जोरदार हमला: मोदी सरकार ने दिया सेना को ऐसा जानलेवा बख़्तर, चीन समेत पाक में मची तबाही !

नई दिल्ली दुश्मनों से निपटने के लिए मोदी सरकार भारतीय सेना को वैसे तो कई तरह के आधुनिक हथियार और बुलेट प्रूफ जैकेट दे ही रही है, मगर इस बार सरकार ने एक ऐसा जबरदस्त फैसला लिया है, जिससे दुश्मनों में तबाही मचाने के लिए भारतीय सेना को काफी सहायता मिलने जा रही है. भारतीय सेना को मिलने जा रहे इस हथियार का जवाब चीन और पाकिस्तान सेना के पास भी नहीं है.

In order to deal with the enemies of the New Delhi, Modi Government has been giving various types of modern weapons and bullet proof jackets to the Indian Army, but this time the government has taken such a tremendous decision, to help the Indian Army There is a lot of support going on. The answer to this weapon going to meet the Indian Army is not even with the Chinese and Pakistan army.

बुलेट प्रूफ बंकरों से करेंगे दुश्मनों का विनाश
दरअसल अब भारतीय सेना ऐसे बंकर बनाने जा रही है जो पोर्टेबल और बुलेट प्रूफ हों. पत्थर और मिट्टी के बंकरों की जगह पर ऐसे बंकरों का निर्माण किया जाएगा, जो स्टील के हों और मजबूत हों. पाकिस्तान और चीन की चुनौतियों से मोर्चा लेने वाले जवानों को ऐसे बंकर मिलने से वो दुश्मन के हमले से सुअक्षित रह सकेंगे और मजबूती से दुशमन पर धावा बोल सकेंगे.

Bullet proof bunkers will destroy the enemies
Indeed, the Indian Army is going to build a bunker, which is portable and bullet proof. Bunkers will be constructed at the place of stone and soil bunkers, which are steel and strong. By getting such bunkers from the challenges of Pakistan and China, such a bunker will be able to stay safe with the enemy attack and will be able to rush firmly on the enemy.

नए बंकरो के निर्माण का उद्देश्य सुरक्षा मानकों को और मजबूत करना है. इसके लिए ज्यादा से ज्यादा मात्रा में बुलेटप्रूफ सामान का प्रयोग किया जाएगा, जिनमें जैकेट और गाड़ियां भी शामिल हैं. यानी बंकर भी बुलेट प्रूफ होंगे, साथ ही जवान बुलेट प्रूफ जैकेट पहने होंगे और उनकी गाड़ियां भी बख्तरबंद होंगी, जो दुश्मन की गोलियां आसानी से झेल जाएंगी और जवानों की जान बचा लेंगी.

The objective of building new bunkers is to strengthen security standards. For this, bulletproof bags will be used in maximum quantities, including jackets and trains. That means the bunker will also be bullet proof, as well as the youth will be wearing bullet proof jackets and their vehicles will also be armored, which will easily catch the enemy pills and save the lives of the soldiers.

बता दें कि कांग्रेस ने अपने 60 साल के राज में सेना के जवानों की सुरक्षा की ओर कभी कुछ ख़ास ध्यान नहीं दिया. जवान मिटटी व् पत्थरों के बंकरों से दुश्मन से लोहा लेते आये हैं और ऐसे बंकरों के कमजोर होने के कारण जवानों को असमय ही अपनी जान से हाथ धोना पड़ता था.

Let us state that the Congress has never given special attention towards the security of the army personnel in its 60-year rule. Young men have come from the land of the bunks of clay and stones, and due to the weakness of such bunkers, the soldiers had to wash their lives in the meantime.

मिटटी के नहीं, फौलाद के होंगे बंकर
सेना के इस कदम के पीछे मुख्य उद्देश्य सुरक्षा व्यवस्था और चाक-चौबंद करने के साथ सेना को स्थानीय जरूरतों के अनुसार तैयार करना है. विदेशी उपकरणों पर निर्भरता कम कर सेना को घरेलू हालात में और मजबूत बनाना ही भारतीय सेना की प्राथमिकता है.

Not of soil, steel can be bunker
The main objective behind this move of the army is to make the army in accordance with the local needs, with the security system and chalking. Reducing dependence on foreign equipment and strengthening the army in the domestic situation is the priority of the Indian Army.

बता दें कि इस वक्त सेना में 2 तरह के बंकर इस्तेमाल किए जाते हैं. पत्थर और मिट्टी वाले बंकर मजबूती के लिहाज से ठीक नहीं होते. दुश्मनों का हमला झेलने की इनकी क्षमता नहीं होती और जल्द ही ध्वस्त हो जाते हैं. दूसरे बंकर स्टील वाले होते हैं, जिनका निर्माण मुश्किल होता है. इन स्टील के बंकरों पर दुश्मन की गोलियों का असर नहीं होता और इनमे कुछ ऐसे छेद बने होते हैं, जिनसे जवान दुश्मनों पर गोलियां चलाते हैं

Explain that two types of bunkers are used in the army at this time. Boulders with stones and soil are not well enough in terms of strength. They do not have the ability to withstand the attack of enemies and they are destroyed soon. The second bunker is steel, which is difficult to construct. These steel bunkers are not affected by enemy bullets and some of these holes are formed by which the young soldiers firing on enemies

मगर अब कोयटंबूर की अमृता यूनिवर्सिटी ने एक ऐसे बंकर मॉडल का निर्माण किया है, जो हल्के स्टील से बना है और बीच में प्लाइवुड का इस्तेमाल किया गया है, ये बंकर बनाने आसान भी हैं और जवानों की रक्षा करने में भी बेहतरीन हैं. सेना को ये बंकर मिलने से हर जवान की ताकत कई गुना तक बढ़ जायेगी.

Now Amrita University of Coetambur has built a bunker model which is made of light steel and plywood is used in the middle, these bunkers are easy to make and are also excellent in protecting the soldiers. By getting this army bunker, the strength of every young man will increase manifold.

अभी अभी:- पाकिस्तान के विरुद्ध लिया ऐसा भयंकर एक्शन, पूरे विश्व के सामने पाक औंधे मुँह गिरा !

नई दिल्ली : पाकिस्तान जिसे अब खुद अमेरिका ने आतंकवाद समर्थक देश बता दिया है. जिसका खुद पीएम भरष्टाचार में दोषी हो और भागा-भागा फिर रहा हो. उस देश की अर्थव्यवस्था आज डूबते जहाज़ के जैसी हो गयी है. तो वहीँ अब एक बार फिर अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पकिस्तान औंधे मुँह गिरा है.

New Delhi: Pakistan, which now America itself has described as a pro-terrorism country. Whose own PM is guilty of conspiracies and is running away. The economy of that country has become like a ship drowning today. So now, once again, Pakistan has suddenly fallen on the international stage.

अंतर्राष्ट्रीय मंच पर औंधे मुँह गिरा पाकिस्तान !
अभी मीडिया रिपोर्ट्स से बड़ी खबर आ रही है कि अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल संघ (फीफा) ने पाकिस्तान के फुटबॉल फेडरेशन (पीएफएफ) को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है. खबर मुताबिक फीफा काउंसिल ने 10 अक्टूबर 2017 को थर्ड पार्टी के हस्तक्षेप की वजह से यह फैसला लिया है. यह पाकिस्तान के लिए बहुत बड़ा झटका है क्यूंकि उसने 2015 से कोई मैच नहीं खेला है.

Pakistan fell on the international stage!
Right now media reports are getting big news that the International Football Federation (FIFA) has suspended the Pakistan Football Federation (PFF) with immediate effect. According to the news, the FIFA Council has taken this decision due to the third party intervention on October 10, 2017. This is a big blow to Pakistan because he has not played any match since 2015.

इसका मतलब अब फीफा से जुड़ी किसी भी गतिविधि में पाकिस्तान फुटबॉल फेडरेशन भाग नहीं ले सकेगा. ससपेंड होने के बाद फीफा के नियमों के मुताबिक पीएफएफ अपने सभी सदस्यता अधिकार खो देता है. पीएफएफ के प्रतिनिधियों और क्लब की टीमों को अब अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेने का अधिकार नहीं है, जब तक कि निलंबन रद्द नहीं हो जाता.

This means that the Pakistan Football Federation will not be able to participate in any activity related to FIFA. After the suspension, according to the rules of FIFA, PFF loses all its membership rights. PFF’s representatives and club teams no longer have the right to participate in international competitions, until the suspension is canceled.

बहरहाल, इसका ये भी मतलब है कि इसके बाद से ना तो पीएफएफ और ना इसके किसी भी सदस्य या अधिकारियों को फीफा या एशियाई फुटबॉल कन्फेडरेशन (एएफसी) से किसी भी डेवलपमेंट प्रोग्राम या ट्रेनिंग से फायदा हो सकता है.

However, it also means that neither PFF nor any of its members or officials can benefit from FIFA or Asian Football Confederation (AFC) from any development program or training since then.

फीफा ने खुद यह जानकारी अपनी साइट पर दी है
फीफा की अधिकारिक वेबसाइट पर पीएफएफ के इस ‍निलंबन का उल्लेख किया गया है. आज पाकिस्तान का दामन दाग लग-लग कर काला हो चुका है और वहीँ दूसरी तरफ पूरी दुनिया भारत अपनी एक नई जगह बना रहा है. मोदी सरकार आ जाने के बाद से भारत को नयी पहचान मिलनी शुरू हुई है. आज योग दिवस पूरी दुनिया में मनाया जा रहा है. भारत में फीफा का अंडर 17 फुटबॉल वर्ल्ड कप खेला जा रहा है और पाकिस्तान को कोई देश खिलाना ही नहीं चाहता. दोनों देश एक वक़्त पर आज़ाद हुए थे आज भारत मंगल गृह पर यान भेज रहा है और पाकिस्तान भारतीय सीमा में आतंकी.

FIFA has given this information on its own site
This suspension of PFF has been mentioned on FIFA’s official website. Today, the stain of Pakistan has turned black and the whole world is making India a new place on its other side. Since the coming of Modi Government, India has started getting new identity. Today, Yoga Day is being celebrated all over the world. FIFA Under-17 Football World Cup is being played in India and Pakistan does not want to feed any country. Both the countries were free at one point of time, today India is sending ships to the Mars home and Pakistan terrorists in the Indian border.

खेलों का पैसा जाता है आतंकी संगठनों को
दरअसल अब पूरी दुनिया पाकिस्तान का असली चेहरा जान चुकी है कि कैसे यहाँ खेलों में सरकारें अपना हस्तक्षेप करती हैं. क्रिकेट में तो आये दिन पाकिस्तान के खिलाडियों के मैच फिक्सिंग की खबरें आती रहती हैं. साथ-साथ खेल की कमाई का मोटा पैसा कैसे आतंकी संगठनों में लगाया जाता है इसका भी खुलासा अब हो चुका है. यही वजह है कि अब कोई देश पाकिस्तान में जाकर खेलने को राज़ी नहीं है.

Sports money goes to terrorist organizations
Indeed, now the whole world has realized the real face of Pakistan, how governments interfere in the games here. In the cricket days, news of fixing matches of Pakistan’s players is coming. What is also the amount of money earned in the game is put in terrorist organizations, it has also been revealed. That is why no country is willing to go to Pakistan anymore.

इससे पहले भी अभी पाकिस्तान ने अपनी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भद्द पिटवायी थी. जब पकिस्तान ने UN में एक फिलिस्तीन लड़की का फोटो दिखाकर उसको कश्मीर का बताया था. खुद भारत ने इसका खुलासा किया था. जिसके बाद अतंराष्ट्रीय संगठन ने भी पाकिस्तान को ज़ोरदार फटकार लगायी थी.

Even before this, Pakistan has always wielded its international level. When Pakistan saw a Palestinian girl photograph in the UN, she told him Kashmir. India itself disclosed it. After that, the international organization had strongly reprimanded Pakistan.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

If you also want to make your contribution in public awareness, then definitely share it on Facebook. The more the share will be, the more public the more aware. The stock buttons are given below for your convenience.

ये वीडियो भी जरुर देखें 

Also watch these videos:

यह भी देखें:

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0

source dd bharti

 

अभी-अभी : मोदी सरकार ने भारतीय जवानों को दी खुली छूट, जाओ ठोक डालो पाक सैनिकों को- और कहा कि…

New Delhi : बॉर्डर पर पाकिस्तान के सीजफायर वॉयलेशन के बीच भारत ने अपना रुख काफी सख्त कर लिया है।

गृहराज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा है कि जवानों को खुली छूट है। भारत की सुरक्षा के साथ कोई खिलवाड़ नहीं सकता। अगर पाकिस्तान सीज फायर तोड़ता है तो हमारे जवान भी पीछे नहीं हटेंगे । अगर पाकिस्तान की तरफ से फायर होता है तो फिर हम एक का बदला 10 गोलियों से देने में कोई लिहाज नहीं करेंगे।

Minister of State for Home Hansraj Ahir has said that the jawans have an open exemption. No one can mess with India’s security If Pakistan breaks the seizure fire, then our troops will not go back. If there is a fire from Pakistan, then we will not give any consideration to the revenge of one of 10 tablets.

कई इलाकों में सीजफायर तोड़ने पर भारत भी पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे रहा है । जवाबी कार्रवाई करते हुए भारतीय जवानों ने पाकिस्तानी सेना की कई चौकियों को तबाह कर दिया है । पाकिस्तान के 11 रेंजर्स मारे जाने की खबर है

In many areas, India is giving a shabby reply to Pakistan after breaking the siegefire. While retaliating, Indian soldiers have destroyed many check posts of Pakistani army. Pakistan’s 11 Rangers are reported to be killed

BSF की 35 चौकियां PAK के निशाने पर :
सीमा पर पाकिस्तान ने भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की 35 चौकियों को निशाना बनाया है । पाकिस्तानी रेंजर्स भारतीय जवान और नागरिकों पर मोर्टार दाग रहे हैं । शुक्रवार 19 जनवरी की रात पाकिस्तान की ओर से अरनिया, सुचेतगढ़, आरएस पुरा, पर्गवाल, कानाचक और अखनूर के घरखाल इलाके में सीजफायर का उल्लंघन किया गया

35 posts of BSF on target of PAK:
Pakistan has targeted 35 check posts of the Indian Border Security Force (BSF) on the border. Pakistani Rangers are blaming mortars on Indian soldiers and civilians. On Friday night, January 19, the siegefire was violated by Pakistan on Arnia, Suchetgarh, RS Pura, Pargwal, Kanakkak and Akhnur.

पाकिस्तान को भी भारी नुकसान :
जम्मू के कानाचक इलाके में एक नागरिक के जख्मी होने की खबर मिली है । जवाबी कार्रवाई करते हुए भारतीय सेना ने सांबा, आरएसपुरा और हीरानगर सेक्टर पर पाकिस्तान को भारी नुकसान पहुंचाया है । सूत्रों ने बताया है कि सीमा पार शकरगढ़ और सियालकोट इलाके में 11 पाकिस्तानी नागरिक और रेंजर्स मारे गए हैं ।

Pakistan also suffered heavy losses:
A citizen’s wound has been reported in Kannak area of Jammu. While retaliating, the Indian Army has caused heavy damage to Pakistan on Samba, RSPura and Hiranagar sector. Sources said that 11 Pakistani nationals and rangers were killed in the border crossings in Shakargarh and Sialkot area.

अफसरों को सतर्क रहने का आदेश :
पाकिस्तान से बरसाए गए मोर्टार और गोलों में अब तक 2 नागरिकों की जान जा चुकी है । तीन दिन में तीन भारतीय जवान भी शहीद हो चुके हैं । पाकिस्तान की हरकतों के मद्देनजर इंटरनेशनल बॉर्डर पर 5 किलोमीटर के दायरे में सभी स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं । एलओसी पर तैनात सिविल अफसरों को सतर्कता बरतने का आदेश दिया गया है ।

Officers order to be cautious:
So far, 2 civilians have died in mortar and shelling caused by Pakistan. Three Indian soldiers have also been martyred in three days. In view of Pakistan’s antics, all schools and colleges have been closed in the 5-kilometer radius of International Border. Civil officials posted on LoC have been ordered to be vigilant.

यह भी देखें :

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0

source zee news

अभी अभी: पाक ने की ऐसी हरकत, भडकी भारतीय सेना कर सकती है युद्ध का ऐलान…

पाकिस्तानी थल सेना ने शाम साढ़े छह बजे से नियंत्रण रेखा पर सुंदरबनी सेक्टर (राजौरी जिला) में बगैर उकसावे के छोटे हथियारों, स्वचालित हथियारों और मोर्टार से अंधाधुंध फायरिंग की. इस पर, भारतीय थलसेना ने जोरदार और प्रभावी जवाब दिया. उन्होंने बताया कि दोनों ओर से हुई गोलीबारी में भारतीय सेना के लांस नायक सैम अब्राहम गंभीर रूप से घायल हो गए और बाद वह शहीद हो गए . वह केरल के रहने वाले थे.

Pakistani army troops indiscriminately firing small arms, automatic weapons and mortars in the Sunderbani Sector (Rajouri district) on the LoC from 6:30 in the evening. On this, the Indian Army gave strong and effective answers. He told that in the firing from both sides, Lance Naik Sam Abraham of the Indian Army was seriously injured and later he became martyred. He was a resident of Kerala.

बीएसएफ का बयान
बीएसएफ के एक अधिकारी ने बताया कि इससे पहले पाकिस्तान रेंजर्स ने बगैर उकसावे के अंतरराष्ट्रीय सीमा पर आरएस पुरा, अर्निया और रामगढ़ सेक्टरों में कई इलाकों में सुबह छह बज कर 40 मिनट से फायरिंग और गोलाबारी की. उन्होंने अंतरराष्ट्रीय सीमा के 50 किमी के दायरे में सीमा चौकियों और गांवों को निशाना बनाया.उन्होंने बताया कि फायरिंग और गोलाबारी दोपहर में कठुआ जिला में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भी फैल गई.अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने तीन सेक्टरों में 45 सीमा चौकियों को निशाना बनाया. वहीं, बीएसएफ ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया.

BSF statement
An official of the BSF said that before this, the Rangers firing and firing at several places in RS Pura, Arnia and Ramgarh Seats in the area without any permission from the Pakistan Rangers without any permission. They targeted border checkpoints and villages within 50 km radius of the international border.They said that firing and firefighting spread on the international border in Kathua district in the afternoon. The official said that Pakistani troops targeted 45 border posts in three sectors. Created. At the same time, the BSF also responded retort.

बीएसफ का 1 जवान शहीद
अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सांबा सेक्टर पर दोनों ओर से गोलीबारी के दौरान घायल हुए बीएसएफ के हेड कांस्टेबल जगपाल सिंह शहीद हो गए. वहीं, दो अन्य जवान घायल हो गए.एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों की भारी गोलाबारी के जरिए अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कठुआ, सांबा और जम्मू जिलों के अर्निया, आरएस पुरा, रामगढ़, सांबा और हीरानगर सेक्टरों में 50 से अधिक गांवों को निशाना बनाया गया.पाकिस्तानी फायरिंग और गोलाबारी में दो नागरिक मारे गए जबकि 32 नागरिक घायल हो गए.

1 BSF martyr
BSF head constable Jagpal Singh was martyred during the firing on both sides of the Samba sector on the International Border. At the same time, two other jawans were injured.A police official said that targeting more than 50 villages in Kartua, Samba and Jammu districts of Arnia, RS Pura, Ramgarh, Samba and Hiranagar on the international border through heavy shelling of Pakistani soldiers. Two Pakistani civilians were killed in Pakistani firing and shelling, while 32 civilians were injured.

पाकिस्तान के उपउच्चायुक्त को तलब किया
भारत ने शुक्रवार को पाकिस्तान के उपउच्चायुक्त सैयद हैदर शाह को तलब किया और पाकिस्तानी सैन्य बलों द्वारा निरंतर संघर्षविराम का उल्लंघन किये जाने एवं निर्दोष नागरिकों को अंधाधुंध निशाना बनाये जाने को लेकर उनके सामने ‘गंभीर चिंता’प्रकट की. विदेश मंत्रालय के पाकिस्तान संभाग में संयुक्त सचिव ने शाह को तलब किया था. एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार विदेश मंत्रालय ने हीरानगर, सांबा, आर एस पुरा और अरनिया सेक्टरों में 18 और 19 जनवरी, 2019 को पाकिस्तान सैन्यबलों द्वारा किये गये संघर्ष विराम उल्लंघनों में तीन निर्दोष नागिरकों की मौत तथा नौ अन्य नागरिकों के घायल होने पर ‘गंभीर विरोध’दर्ज कराया

Summoned Pakistan’s deputy commissioner
India summoned Pakistan’s deputy commissioner Syed Haider Shah on Friday and published ‘serious concern’ in front of Pakistani military forces for continuous violation of the ceasefire and indiscriminate targeting innocent civilians. In the Pakistan Department of Foreign Ministry, the joint secretary had summoned Shah. According to a government release, the Ministry of External Affairs’ three serious civilian casualties in the ceasefire violations committed by the Pakistan army forces in Hiranagar, Samba, RS Pura and Arnia sectors and the deaths of nine other civilians’ serious’ Opposed

वर्ष 2018 में नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी सैन्य बलों द्वारा अबतक 100 से अधिक ऐसे उल्लंघन किये गये हैं. बयान में कहा गया है, ‘‘पाकिस्तान में संबंधित अधिकारियों को बताया गया कि निर्दोष नागरिकों को अंधाधुंध निशाना बनाया जाना सभी स्थापित मानवीय नियमों एवं परंपराओं के विरुद्ध है. ’’ इससे पहले साप्ताहिक ब्रीफिंग में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा था, ‘‘निरंतर बिना किसी उकसावे के पाकिस्तान द्वारा किये जा रहे संघर्ष विराम उल्लंघन की हम वाकई कड़ी निंदा करते हैं. इस संघर्ष विराम उल्लंघन में जानमाल का नुकसान हुआ है.

In the year 2018, more than 100 such violations have been done by the Pakistani military forces on the Line of Control and the international border. The statement said, “In Pakistan, the concerned officials were told that making an indiscriminate target of innocent citizens is against all established human rules and traditions. Earlier, in a weekly briefing, the Foreign Ministry spokesman had said, “We really condemn the violation of the ceasefire violation by Pakistan without any provocation. There is loss of life in this ceasefire violation.

पाकिस्तान की ऐसी हरकत देख भडकी भारतीय सेना युद्ध का ऐलान भी कर सकती है पाक अपनी हरकतों से बिलकुल भी बाज नही आ रहा है

इस घटना में प्रभावित हुए लोगों के प्रति हमारी संवेदना है. ’’ उन्होंने यह भी कहा था कि पाकिस्तान आतंकवादियों को भारत में घुसपैठ कराने के लिए आड़ प्रदान करने के लिए संघर्षविराम उल्लंघन करता है लेकिन भारत भी ऐसे मामलों में कड़ा जवाब देता है.

It is our condolences to the people affected in this incident. “He also said that Pakistan violates the ceasefire to provide terrorists to infiltrate into India, but India also gives a strong answer in such cases.

खास बातें
पाकिस्तान लगातार कर रहा है सीजफायर उल्लंघन
अखनूर और आरएस पुरा सेक्टर में कर रहा है गोलीबारी
शुक्रवार को अर्निया, रामगढ़, सांबा, हीरानगर में की थी गोलीबारी

यह भी देखें :

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0

source zee news