इस सबसे बड़े वकील ने राम मंदिर और हिंदुत्व पर दे डाला ऐसा बयान, जनेऊधारी समेत पूरा कांग्रेस सन्न

नई दिल्ली: देश के मशहूर वकीलों में से एक राम जेठमलानी का जन्म 14 सितम्बर 1923 को सिंध प्रान्त में हुआ था, जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है! जेठमलानी बचपन से ही पढ़ने में काफी तेज थे और उन्होंने 21 वर्ष के आयु में ही लॉ की डिग्री हासिल कर ली थी! उन्होंने अपनी वकालत पकिस्तान में शुरू की थी, लेकिन पकिस्तान के कराची में जब 1948 में दंगे भड़के तो उन्होंने पाकिस्तान छोड़ने का निर्णय लिया और अपने दोस्त के साथ भारत आ गए! फिर 1948 से लेकर अब तक भारत में वकालत कर रहे है!

New Delhi: One of the country’s famous lawyers Ram Jethmalani was born on September 14, 1923 in Sindh province, now a part of Pakistan! Jethmalani was very quick to read from his childhood and he had attained the degree of law at the age of 21! He started his advocacy in Pakistan, but in Karachi in Pakistan when the riots broke out in 1948, he decided to leave Pakistan and came to India with his friend! Then from 1948 till now, advocating in India!

जेठमलानी 1959 में भारत के मुख्य नयाधिश के तौर पर नयुक्त किये गए! जेठमलानी का विवादों से भी खूब नाता रहा है! खबरों के मुताबिक 1960 में उन्होंने तस्करो के बचाव करने के लिए केस लड़ा और विवादों में घिर गए, जिसके बाद उन्होंने सफाई दी की उन्होंने वकील होने के नाते सिर्फ अपना फर्ज अदा किया है!

Jethmalani was appointed as Chief Election Commissioner of India in 1959! Jethmalani is also playing a lot with controversy! According to reports, in 1960, he fought the case to defend the smugglers and got entangled in the disputes, after which he clarified that he has just paid his duty as a lawyer!

राम जेठमलानी कांग्रेस की और से चुनाव लड़कर सांसद भी बने! वो राजयसभा सांसद भी रह चुके है और अटल बिहारी बाजपाई सरकार में मंत्री भी बन चुके है! फिर 2004 में राम जेठमलानी ने लखनऊ से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपाई के खिलाफ चुनाव लड़ा और हार गए! रामजेठमलानी अपनी वयानो के वजह से भी सुर्खियों में रहते है और अपनी हरकतों के वजह से भी! देखिये एक ऐसा ही वीडियो!

Ram Jethmalani also became MP from the Congress and contested from the elections! He has also been a Rajya Sabha MP and has also become a minister in the AB Bajpai government! Then in 2004, Ram Jethmalani contested against Lucknow and former Prime Minister Atal Bihari Bajpai and lost. Ramjethmalani also lives in the limelight because of his age and also because of his objections! See one such video!

राम जेठमलानी ने सलमान से लेकर अम्बानी तक के केस लडे है, और कहा जाता है की वो देश के सबसे महंगे वकीलों में से एक है, वो फ़ीस के तौर पर बहुत बड़ी रकम लेते है!

Ram Jethmalani has fought cases ranging from Salman to Ambani, and it is said that he is one of the most expensive lawyers in the country, he takes huge amount as a fee!

राम जेठ मलानी की गिनती हमेशा से सबसे महंगे वकीलों में होती रही है, लेकिन राम जेठ मालानी का इंडिया टीवी के कार्यक्रम आप की अदालत में राम मंदिर और हिंदुत्व पर कही गयी ये बाते सात प्रतिशत सही है, उन्होंने कांग्रेस को जिमेवार ठहराते हुए कहा की कांग्रेस ने देश की जनता को हिन्दू मुस्लिम में अपने फायदे के लिए बाँट रखा है! उन्होंने आगे कहा की अगर मेरे ऊपर राम मंदिर का मुद्दा छोड़ दिया जाता तो मै मुस्लिमो को ऐसा समझाता की वो खुद मंदिर बनाने के लिए इट रख रहे होते!

Ram Jeth Malani has always been counted among the most expensive lawyers, but Ram Jeth Malani’s programs in India TV show Ram Temple and Hindutva in the court of the seven percent is correct, he said, keeping the Congress responsible. Congress has divided the people of the country to their advantage in Hindu Muslims! He further said that if the issue of Ram temple was left to me, then I would explain to Muslims that they were keeping it at the temple for themselves!

देखिये राम जेठमलानी का ये वीडियो :

नई दिल्ली: देश के मशहूर वकीलों में से एक राम जेठमलानी का जन्म 14 सितम्बर 1923 को सिंध प्रान्त में हुआ था, जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है! जेठमलानी बचपन से ही पढ़ने में काफी तेज थे और उन्होंने 21 वर्ष के आयु में ही लॉ की डिग्री हासिल कर ली थी! उन्होंने अपनी वकालत पकिस्तान में शुरू की थी, लेकिन पकिस्तान के कराची में जब 1948 में दंगे भड़के तो उन्होंने पाकिस्तान छोड़ने का निर्णय लिया और अपने दोस्त के साथ भारत आ गए! फिर 1948 से लेकर अब तक भारत में वकालत कर रहे है!

New Delhi: One of the country’s famous lawyers Ram Jethmalani was born on September 14, 1923 in Sindh province, now a part of Pakistan! Jethmalani was very quick to read from his childhood and he had attained the degree of law at the age of 21! He started his advocacy in Pakistan, but in Karachi in Pakistan when the riots broke out in 1948, he decided to leave Pakistan and came to India with his friend! Then from 1948 till now, advocating in India!

जेठमलानी 1959 में भारत के मुख्य नयाधिश के तौर पर नयुक्त किये गए! जेठमलानी का विवादों से भी खूब नाता रहा है! खबरों के मुताबिक 1960 में उन्होंने तस्करो के बचाव करने के लिए केस लड़ा और विवादों में घिर गए, जिसके बाद उन्होंने सफाई दी की उन्होंने वकील होने के नाते सिर्फ अपना फर्ज अदा किया है!

Jethmalani was appointed as Chief Election Commissioner of India in 1959! Jethmalani is also playing a lot with controversy! According to reports, in 1960, he fought the case to defend the smugglers and got entangled in the disputes, after which he clarified that he has just paid his duty as a lawyer!

राम जेठमलानी कांग्रेस की और से चुनाव लड़कर सांसद भी बने! वो राजयसभा सांसद भी रह चुके है और अटल बिहारी बाजपाई सरकार में मंत्री भी बन चुके है! फिर 2004 में राम जेठमलानी ने लखनऊ से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपाई के खिलाफ चुनाव लड़ा और हार गए! रामजेठमलानी अपनी वयानो के वजह से भी सुर्खियों में रहते है और अपनी हरकतों के वजह से भी! देखिये एक ऐसा ही वीडियो!

Ram Jethmalani also became MP from the Congress and contested from the elections! He has also been a Rajya Sabha MP and has also become a minister in the AB Bajpai government! Then in 2004, Ram Jethmalani contested against Lucknow and former Prime Minister Atal Bihari Bajpai and lost. Ramjethmalani also lives in the limelight because of his age and also because of his objections! See one such video!

राम जेठमलानी ने सलमान से लेकर अम्बानी तक के केस लडे है, और कहा जाता है की वो देश के सबसे महंगे वकीलों में से एक है, वो फ़ीस के तौर पर बहुत बड़ी रकम लेते है!

Ram Jethmalani has fought cases ranging from Salman to Ambani, and it is said that he is one of the most expensive lawyers in the country, he takes huge amount as a fee!

राम जेठ मलानी की गिनती हमेशा से सबसे महंगे वकीलों में होती रही है, लेकिन राम जेठ मालानी का इंडिया टीवी के कार्यक्रम आप की अदालत में राम मंदिर और हिंदुत्व पर कही गयी ये बाते सात प्रतिशत सही है, उन्होंने कांग्रेस को जिमेवार ठहराते हुए कहा की कांग्रेस ने देश की जनता को हिन्दू मुस्लिम में अपने फायदे के लिए बाँट रखा है! उन्होंने आगे कहा की अगर मेरे ऊपर राम मंदिर का मुद्दा छोड़ दिया जाता तो मै मुस्लिमो को ऐसा समझाता की वो खुद मंदिर बनाने के लिए इट रख रहे होते!

Ram Jeth Malani has always been counted among the most expensive lawyers, but Ram Jeth Malani’s programs in India TV show Ram Temple and Hindutva in the court of the seven percent is correct, he said, keeping the Congress responsible. Congress has divided the people of the country to their advantage in Hindu Muslims! He further said that if the issue of Ram temple was left to me, then I would explain to Muslims that they were keeping it at the temple for themselves!

देखिये राम जेठमलानी का ये वीडियो :

नई दिल्ली: देश के मशहूर वकीलों में से एक राम जेठमलानी का जन्म 14 सितम्बर 1923 को सिंध प्रान्त में हुआ था, जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है! जेठमलानी बचपन से ही पढ़ने में काफी तेज थे और उन्होंने 21 वर्ष के आयु में ही लॉ की डिग्री हासिल कर ली थी! उन्होंने अपनी वकालत पकिस्तान में शुरू की थी, लेकिन पकिस्तान के कराची में जब 1948 में दंगे भड़के तो उन्होंने पाकिस्तान छोड़ने का निर्णय लिया और अपने दोस्त के साथ भारत आ गए! फिर 1948 से लेकर अब तक भारत में वकालत कर रहे है!

New Delhi: One of the country’s famous lawyers Ram Jethmalani was born on September 14, 1923 in Sindh province, now a part of Pakistan! Jethmalani was very quick to read from his childhood and he had attained the degree of law at the age of 21! He started his advocacy in Pakistan, but in Karachi in Pakistan when the riots broke out in 1948, he decided to leave Pakistan and came to India with his friend! Then from 1948 till now, advocating in India!

जेठमलानी 1959 में भारत के मुख्य नयाधिश के तौर पर नयुक्त किये गए! जेठमलानी का विवादों से भी खूब नाता रहा है! खबरों के मुताबिक 1960 में उन्होंने तस्करो के बचाव करने के लिए केस लड़ा और विवादों में घिर गए, जिसके बाद उन्होंने सफाई दी की उन्होंने वकील होने के नाते सिर्फ अपना फर्ज अदा किया है!

Jethmalani was appointed as Chief Election Commissioner of India in 1959! Jethmalani is also playing a lot with controversy! According to reports, in 1960, he fought the case to defend the smugglers and got entangled in the disputes, after which he clarified that he has just paid his duty as a lawyer!

राम जेठमलानी कांग्रेस की और से चुनाव लड़कर सांसद भी बने! वो राजयसभा सांसद भी रह चुके है और अटल बिहारी बाजपाई सरकार में मंत्री भी बन चुके है! फिर 2004 में राम जेठमलानी ने लखनऊ से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपाई के खिलाफ चुनाव लड़ा और हार गए! रामजेठमलानी अपनी वयानो के वजह से भी सुर्खियों में रहते है और अपनी हरकतों के वजह से भी! देखिये एक ऐसा ही वीडियो!

Ram Jethmalani also became MP from the Congress and contested from the elections! He has also been a Rajya Sabha MP and has also become a minister in the AB Bajpai government! Then in 2004, Ram Jethmalani contested against Lucknow and former Prime Minister Atal Bihari Bajpai and lost. Ramjethmalani also lives in the limelight because of his age and also because of his objections! See one such video!

राम जेठमलानी ने सलमान से लेकर अम्बानी तक के केस लडे है, और कहा जाता है की वो देश के सबसे महंगे वकीलों में से एक है, वो फ़ीस के तौर पर बहुत बड़ी रकम लेते है!

Ram Jethmalani has fought cases ranging from Salman to Ambani, and it is said that he is one of the most expensive lawyers in the country, he takes huge amount as a fee!

राम जेठ मलानी की गिनती हमेशा से सबसे महंगे वकीलों में होती रही है, लेकिन राम जेठ मालानी का इंडिया टीवी के कार्यक्रम आप की अदालत में राम मंदिर और हिंदुत्व पर कही गयी ये बाते सात प्रतिशत सही है, उन्होंने कांग्रेस को जिमेवार ठहराते हुए कहा की कांग्रेस ने देश की जनता को हिन्दू मुस्लिम में अपने फायदे के लिए बाँट रखा है! उन्होंने आगे कहा की अगर मेरे ऊपर राम मंदिर का मुद्दा छोड़ दिया जाता तो मै मुस्लिमो को ऐसा समझाता की वो खुद मंदिर बनाने के लिए इट रख रहे होते!

Ram Jeth Malani has always been counted among the most expensive lawyers, but Ram Jeth Malani’s programs in India TV show Ram Temple and Hindutva in the court of the seven percent is correct, he said, keeping the Congress responsible. Congress has divided the people of the country to their advantage in Hindu Muslims! He further said that if the issue of Ram temple was left to me, then I would explain to Muslims that they were keeping it at the temple for themselves!

देखिये राम जेठमलानी का ये वीडियो :

नई दिल्ली: देश के मशहूर वकीलों में से एक राम जेठमलानी का जन्म 14 सितम्बर 1923 को सिंध प्रान्त में हुआ था, जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है! जेठमलानी बचपन से ही पढ़ने में काफी तेज थे और उन्होंने 21 वर्ष के आयु में ही लॉ की डिग्री हासिल कर ली थी! उन्होंने अपनी वकालत पकिस्तान में शुरू की थी, लेकिन पकिस्तान के कराची में जब 1948 में दंगे भड़के तो उन्होंने पाकिस्तान छोड़ने का निर्णय लिया और अपने दोस्त के साथ भारत आ गए! फिर 1948 से लेकर अब तक भारत में वकालत कर रहे है!

New Delhi: One of the country’s famous lawyers Ram Jethmalani was born on September 14, 1923 in Sindh province, now a part of Pakistan! Jethmalani was very quick to read from his childhood and he had attained the degree of law at the age of 21! He started his advocacy in Pakistan, but in Karachi in Pakistan when the riots broke out in 1948, he decided to leave Pakistan and came to India with his friend! Then from 1948 till now, advocating in India!

जेठमलानी 1959 में भारत के मुख्य नयाधिश के तौर पर नयुक्त किये गए! जेठमलानी का विवादों से भी खूब नाता रहा है! खबरों के मुताबिक 1960 में उन्होंने तस्करो के बचाव करने के लिए केस लड़ा और विवादों में घिर गए, जिसके बाद उन्होंने सफाई दी की उन्होंने वकील होने के नाते सिर्फ अपना फर्ज अदा किया है!

Jethmalani was appointed as Chief Election Commissioner of India in 1959! Jethmalani is also playing a lot with controversy! According to reports, in 1960, he fought the case to defend the smugglers and got entangled in the disputes, after which he clarified that he has just paid his duty as a lawyer!

राम जेठमलानी कांग्रेस की और से चुनाव लड़कर सांसद भी बने! वो राजयसभा सांसद भी रह चुके है और अटल बिहारी बाजपाई सरकार में मंत्री भी बन चुके है! फिर 2004 में राम जेठमलानी ने लखनऊ से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपाई के खिलाफ चुनाव लड़ा और हार गए! रामजेठमलानी अपनी वयानो के वजह से भी सुर्खियों में रहते है और अपनी हरकतों के वजह से भी! देखिये एक ऐसा ही वीडियो!

Ram Jethmalani also became MP from the Congress and contested from the elections! He has also been a Rajya Sabha MP and has also become a minister in the AB Bajpai government! Then in 2004, Ram Jethmalani contested against Lucknow and former Prime Minister Atal Bihari Bajpai and lost. Ramjethmalani also lives in the limelight because of his age and also because of his objections! See one such video!

राम जेठमलानी ने सलमान से लेकर अम्बानी तक के केस लडे है, और कहा जाता है की वो देश के सबसे महंगे वकीलों में से एक है, वो फ़ीस के तौर पर बहुत बड़ी रकम लेते है!

Ram Jethmalani has fought cases ranging from Salman to Ambani, and it is said that he is one of the most expensive lawyers in the country, he takes huge amount as a fee!

राम जेठ मलानी की गिनती हमेशा से सबसे महंगे वकीलों में होती रही है, लेकिन राम जेठ मालानी का इंडिया टीवी के कार्यक्रम आप की अदालत में राम मंदिर और हिंदुत्व पर कही गयी ये बाते सात प्रतिशत सही है, उन्होंने कांग्रेस को जिमेवार ठहराते हुए कहा की कांग्रेस ने देश की जनता को हिन्दू मुस्लिम में अपने फायदे के लिए बाँट रखा है! उन्होंने आगे कहा की अगर मेरे ऊपर राम मंदिर का मुद्दा छोड़ दिया जाता तो मै मुस्लिमो को ऐसा समझाता की वो खुद मंदिर बनाने के लिए इट रख रहे होते!

Ram Jeth Malani has always been counted among the most expensive lawyers, but Ram Jeth Malani’s programs in India TV show Ram Temple and Hindutva in the court of the seven percent is correct, he said, keeping the Congress responsible. Congress has divided the people of the country to their advantage in Hindu Muslims! He further said that if the issue of Ram temple was left to me, then I would explain to Muslims that they were keeping it at the temple for themselves!

देखिये राम जेठमलानी का ये वीडियो :

भारत को 70 साल बाद असली आज़ादी मिली है।

यह है देश का असली सच!भारत को 70 साल बाद असली आज़ादी मिली है।

Posted by Modi News on Wednesday, August 30, 2017

यह भी देखे

https://youtu.be/Uzs16fYnw1k

https://youtu.be/VxtYK7YXsQ8

source name political report

 

ब्रेकिंग न्यूज़: UP और बिहार के उपचुनावों में चौंकाने वाले नतीजे आये सामने, इस पार्टी को मिली जोरदार बढत…

गोरखपुर: गोरखपुर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में वोटों की गिनती जारी है. समाजवादी पार्टी (सपा) प्रत्याशी प्रवीण निषाद ने मतगणना में गड़बड़ी का आरोप लगाया है. मतगणना केंद्र पर मीडियाकर्मियों की एंट्री पर रोक लगा दी गई है. आरोप है कि गोरखपुर में 8 राउंड वोटों की गिनती हो चुकी है, लेकिन केवल पहले राउंड के रुझान जारी किए गए हैं. विवाद बढ़ने पर गोरखपुर के जिलाधिकारी मतगणना केंद्र पर पहुंच गए हैं. शुरुआती रुझानों में बीजेपी के प्रत्याशी उपेंद्र शुक्ला आगे रहे. विवाद के बाद तीसरे राउंड के आंकड़े जारी किए गए, जिसमें सपा के प्रवीण निषाद बीजेपी के उपेंद्र शुक्ला से 1500 वोटों से आगे चल रहे हैं.

Gorakhpur: Counting of votes is going on in the by-election by the Gorakhpur Lok Sabha seat. Samajwadi Party (SP) candidate Pravin Nishad has accused the counting of votes. The entry of media persons on the counting center has been banned. It is alleged that 8 round votes have been counted in Gorakhpur, but only the first round trends have been issued. On the rise of the controversy, the District Magistrate of Gorakhpur reached the counting centers. In the initial trends, BJP’s candidate Upendra Shukla is ahead. After the controversy, statistics of third round were released, in which Praveen Nishad of SP is running ahead of BJP’s Upendra Shukla with 1,500 votes.

वोटों की गिणती शुरू होते ही बोले सपा प्रत्याशी प्रवीण निषाद, EVM में छेड़छाड़ करके मुझे हराया जाएगा
इससे पहले मतगणना शुरू होने के ठीक बाद समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रत्याशी प्रवीण निषाद ने कहा कि उन्हें हराने के लिए राज्य सरकार प्रशासन का दुरुपयोग करेगी. प्रवीण निषाद ने आरोप लगाया कि वोटों की गिणती शुरू होते ही मतगणना केंद्र से उनके प्रतिनिधि को बाहर कर दिया गया है. उन्होंने आरोप लगाया कि इससे पहले भी गोरखुपर में बीजेपी वोटों की गिणती में हेरफेर करके साल 1999 में जमुना प्रसाद निषाद को हरा चुके हैं. प्रवीण निषाद ने आरोप लगाया कि बीजेपी इस बार भी ईवीएम बदलकर मतगणना में गड़बड़ी कर सकती है.

As soon as the counting of votes begins, SP supremo Praveen Nishad, I will be defeated by tampering EVM
Just before the counting began, Samajwadi Party (SP) candidate Pravin Nishad said that the state government would misuse the administration to defeat them. Praveen Nishad alleged that his representative was removed from the counting center as soon as the counting of votes started. He alleged that even earlier, in Bihar, manipulation of BJP votes in Gorakhpur defeated Jamuna Prasad Nishad in 1999. Praveen Nishad alleged that BJP can also change EVMs this time and make a difference in the counting of votes.

मालूम हो कि योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद से गोरखपुर सीट खाली हुई है. वहीं केशव प्रसाद मौर्य के उपमुख्यमंत्री बनने के बाद फूलपुर लोकसभा सीट खाली हुई है.

It is known that after becoming the Chief Minister of Yogi Adityanath, the seat of Gorakhpur has been vacant. At the same time, after becoming the Deputy Chief Minister of Keshav Prasad Maurya, the Phulpur Lok Sabha seat has vacated.

ये भी पढ़ें: UP Bypoll Result 2018 LIVE: फूलपुर के बाद गोरखपुर में भी BJP पिछड़ी, दोनों सीटों पर सपा प्रत्याशी आगे

बीजेपी ने फूलपुर से कौशलेंद्र सिंह पटेल तथा गोरखपुर से उपेंद्र दत्त शुक्ल को उम्मीदवार बनाया है, जबकि इन दोनो सीटों पर समाजवादी पार्टी ने क्रमश: परवीन निशाद तथा नागेंद्र प्रताप सिंह मैदान में है. कांग्रेस ने इन दोनो सीटों पर भाजपा और सपा उम्मीदवारों के सामने क्रमश: मनीष मिश्र एवं सुरीथा करीम को खड़ा किया है.

Read also: UP Bypoll Result 2018 LIVE: After Phulpur, BJP candidates in Gorakhpur, SP candidates ahead in both seats

BJP has fielded Kuslendra Singh Patel from Phulpur and Upendra Dutt Shukla from Gorakhpur, while the Samajwadi Party in both these seats are Parvin Nishad and Nagendra Pratap Singh in the fray respectively. The Congress has fielded Manish Mishra and Suritha Karim in front of BJP and SP candidates in these two seats respectively.

ये भी पढ़ें: वोटों की गिणती शुरू होते ही बोले सपा प्रत्याशी प्रवीण निषाद, EVM में छेड़छाड़ करके मुझे हराया जाएगा

गोरखपुर में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के बाद योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि भाजपा को चौतरफा समर्थन मिल रहा है.‘‘ लोगों को पता है कि विकास ही एक मात्र रामबाण है.’

Read also: As soon as the counting of votes begins, SP supremo Praveen Nishad will be defeated by tampering EVM

After using his franchise in Gorakhpur, Yogi Adityanath had said that the BJP is getting all-round support. “People know that development is only a sovereign one.”

यह भी देखे

https://youtu.be/hsfxfSRtdUs

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

sourcename:politicalreport

तीन तलाक तक ठीक था पर जो कुछ हुआ इस महिला के साथ, सहन नहीं कर पाई वो और चली गई पुलिस चौखट…

लाख सुप्रीम कोर्ट के रोक के बाद मजहबी कट्टर सुधरने वाले नहीं है। मुस्लिम समाज में एक बार में तीन तलाक की प्रथा को उच्चतम न्यायालय ने भले ही ‘गैरकानूनी और असंवैधानिक’ करार दिया हो, लेकिन अब भी ऐसा हो रहा है। तीन तलाक मामले में कोर्ट का मुस्लिम महिलाओं के हक़ में फैसला देना मुस्लिम समुदाय के पुरुषों को रास नहीं आ रहा है।

After the ban of lakhs of Supreme Court, religious fanatics are not going to improve. In the Muslim society, the practice of three divorces at one time has been termed as “illegal and unconstitutional” by the Supreme Court, but it is still happening. Muslims in the Muslim community are not able to make a decision in the court of Muslim women in three divorce cases.

अब भी वो तीन तलाक़ और हलाला करवा रहे है अपनी बीवी का, बरेली में एक महिला को पहले तीन तलाक और फिर बाद में हलाला के नाम पर रेप का दंश झेलना पड़ा है। मामला इतना गंभीर है कि पीड़िता को अब पुलिस से न्याय की गुहार लगानी पड़ रही है। पुलिस ने भी मामले को अपने संज्ञान में लेते हुए मामला दर्ज कर जांच का आदेश दिया है। आपको बता दें कि पीड़िता नाजरी बी की शादी मेवा कुंवर के ताहिर के साथ 16 साल पहले हुई थी।

Even now she is divorcing three and making her divorced, her wife, a woman in Bareli had to suffer the rape of the first three divorces and then later in the name of Halala. The matter is so serious that the victim is now going to look for justice by the police. Police have also booked the case in its cognisable order and ordered an inquiry. Let me tell you that the victim Najari B had married 16 years ago with the daughter of Meva Kunwar.

शादी के बाद ससुराल वाले उसे परेशान करने लगे। परिवार न टूटे इसके लिए वो चुपचाप सब कुछ सहन करती रही। इसी बीच महिला ने 3 बच्चों को भी जन्म दिया। आरोप है कि कुछ समय पहले दहेज की मांग पूरी न होने पर पति ने उसे पीट-पीट कर घर से निकाल दिया और महिला को तलाक दे दिया। वहीं जब यह बात गांव में फैली तो पंचायत के दबाव में ताहिर अपनी पत्नी को साथ में रखने को तैयार हो गया, लेकिन घर में रहने के लिए महिला को अपने पति के भतीजे के साथ हलाला करना पड़ा।

After the marriage, the in-laws started bothering him. For the family to not break it, he kept quietly all. Meanwhile, the woman gave birth to 3 children too. It is alleged that some time before the dowry demand was not met, the husband beat him up and beat the woman and divorced the woman. At the same time, when this matter spread to the village, Tahir agreed to keep his wife together under pressure from the Panchayat, but to stay in the house, the woman had to move with her husband’s nephew.

पीड़िता का आरोप है कि पति के भतीजे ने उसके साथ एक माह तक रेप किया। लेकिन फिर भी पति ने उसे अपनाने से इनकार कर दिया और अब आरोपी ने दुसरी शादी भी कर ली है। अब पीड़िता को पुलिस से ही उम्मीद है इन्साफ की और उसने एसपी दफ्तर आकर एसपी क्राइम से न्याय की गुहार लगाई है। वही एसपी क्राइम ने सम्बंधित थाने को मामले की जांच करके रिपोर्ट देने को कहा है।

The victim has alleged that her nephew raped her for a month. But still the husband refused to adopt him and now the accused has also married another. Now the victim is expecting the police to do justice and she has approached the SP office and pleaded for justice from SP Crime. The same SP Crime has asked the concerned police station to investigate the matter and report it.