दुनिया के 9 महान दार्शनिक ने हिन्दू सनातन धर्म पर दिया ऐसा बयान, पूरी दुनिया रह गयी सन्न !

क्या आपने कभी इन पश्चिमी philosophers को पढ़ा है ये नीचे हम जिन लोगों की कही हुई बातें आपको बता रहे है, ये सभी भारतीय नहीं बल्कि पश्चिमी दार्शनिक रहे है, जिनका विश्व में काफी सम्मान है, इन्होने सनातन हिन्दू धर्म पर अपने क्या विचार दिए थे, ये आपको पढ़ना चाहिए, और शेयर कर समाज तक भी पहुंचाना चाहिए|

Have you ever read these Western philosophers? These are the people we are telling you about, what they are telling you, they are not all Indians, but Western philosophers, who have great respect in the world, what they gave their views on Sanatan Hinduism, You should read it, and share it to the society as well.

लियो टॉल्स्टॉय (1828 -1910) “हिन्दू और हिन्दुत्व ही एक दिन दुनियाँ पर राज करेगा, क्योंकि इसी में ज्ञान और बुद्धि का संयोजन है| हर्बर्ट वेल्स (1846 – 1946) ” हिन्दुत्व का प्रभावीकरण फिर होने तक अनगिनत कितनी पीढ़ियां अत्याचार सहेंगी और जीवन कट जाएगा, तभी एक दिन पूरी दुनियाँ उसकी ओर आकर्षित हो जाएगी, उसी दिन ही दिलशाद होंगे और उसी दिन दुनियाँ आबाद होगी । सलाम हो उस दिन को|

Leo Tolstoy (1828-11910) “Hindus and Hindutva will one day rule over the world because this is a combination of knowledge and wisdom.” Herbert Wells (1846 – 1946) “How many generations will tolerate tyranny and life If one day the entire world will be attracted to him, then on that day there will be Dilshad and on that day the world will be populated. Salute that day

अल्बर्ट आइंस्टीन (1879 – 1955) “मैं समझता हूँ कि हिन्दूओ ने अपनी बुद्धि और जागरूकता के माध्यम से वह किया जो यहूदी न कर सके । हिन्दुत्व मे ही वह शक्ति है जिससे शांति स्थापित हो सकती है”। हस्टन स्मिथ (1919) “जो विश्वास हम पर है और इस हम से बेहतर कुछ भी दुनियाँ में है तो वो हिन्दुत्व है । अगर हम अपना दिल और दिमाग इसके लिए खोलें तो उसमें हमारी ही भलाई होगी”।

Albert Einstein (1879-1955) “I understand that through his intelligence and awareness he did what the Jews could not do. In Hinduism, it is the power that can lead to peace.” Huston Smith (1919) “The belief that we are on and in this world is better than us, then it is Hindutva. If we open our hearts and minds to it, then it will be good for us”.

Author Huston Smith in 2000. RNS archive photo

माइकल नोस्टरैडैमस (1503 – 1566): ” हिन्दुत्व ही यूरोप में शासक धर्म बन जाएगा बल्कि यूरोप का प्रसिद्ध शहर हिन्दू राजधानी बन जाएगा”। बर्टरेंड रसेल (1872 – 1970) “मैंने हिन्दुत्व को पढ़ा और जान लिया कि यह सारी दुनियाँ और सारी मानवता का धर्म बनने के लिए है । हिन्दुत्व पूरे यूरोप में फैल जाएगा और यूरोप में हिन्दुत्व के बड़े विचारक सामने आएंगे । एक दिन ऐसा आएगा कि हिन्दू ही दुनियाँ की वास्तविक उत्तेजना होगा “।

Michael Nostradamus (1503-1566): “Hindutva itself will become a ruler religion in Europe, but the famous city of Europe will become the Hindu capital”. Bertrand Russell (1872 – 1970) “I read Hinduism and realized that it is for the creation of all the worlds and the religion of all humanity.” Hindutva will spread throughout Europe and in Europe, the big thinkers of Hinduism will emerge. Hindus will be the real stimulus of the world. ”

गोस्टा लोबोन (1841 – 1931) ” हिन्दू ही सुलह और सुधार की बात करता है । सुधार ही के विश्वास की सराहना में ईसाइयों को आमंत्रित करता हूँ”। बरनार्ड शा (1856 – 1950): “सारी दुनियाँ एक दिन हिन्दू धर्म स्वीकार कर लेगी । अगर यह वास्तविक नाम स्वीकार नहीं भी कर सकी तो रूपक नाम से ही स्वीकार कर लेगी। पश्चिम एक दिन हिन्दुत्व स्वीकार कर लेगा और हिन्दू ही दुनियाँ में पढ़े लिखे लोगों का धर्म होगा| जोहान गीथ (1749 – 1832) “हम सभी को अभी या बाद मे हिन्दू धर्म स्वीकार करना ही होगा । यही असली धर्म है ।मुझे कोई हिन्दू कहे तो मुझे बुरा नहीं लगेगा, मैं इस सही बात को स्वीकार करता हूँ ।”

Gosta Lobon (1841 – 1931) “Hindus speak of peace and reconciliation. I invite Christians to appreciate the faith of reform.” Barnard Shaw (1856-19 1950): “All the Sikhs will accept Hindu religion one day and if it can not even accept the real name, then accept it by the name of metaphor.” The West will accept Hindutva one day and Hindus will be taught in the world. The religion of the people written will be. Johann Geith (1749-1832) “We all must accept the Hindu religion either now or later. This is the real religion. If I call any Hindu, I will not feel bad, I accept this right thing. ”

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=4Tyz5onsJbA

https://www.youtube.com/watch?v=dsJje-_3hzs

बड़ा खुलासा – तो इसलियें देश से गद्दारी कर रहे कमल हासन, भगवा आतंक कह कर हिन्दुओं को लगातार कर रहे बदनाम !

चेन्नई: अभिनेता कमल हासन ने शनिवार (4 नवंबर) को अपने विरोधियों को करारा जवाब देते हुए कहा कि जो लोग आलोचना के सामने खड़े नहीं हो सकते, अब वे उनकी जान लेना चाहते हैं | कमल ने किसानों के एक समूह को संबोधित करते हुए कहा, “अगर हम उन पर सवाल उठाते हैं तो वे हमें राष्ट्र-विरोधी करार देते हैं और जेल भेजना चाहते हैं | अब चूंकि जेलों में तो कोई जगह खाली नहीं है, इसलिए वे हमें गोली मारकर खत्म करना चाहते हैं.” उन्होंने यह बातें अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के उपाध्यक्ष अशोक शर्मा के बयान पर प्रतिक्रिया में कहीं | शर्मा ने हासन के ‘हिन्दू उग्रवादी’ वाले बयान पर कहा था कि उनके जैसे लोगों की ‘गोली मारकर जाने ले लेनी चाहिए’|

Chennai: Actor Kamal Haasan, responding to his opponents on Saturday (November 4th), said that those who can not stand in front of criticism, now they want to take his life. While addressing a group of farmers, Kamal said, “If we question them, they call us anti-national and want to send them to jail. Now since there is no vacancy in the jails, Want to kill? ” He said these things in response to the statement of All India Hindu Mahasabha vice president Ashok Sharma. Sharma had said on Hasan’s ‘Hindu extremist’ statement that people like him should ‘shoot and go away’.

अखिल भारतीय हिंदू महासभा के वरिष्ठ नेता ने बीते शुक्रवार (3 नवंबर) को प्रसिद्ध तमिल अभिनेता कमल हासन द्वारा ‘हिंदू आतंकवाद’ पर दिए बयान के लिए उन्हें आड़े हाथ लिया और कहा कि इस तरह के लोगों को ‘गोली मार देनी चाहिए.’ हासन द्वारा एक सप्ताहिक पत्रिका में हिंदू आतंकवाद को लेकर दिए बयान की ओर इशारा करते हुए महासभा के नेता पंडित अशोक शर्मा ने कहा इस तरह के लोग अपने पक्षपातपूर्ण संप्रादायिक एजेंडे के तहत हिंदुत्व मानने वालों का संबंध हिंदू आतंक से जोड़ते हैं | उन्होंने कहा, “कमल हासन जैसे लोगों से निपटने के लिए फांसी पर चढ़ा देने या गोली मार देने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है” |

A senior leader of All India Hindu Mahasabha, on Friday (November 3rd), took a stand against the statement by famous Tamil actor Kamal Haasan on ‘Hindu terrorism’ and said that such people should be shot ‘. Pointing to a statement made by Hassan on the issue of Hindu terrorism in a weekly magazine, Pandit Ashok Sharma, a leader of the General Assembly, said such people linked Hindus to Hindu terror under their partial communal agenda. He said, “There is no other way than to hang on to hang people or to shoot people like Kamal Haasan”.

कमल हासन के बयान से गुस्साये संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शर्मा ने कहा, “जो भी लोग इस तरह की भाषा का प्रयोग करते हैं या हिंदू धर्म और इसके विश्वास के प्रति पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाते हैं, उन्हें जीने का कोई अधिकार नहीं है|” महासभा सदस्य ने 62 वर्षीय अभिनेता की सभी फिल्मों और उनके परिवार के सदस्यों की भी सभी फिल्मों का बहिष्कार करने की घोषणा की है | कमल हासन की बेटी श्रुति हासन हिंदी फिल्मों में काम करती है | संगठन ने और लोगों से भी इस तरह के लोगों की फिल्मों का बहिष्कार करने को कहा है|

Sharma, the national vice president of the organization angry with Kamal Haasan, said, “Anyone who uses such language or adopts bias towards Hinduism and its belief, they have no right to live.” The General Assembly member has announced the boycott of all the 62-year-old actor’s films and his family members too. Kamal Haasan’s daughter Shruti Haasan works in Hindi films. The organization has asked more people to boycott films of such people.

वाराणसी की एक स्थानीय अदालत ने अभिनेता कमल हासन के खिलाफ हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं को कथित रूप से आहत करने वाली टिप्पणी के खिलाफ एक शिकायत पर शनिवार (4 नवंबर) को सुनवाई करते हुए मामला दर्ज करने का आदेश दिया | अधिवक्ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने वाराणसी के एसीजेएम की अदालत में एक याचिका दायर कर हासन पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया था | इस पर सुनवाई करते हुए न्यायधीश सुधाकर दुबे ने मामला दर्ज करने का आदेश दिया | एसीजेएम की अदालत ने याचिका पर अगली सुनवाई के लिए 22 नवम्बर की तारीख निर्धारित की है |

A local court in Varanasi ordered a case against actor Kamal Haasan on Saturday (November 4th) on a complaint against a comment that allegedly hurt the religious sentiments of Hindus. Advocate Kamlesh Chandra Tripathi had filed a petition in the court of ACJM of Varanasi and accused Hasan of hurting religious sentiments. While hearing this, Justice Sudhakar Dubey ordered the case to be registered. The court of ACJM has fixed the date for the next hearing on November 22.

हासन ने तमिल पत्रिका ‘आनंद विकटन’ के अंक में हिंदू आतंक की बात कही थी | हासन ने स्तंभ में आरोप लगाया कि दक्षिण पंथी संगठनों ने अपने रुख में बदलाव किया है | हिंदू नेता ने कहा था कि हासन जैसों की ‘गोली मारकर जाने ले लेनी चाहिए’ | काफी समय से कमल हासन राजनीती में आना चाह रहे थे | और हाल ही में कमल हासन ने राजनीती का हिस्सा बन्ने की भी घोषणा करी थी | उन्होंने कहा था के वे जल्द ही राजनीती में कदम रखने वाले हैं |

Hassan spoke of Hindu terror in the issue of Tamil magazine ‘Ananda Vikatan’. Hassan alleged in the column that the South-left organizations have changed their stand. The Hindu leader had said that the ‘Hassan should be shot and taken’. For a long time, Kamal Haasan wanted to come to politics. And recently Kamal Haasan had also announced to be a part of the politics. He said that he is going to soon step in politics.

तो क्या ये हिंदुत्व आतंकवाद का खेल खुद कमल हसान ने तो नहीं रचा ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग उन्हें पहचाने और इसी पोलिटिकल स्टंट की आड़ में वे राजनीती में प्रवेश कर जाएँ और इसी के बाद कमल हसन एक दिन सामने आये और रोते हुए उन्होंने कहा की, मैंने इस फिल्म में अपना सबकुछ लगा दिया है, और मुझे कट्टरपंथी इस्लामिक संगठनो से बचाओ, वरना मैं देश छोड़ने पर मजबूर हो जाऊंगा, 2013 में रो रो कर कमल हसन ने खुद को कट्टरपंथी मुस्लिमो से बचाने की अपील की थी |

So is this Hindutva terrorism game itself Kamal Hasan did not make it so that more and more people recognized him and under the patronage of this political stunt, he would enter politics and after this Kamal Hassan came out one day and cried, , I have put everything in this movie, and save me from radical Islamic organizations, otherwise I will be forced to leave the country, crying in 2013, Kamal Hassan himself Ttrpnthi appealed to save the Muslims.

जैसे तैसे कमल हसन की फिल्म रेजील हुई और सभी मुस्लिमो ने उसका बहिष्कार किया, कमल हसन को सुरक्षा तक देना पड़ा, केरल और तमिलनाडु के मुस्लिम बहुल इलाकों में तो उनकी फिल्म कभी रिलीज ही नहीं हो सकी, हिन्दुओ ने कमल हसन की फिल्म देखि और फिल्म हिट हुई, और कमल हसन की की कमाई हुई अन्यथा उनकी आर्थिक स्तिथि टाइट हो गयी थी |

For example, Kamal Hassan’s film was resuscitated and all Muslims boycotted him, Kamal Hassan had to give up security, in his Muslim-dominated areas of Kerala and Tamil Nadu, his film could never be released, Hindus saw the film of Kamal Hassan and The film got hit, and Kamal Hassan’s earnings had otherwise become his financial condition.

और आज वो कमल हसन जो 2013 में कट्टरपंथी मुस्लिमो के कारण रो रहे थे, देश छोड़ने की बात कर रहे थे, वो राजनीती में आने के लिए हिन्दुओ को आतंकी बता रहे है, साफ़ होता है की 2013 में हिन्दुओ ने जो कमल हसन का साथ दिया था, हिन्दुओ से वो बड़ी भूल हो गयी थी क्यूंकि जिस शख्स को हम मनोरंजन का चाची 420 समझकर बैठे हुए थे, वो तो अब्दुल 786 निकला |

And today, Kamal Hassan, who was crying because of fundamentalist Muslim in 2013, was talking about leaving the country, he is telling Hindus terrorists to come in politics, it is clear that Hindus who joined Kamal Hassan in 2013 He had given a big mistake to Hindus, because the person we were sitting with as aunty 420 of entertainment, we got Abdul 786.

देवबंद में आतंकियों के छिपे होने का हुआ पर्दाफाश, सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम, योगी और मोदी सक्ते में|

बरेली : हाल में दो संदिग्‍ध बांग्‍लादेशी आतंकियों के पकड़े जाने के बाद पुलिस देवंबद समेत सहारनपुर और मुजफ्फरनगर जिलों में सभी हजारों पासपोर्ट धारकों के कागजात के सत्‍यापन का काम शुरू करने वाली है. दरअसल इन संदिग्‍धों के पास देवबंद पते के भारतीय पासपोर्ट मिले हैं. नकली दस्‍तावेजों के इस्‍तेमाल से ये पासपोर्ट बनाए गए हैं. मामले की जांच में पुलिस को सूचनाएं मिली हैं कि इस क्षेत्र में कई आतंकी मॉड्यूल छिपे हो सकते हैं!

Bareilly : After the arrest of two suspected Bangladeshi terrorists recently, the police is going to start verification of all the thousands of passport holders papers in Saharanpur and Muzaffarnagar districts, including Davamband. Indeed, these suspects have got Indian passports of Deoband address. These passports have been made using fake documents. In the investigation of the case, the police have received information that many terror module may be hidden in this area.

टाइम्‍स ऑफ इंडिया की इस रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने कहा कि यह केवल देवबंद या किसी खास समुदाय के लिए नहीं किया जा रहा है. मुजफ्फरनगर और सहारनपुर जिलों के सभी पासपोर्ट धारकों का सत्‍पापन किया जाएगा. दरअसल इस तरह की खुफिया सूचनाएं मिली हैं कि कुछ ऐसे आतंकी मॉड्यूल यहां छिपे हुए हैं. इससे पहले भी ऐसे कई वाकये यहां हुए हैं जब संदिग्‍ध यहां पकड़े गए हैं!

According to the Times of India report, the police said that this is not being done only for Deoband or any particular community. All passport holders of Muzaffarnagar and Saharanpur districts will be certified. In fact, intelligence inputs such that some such terror module are hidden here. Even before this, there have been many such instances here when the suspects are caught here.

यूपी ATS के हत्थे चढ़ा बांग्लादेशी आतंकी, देवबंद में रहकर रच रहा था आतंकी साजिश…
उत्तर प्रदेश के एटीएस (एंटी टेररिस्ट स्क्वायड) ने बांग्लादेश के आतंकवादी संगठन ‘अन्सारुल्ला बांग्ला टीम’ से जुड़े एक दहशतगर्द को आज (रविवार) मुजफ्फरनगर जिले से गिरफ्तार किया. एटीएस के महानिरीक्षक असीम अरुण ने यहां बताया कि दस्ते ने अब्दुल्ला अल मामून नामक व्यक्ति को आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्तता के आरोप में मुजफ्फरनगर जिले के कुटेसरा क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है. शुरुआती पूछताछ में पता लगा है कि वह बांग्लादेश के प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन ‘अन्सारुल्ला बांग्ला टीम’ से जुड़ा है. अन्सारुल्ला बांग्ला टीम कुख्यात आतंकवादी ओसामा बिन लादेन द्वारा गठित किये गये आतंकवादी संगठन ‘अलकायदा’ से प्रेरित तन्जीम बतायी जाती है!

Terrorist conspiracy was made in the wake of the UP ATS assassinated Bangladeshi terrorists, Deoband …
ATS (Anti Terrorist Squad) of Uttar Pradesh arrested a terrorist linked to Bangladesh’s terrorist organization ‘Ansarullah Bangla Team’ from Muzaffarnagar district today (Sunday). ATS Inspector General Asim Arun told here that the squad has arrested a person named Abdullah al-Mamun, from the Kutsara area of ​​Muzaffarnagar district on charges of involvement in terrorist activities. In the initial inquiry, it has been found that he is associated with the Bangladesh-based terrorist organization ‘Ansarullah Bangla Team’. Ansarullah Bangla team is known as Tanjim inspired by the terrorist organization ‘Al-Qaeda’ formed by the notorious terrorist Osama bin Laden.

अरुण ने बताया कि बांग्लादेश के मोमिन शाही जिले के हुसनपुर गांव का रहने वाला अब्दुल्ला पिछले करीब एक महीने से मुजफ्फरनगर के कुटेसरा में रह रहा था. इससे पहले वह सहारनपुर जिले के देवबंद थाना क्षेत्र स्थित अम्बेहटा शेख इलाके में रह रहा था. वहीं पर उसने फर्जी दस्तावेज के आधार पर अपना पासपोर्ट बनवाया था. उसके कब्जे से फर्जी आधार कार्ड, पासपोर्ट, चार मोहरें तथा 13 पहचान पत्र बरामद किये गये हैं!

Arun said that Abdullah, who was from Hussanpur village in Momin Shahi district of Bangladesh, had been living in Kutsasera of Muzaffarnagar for nearly a month. Earlier, he was living in Ambehata Sheikh area of ​​Deoband police station area of ​​Saharanpur district. At the same time, he made his passport on the basis of fake documents. Fake identity card, passport, four stamps and 13 identity cards have been recovered from his possession.

पुलिस के मुताबिक जो बांग्‍लादेशी आतंकी अगस्‍त में मुजफ्फरनगर में पकड़े गए थे, उनके पासपोर्ट सहारनपुर में ही बने थे. इसके चलते इस क्षेत्र के सभी पासपोर्ट धारकों का सत्‍यापन हो रहा है. अगस्‍त में यूपी एटीएस ने बांग्‍लादेशी नागरिक अब्‍दुल्‍ला अल-मामून को पकड़ा था. वह प्रतिबंधित आतंकी संगठन अंसारुल्‍ला बांग्‍ला टीम (एबीटी) का सदस्‍य था. वह मुजफ्फरनगर में पकड़े जाने से पहले देवबंद में कई सालों तक छिपा रहा. उसके पकड़े जाने के बाद से कई सहयोगियों को पकड़ा गया है!

According to the police, the Bangladeshi terrorists who were arrested in Muzaffarnagar in August, their passports were made in Saharanpur only. As a result, all passport holders in this area are being verified. In August, UP ATS had caught the Bangladeshi citizen Abdullah Al-Mamun. He was a member of the banned terrorist organization Ansarullah Bangla Team (ABT). He was hiding in Deoband for many years before being caught in Muzaffarnagar. Many collaborators have been arrested since his arrest.

महिलओं का आइब्रो बनवाना और बाल कटवाना नाजायज है, दारुल उलूम देवबंद का फतवा…
फतवा में स्पष्ट रूप से कहा गया है, ‘इस्लाम में आइब्रो बनवाना और बाल कटवाना धर्म के खिलाफ है. कोई महिला ऐसा करती है तो वह इस्लाम के नियमों का उल्लंघन कर रही है.’ इस फतवा को जारी करने के पीछे तर्क दिया गया है कि इस्लाम में महिलाओं पर 10 पाबंदियां लगाई गई हैं. उन्हीं में बाल काटना और आइब्रो बनवाना भी शामिल है. लंबे बाल महिलाओं की खूबसूरती का हिस्सा है. इस्लाम मजबूरी में बाल काटने की इजाजत देता है. बिना किसी मजबूरी के बाल कटवाना नाजायज है’!

Making eyebrows of women and cutting hair is unfair; Darul Uloom Deoband’s fatwa …
In Fatwa it is clearly stated that ‘making eyebrows in Islam and hair cutting is against religion. If a woman does this, then she is violating the rules of Islam. ‘ The reason behind issuing this fatwa is that there are 10 restrictions on women in Islam. She also includes cutting hair and eyebrow. Long hair is part of the beauty of women. Islam permits hair cutting in compulsion. It is unfair to cover the hair without any compulsion. ‘

मालूम हो कि दारुल उलूम देवबंद मुस्लिमों के लिए एक विशेष स्थान है. दारुल उलूम देवबंद का कहना है कि वह दुनिया में इस्लाम की मौलिकता को कायम रखने के लिए काम कर रही हैं. इस विचारधार से प्रभावित मुसलमानों को देवबंदी कहा जाता है. दारुल उलूम देवबंद की आधारशिला 30 मई 1866 में हाजी आबिद हुसैन व मौलाना क़ासिम नानौतवी ने रखी थी!

It is known that Darul Uloom Deoband is a special place for the Muslims. Darul Uloom Deoband says that he is working to maintain the originality of Islam in the world. The Muslims affected by this ideology are called Deobandi. The foundation stone of Darul Uloom Deoband was laid on 30 May 1866 by Haji Abid Hussain and Maulana Qasim Nanautvi.

अब्‍दुल्‍ला मामून की गिरफ्तारी के बाद उसकी निशानदेही पर भगोड़े आतंकी फैजान अहमद के सहारनपुर ठिकानों पर छापे मारे गए. वहां पर आतंकी संगठन इस्‍लामिक स्‍टेट से जुड़ी सामग्री पाई गई. फैजान स्‍थानीय युवकों को आतंकी गतिविधियों में शामिल करने का काम करता है!

After the arrest of Abdullah Mamun, the raid was carried out on fugitive terrorist Fazan Ahmed’s Saharanpur bases on his trail. The contents of the terrorist organization Islamic State were found there. Faizan works to include local youth in terrorist activities.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक अब्‍दुल्‍ला की गिरफ्तारी के बाद तकरीबन 20 बांग्‍लादेशी पश्चिमी यूपी से लापता हो गए हैं. पुलिस को शक है कि इनके तार अब्‍दुल्‍ला और उसके आतंकी संगठन से जुड़े हैं. पुलिस को शक है कि नकली दस्‍तावेजों के आधार पर हो सकता है कि इनके पास भी भारतीय पासपोर्ट हों. इसकी जांच के लिए ही सत्‍यापन प्रक्रिया हो रही है!

According to police sources, after the arrest of Abdullah, about 20 Bangladeshis have disappeared from western UP. The police suspect that their ties are linked to Abdullah and his terrorist organization. The police suspect that on the basis of fake documents, they may also have Indian passport. Verification process is being done for its investigation.

source : zeenews.india.com