विकास को सनकी बताने वाले पप्पू पर टूट पड़े गुजराती मुस्लिम, देख भाग खड़े हुए कांग्रेसी युवराज !

अहमदाबाद : गुजरात चुनाव की तारीख का ऐलान होने को है, परन्तु उससे पहले ही गुजरात के मुसलमानों ने कांग्रेस को ऐसा जोरदार झटका दिया है, जिसे देख राहुल गाँधी चारों खाने चित्त हो गये है, कांग्रेसी ने बीजेपी के नाम से मुसलमानों को डराने की काफी कोशिशे की, मगर जमीन हकीकत जब सामने आई तब कांग्रेस को PM मोदी को लोकप्रियता और उनके काम करने के तरीके का अहसास हुआ !

कांग्रेस के खिलाफ गुजराती मुसलमान
दरअसल 2002 में हुए गुजरात दंगो को लेकर कांग्रेस सदा ही मुसलमानों के बीच BJP को लेकर डर का माहौल बनाने की कोशिश करती रही है, मगर गुजरती मुस्लिमों को पता है कि उन दंगो को भडकने के पीछे कहीं ना कहीं कांग्रेस का बड़ा हाथ है “मोदी जी के PM बनने के बाद गुजरात में कभी भी दंगे नही हुए” !

गुजरात की ग्राउंड रियल्टी बताती है कि गुजरात के मुस्लिमों के मन में BJP के लिए सम्मान की भावना कूट कूट कर भारी हुई हैं, और यही वजह है की पिछले विधान सभा चुनाव 2012 में BJP ने एक दर्जन से मुसलमान बहुल्य सीटो पर जीत का परचम लहराया था , खुद BJP अध्यक्ष अमित शाह कहते है कि गुजरात में हर पांच से एक मुस्लिम बीजेपी को वोट देता है, यानि 20 फीसदी मुस्लिम बीजेपी के साथ है !

जरी धर्म की राजनीति में जुटी भ्रष्टचारी कांग्रेस
इस बार भी कांग्रेस ने एक ओर तो बीजेपी को मुसलमान विरोधी पार्टी के तौर पर दिखाने की खूब कोशिश की है और दूसरी और हिन्दुओं में भी फुट डलवाने की भरपूर कोशिशें जारी है, पाटीदार , दलित और OBC वर्ग के लोगों को भड़का कर राहुल गाँधी वोट पाने की हसरत रखें है लेकिन गुजरात के मुस्लिम ने कांग्रेस को इस बार भी हार का मुंह दिखाने का मन बना लिया है !

गुजरात का मुस्लिम मतदाता 2007 के विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस का परंपरागत वोटर माना जाता रहा है लेकिन 2007 के बाद BJP ने कांग्रेस के इस वोट बैंक में सेंधमारी की है, 2012 के विधान सभा चुनाव में मुसलमानों का करीब 20 फीसदी वोट बीजेपी को मिला है, इसी का नतीजा रहा है कि 25 मुस्लिम बाहुल्य सीटों में सीटों पर बीजेपी और 9 सीटों पर कांग्रेस ने दर्ज की थी !

कांग्रेस की सीटों पर BJP का कब्जा
BJP अल्पसंख्यक मोर्चे के गुजरात प्रदेश अध्यक्ष सूफी महबूब अली चिस्ती ने आजतक से कहा- मुस्लिम बहुल्य वागरा , जम्बुसर, डभोई, कर्जन, पदरा, धोलका,जामनगर,भूंज, अंजारा, मांगरोल, जूनागढ़ , रोजकोट जैसी सीटें BJP जितने में सफल रही है. ये सभी सीटें BJP ने टारगेट बनाकर कांग्रेस से छिनी थी, ये वोट सीटें थी, जिन्हें BJP 5 से 7 हजार वोट से कांग्रेस से हार जाया करती थी, गुजरात में BJP के 200 से अधिक नगर पार्षद मुस्लिम है और उसमें लगभग 100 चेयरमैन मुस्लिम !

गुजरात दंगा और कर्फ्यू मुक्त
सूफी महबूब अली चिस्ती ने कहा BJP सदस्यता अभियान के दौरन गुजरात के 5 लाख मुस्लिम बीजेपी के प्राइमरी सदस्य बने हैं. उन्होंने कहा कि पिछले 15 सालों में बीजेपी के राज में गुजरात दंगा और कर्फ्यू मुक्त बना है. जबकि कांग्रेस के दौर में एक भी साल ऐसा नहीं गुजरा जब दंगा न हुआ हो. उन्होंने कहा मुसलमानों को चाहिए क्या सुरक्षा और विकास. गुजरात में दोनों मुसलमानों को मिल रहा है !

गुजरात के मुसलमानों के बेहतर हालात
सूफी महबूब अली चिस्ती ने कहा कि गुजरात के मुसलमानों की हालत देश के दूसरे मुसलमानों से बेहतर है. गुजरात के सरकारी नौकरियों में मुसलमानों की 9 फीसदी भागीदारी, गुजरात पुलिस में 10.5 फीसदी मुसलमान और गुजरात में मुसलमानों की साक्षरता दर 80 फीसदी है, जो गुजरात के हिंदुओं के बराबर है. उन्होंने कहा कि गुजराती मुस्लिमों ने कारोबार में भी काफी तरक्की की है. अल्पसंख्यकों के विकास के लिए बने 15 सूत्रीय कार्यक्रम को बेहतर तरीके से गुजरात में लागू किया गया है. इसके लिए यूपीए सरकार ने गुजरात को गुड ग्रेड दिया था. वहीं कांग्रेस शासित राज्य पिछड़ गए !

मोदी ने अल्पसंख्यक विकास वित्त निगम के जरिए की मुसलमानों की मदद
सूफी महबूब अली चिस्ती ने बताया कि गुजरात अल्पसंख्यक विकास वित्त निगम को अटल बिहारी बाजपेयी सरकार के दौरान 60 हजार करोड़ कर्ज दिया था. इसके बाद यूपीए सरकार से मदद मांगी जाती रही लेकिन उन्होंने नहीं दिया और कहा था कि पहले जो धन कर्ज लिया गया है उसका 32 करोड़ ब्याज गुजरात अदा करे. मोदी सरकार ने सत्ता में आते ही ब्याज को माफ किया और 20 हजार करोड़ रुपये एलार्ट किया है. इसके चलते 100 मुस्लिम छात्रों को MBBS,इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट की पढ़ाई के लिए विदेश भेजा गया है !

यानी देखा जाए तो गुजराती मुसलमान इस बार भी कमल के बटन को दबाने जा रहा है. ओपिनियन पोल के मुताबिक़ बीजेपी प्रचंड बहुमत से गुजरात में सरकार बनाने जा रही है. कांग्रेस की जाति-धर्म की राजनीति एक बार फिर मोदी की विकास की राजनीति के सामने दम तोड़ती दिखाई दे रही है !

source dd bharti

कर्नाटक चुनाव से ठीक ऐन पहले इस पर्व मंत्री ने PM मोदी के बारे में दिया ये बड़ा बयान जिसे सुन कांग्रेस हैरान

देश के मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में जनता के मिले-जुले स्वर सुनाई पड़ते हैं. किसी के लिए पीएम मोदी देश के आदर्श प्रधानमंत्री हैं तो किसी के अनुसार देश हित में अनगिनत काम करके भी पीएम मोदी देश के लिए अच्छे प्रधानमंत्री नहीं हैं.

People’s voices are heard about the current Prime Minister Narendra Modi. For someone, PM Modi is the ideal Prime Minister of the country, according to somebody, even by doing countless work in the country’s interest, PM Modi is not a good Prime Minister for the country.

ऐसे में जनता के इसी मिले-जुले स्वर के बीच हाल ही में कर्णाटक के एक मंत्री ने पीएम मोदी के बारे में कुछ ऐसा बोला है जिसे सुनकर बहुतों के होश उड़ने तय हैं. यहाँ कर्नाटक के इस मंत्री का पीएम मोदी पर दिया गया ये बयान इसलिए भी बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि देश में अब जल्द ही कर्नाटक चुनाव होने वाले हैं. (कर्नाटक चुनाव 12-13 मई)

In such a way, between a mixed tone of the public, a minister of Karnataka recently said something about PM Modi that many people are determined to hear their senses. Here the statement given by the Karnataka minister to PM Modi is also being considered as very important as the country is going to be in Karnataka soon. (Karnataka elections May 12-13)

“हम पीएम मोदी को अच्छे से पहचान चुके हैं, इसलिए बीजेपी की कर्नाटक चुनाव में जीत तो…”

दरअसल ख़बरों के अनुसार येदुरप्पा इस बार कर्नाटक में बीजेपी का कोई मुख्यमंत्री चाहते हैं. ऐसे में हाल ही में पूर्व मंत्री जी जनार्दन रेड्डी ने पीएम मोदी के बारे में कहा है कि, “मेरे खून में बीजेपी है.

“We have recognized PM Modi very well, so BJP won the Karnataka elections …”

In fact, according to the news, Yeddyurappa wants a BJP chief minister in Karnataka this time. In the past, former minister G Janardhana Reddy has said about PM Modi, “There is BJP in my blood.

कर्नाटक के लोग और हम बीजेपी और पीएम मोदी के साथ हैं. लोग अबतक अच्छी तरह से जान और मान चुके हैं कि पीएम मोदी एक अच्छे नेता हैं और भगवान ने उन्हें अच्छे कामों के लिए ही भेजा है. इसका मतलब साफ़ है कि बीजेपी की कर्नाटक चुनाव में जीत तो तय है वो भी पूर्ण बहुमत से. “

People from Karnataka and we are with BJP and PM Modi. People have so well known and admired that PM Modi is a good leader and God has sent them for good deeds only. It means that it is clear that the BJP’s victory in the Karnataka elections is certain that even with the absolute majority ”

सिर्फ इतना ही नहीं पीएम मोदी की तारीफ़ में कसीदे पढ़ने के बाद जनार्दन रेड्डी ने ये भी कहा है कि पीएम मोदी की बढती लोकप्रियता को देखकर ये कहना गलत नहीं होगा कि कर्नाटक में इस बार बीजेपी की पूर्ण बहुमत से सरकार बनने से कोई नहीं रोक सकता.

Not only that, Janardhana Reddy has also said after reading alarms in the praise of PM Modi that it will not be wrong to see the growing popularity of PM Modi that no one in Karnataka can stop this from forming a government with the absolute majority of BJP this time. .

आगे बोलते ही जनार्दन रेड्डी ने बताया कि, “जहाँ सिद्धारमैया सरकार से लोगों को काफी हताशा मिली है वहीँ बीजेपी की पिछली सरकार में बहुत विकास हुआ. ऐसे में इतना तो तय है कि इस बार कर्नाटक में बीजेपी की ही सरकार बनेगी और वो भी पूर्ण बहुमत से.

Not only that, Janardhana Reddy has also said after reading alarms in the praise of PM Modi that it will not be wrong to see the growing popularity of PM Modi that no one in Karnataka can stop this from forming a government with the absolute majority of BJP this time. .

यह भी देखे
https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

source namopress.in

पहले के कांग्रेस की इंदिरा गाँधी और अब के मोदीजी की इन फोटो के बीच का फर्क देखकर हैरान रह जायेंगे आप !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी कार्यशैली को लेकर हमेशा से ही चर्चा में रहते हैं. मोदी जी किसी भी कार्य को पूरी शिद्दत के साथ पूरा करते हैं वहीं अपनी विपक्षी पार्टी के नेताओं का भी पूरा ध्यान रखते हैं. पीएम मोदी विपक्षी पार्टियों के साथ भी एक दोस्ताना संबंध बना के चलते हैं. उन्हें पता है कि सबको साथ लेकर ही देश का विकास संभव है. पीएम मोदी ने कई बार सदन में कहा भी है कि मुझे देश के सेवा करने के लिए आप सभी लोगों का सहयोग चाहिए. वहीँ अगर बात देश की पहली महिला पीएम इंदिरा गाँधी की करें तो उनकी कुछ तस्वीरें देखकर आप हैरान रह जाएंगे.

Prime Minister Narendra Modi always talks about his style of functioning. Modi ji completes any work with complete confidence and at the same time he takes full care of the leader of his opposition party. PM Modi also makes a friendly relationship with opposition parties. They know that the development of the country is possible only by taking everyone along. PM Modi has said in the House many times that I want all the people’s support to serve the country. If you talk about the country’s first woman PM Indira Gandhi, then you will be surprised to see some of her photographs.

दरअसल, सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं. इन तस्वीरों में जहाँ एक तरफ प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी अपने मंत्रियों के साथ मीटिंग कर रही हैं. इस मीटिंग में आप देख सकते हैं कि इंदिरा गाँधी कुर्सी पर बैठी हुई हैं और उनके सभी मंत्री उनके सामने खड़े हैं. इन मंत्रियों में से कोई भी इंदिरा गाँधी के सामने कुर्सी पर नहीं बैठा है. वहीँ अगर बात पीएम मोदी की करें तो उनकी तस्वीर देखकर आप भी उन पर गर्व करेंगे.

Indeed, some pictures on social media are becoming viral. In these photographs, on one hand Prime Minister Indira Gandhi is meeting with her ministers. In this meeting you can see that Indira Gandhi is sitting on the chair and all her ministers are standing in front of her. None of these ministers have been sitting in front of Indira Gandhi. If you talk to PM Modi, you will also be proud of seeing his picture.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की जो तस्वीर वायरल हो रही है उसमें वह विपक्ष के नेताओं के साथ किसी मुद्दे पर चर्चा करते हुए दिखाई दे रहे हैं, जिसमें राहुल गाँधी के साथ गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, राज बब्बर, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया आदि दिखाई दे रहे हैं और यह सभी नेता कुर्सी पर ही बैठे हैं. कई मौंको पर देखा भी गया है कि पीएम मोदी राहुल गाँधी के साथ एक मित्र की तरह से बात करते हुए नजर आए.प्रधानमंत्री मोदी विरोधियों के साथ भी अपने नम्र व्यवहार के लिए जाने जाते है. कई मौकों पर उन्होंने अपने इस स्वभाव का परिचय दिया है और लोगों का दिल जीता है

In the picture of Prime Minister Narendra Modi, who is getting viral, he is seen discussing an issue with the leaders of the opposition, including Rahul Gandhi, Ghulam Nabi Azad, Mallikarjun Kharge, Raj Babbar, Punjab Chief Minister Amarinder Singh and Jyotiraditya Scindia is appearing etc. And all the leaders have been sitting in the chair. It has also been observed on several occasions that PM Modi is seen talking to Rahul Gandhi in a way of talking to a friend like him. The Prime Minister Modi is also known for his humble behavior with the opponents. On many occasions they have introduced this nature and won the hearts of the people

इन दोनों तस्वीरों को देखकर आप खुद समझ सकते हैं कि इन दोनों प्रधानमंत्रियों के छवि किस तरह की है. जहाँ इंदिरा गाँधी ने देश लोकतंत्र में एक काला अध्याय ( आपातकाल ) लिखा वहीँ वर्तमान में पीएम मोदी के शासन में देश की छवि विश्व स्तर पर बेहतर होती जा रही है. अब भारत का लोहा विश्व की बड़ी शक्तियां भी मानने लगी हैं. वहीँ इंदिरा गाँधी के शासनकाल को लोग तानाशाही के रूप में देखते थे. इंदिरा गाँधी ने अपने शासनकाल में आपातकाल की घोषणा करके इस बात का सबूत भी दे दिया था

By looking at these two pictures, you can understand yourself how the image of these two Prime Ministers is. While Indira Gandhi wrote a dark chapter (emergency) in the country’s democracy, at present, the image of the country is getting better at the world globally under PM Modi’s rule. Now India’s iron has begun to accept the biggest powers of the world. In the same way, the people of Indira Gandhi’s reign were seen as dictatorships. Indira Gandhi gave evidence of this fact by declaring an Emergency during her reign

यह भी देखे

https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

source polotical report

कांग्रेस की राहुल पर PM मोदी पर खुली चुनौती जनता ने दिखाई औकात कहा कि …

कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी होने के साथ साथ भारत की गद्दी पर आज़ादी के बाद से ६० सालो तक राज किया है! अगर कांग्रेस ईमानदारी से शाशन चलती तो सोने का चिड़िया कहे जाने वाला देश आज गरीबी और बेरोजगारी का मार नहीं झेल रहा होता! लेकिन अब इन लोगों का असली चेहरा सबके सामने आगया है। इनकी असलियत से अब सब वाकिफ हो चुके हैं। कांग्रेस लगभग हर हर राज्य से समाप्त होने की कगार पर है। असल में कांग्रेस ने कभी देश की विकासनीती पर काम ही नही किया। हर कोई अपना रुतबा दिखाने में मशगूल रहा!

Congress, along with being the oldest party in the country, has ruled India for 60 years since Independence! If the Congress was honestly shashan, then the country which is called a goldfinch would not have been killed by poverty and unemployment! But now the real face of these people has come in front of everyone. Now they are all aware of their reality. The Congress is on the verge of ending from almost every state. In fact, Congress has never worked on the development of the country. Everyone has been able to show their status!

अभी हाल ही में राहुल ने प्रधानमंत्री मोदी को चुनौती देते हुए कहा, ‘चाहे वह नीरव मोदी, ललित मोदी और राफेल सौदे का मामला हो। पीएम मोदी संसद में खड़े होने से घबड़ाते हैं। राफेल सौदे पर मोदी जी के सामने मुझे 15 मिनट बोलने दिया जाए तो वह मेरे सामने खड़े नहीं हो पाएंगे।’ इसी को लेकर राहुल गाँधी का खूब मज़ाक उड़ा था। मीडिया हो या सोशल मीडिया सब जगह यूजर ने ट्रोल किया था…

Recently, Rahul challenged Prime Minister Modi, saying, “Whether it is a case of neer-Modi, Lalit Modi and Rafael Deal. PM Modi is afraid to stand in Parliament. If I allow 15 minutes to speak to Modiji on the Rafael deal, he will not be able to stand in front of me. “Rahul Gandhi was ridiculed for this. Media or social media was trolled by the user everywhere

अपने मिनट वाले बयान की आलोचनाओ के बाद कांग्रेस ने इस मामले में ऑनलाइन सर्वे कर जनता की राय मांगनी चाही और कहा की – क्या आपको लगता है कि प्रधान मंत्री मोदी 15 मिनट की बहस के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की चुनौती को स्वीकार करने की हिम्मत दिखाएंगे? कांग्रेस द्वारा कराये गए इस पोल में अबतक कुल 25000 से ज्यादा लोगो ने हिस्सा लिया!

After criticizing his minute statement, the Congress should demand public opinion by doing online survey in this matter and said – do you think Prime Minister Modi dares to accept the challenge of Congress President Rahul Gandhi for a 15-minute debate? Show? More than 25000 people participated in this poll conducted by Congress.

लेकिन कांग्रेस को लगा था की मोदी जी की लोकप्रियता काम हो रही है और इस तरह से करके मोदी पर निशाना साधा जायेगा! लेकिन जो नतीजे आये उससे साफ़ जाहिर है की मोदी जी भारतीयों के दिलो पर राज करते है! ये पोल का परिणाम कांग्रेस के मुंह पर करारा तमाचा है

But the Congress had thought that the popularity of Modi ji is being done and in such a way, Modi would be targeted. But the results that came out clearly show that Modi ji reigns on the hearts of Indians! The result of this poll is the conclusion of the Congress.

यह भी देखे

https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

source polotical report

अभी अभी: भीमा-कोरेगांव हिंसा पर पकड़ में आये दोषी, पुलिस ने किया ये बड़ा खुलासा..

मुंबई : पुणे में नए साल के अवसर पर हुई जातीय हिंसा के बाद महाराष्ट्र पुलिस सर्तक हो गई है. मुंबई में दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद के कार्यक्रम पर पुलिस ने रोक लगा दी है. पुलिस ने उमर तथा जिग्नेश के मुंबई प्रवेश पर रोक लगा दी है. पुलिस ने जहां कार्यक्रम होना था उस ऑडिटोरियम को सील कर दिया है. कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सैकड़ों छात्र सभा स्थल पर जमा होने लगे और पुलिस की इस कार्रवाई का विरोध करने लगे. पुलिस ने विरोध करने वाले छात्रों को हिरासत में ले लिया है. छात्रों का आरोप है कि उनका कार्यक्रम शांतिपूर्वक ढंग से होने जा रहा था, पुलिस बीच में आकर माहौल को खराब करने की कोशिश की जा रही है. पुलिस की इस कार्रवाई पर छात्र वहां धरना देकर बैठ गए.
कार्यक्रम के संयोजक छात्र भारती संगठन के उपाध्यक्ष सागर भालेराव ने बताया कि आज विलेपार्ले के भाईदास हॉल में अखिल भारतीय छात्र समिट होने जा रही थी, लेकिन पुलिस ने पूरे इलाके को घेरकर यहां एंट्री पर रोक लगा दी है. कार्यक्रम में शामिल होने के लिए प्रदेशभर से छात्र यहां इकट्ठा हो रहे हैं. इस कार्यक्रम में जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद को भी आमंत्रित किया गया था. उधर, पहली जनवरी को हुई हिंसा को लेकर पुणे के विश्रामबाग पुलिस स्टेशन में जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद के खिलाफ धारा 153 (ए), 505 तथा 117 के तहत मामला दर्ज किया गया है.
गुरुवार को भीमा-कोरेगांव हिंसा के मुद्दे को कांग्रेस की सांसद रजनी पाटिल, सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने राज्यसभा में उठाया और हिंसा की जांच के लिए एक आयोग के गठन की मांग की. भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसा के बाद विरोध की लहर महाराष्ट्र को पार करती हुई अन्य राज्यों में भी पहुंच गई है. प्रदर्शनकारियों ने आज जूनागढ़ में राजकोट-सोमनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर विरोध दर्ज कराया. गुजरात के धोराजी में कुछ उपद्रवियों ने एक बस में भी आग लगा दी थी, हालांकि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ.
बता दें कि पुलिस ने आरोप लगाया है कि 31 दिसंबर को पुणे के भीमा-कोरेगांव में जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद के भीड़ को भड़काने के बाद पहली जनवरी को हिंसा भड़की थी. इस हिंसा में एक आदमी की मौत हो गई और बड़े पैमाने पर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया. पुलिस ने हिंसा के लिए इन दोनों नेताओं के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है. इस हिंसा के बाद कल तीन जनवरी को दलित संगठनों ने महाराष्ट्र बंद का आयोजन किया था. इस दौरान भी कई जगहों पर हिंसा और तोड़फोड़ हुई थी.
भीमा कोरेगांव की लड़ाई की 200वीं वर्षगांठ से जुड़े कार्यक्रम के बाद भड़की हिंसा के विरोध में आहूत महाराष्ट्र बंद ने बुधवार (3 जनवरी) को हिंसक रूप ले लिया. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने मुंबई में विभिन्न स्थानों पर बसों को निशाना बनाया, उपनगरीय ट्रेनों को रोका और सड़कों को अवरूद्ध कर दिया. इससे जनजीवन खासा प्रभावित हुआ. बंद को बाद में वापस ले लिया गया. दलित समुदाय के लोगों ने उपनगरीय चेम्बूर, घाटकोपर, कामराज नगर, विक्रोली, दिंडोशी, कांदिवली, जोगेश्वरी, कालानगर और माहिम में प्रदर्शन किया. सैकड़ों प्रर्दशनकारियों ने वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे को अवरुद्ध करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें वहां से हटा दिया.
आपको ये बी बता दें कि भयानक राजनितिक साजिश के तहत दलित वोट और मुस्लिम वोट का खेल खेल रही विपक्ष देश में अशांति अराजकता फैलाकर देश आग लगाना चाहती है क्योंकि वह जानती है की २०१९ में बीजेपी को हराना है तो बीजेपी के साथ आये सभी वर्गों को तोडना होगा चाहे व् मुस्लिम हो दलित हो या खुद हिन्दू को भी जाति के आधार पर तोडना चाहती है मगर जनता यह सच समझ चुकी है की इस सब के पीछे कांग्रेस है दिमाग है जो सत्ता में आने के लिए छटपटा रहा है, जाति के आधार पर तोड़ने वाला जिग्नेश मेवानी ही क्यों न को सबको पोषित कर रही है
पुलिस ने जहां कार्यक्रम होना था उस ऑडिटोरियम को सील कर दिया है. कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सैकड़ों छात्र सभा स्थल पर जमा होने लगे और पुलिस की इस कार्रवाई का विरोध करने लगे.
खास बातें
विलेपार्ले के भाईदास हॉल में होने जा रही थी छात्रों की सभा
कार्यक्रम में जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद को आना था
पुणे पुलिस ने जिग्नेश और उमर के खिलाफ FIR दर्ज की

यह भी देखे
https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

Source Political Report

कर्नाटक चुनाव से ठीक पहले जनता ने कोन्रेस के खिलाफ लिया जबरदस्त एक्शन, जिसे देख राहुल समेत सिद्धारमैया भी सन्न

मंगलुरु : लगातार हार का मुँह देख रही कांग्रेस पार्टी के लिए कर्नाटक चुनाव से ठीक पहले एक बेहद दिल दहलाने वाली खबर आयी है. ये खबर इतनी हैरान करने वाली है, जिसे देख कोंग्रेसी खेमे में हड़कंप मच गया है. सिर्फ कर्नाटक ही नहीं बल्कि पूरे देश में इसकी चर्चा की जा रही है.

Mangaluru: Just before the Karnataka elections for a Congress Party looking for a defeat, there is a very sad news. This news is so shocking, which has seen a stir in the Congressional camp. It is being discussed not just in Karnataka but in the whole country.

कांग्रेस को हमेशा से ये लगता रहा है कि देश की जनता की यादाश्त काफी कमजोर है और चाहे वो कितने भी अन्याय कर ले मगर चुनाव आने तक जनता सब कुछ भूल कर कांग्रेस को वोट दे देगी. मगर कर्नाटक की जनता ने ऐसा कदम उठाया है, जिससे कांग्रेस को गहरा सदमा लगा है.

The Congress has always felt that the country’s people’s economy is weak and they will do any injustice, but till the election, the people forget everything and vote for the Congress. But the people of Karnataka have taken such a step, which has put the Congress in deep shock.

ये हिंदू का घर है कांग्रेस का प्रवेश वर्जित
मंगलुरु के कुछ इलाकों के लोगों ने कांग्रेस के खिलाफ अपने घरों के बाहर पोस्टर लगा लिए हैं. इन घरों के बाहर चिपके पोस्टरों में लिखा है कि ये हिंदू का घर है, इसलिए यहाँ कांग्रेस का प्रवेश वर्जित है. जानकर हैरानी जरूर होगी लेकिन ये सच है. घरों के बाहर इसी तरह के पोस्टर पटे पड़े हैं. इन पोस्टर्स में कांग्रेस को हिदायत दी गई है कि वो हिन्दुओं के घर में प्रेवश न करें. हैरानी की बात ये है कि ये इलाका कांग्रेस पार्टी से विधायक रामनाथ राय का है.

This is the home of the Hindu barring the entry of Congress
People from some areas of Mangaluru have put posters outside their homes against the Congress. The posters sticking out of these houses have written that this is Hindu’s house, hence the entry of Congress is prohibited here. It would be surprising to know but it is true. Similar posters are lying outside the houses. In these posters, the Congress has been instructed that they should not be taught in the house of Hindus. Surprisingly, this area belongs to the Congress party MLA Ramnath Rai.

बताया जा रहा है कि ये पूरा मामला कुछ साल पहले हुए एक हिन्दू लड़की के धर्म परिवर्तन से जुड़ा हुआ है. जानकारी के मुताबिक़ लव जिहाद के लिए एक मुस्लिम लड़के ने एक हिन्दू लड़की को प्यार के जाल में फंसा लिया. जिसके बाद लड़की ने घर से भागकर उस लड़के के साथ निकाह कर लिया.

It is being told that this whole matter is related to the conversion of a Hindu girl, a few years back. According to the information, a Muslim boy trapped a Hindu girl in love trap for love jihad. After which the girl ran away from home and got married with that boy.

लव जिहाद में कांग्रेस ने की सहायता
निकाह के बाद लड़की से इस्लाम कबूल करवाया गया था. परिवार वालों और इलाके के लोगों के मुताबिक़ कांग्रेस के नेताओं ने तुष्टिकरण के लिए इस लड़की का जबरदस्ती धर्म परिवर्तन कराया था. इस घटना के बाद से यहाँ के लोगों में कांग्रेस के लिए नफरत पैदा हो गयी और इलाके के लोगों ने तय कर लिया कि अगले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सबक सिखाना है.

Congress assisted in love jihad
After marriage, the girl was confessed to Islam. According to the people of the family and the people of the area, the Congress leaders had forcibly converted this religion into a religion for appeasement. After this incident, hatred was created for the people of the people and the people of the area decided to teach the lesson to the Congress in the next assembly elections.

इलाके के लोगों ने कांग्रेस पर तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए उन्हें अपने घरों में प्रवेश न करने की हिदायत दी है. कर्नाटक में 12 मई को विधानसभा चुनाव होने हैं लेकिन यहां इस बार का चुनाव धर्म और जाति के पेचीदा कॉकटेल में फंस कर रह गया है.

People of the area have been accused of doing politics of appeasement on the Congress and they have instructed them not to enter their homes. There are assembly elections in Karnataka on May 12, but this time the election has been stuck in the intriguing cocktail of religion and caste.

हिन्दुओं को मूर्ख समझते हैं राहुल
सबसे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक में चुनाव अभियान की शुरूआत मंदिर में मात्था टेक कर की. इसके बाद राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के धर्म को लेकर एक बयान दिया. जिसमें उन्होंने कहा कि अमित शाह कहते हैं कि मैं हिंदू नहीं हूं. लेकिन खुद अमित शाह हिंदू नहीं है. वो जैन समाज से ताल्लुक रखते हैं. अगर वो हिंदू हैं तो ये बात वो सभी लोगों के सामने स्वीकार करें और कहें कि वो हिंदू हैं जैन नहीं.

Hindus are fools
First of all, Congress President Rahul Gandhi started the election campaign in Karnataka by throwing stones into the temple. After this, the state’s Chief Minister Siddaramaiah made a statement about the religion of BJP President Amit Shah. In which he said that Amit Shah says that I am not a Hindu. But Amit Shah himself is not Hindu. They belong to Jain society. If they are Hindus then accept this thing in front of all people and say that they are Hindus, not Jain.

लोगों के मुताबिक़ कांग्रेस जब तक सत्ता में थी, तब तक मुस्लिम तुष्टिकरण करती रही और इलाके के हिन्दुओं का जीना मुहाल कर दिया. अब जब चुनाव नजदीक आया और कांग्रेस को हिन्दुओं की एकता का अहसास हुआ तो राहुल गाँधी ने मंदिरों में मत्था तक कर हिन्दुओं की आँखों में धुल झोंकने की कोशिशें शुरू कर दी, मगर लोगों ने तय कर लिया है कि वो किसी कीमत पर यहाँ कांग्रेस की सरकार अब नहीं बनने देंगे.

According to people, till the Congress was in power, Muslims continued to appease and live the lives of the Hindus in the area. Now when the election came closer and the Congress realized the unity of the Hindus, then Rahul Gandhi started the efforts of the Hindus in the eyes of the Hindus, but the people have decided that they will come here at some cost. The government will no longer be formed.

यह भी देखे
https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

Source Political Report

सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया सबसे बड़े केस में जबरदस्त फैसला,कांग्रेसी वामपंथी समेत दोगले पत्रकारों को लगा ज़ोरदार झटका

नई दिल्ली : आज देश में इतनी ज़्यादा विरोधियों ने असहिष्णुता फैला के रख दी है. जब 2g के आरोपी को यही कोर्ट बरी कर देते हैं तब ये कोर्ट कांग्रेस के लिए भगवान बन जाते हैं, सत्य की जीत बताई जाती है लेकिन जब कोर्ट कांग्रेस और वामपंथी के मनमुताबिक फैसला नहीं सुनाते है तब मिनटों में यही जज बदनाम कर दिए जाते हैं.

New Delhi: Today, more opposition in the country has kept the intolerance spread. When the court acquits the 2G accused, then these courts become God for the Congress, the truth is said to be victory, but when the court does not pronounce the verdict of the Congress and the Left, then the same judges are defamed in minutes. .

लेकिन हद तो तब हो रही है जब सुप्रीम कोर्ट के अभी अभी सबसे बड़े केस में फैसले सुनाये जाने से कांग्रेस से ज़्यादा कई दोगले पत्रकारों को तकलीफ हो रही वे जज की विश्वसनीयता पर सवाल उठा रहे हैं.

But the extent has come when the Supreme Court is hearing the judgment of the judge in relation to the judgment of the most senior case, due to which many journalists are suffering from the Congress.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर इस स्थिति को जारी रखा तो ये बहुत बड़ा खतरा होगा. जिस तरह से इस केस में याचिका डाली गई है ये सीधा न्यायपालिका पर हमला है. जो जज इस मामले की सुनवाई कर रहे थे, उनपर भी सीधा हमला किया गया था.

The Supreme Court said that if this situation continues, then it will be a very big danger. The way the petition has been filed in this case, this is an attack on the direct judiciary. The judges who were hearing this case were also directly attacked.

बता दें कि इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच कर रही थी. इस याचिका को कांग्रेस नेता तहसीन पूनावाला, पत्रकार बीएस लोने, बॉम्बे लॉयर्स एसोसिएशन सहित कई अन्य पक्षकारों की ओर से दायर किया गया था.

Please tell that the hearing of this case was being done by a bench of Chief Justice Deepak Mishra, Justice M. Khanvilkar and Justice DV Chandrachud. This petition was filed on behalf of Congress leaders Tahsin Poonawala, journalist BS Lone, and many other parties including the Bombay Lawyer’s Association.

इसमें बड़ा हाथ वकील प्रशांत भूषण का भी है. वकील से सामाजिक कार्यकर्ता बने प्रशांत भूषण ने सोहराबुद्दीन शेख के एनकाउंटर को फर्जी बताया. साथ ही आधिकारिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट को भी मानने से इंकार कर दिया.

There is also a big hand lawyer Prashant Bhushan. Prashant Bhushan, a social worker from the lawyer, said that the encounter of Sohrabuddin Sheikh is a fake. Also refused to accept the official post mortem report.

जस्टिस लोया की मौत को लेकर कांग्रेसी आस लगाए बैठे थे कि कोई साज़िश रच लेंगे मोदी सरकार के खिलाफ बड़ा षड़यंत्र रचा गया. जज लोया सोहराबुद्दीन एनकाउंटर का केस देख रहे थे. उनकी साधारण दिल के दौरे से होने वाली मौत को कांग्रेस ने संदिग्ध और एक साजिश के तहत मौत बताया.

The Congressmen were sitting on the pretext that Justice Loya’s death was a big conspiracy against Modi Government. Judge Loya was watching the case of Sohrabuddin encounter. The Congress is suspected of death due to his simple heart attack and death under a conspiracy.

कांग्रेस ने अपनी पूरी ताक़त इस केस में झोंक दी थी जिसके बाद अब कोर्ट में शांतिपूर्ण बहस नहीं बल्कि चीख चीख कर जज पर दबाव और आरोप लगाए जाने लगे थे. इस फैसले को भी CJI दीपक मिश्रा देख रहे हैं, तभी कांग्रेस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने जा रही थी.

The Congress had thrown its full force in this case, after which there was no peaceful debate in the court but screaming screaming and pressure was being made on the judge. This decision was also seen by CJI Deepak Mishra, when Congress was going to introduce impeachment against Deepak Mishra.

बता दें दिसंबर 2014 में जस्टिस लोया की नागपुर में मौत हो गई थी जिसे दिल का दौरा से मौत का कारण बताया गया था. जस्टिस लोया की मौत के बाद जिन जज ने इस मामले की सुनवाई की, उन्होंने अमित शाह को मामले में बरी कर दिया था. बस तब से कांग्रेस इस केस के पीछे हाथ धो के पड़ी थी.

In December 2014 Justice Loya was killed in Nagpur, who was told to have died due to heart attack. After the death of Justice Loya, the judge who had heard the case, had acquitted Amit Shah in the case. Since then the Congress had to wash hands behind this case.

यहाँ तक की जज लोया के परिवार को भी परेशान किया जा रहा था. जज लोया के बेटे अनुज लोया ने कुछ दिन पहले ही प्रेस कांफ्रेंस कर इस मुद्दे को बड़ा करने पर नाराजगी जताई थी. अनुज ने कहा था कि उनके पिता की मौत प्राकृतिक थी, कृपया उनकी मौत को राजनितिक मुद्दा न बनाएं.

Even the family of Judge Loya was being disturbed. Judge Loya’s son Anuj Loya had resented a few days ago by press conference and raised the issue. Anuj had said that his father’s death was natural, please do not make his death a political issue.

यह विडियो भी देखे

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

SOURCE political report

इस कांग्रेसी नेता ने ही कर डाली राहुल और सोनिया के खिलाफ ये बड़ी साजिश हुआ ऐसा सनसनीखेज़ खुलासा,PM मोदी समेत चिंदबरम हैरान

नई दिल्ली : कल मक्का मस्जिद बम धमाके में स्वामी असीमानंद को बरी कर दिया गया. कोर्ट को कोई भी ऐसा पुख्ता सबूत नहीं मिला जो कुछ साबित करता हो.इससे पहले अजमेर शरीफ केस से भी उन्हें बरी कर दिया गया है.

New Delhi: Swami Aseemanand was acquitted in the Mecca Masjid bomb blast yesterday. The court did not find any convincing proof that proves anything. Before that Ajmer Sharif has also been acquitted of the case.

लेकिन किस तरह 2007 के इस कांड में लश्कर, हिज़्बुल कि जगह अभिनव हिन्दू संगठन पर आरोप लगाकर हिन्दुओं के लिए भगवा आतंकवाद की साज़िश रची गयी उसका अब ज़बरदस्त खुलासा हुआ है. जिसे देख जनता के पैरों तले ज़मीन खिसक जायेगी.

But in the year 2007, in this horrendous leash in the Hizb, by accusing the Abhinav Hindu organization, the conspiracy of saffron terrorism was created for the Hindus, it has now been exposed. Who will see the land fall under the feet of the public.

अमेरिका के अम्बैस्डर के टेलीग्राम न कांग्रेस का किया भंडाफोड़

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस तुरंत मुकर गयी कि हमने कब भगवा या हिन्दू आतंकवाद का नाम लिया. किया हो तो सबूत दिखाए. उसके बाद जैसे सबूतों की बाढ़ सी लग गयी है. खुद अमेरिका में उस वक़्त के अम्बैस्डर का एक टेलीग्राम वायरल हो गया है, जिसने कांग्रेस की ओर राहुल गाँधी की पोल खोल दी है.

America’s Ambassador’s Telegram or Congress Bunded Down

According to the latest news available now, after the court’s decision, Congress immediately turned down that when we took the name of saffron or Hindu terrorism. Be sure to show proof. After that there is a flood of evidence. In America itself a telegram of Ambassador of the time has become viral, which has opened Rahul Gandhi’s pole towards Congress.

भाजपा नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा और जीवीएल नरसिम्हा राव ने एक ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भगवा आतंकवाद के मुद्दे पर कांग्रेस को पूरा नंगा कर दिया. पहले सबूत में भाजपा नेताओं ने उस टेलीग्राम की प्रति पेश की, जिसे साल 2009 में तत्कालीन यूएस एम्बेसडर टिमोथी रोमे ने यूएस स्टेट डिपार्मेंट को एक टेलीग्राम भेजा था.

BJP leader and national spokesman Jitendra Natarajan and JVL Narasimha Rao made a joint press conference and completely disconnected the Congress on the issue of saffron terrorism. In the first proof, BJP leaders presented a copy of the telegram, which in 2009, the then U.S. Ambassador Timothy Roem sent a telegram to the US State Department.

इस टेलीग्राम में यूएस एम्बेसडर ने लिखा है कि ये राहुल गांधी तरफ से सीधा आपको भेजा जा रहा है. इस टेलीग्राम में टिमोथी ने कहा है कि ‘जब एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने राहुल गांधी से आतंकवादी संगठन लश्कर ए तैयबा के बारे में पूछा तो राहुल गांधी ने कहा कि हां, लश्कर ए तैयबा को भारतीय मुस्लिम समुदाय में कुछ समर्थन प्राप्त है, लेकिन देश को सबसे बड़ा खतरा कट्टरपंथी हिंदू आतंकवादियों से है, जो देश में सांप्रदायिक उन्माद पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं.

In this telegram, the US Ambassador has written that it is being sent to you directly from Rahul Gandhi. In this telegram, Timothy has said that when he asked Rahul Gandhi about the terrorist organization Lashkar-e-Taiba during a program, Rahul Gandhi said that, yes, Lashkar-e-Taiba has some support in the Indian Muslim community, but the country The biggest threat to the fundamentalist Hindu terrorists, who are trying to create communal mania in the country.

इस टेलीग्राम को आधार बनाते हुए संबित पात्रा ने राहुल गांधी और कांग्रेस को निशाना बनाते हुए कहा कि कांग्रेस को लश्कर ए तैयबा से उतना खतरा नहीं है, बल्कि इन्हें कथित हिंदू आतंकवाद से बहुत ज्यादा खतरा है!इसके बाद एक वीडियो पेश किया गया जिसमे कांग्रेस के नेता पी. चिदंबरम, सुशील कुमार शिंदे और दिग्विजय सिंह भगवा आतंकवाद के बारे में बात करते नजर आ रहे हैं.

Making this telegram the basis, the concerned Patra targeted the Rahul Gandhi and the Congress and said that the Congress is not as much threat to Lashkar-e-Taiba, but it is a much more threatening than the alleged Hindu terrorism!
After this, a video was presented in which Congress leader P. Chidambaram, Sushil Kumar Shinde and Digvijay Singh were seen talking about saffron terrorism.

कांग्रेस में रहे पूर्व सचिव ने कांग्रेस पर किया बड़ा खुलासा

यही नहीं खुद कांग्रेस की सरकार के दौरान गृह सचिव RVS मणि ने भी सनसनीखेज़ खुलासा करते हुए बताया कि कांग्रेस ने सत्ता में आते ही हिन्दू आतंकवाद का बीज बोना शुरू कर दिया था और उनपर दबाव बनाया गया की वो हिन्दुओ को आतंकी बताने के लिए काम करे इसलिए उन्होंने इस्तीफा दे दिया.

Former Congress Secretary in Congress conveyed to Congress

Not only this, during the Congress government, Home Secretary RVS Mani also revealed that while coming to power, the Hindus started sowing the seeds of terrorism and they were pressurized that they should work to tell Hindus terrorists. So he resigned.

मक्का मस्जिद ब्लास्ट में भी स्वामी असीमानंद को फंसा दिया गया जबकि वाकर अहमद को भगा दिया गया, कल ही कोर्ट ने असीमानंद को बरी किया है पर उनके 11 साल फंसाकर बर्बाद कर दिए गए.

In the Mecca Masjid blast, Swami Aseemanand was trapped and Waqar Ahmed was freed, the court acquitted Aseemanand yesterday, but his 11 years have been wasted and wasted.

यहाँ कांग्रेस की सरकार हिन्दुओ को आतंकी बताने के लिए असीमानंद, साध्वी प्रज्ञा, कर्नल पुरोहित जैसों को फंसा रही थी वहीँ अमेरिका के अधिकारीयों से मिलकर कांग्रेस कोशिश कर रही थी कि जिस तरह अमेरिका ने लश्कर को आतंकी घोषित कर दिया था उसी तरह हिन्दुओ को भी अमेरिका आतंकी घोषित कर दे.

Here the Congress government was trying to implicate Hindus as terrorists like Asimanand, Sadhvi Pradnya, Colonel Purohit, and with the help of US officials, the Congress was trying to convince Hindus that in the same way that the US had declared the LeT terrorist. America declared terrorists.

RVS मणि ने साफ़ करी दिया की सरकार आतंकवाद के मामलों में हिन्दुओ को फंसाने के लिए बड़ी साज़िश रच रही थी, और इसी के तहत तमाम मामलों में चाहे वो समझौता ब्लास्ट हो, मालेगांव ब्लास्ट हो और मक्का मस्जिद ब्लास्ट, इन सभी में असल आतंकियों को भगाकर हिन्दुओ को फंसा दिया गया.

RVS Mani cleared that the government was making a huge conspiracy to implicate Hindus in the matter of terrorism, and under this, whether the agreement was blast in all the cases, Malegaon Blast and Mecca Masjid Blast, all these real terrorists Hindus were trapped by the side

यह भी देखे

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/WE3MmmBzG4k

SOURCE POLITICAL REPORT

ब्रेकिंग:रायबरेली से आई इस बेहद चौकाने वाली खबर सुन जिसे देख राहुल -सोनिया छूटने लगे हैं पसीने

केंद्र में जबसे बीजेपी की सरकार आई है और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जबसे बने हैं. उसके बाद से ही कांग्रेस पार्टी की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी और उनकी पार्टी की एक मुसीबत थमती नहीं है कि दूसरी पैदा हो जाती है. वैसे भी केंद्र में सत्ता आने के बाद से बीजेपी देश के अधिकतर राज्यों में अपनी जीत का परचम लहराकर कांग्रेस को झटके पर झटके देती जा रही है. अब आने वाले लोकसभा चुनावों का आगाज हो चुका है जिसको लेकर सभी पार्टियों ने कमर कस ली है.

Since the time the BJP government came in and the country’s Prime Minister Narendra Modi has been since then. Since then, the problems of the Congress party are not taking the name. Congress President Rahul Gandhi and his party do not have a problem that the second is born. Anyway, after coming to power at the Center, BJP is shaking the victory of the Congress in the majority of the states. Now the upcoming Lok Sabha elections have been started for which all the parties have taken a stand.

अब ऐसे माहौल में एक ऐसी खबर आ रही है जिसे जानने के बाद कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी को बड़ा झटका लग जायेगा. सोनिया गाँधी के गढ़ रायबरेली से आ रही इस खबर ने सभी के होश उड़ा डाले हैं. कांग्रेस को अब तक का सबसे बड़ा झटका लगने जा रहा है. सोनिया गाँधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में पार्टी के विधान परिषद सदस्य दिनेश प्रताप सिंह पार्टी से नाराज चल रहे हैं. जिसके चलते बताया जा रहा है कि बुधवार को लखनऊ में वह अमित शाह की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल होने जा रहे हैं. कांग्रेस नेता दिनेश प्रताप सिंह का एक साथ बीजेपी में जाना कांग्रेस के लिए बड़ा झटका होगा.

Now in such an environment there is a news that after knowing the former Congress President Sonia Gandhi and Rahul Gandhi will be a big blow. The news coming from Sonia Gandhi’s Rath Rae Bareli has sparked everyone’s senses. The biggest blow to the Congress is going to be so far. In Sonia Gandhi’s parliamentary constituency Rae Bareli, the party’s legislative council member Dinesh Pratap Singh is angry with the party. As a result, it is being told that in Lucknow on Wednesday he is going to join BJP in the presence of Amit Shah. Congress leader Dinesh Pratap Singh going to BJP together will be a big setback for the Congress.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह भी बताया जा रहा है कि दिनेश प्रताप सिंह के भाई जोकि जिला पंचायत अध्यक्ष रायबरेली अवधेश प्रताप सिंह भी बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं. इस खबर ने राहुल गाँधी को गहरे सदमे में पहुंचा दिया है. उन्होंने सोचा भी नही होगा कि उनके इतने ज्यादा करीबी नेता उन्हें इतना बड़ा झटका दे सकते हैं. कांग्रेस एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया है कि कांग्रेस में अब वो रहना नहीं चाहते हैं.

According to the information received from the sources, it is also being said that Dinesh Pratap Singh’s brother Jilla Panchayat president Rae Bareli Avdesh Pratap Singh can also get the membership of BJP. This news has brought Rahul Gandhi a deep shock. They will not even think that their so much close leader can give them such a big jolt. Congress MLC Dinesh Pratap Singh, while talking to the media, said that he does not want to stay in Congress anymore.

गौरतलब है कि रायबरेली की राजनीतिक सियासत में दिनेश प्रताप सिंह का बड़ा नाम है. वह 2016 में कांग्रेस से एमएलसी का चुनाव जीतने वाले इकलौते सदस्य हैं. इसी के साथ कांग्रेस से वह लगातार दूसरी बार विधान परिषद में चुने गये थे. इस समय जिला पंचायत कुर्सी पर भी उनके भाई अवधेश प्रताप सिंह हैं. अब इनके बीजेपी में शामिल होने की खबर ने राहुल गाँधी को हैरान कर दिया है.

Significantly, Dinesh Pratap Singh has a big name in Rae Bareli’s political affairs. He is the only member to win the MLC election from Congress in 2016. With this, he was elected for the second time in the Legislative Council from Congress. At present, his father is Awadhesh Pratap Singh on the district panchayat chair. Now the news of his joining BJP surprised Rahul Gandhi.

यह भी देखे

https://youtu.be/Uzs16fYnw1k

https://youtu.be/VxtYK7YXsQ8

SOURCE political report

2019 चुनाव से पहले एशिया के सबसे बड़े बैंक ने दी ज़बरदस्त चौंकाने वाली रिपोर्ट,जिसे देख चीन समेत कांग्रेस के परखच्चे,उड़े

नई दिल्ली : भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर पिछले कई सालों से कांग्रेस और उनके महान अर्थशास्त्री भ्रम फैला रहे हैं, कोई अर्थव्यवस्था को डूबता हुआ बताता है तो खुद मनमोहन इसे आर्थिक आपातकाल बताते हैं लेकिन बैंकों के NPA घोटाले पर वो तुरंत चुप्पी साध लेते हैं.

New Delhi: For the last several years, the Congress and their great economists are spreading illusions about the Indian economy, if someone tells the economy to be submerged, then Manmohan himself calls it a financial emergency, but he immediately gets silent on the NPA scam of the banks.

साल 2019 में और ज़्यादा घटकर मात्र 6.4 प्रतिशत रह जाएगी.

लेकिन झूठ और भ्रम के बादल सच के सूरज को ज़्यादा देर तक नहीं छिपा सकते. भारत आज चीन को पछाड़ते हुए दुनिया की सबसे तेज़ गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बन चुका है. पिछले एक साल से लगातार वर्ल्ड बैंक, IMF , WEF , मॉर्गन स्टैनले , UN सब जगह से खुशखबरी आ रही हैं. तो वहीँ इस बीच 2019 चुनाव से पहले अब ASIA के सबसे बड़े बैंक से बेहद चौंकाने वाली रिपोर्ट आ रही है जो कांग्रेस की धड़कनों को रोक देगी.

In 2019, it will be reduced to only 6.4 percent.

But clouds of delusion and confusion can not hide the truth of the sun for a long time. India today has become the world’s fastest growing economy while retreating China. For the past year, World Bank, IMF, WEF, Morgan Stanley, UN are getting good news from everywhere. In the meantime, before the 2019 elections, there is a very surprising report coming from the largest bank of ASIA, which will stop the beleaguered Congress.

इस साल एक बार फिर भारत के नाम रहा ये मुकाम

एशिया डेवलोपमेन्ट बैंक (ADB) ने अपनी रिपोर्ट में भारत की आर्थिक वृद्धि दर मौजूदा वित्त वर्ष 2018-19 में 7.3 प्रतिशत जबकि अगले वित्त वर्ष 2019-20 में 7.6 प्रतिशत रहने का एलान किया है. इसके साथ ही एक बार फिर मोदी राज में भारत पूरे एशिया का सबसे तेज़ गति से बढ़ती अर्थव्यवस्था के दर्जे पर कायम रहेगा.

This year once again, India’s name remained unchanged.

In its report, Asia Development Bank (ADB) has declared India’s economic growth rate 7.3 percent in current financial year 2018-19 and 7.6 percent in the next financial year 2019-20. With this, once again in Modi Raj, India will remain in the fastest growing economy of Asia.

चीन को लेकर भी आयी रिपोर्ट , नहीं रहा किसी को मुँह दिखाने के लायक

अब आइये इसी बड़े बैंक की चीन को लेकर रिपोर्ट देख लेते हैं. चीन के बारे में ADB की रिपोर्ट में कहा गया है कि जहाँ भारत लगातार हर साल प्रगति करता जा रहा है वहीँ चीन हर साल लगातार लुढ़कता जा रहा है. ADB बैंक अनुसार चीन की आर्थिक वृद्धि 2017 में 6.9 प्रतिशत थी. इसके बाद इस साल ये घटकर 6.6 प्रतिशत पर आ जाएगी. यही नहीं अगले

Report about China, not being able to show anybody

Now let’s look at reports of this big bank about China. About the China ADB report states that while India is progressing steadily every year, China is constantly rolling down every year. According to the ADB bank, China’s economic growth was 6.9 percent in 2017. After this, it will come down to 6.6 percent this year. Not next

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक मोदी के नेतृत्व में भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूती के साथ बढ़ रही है. भारतीय अर्थव्यवस्था में लगातार पकड़ती तेजी पर एक और वैश्विक संस्था ने मुहर लगाई है.

According to the latest news available today, the Indian economy is growing steadily in the leadership of Modi. Another global institution has stamped on the fast growth of the Indian economy.

छायी हुई है आर्थिक मंदी

ये केवल चीन का ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया का यही हाल है. पूरे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ज़बरदस्त आर्थिक मंदी छायी हुई है. अमेरिका, जापान, कोरिया सभी इस आर्थिक भूचाल में डूबे जा रहे हैं. बड़े व्यापारियों को रोज़ अरबों का घाटा हो रहा है लेकिन इसके उलट बेहत हैरतअंगेज़ तरीके से भारत हर साल तेज़ी से प्रगति करता जा रहा है.

Covered economy

This is not the case of China, but the whole world. There is a tremendous economic slowdown at the international level. America, Japan, Korea are all being immersed in this economic monsoon. Large traders are losing billions of rupees daily, but in contrast, India is progressing rapidly every year in a surprising way.

रफ्तार की पटरी पर दौड़ेगी भारतीय अर्थव्यवस्था- फिच

इससे पहले वैश्विक रेटिंग एजेंसी फिच ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर अगले वित्त वर्ष 2018-19 में 7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है. इसमें कहा गया है कि ग्रामीण क्षेत्र में मांग बढ़ने से देश की आर्थिक रफ्तार को सबसे अधिक बल मिलेगा. इसके साथ ही वित्त वर्ष 2019-20 में आर्थिक वृद्धि दर बढ़कर 7.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया है.

Indian economy to run on fast track: Fitch

Earlier, global rating agency Fitch has projected India’s economic growth rate to be 7.3 percent in the next financial year 2018-19. It has been said that due to the increase in demand in the rural areas, the economic growth of the country will be the highest. With this, the economic growth rate in the financial year 2019-20 has been projected to increase to 7.5 percent.

दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था- आईएमएफ

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने एक बार फिर दोहराया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था 2018 में 7.4 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी। आईएमएफ ने उम्मीद जताई है कि नोटबंदी और जीएसटी के बावजूद भारत उभरती अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेजी से विकास करेगा.

The world’s fastest growing economy – IMF

The International Monetary Fund (IMF) has repeatedly reiterated that the Indian economy will grow at a rate of 7.4 percent in 2018. The IMF has expressed hope that in spite of graft and GST, India will develop fastest in emerging economies.

ब्रिटेन-फ्रांस को पछाड़ दुनिया की टॉप 5 अर्थव्यवस्था में होगा भारत

सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च (सीईबीआर) की रिपोर्ट के अनुसार भारत 2018 में ब्रिटेन और फ्रांस को पछाड़कर पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की तैयारी कर रहा है। सीईबीआर के डिप्टी चेयरमैन डोगलस मैकविलियम ने कहा कि वर्तमान में अस्थायी असफलताओं के बावजूद भारत की अर्थव्यवस्था फ्रांस और ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था के बराबर टक्कर दे रही है.

UK-France to be world’s top 5 economy in India

According to the Center for Economic and Business Research (CEBR) report, India is preparing to become the fifth largest economy in 2018, overtaking Britain and France. CEBR Deputy Chairman Douglas McWilliam said that despite the current setbacks, India’s economy is fighting a parallel to the economy of France and Britain.

भारत कई ग्लोबल शॉक से बचा हुआ है – जापानी वित्तीय सेवा कंपनी नोमुरा

जापानी वित्तीय सेवा कंपनी नोमुरा ने भारत की ग्रोथ के बारे में पॉजिटिव रिपोर्ट दी थी। नोमुरा में इमर्जिंग मार्केट्स इकनॉमिक्स के हेड रॉबर्ट सुब्बारमण का कहना था कि भारत कई ग्लोबल शॉक से बचा हुआ है और अगले साल उसकी ग्रोथ 7.5 पर्सेंट रह सकती है।

India is left with many global shocks – Japanese financial services company Nomura

Japanese financial services company Nomura gave a positive report about India’s growth. Robert Subbaranan, Head of Emerging Markets Economics at Nomura, said that India has avoided many global shocks and its growth could be 7.5% next year.

भारत अगले 10 वर्षों में दुनिया में सबसे तेज रफ्तार से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाओं में शुमार हो जाएगा। वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी मॉर्गन स्टेनली ने दावा किया है किडिजिटलीकरण, वैश्वीकरण और सुधारों के चलते आने वाले दशक में भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था होगी.

India will be among the fastest growing economies in the world in the next 10 years. Global financial services company Morgan Stanley has claimed that due to digitization, globalization and reforms, India will be the world’s fastest growing economy in the coming decade.

भारत बना विदेशी कंपनियों के लिए पसंदीदा जगह- चीन

यहाँ तक की खुद चीन भी अब भारत की तारीफ करने के लिए मजबूर हो रहा है. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि भारत विदेशी कंपनियों के लिए खूब आकर्षण बन रहा है। अखबार ने एक लेख में कहा है कि कम लागत में उत्पादन धीरे-धीरे चीन से हट रहा है. मोदी सरकार ने बाजार के एकीकरण के लिए जीएसटी लागू किया है. लेख में कहा गया है कि आजादी के बाद के सबसे बड़े आर्थिक सुधार जीएसटी से फॉक्सकॉन जैसी बड़ी कंपनी भारत में निवेश करने के अपने वादे के साथ आगे बढ़ेंगी.

ndia’s preferred destination for foreign companies – China

Even China itself is now being forced to praise India. China’s official newspaper Global Times has said that India is becoming a big attraction for foreign companies. The newspaper has said in an article that the production at a lower cost is slowly withdrawing from China. The Modi government has implemented GST for the integration of the market. The article says that a major company like Foxconn with GST will go ahead with its promise of investing in India, the biggest economic recovery since independence.

यह भी देखे
https://youtu.be/Uzs16fYnw1k

https://youtu.be/VxtYK7YXsQ8

SOURCE POLITICAL REPORT