NGT कोर्ट का बंगाल में ममता सरकार पर टूटा जबरदस्त कहर, इतनी बड़ी लापरवाही की चुकाई भारी कीमत, सन्न रह गए वामपंथी

नई दिल्ली : आज कल पूरा देश बढ़ते प्रदुषण से परेशान है खासतौर पर दिल्ली. लेकिन इसके पीछे बाकी राज्य भी कई हद तक ज़िम्मेवार हैं क्यूंकि वे इसके लिए जो कदम उठाये जाने चाहिए वे उन्हें नहीं उठा रहे हैं. ऐसे में अब NGT कोर्ट ने लाइन से सभी राज्यों को रिमांड पर ले लिया है पहले पंजाब फिर दिल्ली तो अब ममता बनर्जी के ऊपर कड़ा कहर टूट पड़ा है.

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक कोलकाता और हावड़ा में वायु प्रदूषण कम करने में विफल रही पश्चिम बंगाल सरकार पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने पांच करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। दो साल पहले ही एनजीटी ने इससे संबंधित निर्देश दिया था, लेकिन राज्य सरकार इस पर खरा नहीं उतर सकी.

कोलकाता और हावड़ा में वायु प्रदूषण कम करने में विफल रही पश्चिम बंगाल सरकार पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने पांच करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। दो साल पहले ही एनजीटी ने इससे संबंधित निर्देश दिया था, लेकिन राज्य सरकार इस पर खरा नहीं उतर सकी. पीठ ने कहा कि उक्त आदेश इसलिए दिया गया क्योंकि एनजीटी के वर्ष 2016 के आदेश में वायु प्रदूषण रोकने के लिए जो उपाय सुझाए थे, उन्हें पश्चिम बंगाल सरकार ने लागू नहीं किया.

ऑफर तीन हफ्ते के अंदर ममता सरकार ने ये जुरमाना नहीं भरा तो दो प्रति महीने जुर्माने की राशि एक करोड़ रुपये बढ़ती जाएगी. मतलब जितना विलम्ब राशि उतनी ज़्यादा बढ़ती जायेगी.

बता दें राज्य में वायु प्रदूषण को रोकने के लिए खंडपीठ ने वर्ष 2016 में पहले के निर्देश में एनजीटी द्वारा अनुशंसित कई उपायों को लागू नहीं करने के लिए यह जुर्माना लगाया है। एनजीटी ने कोलकाता और हावड़ा के जुड़वां शहरों में डीजल वाहनों की संख्या कम करने के लिए वैकल्पिक तंत्र शुरू करने जैसे उपायों की सिफारिश की थी, धूम्रपान उत्सर्जन की निगरानी के लिए रिमोट सेंसिंग डिवाइस (आरएसडी) शुरू करने, कम्प्यूटरीकृत निगरानी स्टेशन तैयार करने को कहा गया था लेकिन राज्य सरकार ने इनमें से किसी भी आदेश का पालन नहीं किया।

अन्य उपायों में राज्य के विभिन्न हिस्सों में डंपिंग साइटों में अपशिष्ट जलने से रोकने, जुड़वां शहरों में गैर-बीएस-4 वाणिज्यिक वाहनों की प्रविष्टि की निगरानी आदि का निर्देश भी दिया गया था जिसे राज्य सरकार ने नहीं माना है।

दो साल की मध्यवर्ती अवधि के बाद एनजीटी ने यह जानना चाहा था कि राज्य पर्यावरण विभाग और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इन निर्देशों को लागू करने के लिए कोई कदम उठाया था या नहीं। एनजीटी ने एक विशेषज्ञ समिति द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के आधार पर 2016 के आदेश पारित किए थे, लेकिन पर्यावरणविद्

सुभाष दत्ता ने हाल में एक अवमानना ​​याचिका दायर की थी जिसके कारण ट्रिब्यूनल द्वारा जुर्माना लगाया गया है। एनजीटी ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव को अनुवर्ती कार्रवाई योजना और जुर्माना के भुगतान के संबंध में आठ जनवरी 2019 तक शपथपत्र दाखिल करने का निर्देश दिया है

source:dd bharti

ब्रेकिंग! भारतीय सेना ने दिखाया अपना रौद्र रूप, किया ऐसा हमला कि पाक फ़ौज में मची चीख-पुकार

जहाँ एक ओर भारत-चीन के बीच जबरदस्त तनाव चल रहा है, वहीँ पाकिस्तान भी अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रह है. बुद्धवार को पाकिस्तान ने ऐसी नीच हरकत कर डाली, जिसके बाद भारतीय सेना ने आपा खोते हुए पाकिस्तानी फ़ौज पर भयानक हमला बोल दिया, जिसमे पाकिस्तान का काफी नुक्सान होने की खबर है.

While there is tremendous tension between India and China, Pakistan itself is not even aware of its impractical movements. On Wednesday, Pakistan had made such a negative move, after which the Indian Army had a terrible attack on the Pakistani army losing its temper, in which there was a lot of loss to Pakistan.

पाक फ़ौज को कारगिल की दिलाई याद!
दरअसल बुधवार को पाकिस्तानी फ़ौज ने जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में सीजफायर का उल्लंघन करते हुए भारी गोलीबारी और मोर्टार से हमला कर दिया. जिसके बाद भारतीय सेना ने पाक फ़ौज पर ऐसा भीषण हमला किया, जैसा कारगिल युद्ध के बाद आजतक नहीं किया था.

Remembering Kargil’s handling of Pak army!
In fact, on Wednesday, Pakistani troops violated the siegefire in Poonch sector of Jammu and Kashmir and attacked with heavy firing and mortars. After that the Indian army did such a fierce attack on the Pak army, as Kargil did not do it after the war.

गुस्से में थी कि पाक फ़ौज से जुडी जो भी चीज सामने दिखी, उसे ही उड़ा दिया गया. पीओके में मेढ़र सेक्टर में भारतीय सेना ने कई पाक बंकरों को तबाह करते हुए सामने दिखने वाले पाक सैन्य वाहनों को भी उड़ा दिया. ऐसा भीषण हमला जिसे देख पाक फ़ौज में हड़कंप मच गया और अपने साथियों को मारे जाते देख पाक फ़ौज के सैनिक अपनी-अपनी जान बचाकर युद्ध मैदान से एक बार फिर भाग खड़े हुए.

Anything related to the Pak army was fired, it was blown away. In the PoK, the Indian Army in the Mercury Sector also blown up Pak Pakshi vehicles which were seen in front of the devastating many Pak bunkers. Seeing such a fierce attack that saw the Pak army rushing and killing their comrades, the Pak army soldiers managed to save their lives once again from the battlefield.

स्कूलों पर शैलिंग!
दरअसल पाकिस्तान की फ़ौज हर बार भारतीय नागरिकों को निशाना बनाकर हमला करती है लेकिन इस बार तो नीचता की सभी हदें पार करते हुए पाक फ़ौज ने बच्चों के स्कूलों को भी निशाना बनाया. स्थानीय प्रशासन के मुताबिक पाक फ़ौज ने 25 स्कूलों पर मोर्टार से हमला किया. बताया जा रहा है कि स्कूल परिसर में मोर्टार आकर गिरे.

Schools Shale!
Indeed, Pakistan’s army attacks every time by targeting Indian nationals, but this time, crossing all the limits of meanness, the Pak army also targeted children’s schools. According to the local administration, the Pak army attacked the 25 schools with mortar. It is being told that mortar has fallen in the school premises.

पाक फ़ौज की इस नीचता पूर्ण हरकत को देखते हुए सभी प्रभावित स्कूलों को बंद कर दिया गया है. पुंछ के जिला विकास कमिश्नर ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनज़र स्कूल बंद कर दिए गए हैं. उन्होंने बताया कि यदि जरुरत पड़ी तो इलाके के अन्य स्कूलों को बंद करने के निर्देश भी दिए जा सकते हैं.

All affected schools have been closed in view of this malafide failure of the Pak army. Poonch district development commissioner said that schools have been closed in view of security. He told that if necessary, instructions for closure of other schools in the area can also be given.

मंगलवार को नौशेरा में की थी फायरिंग!
बता दें कि मंगलवार को पाक फ़ौज ने एलओसी पर नौशेरा सेक्टर में मोर्टार से हमला किया था. जिसके कारण इलाके के 9 स्कूलों में लगभग 200 बच्चे और स्कूल स्टाफ के सदस्य स्कूलों में फंस गए थे. सभी बच्चे पूरा दिन स्कूलों में फंसे रहे. जिसके बाद सेना ने बुलेट प्रूफ वाहनों की मदद से उनकी जान बचाते हुए उन्हें सुरक्षित स्थानों पर ले गए. सेना के अलर्ट रहने और सही वक़्त पर एक्शन लेने के कारण किसी भी बच्चे की जान नहीं गयी.

Nowshera firing was done on Tuesday!
Let us know that on Tuesday the Pak army had attacked the LoC with mortar in Naushra sector. Due to which around 200 children and school staff members were stuck in schools in 9 schools of the area. All children are stuck in school all day long. After which the army took them to safer places while saving their lives with the help of bullet-proof vehicles. No child was killed due to the army’s alert and taking action on the right time.

वहीं नौगाम सेक्टर में पाकिस्तान फ़ौज की गोलीबारी में भारतीय सेना के एक जवान की जान चली गयी थी. जिसके बाद सेना ने आपा खोते हुए पाकिस्तान फ़ौज को बारूद से नहला दिया. गौरतलब है कि अभी कुछ ही वक़्त पहले पाकिस्तान में भी स्कूल पर आतंकियों ने हमला किया था, जिसमे कई बच्चों व् अध्यापकों की जान चली गयी थी. इस घटना पर पाकिस्तान ने काफी बवाल मचाया था और भारत में भी इस घटना का विरोध किया गया था.

At the same time, the firing of a Pakistani soldier in the navigat sector was lost. After that, the army gave up the Pakistan Army with gunpowder while losing its temper. It is worth noting that at least a few days ago, in Pakistan, the school was attacked by terrorists, in which many children and teachers died. Pakistan had played a great deal on this incident and in India too the incident was opposed.

जिसके बाद पाक फ़ौज ने जिम्मेदार आतंकियों पर हवाई हमले करके उन्हें मार गिराया था. आज उसी पाकिस्तान को भारतीय बच्चों पर हमला करते शर्म नहीं आयी. इस नीचता का जो भी सबक उन्हें सिखाया जाए वो ही कम है.

After that, the Pak army had attacked and assaulted the responsible terrorists by attacking them. Today, the same Pakistan has not come ashamed to attack Indian children. The lesson that this lesson can be taught to them is very less.

यह भी देखे

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

https://youtu.be/hsfxfSRtdUs

SOURCE NAME POLITICAL REPORT