विदेशी कंपनियों में मच गया हाहाकार देश छोड़ भागने की तैयारी , इस अकेले व्यक्ति ने कर दिया कमाल !

आपने सोशल मीडिया पे आज तक एक भी पोस्ट देखी है जिसमे Unilever , P&G , Nestle, या ITC जैसी किसी कंपनी को कोई पानी पी पी के गरिआया हो ? आज तक कभी किसी ने पूछा कि शक्तिभोग आटा इतना महंगा क्यों होता है ? Britannia के बिस्किट का क्या दाम है और उसके अंदर क्या डाला है | इसकी समीक्षा पढ़ी कभी आपने सोशल मीडिया पर ?

Have you seen a single post on social media till now whether any company like Unilever, P & G, Nestle, or ITC has got any water for P.P.? To this day have anyone ever asked why the power of flour is so expensive? What is the cost of biscuit in Britannia and what is inserted inside it. Have you ever read this review on social media?

 और Coke के नाम पे जो जहर परोसा जा रहा है , इनका जो दिन रात विज्ञापन आता है TV पर और अखबारों में और हमारे देश के सबसे बड़े film star और सबसे मशहूर खिलाड़ी दिन रात इसका विज्ञापन करके माल कूट रहे हैं , इसकी आलोचना करते कभी किसी को देखा सुना आपने ? किसान से 5 रु किलो आलू खरीद के 100 गुणा ज़्यादा महंगे दाम पे युवाओं को Chips खिला रही हैं Pepsico जैसी कंपनियां | कभी किसी को छाती कूटते हुए मुहर्रम मनाते देखा है इनके खिलाफ ?

The poison that is being served on the name of Pepsi and Coke, the day the advertisement arrives on TV and in the newspapers and the biggest film stars in our country and the most famous players are advertising it by night, criticizing it. Anyone ever heard of you? Farmers like Pepsico are feeding 100 times more expensive price of Rs 5 per kg of potato to the youth. Have you ever seen anyone celebrating Muharram with a chest against them?

Maurya Shereton में दाल बुखारा 1800 रु प्लेट क्यों बिकती है इसपे कभी सवाल उठाया किसी ने ?
ये दिन रात बाबा रामदेव के एक एक product की समीक्षा जो लोग करते हैं और दिन रात जो बाबा को गरियाते हैं, बाबा ने क्या ले लिया इनका ? इनको सिर्फ बाबा से ही क्यों allergy है ?

Somebody questioned why a plate of 1800 rupees is sold in the lentils of Maurya Shereton?
These days, one day Baba Ramdev’s review of one product, which people do, and day and night, which Baba bless, what did Baba take? Why is this allergy only to Baba?

सचिन तेंदुलकर और महेंद्र सिंह धोनी जैसे लोग भी तो खाकपती से अरबपति हो गए सिर्फ Coke और Pepsi का विज्ञापन करके | खाकपति से खरबपति हो जाने के लिए उनको तो कोई नही गरियाता ? So called राष्ट्रवादियों का सारा नजला सिर्फ Baba रामदेव पे ही क्यों गिरता है । Entrepreneur हो जाना इतना बुरा है क्या ?

People like Sachin Tendulkar and Mahendra Singh Dhoni also became billionaires with Khakat by advertising only Coke and Pepsi. Khachapati to become a Kharbapati he had no one to do? Why did the whole nation of the so-called nationalists fall only on Baba Ramdev? Is it so bad to become entrepreneur?

अपने ही देश में , एक स्वदेशी कंपनी खड़ी करके , देखते देखते सिर्फ 10 सालों में Unilever और Nestle जैसी Multi National कंपनियों को धूल चटा देना इतना बुरा है क्या | पतंजलि के बारे में इतना तो तय है कि इसका पैसा किसी राष्ट्रद्रोही गतिविधि में खर्च नही होगा | इसमे किसी दाऊद इब्राहिम या तेलगी का पैसा नही लगा है| कल को यदि पतंजलि 1 लाख करोड़ की कंपनी बन जाये तो क्या ये राष्ट्रीय गौरव का विषय नही ? एक स्वदेशी कंपनी के प्रति अपने ही लोगों का ये दुराग्रह क्यों ?

In our own country, by creating an indigenous company, it is so bad to throw dust on multi national companies like Unilever and Nestle in just 10 years. Regarding Patanjali, it is certain that its money will not be spent in any anti-trafficking activity. There is no money in Dawood Ibrahim or Telgi. If Patanjali becomes a company of one lakh crore tomorrow, is it not a matter of national pride? Why is this mystical attitude towards an indigenous company?

एक भारतीय व्यक्ति विदेशी कंपनियों के लिए कम्पटीशन पैदा कर रहा है, उन्हें लूटने नहीं दे रहा, दाम कम करने पर मजबूर कर रहा है, तो सभी को दिक्कत हो रही है, ये बुद्धिजीवी जिस थाली में खाते है उसी में छेद करते है, विदेशी कंपनियों की दलाली में ये भारतीयों को आगे बढ़ने नहीं देना चाहते, इसी कारण दुष्प्रचार करते है |

An Indian person is creating competition for foreign companies, not robing them, forcing prices to decrease, everyone is facing problems, those intellectuals eat in the plate they eat, foreigners They do not want to let Indians move forward in the brokerage of companies, that is why they propagate.

यह भी देखे :

https://youtu.be/Uzs16fYnw1k

https://youtu.be/VxtYK7YXsQ8

source name:political report