बड़ी खबर : चिदंबरम घोटाले में नया मोड़, हाई कोर्ट ने सुनाया बेहद चौंकाने वाला फैसला, CBI समेत PM मोदी हैरान, ख़ुशी से पागल हुए कांग्रेसी…

नई दिल्ली : भ्रष्टाचार किस हद तक देश के सिस्टम में घुस गया है कि आज देश में एक भी आरोपी अगर गलती से पकड़ा भी जाता है तो हमारे देश की उदारदिल वाली न्यायपालिका उसे रहम दिखाकर छोड़ देती है और जब वही आरोपी देश से फरार हो जाते हैं तब मोदी सरकार पर आरोप थोप दिया जाता है.

New Delhi: To the extent that corruption has entered the system of the country, if a single accused is caught by mistake in the country today, then the liberal judiciary of our country shows him mercy and when the same accused escaped from the country Then the charge is imposed on the Modi Government.

सबसे बड़े घोटाले में हाई कोर्ट ने सुनाया बेहद चौंकाने वाला फैसला
सबसे बड़े घोटाले INX मीडिया केस में बेहद आश्चर्यजनक फैसला सुनाकर सारी सीबीआई की मेहनत पर आज हाईकोर्ट ने पानी फेर दिया. दिल्ली हाईकोर्ट अपने पुराने ट्रैक रिकॉर्ड के लिए मशहूर है, इससे पहले भी एक जज को घूस लेने के मामले में गिरफ़्तार किया गया था. आज फिर लोगों का देश की न्यायव्यवस्था पर से भरोसा उठ गया.

High court pronounced a very shocking decision in the biggest scam
High court verdict in the biggest scandal INX media case, after hearing a very surprising decision, on the whole of the CBI’s work hardened the water. The Delhi High Court is famous for its old track record, even before a judge was arrested in connection with a bribe. Today, the people got reliance on the judiciary of the country.

गुस्से से भड़के लोग
अभी मिल रही बहुत बड़ी खबर के मुताबिक दिल्ली हाईकोर्ट ने आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में ED (प्रवर्तन निदेशालय) द्वारा दर्ज मामले में कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तारी से 20 मार्च तक के लिए अंतरिम राहत दे दी है. इस फैसले ने देशभर के लोगों को चौंका के रख दिया. सोशल मीडिया पर लोगों का न्यायपालिका के विर्रुध गुस्सा भड़क उठा है.

Angry people
According to the very big news, the Delhi High Court has given interim relief for arrest of Karti Chidambaram till March 20 in the case filed by the ED (Enforcement Directorate) in the INX media money laundering case. This decision surprised the people of the country. On the social media, people’s anger against the judiciary has erupted.

सीबीआई ED चीख-चीख के कहती रही कि बेल(राहत) न दी जाय, बाहर जाकर सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर दी जायेगी लेकिन कोर्ट ने वकीलों की एक भी दलील नहीं सुनी और आज ही मामला हाईकोर्ट पंहुचा और आज ही राहत मिल गयी. यही नहीं उल्टा खुद जज साहब ने सुनवाई को चुनौती देने वाली कार्ति की याचिका पर केन्द्र में मोदी और प्रवर्तन निदेशालय से कड़ा जवाब मांगा है.

The CBI ED was shouting that Bell did not get relief, the evidence would be tampered with outside but the court did not hear any plea of ​​lawyers and today the matter reached the High Court and got relief today. Not only this, the judge himself asked for a strong response from the Modi and the Enforcement Directorate at the Center on the petition of Karti challenging the hearing.

चिंता मत करो मैं हूँ ना सब देख लूंगा
अब कोर्ट में सुनवाई में चिदंबरम ने सारे सबूत देख लिए हैं अब बेशक उनके साथ बाहर छेड़छाड़ होने की सम्भावना है, ऐसे में कोर्ट कैसे ऐसा फैसला सुना सकता है. जबकि खुद जेल में कैद इन्द्राणी मुखर्जी ने कबूला है की चिदंबरम ने करोड़ों के फर्जीवाड़े किये हैं. कार्ति के गिरफ़्तारी पर खुद पी चिदंबरम ने कहा था चिंता मत करो मैं हूँ ना सब देख लूंगा.

Do not worry i am not sure
Now Chidambaram has seen all the evidence in the hearing in the court. Now of course, he is likely to be tampered with, in this case, the court can decide such a decision. While imprisoned in jail himself, Indrani Mukherjee has admitted that Chidambaram has made crores of rupees. P. Chidambaram himself said on Karti’s arrest: “Do not worry, I am not sure.

खून कर दूंगा तब भी छूट जाऊंगा
बता दें कार्ति चिदंबरम को दिल्ली एयरपोर्ट से सीबीआई ने सुबह तड़के गिरफ्तार कर लिया था. इससे पहले जबकि कार्ति चिदंबरम खुद सीबीआई जांच में सहयोग नहीं कर रहा था. सीबीआई अधिकारीयों को धमकी दे रहा था बाहर निकलते ही देख लूंगा, पासवर्ड नहीं दूंगा भाड़ में जाओ. यही नहीं ट्विटर पर गौरवप्रधान ने खुलासा किया है कि कार्ति चिदंबरम ने कहा था कि मामला अब हाई कोर्ट में आ गया है मैं अगर खून भी कर दूंगा न तब भी मैं छूट जाऊँगा और तुम कुछ नहीं कर पाओगे.

I will die even after killing
Karti Chidambaram was arrested by the CBI from the Delhi airport early in the morning. Earlier, while Karti Chidambaram himself was not cooperating in the CBI inquiry. CBI officials were threatening to see me as soon as I came out, I will not pass my password. Not only this, the proud Prime Minister has revealed that Karti Chidambaram had said that the matter has now come to the High Court. Even if I will do the blood, I will still be able to do it and you will not be able to do anything.


आज फैसला सुनाते हुए जज एस. रविन्द्र भट ने यह राहत प्रदान करते हुए स्पष्ट किया कि सीबीआई के मामले में विशेष अदालत यदि कार्ति को जमानत देती है तो, ऐसी स्थिति में अगली सुनवाई तक निदेशालय उन्हें गिरफ्तार नहीं करेगा.

I will die even after killing
Karti Chidambaram was arrested by the CBI from the Delhi airport early in the morning. Earlier, while Karti Chidambaram himself was not cooperating in the CBI inquiry. CBI officials were threatening to see me as soon as I came out, I will not pass my password. Not only this, the proud Prime Minister has revealed that Karti Chidambaram had said that the matter has now come to the High Court. Even if I will do the blood, I will still be able to do it and you will not be able to do anything.

इससे पहले हमने आपको बताया था कि जब सीबीआई ने चिदंबरम के घर पर रेड मारी तो कैसे इस केस जुडी ख़ुफ़िया फाइल जो की कोर्ट में होनी चाहिए थी वो चिदंबरम के घर से बरामद हुई थी. एक लालू को जेल भजने में हमारे देश की लचर न्यायपालिका को 20 साल लग गए. इसके अंदर करने में और 20 साल लगने का इंतज़ार करना पड़ेगा.

Earlier, we had told you that when the CBI had killed Reddy at Chidambaram’s house, then how did the case that was supposed to be in the court, was recovered from Chidambaram’s house. It took 20 years for the lucrative judiciary of our country to worship a Lalu Prison. It needs to wait for another 20 years to get inside it.

इस फैसले के बाद से ट्विटर पर लोगों का गुस्सा भड़क उठा है. प्रिया नाम की एक यूजर ने लिखा बहुत अच्छा काम किया मीलॉर्ड, सरे भ्रष्ट लोगों को आज़ाद कर दो वरना वो तुम्हे टेबल के नीचे से मोटा पैसा कैसे देंगे. एक यूजर ने लिखा है कि खुद जज साहब की पत्नी कार्ति चिदंबरम का केस देख रही हैं ये तो होना ही था.

Since this verdict, people have got angry at Twitter. A user named Priya wrote a very good job, liberate the meleards, all the corrupt people, or else they will give you a rough money from under the table. A user has written that the person himself is watching the case of Mrs. Karti Chidambaram, wife of the judge, that was it.

तो वहीँ एक यूजर ने लिखा है हाई कोर्ट मशहूर है अपने इसी इतिहास की वजह से. यही होता है जब वामपंथियों जज के सेना कुर्सी पर जमकर बैठ जाती है. कांग्रेस ने 10 सालों में सब जगह अपनी जड़ें जमाई हुई हैं वरना इतने संगीन घोटाले में छूट कैसे दी जा सकती है.

So a user has written the High Court is famous because of its history. This is what happens when the army of the judge settles down on the chair. The Congress has rooted all over the place in 10 years or else, how much relaxation can be given in such a bogus scam.

एक यूजर ने लिखा है पीएम मोदी इसमें क्या कर लेंगे वो अकेले इन सब भ्रष्ट तंत्रों के चलते अकेले लड़ाई लड़ रहे हैं.

यह मामला आईएनएक्स मीडिया से जुड़ा है. आईएनएक्स मीडिया के फंड को FIPB के जरिये तब मंजूरी दी गई थी, जब पी. चिदंबरम विभाग के मंत्री थे. गैर-कानूनी तरीके से मंजूरी दिए जाने के लिए इस मामले में जांच शुरू तो हुई थी लेकिन यूपीए सरकार के दौरान इस मामले को दबाने की कोशिशें की गई थी, जिसे अब दोबारा शुरू किया गया है

One user has written what PM Modi will do in this matter alone, they are fighting alone because of all these corrupt systems.

This matter is connected to the INX media. Fund of INX Media was approved by FIPB, when P. Chidambaram was the minister of the department. In the matter of investigation for illegal approval, it was started, but during the UPA government, an attempt was made to suppress the case, which has now been started again.

यह भ देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

sourcename:politicalreport

पीएम मोदी का ऐसा जबरदस्त एक्शन,जिससे नीरव मोदी समेत पुरे देश में हड़कंप

नई दिल्ली (27 फरवरी) : देश की सबसे भ्रष्टाचारी पार्टी का खिताब पा चुकी कांग्रेस जब सत्ता में थी, तब कोंग्रेसी नेताओं के साथ-साथ भ्रष्ट अधिकारियों व् कारोबारियों ने भी भ्रष्टाचार की मलाई जमकर खायी. मोदी सरकार के आने के बाद जब मामले खुलकर सामने आने लगे तो भ्रष्टाचारी जान बचाकर भाग रहे हैं. मगर अब मोदी सरकार ने ऐसा एक्शन लिया है, जिसे देख भ्रष्टाचारियों के भी होश उड़े हुए हैं, खासतौर पर उनके, जो ये सोचकर देश से भाग गए हैं कि भारत सरकार उनका कुछ बिगाड़ नहीं पाएगी.

New Delhi (February 27, 2013): When Congress was in power in the country’s most corrupt party, when the Congress leaders were in power, corrupt officials and businessmen ate along with the cream of corruption. After the Modi government came, when the cases came out openly, the corrupt people are running away. But now the Modi government has taken such action, which is also seen in the eyes of corrupt people, especially those who have fled from the country thinking that the Government of India will not be able to make any difference to them.

10 देशों में ईडी का एक्शन
हाल ही में सामने आये पीएनबी घोटाले में जांच एजेंसियां बेहद सख्त मूड में हैं. नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की ना केवल भारत की सभी सम्पत्तियाँ जब्त कर ली गयी हैं बल्कि अब विदेशों में भी इनका जीना दूभर करने की तैयार कर ली गयी है.

ED action in 10 countries
In the recent PNB scandal, investigating agencies are in a very strict mood. Nirav Modi and Mehul Vakasi have not only seized all the properties of India, but have now been prepared to confuse them in foreign countries.

प्रवर्तन निदेशालय ने पंजाब नेशनल बैंक से करीब 12600 करोड़ रुपये का लोन लेकर विदेश भागे आरोपी नीरव मोदी मामले में 10 देशों को पत्र लिखकर उनसे कहा है कि वो वहां नीरव मोदी की विदेशी संपत्ति और ठिकानों के बारे जानकारी भारत सरकार को दें, ताकि उन्हें जब्त कर लिया जाए.

The Enforcement Directorate has written a letter to the 10 countries of Punjab National Bank, taking a loan of around Rs 12,600 crore from abroad to Nirav Modi and asked them to give information about Neerav Modi’s foreign assets and locations to the Indian government, so that they may be seized. Be done

विदेशी संपत्ति जब्त कर बना देंगे भिखारी
ईडी ने कहा कि इससे वह हांगकांग, अमेरिका, ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात, दक्षिण अफ्रीका और सिंगापुर अपराध की कमाई जब्त करने और दस्तावेज तथा सबूत जुटाने में मदद मिलेगी. अनुरोध पत्र एक देश की अदालत द्वारा दूसरे देश की अदालत को जारी किया जाता है. निदेशालय ने अदालत को बताया कि नीरव मोदी ने कई कंपनियां बनाई हैं. इनमें डायमंड आर यूएस, सोलर एक्सपोर्ट्स, स्टेलर डायमंड, फायरस्टार डायमंड शामिल हैं.

Beggars will seize foreign property
ED said that this will help in seizing the earnings of Hong Kong, US, UK, United Arab Emirates, South Africa and Singapore crime and gathering documents and evidence. The request letter is issued by a country’s court to another country’s court. The Directorate told the court that Neerav Modi has made several companies. These include Diamond R US, Solar Exports, Stellar Diamond, Firestars Diamond.

ईडी ने अदालत में अपनी अपील में कहा कि नीरव मोदी ने अपना कारोबार अमेरिका, ब्रिटेन, यूएई, दक्षिण अफ्रीका और सिंगापुर तक फैलाया हुआ है. आवेदन में कहा गया है कि उसकी अपराध की कमाई का कुछ हिस्सा विदेशों में रखा हुआ है.

ED in its appeal in the court said that Neerav Modi has spread his business to the US, UK, UAE, South Africa and Singapore. The application says that part of the income of his crime is kept abroad.

साफ़ जाहिर है कि नीरव मोदी भले ही देश छोड़कर भाग गया हो, मगर जांच एजेंसियां उसके पीछे पूरी ताकत से लगी हुई हैं. ना केवल उसकी विदेशी सम्पत्तियाँ जब्त करने की पूरी तैयारी है बल्कि उसे वापस भारत लाने की भी पूरी कोशिशें की जा रही हैं. नीरव मोदी के भारत आने से कई अन्य भ्रष्टाचारियों का भी पर्दाफ़ाश होने की उम्मीद है, खासतौर पर उन नेताओं का, जिनकी सहायता से नीरव मोदी ने इतने बड़े पैमाने पर लूट मचाई.

Clearly, Neeru Modi may have left the country, but the investigating agencies have been behind him with full force. Not only is there complete preparation to seize its foreign properties but also efforts are being made to bring it back to India. Many other corrupt people are also expected to be exposed after the arrival of Nirv Modi, especially with the help of those leaders who had looted at such a massive scale.

यह भी देखे

https://youtu.be/1YmeDP0wOXs

sourcename:political report

 

PNB बैंक के बाद इस बड़े बैंक, में घोटाला शामिल है ये बड़ा कांग्रेसी दामाद

नई दिल्ली : PNB बैंक के घोटाले में ताबड़तोड़ एक्शन से नीरव मोदी और उसके परिवार की सम्पत्तियों को जब्त करने का काम तेज़ी से चल रहा है. 6000 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली गयी है अब तक और 18 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं. कांग्रेस शासन में हुए इस घोटाले का इल्जाम कांग्रेस ने पीएम मोदी पर लगा रही है.

New Delhi: The process of seizing properties of Nirav Modi and his family is being carried out fast with prompt action in the PNB Bank scam. Property worth 6000 crores has been seized so far and 18 arrests have taken place. The Congress is putting PM on the blame for the scam in the Congress rule.

PNB के बाद OBC घोटाले में कोंग्रेसी दामाद का निकला कनेक्शन
इस बीच एक और OBC बैंक का साल 2007 का ज़बरदस्त 2000000000 रूपए घोटाला सामने आ गया है. घोटाले का खुलासा होते ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने इसके लिए फुर्ती से पीएम मोदी पर हमला बोलना शुरू कर दिया. लेकिन मज़े की बात देखिये इस घोटाले में भी कांग्रेस का गहरा कनेक्शन निकल आया. वो भी कोई छोटा मोटा कांग्रेसी नहीं मुख्यमंत्री का दामाद बुरी तरह इस घोटाले में लिप्त पाया गया है.

Congressional son-in-law connection in OBC scandal after PNB
In the meanwhile, another OBC bank’s 2007 year-old 200,000,000 rupees scandal has come out. When the scandal was exposed, Congress President Rahul Gandhi hastily started attacking PM Modi for this. But watch out for fun, there was a deep connection of Congress in this scam. The son-in-law of the Chief Minister, who is also a small, thick Congressman, has been found badly involved in this scam.

सिंभावली शुगर लिमिटेड
अभी मिल रही बहुत बड़ी खबर के मुताबिक पीएनबी घोटाले के बाद अब ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में 200 करोड़ के लोन डिफॉल्ट और धोखधड़ी का मामला सामने आया है. यूपी की सिंभावली शुगर लिमिटेड कंपनी पर सीबीआई ने धोखाधड़ी के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है. आप जानकार हैरान रह जाएंगे इस बड़े घोटाले में सीबीआई ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के दामाद समेत 13 लोगों पर केस दर्ज किया है.


Sinbhavali Sugar Limited
According to the very big news now, after the PNB scam, the case of loan default and scam of Rs 200 crore has come out in the Oriental Bank of Commerce. The CBI has registered an FIR in the case of fraud in the Sinchanghi Sugar Ltd Company of UP. You will be surprised that in this big scandal, the CBI has registered a case against 13 people, including son of Punjab Chief Minister Capt Amarinder Singh.

क्या अब इस घोटाले के बाद भी कांग्रेस मोदी सरकार पर इल्जाम लगाएगी ? हर घोटाले में कहीं न कहीं कांग्रेस का बड़ा हाथ निकल ही आता है. अकेले सिंभावली शुगर लिमिटेड पर 97.85 करोड़ रुपए का लोन नहीं चुकाने का मामला दर्ज किया गया है. इस कंपनी के इसके सीएमडी गुरमीत सिंह मान, डिप्टी एमडी गुरुपाल सिंह और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

Will the Congress still blame the Modi government after this scam? Somewhere in every scam the Congress’s big hand comes out. A case has been filed for not paying a loan of Rs. 97.85 crores on Singbhali Sugar Limited alone. The company has registered a case against its CMD Gurmeet Singh Mann, deputy MD Gurpal Singh and others.

गन्ना किसानों के साथ इतना बड़ा धोखा
यही नहीं इस घोटाले में भी PNB घोटाले की तरह एफआईआर में OBC बैंक के बड़े अधिकारीयों का नाम शामिल है. इस घपले के पीछे तो बेहद दर्दनाक बात छुपी हुई है, जिसने अब इस देश को झकझोर के रख दिया है. PNB घोटाला तो हीरा व्यापारी ने अपने लिए लिया था लेकिन ये OBC घोटाला में तो कंपनी ने साल 2011 में रिजर्व बैंक की गन्‍ना किसानों के लिए लाई गई योजना के तहत ही 97.85 करोड़ का लोन लिया था. इस भारी भरकम रकम को 5762 गन्ने के किसानों को वित्तीय सहायता दी जानी थी. लेकिन इस लोन की राशि को बैंक और कंपनी ने अपने निजी इस्तेमाल के लिए गलत ढंग से ट्रांस्फर कर लिया.

Such a big fraud with sugar cane farmers
Not only this, this scam also includes the names of senior officers of OBC Bank in the FIR like PNB scam. This painful thing has been hidden behind this scandal, which has now kept the country shameless. The PNB scam was taken by the diamond trader for himself, but in the OBC scam, the company had taken a loan of Rs 97.85 crore in 2011, under the scheme for the sugarcane farmers of the Reserve Bank. Financial assistance to 5762 sugarcane growers was to be given to this huge amount. But the amount of this loan was incorrectly transferred by the bank and the company for its personal use.

इस वजह से कर रहे थे किसान आत्महत्या
आपको याद होगा कुछ वर्षों पहले एक के बाद एक गन्ना किसानो की आत्महत्या का मामला सामने आया था. जिसके पीछे के राज़ अब खुलकर सामने आ रहे हैं. गन्ना किसानों के नाम पर ये क़र्ज़ लिया गया और जैसे ही मोदी सरकार सत्ता में आयी ये क़र्ज़ को तुरंत NPA घोषित कर दिया गया. NPA मतलब ऐसा क़र्ज़ जिसे बैंक वसूलने में असमर्थ है और उसकी भरपाई अब सरकार करेगी.

Farmers commit suicide due to this
You will remember a few years ago a case of suicide of sugarcane farmers was revealed. The secret behind which is now openly exposed. This loan was taken in the name of sugarcane farmers and as soon as the Modi government came to power, this loan was immediately declared as an NPA. NPA means a loan which is unable to recover the bank and the government will compensate it now.

कर्जे के ऊपर दिया गया एक और कर्ज
यही नहीं जब कंपनी पहले से ही कर्ज़े में डूबी हुई थी उसके बाद फिर से कंपनी ने पिछले लोन को चुकाने के लिए 110 करोड़ रु का एक और नया लोन ले लिया. एफआईआर के अनुसार दूसरे लोन को भी नोटबंदी के 20 दिन बाद 29 नवंबर 2016 को NPA घोषित कर दिया गया.

Another loan above loan
Not only this, when the company was already in debt, the company again took another loan of Rs 110 crore to repay the previous loan. According to the FIR, the second loan was declared NPA after 20 days of note-taking on November 29, 2016.

एफआईआर के अनुसार बैंक से 97.85 करोड़ रु की धोखाधड़ी का मामला है लेकिन असल में बैंक को 109.08 करोड़ रु का नुकसान हुआ है. सीबीआई ने सिंभावली शुगर्स लिमिटेड के खिलाफ मामले के सिलसिले में दिल्ली और उत्तरप्रदेश में कई स्थानों पर छापेमारी की है. छापेमारी के साथ सीबीआई ने आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है. गौरतलब है कि यह कंपनी शुगर रिफाइनरी कंपनियों की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है. यह कंपनी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में भी लिस्टेड है.

According to the FIR, there is a case of fraud of Rs 97.85 crore from the bank, but in reality the bank has suffered a loss of Rs 109.08 crore. The CBI has conducted raids at various places in Delhi and Uttar Pradesh in connection with the case against Sinbhavali Sugars Limited. With the raid, the CBI has started looking for the accused. Significantly, this company is one of the largest companies of Sugar Refinery Companies. The company is also listed on the Bombay Stock Exchange.

बड़ी सोची समझी साज़िश का खुलासा
इससे पहले हमने आपको बताया था ये घोटाले बैंक के बड़े अधिकारी भी शामिल हैं. बड़ी सोची समझी साज़िश के तहत ज़बरदस्त लूट मचाई गयी है. जानबूझ कर कर्ज़ों को NPA घोषित किया जा रहा है और इसकी भरपाई के लिए जब मोदी सरकार सत्ता में आयी तो उन्होंने बैंकों के खस्ता हालत के लिए ढाई लाख करोड़ दिए क्यूंकि देशभर के बैंक करीब 9 लाख करोड़ रूपए का क़र्ज़ अब तक लुटा चुके हैं.

Explanation of a very intriguing conspiracy
Earlier we had told you that these scams are also included in the bank’s top officials. Under a very thoughtful conspiracy, there was a great loot. Deliberately the loans are being declared as NPA and when the Modi government came to power to compensate it, they gave 2.5 lakhs for the tranquil condition of the banks, because the banks across the country have lienged nearly Rs.9 lakh crore so far.

नोटबंदी के बाद मचा हड़कंप
कुल मिलाकर मिल बाँट कर ये सभी देश को लूटने में लिप्त रहे. मगर देश की जनता ने मोदी को प्रधानमंत्री बनाकर इनका खेल बिगाड़ दिया. जैसे ही पीएम मोदी ने नोटबंदी की, सभी भ्रष्टाचारी एक सुर में रोने-चिल्लाने लगे थे. अगर आज भी मोदी सरकार ना आयी होती तो कभी देश को पता ही नहीं चलता कि अंदर ही अंदर दीमक की तरह देश को खोखला किया जा रहा है और बैंक अधिकारीयों की मिलीभगत के साथ कांग्रेस दामाद देश की जनता का पैसा और गन्ना किसानों का खून चूस रहे हैं.

Circulation after registering
Overall, they are involved in looting all the country by distributing the mill. But the people of the country spoiled the game by making Modi the Prime Minister. As soon as PM Modi made a ban, all the corrupt people started crying and crying. If the Modi government had not come even today, then the country would never know that inside the country like the termite is being hollowed out and Congress son-in-law with the collusion of bank officials, the money of the people of the country and the sugarcane farmers shed blood Are there.

https://youtu.be/zebp2pu1dW4

आपको बता दें कि बीते 10 दिनों में सीबीआइ ने बैंकों की शिकायत पर कुल 7 से ज्यादा मामले दर्ज किए हैं। शिकायत करने वाले बैंकों में एसबीआइ, पंजाब नेशनल बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और तेलांगना ग्रामीण बैंक हैं। दर्ज किये गए ज्यादातर मामले बैंक कर्मचारियों की मिलीभगत से धोखाधड़ी के हैं.

Let me tell you that in the last 10 days, the CBI has registered more than 7 cases against the banks’ complaint. The banks complaining are SBI, Punjab National Bank, Oriental Bank of Commerce, Bank of Maharashtra and Telangana Rural Bank. Most of the cases registered are fraud by the collusion of bank employees.

यह भी  देखे

https://youtu.be/zebp2pu1dW4

source name:politicalreport