VIDEO : भरी ससंद में वेंकैया नायडू ने राहुल गांधी को कहा “ओ पप्पू भाई बैठ जाओ”, सोनिया गांधी देखती रह गयी |

भारतीय राजनीती में सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के हालत देखकर लोगो ने कभी नहीं सोचा होगा की जो पार्टी देश में लगभग 65 सालो तक राज किया उसे ये दिन देखना पड़ेगा! अगर 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की प्रदर्शन की बात करे तो देश की सबसे पुरानी पार्टी ने महज 44 साइट जीती थी |

Seeing the condition of the oldest Congress party in Indian politics, people will never have thought that the party which ruled the nation for nearly 65 years, will have to see this day! If you talk about Congress’s performance in the 2014 Lok Sabha elections, the country’s oldest party won only 44 sites.

इसके पीछे सबसे बड़ा कारन है कांग्रेस पार्टी द्वारा किया गया भरष्टाचार लेकिन इसके अलावे भी एक बड़ी वजह यह भी है की कांग्रेस की कमान सिर्फ एक परिवार के हाथो सौप दी गयी है चाहे उस परिवार के लोग योग्य हो या नहीं लेकिन कांग्रेस उनकी खानदानी पार्टी बनकर रह गयी है और आज कांग्रेस के इस दशा का जिमेवार भी नेहरू-गाँधी परिवार ही है |

The biggest reason behind this is the corruption done by the Congress party but apart from this, there is also a major reason that the Congress command has been handed over to a family only, whether or not the people of that family are eligible but the Congress is a family party. And today the situation of the Congress is also a matter of fact, the Nehru-Gandhi family.

कांग्रेस पार्टी की कमान आज पूरी तरह से राहुल गाँधी के हाथो में है, हलाकि की वो कांग्रेस के उपाध्यक्ष के पद पर विराजमान है लेकिन सारे अहम् फैसले उन्ही के द्वारा लिए जाते है! और कांग्रेस पार्टी के नेता उनमे भारत का प्रधानमंत्री देखते है! खबरों की माने तो बहुत जल्द पार्टी की ओर से राहुल गाँधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष भी घोसित किया जायेगा!

The Congress party’s command is completely in the hands of Rahul Gandhi, though he is the vice president of the Congress, all the ego decisions are taken by him! And the Congress party leaders see the Prime Minister of India! According to the news, Rahul Gandhi will be declared the national president too soon from the party!

एक बात यह है कि राहुल गांधी का राजनैतिक उद्देश्य अपने निष्कर्ष तक नहीं पहुंचे या नहीं, लेकिन जब भी राहुल गांधी बोलते हैं, पूरे देश को सदन के साथ, जो कि स्वयं के दायरे में है, मनोरंजन की स्थिति में बन जाती है और राहुल गांधी हमेशा हँसी के पात्र बन जाते हैं।

One thing is that Rahul Gandhi’s political purpose did not reach its conclusions or not, but whenever Rahul Gandhi speaks, the entire country is in the realm of entertainment, with the house, which is within the purview of himself, and Rahul Gandhi always becomes the lover of laughter.

ठीक है, हर कोई जानता है कि पूरे देश में राहुल गांधी को पप्पू के रूप में जानता है, लेकिन मजे की स्थिति सामने आई जब भाजपा नेता वेंकैया नायडू ने सदन में कहा कि पप्पू कृपया बैठो।

All right, everyone knows that Rahul Gandhi knows the whole country as Pappu, but the situation of the fun came when BJP leader Venkaiah Naidu said in the house that Pappu please sit.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=6KzO3XxanXM

सावधान – जातिवाद में अंधी जनता को नहीं दिखाई देता, किस प्रकार उसे पप्पू बनाया जा रहा है !

जातिवाद में अंधी जनता को नहीं दिखाई देता, किस प्रकार उसे पप्पू बनाया जा रहा है, हम बिलकुल सही बात कर रहे है, चाहे हो बिहार, चाहे हो तमिलनाडु चाहे हो गुजरात, हिन्दू समाज के लोग जातियों में बहुत ही जल्दी अंधे होते है, और इस बात से आप इंकार नहीं कर सकते की कांग्रेस को तो छोड़िये, पाकिस्तान भी चाहे तो भारत के हिन्दुओ में आसानी से जातिवाद भर सकता है |

In the racism, blind people are not visible, how is it being made Pappu, we are doing the right thing, whether Bihar, whether Tamil Nadu or Gujarat, people of Hindu society are very blind in the castes, And you can not deny that leaving the Congress, if Pakistan wants, India can easily cast racism in India.

अब आप गुजरात में कांग्रेस का खेल समझने की कोशिश कीजिये, विकास, भ्रष्टाचार के मुद्दे पर ये पार्टी चुनाव लड़ ही नहीं सकती तो गुजरात में एकमात्र रणनीति है, 10% मुस्लिम वोट तो पक्के है, बाकि हिन्दुओ को जातियों में तोड़ो और कैसे भी जातिवाद में आये हिन्दू का वोट लो और सत्ता प्राप्त करो |

Now you try to understand the game of Congress in Gujarat, this party can not contest elections on the issue of corruption, then there is only one strategy in Gujarat, 10% Muslim votes are confirmed, break the other Hindus into castes and even castism Take Hindu votes and get power.

अभी इस खेल को देखिये, तीन नेताओं को खड़ा किया गया, एक पटेल नेता एक OBC नेता तो एक दलित नेता, तीनो ही ये कहते हुए अपने जाति के लोगों में जातिवाद भरते गए की वो राजनीती में नहीं आएंगे, वैसे अल्पेश ठाकोर तो पहले से कांग्रेस का नेता था, उसने अपनी पहचान छुपाई, चुनाव आते आते तीनो कांग्रेस के हो गए इस से बहुत कुछ साफ़ हो गया, ये अल्पेश ठाकोर तो कह रहा था की, “भगवान् सूर्य की सौगंध लेता हूँ राजनीती में नहीं जाऊंगा”|

Now look at this game, three leaders were brought up, a Patel leader was an OBC leader, a Dalit leader, and all three people were raising caste in their caste people saying that they will not come in politics; It was the leader of the Congress, he concealed his identity, came to the polls, and all of the Congress came to it. It was a lot cleared from this, it was saying that Alpesh Thakor was saying, “God takes the oath of the sun and not in politics I will go”

झूठी सौगंध थी क्यूंकि वो तो पहले से राजनीती में था, कांग्रेस का सक्रिय नेता था, चुनाव लड़कर हार भी चूका था, खैर अब असल मसले पर आइये जो जातिवाद में अंधी हुई जनता को शायद दिख नहीं रहा | हार्दिक पटेल की मुख्य मांग है की पटेलों को OBC कोटे में आरक्षण मिले, 50% से ज्यादा आरक्षण तो हो नहीं सकता और पहले से ये फुल है, तो अन्य OBC वालों के आरक्षण में हार्दिक पटेल, पटेलों के लिए आरक्षण मांग रहे है, वहीँ अल्पेश ठाकोर शुरू से ही पटेलों को OBC वर्ग में आरक्षण देने के सख्त खिलाफ है, उसका मुद्दा है की OBC वर्ग को न छुवा जाए, और पटेलों को इसमें आरक्षण न मिले |

There was false assertion because he was already in politics, was an active leader of the Congress, had contested the elections and lost the election. Now come to the real issue which is not visible to the blind people in casteism. Hardik Patel’s main demand is that Patel should get reservation in OBC quota, more than 50% reservation can not be done and if it is already full, then in the reservation of other OBCs, Hardik Patel is seeking reservation for Patel, he Since the beginning, Ameesh Thakor is against the strict opposition to reservation of seats in the OBC category, it is an issue that the OBC class should not be touched, and the Patels should not get reservation in it.

वहीँ इन दोनों यानि हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर का कहना है की कांग्रेस ने उनकी मांगो को मान लिया है, हार्दिक पटेल का कहना है की कांग्रेस पटेलों को OBC में आरक्षण देगी, वहीँ अल्पेश ठाकोर का कहना है की है OBC वर्ग के आरक्षण को न छूने की मांग कांग्रेस ने मान ली है |

Both of them, both Hardik Patel and Ampeesh Thakore, say that the Congress has accepted their demands, Hardik Patel says that Congress will give reservations to OBCs in the OBC, the same is said by Thakur Thakore that the reservation of OBC classes is not Congress has accepted the demand for touch.

अब ऐसे में सवाल ये उठता है की दोनों में से एक तो झूठ बोल रहा है, कांग्रेस किसी एक की ही तो बात मान सकती है, या फिर ऐसा है की कांग्रेस इन दोनों को, राहुल गाँधी इन दोनों को पप्पू बना रहे हो, या फिर ये भी मुमकिन है की ये तीनो ही मिलकर समस्त गुजरातियों और देश को पप्पू बनाने में लगे हुए है |

Now, the question arises that one of the two is lying, the Congress might consider it to be the only one, or it is Congress that both Rahul Gandhi is making them both pappu, or It is also possible that these three people are engaged in making all Gujaratis and Pappu in the country.

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=Dhl7blIhWec