पाकिस्तान को दुत्कार भारत की शरण में आया ये बड़ा मुस्लिम देश, खुले दिए अपने खाजने USA समेत दुनिया हैरान

नई दिल्ली : आतंकी पाकिस्तान आज अपने सबसे बुरे दौर में चल रहा है, अर्थव्यवस्था एक डूबते जहाज़ की तरह हो गयी है और ऊपर से अमेरिका ने भी फंडिंग करनी बंद कर दी है और ड्रोन से हमले शुरू कर दिए हैं. FATF संगठन ने बैन लगा दिया है जिससे ना तो कोई निवेश करेगा और ना ही क़र्ज़ देगा. चीन के लोग अब पाकिस्तान में घुसकर मार लगा रहे हैं.

New Delhi: Terror Pakistan is going on in its worst phase, the economy has become like a sinking ship, and above all, the US has stopped funding and started attacking the drone. The FATF organization has banned it so that no investment or loan will be given. The people of China are now entering Pakistan and killing them.

तो वहीँ सऊदी अरब देश हर दूसरे दिन पाकिस्तान की बेज़्ज़ती करता रहता है अभी हाल में सऊदी अरब के सबसे बड़े अधिकारी ने पाकिस्तान के नागरिकों को देश में ना घुसने देने और ना ही नौकरी देने की मांग उठायी थी क्यूंकि हर रोज़ पाकिस्तानी नागरिक ड्रग तस्करी में पकडे जा रहे थे. दूसरी तरफ मोदी राज में सऊदी अरब ने अभी आलिशान मंदिर की नीव रखी थी तो अब वो खुद भारत सबसे बड़ा तोहफा लेकर आ रहा है और बेहद ही शानदार एलान किया है.

So same Saudi Arabia continues to boast of Pakistan every other day. Most recently, the Saudi Arabian authorities had demanded that the citizens of Pakistan not enter the country or give jobs, because Pakistani citizens are drug smuggled every day. Were getting caught On the other hand, in the Modi Raj, Saudi Arabia had laid the foundation of the Alishan Temple, now it is bringing itself the largest gift of India itself and has made very promising announcements.

दुनिया में अब तक की सबसे बड़ी रिफाइनरी

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक भारत के साथ द्विपक्षीय और कारोबारी संबंधों को मजबूती देते हुए दुनिया की सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी सऊदी अरामको ने महाराष्ट्र में सबसे बड़ी रिफाइनरी लगाने का फैसला लिया है.

The largest refinery in the world so far

According to the latest news, Saudi Arabia, the world’s largest oil producer, has decided to install the largest refinery in Maharashtra, strengthening bilateral and trade relations with India.

44 अरब डॉलर का निवेश

सऊदी अरब की कंपनी अरामको के साथ भारतीय रिफाइनरी कंपनियों का समूह करीब 44 अरब डॉलर के निवेश से इस पेट्रोकेमिकल प्रोजेक्ट को पूरा करेगा. इससे बड़ा निवेश आज तक पूरी दुनिया में नहीं हुआ.

$ 44 billion investment

The group of Indian refinery companies with Saudi Arabian company Aramco will complete this petrochemical project with an investment of about $ 44 billion. This has not made big investments in the whole world till date.


महाराष्ट्र में लगने वाले इस प्रोजेक्ट में सऊदी कंपनी अरामको और रत्नागिरी रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स (आरआरपीएल) की बराबरी की हिस्सेदारी होगी। आरआरपीएल, इंडियन ऑयल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम का ज्वाइंट वेंचर होगा

This project, which will take place in Maharashtra, will be the equal share of Saudi company Aramco and Ratnagiri Refinery and Petrochemicals (RRPL). RRPL, Indian Oil, Hindustan Petroleum and Bharat Petroleum will be joint venture

दुनिया के दिग्गज देश रह गए हैरान

बता दें आपको भी जानकार बड़ी हैरानगी होगी लेकिन इसे मोदी सरकार की बहुत बड़ी कामयाबी ही कहा जायेगा क्यूंकि इस प्रोजेक्ट की क्षमता सालाना 1.8 करोड़ टन उत्पादन की होगी. भारत में लगने वाला यह पेट्रोकेमिकल प्लांट दुनिया की सबसे बड़ी रिफाइनरियों में से एक होगा. इसे देखने के बाद दुनिया के दिग्गज देशों की आखें बड़ी होने वाली हैं.

Surprised to be the world’s greatest country

It would be a big surprise for you to know, but it will be said to be a huge success for the Modi government because the capacity of this project will be 18 million tonnes per annum. This petrochemical plant in India will be one of the world’s largest refineries. After seeing this, the eyes of world’s legendary countries are going to be bigger.

सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री खलीद अल फली ने कहा, ‘चाहे जितना भी बड़ा प्रोजेक्ट हो, लेकिन इससे हमारी भारत में निवेश की इच्छा खत्म नहीं हुई है। हम निवेश और अपने कच्चे तेल की सप्लाई के लिए भारत को तरजीह देते रहेंगे।’

Saudi Arabian Energy Minister Khalid Al Fali said, “No matter how big the project is, it does not end the desire to invest in our India. We will continue to give priority to India for investment and supply of its crude oil. ”

गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत और सऊदी अरब के संबंध बेहद प्रगाढ़ हुए हैं।

Significantly, after the formation of Narendra Modi’s prime minister, relations between India and Saudi Arabia have been very intense.

सऊदी अरामको कुल कच्चे तेल की सप्लाई का करीब 50 फीसदी भारत के इस संयंत्र में प्रॉसेस करेगा।

Saudi Aram will process about 50 percent of the total crude oil supply in this plant of India.

सऊदी अरब भारत में इराक को पीछे छोड़कर सबसे बड़ा सप्लायर बनना चाहता है। इराक ने पहली बार 2017 में तेल निर्यात के मामले में सऊदी अरब को पीछे छोड़ दिया था

Saudi Arabia wants to leave Iraq behind and become the largest supplier in India. For the first time in Iraq, Iraq has surpassed Saudi Arabia in terms of oil exports.

यह भी देखे

https://youtu.be/o9LQnPMci4I

https://youtu.be/o9LQnPMci4I
source political report

खास खबर: शांतिदूतों पर टूटा मौत का ज़बरदस्त कहर, मस्जिद बम ब्लास्ट में राख हुए नमाज़ी

नई दिल्ली : आतंकवाद आज केवल एक देश या एक धर्म के खिलाफ नहीं रह गया है | जो आतंकवाद को पालेगा पोसेगा उसे भी यह आतंकवाद खा जाएगा और मासूम लोगों पर तो कहर बरपाता ही रहता है | अगर एक धर्म के लोगों को लगता है कि वे आतंकवाद से बच जायेंगे तो ये उनकी ग़लतफहमी है | ऐसी ही खबर अभी नाइजीरिया से आ रही है जहाँ एक मस्जिद में भयंकर धमाका हुआ है |

New Delhi: Terrorism is no longer against a single country or a religion Even if terrorism is found, it will also eat terrorism and continue to torment innocent people. If people of one religion think that they will escape terrorism, then this is their misunderstanding Such a news is just coming from Nigeria where there is a huge explosion in a mosque.

अभी-अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक पूर्वोत्तर नाइजीरिया की एक मस्जिद में बड़े आत्मघाती हमले में कम से कम 50 लोगों की मौत हो गई है ओर दर्जनों घायल बताये जा रहे हैं | एडमवा राज्य में किशोर बॉम्बर ने उस समय खुद को उड़ा दिया जब लोग मस्जिद में सुबह की नमाज़ अदा करने के लिए पहुंच रहे थे | किशोर ने अपने जैकेट में घातक बम लगा रखा था | धमाका इतना भीषण था कि लोगों कि चीथड़े तक नहीं मिल पा रहे हैं |

According to the latest news, at least 50 people have died and dozens more injured are being reported in a major suicide attack in a mosque in northeast Nigeria. Kishore Bomber blew himself in the state of Edwawa when people were arriving in the mosque for morning prayer. The teenager had put a deadly bomb in his jacket The explosion was so gruesome that people are not able to get the screw.

धमाके की तीव्रता इतनी ज़्यादा थी कि मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है | पुलिस प्रवक्ता ओथमान अबुबकर ने बताया कि वारदात में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है | हालांकि हमले की जिम्मेदारी का किसी आंतकी संगठन ने कोई दावा नहीं किया लेकिन “बोको हरम” पर इस हमले की आशंका जताई जा रही है | ये इस्लामी चरमपंथी समूह पड़ोसी राज्य बोर्नो में स्थित है और इस तरह के कई हमलों के लिए दोषी ठहराया जा चुका है |

The intensity of the blast was so great that the number of people killed is increasing Police spokesman Othman Abubakar said that the number of people killed in the incident can increase Although no terrorist organization claimed responsibility for the attack, but the “Boko Haram” is being feared for this attack. These Islamic extremist groups are located in neighboring Bornoo and have been convicted for many such attacks.

डमवा का शहर मुबी है जहां 2014 में बोको हरम का कब्‍जा था लेकिन बाद में सेना ने 2015 में आतंकियों को निकाल दिया था. आज ये आतंकवादी संगठन ही आपस में एक दूसरे के आतंकी संगठन के खात्मे पर तुले हुए हैं. हर कोई अपने आतंकवाद को एक दूसरे की आतंकवाद से ऊँचा बताने पर तुला हुआ है. जिसकी कीमत उन निर्दोष लोगों को अपनी जान गँवा कर चुकाना पड़ रहा है और यहाँ कुछ लोग भारत को असहिष्णु देश बताते हैं |

The town of Damwa is a mubi where Boko Haram was occupied in 2014 but later the army fired the terrorists in 2015. Today, these terrorist organizations are bent upon the end of each other’s terrorist organization. Everyone is bent on telling terrorism higher than each other. The price of those innocent people has to be lost due to their lives and some people here call India an intolerant country.

भारत छोड़ कर दूसरे देश में बसने की बात करते हैं | जबकि दूसरे बड़े देशों बड़े आतंकी हमले हो रहे हैं | अमेरिका में अभी एक शख्स ने ‘अल्लाह हू अकबर’ बोलकर लोगों पर ट्रक चढ़ा दिया. जिसके बाद कई मुस्लिम देशों के लोगों की एंट्री पर ही बैन लगा दिया है | तो वहीँ चीन ने तो मुस्लिम लोगों से कुरान और नमाज़ की चटाई तक छीन ली |

Talk about leaving India and settling in another country While other major countries are facing big terror attacks In America, a person has ordered a truck on people to speak ‘Allah Hu Akbar’. After which the people of many Muslim countries have banned the entry of the people So China itself took away the Muslim people from the Koran and Namaz mat

यह भी देखे :

source political report

टूट गया कश्मीर के लोगों की सहनशीलता का बाँध, निःशस्त्र ही किया ऐसा भयंकर कांड, भारतीय जवान भी हुए हैरान”

PM मोदी का मिशन कश्मीर सफल हो रहा है. जवानो को खुली छूट दिए जाने से और आतंकियों को मरते देख कश्मीर के लोग अब निर्भीक हो गए हैं. अपने मजबूत प्रधानमंत्री और मजबूत सेना के साथ के कारण अब ना तो वो आतंकियों के फरमानों से डरते हैं और ना ही उनके नापाक इरादों से. कश्मीरियों में आतंकियों के खिलाफ क्रोध इतना अधिक है कि वो अब उनसे भिड़ने से भी नहीं डरते. सोमवार देर शाम भी कश्मीर में एक ऐसा ही हैरतअंगेज मंजर देखने को मिला, जिसे देख आतंकियों की आँखों में आतंक छा गया.

PM Modi’s mission Kashmir is going to succeed The people of Kashmir have become fearless after leaving the jawans free and the terrorists die. Due to his strong prime minister and strong army, he is neither afraid of the orders of the terrorists nor his nefarious intentions. The anger against the terrorists in Kashmiris is so much that they are no longer afraid to confront them. In the late evening on Monday, a similar surprise angle was seen in Kashmir, which saw terror in the eyes of the terrorists.

गांव के लोगों ने ही ठोका भयानक आतंकी
दरअसल हुआ कुछ ऐसा कि कुछ आतंकियों ने शोपियां में सत्ताधारी पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के हलका प्रधान व पूर्व सरपंच की उसके घर के बाहर गोलियों से भूनकर हत्या कर दी. ये देख गांव के लोगों और नेता के परिजनों का गुस्सा फट पड़ा और उन्होंने आव-देखा ना ताव और आतंकियों पर निहत्थे ही टूट पड़े.

The people of the village have just hit the terrible terror
Indeed, it was something like that some terrorists had filled the bulk of the ruling People’s Democratic Party and the former sarpanch in Shopian after being shot dead by bullets outside his house. The anger of the people of the village and the leader of the leader was torn apart, and they were unaware of the necessity and the unarmed terrorists.

आतंकियों को गांव के लोगों से इसकी उम्मीद नहीं थी, जब तक वो कुछ समझ पाते, तब तक उनकी तबियत से धुनाई हो चुकी थी. लातों और घूंसों के बीच एक गांव वाले ने बी श्रेणी के खूंखार और पांच लाख के इनामी आतंकी शौकत अहमद फलाही की राइफल छीन ली और उसके सर का निशाना ले कर दाग दी.

The terrorists were not expecting it from the people of the village, till they understood something, their health had been washed away. Between the strangers and the buffaloes, a villager snatched the rifle of the B-class dreaded and five lakh of the renowned terrorist Shaukat Ahmad Falahi and targeted him with a target.

राइफल से खोपड़ी के परखच्चे उड़ा दिए
एक ही गोली से शौकत अहमद फलाही की खोपड़ी फट गयी, जबकि ये मंजर देख उसके दो अन्य आतंकी साथियों की जान हलक में आ गयी और वो सर पर पैर रखकर भाग खड़े हुए. शौकत 25 अक्टूबर 2016 को आतंकी बना था.

Blast the scalp with a rifle
Shaukat Ahmad Falahi’s skull was broken by the same bullet, while seeing the differences, the lives of two other militant associates came to a haphazardly and they ran away from the feet on the head. Shaukat was made terror on October 25, 2016.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आतंकियों के डर से पहले गांव के लोग कांपते और घबराते थे, मगर मोदी सरकार ने गांव के लोगों का साहस भी बढ़ा है. कांग्रेस के वक़्त में तो आतंकियों को मारने वालों को ही फंसा दिया जाता था और जेल में डाल दिया जाता था, यही वजह है कि पिछले 15 सालों में जम्मू-कश्मीर में ऐसा केवल तीन बार ही हुआ, जब ग्रामीणों ने किसी आतंकी को मौत के घाट उतारा हो.

For your information, tell that before the fear of terrorists, the people of the village were shivering and frightening, but the Modi government has also increased the courage of the people of the village. At the time of Congress, those who killed terrorists were trapped and thrown in jail, this is the reason that in the last 15 years, this happened only three times in Jammu and Kashmir when villagers killed a terrorist Take off

इससे पहले एक बार दक्षिण कश्मीर के कुलगाम में बक्करवाल नाम के शख्स ने एक आतंकी को कुल्हाड़ी से काट डाला था. वहीँ जम्मू संभाग के राजौरी जिले में एक बहादुर लड़की रुखसाना ने आतंकी को कुल्हाड़ी से काट डाला था. जम्मू-कश्मीर पुलिस महानिदेशक डॉ. एसपी वैद ने भी ट्वीट कर इस घटना की जानकारी दी है

Earlier, once a man named Bakkarwal in Kulgam in south Kashmir, he had cut a terrorist with ax. In the Rajouri district of Jammu division, a brave girl Rukhsana had cut the terrorist with ax. Jammu and Kashmir Police Director Dr SP Vaid also tweeted the incident.

नेता को सेना का मुखबिर बता कर मारा
रात करीब आठ बजे स्वचालित हथियारों से लैस हिजबुल मुजाहिदीन के तीन आतंकी शोपियां जिले के जेनपोरा इमामसाहब के साथ सटे होमुन गांव में पहुंचे. आतंकी पीडीपी नेता मुहम्मद रमजान शेख (50) के घर में घुस गए और उसे बाहर ले आए. पीडीपी नेता के परिजन भी घर के बाहर आ गए. इसी बीच आतंकियों ने पीडीपी नेता के साथ मारपीट शुरू कर दी. आतंकियों के मुताबिक़ नेता सुरक्षा बलों का मुखबिर था और आतंकियों से जुडी जानकारी सेना तक पहुंचाता था.

Told the leader to be the informer of the army
At around eight o’clock in the night, three militants of Hizb-ul-Mujahideen, armed with automatic weapons, arrived in Homun village adjacent to Jenpora Imamsah of Shopian district. The terrorists entered the house of PDP leader Muhammad Ramzan Sheikh (50) and brought him out. The family of the PDP leader also came out of the house. Meanwhile, the terrorists started assault with the PDP leader. According to the militants, the leader was the informer of the security forces and used to bring the information related to the terrorists to the army.

इसी दौरान वहां शोर-शराबा सुनकर भारी संख्या में गांव वाले जमा हो गए और तभी आतंकियों का प्रतिरोध करने लगे. इसी दौरान आतंकियों ने अंधाधुंध गोलियों की बौछार कर दी, जिसमें पीडीपी नेता की जान चली गई. बस फिर क्या था, अपने सामने अपने ही नेता को मरते देख गांव वालों का माथा ठनक गया और वो आतंकियों से निहत्थे ही भिड़ गए.

In the meantime, a large number of villagers gathered in large numbers after listening to the noise and then started to resist the terrorists. In the meantime, the terrorists fired indiscriminate firing, in which the PDP leader’s life was lost. What was the matter, seeing the death of his own leader in front of him, the head of the villagers was shocked and he got confused with the terrorists.

बदल रहा है कश्मीर
आतंकियों की लातों-घूंसों से अच्छी सेवा की गयी. इस दौरान एक ग्रामीण ने आतंकी शौकत से उसकी राइफल छीनकर उसके सिर में गोली मार दी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई. शोपियां के एसएसपी एसआर अंबरकर ने बताया कि शौकत के अन्य दो साथियों को जिंदा अथवा मुर्दा पकड़ने के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी कर ली गई है और तलाशी अभियान जारी है.

Is changing k
Good service was done by the ghosts of the terrorists. During this time, a villager snatched his rifle from terror shock and shot him in his head, which killed him on his own spot. Shoppani’s SSP SR Ambarkar told that the other two companions of Shaukat have been segregated from the entire area to catch alive or alive and the search operations are in progress.

मानना पडेगा कि कश्मीर अब बदल रहा है. लोगों के दिल से आतंकियों का डर ख़त्म हो रहा है. पहले तो लोग आतंकियों की जानकारियां ही सेना तक पहुंचाते थे, मगर अब तो खुद ही आतंकियों का न्याय भी कर दे रहे हैं.

Must have to believe that Kashmir is now changing. Fear of terrorists is ending with the hearts of people. At first, people used to send information of terrorists to the army, but now they are also judging the terrorists themselves.

यह भी देखें :

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

SOURCE POLITICAL REPORT

योगी का धमाकेदार एक्शन,बड़े खुलासे देख दंग रह जायेंगे आप,दाने-दाने को मोहताज हुए माफिया,सोते रहे अखिलेश

लखनऊ : सीएम योगी ने सालों से चली आ रही बर्बाद शिक्षा व्यवस्था पर बड़ी सर्जिकल स्ट्राइक करी थी. सभी परीक्षा ग्रहों में cctv कैमरे से कड़ी नज़र और पुलिस का कड़ा पहरा. यही नहीं जिन शिक्षकों ने भी नक़ल कराई उनपर सीधा FIR दर्ज की गयी. इस वजह से यूपी में बड़ा नक़ल माफिया का तबाह हुआ. फर्जीवाड़े में लिप्त करीब एक लाख छात्र परीक्षा देने ही नहीं आये. तो वहीँ अब खुद Special Task Force को बड़ी कामयाबी मिली है जिसमे बेहद हैरत अंगेज़ का खुलासा सामंने आया है.

योगी राज में बड़ा एक्शन, माफिया का भंडाफोड़ से हुआ खुलासा
अभी मिल रही खबर के मुताबिक नक़ल माफिया बुरी तरह बौखला उठे हैं क्यूंकि योगी सरकार ने उनका जीना हराम कर दिया है. उत्तर प्रदेश में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की टीम ने विश्वविद्यालय, मेडिकल कॉलेजों के एमबीबीएस परीक्षाओं तथा अन्य महाविद्यालयों की स्नातन, परास्नातक, एलएलबी सहित परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं को बदलवाने वाले बड़े नक़ल माफिया गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए सदस्यों की गिरफ़्तारी करी है.

अखिलेश सरकार में पले बढे माफिया
इस गिरोह के खुलासे को देख आपकी भी आखें फटी रह जाएंगी. अखिलेश सरकार के दौरान मज़े में रह रहे नक़ल माफिया ने साल 2014, 2015, 2016 और 2017 में छह सौ से ज्यादा गैर मेधावी छात्र इस गोरखधंधे के जरिए पासआउट होकर डॉक्टर भी बन चुके हैं. स्पेशल फाॅर्स अब पता लगा रही है कि किन कॉलेजों में किस-किस छात्र की कॉपियां बदली गईं. इसके बाद इन पासआउट छात्रों को भी साजिश का आरोपी बनाया जाएगा.

आम ज़िन्दगी के साथ खिलवाड़
अब ज़रा सोचिये, ऐसे छात्र बड़े फर्जीवाड़े से जब छात्र डॉक्टर बनेगे तो क्या तो वो लोगो का इलाज करेंगे. क्या ये आम आमदी की ज़िन्दगी से बहुत बड़ा खिलवाड़ नहीं है. पिछली सरकार में मज़े से पल रहे ये नक़ल माफिया दवारा बनाये गए डॉक्टर की वजह से ही BRD हॉस्पिटल जैसे कांड होते हैं जब छोटे छोटे बच्चे मौत की नींद सो जाते हैं. इनमे से ही कोई फर्जी डॉक्टर कल फिर डॉक्टर कफील बनकर खड़ा होगा और अन्य मौतों का ज़िम्मेदार होगा.

ये फर्जी डॉक्टर उस पेड़ का वो बीज हैं जिसे बोया तो साल 2014 में गया था लेकिन अगर आज इनका पर्दाफाश नहीं होता तो ना जाने ये कितनी ज़िन्दगी के साथ जुआ खेल रहे होते. और ना जाने अभी कितने और झोलाछाप फर्जी डॉक्टर कितने राज्यों में घूम रहे होंगे.

इस घोटाले पर पुलिस अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा एसटीएफ को चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ से सम्बद्ध मेडिकल कॉलेजों के एमबीबीएस परीक्षाओं तथा महाविद्यालयों की स्नातक, परास्नातक, एलएलबी सहित अन्य परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं को बदलवाने वाले गिरोह के सक्रिय होने की सूचनाएं प्राप्त हो रही थीं.

शामिल थे विश्वविद्यालय के कर्मचारी
मुखबिर की सूचना पर मेडिकल क्षेत्र में दुर्गापुरम, गढ़ हापुड़ रोड बन रहे मकान पर मेरठ पुलिस के साथ रात डेढ़ बजे छापा मारकर बिजनौर के मूल निवासी कविराज को गिरफ्तार कर लिया. इसके पास से विश्वविद्यालय से सम्बद्ध मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज बेगराज मन्सूरपुर की एमबीबीएस की द्वितीय वर्ष की परीक्षा की लिखी हुई दो उत्तर पुस्तिका बरामद हुई.

गिरफ्तार आरोपी कविराज ने पूछताछ में बताया कि उत्तर पुस्तिकाओं को बदलवाने में चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यलाय के उत्तर पुस्तिका अनुभाग एवं अन्य अनुभागों के कर्मचारी संदीप, पवन तथा कपिल उसके साथ शामिल हैं. ये लोग विश्वविद्यालय में बाहर से लिखी हुई उत्तर पुस्तिकाओं को बदल देते हैं.

चला रहे थे बड़े स्तर पर गोरखधंधा
कविराज ने बताया कि एमबीबीएस के छात्रों से एक पेपर की उत्तर पुस्तिका बदलने के एवज में एक लाख बीस हजार से लेकर एक लाख पचास हजार रुपए तक वसूलते हैं. इसमें से दस हजार रुपए विश्वविद्यालय की खाली उत्तर पुस्तिका लाने के लिए संदीप को दिए जाते हैं. पैंतीस हजार रुपए से लेकर पैंसठ हजार रुपए तक लिखित उत्तर पुस्तिका बदलने के लिए पवन एवं कपिल को दिए जाते हैं.

उसने बताया कि संदीप विश्वविद्यालय से खाली उत्तर पुस्तिकाएं लाकर उसे देता है तथा इन उत्तर पुस्तिकाओं को छात्रों से लिखवाकर वह उन्हें पवन तथा कपिल को दे देता है. पवन एवं कपिल उन उत्तर पुस्तिकाओं के ऊपर के पेज को मूल उत्तर पुस्तिका के ऊपर के पेज को बदलकर पन्च करके उत्तर पुस्तिका अनुभाग में रख देते हैं।

करोड़ों के अवैध कारोबार हुआ चौपट
पवन विश्वविद्यालय में वरिष्ठ लिपिक इन्चार्ज उत्तर पुस्तिका अनुभाग एवं कपिल तथा संदीप विश्वविद्यालय में संविदा कर्मचारी हैं. उसने यह भी बताया कि वह वर्ष 2014 से उत्तर पुस्तिकाओं को बदलवा रहा है और लगभग प्रत्येक वर्ष 100-150 छात्रों के विभिन्न पेपरों की उत्तर पुस्तिका बदलवा देता है तथा करोडों का अवैध कारोबार कर चुका है.

यह भी देखें:

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

खास खबर: पाकिस्तान पर हुआ जोरदार हमला: मौत का नंगा नाच, सैंकड़ों घायल..

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान के सिंध प्रांत के सहवान कस्बे में स्थित लाल शाहबाज कलंदर दरगाह के भीतर आज रात एक आत्मघाती हमलावर द्वारा किए गए विस्फोट में करीब 150 लोगों की मौत हो गई और 250 से ज्यादा लोग घायल हो गए।

New Delhi / Team Digital About 150 people were killed and more than 250 people were injured in a blast carried out by a suicide bomber tonight in Lal Shahbah Kalandar Dargah, located in Sehwan town of Sindh province of Pakistan.

पाकिस्तान में एक सप्ताह के भीतर यह पांचवां आतंकी हमला हुआ है। हमलावर ‘सुनहरे गेट’ से दरगाह के भीतर दाखिल हुआ और पहले उसने ग्रेनेड फेंका लेकिन वह नहीं फटा।

This is the fifth terrorist attack in Pakistan within a week. The attacker entered the dargah from ‘Golden Gate’ and first he threw a grenade but he did not crack.

पुलिस के अनुसार यह धमाका सूफी रस्म ‘धमाल’ के दौरान हुआ। विस्फोट के समय दरगाह के परिसर के भीतर सैकड़ों की संख्या में जायरीन मौजूद थे। सहवान के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने कहा, ‘‘उसने अफरा-तफरी मचाने के लिए पहले ग्रेनेड फेंका और फिर खुद को उड़ा लिया।’’

According to the police, this blast took place during the Sufi ritual ‘Dhamal’. At the time of the explosion, there were hundreds of Jairins in the dargah campus. Sehwan’s senior superintendent of police said, “He threw away the first grenade and then blown himself up for a rift.”According to the police, this blast took place during the Sufi ritual ‘Dhamal’. At the time of the explosion, there were hundreds of Jairins in the dargah campus. Sehwan’s senior superintendent of police said, “He threw away the first grenade and then blown himself up for a rift.”

गौरतलब है की पाकिस्तान पर हुए इस हमले की ज़िम्मेदारी इस्लाम के रहनुमा होने का दावा करने वाले संगठन ISIS ने ली है|

Significantly, ISIS has claimed responsibility for the attack on Pakistan, claiming to be a liar for Islam.

। पाकिस्तान में साल 2005 से देश की 25 से अधिक दरगाहों पर हमले हुए हैं।

हैदराबाद के आयुक्त काजी शाहिद ने कहा कि यह दरगाह दूरस्थ इलाके में स्थित है, ऐसे में हैदराबाद, जमशोरो, मोरो, दादू और नवाबशाह से एंबुलेंस एवं वाहनों तथा चिकित्सा दलों को मौके पर भेजा जा रहा है।

Hyderabad Commissioner Kaji Shahid said that this dargah is located in the remote area, in which such ambulances and vehicles and medical teams from Hyderabad, Jamsoro, Moro, Dadu and Nawabshah are being sent on the spot.

उन्होंने कहा, ‘‘अस्पतालों में आपात स्थिति घोषित कर दी गई है और बचाव अभियान शुरू कर दिया गया है।’’ सेना ने कहा कि सी130 विमान के जरिए घायलों को नवाबशाह लाया जाएगा। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने इस हमले की निंदा की पाकिस्तान के लोगों से ‘एकजुट होकर खड़े होने’ की अपील की।

He said, “An emergency has been declared in the hospitals and the rescue operation has been started.” The army said that the injured people will be brought to Nawabshah through the C 130 aircraft. Prime Minister Nawaz Sharif condemned the attack and urged the people of Pakistan to ‘stand united’.

यह भी देखे :

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

https://youtu.be/k87GwTUEGuQ

source political report

अभी अभी: घाटी में शुरू हुआ ज़बरदस्त ग़दर, कश्मीर पुलिस ने ही भारतीय सेना के खिलाफ शुरू किया विद्रोह, दंग रह गए लोग

नई दिल्ली : हमारी भारतीय सेना के जवानों को कई तरह के दुश्मनों का सामना करना पड़ता है, कभी सीमा पार से आ रहे दुश्मनों से, कभी देश के अंदर पल रहे दुश्मनों से तो कभी पुलिस से. जी हाँ आप भी दंग रह जाएंगे, कश्मीर से आ रही है बेहद हैरान करने वाली खबर यहाँ खुद कश्मीर पुलिस ने भारतीय सेना के खिलाफ विद्रोह छेड़ दिया है.

कश्मीर पुलिस का ट्रैक रिकॉर्ड पहले भी बहुत खराब रहा है, कई पुलिसवाले हथियार समेत भागने या गायब होने की खबर आती रहीं और बाद में वे आतंकी संगठन में शामिल पाए गए हैं. तो कई बार आतंकवादी इन पुलिसवालों से बड़ी आसानी से हथियार छीन कर भाग जाते हैं. अभी तक तो सीएम मुफ़्ती ही सेना के खिलाफ थी आज तो हद पार हो गयी कश्मीर पुलिस ने भी सेना पर ही FIR करवा दी.

J&K पुलिस ने सेना के ही खिलाफ छेड़ा विद्रोह
अभी मिल रही बड़ी खबर अनुसार जम्मू-कश्मीर में एक कॉलेज लेक्चरर की मौत के मामले में पुलिस ने अपनी जांच में भारतीय सेना के 23 जवानों को जिम्मेदार ठहराया है. ये सभी जवान सबसे खतरनाक रेजिमेंट 50 राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर) से ताल्लुक रखते हैं. कश्मीर पुलिस ने इसी के साथ इन जवानों के खिलाफ केंद्र में मोदी सरकार से केस चलाने की इजाजत मांगी है.

ये सेना को बदनाम करने की बड़ी साज़िश है. आज इन पथरबाज़ों का समर्थन ये पुलिस कर रही है जब यही पत्थरबाज बाढ़, भूकंप में डूब रहे होते हैं तब यही सेना के जवान अपनी जान पार खेलकर सबको बचते हैं और बदले में उन्हें क्या मिलता है सिर्फ पत्थर, पैट्रॉल बम. कश्मीर में ऊँचे स्तर पर सफाई की ज़रूरत आ गयी है आज, क्यूंकि देखा गया है जब भी कोई आतंकी मारा जाता है ये लोग उसके जनाजे में पाकिस्तान का झंडा ISIS का झंडा लहराते हुए देशविरोधी नारे लगाते हैं.

गौरतलब है कि अगस्त 2016 में सेना की हिरासत में 30 वर्षीय एक लेक्चरर की मौत हो गई थी, जिसके लिए 23 जवानों को जिम्मेदार ठहराया गया था. ये वहीँ सेना के जवान हैं जिन्हे कश्मीर में आतंकवादियों के खात्मे के लिए बुलाया जाता है. ये वही सेना के जवान हैं जो पथरबाज़ों का सामना न कर पाने में असमर्थ पुलिस के बचाव में आते हैं.

अवंतिपुरा एसएसपी मो.जाहिद ने बताया, “दो हफ्ते पहले इस मामले में स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम ने जांच पूरी की थी. अभी तक चार्जशीट दाखिल नहीं हुई है। हमें उनके (सेना के लोगों) खिलाफ केस चलाने के लिए ऑर्म्ड फोर्सेस स्पेशल पावर्स एक्ट (एएफएसपीए) के तहत मंजूरी चाहिए होगी.

केंद्र में मोदी सरकार हमेशा से सेना के साथ खड़ी है, सेना के साथ कोई अन्याय नहीं होने दिया जाएगा.
इससे पहली अभी सीएम मुफ़्ती ने सेना के मेजर आदित्य के खिलाफ FIR करवाई थी. जिसका केस सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है. मेजर आदित्य कुमार के पिता द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई करने के लिए शुक्रवार (9 मार्च) को राजी हो गया. जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने गोलीबारी की एक घटना में नागरिकों की जान लेने के आरोप में मेजर के खिलाफ FIR दर्ज की थी.

10 गढ़वाल राइफल्स के मेजर कुमार और अन्य सैनिकों पर खुलेआम गोलीबारी करते हुए तीन पत्थरबाजों की मौत हो गयी थी. दरअसल जब 27 जनवरी को शोपियां जिले में गनोवपोरा गांव के पास भीड़ ने सेना के काफिले पर पत्थरबाजी करते हुए हमला किया था. इसके बाद 300 पत्थरबाजों की भीड़ ने सेना के वाहन को घेरकर उसमे आग लगा दी थी और सेना के अफसर को ज़िंदा जलाने जा रहे थे.

जिसके बाद आखिर सेना के जवान ने वही किया जो हर सैनिक को करना चाहिए था. वो अपने साथी अफसर को ज़िंदा जलते और तड़प तड़प के अमरते हुए कैसे देख सकता था और ना ही कायरों की तरह पीठ दिखाकर भाग सकता था. उसने तुरंत हवाई फायरिंग करके अपने साथी अफसर की जान बचायी. लेकिन अफ़सोस इस साहसी कार्य के लिए हमारी सेना को आज अदालत के कटघरे में खड़े हो कर अपनी बेगुनाही साबित करनी पड़ रही है.

देखें ये वीडियो :

source bharti news

खास खबर: दाऊद इब्राहिम और कांग्रेस के कनेक्शन का खुलासा, क्राइम ब्रांच के पूर्व ACP ने किया पर्दाफ़ाश….

मुम्बई : कांग्रेस के काले कारनामों का पर्दाफ़ाश होता जा रहा है. देश को बेच खाने में जुटी कांग्रेस किस हद गिर चुकी थी, ये बात इस बेहद सनसनीखेज खबर से साबित हो जाती है. अभी हाल ही में मुंबई बम धमाकों के आरोपी दाऊद इब्राहिम के करीबी फारुक टकला को दुबई से गिरफ्तार कर मुंबई लाया गया है, अब कांग्रेस के दाऊद के साथ कनेक्शन का बड़ा खुलासा हुआ है, जिसने देशभर की जनता को हैरत में डाल दिया है.

कांग्रेस ने की दाऊद का मदद
मुम्बई क्राइम ब्रांच के सेवानिवृत्त एसीपी सुरेश वालीशेट्टी ने कांग्रेस के दाऊद इब्राहिम के साथ रिश्तों को लेकर बड़ा खुलासा किया है. उन्होंने बताया कि 1992 में हुए जेजे हॉस्पिटल शूटआउट के दौरान कल्पनाथ राय जोकि केन्द्रीय राज्य मंत्री थे, ने दाऊद के गुर्गे की छिपने में सहायता की थी.

कल्पनाथ राय उस दौरान बिजली और गैर परंपरागत ऊर्जा स्रोत मंत्री थे और नेशनल थर्मल पावर कारपोरेशन (एनटीपीसी) उनके अंडर था. उनका गेस्ट हाउस मुम्बई के पाली हिल इलाके में था और यहीं उन्होंने दाऊद के गुर्गे को छिपने की जगह दिलवाई.

कोंग्रेसी मंत्री ने आतंकी के लिए बुक करवाया कमरा
मंत्री जी ने अपने पर्सनल असिस्टेंस प्रकाश राय के जरिये आतंकवादी के लिए अपने गेस्ट हॉउस में बाकायदा कमरा बुक करवाया. जे जे हॉस्पिटल हत्याकांड करके दाऊद के गुर्गे आराम से मुम्बई के पाली हिल में एनटीपीसी के गेस्ट हाउस में गए, जहाँ मंत्री जी ने उनके छिपने का इंतजाम किया हुआ था.

ये बात मुम्बई क्राइम ब्रांच को जब पता चली तो वो एनटीपीसी के उस गेस्ट हॉउस गए और पूछताछ की. तब पता चला कि आतंकियों के लिए मंत्री जी ने खुद अपने पीए के जरिये कमरा बुक करवाया था.

दाऊद को बचाने के लिए बनाया दबाव
एसीपी सुरेश वालीशेट्टी ने मंत्री जी के पीए को गिरफ्तार करने की कोशिश भी की, मगर वो हाथ नहीं आया. इसके कुछ वक़्त बाद जब मंत्री का पीए प्रकाश राय एसीपी सुरेश वालीशेट्टी के हाथ आया और उन्होंने उसे पूछताछ के लिए गिरफ्तार किया तो मंत्री ने खुद एसीपी सुरेश वालीशेट्टी को फ़ोन किया और पीए को छुड़वाने के लिए दबाव बनाया.

बता दें कि कोंग्रेसी मंत्रियों के साथ दाऊद के अच्छे रिश्ते रहे हैं, यही कारण है कि भारतीय जांच एजेंसियां कभी दाऊद को पकड़ ही नहीं पायीं. कोंग्रेसियों ने दाऊद व् उसके साथियों को बचाया. हालात तो ये थे कि यदि दाऊद के कांग्रेसी कनेक्शन के बारे में उस दौरान कोई मुँह खोलता था तो दाऊद उसे मरवा देता था.

मगर अब जबकि मोदी सरकार सत्ता में है और दाऊद के नेटवर्क को तोड़ा जा रहा है. जांच एजेंसियों को खुलकर बिना किसी राजनीतिक दबाव के काम करने की छूट दी जा रही है तो अब पुराने पुलिस अधिकारी मुँह खोलने की हिम्मत दिखा पा रहे हैं.

फरार आतंकी का पासपोर्ट किया रिन्यू
वैसे वर्ष 2011 में भी कांग्रेस सरकार ने दाऊद के खास गुर्गे फारूक टकला पर दरियादिली दिखाते हुए 24 घंटे के भीतर पासपोर्ट का नवीनीकरण कर दिया था, वो भी तब जबकि उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी हो चुका था.

डी कंपनी के इस मैनेजर और दाऊद के दाएं हाथ फारूक के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था. टकला ने दुबई से पासपोर्ट के नवीनीकरण के लिए आवेदन किया था. टकला के आवेदन के मात्र 24 घंटे के भीतर उसके पासपोर्ट का नवीनीकरण हो गया. उस समय केन्द्र में कांग्रेस सरकार थी और पी. चिदंबरम गृहमंत्री था.

दाऊद को बचाने के लिए अजित डोवाल को करवाया गिरफ्तार
वैसे आपको बता दें कि ये भी सामने आ चुका है कि 2005 में सोनिया-मनमोहन की सरकार के दौरान आज के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल को मुंबई में गिरफ्तार कर लिया गया था, क्योंकि उन्होंने पाकिस्तान मे बैठे दाऊद को मारने की पूरी योजना बना ली थी.

यानी कांग्रेस का हाथ हमेशा से दाऊद व् उसके जैसे अन्य आतंकवादियों के साथ था. एक ओर तो कांग्रेस दाऊद व् उसके साथियों को संरक्षण देती रही और दूसरी ओर झूठे आरोप कर्नल पुरोहित, साध्वी प्रज्ञा व् असीमानंद पर मढ़ दिए ताकि “हिन्दू आतंकवाद” व् “भगवा आतंकवाद” जैसे जुमलों को गढ़ कर हिन्दुओं को बदनाम किया जा सके.

जानकारों के मुताबिक़ अभी तो केवल शुरुआत है, जल्द ही कांग्रेस के कई अन्य पापों का खुलासा होगा. न्यायपालिका में बैठे जयचंदों की बदौलत कोंग्रेसी अभी भी बाहर हैं, मगर ऐसा ज्यादा दिन तक नहीं चलने वाला. जल्द ही माँ-बेटे समेत कई दिग्गज कांग्रेसी नेता सलाखों के पीछे होंगे.

देखें ये वीडियो :

source political report

अभी अभी: UP से आयी इस खबर से ख़ुफ़िया एजेंसी समेत PM मोदी के उड़े होश, पूरे देश में मचा हडकंप…

लखनऊ : यूपी में सीएम योगी को अभी सिर्फ 100 ही दिन हुए हैं लेकिन उसमें ही उन्होंने ऐसे कई तीखे फैसले के साथ सपा के घोटालों का कच्चा चिटठा खोल के रख दिया है कि कुछ लोगों को लगता है अब योगी सरकार रास नहीं आ रही है. अभी अभी यूपी से ऐसी खबर आयी है जिसने एक पल में पूरे देश में दहशत का माहौल पैदा कर दिया है.

Lucknow: CM Yogi has been in just 100 days in UP, but in the same way, he has kept the raw paper of SP’s scandal with so many sharp decisions that some people feel that the Yogi Government is not coming to the rescue. Right now, there has been such news from the UP that has created a panic in the entire country in a moment of panic.

यूपी विधानसभा में मचा हड़कंप, दहशत का माहौल
अभी कुछ वक़्त पहले भी सीएम योगी जब अपना भाषण दे रहे थे तो उन्होंने बुलेट प्रूफ कांच के पीछे रहने की हिदायत दी गयी थी. क्यूंकि आये दिन सीएम योगी को आतंकी खतरे की धमकियाँ मिल चुकी हैं. ऐसी ही ताज़ा खबर अभी अभी एएनआई न्यूज़ एजेंसी से आ रही है जहाँ खुलासा हुआ है कि यूपी विधानसभा में बुधवार को चेकिंग के दौरान बेहद खतरनाक विस्फोटक मिला है. इसकी पुष्टि फॉरेंसिक टेस्ट से भी हो चुकी है ये एक PETN टाइप का भीषण तबाही वाला विस्फोटक है. इसके केवल 100 ग्राम से ही एक कार को पल भर में राख बना देने की ताक़त होती है.

Opposition in UP Assembly, panic attack
At some point in time, even when CM Yogi was giving his speech, he was instructed to be behind the bullet proof glass. Because the Yi Yi has received threats of terrorist threat during the days of coming. The latest news is coming from the ANI News Agency, which has revealed that on Wednesday, in the UP Assembly, it found extremely dangerous explosives during checking. It has been confirmed from the forensic test, it is a blasting explosive of a PETN type. Only 100 grams of it has the power to make a car ash throughout the moment.

समाजवादी पार्टी के विधायक की सीट के नीचे मिला विस्फोटक
इसे विधानसभा की सुरक्षा में एक बहुत बड़ी चूक बताया जा रहा है. आपको बता दें कि अभी यूपी विधानसभा में बजट सत्र चल रहा है. पाए गए विस्फोटक की मात्रा 60 ग्राम बताई जा रही है. यह उस जगह मिला जहाँ सभी पार्टी के विधायक बैठते हैं और सबसे खास बात यह रही कि ये विस्फोटक समाजवादी पार्टी के विधायक मनोज पांडे की सीट के नीचे एक नीले रंग की पॉलिथीन में मिला. जिसके बाद सभा में बुरी तरह हड़कंप मच गया.इस मामले की जांच यूपी एटीएस को सौंप दी गई है.

Explosive found under the seat of the Samajwadi Party legislator
This is being said to be a big mistake in the security of the assembly. Let us tell you that the budget session is going on in the UP Assembly now. The amount of explosive found is 60 grams. This is found in the place where all the party’s legislators sit and the most important thing is that they were found in a blue polythene under the seat of the explosive socialist party MLA Manoj Pandey. After which the meeting was badly stirred. The investigation of this case has been handed over to the UP ATS.

जिसके चरण बाद सीएम योगी ने शाम 4 बजे डीजीपी, प्रुमख सचिव, विधानसभा सचिव, प्रमुख सचिव गृह, प्रमुख सचिव सचिवालय प्रशासन, एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर, एडीजी सिक्यॉरिटी, एएसपी विधान सभा समेत तमाम वरिष्ठ अधिकारियों को बुलाया और विधान सभा और सचिवालय की सुरक्षा में लापरवाही के लिए खूब फटकार लगाई.

After that phase, CM Yogi called all the senior officers including DGP, Senior Secretary, Assembly Secretary, Principal Secretary Home, Principal Secretary Secretariat Administration, ADG Law and Order, ADG Security, ASP Vidhan Sabha and security of the Legislative Assembly and Secretariat. There was a lot of reproach for negligence.

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि यह विस्फोटक अंदर कैसे पहुंचा और क्या सीएम योगी की जान को खतरा है? दरअसल, यूपी विधानसभा में जाने के लिए बहुस्तरीय सुरक्षा चक्रों से गुजरना पड़ता है. यही नहीं विधानसभा में सिर्फ विधायकों, मंत्रियों, सफाईकर्मचारी और मार्शल को ही जाने की इजाजत है.

But the biggest question is how did the explosive reach the inside and what is the danger of the CM Yogi’s life? Indeed, to go to the UP assembly, it has to go through multi-level security cycles. Not only that, legislators, ministers, volunteers and martials are allowed to go to the assembly only.

सबसे ज़्यादा खतरनाक और भयावह वाला है यह PETN विस्फोटक
दुनिया के 5 सबसे खतरनाक विस्फोटकों में शामिल है PETN. यह बेहद खतरनाक शक्तिशाली प्लास्टिक विस्फोटक होता है इससे बंकरों या ट्रेन में धमाकों के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है. यह गंधहीन होता है इसलिए इसे खोजी कुत्ते और मेटल डिटेक्टर तक में पकड़ना बेहद मुश्किल होता है. बहुत कम मात्रा में भी बहुत बड़ा धमका हो किया जा सकता है. यहाँ तक की इसे एक्स रे मशीन भी नहीं पकड़ पाती हैं. यह एक खतरनाक रासायनिक पदार्थ होता है. साल 2011 में दिल्ली हाई कोर्ट में ऐसे ही धमाके का इस्तेमाल किया गया था.

The most dangerous and frightening is the PETN explosive
The world’s 5 most dangerous explosives include PETN It is a very dangerous powerful plastic explosive, it is used in the bunkers or in the train for explosions. It is odorless, so it is very difficult to catch it in the detective dog and metal detector. In very small quantities, too much threat can be done. Even this X-ray machine can not even catch it. This is a dangerous chemical substance. Similar explosions were used in the Delhi High Court in 2011.

उल्टा समाजवादी पार्टी सीएम योगी पर उठा रही है ऊँगली
सपा को कभी किसी से खतरा हो सकता है ये ज़रा मुश्किल लग रहा है तो उल्टा सपा नेता घनश्याम तिवारी ने कहा है इस तरह की चूक काफी चिंताजनक है सरकार को प्रदेश की सुरक्षा पुख्ता करनी चाहिए. सरकार सुरक्षा की बात करती है लेकिन बीजेपी की सरकार ने प्रदेश और देश का बुरा हाल कर दिया है.

Inverted Samajwadi Party is raising on CM Yogi
The SP is likely to face any danger, it is difficult to find. In contrast, Samajwadi Party leader Ghanshyam Tiwari has said that such a mistake is a matter of concern and the government should ensure the security of the state. Government talks about security but the BJP government has made the state and the country bad.

यह भी देखे:

https://www.youtube.com/watch?v=2p5FWA_BBz4

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

अंजना के तीखे सवालों का जवाब दिए बिना ही शो छोड़ कर भागा ये अलगावादी नेता !

कश्मीर के डिप्टी मुफ्ती-ए-आजम मुफ्ती नासिर-उल-इस्लाम ने कहा है कि कि अब भारत से अलग होने के सिवा मुसलमानों के पास कोई रास्ता नहीं है। इसके पीछे उन्होंने भारत में मुसलमानों की दयनीय हालत का तर्क दिया है। मुफ्ती ने कहा है कि- ‘‘ भारत में मुसलमान दयनीय हालत में गुजर-बहस कर रहे हैं। सरकार उनकी बातें नहीं सुन रही है। अब भारत से अलग होने के सिवा कोई रास्ता नहीं बचा है। डिप्टी मुफ्ती ने यह बातें समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत के दौरान कही।”

Kashmiri deputy Mufti-i-Azam Mufti Nasir-ul-Islam has said that Muslims have no choice but to separate from India. Following this, they have argued the miserable condition of Muslims in India. Mufti has said that: “In India, Muslims are passing in a miserable condition. The government is not listening to their words. Now there is no way left for separation from India. Deputy Mufti said this while talking to the news agency ANI. ”

बता दें कि मुफ्ती नासिर-उल- इस्लाम कश्मीर के मुफ्ती-ए-आजम मुफ्ती बशीरुद्दीन के पुत्र हैं, जिन्होंने कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के लिए वादी में सेटलाइट सिटी बसाने का विरोध किया था। डिप्टी मुफ्ती नासिर-उल-इस्लाम इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले पर भी विरोध जता चुके हैं, जिसमें शरिया अदालतों को अवैध करार दिया गया था। जब 2014 में यह फैसला आया था, तब मुफ्ती ने कहा था कि मजहबी मामलों में वह दखलंदाजी बर्खास्त नहीं करेंगे। मुफ्ती नासिर-उल-इस्लाम अपने तीखे बयानों के लिए जाने जाते हैं।

Explain that Mufti Nasir-ul-Islam is the son of Mufti-i-Azam Mufti Bashiruddin of Kashmir, who opposed the settlement of Settleite City for the rehabilitation of Kashmiri Pandits. Deputy Mufti Nasir-ul-Islam has earlier opposed the decision of the Supreme Court, in which Shariah courts were declared illegal. When this decision came in 2014, Mufti had said that he would not dismiss the interference in religious matters. Mufti Nasir-ul-Islam is known for his sharp statements.

जम्मू-कश्मीर में सेना पर गोलीबारी के मामले में मुकदमा दर्ज होने पर हंगामा मचा है। जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को कहा कि शोपियां में गोलीबारी में शामिल सेना की एक यूनिट के खिलाफ पुलिस की प्राथमिकी वापस नहीं ली जाएगी। गोलीबारी की घटना में दो कश्मीरी व्यक्तियों की मौत हो गई थी। भाजपा विधायक आर एस पठानिया ने विधानसभा में हंगामे के बीच जब सेना पर से मुकदमा हटाने की मांग की तो मुख्यमंत्री महबूबा महबूबा ने यह बात कही। यह केस गढ़वाल यूनिट के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 302 और 307 के तहत दर्ज हुई है।

There is a ruckus when the case is registered in Jammu and Kashmir for the firing of the army. Jammu and Kashmir Chief Minister Mahbuba Mufti said on Tuesday that the police fir would not be withdrawn against a unit of army involved in firing in Shopian. Two Kashmiri people were killed in the firing incident. Chief Minister Mahbuba Mehbooba said this when BJP MLA RS Pathania demanded the removal of the case between the army during the ruckus in the Assembly. This case has been filed against Garhwal unit under sections 302 and 307 of Indian Penal Code.

महबूबा ने कहा, ‘हम सेना और अन्य सुरक्षा बलों से कह रहे हैं कि वे अत्यंत संयम बरतें लेकिन यह भी तथ्य है कि पहले जब कोई मुठभेड़ होती थी, या यहां तक कि कोई फर्जी मुठभेड़ भी होती थी, गांव खाली हो जाते थे. लेकिन अब जब कोई मुठभेड़ शुरू होती है तो सैकड़ों लोग सुरक्षा बलों पर पथराव में लिप्त हो जाते हैं.’

Mehbooba said, “We are telling the army and other security forces that they will exercise utmost restraint but it is also a fact that when there was an encounter earlier, or even a fake encounter, the villages would have been evacuated. But now when an encounter begins, hundreds of people are involved in stone pelting on security forces.

मुफ़्ती नासिर ने शोपियां में हुई गोलीबारी की घटना पर मीडिया से बात करते हुए देश के मुस्लिमों से आवाहन किया है कि वो अपने लिए एक अलग देश की मांग करना शुरू कर दें, जैसे पाकिस्तान बना है, वैसे ही मुस्लिम भारत को तोड़कर एक और मुस्लिम देश बना लें! मुफ़्ती ने अपने बयान में मुस्लिमों को सन्देश देते हुए कहा है कि, ‘1975 के बाद से भारत में मुस्लिमों के साथ जिस तरह का व्यवहार हो रहा है, वो बेहद शर्मनाक है!

Mufti Nasir has been talking to the media on the incident of a shootout in Shopian, and has urged the Muslims of the country to start demanding a separate country for themselves, just like Pakistan is, similarly another Muslim by breaking Muslim India Make the country! Mufti in his statement, while giving a message to the Muslims, said, ‘Since 1975, the kind of behavior that is happening with Muslims in India is very shameful!

मुफ़्ती नासिर ने कहा कि भारत में मुस्लिमों को कभी लव जिहाद के नाम पर, कभी गोमांस के नाम की आड़ में तो कभी तीन तलाक के नाम पर परेशान किया जाता है, मुस्लिमों के मजहबी मामलों में दखल दिया जाता है। वर्ष 1947 में सिर्फ 17 करोड़ मुसलमानों ने पाकिस्तान बनवा लिया था। अब मुस्लिमों की आबादी दूसरे दर्जे पर है। उन्हें अब अपने लिए भारत में ही एक अलग मुल्क बनाना चाहिए, अलग मुल्क की मांग करनी चाहिए, जहां वह इस्लामिक तौर तरीकों के साथ आजादी के साथ रह सकें।

Mufti Nasir said that Muslims in India are sometimes harassed in the name of love jihad, under the name of beef and sometimes in the name of three divorces, Muslims have interfered in religious matters. In the year 1947, only 17 million Muslims had made Pakistan. Now the population of Muslims is in second place. They should now make themselves a separate country in India, demand a separate country, where they can live with independence with Islamic methods.

अंजना के सवाल पर शो छोड़कर भागा डिप्टी मुफ्ती | News Tak

अंजना के सवाल पर शो छोड़कर भागा डिप्टी मुफ्ती | News Tak

Posted by News Tak on Tuesday, January 30, 2018

मुफ्ती नासिर के इस वयान के बात आज तक न्यूज़ चॅनेल ने एक लाइव डिबेट रखा था जिसमे शो की एंकर अंजना ओम कश्यप ने मुफ़्ती से कुछ तीखे सवाल किये! जिसका जबाब देने के वजाये पहले तो मुफ़्ती नासिर अंजना को तमीज सिखाने लगा और फिर गोल मटोल जबाब देने लगा! शो की एंकर अजना को मुफ़्ती की तमीज सीखने वाली बात चुभ गयी और कमरे के सामने ही अंजना ने फटकार लगा दी, जिसके बाद मुफ़्ती शो से भाग खड़ा हुआ!

Talking about Mufti Nasser’s statement, the news channel had kept alive debate till now, where Anchor Anjana Om Kashyap, the anchor of the show, gave some sharp questions to Mufti! Before giving a reply to him, he began to teach Mumtati Nasir Anjana a tamiz and then began to give a round assimilation! The anchor of the show, Ajna, was asked to learn the tamma of Mufti, and in front of the room, Anjana reprimanded, after which she ran away from the Mufti Show!

यह भी देखे :

https://www.youtube.com/watch?v=2p5FWA_BBz4

https://youtu.be/6KzO3XxanXM

SOURCE: Jansatta.com

आप वहां पाक हमले में व्यस्त थे, देश के भीतर हुआ ऐसा बड़ा हमला जिसमें हुए 4 जवान शहीद -कौन लेगा बदला…

रायपुर: छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में बुधवार (24 जनवरी) शाम हुई मुठभेड़ में डीआरजी (डिस्ट्रक्ट रिजर्व ग्रुप) के 4 जवान शहीद हो गए और 9 जवान बुरी तरह जख्मी हो गए. इनमें से 4 की हालत नाजुक बनी हुई है. घायलों को हेलीकाप्टर की मदद से रायपुर लाया गया है. एएसपी रायपुर विजय अग्रवाल ने कहा कि शहीद हुए चारों जवान छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों के मूल निवासी थे. वहीं घायल जवानों में भी 7 जवान छत्तीसगढ़ के मूल निवासी हैं. घायलों में एक जवान बलिया (उत्तरप्रदेश) और दूसरा जवान छतरपुर (मध्यप्रदेश) का निवासी है.

Raipur: In the encounter that took place in Narayanpur in Chhattisgarh on Wednesday (January 24th), 4 jawans of DRG (Destruct Reserve Group) were killed and 9 jawans were badly injured. The condition of 4 of them remained fragile. The injured have been brought to Raipur with the help of helicopter. ASP RAIPUR Vijay Agrawal said that the four martyrs who were martyred were native to different districts of Chhattisgarh. At the same time, 7 jawans in the injured jawans are native to Chhattisgarh. One of the injured is Balia (Uttar Pradesh) and the other is a resident of Chhattarpur (Madhya Pradesh).

एएसपी ने कहा कि मुठभेड़ में बिलासपुर के उपनिरीक्षक विनोद कौशिक, कोरबा के उपनिरीक्षक मूलचंद सिंह कंवर, नारायणपुर के आरक्षक देवनाथ पुजारी और कोंडागांव के आरक्षक रायसिंह मरकाम शहीद हो गए. वहीं आरक्षक बृजेश यादव (बलिया), जयकरण प्रजापति (छतरपुर), संजय पटेल (कांकेर), घसिया राम कुमेटी (कांकेर), संतोष कुमार दुग्गा (कांकेर), नंदकुमार लकड़ा (रायगढ़), रोहित बेसरा (कांकेर), जगेन्द्र उईके (बालोद) और गोवर्धन कुंजाम घायल हो गए. घायलों का उपचार रायपुर के एक निजी अस्पताल में चल रहा है.

ASP said that in the encounter Bilaspur’s sub-inspector Vinod Kaushik, Korba’s sub-inspector Mulchand Singh Kanwar, Narayanpur’s Arakshak Devnath Pujari and Kondagaon’s Araksha Rai Singh Murakup were martyred. At the same time, Raksha Brijesh Yadav (Ballia), Jayayan Prajapati (Chhatarpur), Sanjay Patel (Kanker), Ghasia Ram Kumeti (Kanker), Santosh Kumar Dugga (Kanker), Nandkumar Lakra (Raigad), Rohit Besra (Kanker), Jagendra Uike (Balod ) And Govardhan Kunjam were injured. The injured are being treated at a private hospital in Raipur.

बस्तर आईजी विवेकानंद सिन्हा ने कहा कि छोटेडोंगर थाना क्षेत्र से डीआरजी और एसटीएफ का संयुक्त बल नक्सली गश्त सर्चिग के लिए रवाना किया गया था. ग्राम ईरपानार एवं गोमटेर के मध्य जंगल में घात लगाए नक्सलियों ने पुलिस पर गोलीबारी शुरू कर दी. जवाबी कार्रवाई में पुलिस बल ने भी मोर्चा संभालते हुए फायरिंग की. लगभग दो घंटे तक दोनों ओर से रुक-रुककर गोलीबारी हुई, इसके बाद अंतत: नक्सली घने जंगलों की ओट लेकर भाग खड़े हुए.

Bastar IG Vivekanand Sinha said that the combined force of the DRG and STF from Chhteetganga police station area was sent to Naxalite patrolling. Naxalites fired at the police in the forest between Gram Irpankar and Gomtere started firing on the police. In retaliation, the police force also firing while holding the front. After about two hours, there was intermittent firing from both sides, after which finally the Naxalites ran away from the dense forests.

आईजी सिन्हा ने कहा कि मुठभेड़ स्थल पर मौजूद परिस्थितिजन्य साक्ष्य, खून के धब्बे और घसीटे जाने के निशान से यह साबित होता है कि कुछ नक्सली मारे गए हैं और कई लहुलूहान हुए हैं. घायल नक्सलियों के शव उनके साथी अपने साथ ले जाने में कामयाब रहे.

IG Sinha said that the circumstantial evidence, blood stains and scratches on the encounter site prove that some Naxalites have been killed and many have been killed. The bodies of the injured Naxalites were able to carry their companions with them.

इससे पहले छत्तीसगढ़ में ऑपरेशन प्रहार-2 से बौखलाए नक्सलियों ने दंतेवाड़ा में बीते 20 जनवरी को जमकर उत्पात मचाया था. उन्होंने फरसपाल के पहाड़ी क्षेत्र में निर्माण कार्य में लगे तीन वाहनों को आग लगा दी थी. तुमनार के साप्ताहिक बाजार में सिलसिलेवार बम विस्फोट किए गए थे, जिससे बाजार में अफरातफरी मच गई थी. इसमें एक जवान को हल्की चोट भी आई थी.

Earlier, in Chhattisgarh, the Maoists attacked the Operation Prahar-2 in Dantewada on January 20, after fiercely fury. They set fire to three vehicles engaged in construction work in the mountainous area of Faraspal. The serial bomb blasts were carried out in the weekly market of Tumarnar, which resulted in irregularity in the market. There was a slight injury to a young man in this.

तुमनार के साप्ताहिक बाजार में आने-जाने वालों पर नदी के उस पार बेलनार से नक्सली निगाह रखी जाती है. 20 जनवरी को दोपहर 12 बजे वहां पर दो विस्फोट हुए. इसमें बाजार की सुरक्षा में तैनात एक जवान को हल्की खरोंच आई थी. तीसरा विस्फोट नक्सलियों ने वहां जांच करने पहुंचे अधिकारियों पर करने की कोशिश की. हालांकि उनका ये वार भी खाली गया. अधिकारियों के पहुंचने के पहले ही वहां विस्फोट हो गया और वे पाक-साफ बच गए.

On the weekly market of Tumarnar, the Naxalites are kept from Balnar across the river. There were two blasts on January 20 at 12 noon. In this there was a light scratched to a young man deployed in the market security. The third blast Naxalites tried to do on the officials who arrived there to investigate. However, this war was also empty. Before the officers reached, they exploded there and they were safely escaped.

फरसपाल के काफी अंदरूनी क्षेत्र पंडेवार में जहां जिंदल कंपनी का निर्माण कार्य चला रहा था. वहां शुक्रवार (19 जनवरी) की देर रात नक्सलियों ने अचानक धावा बोलकर दो ड्रिल मशीन और एक बाइक को आग लगा दिया. इसके सप्ताह भर पहले भी नक्सली इस तरह की वारदात को अंजाम दे चुके हैं. संबंधित थानों की पुलिस ने दोनों ही मामलों की गहनता से छानबीन कर रही है.

Jindal was working on the construction of the company in Pandwar, in the much larger area of the Faraspal. On the night of Friday (January 19th), the Maoists suddenly set fire to two drill machines and a bike. Even before this week, Naxalites have done this kind of tragedy. The police of the respective police stations are investigating the depth of both cases.

यह भी देखें:

https://youtu.be/LvTwV08DsAo

https://youtu.be/gxWa3r-mlh0