मदरसे में मौलवी ने कई बार किया छात्रा का दुष्कर्म, पुलिस ने पकड़ा तो उड़ गए सबके होश

कठुवा में रेप हुआ भी नहीं पर करीना खान, सैफ खान और सोनम कपूर जैसे बहुत से लोगों ने कैंपेन चलाया और रेप नहीं हुआ तो भी रेप के आरोपियों को फांसी देने की मांग करी, इन लोगों ने खुद के हिन्दुस्तानी होने पर भी शर्म जताया, और लिखा की “I ऍम Ashamed”, कठुवा के मामले में कोई बलात्कार नहीं हुआ इसकी पुष्टि वहां के 2 अलग अलग डाक्टरों ने ही कर दी, चलिए ये मामला पिछले हफ्ते का है जब ये तमाम बॉलीवुड के लोग एक्टिव थे

Not even raped in Kathua, but a lot of people like Kareena Khan, Saif Khan and Sonam Kapoor campaigned and even if they did not get rap, they also demanded hanging of raped people, these people expressed their shame even when they were Hindustani, And wrote that “I Am Ashamed”, there was no rape in the case of Kathua, it was confirmed by only 2 different doctors of that matter, let’s go back to the last week when these Bollywood people were active. Ë

पर इस हफ्ते दिल्ली की एक 10 साल की हिन्दू बच्ची को मौलवी और उसके साथी ने अगवा किया और उसका बलात्कार किया, मदरसे में उसका बलात्कार किया गया, अल्लाह स्थान में उसका बलात्कार किया गया, अल्लाह के सामने मदरसे में मौलवी और उसका साथी 10 साल की हिन्दू बच्ची को नोचते रहे, मदरसा क्या होता है ?

But this week, a 10-year-old Hindu girl from Delhi was kidnapped by the cleric and her companion and raped her; she was raped in the madrasa, she was raped in Allah’s place, the maulvi and her companion in Allah’s Messenger 10 years Let’s go to the Hindu child, what is madrasa?

मदरसा कोई आम स्कुल नहीं होता, बल्कि मदरसा एक ऐसा स्कुल होता है जहाँ पर इस्लाम और अल्लाह, कुरान, मजहब की शिक्षा दी जाती है, और मदरसा एक अल्लाह स्थान है, अल्लाह स्थान में मौलवी हिन्दू बच्ची की अस्मत लुटता रहा, उसे नशे की दवाई देकर बंधक बनाये रखा, उसको कैद करके रखा, वो तो बच्ची की किस्मत अच्छी थी जो पुलिस ने उसे खोज निकाला, अन्यथा मौलवी शाहबाज़ खान उस लड़की को कई दिन और नोचने के बाद बेचने के फिराक में था

Madarsa is not a common school, but madarsa is a school where Islam and Allah, Quran, religion are taught, and madrasa is an Allah place, Allah looted the fate of the cleric Hindu child in place of Allah, He kept the hostage and kept the hostage, kept him in custody, he was fond of the childish girl who searched him, otherwise Maulvi Shahbaz Khan would sell that girl for many days and after dancing Was a

अब सोनम कपूर की आँखें नम नहीं हो रही है, अल्लाह स्थान में हिन्दू बच्ची के रेप पर अब करीना खान को शर्म नहीं आ रही है, अब सैफ खान करीना के हाथ में पोस्टर देकर तस्वीर खींचकर सोशल मीडिया पर नहीं डाल रहे है, अब बॉलीवुड के लोग मौलवी शाहबाज़ खान को फांसी देने की मांग नहीं कर रहे है, अब किसी को अल्लाह स्थान में हिन्दू बच्ची के रेप की घटना पर शर्म नहीं आ रही है

Now Sonam Kapoor’s eyes are not getting wet, now Kareena Khan is not ashamed of the Hindu child’s rape in Allah’s place, now Saif Khan is not putting pictures by Kareena in the hands of Kareena, taking photographs on social media, now Bollywood People are not demanding hanging of Maulvi Shahbaz Khan, now no one is ashamed of the incident of Hindu girl in the place of Allah

इन सभी की मानवता और इंसानियत केवल कठुवा तक ही सिमित थी, जहाँ पर रेप हुआ भी नहीं, पर अल्लाह स्थान में हिन्दू बच्ची की अस्मत को मौलवी लुटता रहा पर इनमे से किसी की इंसानियत नहीं जागी किसी की आँखें नम नहीं हुई, साफ़ होता है की ये लोग इन्सान नहीं केवल एजेंडा चलाने वाले फिल्म्बाज है और देश तथा समाज को ये बात नोट करके रख लेनी चाहिए

All of these humanities and humankind were only confined to Kathwa, where there was no rape, but Allah used to loot the honor of a Hindu child in place, but no one’s eyes were not moist, and none of them was cleaned. These people are not only people who are running agenda but they should note this and the country

यह भी देखे
https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

source namopress.in

पाकिस्तान को दुत्कार भारत की शरण में आया ये बड़ा मुस्लिम देश, खुले दिए अपने खाजने USA समेत दुनिया हैरान

नई दिल्ली : आतंकी पाकिस्तान आज अपने सबसे बुरे दौर में चल रहा है, अर्थव्यवस्था एक डूबते जहाज़ की तरह हो गयी है और ऊपर से अमेरिका ने भी फंडिंग करनी बंद कर दी है और ड्रोन से हमले शुरू कर दिए हैं. FATF संगठन ने बैन लगा दिया है जिससे ना तो कोई निवेश करेगा और ना ही क़र्ज़ देगा. चीन के लोग अब पाकिस्तान में घुसकर मार लगा रहे हैं.

New Delhi: Terror Pakistan is going on in its worst phase, the economy has become like a sinking ship, and above all, the US has stopped funding and started attacking the drone. The FATF organization has banned it so that no investment or loan will be given. The people of China are now entering Pakistan and killing them.

तो वहीँ सऊदी अरब देश हर दूसरे दिन पाकिस्तान की बेज़्ज़ती करता रहता है अभी हाल में सऊदी अरब के सबसे बड़े अधिकारी ने पाकिस्तान के नागरिकों को देश में ना घुसने देने और ना ही नौकरी देने की मांग उठायी थी क्यूंकि हर रोज़ पाकिस्तानी नागरिक ड्रग तस्करी में पकडे जा रहे थे. दूसरी तरफ मोदी राज में सऊदी अरब ने अभी आलिशान मंदिर की नीव रखी थी तो अब वो खुद भारत सबसे बड़ा तोहफा लेकर आ रहा है और बेहद ही शानदार एलान किया है.

So same Saudi Arabia continues to boast of Pakistan every other day. Most recently, the Saudi Arabian authorities had demanded that the citizens of Pakistan not enter the country or give jobs, because Pakistani citizens are drug smuggled every day. Were getting caught On the other hand, in the Modi Raj, Saudi Arabia had laid the foundation of the Alishan Temple, now it is bringing itself the largest gift of India itself and has made very promising announcements.

दुनिया में अब तक की सबसे बड़ी रिफाइनरी

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक भारत के साथ द्विपक्षीय और कारोबारी संबंधों को मजबूती देते हुए दुनिया की सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी सऊदी अरामको ने महाराष्ट्र में सबसे बड़ी रिफाइनरी लगाने का फैसला लिया है.

The largest refinery in the world so far

According to the latest news, Saudi Arabia, the world’s largest oil producer, has decided to install the largest refinery in Maharashtra, strengthening bilateral and trade relations with India.

44 अरब डॉलर का निवेश

सऊदी अरब की कंपनी अरामको के साथ भारतीय रिफाइनरी कंपनियों का समूह करीब 44 अरब डॉलर के निवेश से इस पेट्रोकेमिकल प्रोजेक्ट को पूरा करेगा. इससे बड़ा निवेश आज तक पूरी दुनिया में नहीं हुआ.

$ 44 billion investment

The group of Indian refinery companies with Saudi Arabian company Aramco will complete this petrochemical project with an investment of about $ 44 billion. This has not made big investments in the whole world till date.


महाराष्ट्र में लगने वाले इस प्रोजेक्ट में सऊदी कंपनी अरामको और रत्नागिरी रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स (आरआरपीएल) की बराबरी की हिस्सेदारी होगी। आरआरपीएल, इंडियन ऑयल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम का ज्वाइंट वेंचर होगा

This project, which will take place in Maharashtra, will be the equal share of Saudi company Aramco and Ratnagiri Refinery and Petrochemicals (RRPL). RRPL, Indian Oil, Hindustan Petroleum and Bharat Petroleum will be joint venture

दुनिया के दिग्गज देश रह गए हैरान

बता दें आपको भी जानकार बड़ी हैरानगी होगी लेकिन इसे मोदी सरकार की बहुत बड़ी कामयाबी ही कहा जायेगा क्यूंकि इस प्रोजेक्ट की क्षमता सालाना 1.8 करोड़ टन उत्पादन की होगी. भारत में लगने वाला यह पेट्रोकेमिकल प्लांट दुनिया की सबसे बड़ी रिफाइनरियों में से एक होगा. इसे देखने के बाद दुनिया के दिग्गज देशों की आखें बड़ी होने वाली हैं.

Surprised to be the world’s greatest country

It would be a big surprise for you to know, but it will be said to be a huge success for the Modi government because the capacity of this project will be 18 million tonnes per annum. This petrochemical plant in India will be one of the world’s largest refineries. After seeing this, the eyes of world’s legendary countries are going to be bigger.

सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री खलीद अल फली ने कहा, ‘चाहे जितना भी बड़ा प्रोजेक्ट हो, लेकिन इससे हमारी भारत में निवेश की इच्छा खत्म नहीं हुई है। हम निवेश और अपने कच्चे तेल की सप्लाई के लिए भारत को तरजीह देते रहेंगे।’

Saudi Arabian Energy Minister Khalid Al Fali said, “No matter how big the project is, it does not end the desire to invest in our India. We will continue to give priority to India for investment and supply of its crude oil. ”

गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत और सऊदी अरब के संबंध बेहद प्रगाढ़ हुए हैं।

Significantly, after the formation of Narendra Modi’s prime minister, relations between India and Saudi Arabia have been very intense.

सऊदी अरामको कुल कच्चे तेल की सप्लाई का करीब 50 फीसदी भारत के इस संयंत्र में प्रॉसेस करेगा।

Saudi Aram will process about 50 percent of the total crude oil supply in this plant of India.

सऊदी अरब भारत में इराक को पीछे छोड़कर सबसे बड़ा सप्लायर बनना चाहता है। इराक ने पहली बार 2017 में तेल निर्यात के मामले में सऊदी अरब को पीछे छोड़ दिया था

Saudi Arabia wants to leave Iraq behind and become the largest supplier in India. For the first time in Iraq, Iraq has surpassed Saudi Arabia in terms of oil exports.

यह भी देखे

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/o9LQnPMci4I
source political report

राम रहीम की गिरफ़्तारी के बाद अब इस मौलाना बाबा हुआ बड़ा खुलासा जिसे देख योगी समेत परा देश हैरान

 

पुलिस ने इस पर इनाम की घोषणा भी की हुई थी. कहा जा रहा है कि इस इनामी शातिर अपराधी का असली नाम आफताब उर्फ नाटे है, लेकिन ये मौलाना करीम के नाम से लोगों की आँखों में धुल झोंकता था. इसके अपराधों के बारे में जानकार तो आप और भी ज्यादा चौंक जाएंगे.

The police had also announced the reward on this. It is being said that Aftab alias Nate is the real name of this vicious criminal, but this maulana was blown in the eyes of people by the name of Karim. You will be more shocked if you are knowledgeable about its crimes.

बलात्कारी मौलाना की खबर दिखाने से बच रहा मीडिया !

दो बलात्कार के आरोप गुरमीत राम रहीम की गिरफ्तारी पर छाती पीटने वाले मीडिया को 39 महिलाओं से बलात्कार करने वाले इस मौलाना की गिरफ्तारी पर सांप सूंघ गया है. कोई इस खबर को प्रमुखता से नहीं दिखा रहा है. इसके बारे माँ बताया जा रहा है कि ये कथित मौलाना ट्रिपल तलाक की पीड़ित मुस्लिम महिलाओं का हलाला के नाम पर यौन शोषण करने का धंधा चलाता था.

The news of the rapist Maulana was saved from the media!

The snake has sniffed on the arrest of the maulana who raped 39 women with cheating on the arrest of Gurmeet Ram Rahim, accused of two rape charges. Nobody is showing this news prominently. The mother is being told that this alleged maulana used to run a business of sexual exploitation in the name of Halalah, the victim of triple divorced Muslim women.

अब तक ये 39 महिलाओं का यौन शोषण कर चुका है. तमिल फिल्म में एक्टिंग कर चुके एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अनिरुद्ध सिंह ने एडीजी इलाहाबाद एसवी सावंत की अगुवाई में इस बदमाश को बॉलीवुड स्टाइल में गिरफ्तार किया. एसपी सिटी सिद्धार्थ शंकर मीणा के मुताबिक मौलाना करीम 1985 से फरार चल रहा था.

So far these 39 women have been sexually exploited. Encounter Specialist Anirudh Singh, who had acted in the Tamil film, arrested this crook under the leadership of ADG Allahabad SV Sawant in Bollywood style. According to SP city Siddhartha Shankar Meena, Maulana Karim was absconding since 1985.

नई दिल्ली : बाबा रहीम की गिरफ्तारी और सजा के बाद अब बारी आयी है एक कथित मौलाना की. पुलिस ने बलात्कारी मौलाना करीम को धर दबोचा है. बता दें कि ये मौलवी पिछले 32 सालों से पुलिस की आँखों में धुल झोंकर अपनी अवैध गतिविधियां चला रहा था.

New Delhi: After the arrest and punishment of Baba Rahim, the turn has now come to an alleged maulana. Police have arrested the rapist Maulana Karim. Please tell us that this maulavi was running illegal activities in the eyes of the police for the past 32 years.

मस्जिदों और दरगाहों में छिपता था !

वो मुंबई, सूरत, अजमेर शरीफ और फर्रुखाबाद जैसे शहरों की मस्जिदों और दरगाहों में छिपता फिर रहा था. दरगाहों में आने वाले श्रद्धालुओं से मौलाना करीम खुद को तांत्रिक बताता था और भूत-प्रेत की बाधा दूर करने के नाम पर भी पैसे ऐंठता था औऱ उन्हें आफताब गंडा और ताबीज बनाकर देता था. एसपी सिटी के मुताबिक मौलाना करीम खुद को हलाला निकाह एक्सपर्ट भी बताता था.

Was hidden in mosques and dargahs!

He was hiding in mosques and dargahs of cities like Mumbai, Surat, Ajmer Sharif and Farrukhabad. Maulana Karim used to tell himself as a Tantric with devotees coming to the dargahs and even in the name of taking away the obstacles of ghosts, he used to make money, and gave them Afabat and donated amulet. According to SP City, Maulana Karim would also tell herself Halala Nirvah Expert.

हवालात में मुक्का-लात के बाद इस शातिर अपराधी मौलाना करीम ने झांसा देकर 39 महिलाओं का हलाला के नाम पर यौन शोषण करने की बात कबूल की है. उसने लोगों को धोखा तो दिया ही, साथ ही लाखों रुपए भी ऐंठे. धोखाधड़ी के लिए मौलाना करीम ने बाकायदा अपना एक नेटवर्क तैयार किया था. 33 सालों में उसने खुद को सिद्ध मौलाना बताकर दर्जन से ज्यादा शागिर्दों की टीम बनाई थी.

After punching in the lock-up, the vicious criminal Maulana Karim has blamed the 39 women for sexually exploiting the name of Halala. He betrayed the people, and also millions of rupees. For fraud, Maulana Karim had prepared a network of his own. In 33 years, he created himself as a perfect maulana and created a team of more than dozen pupils.

ये शागिर्द उसके झूठे तंत्र-मंत्र की विद्या का प्रचार प्रसार करते थे. ये इतना शातिर था कि पुलिस से बचने के लिए हर 15 दिन में अपना सिम कार्ड बदल लेता था और बेहद गोपनीय तरीके से अपने परिवार के संपर्क में रहता था. पुलिस ने जब इसके परिवार से पूछताछ की तो उन्होंने भी उसके बारे में किसी भी प्रकार की जानकारी देने से मना कर दिया था.

These teachers used to propagate the teaching of his false system. It was so vicious that he used to change his SIM card every 15 days to avoid the police and was in touch with his family in a very confidential manner. When the police interrogated his family, they also refused to give any information about him.

परिवार ने भी किया गुमराह !

परिवार का कहना था कि उससे से उनका कोई संबंध नहीं है, क्योंकि वह उन पर तेजाब फेंक कर घर से भागा था और तब से वापस नहीं लौटा, जोकि सरासर झूठ था. पुलिस ने लगातार उसके परिजनों का नंबर सर्विलांस पर रखा और तब जाकर मौलाना करीम की लोकेशन का पता लग पाया. यूपी में तुष्टिकरण की सरकारों में इस अपराधी को नहीं धरा जा सका लेकिन योगी आदित्यनाथ सरकार ने ये काम कर दिखाया.

The family also did mislead!

The family said that they have nothing to do with him, because he was throwing acid on them and ran away from home and did not return from then, which was a completely false. Police consistently kept the number of his relatives on the surveillance and then went to find out the location of Maulana Karim. The culprit could not be defeated in the appeasement governments in UP but Yogi Adityanath Sarkar showed this work.

गिरफ्तारी के बाद मौलाना करीम ने बताया कि वो इलाहाबाद के शाहगंज थाना क्षेत्र में रहता था. 1981 में मोहल्ले के लड़के मोहम्मद अजमत ने उसकी भांजी से छेड़छाड़ की, जिसे देख वो गुस्से से उबाल पड़ा और उसने बदला लेने की ठान ली.

After the arrest, Maulana Karim told that he lived in the Shahganj police station area of ​​Allahabad. In 1981, Mohalla’s son, Mohammed Ajmat, tampered with his niece, who saw that he got angry and he decided to take revenge.

बदला लेने के लिए उसने अजमत पर गोली दाग दी, जिससे उसकी मौत हो गयी. क़त्ल के इल्जाम में पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया और दो साल बाद 1983 में जिला कोर्ट ने उसे उम्र कैद की सजा सुनाई, हालांकि वो दो साल बाद ही जमानत पर बाहर आ गया और फिर शहर से भाग गया.

To get revenge, he shot Azmat, which led to his death. The police arrested him in the charge of murder and two years later in 1983, the District Court sentenced him to life imprisonment, although he came out on bail only two years later and then fled from the city.

यह भी देखे
https://youtu.be/Uzs16fYnw1k

source political report

VIDEO: जिहाद के लिए भारत में ही तैयार की गई इस्लामिक फ़ौज – तैयार हो चुकी पूरी फ़ौज, ट्रेनिंग भी हुई पूरी– ख़बर पढ़कर आप दंग रह जायेंगे

आज हम आपको एक ऐसी ख़बर बताने जा रहे हैं, जो बेहद चौंकाने वाली है l हो सकता है कि आपने इसके बारे में कभी सुना हो लेकिन ये हमें यकीन है कि इस बारे में आपको पूरी जानकारी नहीं होगी l दरअसल उसकी वज़ह है कि देश के ख़िलाफ़ होने के बावजूद इस बारे में कभी देश की मीडिया ने नहीं बताया l

Today, we are going to tell you a story that is very startling. Maybe you have heard about it, but we are sure that you will not have complete information about it. Actually, it is because of the country that Despite this, the country’s media did not tell about it.

हम बात कर रहे हैं केरल की l अक्सर ही ये सुनने में आता रहता है कि केरल में संघ कार्यकर्ता की हत्या हुई तो कभी बीजेपी या किसी हिन्दू कार्यकर्ता की हत्या l उनके साथ मारपीट की ख़बरें तो करीब-करीब हर रोज ही आ जाती हैं, लेकिन भारत के सांप्रदायिक माहौल को देखते हुए ऐसी घटनाओं पर लोगों को जल्दी विश्वास नहीं होता, लेकिन सोशल मीडिया पर कई ऐसे वीडियो हैं, जिन्हें देखकर आप के पैरों तले जमीन ही खिसक जायेगी l

We are talking about l in Kerala. It often comes to hear that the union worker was murdered in Kerala, and sometimes the murder of a BJP or a Hindu worker. The news of the assault with them comes almost every day, But considering the communal atmosphere of India, people do not believe in such incidents quickly, but there are many such videos on the social media that you can see the land under your feet. Egi

क्या आप जानते हैं कि PFI यानी पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया ने बाकायदा केरल में अपनी एक सेना तैयार कर ली है और ये कोई साधारण सेना नहीं है बल्कि किसी देश की आर्मी की तरह बाकायदा इनकी ट्रेनिंग होती है और सेना के सैनिक परेड भी करते हैं l है ना यकीन से परे ये बात ? लेकिन ये सच है l सच ये है कि 60 साल के कांग्रेस के शासन में हमारे ही देश भारत में भारतीय फ़ौज के अलावा भी एक और समानान्तर फ़ौज तैयार खड़ी कर दी और देश के मीडिया के लिए या कोई खबर ही नहीं है l

Do you know that the PFI ie the Popular Front of India has prepared an army in Kerala, and this is not an ordinary army, but training like a country’s army is training them and soldiers of the army also parade. Is this thing beyond belief? But this is the truth. The truth is that under 60 years of Congress rule, our own country, in addition to the Indian Army in India, created another parallel horde and there is no news or media for the country’s media.

ऐसा नहीं है कि मीडिया ये बात जानता नहीं, बस देश के लोगों को सच्चाई बताने की जरुरत नहीं समझता l हालांकि अब यह देश की सुरक्षा के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है l ख़बरों के मुताबिक़ यह सेना केरल में हिन्दुओं के ख़िलाफ़ नफरत फैलाने का काम कर रही है l इसके अलावा PFI केरल में लव जिहाद की घटनाओं में भी शामिल हो गया है और केवल हिन्दू ही नहीं बल्कि 2015 में एनआईए (राष्ट्रीय जांच एजेंसी) की विशेष कोर्ट ने इस कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के 13 लोगों को केरल के एक ईसाई प्रोफेसर टीजे जोसेफ का हाथ काटने के लिए भी दोषी ठहराया था l

It is not that the media does not know this thing, just do not understand the need to tell the people of the truth. However, now it is becoming a matter of concern for the security of the country. According to the news, this army will spread hatred against the Hindus in Kerala. Apart from this, PFI has also joined the events of Love Jihad in Kerala and not only Hindus, but in 2015, the Special Court of NIA (National Investigation Agency) 13 people of the radical Islamic organization Popular Front of India (PFI) were also convicted for cutting a hand of a Christian professor TJ Joseph of Kerala.

वैसे आपको बता दें कि पीएफआई के पांव सिर्फ केरल में ही नहीं, देश के दूसरे राज्यों में भी पड़ चुके हैं l 16 जुलाई, 2016 को बिहार की राजधानी पटना की सड़कों पर खुलेआम पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे थे l बिहार की राजधानी पटना की सड़कों पर पाकिस्तान के पक्ष में नारे लगाने वाले मो. तौशीफ को पुलिस ने आलमगंज क्षेत्र से गिरफ्तार किया था और मोहम्मद तौशीफ़ पोपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के मिथिलांचल जोन का सचिव था l वह मूलरूप से मधुबनी के बेनीपट्टी का रहनेवाला है और उसकी उस संस्था का कार्यालय आलमंगज के गुलशन अपार्टमेंट में है।

Let us tell you that the feet of the PFI are not only in Kerala but also in other states of the country. On 16th July, 2016, slogans of Pakistan Zindabad were openly on the streets of Bihar’s capital, Patna l. Bihar’s capital city Patna But in front of Pakistan, the sloganeer mo Taushif was arrested by the police from Alamgunj area and Mohammed Taushif was the secretary of the Mithilanchal Zone of the Popular Front of India. He is basically a resident of Benipati of Madhubani and his office is in Gulshan Apartment in Alamangze.

आपको बता दें कि 16 जुलाई को पोपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के बैनर तले पटना सायंस कॉलेज से करगिल चौक तक एक जुलूस निकाला गया था और ये जुलूस एआइएमआइएम के अध्यक्ष असदुद्दीन औबैसी व मुस्लिम धर्मगुरु जाकिर नाइक के समर्थन में निकाला गया था। जुलूस में सैकड़ों लोग शामिल थे और जिला प्रशासन ने जुलूस की वीडियो रिकॉर्डिंग भी कराई थी।

Let us tell you that on July 16, a procession was taken from Patna Science College to Kargil Chowk under the banner of the Popular Front of India and the procession was taken in support of AIMIM president Asaduddin Aubaisi and Muslim religious leader Zakir Naik. Hundreds of people were involved in the procession and the district administration provided video recording of the procession.

इस जुलूस में जमकर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे तो लगे ही थे, इसके अलावा भारत से नफ़रत का जुनून भी देखने को मिला था l जूलूस में पाकिस्तान के पक्ष में नारे लगाए जाने को लेकर सिटी मजिस्ट्रेट के बयान पर पीरबहोर थाने में एफआईआर दर्ज की गई थी।

In this procession, the slogans of Pakistan Zindabad were fiercely, and besides this, the obsession of hate for India was also seen. On the statement of the City Magistrate about sloganeering in Pakistan’s favor in Zoolus, an FIR was lodged at Pirbhar police station.

अब मोदी सरकार में ये बात धीरे-धीरे खुल रही है और इससे पहले कि बहुत देर हो जाए और भारत की दशा भी सीरिया और इराक़ जैसी और हिंदुओं की हालात यजीदियों जैसी हो जाए, केंद्र व् राज्य सरकारों को मिलकर ऐसे गैर-सरकारी संगठनों पर प्रतिबन्ध लगाकर उनके खिलाफ उचित कार्यवाही करनी ही चाहिए l

Now this matter is slowly opening up in the Modi government and before it is too late and the situation of India also like the situation of Hindus like Syria and Iraq, and like the Yajidis, together with the central and state governments on such non-governmental organizations They should take appropriate action against them by imposing restrictions.

यह भी देखे
https://youtu.be/Uzs16fYnw1k
https://youtu.be/VxtYK7YXsQ8
source poltical report

इस देशद्रोह आतंकी के साथ भारतीय सेना ने किया ऐसा सुलोक की आतंकी की सरगनाओ की रूह कॉप उठी

भारत में यूँ तो कई ऐसी बातें हैं जिनसे मुझे खासा लगाव है लेकिन अगर आप मुझसे भारत की एक ऐसी बात के बारे में पूछे जिसपर मुझे हमेशा से गर्व रहा है और आखिरी सांस तक रहेगा तो यकीनन मेरा जवाब होगा भारतीय सेना. मुझे पता है कि आप भी भारतीय सेना पर काफी गर्व करते होंगे क्योंकि वो हमारी सुरक्षा के लिए अपनी जान की बाज़ी लगाकर हमारी सुरक्षा करते हैं लेकिन मेरी वजह इसके अलावा कुछ और भी है. दरअसल मैंने भारतीय सेना के कई रूप देखें हैं और कहने में कोई झिझक महसूस नहीं होता ये कहने पर कि मुझे भारतीय सेना के हर रूप से उतना ही प्यार और उसके लिए उतना ही सम्मान है.

There are so many things in India that I have a lot of attachment but if you ask me about a thing of India which is always proud of me and remains till the last breath, then my answer will definitely be the Indian Army. I know that you too should be very proud of the Indian Army because they protect us by putting our lives in the way of our security, but my reasons are anything other than that. In fact, I have seen many forms of Indian Army and do not feel hesitant in saying that I have the same respect for every form of Indian Army and the same respect for him

ऐसे में इसी भारतीय सेना का आज हम आपको एक ऐसा रूप दिखाने जा रहे हैं जिसे देखने के बाद आप भी मानेंगे कि भारतीय सेना का सिर्फ फौलादी जिगर ही नहीं है बल्कि बच्चों जैसा मासूम और ममतामयी दिल भी है. कुछ दिनों पहले ही खबर आई थी कि जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में एक आतंकी को भारतीय सेना ने जिंदा पकड़ा है. इस आतंकी की उम्र 17 साल है और नाम जबिउल्ला एजाज हमजा.

In this way, today we are going to show you a form of this Indian army which after seeing you will believe that there is not only the steely liver of the Indian army, but also the innocent and heart-felt heart of children. It was only a few days ago that there was news that a terrorist was captured alive by the Indian Army in Kupwara district of Jammu and Kashmir. The terrorist is 17 years old and the name Zaibullah Ejaz Hamza

शायद हम आप सही से समझ ना पाएं कि एक जिंदा आतंकी पकड़ना कितनी बड़ी बात होती है. सरल शब्दों में बताएं तो एक जिंदा बम डिफ्यूज करने जैसी बात होती होगी किसी आतंकी को जिन्दा पकड़ना..ऐसे में हमजा को भी पकड़ कर सेना ने एक जिंदा बम ही डिफ्यूज किया है. सेना ने हमजा को पकड़ा तो उससे थोड़ी बातचीत/पूछताछ की. इसी दौरान हमजा ने सेना के शेरदिल जवानों से कहा, “मुझे प्यास लगी है थोड़ा पानी मिलेगा?” जिसके जवाब में सेना ने..

Perhaps we can not realistically understand that holding a living terrorist is so big. In simple words, it would be a matter of defusing a living bomb, catching a terrorist alive. In such a situation, the army has defused a live bomb. When the army caught Hamza, he interrogated him / interrogated. During this time, Hamza said to the soldiers of the army, “I am thirsty, will you get some water?” In response to the army.

बहुत से लोगों के मन में ये सवाल उठेगा कि एक आतंकी ने पानी माँगा तो सेना ने क्या किया होगा. तो इसका जवाब हम आपको बताते हैं. दरअसल जैसे ही हमजा ने सेना के जवानों से पानी माँगा तो जवानों ने ना सिर्फ हमजा को पानी की बोतल थमाई बल्कि साथ में बिस्कुट का पैकेट भी दिया. हमजा ने पानी पिया और बिस्कुट खाया. इस दौरान जवान हमजा को घेरकर खड़े थे. जब हमजा पानी पी चुका तब जवानों ने अपना सवाल-जवाब दोबारा शुरू किया.

These questions will arise in the minds of many people that if a terrorist demands water then what will the army do? So, we tell you the answer. Actually, as soon as Hamza asked for the troops from the army, the jawans not only gave Hamza a bottle of water but also packed a biscuit pack. Hamza ate drinking water and biscuits. During this time the soldiers were surrounded by Hamza. When Hamza drank water, the soldiers started their question-answer again.

हालाँकि सेना के इस वीडियो को देखने के बाद कई लोगों ने तरह तरह के सवाल पूछे जैसे कि, “हमजा का हाथ कैसे टूटा है? अगर पानी पिलाने की हमदर्दी है तो सेना ने उसका हाथ क्यूँ तोड़ा?” “जवान इस मौके का वीडियो क्यूँ बना रहे हैं?” “अगर हमजा आतंकी है तो उसे पानी क्यूँ पिलाया जा रहा है?” वगैरह वगैरह. इन सब सवालों का जवाब हम आपको देते हैं.

However, after watching this video of the army, many people asked different kinds of questions such as, “How Hamza’s hand is broken? If the people are sympathetic to water, why did the army break his hand? “Why are the soldiers making the video of this spot?” “If Hamza is a terrorist, then why is she drinking water?” Etc. We give you the answer to all these questions.

“हमजा का हाथ कैसे टूटा है? अगर पानी पिलाने की हमदर्दी है तो सेना ने उसका हाथ क्यूँ तोड़ा?”
इस वीडियो को अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर करने वाले एक पत्रकार ने बताया है कि, “हमजा के हाथ में नज़र आने वाला फ्रैक्चर अभी का नहीं है. दरअसल इस बार पकड़े जाने से पहले मार्च के महीने में भी हमजा सेना के हाथ चढ़ते-चढ़ते रह गया था. उसी दौरान हमजा को चोट आई थी. सेना ने उसकी इसी हालत के मद्देनजर उसे पानी और बिस्कुट दिया.”

“How is Hamja broken? If there is the sympathy of drinking water, why did the army break his hand? ”
A journalist who shares this video on his twitter account has said that “The fracture that Hamah has seen in hand is not yet. In fact, in the month of March before being caught this time, Hamza had climbed the hands of the army. At the same time, Hamza was hurt. Army gave her water and biscuits in view of her 

“जवान इस मौके का वीडियो क्यूँ बना रहे हैं?”
लोगों के इस सवाल का जवाब देते हुए पत्रकार ने बताया है कि, “जिस वक़्त ये आतंकी सेना के हत्थे चढ़ा उस वक़्त उसने दावा किया था कि उसके पास कोई हथियार नहीं है. ऐसे में किसी भी पकड़े गए आतंकी का पहला बयान काफी मायने में रखता है. ऐसे में सेना वही रिकॉर्ड कर रही थी. इस समय सेना के पास कोई कैमरा भी नहीं होता है ऐसे में जायज़ है कि वो फोन में ही रिकॉर्ड करेंगे.

Why are young people making this video of the occasion? ”
Responding to this question of the people, the journalist has said that “at the time of the assassination of the militant army, he had claimed that he had no weapon. In such a case, the first statement of any captured terrorist puts a lot of meaning in it. The Army was recording the same. This time the army does not have any camera, it is justified that they will record in the phone itself.

ऐसे में इसी भारतीय सेना का आज हम आपको एक ऐसा रूप दिखाने जा रहे हैं जिसे देखने के बाद आप भी मानेंगे कि भारतीय सेना का सिर्फ फौलादी जिगर ही नहीं है बल्कि बच्चों जैसा मासूम और ममतामयी दिल भी है. कुछ दिनों पहले ही खबर आई थी कि जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में एक आतंकी को भारतीय सेना ने जिंदा पकड़ा है. इस आतंकी की उम्र 17 साल है और नाम जबिउल्ला एजाज हमजा.

In this way, today we are going to show you a form of this Indian army which after seeing you will believe that there is not only the steely liver of the Indian army, but also the innocent and heart-felt heart of children. It was only a few days ago that there was news that a terrorist was captured alive by the Indian Army in Kupwara district of Jammu and Kashmir. The terrorist is 17 years old and the name Zaibullah Ejaz Hamza

शायद हम आप सही से समझ ना पाएं कि एक जिंदा आतंकी पकड़ना कितनी बड़ी बात होती है. सरल शब्दों में बताएं तो एक जिंदा बम डिफ्यूज करने जैसी बात होती होगी किसी आतंकी को जिन्दा पकड़ना..ऐसे में हमजा को भी पकड़ कर सेना ने एक जिंदा बम ही डिफ्यूज किया है. सेना ने हमजा को पकड़ा तो उससे थोड़ी बातचीत/पूछताछ की. इसी दौरान हमजा ने सेना के शेरदिल जवानों से कहा, “मुझे प्यास लगी है थोड़ा पानी मिलेगा?” जिसके जवाब में सेना ने..

Perhaps we can not realistically understand that holding a living terrorist is so big. In simple words, it would be a matter of defusing a living bomb, catching a terrorist alive. In such a situation, the army has defused a live bomb. When the army caught Hamza, he interrogated him / interrogated. During this time, Hamza said to the soldiers of the army, “I am thirsty, will you get some water?” In response to the army.

बहुत से लोगों के मन में ये सवाल उठेगा कि एक आतंकी ने पानी माँगा तो सेना ने क्या किया होगा. तो इसका जवाब हम आपको बताते हैं. दरअसल जैसे ही हमजा ने सेना के जवानों से पानी माँगा तो जवानों ने ना सिर्फ हमजा को पानी की बोतल थमाई बल्कि साथ में बिस्कुट का पैकेट भी दिया. हमजा ने पानी पिया और बिस्कुट खाया. इस दौरान जवान हमजा को घेरकर खड़े थे. जब हमजा पानी पी चुका तब जवानों ने अपना सवाल-जवाब दोबारा शुरू किया.

These questions will arise in the minds of many people that if a terrorist demands water then what will the army do? So, we tell you the answer. Actually, as soon as Hamza asked for the troops from the army, the jawans not only gave Hamza a bottle of water but also packed a biscuit pack. Hamza ate drinking water and biscuits. During this time the soldiers were surrounded by Hamza. When Hamza drank water, the soldiers started their question-answer again.

हालाँकि सेना के इस वीडियो को देखने के बाद कई लोगों ने तरह तरह के सवाल पूछे जैसे कि, “हमजा का हाथ कैसे टूटा है? अगर पानी पिलाने की हमदर्दी है तो सेना ने उसका हाथ क्यूँ तोड़ा?” “जवान इस मौके का वीडियो क्यूँ बना रहे हैं?” “अगर हमजा आतंकी है तो उसे पानी क्यूँ पिलाया जा रहा है?” वगैरह वगैरह. इन सब सवालों का जवाब हम आपको देते हैं.

However, after watching this video of the army, many people asked different kinds of questions such as, “How Hamza’s hand is broken? If the people are sympathetic to water, why did the army break his hand? “Why are the soldiers making the video of this spot?” “If Hamza is a terrorist, then why is she drinking water?” Etc. We give you the answer to all these questions.

“हमजा का हाथ कैसे टूटा है? अगर पानी पिलाने की हमदर्दी है तो सेना ने उसका हाथ क्यूँ तोड़ा?”
इस वीडियो को अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर करने वाले एक पत्रकार ने बताया है कि, “हमजा के हाथ में नज़र आने वाला फ्रैक्चर अभी का नहीं है. दरअसल इस बार पकड़े जाने से पहले मार्च के महीने में भी हमजा सेना के हाथ चढ़ते-चढ़ते रह गया था. उसी दौरान हमजा को चोट आई थी. सेना ने उसकी इसी हालत के मद्देनजर उसे पानी और बिस्कुट दिया.”

“How is Hamja broken? If there is the sympathy of drinking water, why did the army break his hand? ”
A journalist who shares this video on his twitter account has said that “The fracture that Hamah has seen in hand is not yet. In fact, in the month of March before being caught this time, Hamza had climbed the hands of the army. At the same time, Hamza was hurt. Army gave him water and biscuits in view of this condition.

“जवान इस मौके का वीडियो क्यूँ बना रहे हैं?”
लोगों के इस सवाल का जवाब देते हुए पत्रकार ने बताया है कि, “जिस वक़्त ये आतंकी सेना के हत्थे चढ़ा उस वक़्त उसने दावा किया था कि उसके पास कोई हथियार नहीं है. ऐसे में किसी भी पकड़े गए आतंकी का पहला बयान काफी मायने में रखता है. ऐसे में सेना वही रिकॉर्ड कर रही थी. इस समय सेना के पास कोई कैमरा भी नहीं होता है ऐसे में जायज़ है कि वो फोन में ही रिकॉर्ड करेंगे.

Why are young people making this video of the occasion? ”
Responding to this question of the people, the journalist has said that “at the time of the assassination of the militant army, he had claimed that he had no weapon. In such a case, the first statement of any captured terrorist puts a lot of meaning in it. The Army was recording the same. This time the army does not have any camera, it is justified that they will record in the phone itself.

तो देश के जिन ज़हरीले लोगों का सेना पर सवाल होता है उनसे हमारा विनम्र निवेदन है कि वो सेना के इस रूप को भी देखे. यही है असली भारतीय सेना.

So we have a humble request from the poisonous people of the country who have a question on the army that they also see this form of army. This is the real Indian Army

यह भी देखे
https://youtu.be/Uzs16fYnw1k
https://youtu.be/VxtYK7YXsQ8
source poltical report

CM योगी की सरकार में चल रहे इस इस मदरसे बोर्ड पर लिखा है जो जिसे पढ़ आप चौक जायेगे

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का मदरसों को आधुनिक करने की कवायद अब देखने को मिल रही है। प्रदेश के मदरसों में हुए बदलाव का असर अब तेजी से देख रहा है।

In Uttar Pradesh, the exercise of modernizing the madarsas of the Chief Minister Yogi Adityanath is now being seen. The effect of change in the madarsas of the state is now seeing rapidly.


सीएम योगी के संसदीय क्षेत्र रहे गोरखपुर का दारुल उलूम हुसैनिया मदरसा चर्चा का विषय बना हुआ है। यह मदरसा आधुनिक शिक्षा का केंद्र बन गया है।

Darul Uloom Husseiniya Madarasa of Gorakhpur, which is a parliamentary area of ​​the Yogi, remains a matter of discussion. This madrasa has become the center of modern education.

अब तक शायद यह बात पहले कभी नहीं सुनी गई होगी किसी मदरसे में संस्कृत भी पढ़ाई जा रही है। यह मदरसा यूपी शिक्षा बोर्ड के अंतर्गत आता है। खास बात यह है कि संस्कृत पढ़ाने के लिए मुस्लिम शिक्षक ही नियुक्त किया गया है।

So far, this matter has never been heard before, in any madrasa, Sanskrit is also being taught. This madrasa belongs to the UP Education Board. The special thing is that a Muslim teacher has been appointed to teach Sanskrit.

यहां अल्पसंख्यक समुदाय के छात्रों को विज्ञान, गणित, अंग्रेजी, अरबी के साथ-साथ हिंदी और संस्कृत की शिक्षा भी दी जा रही है। संभवत: ऐसा पहली बार हो रहा है कि मदरसे में संस्कृत भी पढ़ाई जा रही है। यूपी शिक्षा बोर्ड के अंतर्गत आनेवाला दारुल उलूम हुसैनिया मदरसे में संस्कृत पढ़ाने के लिए मुस्लिम शिक्षक ही नियुक्त किया गया है।

Here, minority community students are being given education in Hindi, Sanskrit as well as science, mathematics, English, Arabic. Probably this is happening for the first time that Sanskrit is also being taught in Madarsa. A Muslim teacher has been appointed to teach Sanskrit in Darul Uloom Husainia Madrasa, who is under the UP Education Board.


वहीं गोरखपुर में दारुल उलूम हुसैनिया मदरसा में पढ़नेवाले छात्र कहते हैं, ”हमें संस्कृत सीखना अच्छा लगता है। हमारे शिक्षक विषयों को अच्छी तरह से समझाते हैं। हम भी बहुत अच्छी तरह समझते हैं। हमारे माता-पिता भी हमें सीखने में मदद करते हैं।”

At the same time, students in Darul Uloom Husseaniya Madarsa in Gorakhpur say, “We like to learn Sanskrit. Our teachers explain topics well. We also understand very well. Our parents also help us learn. ”

आपको बता दें की उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस समय मदरसों को आधुनिक करने के लिए कई कदम उठा रहे हैं। ऐसा दृश्य शायद ही देखने को मिलेगा, योगी आदित्यनाथ को इस कार्य के लिए सलाम करना चाहिए, दोस्तों हमें इस विषय को इतना शेयर करना चाहिए कि सुबह सुबह ओवैसी के फ़ोन तक पहुँच जाए और सुबह सुबह उसे मिर्ची भी लग जाये।

Let us tell you that Uttar Pradesh’s Chief Minister Yogi Adityanath is taking several steps to modernize the madarsas. Such a scene will rarely be seen, Yogi Adityanath should salute for this work, friends should share this subject so much that in the morning, Owaisi should reach the phone and in the morning it will also become a chilli.

यह भी देखे
https://youtu.be/Uzs16fYnw1k
https://youtu.be/VxtYK7YXsQ8
source poltical report

अभी अभी: UP से आयी इस खबर से ख़ुफ़िया एजेंसी समेत PM मोदी के उड़े होश, पूरे देश में मचा हडकंप…

लखनऊ : यूपी में सीएम योगी को अभी सिर्फ 100 ही दिन हुए हैं लेकिन उसमें ही उन्होंने ऐसे कई तीखे फैसले के साथ सपा के घोटालों का कच्चा चिटठा खोल के रख दिया है कि कुछ लोगों को लगता है अब योगी सरकार रास नहीं आ रही है. अभी अभी यूपी से ऐसी खबर आयी है जिसने एक पल में पूरे देश में दहशत का माहौल पैदा कर दिया है.

Lucknow: CM Yogi has been in just 100 days in UP, but in the same way, he has kept the raw paper of SP’s scandal with so many sharp decisions that some people feel that the Yogi Government is not coming to the rescue. Right now, there has been such news from the UP that has created a panic in the entire country in a moment of panic.

यूपी विधानसभा में मचा हड़कंप, दहशत का माहौल
अभी कुछ वक़्त पहले भी सीएम योगी जब अपना भाषण दे रहे थे तो उन्होंने बुलेट प्रूफ कांच के पीछे रहने की हिदायत दी गयी थी. क्यूंकि आये दिन सीएम योगी को आतंकी खतरे की धमकियाँ मिल चुकी हैं. ऐसी ही ताज़ा खबर अभी अभी एएनआई न्यूज़ एजेंसी से आ रही है जहाँ खुलासा हुआ है कि यूपी विधानसभा में बुधवार को चेकिंग के दौरान बेहद खतरनाक विस्फोटक मिला है. इसकी पुष्टि फॉरेंसिक टेस्ट से भी हो चुकी है ये एक PETN टाइप का भीषण तबाही वाला विस्फोटक है. इसके केवल 100 ग्राम से ही एक कार को पल भर में राख बना देने की ताक़त होती है.

Opposition in UP Assembly, panic attack
At some point in time, even when CM Yogi was giving his speech, he was instructed to be behind the bullet proof glass. Because the Yi Yi has received threats of terrorist threat during the days of coming. The latest news is coming from the ANI News Agency, which has revealed that on Wednesday, in the UP Assembly, it found extremely dangerous explosives during checking. It has been confirmed from the forensic test, it is a blasting explosive of a PETN type. Only 100 grams of it has the power to make a car ash throughout the moment.

समाजवादी पार्टी के विधायक की सीट के नीचे मिला विस्फोटक
इसे विधानसभा की सुरक्षा में एक बहुत बड़ी चूक बताया जा रहा है. आपको बता दें कि अभी यूपी विधानसभा में बजट सत्र चल रहा है. पाए गए विस्फोटक की मात्रा 60 ग्राम बताई जा रही है. यह उस जगह मिला जहाँ सभी पार्टी के विधायक बैठते हैं और सबसे खास बात यह रही कि ये विस्फोटक समाजवादी पार्टी के विधायक मनोज पांडे की सीट के नीचे एक नीले रंग की पॉलिथीन में मिला. जिसके बाद सभा में बुरी तरह हड़कंप मच गया.इस मामले की जांच यूपी एटीएस को सौंप दी गई है.

Explosive found under the seat of the Samajwadi Party legislator
This is being said to be a big mistake in the security of the assembly. Let us tell you that the budget session is going on in the UP Assembly now. The amount of explosive found is 60 grams. This is found in the place where all the party’s legislators sit and the most important thing is that they were found in a blue polythene under the seat of the explosive socialist party MLA Manoj Pandey. After which the meeting was badly stirred. The investigation of this case has been handed over to the UP ATS.

जिसके चरण बाद सीएम योगी ने शाम 4 बजे डीजीपी, प्रुमख सचिव, विधानसभा सचिव, प्रमुख सचिव गृह, प्रमुख सचिव सचिवालय प्रशासन, एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर, एडीजी सिक्यॉरिटी, एएसपी विधान सभा समेत तमाम वरिष्ठ अधिकारियों को बुलाया और विधान सभा और सचिवालय की सुरक्षा में लापरवाही के लिए खूब फटकार लगाई.

After that phase, CM Yogi called all the senior officers including DGP, Senior Secretary, Assembly Secretary, Principal Secretary Home, Principal Secretary Secretariat Administration, ADG Law and Order, ADG Security, ASP Vidhan Sabha and security of the Legislative Assembly and Secretariat. There was a lot of reproach for negligence.

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि यह विस्फोटक अंदर कैसे पहुंचा और क्या सीएम योगी की जान को खतरा है? दरअसल, यूपी विधानसभा में जाने के लिए बहुस्तरीय सुरक्षा चक्रों से गुजरना पड़ता है. यही नहीं विधानसभा में सिर्फ विधायकों, मंत्रियों, सफाईकर्मचारी और मार्शल को ही जाने की इजाजत है.

But the biggest question is how did the explosive reach the inside and what is the danger of the CM Yogi’s life? Indeed, to go to the UP assembly, it has to go through multi-level security cycles. Not only that, legislators, ministers, volunteers and martials are allowed to go to the assembly only.

सबसे ज़्यादा खतरनाक और भयावह वाला है यह PETN विस्फोटक
दुनिया के 5 सबसे खतरनाक विस्फोटकों में शामिल है PETN. यह बेहद खतरनाक शक्तिशाली प्लास्टिक विस्फोटक होता है इससे बंकरों या ट्रेन में धमाकों के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है. यह गंधहीन होता है इसलिए इसे खोजी कुत्ते और मेटल डिटेक्टर तक में पकड़ना बेहद मुश्किल होता है. बहुत कम मात्रा में भी बहुत बड़ा धमका हो किया जा सकता है. यहाँ तक की इसे एक्स रे मशीन भी नहीं पकड़ पाती हैं. यह एक खतरनाक रासायनिक पदार्थ होता है. साल 2011 में दिल्ली हाई कोर्ट में ऐसे ही धमाके का इस्तेमाल किया गया था.

The most dangerous and frightening is the PETN explosive
The world’s 5 most dangerous explosives include PETN It is a very dangerous powerful plastic explosive, it is used in the bunkers or in the train for explosions. It is odorless, so it is very difficult to catch it in the detective dog and metal detector. In very small quantities, too much threat can be done. Even this X-ray machine can not even catch it. This is a dangerous chemical substance. Similar explosions were used in the Delhi High Court in 2011.

उल्टा समाजवादी पार्टी सीएम योगी पर उठा रही है ऊँगली
सपा को कभी किसी से खतरा हो सकता है ये ज़रा मुश्किल लग रहा है तो उल्टा सपा नेता घनश्याम तिवारी ने कहा है इस तरह की चूक काफी चिंताजनक है सरकार को प्रदेश की सुरक्षा पुख्ता करनी चाहिए. सरकार सुरक्षा की बात करती है लेकिन बीजेपी की सरकार ने प्रदेश और देश का बुरा हाल कर दिया है.

Inverted Samajwadi Party is raising on CM Yogi
The SP is likely to face any danger, it is difficult to find. In contrast, Samajwadi Party leader Ghanshyam Tiwari has said that such a mistake is a matter of concern and the government should ensure the security of the state. Government talks about security but the BJP government has made the state and the country bad.

यह भी देखे :

source political report

खास खबर: शांतिदूतों पर टूटा मौत का ज़बरदस्त कहर, मस्जिद बम ब्लास्ट में राख हुए नमाज़ी

नई दिल्ली : आतंकवाद आज केवल एक देश या एक धर्म के खिलाफ नहीं रह गया है | जो आतंकवाद को पालेगा पोसेगा उसे भी यह आतंकवाद खा जाएगा और मासूम लोगों पर तो कहर बरपाता ही रहता है | अगर एक धर्म के लोगों को लगता है कि वे आतंकवाद से बच जायेंगे तो ये उनकी ग़लतफहमी है | ऐसी ही खबर अभी नाइजीरिया से आ रही है जहाँ एक मस्जिद में भयंकर धमाका हुआ है |

New Delhi: Terrorism is no longer against a single country or a religion Even if terrorism is found, it will also eat terrorism and continue to torment innocent people. If people of one religion think that they will escape terrorism, then this is their misunderstanding Such a news is just coming from Nigeria where there is a huge explosion in a mosque.

अभी-अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक पूर्वोत्तर नाइजीरिया की एक मस्जिद में बड़े आत्मघाती हमले में कम से कम 50 लोगों की मौत हो गई है ओर दर्जनों घायल बताये जा रहे हैं | एडमवा राज्य में किशोर बॉम्बर ने उस समय खुद को उड़ा दिया जब लोग मस्जिद में सुबह की नमाज़ अदा करने के लिए पहुंच रहे थे | किशोर ने अपने जैकेट में घातक बम लगा रखा था | धमाका इतना भीषण था कि लोगों कि चीथड़े तक नहीं मिल पा रहे हैं |

According to the latest news, at least 50 people have died and dozens more injured are being reported in a major suicide attack in a mosque in northeast Nigeria. Kishore Bomber blew himself in the state of Edwawa when people were arriving in the mosque for morning prayer. The teenager had put a deadly bomb in his jacket The explosion was so gruesome that people are not able to get the screw.

धमाके की तीव्रता इतनी ज़्यादा थी कि मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है | पुलिस प्रवक्ता ओथमान अबुबकर ने बताया कि वारदात में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है | हालांकि हमले की जिम्मेदारी का किसी आंतकी संगठन ने कोई दावा नहीं किया लेकिन “बोको हरम” पर इस हमले की आशंका जताई जा रही है | ये इस्लामी चरमपंथी समूह पड़ोसी राज्य बोर्नो में स्थित है और इस तरह के कई हमलों के लिए दोषी ठहराया जा चुका है |

The intensity of the blast was so great that the number of people killed is increasing Police spokesman Othman Abubakar said that the number of people killed in the incident can increase Although no terrorist organization claimed responsibility for the attack, but the “Boko Haram” is being feared for this attack. These Islamic extremist groups are located in neighboring Bornoo and have been convicted for many such attacks.

डमवा का शहर मुबी है जहां 2014 में बोको हरम का कब्‍जा था लेकिन बाद में सेना ने 2015 में आतंकियों को निकाल दिया था. आज ये आतंकवादी संगठन ही आपस में एक दूसरे के आतंकी संगठन के खात्मे पर तुले हुए हैं. हर कोई अपने आतंकवाद को एक दूसरे की आतंकवाद से ऊँचा बताने पर तुला हुआ है. जिसकी कीमत उन निर्दोष लोगों को अपनी जान गँवा कर चुकाना पड़ रहा है और यहाँ कुछ लोग भारत को असहिष्णु देश बताते हैं |

The town of Damwa is a mubi where Boko Haram was occupied in 2014 but later the army fired the terrorists in 2015. Today, these terrorist organizations are bent upon the end of each other’s terrorist organization. Everyone is bent on telling terrorism higher than each other. The price of those innocent people has to be lost due to their lives and some people here call India an intolerant country.

भारत छोड़ कर दूसरे देश में बसने की बात करते हैं | जबकि दूसरे बड़े देशों बड़े आतंकी हमले हो रहे हैं | अमेरिका में अभी एक शख्स ने ‘अल्लाह हू अकबर’ बोलकर लोगों पर ट्रक चढ़ा दिया. जिसके बाद कई मुस्लिम देशों के लोगों की एंट्री पर ही बैन लगा दिया है | तो वहीँ चीन ने तो मुस्लिम लोगों से कुरान और नमाज़ की चटाई तक छीन ली |

Talk about leaving India and settling in another country While other major countries are facing big terror attacks In America, a person has ordered a truck on people to speak ‘Allah Hu Akbar’. After which the people of many Muslim countries have banned the entry of the people So China itself took away the Muslim people from the Koran and Namaz mat

यह भी देखे :

source political report

BREAKING NEWS – रोहिंग्या छोड़िए अब हिन्दुओं को लेकर आयी बेहद चौंकाने वाली रिपोर्ट,पहली बार पहली बार कोई मानवाधिकार जायगा मिलने PM मोदी से

नई दिल्ली : दुनियाभर में रोहिंग्या मुद्दे को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है. सात समुन्द्र पार बैठे मानवाधिकार आयोग को भी रोहिंग्या की हालत नज़र आ रही है. भारत में भी कई जगह रोहिंग्या को लेकर शांतिप्रिय समुदाय प्रदर्शन करता रहता है.

New Delhi: Awareness campaign is being organized across the world for Rohingya issues. The Human Rights Commission, sitting across seven seas, is also seen in Rohingya condition. Peaceful community continues to exhibit Rohingya in many places in India too.

पहली बार जागा मानवाधिकार
लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी मानवाधिकार के एक सदस्य की अंतरात्मा जाग गयी है और उसे हिन्दुओं का दर्द दिखा है, उसके बाद उसने वो खौफनाक खुलासा किया है जिसे देख अच्छे अच्छों की आखें फटी रह जाएँगी, लेकिन कुछ दोगलो पर अब भी कोई असर नहीं पड़ेगा.

First place human rights
But this is the first time that the conscience of a member of human rights has awakened and he has shown the pain of the Hindus, after that he has exposed the horrific disclosure that the eyes of good ones will be torn apart, but some people still Will not affect.

रोहिंग्या छोड़िये हिन्दुओं को लेकर हुआ बड़ा खुलासा
अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक पहली बार किसी मानवाधिकार कार्यकर्ता ने संगठन से हटकर हिन्दुओं के दुःख दर्द को समझा है. मानवाधिकार कार्यकर्ता और प्रोफेसर रिचर्ड बेंकिन ने खुलासा किया है कि बांग्लादेश में हिंदू समुदाय का लगातार सफाया हो रहा है. जिससे वो लगातार सिमटता जा रहा है. लेकिन सब इसे अनदेखा कर रहे हैं.

Leave Rohingya big reveals to Hindus
According to the big news nowadays, for the first time a human rights activist has understood the sadness of the Hindus suffering from the organization. Human rights activist and professor Richard Benkin has revealed that the Hindu community is being wiped out in Bangladesh continuously. From which he is constantly falling. But all are ignoring it.

एक वक़्त वो भी तक जब 1974 में बांग्लादेश की करीब एक-तिहाई आबादी हिंदुओं की हुआ करती थी. लेकिन साल 2016 में यह घटकर कुल आबादी का 15वां हिस्सा रह गई है. इसका मतलब जानते हैं आप सीधा 33% से घटकर 7% के करीब हिन्दू रह गए है जबकि 93% मुस्लिम हैं और पाकिस्तान में तो और बुरे हालत हैं वहां केवल 2% हिन्दू हैं.

At one point, even when in 1974 nearly one-third of Bangladesh’s population used to belong to the Hindus. But in 2016, it is reduced to 15th of the total population. This means that you have been reduced from 33% straight to 7% Hindus, while 93% are Muslims and in Pakistan there is only worse condition, only 2% are Hindus.

अमेरिकी मानवाधिकार कार्यकर्ता और प्रोफसर रिचर्ड बेंकिन लगातार बांग्लादेश की यात्रा करते रहते हैं. वहां अपनी यात्रा के दौरान बताया कि वह इस दक्षिण एशियाई देश में हिंदुओं के जातीय सफाए के खिलाफ कार्य कर रहे हैं.

American human rights activist and professor Richard Benkin constantly travels to Bangladesh During his visit, he told that he is working against the ethnic cleansing of Hindus in this South Asian country.

बेंकिन ने कहा “शेख हसीना और खालिदा जिया के अंतर्गत बांग्लादेशी सरकारें उन लोगों के खिलाफ कोई सख्त कदम उठाने में नाकाम रहीं हैं जो हिंदुओं के खिलाफ काम कर रहे हैं.”

Benkin said “Bangladeshi governments under Sheikh Hasina and Khaleda Zia have failed to take any stern steps against those people who are working against the Hindus.”

जानबूझकर हिन्दू महिलाओं और बच्चों को किया जा रहा है टारगेट
बेंकिन यहां भारतीय विचार केंद्रम द्वारा आयोजित कार्यक्रम में व्याख्यान देने आए थे. उन्होंने बेहद चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा कि बांग्लादेश में हिंदू महिलाओं और बच्चों के लापता होने के मामले सामने आए हैं. उन्होंने कहा कि पूरा विचार महिला को खत्म करने का है ताकि वह हिंदू को जन्म न दे सके. साथ ही बच्चों को इसलिए निशाना बनाया जा रहा है कि जिससे हिंदुओं की अगली पीढ़ी को समाप्त किया जा सके.

Intentionally targeting Hindu women and children
Benin came here to give a lecture in the program organized by the Indian Idea Center. He revealed a very shocking disclosure and said that cases of disappearance of Hindu women and children have been revealed in Bangladesh. He said that the whole idea is to eliminate the woman so that she could not give birth to the Hindu. Besides, children are being targeted so that the next generation of Hindus can be eliminated.

दरअसल हिन्दू समुदाय के पूरी तरह सफाय में जुटे लोगों की ये मंशा है हिन्दू महिलाओं,बच्चों को निशाना बनाओ जिससे कोई हिंदू पैदा ना हो और नई पीढ़ी भी समाप्त हो जाए. इससे पहले आय दिन मंदिरों में मूर्तियों को भी तोड़ने का काम ज़ोरों पर किया जा रहा है.

In fact, the intention of the people of the entire community to be completely defeated is to target Hindu women and children, so that no Hindu can be born and the new generation will end. Earlier, on the eve of the day, the work of breaking the idols in the temples is being done.

बेंकिन ने कहा “शेख हसीना और खालिदा जिया के अंतर्गत बांग्लादेशी सरकारें उन लोगों के खिलाफ कोई सख्त कदम उठाने में नाकाम रहीं हैं जो हिंदुओं के खिलाफ काम कर रहे हैं.”

Benkin said “Bangladeshi governments under Sheikh Hasina and Khaleda Zia have failed to take any stern steps against those people who are working against the Hindus.”

जानबूझकर हिन्दू महिलाओं और बच्चों को किया जा रहा है टारगेट
बेंकिन यहां भारतीय विचार केंद्रम द्वारा आयोजित कार्यक्रम में व्याख्यान देने आए थे. उन्होंने बेहद चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा कि बांग्लादेश में हिंदू महिलाओं और बच्चों के लापता होने के मामले सामने आए हैं. उन्होंने कहा कि पूरा विचार महिला को खत्म करने का है ताकि वह हिंदू को जन्म न दे सके. साथ ही बच्चों को इसलिए निशाना बनाया जा रहा है कि जिससे हिंदुओं की अगली पीढ़ी को समाप्त किया जा सके.

Intentionally targeting Hindu women and children
Benin came here to give a lecture in the program organized by the Indian Idea Center. He revealed a very shocking disclosure and said that cases of disappearance of Hindu women and children have been revealed in Bangladesh. He said that the whole idea is to eliminate the woman so that she could not give birth to the Hindu. Besides, children are being targeted so that the next generation of Hindus can be eliminated.

दरअसल हिन्दू समुदाय के पूरी तरह सफाय में जुटे लोगों की ये मंशा है हिन्दू महिलाओं,बच्चों को निशाना बनाओ जिससे कोई हिंदू पैदा ना हो और नई पीढ़ी भी समाप्त हो जाए. इससे पहले आय दिन मंदिरों में मूर्तियों को भी तोड़ने का काम ज़ोरों पर किया जा रहा है.

In fact, the intention of the people of the entire community to be completely defeated is to target Hindu women and children, so that no Hindu can be born and the new generation will end. Earlier, on the eve of the day, the work of breaking the idols in the temples is being done.

यह भी देखे

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

SOURCE POLITICAL REPORT

बड़ी खबर: इस्लाम के कट्टर विरोधी पार्टी AFD ने जर्मनी संसद में मारी एंट्री, घुसपैठियों समेत कट्टरपंथियों में मातम का माहौल

जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने देश के आम चुनाव में जीत हासिल करते हुए अपना चौथा कार्यकाल पक्का कर लिया। वहीं, खुले तौर पर इस्लाम और इमिग्रेशन विरोधी, धुर दक्षिणपंथी (ऑल्ट लाइट) पार्टी एएफडी को भी संसद में एंट्री मिल गया।

Germany’s Chancellor Angela Merkel confirmed her fourth term while winning the general elections in the country. At the same time, openly anti Islam and anti-immigration, Alt Right Party AFD also got entry in Parliament.

एक्जिट पोल में सामने आए नतीज़ों ने जहां एक ओर चांसलर मर्केल की जीत से स्थिरता का एहसास कराया तो वहीं दूसरी ओर इस भयावह तथ्य को भी सामने लाया कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद हिटलर की विचारधारा वाली ऑल्ट राइट पार्टी, ‘अल्टरनेटिव फॉर जर्मनी’ (AFD) को संसद में एंट्री मिल गई है।

On the other hand, the results emerged in exit polls, while on the one hand, Chancellor Merkel’s victory made the stability clear, on the other hand it brought to light the horrific fact that after the Second World War, Hitler & # 39; s ideologue Alt Wright party, ‘Alternative for Germany’ ( AFD) has got entry in Parliament.

एक्जिट पोल के अनुसार मर्केल ने अपने कंजरवेटिव (सीडीयू/सीएसयू) अलायंस के साथ करीब 33 प्रतिशत वोट्स हासिल किया। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी सोशल डेमोक्रेट्स और उसके उम्मीदवार मार्टिन शूल्ज दूसरे नंबर पर रहे और 20 से 21 प्रतिशत वोट हासिल किया।

According to exit polls, Merkel got around 33 percent of the votes with his Conservative (CDU / CSU) Alliance. Their closest rival, Social Democrats and its candidate Martin Schulz, remained second and got 20 to 21 percent of the votes.

हालांकि, इस्लाम विरोधी और इमिग्रेशन विरोधी ‘अल्टरनेटिव फॉर जर्मनी’ (एएफडी) पार्टी ने करीब 13 प्रतिशत वोट हासिल किया और जर्मनी की तीसरी सबसे मजबूत पार्टी के रूप में उभरी. वहीं लंबे समय से जर्मनी की राजनीति में मज़बूत रही ग्रीन और लिबरल पार्टी को भी ‘अल्टरनेटिव फॉर जर्मनी’ ने पछाड़ दिया।

However, anti-Islamic and anti-immigration anti-alteration for Germany (AFD) party got about 13 percent of the vote and emerged as the third strongest party in Germany. For the long time, the Green and Liberal Party, which remained strong in Germany’s politics, also beat the ‘Alternative for Germany’.

जर्मनी में भी आतंकवाद बहुत तेज़ी से फ़ैल रहा है और उसका सबसे बड़ा कारन है की जर्मनी के राजनेता बहार से आरहे सारे मुसलमान को अपने देश में आने दे रहे है और उनमे से बहुत से ऐसे लोग भी है जो कट्टरता में लिप्त है एयर जिहाद में यकीं करते है। AFD का संसद में आना इस बात का इसारा है की अब जर्मनी के लोग भी इन घुसपैठिओ से तंग आगये है। वही इन घुसपैठिओ में मातम का माहौल है क्यों की AFD इनका पूरी तरह से विरोध करेगी।

Terrorism is also spreading rapidly in Germany, and the biggest reason is that German politicians are allowing all Muslims to come to their country and many of them are people who are involved in fanaticism in Air Jihad Do so. The AFD coming to Parliament is of the opinion that now the people of Germany are fed up with these intruders. The same is the atmosphere of weeds in these intruders, because the AFD will oppose them completely.

देखें ये वीडियो :

https://youtu.be/bCvQxCNCSV4

source indiamirrors.in