CIA का बड़ा ख़ुलासा- सभी इस्लामिक देशों को अकेले युद्ध में हारने में सक्षम भारतीय सेना

पिछले साल कुछ शिया मुस्लिम देशों को छोड़कर सभी इस्लामिक देशों ने इस्लामिक सेना बनाने का निर्णय किया था, और इसका प्रमुख पाकिस्तानी सेना के पूर्व प्रमुख जनरल राहिल शरीफ को बनाया गया था, इस इस्लामिक सेना का हेडक्वार्टर सऊदी अरब में है, और राहिल शरीफ आजकल सऊदी में बैठते है |

Last year, except for some Shiite Muslim countries, all Islamic countries had decided to create an Islamic army, and it was made to the former chief of Pakistan Army General Gen. Rahil Sharif, the headquarters of the Islamic Army is in Saudi Arabia, and Rahil Sharif is nowadays Sit in saudi

 

इस्लामिक सेना के निर्माण के समय ये कहा गया था की युद्ध की स्तिथि में सभी इस्लामिक देश एकजुट हो जायेंगे, एक इस्लामिक देश पर हमला सभी इस्लामिक देशों पर हमला माना जायगे और इस्लामिक सेना एकजुट होकर लड़ेगी, पाकिस्तान इसके बाद भारत को धमकियाँ भी दे रहा था, पर सीआईए का कहना है की सभी इस्लामिक देश मिलकर भी भारत से युद्ध लड़े तो मात्र 14 दिनों में अकेला भारत सभी इस्लामिक देशों को हरा देगा |

At the time of the creation of the Islamic Army, it was said that all Islamic countries will be united in the war situation, an attack on an Islamic country will be considered an attack on all Islamic countries, and the Islamic army will fight together, Pakistan is threatening India after this. But the CIA says that even if all the Islamic countries fight together with India, only India will defeat all Islamic countries in 14 days.

दुनिया में 56 इस्लामिक देश हैं जिनकी कुल आबादी 162 करोड़ है | इन इस्लामिक देशो की औकात जानने का प्रयास करते है | विश्व के सभी इस्लामिक देश बनाम भारत |

There are 56 Islamic countries in the world, whose total population is 162 crores. Attempt to know the authors of these Islamic countries. All the Islamic countries of the world vs. India

कई इस्लामिक देश इतने छोटे है कि उनसे ज्यादा बड़ा तो भारत का गोवा राज्य है । ज्यादातर इस्लामिक देश भुखमरी से जूझ रहे हैं | पाकिस्तान के अलावा कोई मुस्लिम देश परमाणुं संपन्न नहीं है | इन 53 इस्लामिक देशोँ की सारी सेनाओं को जोड़ लिया जाये तो लगभग 19.62 लाख सैनिक है, जबकि भारत के पास 16.82 लाख आर्मी और 11.31लाख रिजर्व सैनिक है | किसी इस्लामिक देश के पास विमान वाहक युद्धपोत नहीँ है जबकि भारत के पास 5 युद्धपोत है |

Many Islamic countries are so small that more than them is Goa state of India. Most Islamic countries are battling hunger. Apart from Pakistan, no Muslim country is endowed with atoms. If all the forces of these 53 Islamic countries are added, then there are approximately 19.62 lakh soldiers, while India has 16.82 lakh army and 11.31 lakh reserves. There is no aircraft carrier warship near an Islamic country, while India has 5 warships.

किसी इस्लामिक देश के पास Anti BalasticMissile नही है | अमरीका, चीन, इजराइल के बाद भारत दुनिया का चौथा देश है , जिसके पास मिसाईल्स को हवा में नष्ट करने की शक्ति है | किसी इस्लामिक देश के पास 3200Km से ज्यादा की मारक शक्ति वाली मिसाईल नही है , भारत के पास 7000Km तक दुश्मनों को मारनेवाली पृथ्वी-5 मिसाईल है |

No Islamic country has Anti BalasticMissile. India is the fourth country in the world after America, China, Israel, which has the power to destroy missiles in the air. An Islamic country does not have an explosive missile of more than 3200Km, India has an earth-5 missile to kill enemies by 7000km.

किसी इस्लामिक देश के पास सुपर सोनिक मिसाईल नही है , भारत के पास ब्रह्मोस जैसी सुपरसोनिक मिसाईल है | ये शक्ति सिर्फ अमेरिका,चीन और रूस के पास है | CIA के अनुसार मान लिया कि सारे इस्लामिक देश आतंकवादियों के साथ मिलकर भारत के साथ युद्ध करते है तो भी भारतीय सेना मात्र 14 दिनों में सारे इस्लामिक देशों मे तिरंगा लहराने की क्षमता रखती है | इन बीते दशकों में भारत की सैन्य ताकत काफी बढ़ गयी है और भारतीय सेना के पास सारे अत्याधुनिक हतियार भी आ गए हैं |

No Islamic country has a super sonic missile, India has a supersonic missile like Brahmos. This power is only with America, China and Russia. According to the CIA, even if all Islamic countries fight with terrorists, then the Indian army has the ability to blow the tricolor in just 14 days in all Islamic countries. In these past decades, India’s military strength has increased greatly and all the cutting-edge artisans have come to the Indian Army.

source zeenews

CM योगी ने ओवैसी के मुंह पर मारा करारा तमाचा के ऐसा जबरदस्त जवाब जिसे सुन वामपंथियों में खलबली

नई दिल्ली : सीएम योगी जो बोलते हैं वो बेबाकी से बोलते हैं यही वजह है कि इस वक़्त कई राज्यों में विरोधियों की जबर धुलाई के लिए उन्हें रैली करने के लिए बुलाया जा रहा है. इसी तरह आज सीएम योगी ने ओवैसी के गढ़ में घुस कर रैली करी और वो मुहतोड़ जवाब दिया है जिसे सुन कई कट्टरपंथियों में जलन मची हुई है.

अभी मिल रही मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विधानसभा चुनाव के मद्देनजर स्टार प्रचारक बनकर हैदराबाद पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी पर जबरदस्त हमला बोल दिया है.

हैदराबाद के निजाम की तरह भगाएंगे
रैली में जनता को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, अगर राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार आ गई तो ओवैसी यहां से हैदराबाद के निजाम की तरह भागेंगे.

यूपी सीएम योगी ने तेलंगाना के तांडूर की रैली में कहा, मुझे पूरा विश्वास है कि तेलंगाना में भाजपा की ही सरकार बनेगी। मैं सभी को आश्वासन दिलाता हूं कि अगर राज्य में भाजपा की सरकार आ गई तो असदुद्दीन ओवैसी तेलंगाना से उसी तरह भागेंगे, जैसे हैदराबाद के निजाम को भागने पर मजबूर होना पड़ा।

इसके साथ ही उन्होंने राज्य की पीडीपी सरकार पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा, यह सरकार किसानों और पिछड़ों की हितकारी नहीं है। उन्होंने जनता से भाजपा के लिए आशिर्वाद मांगते हुए कहा, पीएम मोदी के नेतृत्व में देश में विकास हुआ है, वह भी बिना भेदभाव के.

इससे पहले राजस्थान में भी सीएम योगी ने बेबाकी से रैली करते हुए कहा था कि कांग्रेस सरकार आतंकियों को बिरयानी खिलाया करती थी और हम गोली खिलाते हैं. यही वजह है कि वामपंथी मानवाधिकार सीएम योगी के पीछे हाथ धो के पड़े हुए हैं और यूपी के हर एनकाउंटर को हिन्दू मुस्लिम चश्मे से देखने में लगे हुए हैं.

साथ ही सीएम योगी के हाल में हनुमान और दलित वाले बयान पर काफी हंगामा मचा. विपक्षियों को तुरंत मौका मिल गया और उन्होंने सीएम योगी पर आरोप लगा दिया कि उन्होंने भगवान् हनुमान को दलित बता दिया है. जबकि अगर उनकी रैली की वीडियो पूरी सुनी जाय तो पता चलेगा उन्होंने कहा था “हनुमान जी भी सब को एकसाथ लेकर चला करते थे , चाहे दलित हो चाहे पिछड़ा” बस इस बात को तोड़ मरोड़ कर विरोधियों और भीम गैंग ने हनुमान दलित कहकर चिल्लाना शुरू कर दिया.

गौरतलब है कि सभी पार्टियां वोटरों को लुभाने के लिए जोर-शोर से जुटी है। इसके लिए चुनाव प्रचार के दौरान एक दूसरे पर जमकर हमला बोला जा रहा है। 7 दिसंबर को तेलंगाना की 119 विधानसभा सीटों के लिए मतदान होना है। वोटिंग के नतीजे 11 दिसंबर को आ जाएंगे

SOURCE DD BHARTI

URL:http://www.ddbharti.in

पीएम मोदी का कपिल सिब्बल के मुहं पर जोरदार तमाचा दिखा दिए दिन में तारे

नई दिल्‍ली : देश भर में तेजी से उठ रही राम मंदिर निर्माण की मांग के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार इस मुद्दे पर बयान दिया है. राजस्‍थान के अलवर में चुनावी रैली के दौरान उन्‍होंने कांग्रेस पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि राम मंदिर निर्माण की राह में कांग्रेस रोड़े लगा रही है. उन्‍होंने कहा ‘अयोध्‍या मामले पर कांग्रेस न्‍यायिक प्रक्रिया में दखल दे रही है. अयोध्‍या मामले पर कांग्रेस के वकील ने कोर्ट में सुनवाई टालने की अपील की थी. कांग्रेस बहुत बड़ा खेल खेल रही है.’

पीएम मोदी ने कहा ‘सुप्रीम कोर्ट के बड़े-बड़े वकीलों को कांग्रेस राज्यसभा में भेजने लगी है. बीजेपी के पास अभी राज्यसभा में बहुमत नहीं है. लेकिन राज्यसभा में कांग्रेस गंदा खेल खेल रही है. सुप्रीम कोर्ट के वकील राम मंदिर के मामले में दबाव डालते हैं. वे कहते हैं कि 2019 तक इस केस पर फैसला मत दो. इस तरह दबाव बनाने की राजनीति चल रही है.’

उन्‍होंने कहा ‘आज राज्यसभा के सदस्य बड़े वकील सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों के खिलाफ महाभियोग लाकर डराने की कोशिश करते हैं. संवेदनशील मुद्दों को सुनने से रोकने का पाप कर रहे हैं. ये लोग देश की न्यायपालिका को बंधक बनाने की कोशिश कर रहे हैं. देश इसके लिए इन्हें कभी माफ नहीं करेगा. लेकिन हम न्यायपालिका की स्वतंत्रता के लिए काम करेंगे. हम इनके काले मंसूबों को लोकतंत्र के मंदिर में कभी पूरा नहीं होने देंगे.’

अयोध्‍या विवाद पर पहली बार बोले PM मोदी, 'राम मंदिर पर रोड़े अटका रही है कांग्रेस'

उन्‍होंने कहा ‘कांग्रेस पार्टी इतनी नीचे गिरती जा रही है कि उन्होंने राजनीति के संस्कार छोड़ दिए हैं, शिष्टाचार भूल गए हैं और चुनाव में विकास के मुद्दों पर बहस करने के लिए वे अपनी हिम्मत भी खो चुके हैं. कांग्रेस के पास चुनाव का मुद्दा नहीं हैं तो वो अब मोदी की जात पूछ रही है. कांग्रेस जातिवाद का जहर फैलाने से बाज नहीं आ रही है, कांग्रेस पार्टी जातिवाद के जहर में डूबी हुई है. दलितों और पिछड़ों के प्रति नफरत का भाव कांग्रेस की रगों में भरा पड़ा है.’

source:zeenews

 

सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया सबसे बड़े केस में जबरदस्त फैसला,कांग्रेसी वामपंथी समेत दोगले पत्रकारों को लगा ज़ोरदार झटका

नई दिल्ली : आज देश में इतनी ज़्यादा विरोधियों ने असहिष्णुता फैला के रख दी है. जब 2g के आरोपी को यही कोर्ट बरी कर देते हैं तब ये कोर्ट कांग्रेस के लिए भगवान बन जाते हैं, सत्य की जीत बताई जाती है लेकिन जब कोर्ट कांग्रेस और वामपंथी के मनमुताबिक फैसला नहीं सुनाते है तब मिनटों में यही जज बदनाम कर दिए जाते हैं.

New Delhi: Today, more opposition in the country has kept the intolerance spread. When the court acquits the 2G accused, then these courts become God for the Congress, the truth is said to be victory, but when the court does not pronounce the verdict of the Congress and the Left, then the same judges are defamed in minutes. .

लेकिन हद तो तब हो रही है जब सुप्रीम कोर्ट के अभी अभी सबसे बड़े केस में फैसले सुनाये जाने से कांग्रेस से ज़्यादा कई दोगले पत्रकारों को तकलीफ हो रही वे जज की विश्वसनीयता पर सवाल उठा रहे हैं.

But the extent has come when the Supreme Court is hearing the judgment of the judge in relation to the judgment of the most senior case, due to which many journalists are suffering from the Congress.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर इस स्थिति को जारी रखा तो ये बहुत बड़ा खतरा होगा. जिस तरह से इस केस में याचिका डाली गई है ये सीधा न्यायपालिका पर हमला है. जो जज इस मामले की सुनवाई कर रहे थे, उनपर भी सीधा हमला किया गया था.

The Supreme Court said that if this situation continues, then it will be a very big danger. The way the petition has been filed in this case, this is an attack on the direct judiciary. The judges who were hearing this case were also directly attacked.

बता दें कि इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच कर रही थी. इस याचिका को कांग्रेस नेता तहसीन पूनावाला, पत्रकार बीएस लोने, बॉम्बे लॉयर्स एसोसिएशन सहित कई अन्य पक्षकारों की ओर से दायर किया गया था.

Please tell that the hearing of this case was being done by a bench of Chief Justice Deepak Mishra, Justice M. Khanvilkar and Justice DV Chandrachud. This petition was filed on behalf of Congress leaders Tahsin Poonawala, journalist BS Lone, and many other parties including the Bombay Lawyer’s Association.

इसमें बड़ा हाथ वकील प्रशांत भूषण का भी है. वकील से सामाजिक कार्यकर्ता बने प्रशांत भूषण ने सोहराबुद्दीन शेख के एनकाउंटर को फर्जी बताया. साथ ही आधिकारिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट को भी मानने से इंकार कर दिया.

There is also a big hand lawyer Prashant Bhushan. Prashant Bhushan, a social worker from the lawyer, said that the encounter of Sohrabuddin Sheikh is a fake. Also refused to accept the official post mortem report.

जस्टिस लोया की मौत को लेकर कांग्रेसी आस लगाए बैठे थे कि कोई साज़िश रच लेंगे मोदी सरकार के खिलाफ बड़ा षड़यंत्र रचा गया. जज लोया सोहराबुद्दीन एनकाउंटर का केस देख रहे थे. उनकी साधारण दिल के दौरे से होने वाली मौत को कांग्रेस ने संदिग्ध और एक साजिश के तहत मौत बताया.

The Congressmen were sitting on the pretext that Justice Loya’s death was a big conspiracy against Modi Government. Judge Loya was watching the case of Sohrabuddin encounter. The Congress is suspected of death due to his simple heart attack and death under a conspiracy.

कांग्रेस ने अपनी पूरी ताक़त इस केस में झोंक दी थी जिसके बाद अब कोर्ट में शांतिपूर्ण बहस नहीं बल्कि चीख चीख कर जज पर दबाव और आरोप लगाए जाने लगे थे. इस फैसले को भी CJI दीपक मिश्रा देख रहे हैं, तभी कांग्रेस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने जा रही थी.

The Congress had thrown its full force in this case, after which there was no peaceful debate in the court but screaming screaming and pressure was being made on the judge. This decision was also seen by CJI Deepak Mishra, when Congress was going to introduce impeachment against Deepak Mishra.

बता दें दिसंबर 2014 में जस्टिस लोया की नागपुर में मौत हो गई थी जिसे दिल का दौरा से मौत का कारण बताया गया था. जस्टिस लोया की मौत के बाद जिन जज ने इस मामले की सुनवाई की, उन्होंने अमित शाह को मामले में बरी कर दिया था. बस तब से कांग्रेस इस केस के पीछे हाथ धो के पड़ी थी.

In December 2014 Justice Loya was killed in Nagpur, who was told to have died due to heart attack. After the death of Justice Loya, the judge who had heard the case, had acquitted Amit Shah in the case. Since then the Congress had to wash hands behind this case.

यहाँ तक की जज लोया के परिवार को भी परेशान किया जा रहा था. जज लोया के बेटे अनुज लोया ने कुछ दिन पहले ही प्रेस कांफ्रेंस कर इस मुद्दे को बड़ा करने पर नाराजगी जताई थी. अनुज ने कहा था कि उनके पिता की मौत प्राकृतिक थी, कृपया उनकी मौत को राजनितिक मुद्दा न बनाएं.

Even the family of Judge Loya was being disturbed. Judge Loya’s son Anuj Loya had resented a few days ago by press conference and raised the issue. Anuj had said that his father’s death was natural, please do not make his death a political issue.

यह विडियो भी देखे

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

SOURCE political report

इस कांग्रेसी नेता ने ही कर डाली राहुल और सोनिया के खिलाफ ये बड़ी साजिश हुआ ऐसा सनसनीखेज़ खुलासा,PM मोदी समेत चिंदबरम हैरान

नई दिल्ली : कल मक्का मस्जिद बम धमाके में स्वामी असीमानंद को बरी कर दिया गया. कोर्ट को कोई भी ऐसा पुख्ता सबूत नहीं मिला जो कुछ साबित करता हो.इससे पहले अजमेर शरीफ केस से भी उन्हें बरी कर दिया गया है.

New Delhi: Swami Aseemanand was acquitted in the Mecca Masjid bomb blast yesterday. The court did not find any convincing proof that proves anything. Before that Ajmer Sharif has also been acquitted of the case.

लेकिन किस तरह 2007 के इस कांड में लश्कर, हिज़्बुल कि जगह अभिनव हिन्दू संगठन पर आरोप लगाकर हिन्दुओं के लिए भगवा आतंकवाद की साज़िश रची गयी उसका अब ज़बरदस्त खुलासा हुआ है. जिसे देख जनता के पैरों तले ज़मीन खिसक जायेगी.

But in the year 2007, in this horrendous leash in the Hizb, by accusing the Abhinav Hindu organization, the conspiracy of saffron terrorism was created for the Hindus, it has now been exposed. Who will see the land fall under the feet of the public.

अमेरिका के अम्बैस्डर के टेलीग्राम न कांग्रेस का किया भंडाफोड़

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस तुरंत मुकर गयी कि हमने कब भगवा या हिन्दू आतंकवाद का नाम लिया. किया हो तो सबूत दिखाए. उसके बाद जैसे सबूतों की बाढ़ सी लग गयी है. खुद अमेरिका में उस वक़्त के अम्बैस्डर का एक टेलीग्राम वायरल हो गया है, जिसने कांग्रेस की ओर राहुल गाँधी की पोल खोल दी है.

America’s Ambassador’s Telegram or Congress Bunded Down

According to the latest news available now, after the court’s decision, Congress immediately turned down that when we took the name of saffron or Hindu terrorism. Be sure to show proof. After that there is a flood of evidence. In America itself a telegram of Ambassador of the time has become viral, which has opened Rahul Gandhi’s pole towards Congress.

भाजपा नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा और जीवीएल नरसिम्हा राव ने एक ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भगवा आतंकवाद के मुद्दे पर कांग्रेस को पूरा नंगा कर दिया. पहले सबूत में भाजपा नेताओं ने उस टेलीग्राम की प्रति पेश की, जिसे साल 2009 में तत्कालीन यूएस एम्बेसडर टिमोथी रोमे ने यूएस स्टेट डिपार्मेंट को एक टेलीग्राम भेजा था.

BJP leader and national spokesman Jitendra Natarajan and JVL Narasimha Rao made a joint press conference and completely disconnected the Congress on the issue of saffron terrorism. In the first proof, BJP leaders presented a copy of the telegram, which in 2009, the then U.S. Ambassador Timothy Roem sent a telegram to the US State Department.

इस टेलीग्राम में यूएस एम्बेसडर ने लिखा है कि ये राहुल गांधी तरफ से सीधा आपको भेजा जा रहा है. इस टेलीग्राम में टिमोथी ने कहा है कि ‘जब एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने राहुल गांधी से आतंकवादी संगठन लश्कर ए तैयबा के बारे में पूछा तो राहुल गांधी ने कहा कि हां, लश्कर ए तैयबा को भारतीय मुस्लिम समुदाय में कुछ समर्थन प्राप्त है, लेकिन देश को सबसे बड़ा खतरा कट्टरपंथी हिंदू आतंकवादियों से है, जो देश में सांप्रदायिक उन्माद पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं.

In this telegram, the US Ambassador has written that it is being sent to you directly from Rahul Gandhi. In this telegram, Timothy has said that when he asked Rahul Gandhi about the terrorist organization Lashkar-e-Taiba during a program, Rahul Gandhi said that, yes, Lashkar-e-Taiba has some support in the Indian Muslim community, but the country The biggest threat to the fundamentalist Hindu terrorists, who are trying to create communal mania in the country.

इस टेलीग्राम को आधार बनाते हुए संबित पात्रा ने राहुल गांधी और कांग्रेस को निशाना बनाते हुए कहा कि कांग्रेस को लश्कर ए तैयबा से उतना खतरा नहीं है, बल्कि इन्हें कथित हिंदू आतंकवाद से बहुत ज्यादा खतरा है!इसके बाद एक वीडियो पेश किया गया जिसमे कांग्रेस के नेता पी. चिदंबरम, सुशील कुमार शिंदे और दिग्विजय सिंह भगवा आतंकवाद के बारे में बात करते नजर आ रहे हैं.

Making this telegram the basis, the concerned Patra targeted the Rahul Gandhi and the Congress and said that the Congress is not as much threat to Lashkar-e-Taiba, but it is a much more threatening than the alleged Hindu terrorism!
After this, a video was presented in which Congress leader P. Chidambaram, Sushil Kumar Shinde and Digvijay Singh were seen talking about saffron terrorism.

कांग्रेस में रहे पूर्व सचिव ने कांग्रेस पर किया बड़ा खुलासा

यही नहीं खुद कांग्रेस की सरकार के दौरान गृह सचिव RVS मणि ने भी सनसनीखेज़ खुलासा करते हुए बताया कि कांग्रेस ने सत्ता में आते ही हिन्दू आतंकवाद का बीज बोना शुरू कर दिया था और उनपर दबाव बनाया गया की वो हिन्दुओ को आतंकी बताने के लिए काम करे इसलिए उन्होंने इस्तीफा दे दिया.

Former Congress Secretary in Congress conveyed to Congress

Not only this, during the Congress government, Home Secretary RVS Mani also revealed that while coming to power, the Hindus started sowing the seeds of terrorism and they were pressurized that they should work to tell Hindus terrorists. So he resigned.

मक्का मस्जिद ब्लास्ट में भी स्वामी असीमानंद को फंसा दिया गया जबकि वाकर अहमद को भगा दिया गया, कल ही कोर्ट ने असीमानंद को बरी किया है पर उनके 11 साल फंसाकर बर्बाद कर दिए गए.

In the Mecca Masjid blast, Swami Aseemanand was trapped and Waqar Ahmed was freed, the court acquitted Aseemanand yesterday, but his 11 years have been wasted and wasted.

यहाँ कांग्रेस की सरकार हिन्दुओ को आतंकी बताने के लिए असीमानंद, साध्वी प्रज्ञा, कर्नल पुरोहित जैसों को फंसा रही थी वहीँ अमेरिका के अधिकारीयों से मिलकर कांग्रेस कोशिश कर रही थी कि जिस तरह अमेरिका ने लश्कर को आतंकी घोषित कर दिया था उसी तरह हिन्दुओ को भी अमेरिका आतंकी घोषित कर दे.

Here the Congress government was trying to implicate Hindus as terrorists like Asimanand, Sadhvi Pradnya, Colonel Purohit, and with the help of US officials, the Congress was trying to convince Hindus that in the same way that the US had declared the LeT terrorist. America declared terrorists.

RVS मणि ने साफ़ करी दिया की सरकार आतंकवाद के मामलों में हिन्दुओ को फंसाने के लिए बड़ी साज़िश रच रही थी, और इसी के तहत तमाम मामलों में चाहे वो समझौता ब्लास्ट हो, मालेगांव ब्लास्ट हो और मक्का मस्जिद ब्लास्ट, इन सभी में असल आतंकियों को भगाकर हिन्दुओ को फंसा दिया गया.

RVS Mani cleared that the government was making a huge conspiracy to implicate Hindus in the matter of terrorism, and under this, whether the agreement was blast in all the cases, Malegaon Blast and Mecca Masjid Blast, all these real terrorists Hindus were trapped by the side

यह भी देखे

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

SOURCE POLITICAL REPORT

कठुआ सामूहिक दुष्‍कर्म कांड में भारत को बदनाम करने वाली फर्जी टी-शर्ट देख एक्टर “अली फजल” बोले- हम हुए अपने मकसद में कामयाब,

कठुआ सामूहिक दुष्‍कर्म कांड की हर तरफ निंदा हो रही है! और हर कोई दोसियो को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की मांग कर रहा है, लेकिन बॉलीवुड वाले कुछ इस तरह से इस मामले में आवाज बुलंद कर रहे है जैसे उन्होंने हिन्दुओं को बदनाम करने का बीड़ा उठा लिया है! सितारों की दुनिया में असली और फर्जी हिंदू को लेकर सोशल साइट पर वाकयुद्ध छिड़ गया है! बता दे बॉलीवुड इंडस्ट्री के कई सितारों ने बच्ची और उसके परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए मुहिम चलाई है! पिछले दो दिनों से बॉलीवुड सेलेब्रिटीज सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं! बॉलीवुड के कई सितारों ने ट्व‍िटर पर घटना को बेहद शर्मनाक बताया है!

Kadua gang rape is being condemned everywhere! And everyone is demanding strict punishment for Dosiyi, but some of the Bollywood people are crying in this way as they have taken the initiative to defame the Hindus! In the world of stars, a war of words has spread on the social site about real and fake Hindus! Telling many Bollywood industry’s stars have campaigned to get justice for the girl and her family! For the last two days, Bollywood celebrities are expressing their anger on social media! Many Bollywood stars have described the incident as very embarrassing on Twitter!

दूसरी ओर कठुवा मामले पर धार्मिक रंग देकर कुछ मौका परास्त लोग जमकर सियासत भी कर रहे है! सियासी लोगों के अलावा बुद्धिजीवी, पत्रकार और खासकर बॉलीवुड के भी लोग इस मामले पर एक्टिव है, पर ये लोग क्या सचमुच बच्ची को न्याय दिलाना चाहते है? महिलाओं के प्रति सजग है? या इनका एजेंडा कुछ और ही है? हाल के दिनों में बॉलीवुड के कलाकारों द्वारा जो कुछ भी इन्साफ के मांग को लेकर सोशल मीडिया वेबसाइट पर लिखा गया है वो कई सवाल उठाता है! बता दें की कठुवा मामले पर दुनिया भर में भारत विरोधी लहर बनाने की कोशिश की जा रही है और इस काम में पाकिस्तान भी एक्टिव है!

On the other hand, by giving religious colors on the Kathwa case, some people are defeated by the people of the state too. Apart from political people, intellectuals, journalists and especially Bollywood people are active on this matter, but do they really want to give justice to the child? Is women aware? Or is their agenda different? In the recent past, what has been written about the demand of justice by Bollywood artists on the social media website raises many questions! Please tell us that there is an attempt to create anti-India wave across the world on the Kathwa issue and Pakistan is also active in this work!

अरब देश जो पाकिस्तान के खिलाफ और भारत के साथ आ रहे थे, वहां पर भी कठुवा मामले पर भारत विरोधी लहर बनाने का काम भारत में रह रहे कुछ लोग ही कर रहे है! भारत विरोधी एजेंडा चलाने के लिए विदेशों में भारत विरोधी फर्जी टीशर्ट फोटोशॉप के जरिये बनाये जा रहे है और सोशल मीडिया के जरिये शेयर किये जा रहे है! देखिये इसका एक तजा उदाहरण! ये है अली फैज़ल, ये टीवी सीरियल और बॉलीवुड फिल्मो में छोटे मोठे किरदार निभाते है, इन्होने भारत विरोधी एक टीशर्ट की फोटो डालकर लिखा की, ये देखिये, हम अब अपने मकसद में कामयाब हुए!

There are some people living in India who are working with Arab countries who were coming along with Pakistan and India, to create anti-India wave on the Kathwa issue. In order to run anti-India agenda, anti-India fake T-shirts are being made through Photoshop and are being shared through social media! Here’s a quick example! This is Ali Faisal, who plays a big role in the TV serial and Bollywood films, he wrote a photo of a T-shirt against India and wrote, “Let’s see, we have succeeded now!”

टीशर्ट पर लिखा है की “अपनी महिलाओं को भारत भेजने पर सतर्क रहे”, इस तरह के और भी टीशर्ट पहनकर भारत विरोधी छवि बनाने की कोशिश की जा रही है, और अली फैज़ल इसपर कह रहे है की वो कामयाब हुए, अब साफ़ हो जाता है की ये कठुवा की बच्ची के न्याय के लिए आवाज उठा रहे है या किसी और मकसद के लिए, हालाँकि ये फोटो और ये टीशर्ट असली है या फोटोशोप हम इसकी पुष्टि नहीं कर सकते है, पर अपने ट्विटर अकाउंट से ये तस्वीर खुद अली फैज़ल ने ही डाली है और कह रहे है की हम अपने मकसद में कामयाब रहे!

Tashart has written that “be careful about sending our women to India”, trying to create an anti-Indian image by wearing such a T-shirt, and Ali Faisal is saying that he succeeded, now it becomes clear It is the voice of Kathua’s child that is raising voice or for any other purpose, although these photos and these tshirt are real or photoshop, we can not confirm it, but the picture itself from its Twitter account Ali Faisal has said and is saying that we have succeeded in our objective!

यह भी देखे

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

SOURCE POLITICAL REPORT

कठुवा काश में आया नया मोड़ JNU कनेक्शन पर CBI समेत ANI के उड़े होश दे

कठुवा कांड की सच्चाई धीरे धीरे सामने आनी ही है, और अब बहुत कुछ ऐसा निकलकर आ रहा है, जो की मीडिया की मनगढ़ंत कहानी से बिलकुल उलट है

The truth of the Kathwa scandal is coming out slowly, and now there is a lot like coming out, which is totally opposite to the fabricated story of the media.

जम्मू में एक वकील है जिसका नाम है दीपिका ठुसू उर्फ़ दीपिका सिंह राजावत, ये जम्मू में वकील है, और ये लड़की के साथ रेप हुआ, मुहीम की एक बड़ी खिलाडी है, ये कठुवा केस में लड़की का रेप हुआ उस पक्ष के साथ है और वकील है, खुद को ये वकील बिलकुल निष्पक्ष बता रही है

In Jammu there is a lawyer whose name is Deepika Thoussus alias Deepika Singh Rajawat, it is a lawyer in Jammu, and raped with this girl, is a big player of the Muhim, in the Kathwa case, the girl’s rape happened with that side and The lawyer is telling himself this lawyer is absolutely fair

और मीडिया भी इसकी खूब तारीफ कर रही है की ये इंसानियत के लिए दरिंदो के खिलाफ लड़ रही है, अब खुद को जो वकील निष्पक्ष बता रही है उसके JNU के आज़ादी इंशाल्लाह गैंग से कनेक्शन सामने आ चुके है और ये मैडम तो JNU की शेहला रशीद की मित्र है, और दोनों की तस्वीर आप ऊपर देख सकते

And the media is also very much appreciating that it is fighting against human beings for humankind, now the lawyer who is telling the fair is himself the connection to JNU’s freedom-inductive gang, and that Madam, JNU’s Shehla Rashid Has a friend, and you can see the picture of both

इसके साथ साथ ये जो वकील दीपिका ठुसू है, ये इंदिरा जयसिंह नाम की दिल्ली की महिला के साथ काम करती है, और ये इंदिरा जयसिंह सुप्रीम कोर्ट में चल रहे रोहिंग्यों के केस में एक्टिव है, अब जो दीपिका ठुसू खुद को निष्पक्ष बताकर इंसानियत के लिए लड़ने वाला बता रही है, उसके JNU के आज़ादी गैंग और रोहिंग्यों के लिए सुप्रीम कोर्ट में लड़ाई लड़ने वालो से संबंध सामने है

Along with this, the lawyer who is Deepika, she works with Indira Jaysingh, a woman from Delhi, and she is active in the case of Rohingya in Indira Jaysingh Supreme Court, now Deepika Padukone herself, telling herself as unbiased. The fighter is telling, the JNU’s freedom gang and the Rohingyas have a relationship with the fighters in the Supreme Court.

यह भी देखे
https://youtu.be/o9LQnPMci4I
https://youtu.be/o9LQnPMci4I
SOURCE POLITICAL REPORT

कोंग्रेसी नेताओं की घिनौनी साजिश का एक बार फिर हुआ खुलासा PM मोदी समेत देश रहा गया दंग

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में इसी साल जनवरी में आठ साल की बच्ची से गैंगरेप और हत्या के मामले में जांच कम और राजनीति ज्यादा हो रही है. कल रात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, वरिष्ठ कोंग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत और दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कई नेताओं, प्रियंका वाड्रा, रोबर्ट वाड्रा व् कार्यकर्ताओं के साथ, बिना दिल्ली पुलिस से इजाजत लिए इंडिया गेट पर पहुंच गए और कैंडल मार्च निकाला. मगर अब इस मामले में उन्ही की पार्टी का नाम सामने आ रहा है.

Srinagar: In the Kathua District of Jammu and Kashmir this year, in an eight year-old girl, there is less scrutiny in the case of gangrape and murder and more politics is happening. Last night, with Congress President Rahul Gandhi, senior Congress leader Ghulam Nabi Azad, Ashok Gehlot and many leaders of the Delhi Pradesh Congress Committee, along with Priyanka Vadra, Robert Vadra and activists, reached India Gate without permission from Delhi Police and raised the canal march . But now the name of his party is coming out in this matter.

कांग्रेस से जुड़े बलात्कार मामले के तार

बताया जा रहा है कि कठुआ जिले में असीफा नाम की लड़की के बलात्कार का मामला 1 हफ्ते पहले का नहीं है, बल्कि ये मामला 10 महीने पहले का है. मगर अचानक से एक हफ्ते पहले से एक षड्यंत्र के तहत मीडिया व् विपक्ष ने इस केस को लेकर हिन्दुओं के खिलाफ दुष्प्रचार शुरू कर दिया. मीडिया द्वारा कहा जा रहा है कि राज्य के हिन्दू आरोपियों का समर्थन कर रहे हैं, जबकि इसके तार अब कांग्रेस से जुड़ने लगे हैं.दरअसल बताया ये जा रहा है कि राज्य बार काउन्सिल आरोपियों का बचाव कर रहा है और इन्हे हिन्दू वकील बताकर पूरे समुदाय पर कीचड उछाला जा रहा है. मगर इसे लेकर चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. दरअसल खुलासा हुआ है कि जम्‍मू-कश्‍मीर बार एसोसिएशन का अध्‍यक्ष बीएस सलाथिया चुनाव के दौरान कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद का पोलिंग एजेंट था.

Congress rape case wires

It is being told that the case of raping a girl named Asifa in Kathua district is not a week ago, but it is 10 months ago. But suddenly, a week ago, a conspiracy by the media and the opposition started propaganda against the Hindus against this case. It is being said by the media that the Hindus of the state are supporting the accused, while its strings are now joining the Congress. Actually, it is said that the state bar council is defending the accused and by calling them these Hindu lawyers, But the mud is being tossed. But there are shocking revelations about it. It is indeed revealed that Jaswant Singh Bar Association President BS Sultan was the polling agent of Congress leader Ghulam Nabi Azad during the election.

आपको बता दें कि बार एसोसिएशन के अध्यक्ष बी.एस. सलाथिया ने ही मुस्लिमों और रोहिंग्याओं के खिलाफ भाषण बाजी की थी, इसे हिन्दू बताते हुए मीडिया ने हिन्दू समुदाय पर कीचड उछालना तो शुरू कर दिया, मगर इसके कांग्रेस के साथ रिश्तों को उजागर नहीं किया.

Let us tell you that Bar Association President B.S. Sallathia had only leaked the speeches against Muslims and Rohingyas, while stating that it was Hindu, the media started to throw a bite on the Hindu community, but it did not reveal its relationship with the Congress.

कोंग्रेसी नेताओं की घिनौनी साजिश का खुलासा

इसके अलावा पंकज बसोत्रा नाम के एक अन्य व्यक्ति का नाम सामने आ रहा है, जिसे लेकर मीडिया हिन्दू समुदाय के खिलाफ दुष्प्रचार कर रही है. जानकारी मिली है कि पंकज बसोत्रा प्रदेश यूथ काग्रेस का महासचिव रह चुका है और एक एक्टिव कोंग्रेसी है. ये आये दिन बीजेपी व् पीएम मोदी के खिलाफ दुष्प्रचार करता रहता है.नए-नए खुलासों से स्पष्ट हो रहा है कि कांग्रेस द्वारा मासूम बच्ची के बलात्कार का राजनीतिकरण किया जा रहा है. कोंग्रेसी कार्यकर्ता व् नेता बलात्कार के आरोपियों का बचाव कर रहे हैं और बदनाम हिन्दू समुदाय को कर रहे हैं. बताया ये भी जा रहा है कि राज्य में बसे हुए अवैध रोहिंग्या घुसपैठियों के लिए सुहानुभूति जुटाने के लिए हिन्दू समुदाय को बदनाम किया जा रहा है.

Disgrace of Congress Leader

Apart from this, the name of another person named Pankaj Basot is coming out, with whom the media is propagating against the Hindu community. It has been reported that Pankaj Basotra has been the General Secretary of Youth Congress and is an active Congressional. These days, the BJP and PM continued to propagate against Modi.A new disclosures have been made clear that Congress is being politicized by the innocent child’s rape. Congress activists and leaders are defending the accused of rape and are doing to the infamous Hindu community. It is also being told that the Hindu community is being defamed to raise the sympathy for illegal Rohingya intruders settled in the state

गुलाम नबी आजाद ने कबूला सच

जम्‍मू-कश्‍मीर बार एसोसिएशन के अध्‍यक्ष बीएस सलाथिया के कांग्रेस के वरिष्ट नेता गुलाम नबी आजाद का खासमखास होने का खुलासा होने पर कुछ देर के लिए कांग्रेस बैकफुट पर जरूर आयी, मगर फिर एक नयी थ्योरी के साथ सामने आ गयी है. गुलाम नबी आजाद ने स्वीकार किया है कि सलाथिया उसी का साथी रहा है, मगर उनका कहना है कि सलाथिया उस वक़्त सेकुलर हुआ करता था और अब अचानक से सलाथिया कम्युनल बन गया है.

Ghulam Nabi Azad confesses true

The Congress came back on backfight for some time after the disclosure of the senior leader of the party of the Jammu and Kashmir Bar Association BS Sultathia, Ghulam Nabi Azad, the leader of the Congress, but then came out with a new theory. Ghulam Nabi Azad has admitted that Salathia has been a companion of him, but he says that Sultan used to be secular at that time and now suddenly Sallathia became a communal.

बीजेपी व् मोदी को कमजोर करने के लिए कांग्रेस हर स्तर पर प्रयास कर रही है. कोरेगाव में दलित हिंसा, दलित क़ानून को लेकर भारत बंद के दौरान हिंसा, मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के नाम पर हिंसा और अब बलात्कार जैसे जघन्य अपराध का राजनीतिकरण किया जा रहा है और कीचड हिन्दुओं व् मोदी पर उछाला जा रहा है.

Congress is trying every level to weaken BJP and Modi. The violence in Dahej, Dalit law, violation of India under Dalit law, violation of violence in the name of farmers movement in Madhya Pradesh and now rape is being politicized and kicked is being tossed on Hindus and Modi.

कांग्रेस जान चुकी है कि मोदी की विकास की राजनीति का उसके पास कोई तोड़ नहीं है, ऐसे में अब देश को जला कर, बांटकर, दंगों की राजनीति की जा रही है.

Congress has realized that there is no breakthrough in the politics of Modi’s development; in such a way, now the country is being burnt, divided, and the politics of riots is being done.

यह भी देखे
https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

source political report

अखिलेश ने कठुआ-उनाव मामले में दिया शर्मनाक बयान इस पत्रकार ने मारा जोरदार तमाचा,देख मायावती की बोलती हुई बंद

देश के दो राज्य उत्तर प्रदेश और कश्मीर में दो सामूहिक दुष्कर्म से बबाल मचा हुआ है! जहाँ जम्मू कश्मीर के कठुआ में आसिफा के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी गई थी! वही उत्तर प्रदेश के उन्नाव में सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है! जिसमें आरोप बीजेपी विधायक पर लगा है!इस मामले में पीड़िता के पिता की हत्या कर दी गई है! मामले की गंभीरता को देखते हुए योगी सरकार ने जांच के आदेश दिए है! जम्मू के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ हुए गैंगरेप और मर्डर ने देश के लोगो के रूह को हिला कर रख दिया है!

इसी कड़ी में अखिलेश यादव ने उन्नाव में लड़की के साथ हुए दुष्कर्म और जम्मू कश्मीर में आसिफा के साथ हुए जघन्य अपराध को उठाते हुए ट्वीट किया कि ना ही कश्मीर में और ना ही उत्तर प्रदेश में और यहां तक कि दिल्ली में भी बेटियां सुरक्षित नहीं है जो यह बताता है कि मोदी सरकार किस प्रकार से नाकामी के गर्त में डूब चुकी है परंतु उसका सत्ता का लोभ और सत्ता का अहंकार नहीं जा रहा!

अखिलेश यादव ने ट्वीट किया- “उन्नाव, कठुआ, सूरत और अब दिल्ली में बलात्कार की घटनाओं ने देश के हर घर को चिंता में डाल दिया है. लोगों में अपनी बहन-बेटियों को लेकर डर का माहौल बन गया है. सरकार इतने गंभीर विषय पर भी कोई ठोस कार्रवाई न करके राजनीति कर रही है, इससे दुखद, शर्मनाक और निंदनीय और क्या हो सकता है!”

उनकी स्ट्रीट के बाद बहुत से लोगों की प्रतिक्रिया अभी आए कुछ लोगों ने उनका समर्थन किया तो कुछ लोगों ने यह बोला कि जब आप की सरकार थी तो देश ही नहीं बल्कि प्रदेश की बेटियों के साथ क्या अपराध होता था यह आप जानते हैं परंतु आज आप प्रधानमंत्री मोदी को इसके लिए नसीहतें देते फिरते हैं तो यह लगता है जैसे बिल्ली दूध की रखवाली कर रही हो!

परंतु सबसे अधिक तीखा हमला यदि किसी ने किया तो वह किसी राजनेता ने नहीं बल्कि एक पत्रकार सुशांत सिन्हा ने अखिलेश यादव के इस ट्वीट को कोर्ट करते हुए बोला कि “इससे निंदनीय ये हो सकता है कि आपके पिता मुलायम सिंह जी मंच पर खड़े होकर कहें कि “रेप किया तो क्या, लड़के हैं…गलती हो जाती है, फांसी पर चढ़ा दोगे क्या” और आप अपनी मुख्यमंत्री की कुर्सी के मोह में चुप बैठें.. उनसे पलटकर माफी मांगने को न कहें और आज रेप पर दुख का ढोंग करें।”
यह भी देखे

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

source  political report

भीमराव राम जी आंबेडकर की भगवा मूर्ति, के पीछे का ये है सच जान आपके होश उड़ जायेगे

उत्तर प्रदेश में योगी राज में बाबा साहेब भीमराव राम जी आंबेडकर को भगवा कर दिया गया, आज सुबह जैसे ही देश के लोग उतने मीडिया ने सबको ये न्यूज़ देना शुरू कर दिया की, योगी राज में बाबा साहब को भगवा कर दिया गया है, दलितों को भी बताया जाने लगा की आपके बाबा साहेब को बीजेपी वालो ने जबरन भगवा कर दिया, भीमटों ने भी व्हाट्स ऐप पर नफरत फैलाना शुरू कर दिया, कांग्रेस ने भी अपने सोशल मीडिया सेल को एक्टिव कर दिया और मायावती की पार्टी बसपा ने आन्दोलन तक की धमकियाँ देनी शुरू कर दी

Baba Saheb Bhimrao Ram ji Ambedkar was saffron in Yogi Raj in Uttar Pradesh, as soon as this morning people of the country started giving this news to all the people, Baba Saheb has been saffron in the Yogi Raj, the Dalits It has also been told that your Baba Saheb has been forcibly saffronised for BJP, Bhimaton also started spreading hatred on the What’s App, Congress has also activated its social media cell Su made and Mayawati’s BSP has started giving threats of the movement

मामला उत्तर प्रदेश के बदायूं का है जहाँ पर एक गाँव में आंबेडकर की भगवा रंग की मूर्ति लगाई गयी, और फिर आंबेडकर को भगवा कर दिया योगी राज में, ये बात फैलाई गयी, चलिए मीडिया ने आपको जो बताया सो बताया, अब वो जानिए जो मीडिया ने नहीं बताया

The case is of Badayun in Uttar Pradesh, where a Baba idol of Ambedkar was installed, and then Ambedkar saffron saffron it was spread out in the Yogi Raj, let’s talk about what the media told you, now know that The media did not tell

असल में आंबेडकर की ये मूर्ति गाँव में लाकर बसपा के ही जिला प्रेसिडेंट नहीं लगाया था, ऊपर आप तस्वीर देख रहे है ये बदायूं का बसपा जिला प्रेसिडेंट है, इसी ने आंबेडकर की भगवा मूर्ति बनवाई, आंबेडकर की मूर्ति बसपा का ये नेता आगरा से बनवाकर लाया और गाँव में लगा दी, और इसने गाँव के लोगों के सामने ही इस मूर्ति को माला भी पहनाया

Actually, this statue of Ambedkar was not brought to the village by the BSP’s district president, you are seeing the picture above. This Badaun’s BSP is the district president, this has created Ambedkar’s saffron idol, the statue of Ambedkar, the leader of the BSP by making Agra Brought and brought it to the village, and it also wore this idol in front of the people of the village

देख रहे है आप, ये जो सफ़ेद रंग में शख्स खड़ा है ये बसपा का ही नेता है, देखिये इसी ने भगवा रंग की आंबेडकर की मूर्ति गाँव में लगाई और मूर्ति को माला भी पहनाया, फिर आज बसपा, कांग्रेस ने मीडिया को निर्देश दिया की जी खबर चलाना शुरू करो, मीडिया को एक्टिव किया गया और मुद्दा बना दिया गया आंबेडकर की मूर्ति को भगवा करने का

You see, this person who is standing in white is the leader of BSP. See, he put the statue of Ambedkar in saffron color in the village and also wore the idol, then BSP today, Congress instructed the media Start playing news, media was activated and issue made Ambedkar’s idol saffron

फिर ये बसपा नेता वहां गया और आंबेडकर की मूर्ति को इसने नीले रंग में पेंट करवाया, पर लोगों ने इस नेता को पहचान लिया, और इस से सवाल कर लिया गया की भैया भगवा मूर्ति भी तुम ने ही लगाई थी, अब नीला भी तुम ही कर रहे हो, क्या बात है, तो देखिये कैसे ये बसपा नेता भागता नजर आया, और भाग ही गया

Then the BSP leader went there and painted the statue of Ambedkar in blue color, but people recognized this leader, and it was questioned that Bhaiya Bhaiya saffron statue was set by you, now you are the blue What are you doing, see how these BSP leaders ran away, and ran away.

इस बसपा नेता का नाम हिमेंद्र गौतम है, हिमेंद्र गौतम ही आगरा से आंबेडकर की भगवा मूर्ति बनवाकर लाया और बदायूं के गाँव में लगाई, फिर बसपा और कांग्रेस ने आंबेडकर को योगी राज में भगवा कर दिया ऐसी खबर चलवाई, फिर इसी नेता ने आकर आंबेडकर की मूर्ति को नीला कर दिया, पोल खुली तो भाग गया

The name of this BSP leader is Himendra Gautam, Himendra Gautam brought Agra from the saffron idol of Ambedkar and put it in the village of Badayun, then the BSP and the Congress made Ambedkar saffron in the Yogi Raj, then such news should come, then this leader came and Ambedkar The idol was blue, the pole ran away

घटिया गंदी राजनीती का ये एक बेहतरीन उदाहरण है, देश को इसी तरह की राजनीती के जरिये नफरत की आग में जला देना चाहते है विपक्ष के लोग ताकि किसी भी तरह से देश में नफरत, जातिवाद फैलाकर सत्ता की प्राप्ती कर ली जाये

This is an excellent example of poorly dirty politics, the country wants to burn hatred through similar politics, so that people of opposition can get power by spreading hatred, casteism in the country in any way.

यह भी देखे
https://youtu.be/Uzs16fYnw1k
https://youtu.be/VxtYK7YXsQ8
source political report