी को सताते हुए थक चुके थे, जबकि वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे। इसलिए ध्यान मुख्यमंत्री श्री योगी की ओर बढ़ेगा जो कि मोदी के रूप में सांप्रदायिक है।

20. Media was tired of harassing Modi for 15 years, while he was the Chief Minister of Gujarat. Therefore meditation will move towards the Chief Minister Shri Yogi, who is communal in the form of Modi.

21. इंदिरा और राजीव गांधी के नाम मुख्यधारा की राजनीति में आएंगे क्योंकि सभी नए परियोजनाओं का नाम उनके नाम पर रखा जाएगा।

21. Indira and Rajiv Gandhi’s names will come in mainstream politics because all new projects will be named after them.

22. उत्तर पूर्वी राज्यों को पूरी तरह से केंद्र सरकार द्वारा त्याग दिया जाएगा जो निश्चित रूप से चीनी को इन राज्यों पर अपनी पकड़ को कसने में मदद करेगा।

22. North Eastern states will be completely abandoned by the Central Government, which will definitely help the Chinese to tighten their hold on these states.

23. अरविंद केजरीवाल को भारत में “स्वच्छ राजनीति का संत” घोषित किया जाएगा।

23. Arvind Kejriwal will be declared a “saint of clean politics” in India.

24. प्राकृतिक संसाधनों पर पहला अधिकार मुसलमानों को दिया जाएगा क्योंकि यह श्री मनमोहन सिंह का सपना था।

24. The first rights on natural resources will be given to the Muslims as it was the dream of Mr. Manmohan Singh.

25. अब तक, लोगों ने महसूस किया होगा कि उन्होंने मोदी को हराने के द्वारा एक बड़ी गलती की है। लेकिन वे असहाय होंगे क्योंकि भारत दुर्घटना की स्थिति की ओर बढ़ रहा होगा।

25. So far, people have realized that they have made a big mistake by defeating Modi. But they will be helpless because India will be moving towards the situation of the accident.

26. लालू प्रसाद यादव, शशिकला, अरविंद केजरीवाल, रॉबर्ट वाड्रा, जगन मोहन रेड्डी, डीके शिवकम

26. Lalu Prasad Yadav, Shashikala, Arvind Kejriwal, Robert Vadra, Jagan Mohan Reddy, DK Shivakumar

27.और श्री नरेंद्र मोदी …..

27. And Mr. Narendra Modi …..

मोदी की उम्मीद के मुताबिक, समाज के उपेक्षित वर्गों के उत्थान के लिए अपने सभी पेंशन धन दान करेंगे। वह अपने दैनिक दिन के खर्चों का प्रबंधन करने के लिए चाय भी बेच सकते हैं। धीरे-धीरे वह राष्ट्र की स्थिति को देखकर पछतावा भी शुरू करेगा। यह देशभक्त अपने अंतिम सांस तक “वंदे मातरम्” नारा का गीत गाता है।

According to Modi’s hopes, donate all their pension funds for the upliftment of the neglected sections of society. He can also sell tea to manage his day-to-day expenses. Gradually he will also start regretting the situation of the nation. This patriot sings the song “Vande Mataram” slogan till his last breath.

“देश को जो कुछ भी हो, जो कोई भी भारत पर शासन करे, यह मेरे लिए कोई फर्क नहीं पड़ता”, अगर यह लिखना पढ़ने के बाद भी यह तुम्हारा दिमाग है, तो मुझे अपनी मूर्खता को सलाम करना चाहिए।

Whatever the country, whoever rules India, it does not make any difference to me “, even if it is your mind after reading this writing, then I should salute my stupidity.

आपका एक वोट परमाणु बमों की तुलना में अधिक शक्तिशाली है जो हिरोशिमा और नागासाकी पर गिरा दिया गया था। इसलिए इसे चालाकी से उपयोग करें और सही उम्मीदवार (मोदी) को चुनें। आतंकवादियों को भारतीय सैनिकों के खून में होली खेलने के लिए न दें, बल्कि मोदी को वोट दें ताकि भारतीय सेना पाकिस्तानी आतंकवादियों के शरीर को अलग करे।

One of your votes is more powerful than atomic bombs that were dropped on Hiroshima and Nagasaki. So use it smartly and choose the right candidate (Modi). Do not let the terrorists play Holi in the blood of Indian soldiers, but vote for Modi so that the Indian army separates the body of Pakistani terrorists.

यदि भारत प्रगति के रास्ते में यात्रा करना चाहता है, तो उसके पास 201 9 के लोकसभा चुनावों में प्रधान मंत्री मोदी को गले लगाने की कोई अन्य विकल्प नहीं है।

If India wants to travel in progress, then she has no other option to embrace Prime Minister Modi in the 2019 Lok Sabha elections.

देखें ये विडियो :

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM&t=1s